Home / Sad Poetry

Sad Poetry

Wo mere haal pe roya bhi muskuraya bhi..

Wo mere haal pe roya bhi muskuraya bhi,
Ajib shakhs hai apna bhi hai paraya bhi.

Ye intezaar sahar ka tha ya tumhara tha,
Deeya jalaya bhi main ne deeya bujhaya bhi.

Main chahta hun thahar jaye chashm-e-dariya mein,
Larazta aks tumhara bhi mera saya bhi.

Bahut mahin tha parda larazti aankhon ka,
Mujhe dikhaya bhi tu ne mujhe chhupaya bhi.

Bayaz bhar bhi gayi aur phir bhi sada hai,
Tumhare naam ko likha bhi aur mitaya bhi. !!

वो मेरे हाल पे रोया भी मुस्कुराया भी,
अजीब शख़्स है अपना भी है पराया भी !

ये इंतिज़ार सहर का था या तुम्हारा था,
दीया जलाया भी मैं ने दीया बुझाया भी !

मैं चाहता हूँ ठहर जाए चश्म-ए-दरिया में,
लरज़ता अक्स तुम्हारा भी मेरा साया भी !

बहुत महीन था पर्दा लरज़ती आँखों का,
मुझे दिखाया भी तू ने मुझे छुपाया भी !

बयाज़ भर भी गई और फिर भी सादा है,
तुम्हारे नाम को लिखा भी और मिटाया भी !!

 

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya..

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya,
Wo juda hote hue kuchh phool basi de gaya.

Noch kar shakhon ke tan se khushk patton ka libas,
Zard mausam banjh-rut ko be-libasi de gaya.

Subh ke tare meri pahli dua tere liye,
Tu dil-e-be-sabr ko taskin zara si de gaya.

Log malbon mein dabe saye bhi dafnane lage,
Zalzala ahl-e-zamin ko bad-hawasi de gaya.

Tund jhonke ki ragon mein ghol kar apna dhuan,
Ek diya andhi hawa ko khud-shanasi de gaya.

Le gaya “Mohsin” wo mujh se abr banta aasman,
Us ke badle mein zamin sadiyon ki pyasi de gaya. !!

एक पल में ज़िंदगी भर की उदासी दे गया,
वो जुदा होते हुए कुछ फूल बासी दे गया !

नोच कर शाख़ों के तन से ख़ुश्क पत्तों का लिबास,
ज़र्द मौसम बाँझ-रुत को बे-लिबासी दे गया !

सुब्ह के तारे मेरी पहली दुआ तेरे लिए,
तू दिल-ए-बे-सब्र को तस्कीं ज़रा सी दे गया !

लोग मलबों में दबे साए भी दफ़नाने लगे,
ज़लज़ला अहल-ए-ज़मीं को बद-हवासी दे गया !

तुंद झोंके की रगों में घोल कर अपना धुआँ,
एक दिया अंधी हवा को ख़ुद-शनासी दे गया !

ले गया “मोहसिन” वो मुझ से अब्र बनता आसमाँ,
उस के बदले में ज़मीं सदियों की प्यासी दे गया !!

 

Aye wasl kuchh yahan na hua kuchh nahi hua..

Aye wasl kuchh yahan na hua kuchh nahi hua,
Uss jism ki main jaan na hua kuchh nahi hua.

Tu aaj mere ghar mein jo mehmaan hai Eid hai,
Tu ghar ka mezbaan na hua kuchh na hua.

Kholi to hai zaban magar is ki kya bisat,
Main zehar ki dukaan na hua kuchh nahi hua.

Kya ek karobar tha wo rabt-e-jism-o jaan,
Koi bhi raigan na hua kuchh nahi hua.

Kitna jala hua hun bas ab kya bataun main,
Aalam dhuan-dhuan na hua kuchh nahi hua.

Dekha tha jab ki pehle-pehal us ne aaina,
Uss waqt main wahan na hua kuchh nahi hua.

Wo ek jamal jalwa-fishan hai zamin-zamin,
Main ta-ba-aasman na hua kuchh nahi hua.

Maine bas ek nighah mein tayy kar liya tujhe,
Tu rang-e bekaran na hua kuchh nahi hua.

Ghum ho ki jaan tu meri aaghosh-e zaat mein,
Be-naam-o nishan na hua kuchh nahi hua.

Har koi darmiyan hai aye majra-farosh,
Main apne darmiyan na hua kuchh nahi hua. !!

ऐ वस्ल कुछ यहाँ न हुआ कुछ नहीं हुआ,
उस जिस्म की मैं जाँ न हुआ कुछ नहीं हुआ !

तू आज मेरे घर में जो मेहमान है ईद है,
तू घर का मेज़बान न हुआ कुछ नहीं हुआ !

खोली तो है ज़बान मगर इस की क्या बिसात,
मैं ज़हर की दूकान न हुआ कुछ नहीं हुआ !

क्या एक कारोबार था वो रब्त-ए-जिस्म-ओ-जान,
कोई भी राएगाँ न हुआ कुछ नहीं हुआ !

कितना जला हुआ हूँ बस अब क्या बताऊँ मैं,
आलम धुआँ-धुआँ न हुआ कुछ नहीं हुआ !

देखा था जब कि पहले-पहल उस ने आईना,
उस वक़्त मैं वहाँ न हुआ कुछ नहीं हुआ !

वो एक जमाल जलवा-फ़िशाँ है ज़मीन-ज़मीन,
मैं ता-ब-आसमाँ न हुआ कुछ नहीं हुआ !

मैं ने बस एक निगाह में तय कर लिया तुझे,
तू रंग-ए-बेकराँ न हुआ कुछ नहीं हुआ !

गुम हो के जान तू मेरी आग़ोश-ए-ज़ात में,
बे-नाम-ओ-बे-निशान न हुआ कुछ नहीं हुआ !

हर कोई दरमियान है ऐ माजरा-फ़रोश,
मैं अपने दरमियाँ न हुआ कुछ नहीं हुआ !!

 

Nazar hairaan dil veeran mera jee nahi lagta..

Nazar hairaan dil veeran mera jee nahi lagta,
Bichar ke tum se meri jaan mera jee nahi lagta.

Koi bhi to nahi hai jo pukaare raah mein mujh ko,
Hoon main be-naam ek insaan mera jee nahi lagta.

Hai ek inbwa qadmon ka rawaan in shahraahon per,
Nahi meri koi pehchaan mera jee nahi lagta.

Jahan milte the hum tum aur jahan mil kar bicharte the,
Na woh dar hai na woh dhalaan mera jee nahi lagta.

Hon pehchane huye chehre to jee ko aas rehti hai,
Hon chehre hijar ke anjaan mera jee nahi lagta.

Yeh sara shehar ek dasht-e-hajoom-e-be-niyazi hai,
Yahan ka shor hai veeraan mera jee nahi lagta.

Woh aalam hai ke jaise main koi hum-naam hoon apna,
Na hirmaan hai na woh darman mera jee nahi lagta.

Kahin sar hai kahin sauda kahin wehshat kahin sehra,
Kahin main hun kahin samaan mera jee nahi lagta.

Mere hi shehar mein mere muhalle mein mere ghar mein,
Bula lo tum koi mehmaan mera jee nahi lagta.

Main tum ko bhool jaaun bhoolne ka dukh na bhulunga,
Nahi hai khel yeh aasaan mera jee nahi lagta.

Koi paimaan poora ho nahi sakta magar phir bhi,
Karo taaza koi paimaan mera jee nahi lagta.

Kuch aisa hai ke jaise main yahan hun ek zindgani,
Hain saare log zindaan baan mera jee nahi Lagta. !!

नज़र हैरान दिल वीरान मेरा जी नहीं लगता,
बिछड़ के तुम से मेरी जान मेरा जी नहीं लगता !

कोई भी तो नहीं है जो पुकारे राह में मुझ को,
हूँ मैं बे-नाम एक इंसान मेरा जी नहीं लगता !

है एक िंबवा क़दमों का रवां इन शाहराहों पर,
नहीं मेरी कोई पहचान मेरा जी नहीं लगता !

जहाँ मिलते थे हम तुम और जहाँ मिल कर बिछड़ते थे,
न वह दर है न वह ढलान मेरा जी नहीं लगता !

हों पहचाने हुए चेहरे तो जी को आस रहती है,
हों चेहरे हिजर के अन्जान मेरा जी नहीं लगता !

यह सारा शहर एक दश्त-इ-हजूम-इ-बे-नियाज़ी है,
यहाँ का शोर है वीरान मेरा जी नहीं लगता !

वह आलम है के जैसे मैं कोई हम-नाम हूँ अपना,
न हिरमान है न वह दरम्यान मेरा जी नहीं लगता !

कहीं सार है कहीं सौदा कहीं वेह्शत कहीं सेहरा,
कहीं मैं हूँ कहीं सामान मेरा जी नहीं लगता !

मेरे ही शहर में मेरे मोहल्ले में मेरे घर में,
बुला लो तुम कोई मेहमान मेरा जी नहीं लगता !

मैं तुम को भूल जाऊं भूलने का दुःख न भूलूंगा,
नहीं है खेल यह आसान मेरा जी नहीं लगता !

कोई पैमान पूरा हो नहीं सकता मगर फिर भी,
करो ताज़ा कोई पैमान मेरा जी नहीं लगता !

कुछ ऐसा है कि जैसे मैं यहाँ हूँ एक ज़िंदगानी,
हैं सारे लोग ज़िन्दाँ बण मेरा जी नहीं लगता !!

 

Aap apna ghubar the hum to..

Aap apna ghubar the hum to,
Yaad the yaadgar the hum to.

Pardagi hum se kyun rakha parda,
Tere hi parda-dar the hum to.

Waqt ki dhup mein tumhare liye,
Shajar-e-saya-dar the hum to.

Ude jate hain dhul ke maanind,
Aandhiyon par sawar the hum to.

Hum ne kyun khud pe aitbaar kiya,
Sakht be-aitbaar the hum to.

Sharam hai apni baar baari ki,
Be-sabab baar baar the hum to.

Kyun hamein kar diya gaya majboor,
Khud hi be-ikhtiyar the hum to.

Tum ne kaise bhula diya hum ko,
Tum se hi mustaar the hum to.

Khush na aaya hamein jiye jaana,
Lamhe lamhe pe bar the hum to.

Seh bhi lete hamare taanon ko,
Jaan-e-man jaan-nisar the hum to.

Khud ko dauran-e-haal mein apne,
Be-tarah nagawaar the hum to.

Tum ne hum ko bhi kar diya barbaad,
Naadir-e-rozgaar the hum to.

Hum ko yaaron ne yaad bhi na rakha,
“Jaun” yaaron ke yaar the hum to. !!

आप अपना ग़ुबार थे हम तो,
याद थे यादगार थे हम तो !

पर्दगी हम से क्यूँ रखा पर्दा,
तेरे ही पर्दा-दार थे हम तो !

वक़्त की धूप में तुम्हारे लिए,
शजर-ए-साया-दार थे हम तो !

उड़े जाते हैं धूल के मानिंद,
आँधियों पर सवार थे हम तो !

हम ने क्यूँ ख़ुद पे ऐतबार किया,
सख़्त बे-ऐतबार थे हम तो

शर्म है अपनी बार बारी की,
बे-सबब बार बार थे हम तो !

क्यूँ हमें कर दिया गया मजबूर,
ख़ुद ही बे-इख़्तियार थे हम तो !

तुम ने कैसे भुला दिया हम को,
तुम से ही मुस्तआ’र थे हम तो !

ख़ुश न आया हमें जिए जाना,
लम्हे लम्हे पे बार थे हम तो !

सह भी लेते हमारे ता’नों को,
जान-ए-मन जाँ-निसार थे हम तो !

ख़ुद को दौरान-ए-हाल में अपने,
बे-तरह नागवार थे हम तो !

तुम ने हम को भी कर दिया बरबाद,
नादिर-ए-रोज़गार थे हम तो !

हम को यारों ने याद भी न रखा,
“जॉन” यारों के यार थे हम तो !!

 

Wo kaghaz ki kashti wo barish ka pani

Ye daulat bhi le lo ye shohrat bhi le lo
Bhale chhin lo mujh se meri jawani
Magar mujh ko lota do wo bachpan ka sawan
Wo kaghaz ki kashti wo barish ka pani.

Mohalle ki sab se nishani purani
Wo budiya jise bachche kahte the nani
Wo nani ki baaton mein pariyon ka dhera
Wo chehre ki jhuriyon mein sadiyon ka phera
Bhulaye nahi bhul sakta hai koi
Wo choti si raatein wo lambi kahani
Wo kaghaz ki kashti wo barish ka pani.

Khadi dhup mein apne ghar se nikalna
Wo chidiyan wo bulbul wo titli pakadna
Wo gudiyon ki shadi mein ladna-jhagadna
Wo jhulon se girna wo girte sambhlna
Wo pital ke chhanw ke pyare se tohfe
Wo tuti hui chudiyon ki nishani
Wo kaghaz ki kashti wo barish ka paani.

Kabhi ret ke unche tilon pe jaana
Gharaunde banana bana ke mitana
Wo masum chahat ki taswir apni
Wo khwabon khilonon ki jagir apni
Na duniya ka gham tha na rishton ke bandhan
Badi khubsurat thi wo zindgani.

Ye daulat bhi le lo ye shohrat bhi le lo
Bhale chhin lo mujh se meri jawani
Magar mujh ko lota do wo bachpan ka saawan
Wo kaghaz ki kashti wo barish ka paani.

ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो
भले छीन लो मुझ से मेरी जवानी
मगर मुझको लौटा दो वो बचपन का सावन
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी !

मोहल्ले की सबसे निशानी पुरानी
वो बुढ़िया जिसे बच्चे कहते थे नानी
वो नानी की बातों में परियों का डेरा
वो चेहरे की झुरिर्यों में सदियों का फेरा
भुलाए नहीं भूल सकता है कोई
वो छोटी सी रातें वो लम्बी कहानी
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी !

कड़ी धूप में अपने घर से निकलना
वो चिड़िया वो बुलबुल वो तितली पकड़ना
वो गुड़ियों की शादी में लड़ना झगड़ना
वो झूलों से गिरना वो गिरते सम्भलना
वो पीतल के छाँव के प्यारे से तोहफ़े
वो टूटी हुई चूड़ियों की निशानी
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी !

कभी रेत के ऊँचे टीलों पे जाना
घरौंदे बनाना बनाके मिटाना
वो मासूम चाहत की तस्वीर अपनी
वो ख़्वाबों खिलौनों की जागीर अपनी
न दुनिया का ग़म था न रिश्तों के बंधन
बड़ी खूबसूरत थी वो ज़िंदगानी !

ये दौलत भी ले लो ये शोहरत भी ले लो
भले छीन लो मुझ से मेरी जवानी
मगर मुझ को लौटा दो बचपन का सावन
वो काग़ज़ की कश्ती वो बारिश का पानी !

 

Bujha diye hain khud apne hathon mohabbaton ke diye jala ke

Bujha diye hain khud apne hathon mohabbaton ke diye jala ke,
Meri wafa ne ujad di hain umid ki bastiyan basa ke.

Tujhe bhula denge apne dil se ye faisla to kiya hai lekin,
Na dil ko malum hai na hum ko jiyenge kaise tujhe bhula ke.

Kabhi milenge jo raste mein to munh phira kar palat padenge,
Kahin sunenge jo naam tera to chup rahenge nazar jhuka ke.

Na sochne par bhi sochti hun ki zindagani mein kya rahega,
Teri tamanna ko dafn kar ke tere khayalon se dur ja ke. !!

बुझा दिए हैं खुद अपने हाथों मोहब्बतों के दीए जला के,
मेरी वफ़ा ने उजाड़ दी हैं उम्मीद की बस्तियाँ बसा के !

तुझे भुला देंगे अपने दिल से ये फैसला तो किया है लकिन,
न दिल को मालूम है न हम को जिएँगे कैसे तुझे भुला के !

कभी मिलेंगे जो रास्ते में तो मुँह फिराकर पलट पड़ेंगे,
कहीं सुनेंगे जो नाम तेरा तो चुप रहेंगे नज़र झुका के !

न सोचने पर भी सोचती हूँ की जिंदगानी में क्या रहेगा,
तेरी तमन्ना को दफन कर के तेरे ख्यालों से दूर जा के !!