Home / Saaya Shayari

Saaya Shayari

Aankhon se teri zulf ka saya nahi jata..

Aankhon se teri zulf ka saya nahi jata,
Aaram jo dekha hai bhulaya nahi jata.

Allah-re nadan jawani ki umangen,
Jaise koi bazaar sajaya nahi jata.

Aankhon se pilate raho saghar mein na dalo,
Ab hum se koi jaam uthaya nahi jata.

Bole koi hans kar to chhidak dete hain jaan bhi,
Lekin koi ruthe to manaya nahi jata.

Jis tar ko chheden wahi fariyaad-ba-lab hai,
Ab hum se “Adam” saaz bajaya nahi jata. !!

आँखों से तेरी ज़ुल्फ़ का साया नहीं जाता,
आराम जो देखा है भुलाया नहीं जाता !

अल्लाह-रे नादान जवानी की उमंगें,
जैसे कोई बाज़ार सजाया नहीं जाता !

आँखों से पिलाते रहो साग़र में न डालो,
अब हम से कोई जाम उठाया नहीं जाता !

बोले कोई हँस कर तो छिड़क देते हैं जाँ भी,
लेकिन कोई रूठे तो मनाया नहीं जाता !

जिस तार को छेड़ें वही फ़रियाद-ब-लब है,
अब हम से “अदम” साज़ बजाया नहीं जाता !!

 

Shor yunhi na parindon ne machaya hoga..

Shor yunhi na parindon ne machaya hoga,
Koi jungle ki taraf shehar se aaya hoga.

Ped ke katne walon ko ye maloom to tha,
Jism jal jayenge jab sar pe na saaya hoga.

Bani-e-jashn-e-baharan ne ye socha bhi nahi,
Kis ne kanton ko lahoo apna pilaya hoga.

Bijli ke taar pe baitha hua hansta panchhi,
Sochta hai ki woh jungle to paraya hoga.

Apne jungle se jo ghabra ke ude the pyase,
Har saraab un ko samundar nazar aaya hoga. !!

शोर यूँही न परिंदों ने मचाया होगा,
कोई जंगल की तरफ़ शहर से आया होगा !

पेड़ के काटने वालों को ये मालूम तो था,
जिस्म जल जाएँगे जब सर पे न साया होगा !

बानी-ए-जश्न-ए-बहाराँ ने ये सोचा भी नहीं,
किस ने काँटों को लहू अपना पिलाया होगा !

बिजली के तार पे बैठा हुआ हँसता पंछी,
सोचता है कि वो जंगल तो पराया होगा !

अपने जंगल से जो घबरा के उड़े थे प्यासे,
हर सराब उन को समुंदर नज़र आया होगा !!

 

Patthar ke khuda wahan bhi paaye..

Patthar ke khuda wahan bhi paaye,
Hum chaand se aaj laut aaye.

Deewaren to har taraf khadi hain,
Kya ho gaye meharaban saaye.

Jungal ki hawayen aa rahi hain,
Kaghaz ka ye shehar ud na jaye.

Laila ne naya janam liya hai,
Hai qais koi jo dil lagaye.

Hai aaj zameen ka ghusl-e-sehat,
Jis dil mein ho jitna khoon laaye.

Sehra sehra lahoo ke kheme,
Phir pyaase lab-e-furaat aaye. !!

पत्थर के ख़ुदा वहाँ भी पाए,
हम चाँद से आज लौट आए !

दीवारें तो हर तरफ़ खड़ी हैं,
क्या हो गए मेहरबान साए

जंगल की हवाएँ आ रही हैं,
काग़ज़ का ये शहर उड़ न जाए !

लैला ने नया जनम लिया है,
है क़ैस कोई जो दिल लगाए !

है आज ज़मीं का ग़ुस्ल-ए-सेह्हत,
जिस दिल में हो जितना ख़ून लाए !

सहरा-सहरा लहू के खे़मे,
फिर प्यासे लब-ए-फ़ुरात आए !!

 

Be-qarari si be-qarari hai..

Be-qarari si be-qarari hai,
Wasl hai aur firaq tari hai.

Jo guzari na ja saki hum se,
Hum ne wo zindagi guzari hai.

Nighare kya hue ki logon par,
Apna saya bhi ab to bhaari hai.

Bin tumhare kabhi nahi aai,
Kya meri nind bhi tumhari hai.

Aap mein kaise aaun main tujh bin,
Sans jo chal rahi hai aari hai.

Us se kahiyo ki dil ki galiyon mein,
Raat-din teri intizari hai

Hijr ho ya wisaal ho kuchh ho,
Hum hain aur us ki yaadgari hai

Ek mahak samt-e-dil se aai thi,
Main ye samjha teri sawari hai.

Hadson ka hisab hai apna,
Warna har aan sab ki bari hai.

Khush rahe tu ki zindagi apni,
Umar bhar ki umid-wari hai. !!

बे-क़रारी सी बे-क़रारी है,
वस्ल है और फ़िराक़ तारी है !

जो गुज़ारी न जा सकी हम से,
हम ने वो ज़िंदगी गुज़ारी है !

निघरे क्या हुए कि लोगों पर,
अपना साया भी अब तो भारी है !

बिन तुम्हारे कभी नहीं आई,
क्या मेरी नींद भी तुम्हारी है !

आप में कैसे आऊँ मैं तुझ बिन,
साँस जो चल रही है आरी है !

उस से कहियो कि दिल की गलियों में,
रात-दिन तेरी इंतिज़ारी है !

हिज्र हो या विसाल हो कुछ हो,
हम हैं और उस की यादगारी है !

एक महक सम्त-ए-दिल से आई थी,
मैं ये समझा तेरी सवारी है !

हादसों का हिसाब है अपना,
वर्ना हर आन सब की बारी है !

ख़ुश रहे तू कि ज़िंदगी अपनी,
उम्र भर की उमीद-वारी है !!

 

Khud Se Chalkar Nahi Ye Tarz-E-Sukhan Aaya Hai

1.
Khud se chalkar nahi ye tarz-e-sukhan aaya hai,
Paanv daabe hain buzargon ke to fan aaya hai.

ख़ुद से चलकर नहीं ये तर्ज़-ए-सुखन आया है,
पाँव दाबे हैं बुज़र्गों के तो फ़न आया है !

2.
Humein buzurgon ki shafkat kabhi na mil paai,
Natija yah hai ki hum lofaron ke bich rahe.

हमें बुज़ुर्गों की शफ़क़त कभी न मिल पाई,
नतीजा यह है कि हम लोफ़रों के बीच रहे !

3.
Humeen girti hui deewar ko thaame rahe warna,
Salike se buzurgon ki nishani kaun rakhta hai.

हमीं गिरती हुई दीवार को थामे रहे वरना,
सलीके से बुज़ुर्गों की निशानी कौन रखता है !

4.
Ravish buzurgon ki shamil hai meri ghutti mein,
Jarurtan bhi Sakhi ki taraf nahi dekha.

रविश बुज़ुर्गों की शामिल है मेरी घुट्टी में,
ज़रूरतन भी सख़ी की तरफ़ नहीं देखा !

5.
Sadak se gujarte hain to bachche ped ginte hain,
Bade budhe bhi ginte hain wo sukhe ped ginte hain.

सड़क से जब गुज़रते हैं तो बच्चे पेड़ गिनते हैं,
बड़े बूढ़े भी गिनते हैं वो सूखे पेड़ गिनते हैं !

6.
Haweliyon ki chhatein gir gayi magar ab tak,
Mere buzurgon ka nasha nahi utarta hai.

हवेलियों की छतें गिर गईं मगर अब तक,
मेरे बुज़ुर्गों का नश्शा नहीं उतरता है !

7.
Bilakh rahe hain zamino pe bhukh se bachche,
Mere buzurgon ki daulat khandr ke niche hai.

बिलख रहे हैं ज़मीनों पे भूख से बच्चे,
मेरे बुज़ुर्गों की दौलत खण्डर के नीचे है !

8.
Mere buzurgon ko iski khabar nahi shayad,
Panap nahi saka jo ped bargadon mein raha.

मेरे बुज़ुर्गों को इसकी ख़बर नहीं शायद,
पनप नहीं सका जो पेड़ बरगदों में रहा !

9.
Ishq mein raay buzurgon se nahi li jati,
Aag bujhte huye chulhon se nahi li jati.

इश्क़ में राय बुज़ुर्गों से नहीं ली जाती,
आग बुझते हुए चूल्हों से नहीं ली जाती !

10.
Mere buzurgon ka saya tha jab talak mujh par,
Main apni umar se chhota dikhaai deta tha.

मेरे बुज़ुर्गों का साया था जब तलक मुझ पर,
मैं अपनी उम्र से छोटा दिखाई देता था !

11.
Bade-budhe kuyen mein nekiyaan kyon fenk aate hain,
Kuyen mein chhup ke aakhir kyon ye neki baith jati hai.

बड़े-बूढ़े कुएँ में नेकियाँ क्यों फेंक आते हैं,
कुएँ में छुप के आख़िर क्यों ये नेकी बैठ जाती है !

12.
Mujhe itna sataya hai mere apne ajijon ne,
Ki ab jangle bhala lagta hai ghar achcha nahi lagta.

मुझे इतना सताया है मरे अपने अज़ीज़ों ने,
कि अब जंगल भला लगता है घर अच्छा नहीं लगता !

 

Munawwar Rana “Maa” Part 4

1.
Mera bachpan tha mera ghar tha khilaune the mere,
Sar pe Maa-Baap ka saaya bhi ghazal jaisa tha.

मेरा बचपन था मेरा घर था खिलौने थे मेरे,
सर पे माँ-बाप का साया भी ग़ज़ल जैसा था !

2.
Mukaddas muskurahat Maa ke honthon par larzati hai,
Kisi bacche ka jab pahala sipaara khtam hota hai.

मुक़द्दस मुस्कुराहट माँ के होंठों पर लरज़ती है,
किसी बच्चे का जब पहला सिपारा ख़त्म होता है !

3.
Main wo mele mein bhatakta hua ek baccha hun,
Jiske Maa-Baap ko rote hue mar jana hain.

मैं वो मेले में भटकता हुआ इक बच्चा हूँ,
जिसके माँ-बाप को रोते हुए मर जाना है !

4.
Milta-julta hai sabhi maaon se Maa ka chehara,
Gurudwaare ki bhi deewar na girne paye.

मिलता-जुलता हैं सभी माँओं से माँ का चेहरा,
गुरूद्वारे की भी दीवार न गिरने पाये !

5.
Maine kal shab chaahaton ki sab kitabein faad di,
Sirf ek kaagaz pe likha lafz-e-Maa rahane diya.

मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दीं,
सिर्फ़ इक काग़ज़ पे लिक्खा लफ़्ज़-ए-माँ रहने दिया !

6.
Gher lene ko mujhe jab bhi balaayein aa gayi,
Dhaal ban kar saamne Maa ki duayein aa gayi.

घेर लेने को मुझे जब भी बलाएँ आ गईं,
ढाल बन कर सामने माँ की दुआएँ आ गईं !

7.
Maidaan chhod dene se main bach to jaunga,
Lekin jo yah khabar meri Maa tak pahunch gayi.

मैदान छोड़ देने स्र मैं बच तो जाऊँगा,
लेकिन जो ये ख़बर मेरी माँ तक पहुँच गई !

8.
Munawwar ! Maa ke aage yun kabhi khul kar nahi rona,
Jahan buniyaad ho itani nami achchi nahi hoti.

मुनव्वर ! माँ के आगे यूँ कभी खुल कर नहीं रोना,
जहाँ बुनियाद हो इतनी नमी अच्छी नहीं होती !

9.
Mitti lipat-lipat gayi pairon mein isliye,
Taiyaar ho ke bhi kabhi hizrat na kar sake.

मिट्टी लिपट-लिपट गई पैरों से इसलिए,
तैयार हो के भी कभी हिजरत न कर सके !

10.
Muflisi ! bacche ko rone nahi dena warna,
Ek aansoo bhare bazaar ko kha jayega.

मुफ़्लिसी ! बच्चे को रोने नहीं देना वरना,
एक आँसू भरे बाज़ार को खा जाएगा !

11.
Mujhe khabar nahim jannat badi ki Maa lekin,
Log kehate hain ki jannat bashar ke niche hai.

मुझे खबर नहीम जन्नत बड़ी कि माँ लेकिन,
लोग कहते हैं कि जन्नत बशर के नीचे है !

12.
Mujhe kadhe hue takiye ki kya jaroorat hai,
Kisi ka haath abhi mere sar ke niche hai.

मुझे कढ़े हुए तकिये की क्या ज़रूरत है,
किसी का हाथ अभी मेरे सर के नीचे है !

13.
Bujurgon ka mere dil se abhi tak dar nahi jata,
Ki jab tak jagati rehati hai Maa main ghar nahi jata.

बुज़ुर्गों का मेरे दिल से अभी तक डर नहीं जाता,
कि जब तक जागती रहती है माँ मैं घर नहीं जाता !

14.
Mohabbat karte jaao bas yahi sachchi ibaadat hai,
Mohabbat Maa ko bhi Makka-Madina maan leti hai.

मोहब्बत करते जाओ बस यही सच्ची इबादत है,
मोहब्बत माँ को भी मक्का-मदीना मान लेती है !

15.
Maa ye kehati thi ki moti hain humare aansoo,
Isliye ashqon ka pina bhi bura lagta hai.

माँ ये कहती थी कि मोती हैं हमारे आँसू,
इसलिए अश्कों का पीना भी बुरा लगता है !

16.
Pardesh jane wale kabhi laut aayenge,
Lekin is intezaar mein aankhen chali gayi.

परदेस जाने वाले कभी लौट आयेंगे,
लेकिन इस इंतज़ार में आँखें चली गईं !

17.
Shehar ke raste hon chaahe gaon ki pagdandiyan,
Maa ki ungali thaam kar chalna mujhe achcha laga.

शहर के रस्ते हों चाहे गाँव की पगडंडियाँ,
माँ की उँगली थाम कर चलना मुझे अच्छा लगा !

18.
Main koi ehsaan maanu bhi to aakhir kisliye,
Shehar ne daulat agar di hai to beta le liya.

मैं कोई एहसान मानूँ भी तो आख़िर किसलिए,
शहर ने दौलत अगर दी है तो बेटा ले लिया !

19.
Ab bhi raushan hain teri yaad se ghar ke kamre,
Raushani deta hai ab tak tera saya mujhko.

अब भी रौशन हैं तेरी याद से घर के कमरे,
रौशनी देता है अब तक तेरा साया मुझको !

20.
Mere chehare pe mamta ki farawani chamakti hai,
Main budha ho raha hun phir bhi peshani chamakti hai.

मेरे चेहरे पे ममता की फ़रावानी चमकती है,
मैं बूढ़ा हो रहा हूँ फिर भी पेशानी चमकती है !

Aakhiri mulaqat..

Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Do panv bane hariyali par
Ek titli baithi dali par
Kuch jagmag jugnu jangal se
Kuch jhumte hathi baadal se
Ye ek kahani nind bhari
Ek takht pe baithi ek pari
Kuch gin gin karte parwane
Do nanhe nanhe dastane
Kuch udte rangin ghubare
Babbu ke dupatte ke tare
Ye chehra banno budhi ka
Ye tukda maa ki chudi ka
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Alsai hui rut sawan ki
Kuch saundhi khushbu aangan ki
Kuch tuti rassi jhule ki
Ek chot kasakti kulhe ki
Sulgi si angithi jadon mein
Ek chehra kitni aadon mein
Kuch chandni raatein garmi ki
Ek lab par baaten narmi ki
Kuch rup hasin kashanon ka
Kuch rang hare maidanon ka
Kuch haar mahakti kaliyon ke
Kuch nasm watan ki galiyon ke
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch chand chamakte galon ke
Kuch bhanwre kale baalon ke
Kuch nazuk shiknen aanchal ki
Kuch narm lakiren kajal ki
Ek khoi kadi afsanon ki
Do aankhein raushan-danon ki
Ek surkh dulai got lagi
Kya jaane kab ki chot lagi
Ek chhalla phiki rangat ka
Ek loket dil ki surat ka
Rumal kayi resham se kadhe
Wo khat jo kabhi main ne na padhe
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch ujdi mangen shamon ki
Aawaz shikasta jamon ki
Kuch tukde khali botal ke
Kuch ghungru tuti pael ke
Kuch bikhre tinke chilman ke
Kuch purze apne daman ke
Ye tare kuch tharraye hue
Ye git kabhi ke gaye hue
Kuch sher purani ghazlon ke
Unwan adhuri nazmon ke
Tuti huyi ek ashkon ki ladi
Ek khushk qalam ek band ghadi
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch rishte tute tute se
Kuch sathi chhute chhute se
Kuch bigdi bigdi taswirein
Kuch dhundli dhundli tahrirein
Kuch aansu chhalke chhalke se
Kuch moti dhalke dhalke se
Kuch naqsh ye hairan hairan se
Kuch aks ye larzan larzan se
Kuch ujdi ujdi duniya mein
Kuch bhatki bhatki aashaein
Kuch bikhre bikhre sapne hain
Ye ghair nahi sab apne hain
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain. !!

मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

दो पाँव बने हरियाली पर
एक तितली बैठी डाली पर
कुछ जगमग जुगनू जंगल से
कुछ झूमते हाथी बादल से
ये एक कहानी नींद भरी
इक तख़्त पे बैठी एक परी
कुछ गिन गिन करते परवाने
दो नन्हे नन्हे दस्ताने
कुछ उड़ते रंगीं ग़ुबारे
बब्बू के दुपट्टे के तारे
ये चेहरा बन्नो बूढ़ी का
ये टुकड़ा माँ की चूड़ी का
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

अलसाई हुई रुत सावन की
कुछ सौंधी ख़ुश्बू आँगन की
कुछ टूटी रस्सी झूले की
इक चोट कसकती कूल्हे की
सुलगी सी अँगीठी जाड़ों में
इक चेहरा कितनी आड़ों में
कुछ चाँदनी रातें गर्मी की
इक लब पर बातें नरमी की
कुछ रूप हसीं काशानों का
कुछ रंग हरे मैदानों का
कुछ हार महकती कलियों के
कुछ नाम वतन की गलियों के
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ चाँद चमकते गालों के
कुछ भँवरे काले बालों के
कुछ नाज़ुक शिकनें आँचल की
कुछ नर्म लकीरें काजल की
इक खोई कड़ी अफ़्सानों की
दो आँखें रौशन-दानों की
इक सुर्ख़ दुलाई गोट लगी
क्या जाने कब की चोट लगी
इक छल्ला फीकी रंगत का
इक लॉकेट दिल की सूरत का
रूमाल कई रेशम से कढ़े
वो ख़त जो कभी मैंने न पढ़े
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
में ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ उजड़ी माँगें शामों की
आवाज़ शिकस्ता जामों की
कुछ टुकड़े ख़ाली बोतल के
कुछ घुँगरू टूटी पायल के
कुछ बिखरे तिनके चिलमन के
कुछ पुर्ज़े अपने दामन के
ये तारे कुछ थर्राए हुए
ये गीत कभी के गाए हुए
कुछ शेर पुरानी ग़ज़लों के
उनवान अधूरी नज़्मों के
टूटी हुई इक अश्कों की लड़ी
इक ख़ुश्क क़लम इक बंद घड़ी
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ रिश्ते टूटे टूटे से
कुछ साथी छूटे छूटे से
कुछ बिगड़ी बिगड़ी तस्वीरें
कुछ धुँदली धुँदली तहरीरें
कुछ आँसू छलके छलके से
कुछ मोती ढलके ढलके से
कुछ नक़्श ये हैराँ हैराँ से
कुछ अक्स ये लर्ज़ां लर्ज़ां से
कुछ उजड़ी उजड़ी दुनिया में
कुछ भटकी भटकी आशाएँ
कुछ बिखरे बिखरे सपने हैं
ये ग़ैर नहीं सब अपने हैं
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं !!