Home / Sad Poetry (page 3)

Sad Poetry

Dagh duniya ne diye zakhm zamane se mile..

Dagh duniya ne diye zakhm zamane se mile,
Hum ko tohfe ye tumhein dost banane se mile

Hum taraste hi taraste hi taraste hi rahe,
Wo falane se falane se falane se mile.

Khud se mil jate to chahat ka bharam rah jata,
Kya mile aap jo logon ke milane se mile.

Maa ki aaghosh mein kal maut ki aaghosh mein aaj,
Hum ko duniya mein ye do waqt suhane se mile.

Kabhi likhwane gaye khat kabhi padhwane gaye,
Hum hasinon se isi hile bahane se mile.

Ek naya zakhm mila ek nayi umar mili,
Jab kisi shahr mein kuch yar purane se mile.

Ek hum hi nahi phirte hain liye kissa-e-gham,
Un ke khamosh labon par bhi fasane se mile.

Kaise maane ki unhein bhul gaya tu ai “Kaif”,
Un ke khat aaj hamein tere sirhane se mile. !!

दाग़ दुनिया ने दिए ज़ख़्म ज़माने से मिले,
हम को तोहफ़े ये तुम्हें दोस्त बनाने से मिले !

हम तरसते ही तरसते ही तरसते ही रहे,
वो फ़लाने से फ़लाने से फ़लाने से मिले !

ख़ुद से मिल जाते तो चाहत का भरम रह जाता,
क्या मिले आप जो लोगों के मिलाने से मिले !

माँ की आग़ोश में कल मौत की आग़ोश में आज,
हम को दुनिया में ये दो वक़्त सुहाने से मिले !

कभी लिखवाने गए ख़त कभी पढ़वाने गए,
हम हसीनों से इसी हीले बहाने से मिले !

एक नया ज़ख़्म मिला एक नई उम्र मिली,
जब किसी शहर में कुछ यार पुराने से मिले !

एक हम ही नहीं फिरते हैं लिए क़िस्सा-ए-ग़म,
उन के ख़ामोश लबों पर भी फ़साने से मिले !

कैसे मानें कि उन्हें भूल गया तू ऐ “कैफ़”,
उन के ख़त आज हमें तेरे सिरहाने से मिले !!

Ishq ko be-naqab hona tha..

Ishq ko be-naqab hona tha,
Aap apna jawab hona tha.

Mast-e-jam-e-sharab hona tha,
Be-khud-e-iztirab hona tha.

Teri aankhon ka kuch qusur nahi,
Han mujhi ko kharab hona tha.

Aao mil jao muskura ke gale,
Ho chuka jo itab hona tha.

Kucha-e-ishq mein nikal aaya,
Jis ko khana-kharab hona tha.

Mast-e-jam-e-sharab khak hote,
Gharq-e-jam-e-sharab hona tha.

Dil ki jis par hain naqsh-e-ranga-rang,
Us ko sada kitab hona tha.

Hum ne nakaamiyon ko dhund liya,
Aakhirash kaamyab hona tha.

Haye wo lamha-e-sukun ki jise,
Mahshar-e-iztirab hona tha.

Nigah-e-yaar khud tadap uthti,
Shart-e-awwal kharab hona tha.

Kyun na hota sitam bhi be-payan,
Karam-e-be-hisab hona tha.

Kyun nazar hairaton mein dub gayi,
Mauj-e-sad-iztirab hona tha.

Ho chuka roz-e-awwali hi “Jigar”,
Jis ko jitna kharab hona tha. !!

इश्क़ को बे-नक़ाब होना था,
आप अपना जवाब होना था !

मस्त-ए-जाम-ए-शराब होना था,
बे-ख़ुद-ए-इज़्तिराब होना था !

तेरी आँखों का कुछ क़ुसूर नहीं,
हाँ मुझी को ख़राब होना था !

आओ मिल जाओ मुस्कुरा के गले,
हो चुका जो इताब होना था !

कूचा-ए-इश्क़ में निकल आया,
जिस को ख़ाना-ख़राब होना था !

मस्त-ए-जाम-ए-शराब ख़ाक होते,
ग़र्क़-ए-जाम-ए-शराब होना था !

दिल कि जिस पर हैं नक़्श-ए-रंगा-रंग,
उस को सादा किताब होना था !

हम ने नाकामियों को ढूँड लिया,
आख़िरश कामयाब होना था !

हाए वो लम्हा-ए-सुकूँ कि जिसे,
महशर-ए-इज़्तिराब होना था !

निगह-ए-यार ख़ुद तड़प उठती,
शर्त-ए-अव्वल ख़राब होना था !

क्यूँ न होता सितम भी बे-पायाँ,
करम-ए-बे-हिसाब होना था !

क्यूँ नज़र हैरतों में डूब गई,
मौज-ए-सद-इज़्तिराब होना था !

हो चुका रोज़-ए-अव्वली ही “जिगर”,
जिस को जितना ख़राब होना था !!

Phir dil se aa rahi hai sada us gali mein chal..

Phir dil se aa rahi hai sada us gali mein chal,
Shayad mile ghazal ka pata us gali mein chal.

Kab se nahi hua hai koi sher kaam ka,
Ye sher ki nahi hai faza us gali mein chal.

Woh baam-o-dar wo log wo ruswaiyon ke zakhm,
Hain sab ke sab aziz juda us gali mein chal.

Us phool ke baghair bahut ji udas hai,
Mujh ko bhi sath le ke saba us gali mein chal.

Duniya to chahti hai yunhi fasle rahen,
Duniya ke mashwaron pe na jaa us gali mein chal.

Be-nur o be-asar hai yahan ki sada-e-saz,
Tha us sukut mein bhi maza us gali mein chal.

“Jalib” pukarti hain wo shola-nawaiyan,
Ye sard rut ye sard hawa us gali mein chal. !!

फिर दिल से आ रही है सदा उस गली में चल,
शायद मिले ग़ज़ल का पता उस गली में चल !

कब से नहीं हुआ है कोई शेर काम का,
ये शेर की नहीं है फ़ज़ा उस गली में चल !

वो बाम ओ दर वो लोग वो रुस्वाइयों के ज़ख़्म,
हैं सब के सब अज़ीज़ जुदा उस गली में चल !

उस फूल के बग़ैर बहुत जी उदास है,
मुझ को भी साथ ले के सबा उस गली में चल !

दुनिया तो चाहती है यूँही फ़ासले रहें,
दुनिया के मशवरों पे न जा उस गली में चल !

बे-नूर ओ बे-असर है यहाँ की सदा-ए-साज़,
था उस सुकूत में भी मज़ा उस गली में चल !

“जालिब” पुकारती हैं वो शोला-नवाइयाँ,
ये सर्द रुत ये सर्द हवा उस गली में चल !!

Nigah-e-naaz ne parde uthaye hain kya kya..

Nigah-e-naaz ne parde uthaye hain kya kya,
Hijab ahl-e-mohabbat ko aaye hain kya kya.

Jahan mein thi bas ek afwah tere jalwon ki,
Charagh-e-dair-o-haram jhilmilaye hain kya kya.

Do-chaar barq-e-tajalli se rahne walon ne,
Fareb narm-nigahi ke khaye hain kya kya.

Dilon pe karte hue aaj aati jati chot,
Teri nigah ne pahlu bachaye hain kya kya.

Nisar nargis-e-mai-gun ki aaj paimane,
Labon tak aaye hue thartharaye hain kya kya.

Wo ek zara si jhalak barq-e-kam-nigahi ki,
Jigar ke zakhm-e-nihan muskuraye hain kya kya.

Charagh-e-tur jale aaina-dar-aina,
Hijab barq-e-ada ne uthaye hain kya kya.

Ba-qadr-e-zauq-e-nazar did-e-husn kya ho magar,
Nigah-e-shauq mein jalwe samaye hain kya kya.

Kahin charagh kahin gul kahin dil-e-barbaad,
Khiram-e-naz ne fitne uthaye hain kya kya.

Taghaful aur badha us ghazal-e-rana ka,
Fusun-e-gham ne bhi jadu jagaye hain kya kya.

Hazar fitna-e-bedar khwab-e-rangin mein,
Chaman mein ghuncha-e-gul-rang laye hain kya kya.

Tere khulus-e-nihan ka to aah kya kahna,
Suluk uchatte bhi dil mein samaye hain kya kya.

Nazar bacha ke tere ishwa-ha-e-pinhan ne,
Dilon mein dard-e-mohabbat uthaye hain kya kya.

Payam-e-husn payam-e-junun payam-e-fana,
Teri nigah ne fasane sunaye hain kya kya.

Tamam husn ke jalwe tamam mahrumi,
Bharam nigah ne apne ganwaye hain kya kya.

“Firaq” rah-e-wafa mein subuk-rawi teri,
Bade-badon ke qadam dagmagaye hain kya kya. !!

निगाह-ए-नाज़ ने पर्दे उठाए हैं क्या क्या,
हिजाब अहल-ए-मोहब्बत को आए हैं क्या क्या !

जहाँ में थी बस इक अफ़्वाह तेरे जल्वों की,
चराग़-ए-दैर-ओ-हरम झिलमिलाए हैं क्या क्या !

दो-चार बर्क़-ए-तजल्ली से रहने वालों ने,
फ़रेब नर्म-निगाही के खाए हैं क्या क्या !

दिलों पे करते हुए आज आती जाती चोट,
तेरी निगाह ने पहलू बचाए हैं क्या क्या !

निसार नर्गिस-ए-मय-गूँ कि आज पैमाने,
लबों तक आए हुए थरथराए हैं क्या क्या !

वो इक ज़रा सी झलक बर्क़-ए-कम-निगाही की,
जिगर के ज़ख़्म-ए-निहाँ मुस्कुराए हैं क्या क्या !

चराग़-ए-तूर जले आइना-दर-आईना,
हिजाब बर्क़-ए-अदा ने उठाए हैं क्या क्या !

ब-क़द्र-ए-ज़ौक़-ए-नज़र दीद-ए-हुस्न क्या हो मगर,
निगाह-ए-शौक़ में जल्वे समाए हैं क्या क्या !

कहीं चराग़ कहीं गुल कहीं दिल-ए-बर्बाद,
ख़िराम-ए-नाज़ ने फ़ित्ने उठाए हैं क्या क्या !

तग़ाफ़ुल और बढ़ा उस ग़ज़ाल-ए-रअना का,
फ़ुसून-ए-ग़म ने भी जादू जगाए हैं क्या क्या !

हज़ार फ़ित्ना-ए-बेदार ख़्वाब-ए-रंगीं में,
चमन में ग़ुंचा-ए-गुल-रंग लाए हैं क्या क्या !

तेरे ख़ुलूस-ए-निहाँ का तो आह क्या कहना,
सुलूक उचटटे भी दिल में समाए हैं क्या क्या !

नज़र बचा के तेरे इश्वा-हा-ए-पिन्हाँ ने,
दिलों में दर्द-ए-मोहब्बत उठाए हैं क्या क्या !

पयाम-ए-हुस्न पयाम-ए-जुनूँ पयाम-ए-फ़ना,
तेरी निगाह ने फ़साने सुनाए हैं क्या क्या !

तमाम हुस्न के जल्वे तमाम महरूमी,
भरम निगाह ने अपने गँवाए हैं क्या क्या !

“फ़िराक़” राह-ए-वफ़ा में सुबुक-रवी तेरी,
बड़े-बड़ों के क़दम डगमगाए हैं क्या क्या !!

Ab ke yun dil ko saza di hum ne..

Ab ke yun dil ko saza di hum ne,
Uss ki har baat bhula di hum ne.

Ek ek phool bahut yaad aya,
Shakh-e-gul jab woh jala di hum ne.

Aaj tak jis pe woh sharmaate hain,
Baat woh kab ki bhula di hum ne.

Shehar-e jahan raakh se aabaad hua,
Aag jab dil ki bujha di hum ne.

Aaj phir yaad bahut aaye wo,
Aaj phir uss ko dua di hum ne.

Koi toh baat uss mein bhi hai “Faiz”,
Har khushi jis par luta di hum ne. !!

अब के यूँ दिल को सजा दी हम ने,
उस की हर बात भुला दी हम ने !

एक एक फूल बहुत याद आया,
शख-ए-गुल जब जला दी हम ने !

आज तक जिस पे वो शर्माते हैं,
बात वह कब की भुला दी हम ने !

शहर-ए-जहाँ राख से आबाद हुआ,
आग जब दिल की बुझा दी हम ने

आज फिर याद बहुत आये वो,
आज फिर उस को दुआ दी हम ने !

कोई तो बात उस में भी है “फैज”,
हर ख़ुशी जिस पर लूटा दी हम ने !!

Tumhare khat mein naya ek salam kis ka tha..

Tumhare khat mein naya ek salam kis ka tha,
Na tha raqib to aakhir wo naam kis ka tha.

Wo qatal kar ke mujhe har kisi se puchhte hain,
Ye kaam kis ne kiya hai ye kaam kis ka tha.

Wafa karenge nibahenge baat manenge,
Tumhein bhi yaad hai kuchh ye kalam kis ka tha.

Raha na dil mein wo bedard aur dard raha,
Muqim kaun hua hai maqam kis ka tha.

Na puchh-gachh thi kisi ki wahan na aaw-bhagat,
Tumhari bazm mein kal ehtimam kis ka tha.

Tamam bazm jise sun ke rah gayi mushtaq,
Kaho wo tazkira-e-na-tamam kis ka tha.

Hamare khat ke to purze kiye padha bhi nahi,
Suna jo tune ba-dil wo payam kis ka tha.

Uthai kyun na qayamat adu ke kuche mein,
Lihaz aap ko waqt-e-khiram kis ka tha.

Guzar gaya wo zamana kahun to kis se kahun,
Khayal dil ko mere subh o sham kis ka tha.

Hamein to hazrat-e-waiz ki zid ne pilwai,
Yahan irada-e-sharb-e-mudam kis ka tha.

Agarche dekhne wale tere hazaron the,
Tabah-haal bahut zer-e-baam kis ka tha.

Wo kaun tha ki tumhein jis ne bewafa jaana,
Khayal-e-kham ye sauda-e-kham kis ka tha.

Inhin sifat se hota hai aadmi mashhur,
Jo lutf aam wo karte ye naam kis ka tha.

Har ek se kahte hain kya “Daagh” bewafa nikla,
Ye puchhe unse koi wo ghulam kis ka tha. !!

तुम्हारे ख़त में नया इक सलाम किस का था,
न था रक़ीब तो आख़िर वो नाम किस का था !

वो क़त्ल कर के मुझे हर किसी से पूछते हैं,
ये काम किस ने किया है ये काम किस का था !

वफ़ा करेंगे निबाहेंगे बात मानेंगे,
तुम्हें भी याद है कुछ ये कलाम किस का था !

रहा न दिल में वो बेदर्द और दर्द रहा,
मुक़ीम कौन हुआ है मक़ाम किस का था !

न पूछ-गछ थी किसी की वहाँ न आव-भगत,
तुम्हारी बज़्म में कल एहतिमाम किस का था !

तमाम बज़्म जिसे सुन के रह गई मुश्ताक़,
कहो वो तज़्किरा-ए-ना-तमाम किस का था !

हमारे ख़त के तो पुर्ज़े किए पढ़ा भी नहीं,
सुना जो तूने ब-दिल वो पयाम किस का था !

उठाई क्यूँ न क़यामत अदू के कूचे में,
लिहाज़ आप को वक़्त-ए-ख़िराम किस का था !

गुज़र गया वो ज़माना कहूँ तो किस से कहूँ,
ख़याल दिल को मिरे सुब्ह ओ शाम किस का था !

हमें तो हज़रत-ए-वाइज़ की ज़िद ने पिलवाई,
यहाँ इरादा-ए-शर्ब-ए-मुदाम किस का था !

अगरचे देखने वाले तिरे हज़ारों थे,
तबाह-हाल बहुत ज़ेर-ए-बाम किस का था !

वो कौन था कि तुम्हें जिस ने बेवफ़ा जाना,
ख़याल-ए-ख़ाम ये सौदा-ए-ख़ाम किस का था !

इन्हीं सिफ़ात से होता है आदमी मशहूर,
जो लुत्फ़ आम वो करते ये नाम किस का था !

हर इक से कहते हैं क्या “दाग़” बेवफ़ा निकला,
ये पूछे उनसे कोई वो ग़ुलाम किस का था !!

Aashiq samajh rahe hain mujhe dil lagi se aap..

Aashiq samajh rahe hain mujhe dil lagi se aap,
Waqif nahi abhi mere dil ki lagi se aap.

Dil bhi kabhi mila ke mile hain kisi se aap,
Milne ko roz milte hain yun to sabhi se aap.

Sab ko jawab degi nazar hasb-e-muddaa,
Sun lije sab ki baat na kije kisi se aap.

Marna mera ilaj to be-shak hai soch lun,
Ye dosti se kahte hain ya dushmani se aap.

Hoga juda ye hath na gardan se wasl mein,
Darta hun ud na jayen kahin nazuki se aap.

Zahid khuda gawah hai hote falak par aaj,
Lete khuda ka naam agar aashiqi se aap.

Ab ghurne se fayeda bazm-e-raqib mein,
Dil par chhuri to pher chuke be-rukhi se aap.

Dushman ka zikr kya hai jawab us ka dijiye,
Raste mein kal mile the kisi aadmi se aap.

Shohrat hai mujh se husan ki is ka mujhe hai rashk,
Hote hain mustafiz meri zindagi se aap.

Dil to nahi kisi ka tujhe todte hain hum,
Pahle chaman mein puchh len itna kali se aap.

Main bewafa hun ghair nihayat wafa shiar,
Mera salam lije milein ab usi se aap.

Aadhi to intezar hi mein shab guzar gayi,
Us par ye turra so bhi rahenge abhi se aap.

Badla ye rup aap ne kya bazm-e-ghair mein,
Ab tak meri nigah mein hain ajnabi se aap.

Parde mein dosti ke sitam kis qadar huye,
Main kya bataun puchhiye ye apne ji se aap.

Ai shaikh aadmi ke bhi darje hain mukhtalif,
Insan hain zarur magar wajibi se aap.

Mujh se salah li na ijazat talab huyi,
Be-wajh ruth baithe hain apni khushi se aap.

“Bekhud” yahi to umar hai aish o nashat ki,
Dil mein na apne tauba ki thanen abhi se aap. !!

आशिक़ समझ रहे हैं मुझे दिल लगी से आप,
वाक़िफ़ नहीं अभी मिरे दिल की लगी से आप !

दिल भी कभी मिला के मिले हैं किसी से आप,
मिलने को रोज़ मिलते हैं यूँ तो सभी से आप !

सब को जवाब देगी नज़र हस्ब-ए-मुद्दआ,
सुन लीजे सब की बात न कीजे किसी से आप !

मरना मिरा इलाज तो बे-शक है सोच लूँ,
ये दोस्ती से कहते हैं या दुश्मनी से आप !

होगा जुदा ये हाथ न गर्दन से वस्ल में,
डरता हूँ उड़ न जाएँ कहीं नाज़ुकी से आप !

ज़ाहिद ख़ुदा गवाह है होते फ़लक पर आज,
लेते ख़ुदा का नाम अगर आशिक़ी से आप !

अब घूरने से फ़ाएदा बज़्म-ए-रक़ीब में,
दिल पर छुरी तो फेर चुके बे-रुख़ी से आप !

दुश्मन का ज़िक्र क्या है जवाब उस का दीजिए,
रस्ते में कल मिले थे किसी आदमी से आप !

शोहरत है मुझ से हुस्न की इस का मुझे है रश्क,
होते हैं मुस्तफ़ीज़ मिरी ज़िंदगी से आप !

दिल तो नहीं किसी का तुझे तोड़ते हैं हम,
पहले चमन में पूछ लें इतना कली से आप !

मैं बेवफ़ा हूँ ग़ैर निहायत वफ़ा शिआर,
मेरा सलाम लीजे मिलें अब उसी से आप !

आधी तो इंतिज़ार ही में शब गुज़र गई,
उस पर ये तुर्रा सो भी रहेंगे अभी से आप !

बदला ये रूप आप ने क्या बज़्म-ए-ग़ैर में,
अब तक मिरी निगाह में हैं अजनबी से आप !

पर्दे में दोस्ती के सितम किस क़दर हुए,
मैं क्या बताऊँ पूछिए ये अपने जी से आप !

ऐ शैख़ आदमी के भी दर्जे हैं मुख़्तलिफ़,
इंसान हैं ज़रूर मगर वाजिबी से आप !

मुझ से सलाह ली न इजाज़त तलब हुई,
बे-वजह रूठ बैठे हैं अपनी ख़ुशी से आप !

“बेख़ुद” यही तो उम्र है ऐश ओ नशात की,
दिल में न अपने तौबा की ठानें अभी से आप !!