Home / Raat Shayari

Raat Shayari

Ek nazm-danish war kahlane walo..

Danish-war kahlane walo,
Tum kya samjho,
Mubham chizen kya hoti hain,
Thal ke registan mein rahne wale logo..

Tum kya jaano,
Sawan kya hai,
Apne badan ko,
Raat mein andhi tariki se..

Din mein khud apne hathon se,
Dhanpne walo,
Uryan logo,
Tum kya jaano..

Choli kya hai daman kya hai,
Shahr-badar ho jaane walo,
Footpathon par sone walo,
Tum kya samjho..

Chhat kya hai diwaren kya hain,
Aangan kya hai,
Ek ladki ka khizan-rasida bazu thame,
Nabz ke upar hath jamaye..

Ek sada par kan lagaye,
Dhadkan sansen ginne walo,
Tum kya jaano,
Mubham chizen kya hoti hain..

Dhadkan kya hai jiwan kya hai,
Sattarah-number ke bistar par,
Apni qaid ka lamha lamha ginne wali,
Ye ladki jo..

Barson ki bimar nazar aati hai tum ko,
Sola sal ki ek bewa hai,
Hanste hanste ro padti hai,
Andar tak se bhig chuki hai..

Jaan chuki hai,
Sawan kya hai,
Is se puchho,
Kanch ka bartan kya hota hai..

Is se puchho,
Mubham chizen kya hoti hain,
Suna aangan tanha,
Jiwan kya hota hai..

दानिश-वर कहलाने वालो,
तुम क्या समझो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं,
थल के रेगिस्तान में रहने वाले लोगो..

तुम क्या जानो,
सावन क्या है,
अपने बदन को,
रात में अंधी तारीकी से..

दिन में ख़ुद अपने हाथों से,
ढाँपने वालो,
उर्यां लोगो,
तुम क्या जानो..

चोली क्या है दामन क्या है,
शहर-बदर हो जाने वालो,
फ़ुटपाथों पर सोने वालो,
तुम क्या समझो..

छत क्या है दीवारें क्या हैं,
आँगन क्या है,
एक लड़की का ख़िज़ाँ-रसीदा बाज़ू थामे,
नब्ज़ के ऊपर हाथ जमाए..

एक सदा पर कान लगाए,
धड़कन साँसें गिनने वालो,
तुम क्या जानो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं..

धड़कन क्या है जीवन क्या है,
सत्तरह-नंबर के बिस्तर पर,
अपनी क़ैद का लम्हा लम्हा गिनने वाली,
ये लड़की जो..

बरसों की बीमार नज़र आती है तुम को,
सोला साल की एक बेवा है,
हँसते हँसते रो पड़ती है,
अंदर तक से भीग चुकी है..

जान चुकी है,
सावन क्या है,
इस से पूछो,
काँच का बर्तन क्या होता है..

इस से पूछो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं,
सूना आँगन तन्हा,
जीवन क्या होता है.. !!

 

Ye aur baat ki rang-e-bahaar kam hoga..

Ye aur baat ki rang-e-bahaar kam hoga,
Nayi ruton mein darakhton ka bar kam hoga.

Talluqat mein aayi hai bas ye tabdili,
Milenge ab bhi magar intezaar kam hoga.

Main sochta raha kal raat baith kar tanha,
Ki is hujum mein mera shumar kam hoga.

Palat to aayega shayad kabhi yahi mausam,
Tere baghair magar khush-gawar kam hoga.

Bahut tawil hai “Aanis” ye zindagi ka safar,
Bas ek shakhs pe dar-o-madar kam hoga. !!

ये और बात कि रंग-ए-बहार कम होगा,
नई रुतों में दरख़्तों का बार कम होगा !

तअल्लुक़ात में आई है बस ये तब्दीली,
मिलेंगे अब भी मगर इंतिज़ार कम होगा !

मैं सोचता रहा कल रात बैठ कर तन्हा,
कि इस हुजूम में मेरा शुमार कम होगा !

पलट तो आएगा शायद कभी यही मौसम,
तेरे बग़ैर मगर ख़ुश-गवार कम होगा !

बहुत तवील है “अनीस” ये ज़िंदगी का सफ़र,
बस एक शख़्स पे दार-ओ-मदार कम होगा !!

 

Bahar bhi ab andar jaisa sannata hai..

Bahar bhi ab andar jaisa sannata hai,
Dariya ke us par bhi gehra sannata hai.

Shor thame to shayad sadiyan bit chuki hain,
Ab tak lekin sahma sahma sannata hai.

Kis se bolun ye to ek sahra hai jahan par,
Main hun ya phir gunga behra sannata hai.

Jaise ek tufan se pehle ki khamoshi,
Aaj meri basti mein aisa sannata hai.

Nayi sehar ki chap na jaane kab ubhregi,
Chaaron jaanib raat ka gahra sannata hai.

Soch rahe ho socho lekin bol na padna,
Dekh rahe ho shehar mein kitna sannata hai.

Mehv-e-khwab hain sari dekhne wali aankhen,
Jagne wala bas ek andha sannata hai.

Darna hai to anjaani aawaaz se darna,
Ye to “Aanis” dekha-bhaala sannata hai. !!

बाहर भी अब अंदर जैसा सन्नाटा है,
दरिया के उस पार भी गहरा सन्नाटा है !

शोर थमे तो शायद सदियाँ बीत चुकी हैं,
अब तक लेकिन सहमा सहमा सन्नाटा है !

किस से बोलूँ ये तो एक सहरा है जहाँ पर,
मैं हूँ या फिर गूँगा बहरा सन्नाटा है !

जैसे एक तूफ़ान से पहले की ख़ामोशी,
आज मेरी बस्ती में ऐसा सन्नाटा है !

नई सहर की चाप न जाने कब उभरेगी,
चारों जानिब रात का गहरा सन्नाटा है !

सोच रहे हो सोचो लेकिन बोल न पड़ना,
देख रहे हो शहर में कितना सन्नाटा है !

महव-ए-ख़्वाब हैं सारी देखने वाली आँखें,
जागने वाला बस एक अंधा सन्नाटा है !

डरना है तो अन-जानी आवाज़ से डरना,
ये तो “आनिस” देखा-भाला सन्नाटा है !!

 

Itni muddat baad mile ho..

Itni muddat baad mile ho,
Kin sochon mein gum phirte ho.

Itne khaif kyun rahte ho,
Har aahat se dar jate ho.

Tez hawa ne mujh se puchha,
Ret pe kya likhte rahte ho.

Kash koi hum se bhi puchhe,
Raat gaye tak kyun jage ho.

Main dariya se bhi darta hun,
Tum dariya se bhi gahre ho.

Kaun si baat hai tum mein aisi,
Itne achchhe kyun lagte ho.

Pichhe mud kar kyun dekha tha,
Patthar ban kar kya takte ho.

Jao jit ka jashn manao,
Main jhutha hun tum sachche ho.

Apne shehar ke sab logon se,
Meri khatir kyun uljhe ho.

Kahne ko rahte ho dil mein,
Phir bhi kitne dur khade ho.

Raat hamein kuchh yaad nahi tha,
Raat bahut hi yaad aaye ho.

Hum se na puchho hijr ke kisse,
Apni kaho ab tum kaise ho.

“Mohsin” tum badnam bahut ho,
Jaise ho phir bhi achchhe ho. !!

इतनी मुद्दत बाद मिले हो,
किन सोचों में गुम फिरते हो !

इतने ख़ाइफ़ क्यूँ रहते हो,
हर आहट से डर जाते हो !

तेज़ हवा ने मुझ से पूछा,
रेत पे क्या लिखते रहते हो !

काश कोई हम से भी पूछे,
रात गए तक क्यूँ जागे हो !

में दरिया से भी डरता हूँ,
तुम दरिया से भी गहरे हो !

कौन सी बात है तुम में ऐसी,
इतने अच्छे क्यूँ लगते हो !

पीछे मुड़ कर क्यूँ देखा था,
पत्थर बन कर क्या तकते हो !

जाओ जीत का जश्न मनाओ,
में झूठा हूँ तुम सच्चे हो !

अपने शहर के सब लोगों से,
मेरी ख़ातिर क्यूँ उलझे हो !

कहने को रहते हो दिल में,
फिर भी कितने दूर खड़े हो !

रात हमें कुछ याद नहीं था,
रात बहुत ही याद आए हो !

हम से न पूछो हिज्र के क़िस्से,
अपनी कहो अब तुम कैसे हो !

“मोहसिन” तुम बदनाम बहुत हो,
जैसे हो फिर भी अच्छे हो !!

 

Rang duniya ne dikhaya hai nirala dekhun..

Rang duniya ne dikhaya hai nirala dekhun,
Hai andhere mein ujala to ujala dekhun.

Aaina rakh de mere samne aakhir main bhi,
Kaisa lagta hai tera chahne wala dekhun.

Kal talak wo jo mere sar ki qasam khata tha,
Aaj sar us ne mera kaise uchhaala dekhun.

Mujh se mazi mera kal raat simat kar bola,
Kis tarah main ne yahan khud ko sambhala dekhun.

Jis ke aangan se khule the mere sare raste,
Us haweli pe bhala kaise main tala dekhun. !!

रंग दुनिया ने दिखाया है निराला देखूँ,
है अँधेरे में उजाला तो उजाला देखूँ !

आइना रख दे मेरे सामने आख़िर मैं भी,
कैसा लगता है तेरा चाहने वाला देखूँ !

कल तलक वो जो मेरे सर की क़सम खाता था,
आज सर उस ने मेरा कैसे उछाला देखूँ !

मुझ से माज़ी मेरा कल रात सिमट कर बोला,
किस तरह मैं ने यहाँ ख़ुद को सँभाला देखूँ !

जिस के आँगन से खुले थे मेरे सारे रस्ते,
उस हवेली पे भला कैसे मैं ताला देखूँ !!

 

Aabshaaron ki yaad aati hai

Aabshaaron ki yaad aati hai,
Phir kinaron ki yaad aati hai.

Jo nahi hain magar unhin se hun,
Un nazaron ki yaad aati hai.

Zakhm pahle ubhar ke aate hain,
Phir hazaron ki yaad aati hai.

Aaine mein nihaar kar khud ko,
Kuchh ishaaron ki yaad aati hai.

Aur to mujh ko yaad kya aata,
Un pukaron ki yaad aati hai.

Aasman ki siyah raaton ko,
Ab sitaron ki yaad aati hai. !!

आबशारों की याद आती है,
फिर किनारों की याद आती है !

जो नहीं हैं मगर उन्हीं से हूँ,
उन नज़ारों की याद आती है !

ज़ख़्म पहले उभर के आते हैं,
फिर हज़ारों की याद आती है !

आइने में निहार कर ख़ुद को,
कुछ इशारों की याद आती है !

और तो मुझ को याद क्या आता,
उन पुकारों की याद आती है !

आसमाँ की सियाह रातों को,
अब सितारों की याद आती है !!

 

Phir meri yaad aa rahi hogi..

Phir meri yaad aa rahi hogi,
Phir wo dipak bujha rahi hogi.

Phir mere facebook pe aa kar wo,
Khud ko banner bana rahi hogi.

Apne bete ka chum kar matha,
Mujh ko tika laga rahi hogi.

Phir usi ne use chhua hoga,
Phir usi se nibha rahi hogi.

Jism chadar sa bichh gaya hoga,
Ruh silwat hata rahi hogi.

Phir se ek raat kat gayi hogi,
Phir se ek raat aa rahi hogi. !!

फिर मेरी याद आ रही होगी,
फिर वो दीपक बुझा रही होगी !

फिर मेरे फेसबुक पे आ कर वो,
ख़ुद को बैनर बना रही होगी !

अपने बेटे का चूम कर माथा,
मुझ को टीका लगा रही होगी !

फिर उसी ने उसे छुआ होगा,
फिर उसी से निभा रही होगी !

जिस्म चादर सा बिछ गया होगा,
रूह सिलवट हटा रही होगी !

फिर से एक रात कट गई होगी,
फिर से एक रात आ रही होगी !!