Thursday , April 9 2020

Raasta Shayari

Koi Na Jaan Saka Wo Kaha Se Aaya Tha..

Koi na jaan saka wo kaha se aaya tha,
Aur usne dhoop se badal ko kyon milaya tha.

Ye baat logon ko shayad pasand aayi nahi,
Makaan chhota tha lekin bahut sajaya tha.

Wo ab wahan hain jahan raste nahi jate,
Main jiske saath yahaan pichhle saal aaya tha.

Suna hai uspe chahakne lage parinde bhi,
Wo ek pauda jo hamne kabhi lagaya tha.

Chiraagh doob gaye Kapkapaye honton par,
Kisi ka haath humaare labon tak aaya tha.

Badan ko chhod ke jana hai aasman ki taraf,
Samandaron ne hamein ye sabaq padaya tha.

Tamaam umar mera dam isi dhuein mein ghuta,
Wo ek chiraagh tha maine use bujhaaya tha. !!

कोई न जान सका वो कहाँ से आया था,
और उसने धुप से बादल को क्यों मिलाया था !

यह बात लोगों को शायद पसंद आयी नहीं,
मकान छोटा था लेकिन बहुत सजाया था !

वो अब वहाँ हैं जहाँ रास्ते नहीं जाते,
मैं जिसके साथ यहाँ पिछले साल आया था !

सुना है उस पे चहकने लगे परिंदे भी,
वो एक पौधा जो हमने कभी लगाया था !

चिराग़ डूब गए कपकपाये होंठों पर,
किसी का हाथ हमारे लबों तक आया था !

तमाम उम्र मेरा दम इसी धुएं में घुटा,
वो एक चिराग़ था मैंने उसे बुझाया था !! -Bashir Badr Ghazal

 

Sar Jhukaoge To Patthar Devta Ho Jayega..

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega

 

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega,
Itna mat chaho use wo bewafa ho jayega.

Hum bhi dariya hain hamein apna hunar malum hai,
Jis taraf bhi chal padenge rasta ho jayega.

Kitni sachchai se mujh se zindagi ne kah diya,
Tu nahin mera to koi dusra ho jayega.

Main khuda ka naam lekar pi raha hun dosto,
Zahar bhi is mein agar hoga dawa ho jayega.

Sab usi ke hain hawa khushboo zamin-o-aasman,
Main jahan bhi jaunga us ko pata ho jayega. !!

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा,
इतना मत चाहो उसे वो बेवफ़ा हो जाएगा !

हम भी दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है,
जिस तरफ भी चल पड़ेंगे रास्ता हो जाएगा !

कितनी सच्चाई से मुझसे ज़िन्दगी ने कह दिया,
तू नहीं मेरा तो कोई दूसरा हो जाएगा !

मैं खुदा का नाम लेकर पी रहा हूं दोस्तों,
ज़हर भी इसमें अगर होगा दवा हो जाएगा !

सब उसी के हैं हवा ख़ुशबू ज़मीन-ओ-आसमां
मैं जहां भी जाऊंगा, उसको पता हो जाएगा !! -Bashir Badr Ghazal

 

Charaghon Ko Uchhala Ja Raha Hai..

Charaghon ko uchhala ja raha hai,
Hawa par raub dala ja raha hai.

Na haar apni na apni jeet hogi,
Magar sikka uchhala ja raha hai.

Woh dekho maikade ke raste mein,
Koi allaah wala ja raha hai.

The pehle hi kayi saanp aastin mein,
Ab ek bichchhu bhi pala ja raha hai.

Mere jhute gilason ki chhaka kar,
Behakton ko sambhaala ja raha hai.

Hamin buniyaad ka patthar hain lekin,
Hamein ghar se nikala ja raha hai.

Janaze par mere likh dena yaro,
Mohabbat karne wala ja raha hai. !!

चराग़ों को उछाला जा रहा है,
हवा पर रोब डाला जा रहा है !

न हार अपनी न अपनी जीत होगी,
मगर सिक्का उछाला जा रहा है !

वो देखो मय-कदे के रास्ते में,
कोई अल्लाह-वाला जा रहा है !

थे पहले ही कई साँप आस्तीं में,
अब इक बिच्छू भी पाला जा रहा है !

मेरे झूटे गिलासों की छका कर,
बहकतों को सँभाला जा रहा है !

हमीं बुनियाद का पत्थर हैं लेकिन,
हमें घर से निकाला जा रहा है !

जनाज़े पर मेरे लिख देना यारो
मोहब्बत करने वाला जा रहा है !! -Rahat Indori Ghazal

 

Ghar Se Ye Soch Ke Nikla Hun Ki Mar Jaana Hai

Ghar se ye soch ke nikla hun ki mar jaana hai,
Ab koi raah dikha de ki kidhar jaana hai.

Jism se saath nibhane ki mat ummid rakho,
Is musafir ko to raste mein thahar jaana hai.

Maut lamhe ki sada zindagi umron ki pukar,
Main yahi soch ke zinda hun ki mar jaana hai.

Nashsha aisa tha ki mai-khane ko duniya samjha,
Hosh aaya to khayal aaya ki ghar jaana hai.

Mere jazbe ki badi qadar hai logon mein magar,
Mere jazbe ko mere sath hi mar jaana hai. !!

घर से ये सोच के निकला हूँ कि मर जाना है,
अब कोई राह दिखा दे कि किधर जाना है !

जिस्म से साथ निभाने की मत उम्मीद रखो,
इस मुसाफिर को तो रास्ते में ठहर जाना है !

मौत लम्हे की सदा ज़िंदगी उम्रों की पुकार,
मैं यही सोच के ज़िंदा हूँ की मर जाना है !

नश्शा ऐसा था की मय-खाने को दुनिया समझा,
होश आया तो ख़याल आया की घर जाना है !

मेरे जज़्बे की बड़ी कद्र हैं लोगों में मगर,
मेरे ज़ज्बें को मेरे साथ ही मर जाना है !! -Rahat Indori Ghazal

 

Is se pahle ki bewafa ho jayen..

Is se pahle ki be-wafa ho jayen,
Kyun na aye dost hum juda ho jayen.

Tu bhi hire se ban gaya patthar,
Hum bhi kal jaane kya se kya ho jayen.

Tu ki yakta tha be-shumar hua,
Hum bhi tuten to ja-ba-ja ho jayen.

Hum bhi majburiyon ka uzr karen,
Phir kahin aur mubtala ho jayen.

Hum agar manzilen na ban paye,
Manzilon tak ka rasta ho jayen.

Der se soch mein hain parwane,
Rakh ho jayen ya hawa ho jayen.

Ishq bhi khel hai nasibon ka,
Khak ho jayen kimiya ho jayen.

Ab ke gar tu mile to hum tujh se,
Aise lipten teri qaba ho jayen.

Bandagi hum ne chhod di hai “Faraz”,
Kya karen log jab khuda ho jayen. !!

इस से पहले कि बे-वफ़ा हो जाएँ,
क्यूँ न ऐ दोस्त हम जुदा हो जाएँ !

तू भी हीरे से बन गया पत्थर,
हम भी कल जाने क्या से क्या हो जाएँ !

तू कि यकता था बे-शुमार हुआ,
हम भी टूटें तो जा-ब-जा हो जाएँ !

हम भी मजबूरियों का उज़्र करें,
फिर कहीं और मुब्तला हो जाएँ !

हम अगर मंज़िलें न बन पाए,
मंज़िलों तक का रास्ता हो जाएँ !

देर से सोच में हैं परवाने,
राख हो जाएँ या हवा हो जाएँ !

इश्क़ भी खेल है नसीबों का,
ख़ाक हो जाएँ कीमिया हो जाएँ !

अब के गर तू मिले तो हम तुझ से,
ऐसे लिपटें तेरी क़बा हो जाएँ !

बंदगी हम ने छोड़ दी है “फ़राज़”,
क्या करें लोग जब ख़ुदा हो जाएँ !!

 

Bahut se logon ko gham ne jila ke mar diya..

Bahut se logon ko gham ne jila ke mar diya,
Jo bach rahe the unhen mai pila ke mar diya.

Ye kya ada hai ki jab un ki barhami se hum,
Na mar sake to humein muskura ke mar diya.

Na jate aap to aaghosh kyun tahi hoti,
Gaye to aap ne pahlu se ja ke mar diya.

Mujhe gila to nahi aap ke taghaful se,
Magar huzur ne himmat badha ke mar diya.

Na aap aas bandhate na ye sitam hota,
Humein to aap ne amrit pila ke mar diya.

Kisi ne husn-e-taghaful se jaan talab kar li,
Kisi ne lutf ke dariya baha ke mar diya.

Jise bhi main ne ziyada tapak se dekha,
Usi hasin ne patthar utha ke mar diya.

Wo log mangenge ab zist kis ke aanchal se,
Jinhen huzur ne daman chhuda ke mar diya.

Chale to khanda-mizaji se ja rahe the hum,
Kisi hasin ne raste mein aa ke mar diya.

Rah-e-hayat mein kuchh aise pech-o-kham to na the,
Kisi hasin ne raste mein aa ke mar diya.

Karam ki surat-e-awwal to jaan-gudaz na thi,
Karam ka dusra pahlu dikha ke mar diya.

Ajib ras-bhara rahzan tha jis ne logon ko,
Tarah tarah ki adayen dikha ke mar diya.

Ajib khulq se ek ajnabi musafir ne,
Humein khilaf-e-tawaqqoa bula ke mar diya.

“Adam” bade adab-adab se hasinon ne,
Humein sitam ka nishana bana ke mar diya.

Tayyunat ki had tak to ji raha tha “Adam”,
Tayyunat ke parde utha ke mar diya. !!

बहुत से लोगों को ग़म ने जिला के मार दिया,
जो बच रहे थे उन्हें मय पिला के मार दिया !

ये क्या अदा है कि जब उन की बरहमी से हम,
न मर सके तो हमें मुस्कुरा के मार दिया !

न जाते आप तो आग़ोश क्यूँ तही होती,
गए तो आप ने पहलू से जा के मार दिया !

मुझे गिला तो नहीं आप के तग़ाफ़ुल से,
मगर हुज़ूर ने हिम्मत बढ़ा के मार दिया !

न आप आस बँधाते न ये सितम होता,
हमें तो आप ने अमृत पिला के मार दिया !

किसी ने हुस्न-ए-तग़ाफ़ुल से जाँ तलब कर ली,
किसी ने लुत्फ़ के दरिया बहा के मार दिया !

जिसे भी मैं ने ज़ियादा तपाक से देखा,
उसी हसीन ने पत्थर उठा के मार दिया !

वो लोग माँगेंगे अब ज़ीस्त किस के आँचल से,
जिन्हें हुज़ूर ने दामन छुड़ा के मार दिया !

चले तो ख़ंदा-मिज़ाजी से जा रहे थे हम,
किसी हसीन ने रस्ते में आ के मार दिया !

रह-ए-हयात में कुछ ऐसे पेच-ओ-ख़म तो न थे,
किसी हसीन ने रस्ते में आ के मार दिया !

करम की सूरत-ए-अव्वल तो जाँ-गुदाज़ न थी,
करम का दूसरा पहलू दिखा के मार दिया !

अजीब रस-भरा रहज़न था जिस ने लोगों को,
तरह तरह की अदाएँ दिखा के मार दिया !

अजीब ख़ुल्क़ से एक अजनबी मुसाफ़िर ने,
हमें ख़िलाफ़-ए-तवक़्क़ो बुला के मार दिया !

“अदम” बड़े अदब-आदाब से हसीनों ने,
हमें सितम का निशाना बना के मार दिया !

तअय्युनात की हद तक तो जी रहा था “अदम”,
तअय्युनात के पर्दे उठा के मार दिया !!

 

Wo jo tere faqir hote hain..

Wo jo tere faqir hote hain,
Aadmi be-nazir hote hain.

Dekhne wala ek nahi milta,
Aankh wale kasir hote hain.

Jin ko daulat haqir lagti hai,
Uff ! wo kitne amir hote hain.

Jin ko kudrat ne husan bakhsha ho,
Kudratan kuchh sharir hote hain.

Zindagi ke hasin tarkash mein,
Kitne be-rahm tir hote hain.

Wo parinde jo aankh rakhte hain,
Sab se pahle asir hote hain.

Phool daman mein chand rakh lije,
Raste mein faqir hote hain.

Hai khushi bhi ajib shai lekin,
Gham bade dil-pazir hote hain.

Aye “Adam” ehtiyat logon se,
Log munkir-nakir hote hain. !!

वो जो तेरे फ़क़ीर होते हैं,
आदमी बे-नज़ीर होते हैं !

देखने वाला एक नहीं मिलता,
आँख वाले कसीर होते हैं

जिन को दौलत हक़ीर लगती है,
उफ़ ! वो कितने अमीर होते हैं !

जिन को क़ुदरत ने हुस्न बख़्शा हो,
क़ुदरतन कुछ शरीर होते हैं !

ज़िंदगी के हसीन तरकश में,
कितने बे-रहम तीर होते हैं !

वो परिंदे जो आँख रखते हैं,
सब से पहले असीर होते हैं !

फूल दामन में चंद रख लीजे,
रास्ते में फ़क़ीर होते हैं !

है ख़ुशी भी अजीब शय लेकिन,
ग़म बड़े दिल-पज़ीर होते हैं !

ऐ “अदम” एहतियात लोगों से,
लोग मुनकिर-नकीर होते हैं !!