Home / Raah Shayari

Raah Shayari

Aankhon ke samne koi manzar naya na tha..

Aankhon ke samne koi manzar naya na tha,
Bas wo zara sa fasla baqi raha na tha.

Ab is safar ka silsila shayad hi khatm ho,
Sab apni apni rah len hum ne kaha na tha.

Darwaze aaj band samajhiye suluk ke,
Ye chalne wala dur talak silsila na tha.

Unchi udan ke liye par taulte the hum,
Unchaiyon pe sans ghutegi pata na tha.

Koshish hazar karti rahen tez aandhiyan,
Lekin wo ek patta abhi tak hila na tha.

Sab hi shikar-gah mein the khema-zan magar,
Koi shikar karne ko ab tak utha na tha.

Achchha hua ki gosha-nashini ki ikhtiyar,
“Aashufta” aur is ke siwa rasta na tha. !!

आँखों के सामने कोई मंज़र नया न था,
बस वो ज़रा सा फ़ासला बाक़ी रहा न था !

अब इस सफ़र का सिलसिला शायद ही ख़त्म हो,
सब अपनी अपनी राह लें हम ने कहा न था !

दरवाज़े आज बंद समझिए सुलूक के,
ये चलने वाला दूर तलक सिलसिला न था !

ऊँची उड़ान के लिए पर तौलते थे हम,
ऊँचाइयों पे साँस घुटेगी पता न था !

कोशिश हज़ार करती रहें तेज़ आँधियाँ,
लेकिन वो एक पत्ता अभी तक हिला न था !

सब ही शिकार-गाह में थे ख़ेमा-ज़न मगर,
कोई शिकार करने को अब तक उठा न था !

अच्छा हुआ कि गोशा-नशीनी की इख़्तियार,
“आशुफ़्ता” और इस के सिवा रास्ता न था !!

 

Sabhi ko apna samajhta hun kya hua hai mujhe..

Sabhi ko apna samajhta hun kya hua hai mujhe,
Bichhad ke tujh se ajab rog lag gaya hai mujhe.

Jo mud ke dekha to ho jayega badan patthar,
Kahaniyon mein suna tha so bhogna hai mujhe.

Main tujh ko bhul na paya yahi ghanimat hai,
Yahan to is ka bhi imkan lag raha hai mujhe.

Main sard jang ki aadat na dal paunga,
Koi mahaz pe wapas bula raha hai mujhe.

Sadak pe chalte hue aankhen band rakhta hun,
Tere jamal ka aisa maza pada hai mujhe.

Abhi talak to koi wapsi ki rah na thi,
Kal ek rah-guzar ka pata laga hai mujhe. !!

सभी को अपना समझता हूँ क्या हुआ है मुझे,
बिछड़ के तुझ से अजब रोग लग गया है मुझे !

जो मुड़ के देखा तो हो जाएगा बदन पत्थर,
कहानियों में सुना था सो भोगना है मुझे !

मैं तुझ को भूल न पाया यही ग़नीमत है,
यहाँ तो इस का भी इम्कान लग रहा है मुझे !

मैं सर्द जंग की आदत न डाल पाऊँगा,
कोई महाज़ पे वापस बुला रहा है मुझे !

सड़क पे चलते हुए आँखें बंद रखता हूँ,
तेरे जमाल का ऐसा मज़ा पड़ा है मुझे !

अभी तलक तो कोई वापसी की राह न थी,
कल एक राह-गुज़र का पता लगा है मुझे !!

 

Ab ke barish mein to ye kar-e-ziyan hona hi tha..

Ab ke barish mein to ye kar-e-ziyan hona hi tha,
Apni kachchi bastiyon ko be-nishan hona hi tha.

Kis ke bas mein tha hawa ki wahshaton ko rokna,
Barg-e-gul ko khak shoale ko dhuan hona hi tha.

Jab koi samt-e-safar tai thi na hadd-e-rahguzar,
Aye mere rah-rau safar to raegan hona hi tha.

Mujh ko rukna tha use jaana tha agle mod tak,
Faisla ye us ke mere darmiyan hona hi tha.

Chand ko chalna tha bahti sipiyon ke sath-sath,
Moajiza ye bhi tah-e-ab-e-rawan hona hi tha.

Main naye chehron pe kahta tha nayi ghazlein sada,
Meri is aadat se us ko bad-guman hona hi tha.

Shehar se bahar ki virani basana thi mujhe,
Apni tanhai pe kuchh to mehrban hona hi tha.

Apni aankhen dafn karna thi ghubar-e-khak mein,
Ye sitam bhi hum pe zer-e-asman hona hi tha.

Be-sada basti ki rasmein thi yahi “Mohsin” mere,
Main zaban rakhta tha mujh ko be-zaban hona hi tha. !!

अब के बारिश में तो ये कार-ए-ज़ियाँ होना ही था,
अपनी कच्ची बस्तियों को बे-निशाँ होना ही था !

किस के बस में था हवा की वहशतों को रोकना,
बर्ग-ए-गुल को ख़ाक शोले को धुआँ होना ही था !

जब कोई सम्त-ए-सफ़र तय थी न हद्द-ए-रहगुज़र,
ऐ मेरे रह-रौ सफ़र तो राएगाँ होना ही था !

मुझ को रुकना था उसे जाना था अगले मोड़ तक,
फ़ैसला ये उस के मेरे दरमियाँ होना ही था !

चाँद को चलना था बहती सीपियों के साथ-साथ,
मोजिज़ा ये भी तह-ए-आब-ए-रवाँ होना ही था !

मैं नए चेहरों पे कहता था नई ग़ज़लें सदा,
मेरी इस आदत से उस को बद-गुमाँ होना ही था !

शहर से बाहर की वीरानी बसाना थी मुझे,
अपनी तन्हाई पे कुछ तो मेहरबाँ होना ही था !

अपनी आँखें दफ़्न करना थीं ग़ुबार-ए-ख़ाक में,
ये सितम भी हम पे ज़ेर-ए-आसमाँ होना ही था !

बे-सदा बस्ती की रस्में थीं यही “मोहसिन” मेरे,
मैं ज़बाँ रखता था मुझ को बे-ज़बाँ होना ही था !!

 

Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

           Aurat

Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe
Qalb-e-maahaul mein larzaan sharar-e-jung hain aaj
Hausle waqt ke aur ziist ke yak-rang hain aaj
Aabginon mein tapan walwala-e- sang hain aaj
Husn aur ishq hum-awaz-o-hum-ahang hain aaj
Jis mein jalta hun usi aag mein jalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे
क़ल्ब-ए-माहौल में लर्ज़ां शरर-ए-जंग हैं आज
हौसले वक़्त के और ज़ीस्त के यक-रंग हैं आज
आबगीनों में तपाँ वलवला-ए-संग हैं आज
हुस्न और इश्क़ हम-आवाज़ ओ हम-आहंग हैं आज
जिस में जलता हूँ उसी आग में जलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tere qadmon mein hai firdaus-e-tamaddun ki bahaar
Teri nazron pe hai tehzib-o-taraqqi ka madar
Teri aaghosh hai gahwara-e-nafs-o-kirdar
Taa-ba-kai gird tere wehm-o-tayyun ka hisar
Kaund kar majlis-e-khalwat se nikalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तेरे क़दमों में है फ़िरदौस-ए-तमद्दुन की बहार
तेरी नज़रों पे है तहज़ीब-ओ-तरक़्क़ी का मदार
तेरी आग़ोश है गहवारा-ए-नफ़्स-ओ-किरदार
ता-ब-कै गिर्द तेरे वहम-ओ-तअय्युन का हिसार
कौंद कर मज्लिस-ए-ख़ल्वत से निकलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tu ki be-jaan khilaunon se bahal jati hai
Tapti sanson ki hararat se pighal jati hai
Panw jis raah mein rakhti hai phisal jati hai
Ban ke simab har ek zarf mein dhal jati hai
Zist ke aahani sanche mein bhi dhalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तू कि बे-जान खिलौनों से बहल जाती है
तपती साँसों की हरारत से पिघल जाती है
पाँव जिस राह में रखती है फिसल जाती है
बन के सीमाब हर एक ज़र्फ़ में ढल जाती है
ज़ीस्त के आहनी साँचे में भी ढलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Zindagi jehd mein hai sabr ke qabu mein nahin
Nabz-e-hasti ka lahu kanpte aansu mein nahin
Udne khulne mein hai nikhat kham-e-gesu mein nahin
Jannat ek aur hai jo mard ke pahlu mein nahin
Us ki aazad rawish par bhi machalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

ज़िंदगी जेहद में है सब्र के क़ाबू में नहीं
नब्ज़-ए-हस्ती का लहू काँपते आँसू में नहीं
उड़ने खुलने में है निकहत ख़म-ए-गेसू में नहीं
जन्नत एक और है जो मर्द के पहलू में नहीं
उस की आज़ाद रविश पर भी मचलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Goshe-goshe mein sulagti hai chita tere liye
Farz ka bhes badalti hai qaza tere liye
Qahar hai teri har ek narm ada tere liye
Zehr hi zehr hai duniya ki hawa tere liye
Rut badal dal agar phulna-phalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

गोशे-गोशे में सुलगती है चिता तेरे लिए
फ़र्ज़ का भेस बदलती है क़ज़ा तेरे लिए
क़हर है तेरी हर एक नर्म अदा तेरे लिए
ज़हर ही ज़हर है दुनिया की हवा तेरे लिए
रुत बदल डाल अगर फूलना-फलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Qadr ab tak teri tarikh ne jaani hi nahin
Tujh mein shoale bhi hain bas ashk-fishani hi nahin
Tu haqiqat bhi hai dilchasp kahani hi nahin
Teri hasti bhi hai ek chiz jawani hi nahin
Apni tarikh ka unwan badalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

क़द्र अब तक तेरी तारीख़ ने जानी ही नहीं
तुझ में शोले भी हैं बस अश्क-फ़िशानी ही नहीं
तू हक़ीक़त भी है दिलचस्प कहानी ही नहीं
तेरी हस्ती भी है एक चीज़ जवानी ही नहीं
अपनी तारीख़ का उन्वान बदलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tod kar rasm ke but band-e-qadamat se nikal
Zof-e-ishrat se nikal wahm-e-nazakat se nikal
Nafs ke khinche hue halqa-e-azmat se nikal
Qaid ban jaye mohabbat to mohabbat se nikal
Raah ka khar hi kya gul bhi kuchalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तोड़ कर रस्म का बुत बंद-ए-क़दामत से निकल
ज़ोफ़-ए-इशरत से निकल वहम-ए-नज़ाकत से निकल
नफ़्स के खींचे हुए हल्क़ा-ए-अज़्मत से निकल
क़ैद बन जाए मोहब्बत तो मोहब्बत से निकल
राह का ख़ार ही क्या गुल भी कुचलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tod ye azm-shikan daghdagha-e-pand bhi tod
Teri khatir hai jo zanjir woh saugand bhi tod
Tauq ye bhi zamurrad ka gulu-band bhi tod
Tod paimana-e-mardan-e-khird-mand bhi tod
Ban ke tufan chhalakna hai ubalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तोड़ ये अज़्म-शिकन दग़दग़ा-ए-पंद भी तोड़
तेरी ख़ातिर है जो ज़ंजीर वो सौगंद भी तोड़
तौक़ ये भी है ज़मुर्रद का गुलू-बंद भी तोड़
तोड़ पैमाना-ए-मर्दान-ए-ख़िरद-मंद भी तोड़
बन के तूफ़ान छलकना है उबलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tu falatun-o-arastu hai tu zehra parwin
Tere qabze mein hai gardun teri thokar mein zamin
Han utha jald utha paa-e-muqqadar se jabin
Main bhi rukne ka nahin waqt bhi rukne ka nahin
Ladkhadayegi kahan tak ki sambhalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe.. !!

तू फ़लातून-ओ-अरस्तू है तू ज़हरा परवीन
तेरे क़ब्ज़े में है गर्दूं तेरी ठोकर में ज़मीन
हाँ उठा जल्द उठा पा-ए-मुक़द्दर से जबीन
मैं भी रुकने का नहीं वक़्त भी रुकने का नहीं
लड़खड़ाएगी कहाँ तक कि सँभलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे.. !!

 

Nazar hairaan dil veeran mera jee nahi lagta..

Nazar hairaan dil veeran mera jee nahi lagta,
Bichar ke tum se meri jaan mera jee nahi lagta.

Koi bhi to nahi hai jo pukaare raah mein mujh ko,
Hoon main be-naam ek insaan mera jee nahi lagta.

Hai ek inbwa qadmon ka rawaan in shahraahon per,
Nahi meri koi pehchaan mera jee nahi lagta.

Jahan milte the hum tum aur jahan mil kar bicharte the,
Na woh dar hai na woh dhalaan mera jee nahi lagta.

Hon pehchane huye chehre to jee ko aas rehti hai,
Hon chehre hijar ke anjaan mera jee nahi lagta.

Yeh sara shehar ek dasht-e-hajoom-e-be-niyazi hai,
Yahan ka shor hai veeraan mera jee nahi lagta.

Woh aalam hai ke jaise main koi hum-naam hoon apna,
Na hirmaan hai na woh darman mera jee nahi lagta.

Kahin sar hai kahin sauda kahin wehshat kahin sehra,
Kahin main hun kahin samaan mera jee nahi lagta.

Mere hi shehar mein mere muhalle mein mere ghar mein,
Bula lo tum koi mehmaan mera jee nahi lagta.

Main tum ko bhool jaaun bhoolne ka dukh na bhulunga,
Nahi hai khel yeh aasaan mera jee nahi lagta.

Koi paimaan poora ho nahi sakta magar phir bhi,
Karo taaza koi paimaan mera jee nahi lagta.

Kuch aisa hai ke jaise main yahan hun ek zindgani,
Hain saare log zindaan baan mera jee nahi Lagta. !!

नज़र हैरान दिल वीरान मेरा जी नहीं लगता,
बिछड़ के तुम से मेरी जान मेरा जी नहीं लगता !

कोई भी तो नहीं है जो पुकारे राह में मुझ को,
हूँ मैं बे-नाम एक इंसान मेरा जी नहीं लगता !

है एक िंबवा क़दमों का रवां इन शाहराहों पर,
नहीं मेरी कोई पहचान मेरा जी नहीं लगता !

जहाँ मिलते थे हम तुम और जहाँ मिल कर बिछड़ते थे,
न वह दर है न वह ढलान मेरा जी नहीं लगता !

हों पहचाने हुए चेहरे तो जी को आस रहती है,
हों चेहरे हिजर के अन्जान मेरा जी नहीं लगता !

यह सारा शहर एक दश्त-इ-हजूम-इ-बे-नियाज़ी है,
यहाँ का शोर है वीरान मेरा जी नहीं लगता !

वह आलम है के जैसे मैं कोई हम-नाम हूँ अपना,
न हिरमान है न वह दरम्यान मेरा जी नहीं लगता !

कहीं सार है कहीं सौदा कहीं वेह्शत कहीं सेहरा,
कहीं मैं हूँ कहीं सामान मेरा जी नहीं लगता !

मेरे ही शहर में मेरे मोहल्ले में मेरे घर में,
बुला लो तुम कोई मेहमान मेरा जी नहीं लगता !

मैं तुम को भूल जाऊं भूलने का दुःख न भूलूंगा,
नहीं है खेल यह आसान मेरा जी नहीं लगता !

कोई पैमान पूरा हो नहीं सकता मगर फिर भी,
करो ताज़ा कोई पैमान मेरा जी नहीं लगता !

कुछ ऐसा है कि जैसे मैं यहाँ हूँ एक ज़िंदगानी,
हैं सारे लोग ज़िन्दाँ बण मेरा जी नहीं लगता !!

 

Zindagi jab bhi teri bazm mein lati hai hamein

Zindagi jab bhi teri bazm mein lati hai hamein,
Ye zameen chand se behtar nazar aati hai hamein.

Surkh phoolon se mahak uthti hain dil ki raahein,
Din dhale yun teri aawaz bulati hai hamein.

Yaad teri kabhi dastak kabhi sargoshi se,
Raat ke pichhle pahar roz jagati hai hamein.

Har mulaqat ka anjam judai kyon hai,
Ab to har waqt yehi baat satati hai hamein. !!

ज़िन्दगी जब भी तेरी बज़्म में लाती है हमें,
ये ज़मीन चाँद से बेहतर नज़र आती है हमें !

सुर्ख फूलों से महक उठती हैं दिल की राहें,
दिन ढले यूँ तेरी आवाज़ बुलाती है हमें !

याद तेरी कभी दस्तक कभी सरगोशी से,
रात के पिछले पहर रोज़ जगाती है हमें !

हर मुलाक़ात का अंजाम जुदाई क्यों है,
अब तो हर वक़्त यही बात सताती है हमें !!

 

Waqt ki umar kya badi hogi..

Waqt ki umar kya badi hogi,
Ek tere wasl ki ghadi hogi.

Dastaken de rahi hai palkon par,
Koi barsat ki jhadi hogi.

Kya khabar thi ki nok-e-khanjar bhi,
Phool ki ek pankhudi hogi.

Zulf bal kha rahi hai mathe par,
Chandni se saba ladi hogi.

Aye adam ke musafiro hushyar,
Raah mein zindagi khadi hogi

Kyun girah gesuon mein dali hai,
Jaan kisi phool ki adi hogi.

Iltija ka malal kya kije,
Un ke dar par kahin padi hogi.

Maut kahte hain jis ko aye “Saghar”,
Zindagi ki koi kadi hogi. !!

वक़्त की उम्र क्या बड़ी होगी,
एक तेरे वस्ल की घड़ी होगी !

दस्तकें दे रही है पलकों पर,
कोई बरसात की झड़ी होगी !

क्या ख़बर थी कि नोक-ए-ख़ंजर भी,
फूल की एक पंखुड़ी होगी !

ज़ुल्फ़ बल खा रही है माथे पर,
चाँदनी से सबा लड़ी होगी !

ऐ अदम के मुसाफ़िरो हुश्यार,
राह में ज़िंदगी खड़ी होगी !

क्यूँ गिरह गेसुओं में डाली है,
जाँ किसी फूल की अड़ी होगी !

इल्तिजा का मलाल क्या कीजे,
उन के दर पर कहीं पड़ी होगी !

मौत कहते हैं जिस को ऐ “साग़र”,
ज़िंदगी की कोई कड़ी होगी !!