Home / Poetry Types Zindagi

Poetry Types Zindagi

Zindagi se yahi gila hai mujhe..

Zindagi se yahi gila hai mujhe,
Tu bahut der se mila hai mujhe.

Tu mohabbat se koi chaal to chal,
Haar jaane ka hausla hai mujhe.

Dil dhadakta nahi tapakta hai,
Kal jo khwahish thi aabla hai mujhe.

Hum-safar chahiye hujum nahi,
Ek musafir bhi qafila hai mujhe.

Kohkan ho ki qais ho ki “Faraz”,
Sab mein ek shakhs hi mila hai mujhe. !!

ज़िंदगी से यही गिला है मुझे,
तू बहुत देर से मिला है मुझे !

तू मोहब्बत से कोई चाल तो चल,
हार जाने का हौसला है मुझे !

दिल धड़कता नहीं टपकता है,
कल जो ख़्वाहिश थी आबला है मुझे !

हम-सफ़र चाहिए हुजूम नहीं,
एक मुसाफ़िर भी क़ाफ़िला है मुझे !

कोहकन हो कि क़ैस हो कि “फ़राज़”,
सब में एक शख़्स ही मिला है मुझे !!

 

Ab aur kya kisi se marasim badhayen hum..

Ab aur kya kisi se marasim badhayen hum,
Ye bhi bahut hai tujh ko agar bhul jayen hum.

Sahra-e-zindagi mein koi dusra na tha,
Sunte rahe hain aap hi apni sadayen hum.

Is zindagi mein itni faraghat kise nasib,
Itna na yaad aa ki tujhe bhul jayen hum.

Tu itni dil-zada to na thi aye shab-e-firaq,
Aa tere raste mein sitare lutayen hum.

Wo log ab kahan hain jo kahte the kal “Faraz”,
He he khuda-na-karda tujhe bhi rulayen hum. !!

अब और क्या किसी से मरासिम बढ़ाएँ हम,
ये भी बहुत है तुझ को अगर भूल जाएँ हम !

सहरा-ए-ज़िंदगी में कोई दूसरा न था,
सुनते रहे हैं आप ही अपनी सदाएँ हम !

इस ज़िंदगी में इतनी फ़राग़त किसे नसीब,
इतना न याद आ कि तुझे भूल जाएँ हम !

तू इतनी दिल-ज़दा तो न थी ऐ शब-ए-फ़िराक़,
आ तेरे रास्ते में सितारे लुटाएँ हम !

वो लोग अब कहाँ हैं जो कहते थे कल “फ़राज़”,
हे हे ख़ुदा-न-कर्दा तुझे भी रुलाएँ हम !!

 

Aankh se dur na ho dil se utar jayega..

Aankh se dur na ho dil se utar jayega,
Waqt ka kya hai guzarta hai guzar jayega.

Itna manus na ho khalwat-e-gham se apni,
Tu kabhi khud ko bhi dekhega to dar jayega.

Dubte dubte kashti ko uchhaala de dun,
Main nahi koi to sahil pe utar jayega.

Zindagi teri ata hai to ye jaane wala,
Teri bakhshish teri dahliz pe dhar jayega.

Zabt lazim hai magar dukh hai qayamat ka “Faraz”,
Zalim ab ke bhi na royega to mar jayega. !!

आँख से दूर न हो दिल से उतर जाएगा,
वक़्त का क्या है गुज़रता है गुज़र जाएगा !

इतना मानूस न हो ख़ल्वत-ए-ग़म से अपनी,
तू कभी ख़ुद को भी देखेगा तो डर जाएगा !

डूबते डूबते कश्ती को उछाला दे दूँ,
मैं नहीं कोई तो साहिल पे उतर जाएगा !

ज़िंदगी तेरी अता है तो ये जाने वाला,
तेरी बख़्शिश तेरी दहलीज़ पे धर जाएगा !

ज़ब्त लाज़िम है मगर दुख है क़यामत का “फ़राज़”,
ज़ालिम अब के भी न रोएगा तो मर जाएगा !!

 

Lahra ke jhum jhum ke la muskura ke la..

Lahra ke jhum jhum ke la muskura ke la,
Phoolon ke ras mein chand ki kirnen mila ke la.

Kahte hain umar-e-rafta kabhi lauti nahi,
Ja mai-kade se meri jawani utha ke la.

Saghar-shikan hai shaikh-e-bala-nosh ki nazar,
Shishe ko zer-e-daman-e-rangin chhupa ke la.

Kyun ja rahi hai ruth ke rangini-e-bahaar,
Ja ek martaba use phir warghala ke la.

Dekhi nahi hai tu ne kabhi zindagi ki lahr,
Achchha to ja “Adam” ki surahi utha ke la. !!

लहरा के झूम झूम के ला मुस्कुरा के ला,
फूलों के रस में चाँद की किरनें मिला के ला !

कहते हैं उम्र-ए-रफ़्ता कभी लौटती नहीं,
जा मय-कदे से मेरी जवानी उठा के ला !

साग़र-शिकन है शैख़-ए-बला-नोश की नज़र,
शीशे को ज़ेर-ए-दामन-ए-रंगीं छुपा के ला !

क्यूँ जा रही है रूठ के रंगीनी-ए-बहार,
जा एक मर्तबा उसे फिर वर्ग़ला के ला !

देखी नहीं है तू ने कभी ज़िंदगी की लहर,
अच्छा तो जा “अदम” की सुराही उठा के ला !!

 

Saqi sharab la ki tabiat udas hai..

Saqi sharab la ki tabiat udas hai,
Mutrib rubab utha ki tabiat udas hai.

Ruk ruk ke saz chhed ki dil mutmain nahi,
Tham tham ke mai pila ki tabiat udas hai.

Chubhti hai qalb o jaan mein sitaron ki raushni,
Aye chand dub ja ki tabiat udas hai.

Mujh se nazar na pher ki barham hai zindagi,
Mujh se nazar mila ki tabiat udas hai.

Shayad tere labon ki chatak se ho ji bahaal,
Aye dost muskura ki tabiat udas hai.

Hai husn ka fusun bhi ilaj-e-fasurdagi,
Rukh se naqab utha ki tabiat udas hai.

Main ne kabhi ye zid to nahi ki par aaj shab,
Aye mah-jabin na ja ki tabiat udas hai.

Imshab gurez-o-ram ka nahi hai koi mahal,
Aaghosh mein dar aa ki tabiat udas hai.

Kaifiyyat-e-sukut se badhta hai aur gham,
Kissa koi suna ki tabiat udas hai.

Yunhi durust hogi tabiat teri “Adam”,
Kam-bakht bhul ja ki tabiat udas hai.

Tauba to kar chuka hun magar phir bhi aye “Adam”,
Thoda sa zahr la ki tabiat udas hai. !!

साक़ी शराब ला कि तबीअत उदास है,
मुतरिब रुबाब उठा कि तबीअत उदास है !

रुक रुक के साज़ छेड़ कि दिल मुतमइन नहीं,
थम थम के मय पिला कि तबीअत उदास है !

चुभती है क़ल्ब ओ जाँ में सितारों की रौशनी,
ऐ चाँद डूब जा कि तबीअत उदास है !

मुझ से नज़र न फेर कि बरहम है ज़िंदगी,
मुझ से नज़र मिला कि तबीअत उदास है !

शायद तेरे लबों की चटक से हो जी बहाल,
ऐ दोस्त मुस्कुरा कि तबीअत उदास है !

है हुस्न का फ़ुसूँ भी इलाज-ए-फ़सुर्दगी,
रुख़ से नक़ाब उठा कि तबीअत उदास है !

मैं ने कभी ये ज़िद तो नहीं की पर आज शब,
ऐ मह-जबीं न जा कि तबीअत उदास है !

इमशब गुरेज़-ओ-रम का नहीं है कोई महल,
आग़ोश में दर आ कि तबीअत उदास है !

कैफ़िय्यत-ए-सुकूत से बढ़ता है और ग़म,
क़िस्सा कोई सुना कि तबीअत उदास है !

यूँही दुरुस्त होगी तबीअत तेरी “अदम”,
कम-बख़्त भूल जा कि तबीअत उदास है !

तौबा तो कर चुका हूँ मगर फिर भी ऐ “अदम”,
थोड़ा सा ज़हर ला कि तबीअत उदास है !!

 

Bichhad ke mujh se ye mashghala ikhtiyar karna..

Bichhad ke mujh se ye mashghala ikhtiyar karna,
Hawa se darna bujhe charaghon se pyar karna.

Khuli zaminon mein jab bhi sarson ke phool mahken,
Tum aisi rut mein sada mera intezar karna.

Jo log chahen to phir tumhein yaad bhi na aayen,
Kabhi kabhi tum mujhe bhi un mein shumar karna.

Kisi ko ilzam-e-bewafai kabhi na dena,
Meri tarah apne aap ko sogwar karna.

Tamam wade kahan talak yaad rakh sakoge,
Jo bhul jayen wo ahd bhi ustuwar karna.

Ye kis ki aankhon ne baadalon ko sikha diya hai,
Ki sina-e-sang se rawan aabshaar karna.

Main zindagi se na khul saka is liye bhi “Mohsin”,
Ki bahte pani pe kab talak etibar karna. !!

बिछड़ के मुझ से ये मश्ग़ला इख़्तियार करना,
हवा से डरना बुझे चराग़ों से प्यार करना !

खुली ज़मीनों में जब भी सरसों के फूल महकें,
तुम ऐसी रुत में सदा मेरा इंतिज़ार करना !

जो लोग चाहें तो फिर तुम्हें याद भी न आएँ,
कभी कभी तुम मुझे भी उन में शुमार करना !

किसी को इल्ज़ाम-ए-बेवफ़ाई कभी न देना,
मेरी तरह अपने आप को सोगवार करना !

तमाम वादे कहाँ तलक याद रख सकोगे,
जो भूल जाएँ वो अहद भी उस्तुवार करना !

ये किस की आँखों ने बादलों को सिखा दिया है,
कि सीना-ए-संग से रवाँ आबशार करना !

मैं ज़िंदगी से न खुल सका इस लिए भी “मोहसिन”,
कि बहते पानी पे कब तलक एतिबार करना !!

 

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya..

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya,
Wo juda hote hue kuchh phool basi de gaya.

Noch kar shakhon ke tan se khushk patton ka libas,
Zard mausam banjh-rut ko be-libasi de gaya.

Subh ke tare meri pahli dua tere liye,
Tu dil-e-be-sabr ko taskin zara si de gaya.

Log malbon mein dabe saye bhi dafnane lage,
Zalzala ahl-e-zamin ko bad-hawasi de gaya.

Tund jhonke ki ragon mein ghol kar apna dhuan,
Ek diya andhi hawa ko khud-shanasi de gaya.

Le gaya “Mohsin” wo mujh se abr banta aasman,
Us ke badle mein zamin sadiyon ki pyasi de gaya. !!

एक पल में ज़िंदगी भर की उदासी दे गया,
वो जुदा होते हुए कुछ फूल बासी दे गया !

नोच कर शाख़ों के तन से ख़ुश्क पत्तों का लिबास,
ज़र्द मौसम बाँझ-रुत को बे-लिबासी दे गया !

सुब्ह के तारे मेरी पहली दुआ तेरे लिए,
तू दिल-ए-बे-सब्र को तस्कीं ज़रा सी दे गया !

लोग मलबों में दबे साए भी दफ़नाने लगे,
ज़लज़ला अहल-ए-ज़मीं को बद-हवासी दे गया !

तुंद झोंके की रगों में घोल कर अपना धुआँ,
एक दिया अंधी हवा को ख़ुद-शनासी दे गया !

ले गया “मोहसिन” वो मुझ से अब्र बनता आसमाँ,
उस के बदले में ज़मीं सदियों की प्यासी दे गया !!