Home / Safar Shayari

Safar Shayari

Kis ki talash hai hamein kis ke asar mein hain..

Kis ki talash hai hamein kis ke asar mein hain,
Jab se chale hain ghar se musalsal safar mein hain.

Sare tamashe khatm hue log ja chuke,
Ek hum hi rah gaye jo fareb-e-sahar mein hain.

Aisi to koi khas khata bhi nahi hui,
Han ye samajh liya tha ki hum apne ghar mein hain.

Ab ke bahaar dekhiye kya naqsh chhod jaye,
Aasar baadalon ke na patte shajar mein hain.

Tujh se bichhadna koi naya hadsa nahi,
Aise hazaron kisse hamari khabar mein hain.

“Aashufta” sab guman dhara rah gaya yahan,
Kahte na the ki khamiyan tere hunar mein hain. !!

किस की तलाश है हमें किस के असर में हैं,
जब से चले हैं घर से मुसलसल सफ़र में हैं !

सारे तमाशे ख़त्म हुए लोग जा चुके,
एक हम ही रह गए जो फ़रेब-ए-सहर में हैं !

ऐसी तो कोई ख़ास ख़ता भी नहीं हुई,
हाँ ये समझ लिया था कि हम अपने घर में हैं !

अब के बहार देखिए क्या नक़्श छोड़ जाए,
आसार बादलों के न पत्ते शजर में हैं !

तुझ से बिछड़ना कोई नया हादसा नहीं,
ऐसे हज़ारों क़िस्से हमारी ख़बर में हैं !

“आशुफ़्ता” सब गुमान धरा रह गया यहाँ,
कहते न थे कि ख़ामियाँ तेरे हुनर में हैं !!

 

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the..

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the,
Safine yun bhi kinare pe kab lagane the.

Khayal aata hai rah-rah ke laut jaane ka,
Safar se pahle humein apne ghar jalane the.

Guman tha ki samajh lenge mausamon ka mizaj,
Khuli jo aankh to zad pe sabhi thikane the.

Humein bhi aaj hi karna tha intezaar us ka,
Use bhi aaj hi sab wade bhul jaane the.

Talash jin ko hamesha buzurg karte rahe,
Na jaane kaun si duniya mein wo khazane the.

Chalan tha sab ke ghamon mein sharik rahne ka,
Ajib din the ajab sar-phire zamane the. !!

हवाएँ तेज़ थीं ये तो फ़क़त बहाने थे,
सफ़ीने यूँ भी किनारे पे कब लगाने थे !

ख़याल आता है रह-रह के लौट जाने का,
सफ़र से पहले हमें अपने घर जलाने थे !

गुमान था कि समझ लेंगे मौसमों का मिज़ाज,
खुली जो आँख तो ज़द पे सभी ठिकाने थे !

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का,
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे !

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे !

चलन था सब के ग़मों में शरीक रहने का,
अजीब दिन थे अजब सर-फिरे ज़माने थे !!

 

Kitne hi ped khauf-e-khizan se ujad gaye..

Kitne hi ped khauf-e-khizan se ujad gaye,
Kuchh barg-e-sabz waqt se pahle hi jhad gaye.

Kuchh aadhiyan bhi apnī muavin safar mein thi,
Thak kar padav dala to kheme ukhad gaye.

Ab ke meri shikast mein un ka bhi haath hai,
Woh tir jo kaman ke panje mein gad gaye.

Suljhi thi gutthiyan meri danist mein magar,
Hasil ye hai ki zakhmon ke tanke ukhad gaye.

Nirwan kya bas ab to aman ki talash hai,
Tahzib phailne lagi jangal sukad gaye.

Is band ghar mein kaise kahun kya tilism hai,
Khole the jitne qufl woh honthon pe pad gaye.

Be-saltanat hui hain kayi unchi gardanen,
Bahar saron ke dast-e-tasallut se dhad gaye. !!

कितने ही पेड़ ख़ौफ़-ए-ख़िज़ाँ से उजड़ गए,
कुछ बर्ग-ए-सब्ज़ वक़्त से पहले ही झड़ गए !

कुछ आँधियाँ भी अपनी मुआविन सफ़र में थीं,
थक कर पड़ाव डाला तो ख़ेमे उखड़ गए !

अब के मेरी शिकस्त में उन का भी हाथ है,
वो तीर जो कमान के पंजे में गड़ गए !

सुलझी थीं गुत्थियाँ मेरी दानिस्त में मगर,
हासिल ये है कि ज़ख़्मों के टाँके उखड़ गए !

निरवान क्या बस अब तो अमाँ की तलाश है,
तहज़ीब फैलने लगी जंगल सुकड़ गए !

इस बंद घर में कैसे कहूँ क्या तिलिस्म है,
खोले थे जितने क़ुफ़्ल वो होंटों पे पड़ गए !

बे-सल्तनत हुई हैं कई ऊँची गर्दनें,
बाहर सरों के दस्त-ए-तसल्लुत से धड़ गए !!

 

Ye aur baat ki rang-e-bahaar kam hoga..

Ye aur baat ki rang-e-bahaar kam hoga,
Nayi ruton mein darakhton ka bar kam hoga.

Talluqat mein aayi hai bas ye tabdili,
Milenge ab bhi magar intezaar kam hoga.

Main sochta raha kal raat baith kar tanha,
Ki is hujum mein mera shumar kam hoga.

Palat to aayega shayad kabhi yahi mausam,
Tere baghair magar khush-gawar kam hoga.

Bahut tawil hai “Aanis” ye zindagi ka safar,
Bas ek shakhs pe dar-o-madar kam hoga. !!

ये और बात कि रंग-ए-बहार कम होगा,
नई रुतों में दरख़्तों का बार कम होगा !

तअल्लुक़ात में आई है बस ये तब्दीली,
मिलेंगे अब भी मगर इंतिज़ार कम होगा !

मैं सोचता रहा कल रात बैठ कर तन्हा,
कि इस हुजूम में मेरा शुमार कम होगा !

पलट तो आएगा शायद कभी यही मौसम,
तेरे बग़ैर मगर ख़ुश-गवार कम होगा !

बहुत तवील है “अनीस” ये ज़िंदगी का सफ़र,
बस एक शख़्स पे दार-ओ-मदार कम होगा !!

 

Ajab talash-e-musalsal ka ikhtitam hua..

Ajab talash-e-musalsal ka ikhtitam hua,
Husul-e-rizq hua bhi to zer-e-dam hua.

Tha intezaar manayenge mil ke diwali,
Na tum hi laut ke aaye na waqt-e-sham hua.

Har ek shahr ka mear mukhtalif dekha,
Kahin pe sar kahin pagdi ka ehtiram hua.

Zara si umar adawat ki lambi fehristen,
Ajib qarz wirasat mein mere naam hua.

Na thi zamin mein wusat meri nazar jaisi,
Badan thaka bhi nahi aur safar tamam hua.

Hum apne sath liye phir rahe hain pachhtawa,
Khayal laut ke jaane ka gam gam hua. !!

अजब तलाश-ए-मुसलसल का इख़्तिताम हुआ,
हुसूल-ए-रिज़्क़ हुआ भी तो ज़ेर-ए-दाम हुआ !

था इंतिज़ार मनाएँगे मिल के दीवाली,
न तुम ही लौट के आए न वक़्त-ए-शाम हुआ !

हर एक शहर का मेआर मुख़्तलिफ़ देखा,
कहीं पे सर कहीं पगड़ी का एहतिराम हुआ !

ज़रा सी उम्र अदावत की लम्बी फ़ेहरिस्तें,
अजीब क़र्ज़ विरासत में मेरे नाम हुआ !

न थी ज़मीन में वुसअत मेरी नज़र जैसी,
बदन थका भी नहीं और सफ़र तमाम हुआ !

हम अपने साथ लिए फिर रहे हैं पछतावा,
ख़याल लौट के जाने का गाम गाम हुआ !!

 

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai..

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai,
Tumhari yaadon ke saath tanha safar kiya hai.

Suna hai us rut ko dekh kar tum bhi ro pade the,
Suna hai barish ne pattharon par asar kiya hai.

Salib ka bar bhi uthao tamam jiwan,
Ye lab-kushai ka jurm tum ne agar kiya hai.

Tumhein khabar thi haqiqaten talkh hain jabhi to,
Tumhari aankhon ne khwab ko mo’atabar kiya hai.

Ghutan badhi hai to phir usi ko sadayen di hain,
Ki jis hawa ne har ek shajar be-samar kiya hai.

Hai tere andar basi hui ek aur duniya,
Magar kabhi tu ne itna lamba safar kiya hai.

Mere hi dam se to raunaqen tere shehar mein thin,
Mere hi qadmon ne dasht ko rah-guzar kiya hai.

Tujhe khabar kya mere labon ki khamoshiyon ne,
Tere fasane ko kis qadar mukhtasar kiya hai.

Bahut si aankhon mein tirgi ghar bana chuki hai,
bahut si aankhon ne intezaar-e-sahar kiya hai. !!

मिलन की साअत को इस तरह से अमर किया है,
तुम्हारी यादों के साथ तन्हा सफ़र किया है !

सुना है उस रुत को देख कर तुम भी रो पड़े थे,
सुना है बारिश ने पत्थरों पर असर किया है !

सलीब का बार भी उठाओ तमाम जीवन,
ये लब-कुशाई का जुर्म तुम ने अगर किया है !

तुम्हें ख़बर थी हक़ीक़तें तल्ख़ हैं जभी तो,
तुम्हारी आँखों ने ख़्वाब को मोतबर किया है !

घुटन बढ़ी है तो फिर उसी को सदाएँ दी हैं,
कि जिस हवा ने हर इक शजर बे-समर किया है !

है तेरे अंदर बसी हुई एक और दुनिया,
मगर कभी तूने इतना लम्बा सफ़र किया है !

मेरे ही दम से तो रौनक़ें तेरे शहर में थीं,
मेरे ही क़दमों ने दश्त को रह-गुज़र किया है !

तुझे ख़बर क्या मेरे लबों की ख़मोशियों ने,
तेरे फ़साने को किस क़दर मुख़्तसर किया है !

बहुत सी आँखों में तीरगी घर बना चुकी है,
बहुत सी आँखों ने इंतज़ार-ए-सहर किया है !!

 

Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

           Aurat

Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe
Qalb-e-maahaul mein larzaan sharar-e-jung hain aaj
Hausle waqt ke aur ziist ke yak-rang hain aaj
Aabginon mein tapan walwala-e- sang hain aaj
Husn aur ishq hum-awaz-o-hum-ahang hain aaj
Jis mein jalta hun usi aag mein jalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे
क़ल्ब-ए-माहौल में लर्ज़ां शरर-ए-जंग हैं आज
हौसले वक़्त के और ज़ीस्त के यक-रंग हैं आज
आबगीनों में तपाँ वलवला-ए-संग हैं आज
हुस्न और इश्क़ हम-आवाज़ ओ हम-आहंग हैं आज
जिस में जलता हूँ उसी आग में जलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tere qadmon mein hai firdaus-e-tamaddun ki bahaar
Teri nazron pe hai tehzib-o-taraqqi ka madar
Teri aaghosh hai gahwara-e-nafs-o-kirdar
Taa-ba-kai gird tere wehm-o-tayyun ka hisar
Kaund kar majlis-e-khalwat se nikalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तेरे क़दमों में है फ़िरदौस-ए-तमद्दुन की बहार
तेरी नज़रों पे है तहज़ीब-ओ-तरक़्क़ी का मदार
तेरी आग़ोश है गहवारा-ए-नफ़्स-ओ-किरदार
ता-ब-कै गिर्द तेरे वहम-ओ-तअय्युन का हिसार
कौंद कर मज्लिस-ए-ख़ल्वत से निकलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tu ki be-jaan khilaunon se bahal jati hai
Tapti sanson ki hararat se pighal jati hai
Panw jis raah mein rakhti hai phisal jati hai
Ban ke simab har ek zarf mein dhal jati hai
Zist ke aahani sanche mein bhi dhalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तू कि बे-जान खिलौनों से बहल जाती है
तपती साँसों की हरारत से पिघल जाती है
पाँव जिस राह में रखती है फिसल जाती है
बन के सीमाब हर एक ज़र्फ़ में ढल जाती है
ज़ीस्त के आहनी साँचे में भी ढलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Zindagi jehd mein hai sabr ke qabu mein nahin
Nabz-e-hasti ka lahu kanpte aansu mein nahin
Udne khulne mein hai nikhat kham-e-gesu mein nahin
Jannat ek aur hai jo mard ke pahlu mein nahin
Us ki aazad rawish par bhi machalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

ज़िंदगी जेहद में है सब्र के क़ाबू में नहीं
नब्ज़-ए-हस्ती का लहू काँपते आँसू में नहीं
उड़ने खुलने में है निकहत ख़म-ए-गेसू में नहीं
जन्नत एक और है जो मर्द के पहलू में नहीं
उस की आज़ाद रविश पर भी मचलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Goshe-goshe mein sulagti hai chita tere liye
Farz ka bhes badalti hai qaza tere liye
Qahar hai teri har ek narm ada tere liye
Zehr hi zehr hai duniya ki hawa tere liye
Rut badal dal agar phulna-phalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

गोशे-गोशे में सुलगती है चिता तेरे लिए
फ़र्ज़ का भेस बदलती है क़ज़ा तेरे लिए
क़हर है तेरी हर एक नर्म अदा तेरे लिए
ज़हर ही ज़हर है दुनिया की हवा तेरे लिए
रुत बदल डाल अगर फूलना-फलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Qadr ab tak teri tarikh ne jaani hi nahin
Tujh mein shoale bhi hain bas ashk-fishani hi nahin
Tu haqiqat bhi hai dilchasp kahani hi nahin
Teri hasti bhi hai ek chiz jawani hi nahin
Apni tarikh ka unwan badalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

क़द्र अब तक तेरी तारीख़ ने जानी ही नहीं
तुझ में शोले भी हैं बस अश्क-फ़िशानी ही नहीं
तू हक़ीक़त भी है दिलचस्प कहानी ही नहीं
तेरी हस्ती भी है एक चीज़ जवानी ही नहीं
अपनी तारीख़ का उन्वान बदलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tod kar rasm ke but band-e-qadamat se nikal
Zof-e-ishrat se nikal wahm-e-nazakat se nikal
Nafs ke khinche hue halqa-e-azmat se nikal
Qaid ban jaye mohabbat to mohabbat se nikal
Raah ka khar hi kya gul bhi kuchalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तोड़ कर रस्म का बुत बंद-ए-क़दामत से निकल
ज़ोफ़-ए-इशरत से निकल वहम-ए-नज़ाकत से निकल
नफ़्स के खींचे हुए हल्क़ा-ए-अज़्मत से निकल
क़ैद बन जाए मोहब्बत तो मोहब्बत से निकल
राह का ख़ार ही क्या गुल भी कुचलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tod ye azm-shikan daghdagha-e-pand bhi tod
Teri khatir hai jo zanjir woh saugand bhi tod
Tauq ye bhi zamurrad ka gulu-band bhi tod
Tod paimana-e-mardan-e-khird-mand bhi tod
Ban ke tufan chhalakna hai ubalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तोड़ ये अज़्म-शिकन दग़दग़ा-ए-पंद भी तोड़
तेरी ख़ातिर है जो ज़ंजीर वो सौगंद भी तोड़
तौक़ ये भी है ज़मुर्रद का गुलू-बंद भी तोड़
तोड़ पैमाना-ए-मर्दान-ए-ख़िरद-मंद भी तोड़
बन के तूफ़ान छलकना है उबलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tu falatun-o-arastu hai tu zehra parwin
Tere qabze mein hai gardun teri thokar mein zamin
Han utha jald utha paa-e-muqqadar se jabin
Main bhi rukne ka nahin waqt bhi rukne ka nahin
Ladkhadayegi kahan tak ki sambhalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe.. !!

तू फ़लातून-ओ-अरस्तू है तू ज़हरा परवीन
तेरे क़ब्ज़े में है गर्दूं तेरी ठोकर में ज़मीन
हाँ उठा जल्द उठा पा-ए-मुक़द्दर से जबीन
मैं भी रुकने का नहीं वक़्त भी रुकने का नहीं
लड़खड़ाएगी कहाँ तक कि सँभलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे.. !!