Home / Pyaas Shayari

Pyaas Shayari

Hath khali hain tere shahr se jate-jate..

Hath khali hain tere shahr se jate jate,
Jaan hoti to meri jaan lutate jate.

Ab to har hath ka patthar hamein pahchanta hai,
Umar guzri hai tere shahr mein aate jate.

Ab ke mayus hua yaron ko rukhsat kar ke,
Ja rahe the to koi zakhm lagate jate.

Rengne ki bhi ijazat nahi hum ko warna,
Hum jidhar jate naye phool khilate jate.

Main to jalte hue sahraon ka ek patthar tha,
Tum to dariya the meri pyas bujhate jate.

Mujh ko rone ka saliqa bhi nahi hai shayad,
Log hanste hain mujhe dekh ke aate jate.

Hum se pahle bhi musafir kayi guzre honge,
Kam se kam rah ke patthar to hatate jate. !!

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते !

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते !

अब के मायूस हुआ यारों को रुख़्सत कर के,
जा रहे थे तो कोई ज़ख़्म लगाते जाते !

रेंगने की भी इजाज़त नहीं हम को वर्ना,
हम जिधर जाते नए फूल खिलाते जाते !

मैं तो जलते हुए सहराओं का एक पत्थर था,
तुम तो दरिया थे मेरी प्यास बुझाते जाते !

मुझ को रोने का सलीक़ा भी नहीं है शायद,
लोग हँसते हैं मुझे देख के आते जाते !

हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे,
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते !!