Home / Samandar Shayari

Samandar Shayari

Bura mat man itna hausla achchha nahi lagta..

Bura mat man itna hausla achchha nahi lagta,
Ye uthte baithte zikr-e-wafa achchha nahi lagta.

Jahan le jaana hai le jaye aa kar ek phere mein,
Ki har dam ka taqaza-e-hawa achchha nahi lagta.

Samajh mein kuchh nahi aata samundar jab bulata hai,
Kisi sahil ka koi mashwara achchha nahi lagta.

Jo hona hai so donon jaante hain phir shikayat kya,
Ye be-masraf khaton ka silsila achchha nahi lagta.

Ab aise hone ko baaten to aisi roz hoti hain,
Koi jo dusra bole zara achchha nahi lagta.

Hamesha hans nahi sakte ye to hum bhi samajhte hain,
Har ek mahfil mein munh latka hua achchha nahi lagta. !!

बुरा मत मान इतना हौसला अच्छा नहीं लगता,
ये उठते बैठते ज़िक्र-ए-वफ़ा अच्छा नहीं लगता !

जहाँ ले जाना है ले जाए आ कर एक फेरे में,
कि हर दम का तक़ाज़ा-ए-हवा अच्छा नहीं लगता !

समझ में कुछ नहीं आता समुंदर जब बुलाता है,
किसी साहिल का कोई मशवरा अच्छा नहीं लगता !

जो होना है सो दोनों जानते हैं फिर शिकायत क्या,
ये बे-मसरफ़ ख़तों का सिलसिला अच्छा नहीं लगता !

अब ऐसे होने को बातें तो ऐसी रोज़ होती हैं,
कोई जो दूसरा बोले ज़रा अच्छा नहीं लगता !

हमेशा हँस नहीं सकते ये तो हम भी समझते हैं,
हर एक महफ़िल में मुँह लटका हुआ अच्छा नहीं लगता !!

 

Zaban rakhta hun lekin chup khada hun..

Zaban rakhta hun lekin chup khada hun,
Main aawazon ke ban mein ghir gaya hun.

Mere ghar ka daricha puchhta hai,
Main sara din kahan phirta raha hun.

Mujhe mere siwa sab log samjhen,
Main apne aap se kam bolta hun.

Sitaron se hasad ki intiha hai,
Main qabron par charaghan kar raha hun.

Sambhal kar ab hawaon se ulajhna,
Main tujh se pesh-tar bujhne laga hun.

Meri qurbat se kyun khaif hai duniya,
Samundar hun main khud mein gunjta hun.

Mujhe kab tak sametega wo “Mohsin”,
Main andar se bahut tuta hua hun. !!

ज़बाँ रखता हूँ लेकिन चुप खड़ा हूँ,
मैं आवाज़ों के बन में घिर गया हूँ !

मेरे घर का दरीचा पूछता है,
मैं सारा दिन कहाँ फिरता रहा हूँ !

मुझे मेरे सिवा सब लोग समझें,
मैं अपने आप से कम बोलता हूँ !

सितारों से हसद की इंतिहा है,
मैं क़ब्रों पर चराग़ाँ कर रहा हूँ !

सँभल कर अब हवाओं से उलझना,
मैं तुझ से पेश-तर बुझने लगा हूँ !

मेरी क़ुर्बत से क्यूँ ख़ाइफ़ है दुनिया,
समुंदर हूँ मैं ख़ुद में गूँजता हूँ !

मुझे कब तक समेटेगा वो “मोहसिन”,
मैं अंदर से बहुत टूटा हुआ हूँ !!

 

Bhadkaye meri pyas ko aksar teri aankhen..

Bhadkaye meri pyas ko aksar teri aankhen,
Sahra mera chehra hai samundar teri aankhen.

Phir kaun bhala dad-e-tabassum unhen dega,
Roengi bahut mujh se bichhad kar teri aankhen.

Khali jo hui sham-e-ghariban ki hatheli,
Kya-kya na lutati rahin gauhar teri aankhen.

Bojhal nazar aati hain ba-zahir mujhe lekin,
Khulti hain bahut dil mein utar kar teri aankhen.

Ab tak meri yaadon se mitaye nahi mitta,
Bhigi hui ek sham ka manzar teri aankhen.

Mumkin ho to ek taza ghazal aur bhi kah lun,
Phir odh na len khwab ki chadar teri aankhen.

Main sang-sifat ek hi raste mein khada hun,
Shayad mujhe dekhengi palat kar teri aankhen.

Yun dekhte rahna use achchha nahi “Mohsin”,
Wo kanch ka paikar hai to patthar teri aankhen. !!

भड़काएँ मेरी प्यास को अक्सर तेरी आँखें,
सहरा मेरा चेहरा है समुंदर तेरी आँखें !

फिर कौन भला दाद-ए-तबस्सुम उन्हें देगा,
रोएँगी बहुत मुझ से बिछड़ कर तेरी आँखें !

ख़ाली जो हुई शाम-ए-ग़रीबाँ की हथेली,
क्या-क्या न लुटाती रहीं गौहर तेरी आँखें !

बोझल नज़र आती हैं ब-ज़ाहिर मुझे लेकिन,
खुलती हैं बहुत दिल में उतर कर तेरी आँखें !

अब तक मेरी यादों से मिटाए नहीं मिटता,
भीगी हुई एक शाम का मंज़र तेरी आँखें !

मुमकिन हो तो एक ताज़ा ग़ज़ल और भी कह लूँ,
फिर ओढ़ न लें ख़्वाब की चादर तेरी आँखें !

मैं संग-सिफ़त एक ही रस्ते में खड़ा हूँ,
शायद मुझे देखेंगी पलट कर तेरी आँखें !

यूँ देखते रहना उसे अच्छा नहीं “मोहसिन”,
वो काँच का पैकर है तो पत्थर तेरी आँखें !!

 

Koi deewana kehta hain koi pagal samjhta hai..

Koi deewana kehta hain koi pagal samjhta hai,
Magar dharti ki bechani ko bas badal samjhta hai,
Main tujhse dur kaisa hu, tu mujhse dur kaisi hai,
Yeh tera dil samjhta hain ya mera dil samjhta hai.

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है,
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है,
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर कैसी है,
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है !

Mohobbat ek ehsaason ki paawan si kahani hain,
Kabhi kabira deewana tha kabhi meera deewani hain,
Yahaan sab log kehte hain meri aakho mein aansoo hain,
Jo tu samjhe toh moti hain jo na samjhe toh paani hain.

मोहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है,
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है,
यहाँ सब लोग कहते हैं, मेरी आंखों में आँसू हैं,
जो तू समझे तो मोती है, जो ना समझे तो पानी है !

Badalne ko toh in aankhon ke manzar kam nahi badle,
Tumhari yaad ke mausam humhare gham nahi badle,
Tu agle janm mein humse milogi tab toh manogi,
Jamane aur sadi ki is badal mein hum nahi badle.

बदलने को तो इन आंखों के मंजर कम नहीं बदले,
तुम्हारी याद के मौसम हमारे गम नहीं बदले,
तुम अगले जन्म में हमसे मिलोगी तब तो मानोगी,
जमाने और सदी की इस बदल में हम नहीं बदले !

Humein maloom hai do dil judaai seh nahi sakte,
Magar rasmein-wafa ye hai ki ye bhi kah nahi sakte,
Zara kuchh der tum un sahilon ki chikh sun bhar lo,
Jo lahron mein toh dube hai magar sang bah nahi sakte.

हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते,
मगर रस्मे-वफ़ा ये है कि ये भी कह नहीं सकते,
जरा कुछ देर तुम उन साहिलों कि चीख सुन भर लो,
जो लहरों में तो डूबे हैं, मगर संग बह नहीं सकते !

Samandar peer ka andar hain lekin ro nahi sakta,
Yeh aansu pyaar ka moti hain isko kho nahi sakta,
Meri chahat ko dulhan tu bana lena magar sun le,
Jo mera ho nahi paya woh tera ho nahi sakta.

समंदर पीर का अन्दर है, लेकिन रो नही सकता,
यह आँसू प्यार का मोती है, इसको खो नही सकता,
मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना, मगर सुन ले,
जो मेरा हो नही पाया, वो तेरा हो नही सकता !

 

Shor yunhi na parindon ne machaya hoga..

Shor yunhi na parindon ne machaya hoga,
Koi jungle ki taraf shehar se aaya hoga.

Ped ke katne walon ko ye maloom to tha,
Jism jal jayenge jab sar pe na saaya hoga.

Bani-e-jashn-e-baharan ne ye socha bhi nahi,
Kis ne kanton ko lahoo apna pilaya hoga.

Bijli ke taar pe baitha hua hansta panchhi,
Sochta hai ki woh jungle to paraya hoga.

Apne jungle se jo ghabra ke ude the pyase,
Har saraab un ko samundar nazar aaya hoga. !!

शोर यूँही न परिंदों ने मचाया होगा,
कोई जंगल की तरफ़ शहर से आया होगा !

पेड़ के काटने वालों को ये मालूम तो था,
जिस्म जल जाएँगे जब सर पे न साया होगा !

बानी-ए-जश्न-ए-बहाराँ ने ये सोचा भी नहीं,
किस ने काँटों को लहू अपना पिलाया होगा !

बिजली के तार पे बैठा हुआ हँसता पंछी,
सोचता है कि वो जंगल तो पराया होगा !

अपने जंगल से जो घबरा के उड़े थे प्यासे,
हर सराब उन को समुंदर नज़र आया होगा !!

 

Intezamat naye sire se sambhale jayen..

Intezamat naye sire se sambhale jayen,
Jitane kamzarf hain mehfil se nikale jayen.

Mera ghar aag ki lapaton mein chupa hai lekin,
Jab maza hai tere angan mein ujale jayen.

Gham salamat hai to pite hi rahenge lekin,
Pehale maikhane ki halat sambhali jayen.

Khaali waqton mein kahin baith ke rolen yaron,
Fursaten hain to samandar hi khangale jayen.

Khak mein yun na mila zabt ki tauhin na kar,
Ye wo aansoo hain jo duniya ko baha le jayen.

Hum bhi pyase hain ye ehasas to ho saaqi ko,
Khaali shishe hi hawaon mein uchale jayen.

Aao shahr mein naye dost banayen “Rahat”,
Astinon mein chalo saanp hi paale jayen. !!

इन्तेज़ामात नए सिरे से संभाले जाएँ,
जितने कमजर्फ हैं महफ़िल से निकाले जाएँ !

मेरा घर आग की लपटों में छुपा हैं लेकिन,
जब मज़ा हैं तेरे आँगन में उजाला जाएँ !

गम सलामत हैं तो पीते ही रहेंगे लेकिन,
पहले मयखाने की हालात तो संभाली जाए !

खाली वक्तों में कहीं बैठ के रोलें यारों,
फुरसतें हैं तो समंदर ही खंगाले जाए !

खाक में यु ना मिला ज़ब्त की तौहीन ना कर,
ये वो आसूं हैं जो दुनिया को बहा ले जाएँ !

हम भी प्यासे हैं ये अहसास तो हो साकी को,
खाली शीशे ही हवाओं में उछाले जाए !

आओ शहर में नए दोस्त बनाएं “राहत”,
आस्तीनों में चलो साँप ही पाले जाए !!

 

Kisne bhige hue balon se ye jhatka paani

Kisne bhige hue balon se ye jhatka paani,
Jhum kar aayi ghata tut ke barsa paani.

Koi matwali ghata thi ke jawani ki umang,
Ji baha le gaya barsat ka pahla paani.

Tiktiki bandhe wo firte hai main is fikr mein hun,
Kahi khaane lage na chakkar ye gahara paani.

Baat karne mein wo un aankhon se amrit tapka,
“Arzoo” dekhte hi muh mein bhar aaya paani.

Ro liya fut ke seene mein jalan ab kyun ho,
Aag pighla ke nikla hai ye jalta paani.

Ye pasina wahi aansoo hai jo pi jate the tum,
“Arzoo” lo wo khula bhed wo futa paani.

किसने भीगे हुए बालों से ये झटका पानी,
झूम कर आई घटा टूट के बरसा पानी !

कोई मतवाली घटा थी के जवानी की उमंग,
जी बहा ले गया बरसात का पहला पानी !

टिकटिकी बंधे वो फिरते है मैं इस फ़िक्र में हूँ,
कही खाने लगे न चक्कर ये गहरा पानी !

बात करने में वो उन आँखों से अमृत टपका,
“आरज़ू” देखते ही मुह में भर आया पानी !

रो लिया फुट के सीने में जलन अब क्यों हों,
आग पिघला के निकला है ये जलता पानी !

ये पसीना वही आंसू है जो पी जाते थे तुम,
“आरज़ू” लो वो खुला भेद वो फूटा पानी !!