Home / Raasta Shayari

Raasta Shayari

Ajab rang aankhon mein aane lage..

Ajab rang aankhon mein aane lage,
Humein raste phir bulane lage.

Ek afwah gardish mein hai in dinon,
Ki dariya kinaron ko khane lage.

Ye kya yak-ba-yak ho gaya qissa-go,
Humein aap-biti sunane lage.

Shagun dekhen ab ke nikalta hai kya,
Wo phir khwab mein badbadane lage.

Har ek shakhs rone laga phut ke,
Ki “Aashufta”- ji bhi thikane lage. !!

अजब रंग आँखों में आने लगे,
हमें रास्ते फिर बुलाने लगे !

एक अफ़्वाह गर्दिश में है इन दिनों,
कि दरिया किनारों को खाने लगे !

ये क्या यक-ब-यक हो गया क़िस्सा-गो,
हमें आप-बीती सुनाने लगे !

शगुन देखें अब के निकलता है क्या,
वो फिर ख़्वाब में बड़बड़ाने लगे !

हर एक शख़्स रोने लगा फूट के,
कि “आशुफ़्ता” जी भी ठिकाने लगे !!

 

Jab se us ne shehar ko chhoda har rasta sunsan hua..

Jab se us ne shehar ko chhoda har rasta sunsan hua,
Apna kya hai sare shehar ka ek jaisa nuqsan hua.

Ye dil ye aaseb ki nagri maskan sochun wahmon ka,
Soch raha hun is nagri mein tu kab se mehman hua.

Sahra ki munh-zor hawayen auron se mansub hui,
Muft mein hum aawara thahre muft mein ghar viran hua.

Mere haal pe hairat kaisi dard ke tanha mausam mein,
Patthar bhi ro padte hain insan to phir insan hua.

Itni der mein ujde dil par kitne mahshar bit gaye,
Jitni der mein tujh ko pa kar khone ka imkan hua.

Kal tak jis ke gird tha raqsan ek amboh sitaron ka,
Aaj usi ko tanha pa kar main to bahut hairan hua.

Us ke zakhm chhupa kar rakhiye khud us shakhs ki nazron se,
Us se kaisa shikwa kije wo to abhi nadan hua.

Jin ashkon ki phiki lau ko hum be-kar samajhte the,
Un ashkon se kitna raushan ek tarik makan hua.

Yun bhi kam-amez tha “Mohsin” wo is shehar ke logon mein,
Lekin mere samne aa kar aur bhi kuchh anjaan hua. !!

जब से उस ने शहर को छोड़ा हर रस्ता सुनसान हुआ,
अपना क्या है सारे शहर का एक जैसा नुक़सान हुआ !

ये दिल ये आसेब की नगरी मस्कन सोचूँ वहमों का,
सोच रहा हूँ इस नगरी में तू कब से मेहमान हुआ !

सहरा की मुँह-ज़ोर हवाएँ औरों से मंसूब हुईं,
मुफ़्त में हम आवारा ठहरे मुफ़्त में घर वीरान हुआ !

मेरे हाल पे हैरत कैसी दर्द के तन्हा मौसम में,
पत्थर भी रो पड़ते हैं इंसान तो फिर इंसान हुआ !

इतनी देर में उजड़े दिल पर कितने महशर बीत गए,
जितनी देर में तुझ को पा कर खोने का इम्कान हुआ !

कल तक जिस के गिर्द था रक़्साँ एक अम्बोह सितारों का,
आज उसी को तन्हा पा कर मैं तो बहुत हैरान हुआ !

उस के ज़ख़्म छुपा कर रखिए ख़ुद उस शख़्स की नज़रों से,
उस से कैसा शिकवा कीजे वो तो अभी नादान हुआ !

जिन अश्कों की फीकी लौ को हम बे-कार समझते थे,
उन अश्कों से कितना रौशन एक तारीक मकान हुआ !

यूँ भी कम-आमेज़ था “मोहसिन” वो इस शहर के लोगों में,
लेकिन मेरे सामने आ कर और भी कुछ अंजान हुआ !!

 

Zikr-e-shab-e-firaq se wahshat use bhi thi..

Zikr-e-shab-e-firaq se wahshat use bhi thi,
Meri tarah kisi se mohabbat use bhi thi.

Mujh ko bhi shauq tha naye chehron ki did ka,
Rasta badal ke chalne ki aadat use bhi thi.

Is raat der tak wo raha mahw-e-guftugu,
Masruf main bhi kam tha faraghat use bhi thi.

Mujh se bichhad ke shehar mein ghul-mil gaya wo shakhs,
Haalanki shehar-bhar se adawat use bhi thi.

Wo mujh se badh ke zabt ka aadi tha ji gaya,
Warna har ek sans qayamat use bhi thi.

Sunta tha wo bhi sab se purani kahaniyan,
Shayad rafaqaton ki zarurat use bhi thi.

Tanha hua safar mein to mujh pe khula ye bhed,
Saye se pyar dhup se nafrat use bhi thi.

“Mohsin” main us se kah na saka yun bhi haal dil,
Darpesh ek taza musibat use bhi thi. !!

ज़िक्र-ए-शब-ए-फ़िराक़ से वहशत उसे भी थी,
मेरी तरह किसी से मोहब्बत उसे भी थी !

मुझ को भी शौक़ था नए चेहरों की दीद का,
रस्ता बदल के चलने की आदत उसे भी थी !

इस रात देर तक वो रहा महव-ए-गुफ़्तुगू,
मसरूफ़ मैं भी कम था फ़राग़त उसे भी थी !

मुझ से बिछड़ के शहर में घुल-मिल गया वो शख़्स,
हालाँकि शहर-भर से अदावत उसे भी थी !

वो मुझ से बढ़ के ज़ब्त का आदी था जी गया,
वर्ना हर एक साँस क़यामत उसे भी थी !

सुनता था वो भी सब से पुरानी कहानियाँ,
शायद रफ़ाक़तों की ज़रूरत उसे भी थी !

तन्हा हुआ सफ़र में तो मुझ पे खुला ये भेद,
साए से प्यार धूप से नफ़रत उसे भी थी !

“मोहसिन” मैं उस से कह न सका यूँ भी हाल दिल,
दरपेश एक ताज़ा मुसीबत उसे भी थी !!

 

Bhadkaye meri pyas ko aksar teri aankhen..

Bhadkaye meri pyas ko aksar teri aankhen,
Sahra mera chehra hai samundar teri aankhen.

Phir kaun bhala dad-e-tabassum unhen dega,
Roengi bahut mujh se bichhad kar teri aankhen.

Khali jo hui sham-e-ghariban ki hatheli,
Kya-kya na lutati rahin gauhar teri aankhen.

Bojhal nazar aati hain ba-zahir mujhe lekin,
Khulti hain bahut dil mein utar kar teri aankhen.

Ab tak meri yaadon se mitaye nahi mitta,
Bhigi hui ek sham ka manzar teri aankhen.

Mumkin ho to ek taza ghazal aur bhi kah lun,
Phir odh na len khwab ki chadar teri aankhen.

Main sang-sifat ek hi raste mein khada hun,
Shayad mujhe dekhengi palat kar teri aankhen.

Yun dekhte rahna use achchha nahi “Mohsin”,
Wo kanch ka paikar hai to patthar teri aankhen. !!

भड़काएँ मेरी प्यास को अक्सर तेरी आँखें,
सहरा मेरा चेहरा है समुंदर तेरी आँखें !

फिर कौन भला दाद-ए-तबस्सुम उन्हें देगा,
रोएँगी बहुत मुझ से बिछड़ कर तेरी आँखें !

ख़ाली जो हुई शाम-ए-ग़रीबाँ की हथेली,
क्या-क्या न लुटाती रहीं गौहर तेरी आँखें !

बोझल नज़र आती हैं ब-ज़ाहिर मुझे लेकिन,
खुलती हैं बहुत दिल में उतर कर तेरी आँखें !

अब तक मेरी यादों से मिटाए नहीं मिटता,
भीगी हुई एक शाम का मंज़र तेरी आँखें !

मुमकिन हो तो एक ताज़ा ग़ज़ल और भी कह लूँ,
फिर ओढ़ न लें ख़्वाब की चादर तेरी आँखें !

मैं संग-सिफ़त एक ही रस्ते में खड़ा हूँ,
शायद मुझे देखेंगी पलट कर तेरी आँखें !

यूँ देखते रहना उसे अच्छा नहीं “मोहसिन”,
वो काँच का पैकर है तो पत्थर तेरी आँखें !!

 

Rang duniya ne dikhaya hai nirala dekhun..

Rang duniya ne dikhaya hai nirala dekhun,
Hai andhere mein ujala to ujala dekhun.

Aaina rakh de mere samne aakhir main bhi,
Kaisa lagta hai tera chahne wala dekhun.

Kal talak wo jo mere sar ki qasam khata tha,
Aaj sar us ne mera kaise uchhaala dekhun.

Mujh se mazi mera kal raat simat kar bola,
Kis tarah main ne yahan khud ko sambhala dekhun.

Jis ke aangan se khule the mere sare raste,
Us haweli pe bhala kaise main tala dekhun. !!

रंग दुनिया ने दिखाया है निराला देखूँ,
है अँधेरे में उजाला तो उजाला देखूँ !

आइना रख दे मेरे सामने आख़िर मैं भी,
कैसा लगता है तेरा चाहने वाला देखूँ !

कल तलक वो जो मेरे सर की क़सम खाता था,
आज सर उस ने मेरा कैसे उछाला देखूँ !

मुझ से माज़ी मेरा कल रात सिमट कर बोला,
किस तरह मैं ने यहाँ ख़ुद को सँभाला देखूँ !

जिस के आँगन से खुले थे मेरे सारे रस्ते,
उस हवेली पे भला कैसे मैं ताला देखूँ !!

 

Khar-o-khas to uthen rasta to chale

Khar-o-khas to uthen rasta to chale,
Main agar thak gaya qafila to chale.

Chaand suraj buzurgon ke naqsh-e-qadam,
Khair bujhne do un ko hawa to chale.

Hakim-e-shahr ye bhi koi shahr hai,
Masjiden band hain mai-kada to chale.

Us ko mazhab kaho ya siyasat kaho,
Khud-kushi ka hunar tum sikha to chale.

Itni lashein main kaise utha paunga,
Aap inton ki hurmat bacha to chale.

Belche lao kholo zameen ki tahen,
Main kahan dafn hun kuchh pata to chale. !!

ख़ार-ओ-ख़स तो उठें रास्ता तो चले,
मैं अगर थक गया क़ाफ़िला तो चले !

चाँद सूरज बुज़ुर्गों के नक़्श-ए-क़दम,
ख़ैर बुझने दो उन को हवा तो चले !

हाकिम-ए-शहर ये भी कोई शहर है,
मस्जिदें बंद हैं मय-कदा तो चले !

उस को मज़हब कहो या सियासत कहो,
ख़ुद-ख़ुशी का हुनर तुम सिखा तो चले !

इतनी लाशें मैं कैसे उठा पाऊँगा,
आप ईंटों की हुरमत बचा तो चले !

बेलचे लाओ खोलो ज़मीन की तहें,
मैं कहाँ दफ़्न हूँ कुछ पता तो चले !!

 

Aankh mein pani rakho honton pe chingari rakho..

Aankh mein paani rakho honton pe chingari rakho,
Zinda rahna hai to tarkiben bahut sari rakho.

Raah ke patthar se badh kar kuch nahi hain manzilen,
Raste aawaz dete hain safar jari rakho.

Ek hi nadi ke hain ye do kinare dosto,
Dostana zindagi se maut se yaari rakho.

Aate jate pal ye kehte hain humare kaan mein,
Kuch ka ailan hone ko hai tayyari rakho.

Ye zaruri hai ki aankhon ka bharam qayam rahe,
Nind rakho ya na rakho khwab mein yaari rakho.

Ye hawayen udd na jayen le ke kaghaz ka badan,
Dosto mujh par koi patthar zara bhaari rakho.

Le to aaye shayari bazaar mein “Rahat” Miyan,
Kya zaruri hai ki lehje ko bazari rakho. !!

आँख में पानी रखो होंठों पे चिंगारी रखो,
जिंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो !

राह के पत्थर से बढ़ कर कुछ नहीं हैं मंज़िलें,
रास्ते आवाज़ देते हैं सफर जारी रखो !

एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तों,
दोस्ताना ज़िन्दगी से मौत से यारी रखो !

आते जाते पल ये कहते हैं हमारे कान में,
कुछ का ऐलान होने को है तैयारी रखो !

ये ज़रूरी है की आँखों का भरम कायम रहे,
नींद रखो या न रखो ख्वाब मे यारी रखो !

ये हवाएं उड़ न जाएँ ले के काग़ज़ का बदन,
दोस्तों मुझ पर कोई पत्थर ज़रा भारी रखो !

ले तो आये शायरी बाजार में “राहत” मियाँ,
क्या जरूरी है कि लहजे को बाज़ारी रखो !!