Friday , April 10 2020

Safar Shayari

Chalne Ka Hausla Nahi Rukna Muhaal Kar Diya..

Chalne ka hausla nahi rukna muhaal kar diya,
Ishq ke is safar ne to mujh ko nidhaal kar diya.

Aye meri gul-zamin tujhe chah thi ek kitab ki,
Ahl-e-kitab ne magar kya tera haal kar diya.

Milte hue dilon ke bich aur tha faisla koi,
Us ne magar bichhadte waqt aur sawal kar diya.

Ab ke hawa ke sath hai daman-e-yar muntazir,
Banu-e-shab ke hath mein rakhna sambhaal kar diya.

Mumkina faislon mein ek hijr ka faisla bhi tha,
Hum ne to ek baat ki us ne kamal kar diya.

Mere labon pe mohr thi par mere shisha-ru ne to,
Shahr ke shahr ko mera waqif-e-haal kar diya.

Chehra o naam ek sath aaj na yaad aa sake,
Waqt ne kis shabih ko khwab o khayal kar diya.

Muddaton baad us ne aaj mujh se koi gila kiya,
Mansab-e-dilbari pe kya mujh ko bahaal kar diya. !!

चलने का हौसला नहीं रुकना मुहाल कर दिया,
इश्क़ के इस सफ़र ने तो मुझ को निढाल कर दिया !

ऐ मेरी गुल-ज़मीं तुझे चाह थी एक किताब की,
अहल-ए-किताब ने मगर क्या तेरा हाल कर दिया !

मिलते हुए दिलों के बीच और था फ़ैसला कोई,
उस ने मगर बिछड़ते वक़्त और सवाल कर दिया !

अब के हवा के साथ है दामन-ए-यार मुंतज़िर,
बानू-ए-शब के हाथ में रखना सँभाल कर दिया !

मुमकिना फ़ैसलों में एक हिज्र का फ़ैसला भी था,
हम ने तो एक बात की उस ने कमाल कर दिया !

मेरे लबों पे मोहर थी पर मेरे शीशा-रू ने तो,
शहर के शहर को मेरा वाक़िफ़-ए-हाल कर दिया !

चेहरा ओ नाम एक साथ आज न याद आ सके,
वक़्त ने किस शबीह को ख़्वाब ओ ख़याल कर दिया !

मुद्दतों बाद उस ने आज मुझ से कोई गिला किया,
मंसब-ए-दिलबरी पे क्या मुझ को बहाल कर दिया !! -Parveen Shakir Ghazal

 

Ab Bhala Chhod Ke Ghar Kya Karte..

Ab bhala chhod ke ghar kya karte,
Sham ke waqt safar kya karte.

Teri masrufiyaten jante hain,
Apne aane ki khabar kya karte.

Jab sitare hi nahi mil paye,
Le ke hum shams-o-qamar kya karte.

Wo musafir hi khuli dhup ka tha,
Saye phaila ke shajar kya karte.

Khak hi awwal o aakhir thahri,
Kar ke zarre ko guhar kya karte.

Rae pahle se bana li tu ne,
Dil mein ab hum tere ghar kya karte.

Ishq ne sare saliqe bakhshe,
Husn se kasb-e-hunar kya karte. !!

अब भला छोड़ के घर क्या करते,
शाम के वक़्त सफ़र क्या करते !

तेरी मसरूफ़ियतें जानते हैं,
अपने आने की ख़बर क्या करते !

जब सितारे ही नहीं मिल पाए,
ले के हम शम्स-ओ-क़मर क्या करते !

वो मुसाफ़िर ही खुली धूप का था,
साए फैला के शजर क्या करते !

ख़ाक ही अव्वल ओ आख़िर ठहरी,
कर के ज़र्रे को गुहर क्या करते !

राय पहले से बना ली तू ने,
दिल में अब हम तेरे घर क्या करते !

इश्क़ ने सारे सलीक़े बख़्शे,
हुस्न से कस्ब-ए-हुनर क्या करते !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Roz Taaron Ko Numaish Mein Khalal Padta Hai..

Roz taaron ko numaish mein khalal padta hai,
Chand pagal hai andhere mein nikal padta hai.

Ek diwana musafir hai meri aankhon mein,
Waqt-be-waqt thahar jata hai chal padta hai.

Apni tabir ke chakkar mein mera jagta khwab,
Roz sooraj ki tarah ghar se nikal padta hai.

Roz patthar ki himayat mein ghazal likhte hain,
Roz shishon se koi kaam nikal padta hai.

Main samandar hun kulhadi se nahi kat sakta,
Koi fawwara nahi hun jo ubal padta hai.

Kal wahan chand uga karte the har aahat par,
Apne raste mein jo viraan mahal padta hai.

Na ta-aaruf na ta-alluk hai magar dil aksar,
Naam sunta hai tumhara uchhal padta hai.

Us ki yaad aayi hai sanso zara aahista chalo,
Dhadkanon se bhi ibaadat mein khalal padta hai. !!

रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं,
चाँद पागल हैं अंधेरे में निकल पड़ता हैं !

एक दीवाना मुसाफ़िर है मेरी आँखों में,
वक़्त-बे-वक़्त ठहर जाता है चल पड़ता है !

अपनी ताबीर के चक्कर में मेरा जागता ख़्वाब,
रोज़ सूरज की तरह घर से निकल पड़ता है !

रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं,
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है !

मैं समंदर हूँ कुल्हाड़ी से नहीं कट सकता,
कोई फव्वारा नही हूँ जो उबल पड़ता हैं !

कल वहाँ चाँद उगा करते थे हर आहट पर,
अपने रास्ते में जो वीरान महल पड़ता हैं !

ना त-आरूफ़ ना त-अल्लुक हैं मगर दिल अक्सर,
नाम सुनता हैं तुम्हारा तो उछल पड़ता हैं !

उसकी याद आई हैं साँसों ज़रा आहिस्ता चलो,
धड़कनो से भी इबादत में खलल पड़ता हैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Saans lena bhi kaisi aadat hai.. {Aadat Gulzar Nazm}

Saans lena bhi kaisi aadat hai
Jiye jaana bhi kya riwayat hai
Koi aahat nahin badan mein kahin
Koi saya nahin hai aaankhon mein
Paanv behis hain chalte jate hain
Ek safar hai jo bahta rahta hai
Kitne barson se kitni sadiyon se
Jiye jate hain jiye jate hain

Aadaten bhi ajib hoti hain.. !!

साँस लेना भी कैसी आदत है
जीये जाना भी क्या रवायत है
कोई आहट नहीं बदन में कहीं
कोई साया नहीं है आँखों में
पाँव बेहिस हैं, चलते जाते हैं
इक सफ़र है जो बहता रहता है
कितने बरसों से, कितनी सदियों से
जिये जाते हैं, जिये जाते हैं

आदतें भी अजीब होती हैं..!! – Gulzar

 

Aadmi Bulbula Hai Paani Ka..

Aadmi bulbula hai paani ka
Aur paani ki behti satah par
Toot’ta bhi hai dubta bhi hai
Phir ubharta hai phir se behta hai
Na samundar nigal saka iss ko
Na tawarikh tod paayi hai
Waqt ki hatheli par behta
Aadmi bulbula hai paani ka.. !!

आदमी बुलबुला है पानी का
और पानी की बहती सतहा पर
टूटता भी है डूबता भी है
फिर उभरता है, फिर से बहता है
न समुंदर निगल सका इस को
न तवारीख़ तोड़ पाई है
वक़्त की हथेली पर बहता
आदमी बुलबुला है पानी का.. !! – Gulzar

 

Abhi kuchh aur karishme ghazal ke dekhte hain..

Abhi kuchh aur karishme ghazal ke dekhte hain,
“Faraz” ab zara lahja badal ke dekhte hain.

Judaiyan to muqaddar hain phir bhi jaan-e-safar,
Kuchh aur dur zara sath chal ke dekhte hain.

Rah-e-wafa mein harif-e-khiram koi to ho,
So apne aap se aage nikal ke dekhte hain.

Tu samne hai to phir kyun yaqin nahi aata,
Ye bar bar jo aankhon ko mal ke dekhte hain.

Ye kaun log hain maujud teri mehfil mein,
Jo lalachon se tujhe mujh ko jal ke dekhte hain.

Ye qurb kya hai ki yak-jaan hue na dur rahe,
Hazar ek hi qalib mein dhal ke dekhte hain.

Na tujh ko mat hui hai na mujh ko mat hui,
So ab ke donon hi chaalen badal ke dekhte hain.

Ye kaun hai sar-e-sahil ki dubne wale,
Samundaron ki tahon se uchhal ke dekhte hain.

Abhi talak to na kundan hue na rakh hue,
Hum apni aag mein har roz jal ke dekhte hain.

Bahut dinon se nahi hai kuchh us ki khair khabar,
Chalo “Faraz” ku-e-yar chal ke dekhte hain. !!

अभी कुछ और करिश्मे ग़ज़ल के देखते हैं,
“फ़राज़” अब ज़रा लहजा बदल के देखते हैं !

जुदाइयाँ तो मुक़द्दर हैं फिर भी जान-ए-सफ़र,
कुछ और दूर ज़रा साथ चल के देखते हैं !

रह-ए-वफ़ा में हरीफ़-ए-ख़िराम कोई तो हो,
सो अपने आप से आगे निकल के देखते हैं !

तू सामने है तो फिर क्यूँ यक़ीं नहीं आता,
ये बार बार जो आँखों को मल के देखते हैं !

ये कौन लोग हैं मौजूद तेरी महफ़िल में,
जो लालचों से तुझे मुझ को जल के देखते हैं !

ये क़ुर्ब क्या है कि यक-जाँ हुए न दूर रहे,
हज़ार एक ही क़ालिब में ढल के देखते हैं !

न तुझ को मात हुई है न मुझ को मात हुई,
सो अब के दोनों ही चालें बदल के देखते हैं !

ये कौन है सर-ए-साहिल कि डूबने वाले,
समुंदरों की तहों से उछल के देखते हैं !

अभी तलक तो न कुंदन हुए न राख हुए,
हम अपनी आग में हर रोज़ जल के देखते हैं !

बहुत दिनों से नहीं है कुछ उस की ख़ैर ख़बर,
चलो “फ़राज़” कू-ए-यार चल के देखते हैं !!

 

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain..

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain,
So us ke shehar mein kuchh din thahar ke dekhte hain.

Suna hai rabt hai us ko kharab-haalon se,
So apne aap ko barbaad kar ke dekhte hain.

Suna hai dard ki gahak hai chashm-e-naz us ki,
So hum bhi us ki gali se guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ko bhi hai shair-o-shayari se shaghaf,
So hum bhi moajize apne hunar ke dekhte hain.

Suna hai bole to baaton se phool jhadte hain,
Ye baat hai to chalo baat kar ke dekhte hain.

Suna hai raat use chand takta rahta hai,
Sitare baam-e-falak se utar ke dekhte hain.

Suna hai din ko use titliyan satati hain,
Suna hai raat ko jugnu thahar ke dekhte hain.

Suna hai hashr hain us ki ghazal si aankhen,
Suna hai us ko hiran dasht bhar ke dekhte hain.

Suna hai raat se badh kar hain kakulen us ki,
Suna hai sham ko saye guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ki siyah-chashmagi qayamat hai,
So us ko surma-farosh aah bhar ke dekhte hain.

Suna hai us ke labon se gulab jalte hain,
So hum bahaar pe ilzam dhar ke dekhte hain.

Suna hai aaina timsal hai jabin us ki,
Jo sada dil hain use ban-sanwar ke dekhte hain.

Suna hai jab se hamail hain us ki gardan mein,
Mizaj aur hi lal o guhar ke dekhte hain.

Suna hai chashm-e-tasawwur se dasht-e-imkan mein,
Palang zawiye us ki kamar ke dekhte hain.

Suna hai us ke badan ki tarash aisi hai,
Ki phool apni qabayen katar ke dekhte hain.

Wo sarw-qad hai magar be-gul-e-murad nahi,
Ki us shajar pe shagufe samar ke dekhte hain.

Bas ek nigah se lutta hai qafila dil ka,
So rah-rawan-e-tamanna bhi dar ke dekhte hain.

Suna hai us ke shabistan se muttasil hai bahisht,
Makin udhar ke bhi jalwe idhar ke dekhte hain.

Ruke to gardishen us ka tawaf karti hain,
Chale to us ko zamane thahar ke dekhte hain.

Kise nasib ki be-pairahan use dekhe,
Kabhi kabhi dar o diwar ghar ke dekhte hain.

Kahaniyan hi sahi sab mubaalghe hi sahi,
Agar wo khwab hai tabir kar ke dekhte hain.

Ab us ke shehar mein thahren ki kuch kar jayen,
“Faraz” aao sitare safar ke dekhte hain. !!

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं,
सो उस के शहर में कुछ दिन ठहर के देखते हैं !

सुना है रब्त है उस को ख़राब-हालों से,
सो अपने आप को बरबाद कर के देखते हैं !

सुना है दर्द की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उस की,
सो हम भी उस की गली से गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस को भी है शेर-ओ-शायरी से शग़फ़,
सो हम भी मोजिज़े अपने हुनर के देखते हैं !

सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते हैं,
ये बात है तो चलो बात कर के देखते हैं !

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है,
सितारे बाम-ए-फ़लक से उतर के देखते हैं !

सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती हैं,
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते हैं !

सुना है हश्र हैं उस की ग़ज़ाल सी आँखें,
सुना है उस को हिरन दश्त भर के देखते हैं !

सुना है रात से बढ़ कर हैं काकुलें उस की,
सुना है शाम को साए गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस की सियह-चश्मगी क़यामत है,
सो उस को सुरमा-फ़रोश आह भर के देखते हैं !

सुना है उस के लबों से गुलाब जलते हैं,
सो हम बहार पे इल्ज़ाम धर के देखते हैं !

सुना है आइना तिमसाल है जबीं उस की,
जो सादा दिल हैं उसे बन-सँवर के देखते हैं !

सुना है जब से हमाइल हैं उस की गर्दन में,
मिज़ाज और ही लाल ओ गुहर के देखते हैं !

सुना है चश्म-ए-तसव्वुर से दश्त-ए-इम्काँ में,
पलंग ज़ाविए उस की कमर के देखते हैं !

सुना है उस के बदन की तराश ऐसी है,
कि फूल अपनी क़बाएँ कतर के देखते हैं !

वो सर्व-क़द है मगर बे-गुल-ए-मुराद नहीं,
कि उस शजर पे शगूफ़े समर के देखते हैं !

बस एक निगाह से लुटता है क़ाफ़िला दिल का,
सो रह-रवान-ए-तमन्ना भी डर के देखते हैं !

सुना है उस के शबिस्ताँ से मुत्तसिल है बहिश्त,
मकीं उधर के भी जल्वे इधर के देखते हैं !

रुके तो गर्दिशें उस का तवाफ़ करती हैं,
चले तो उस को ज़माने ठहर के देखते हैं !

किसे नसीब कि बे-पैरहन उसे देखे,
कभी कभी दर ओ दीवार घर के देखते हैं !

कहानियाँ ही सही सब मुबालग़े ही सही,
अगर वो ख़्वाब है ताबीर कर के देखते हैं !

अब उस के शहर में ठहरें कि कूच कर जाएँ,
“फ़राज़” आओ सितारे सफ़र के देखते हैं !!