Friday , April 10 2020

Poetry Types Zindagi

Ishq Hai To Ishq Ka Izhaar Hona Chahiye..

Ishq hai to ishq ka izhaar hona chahiye

Ishq hai to ishq ka izhaar hona chahiye,
Aap ko chehre se bhi bimar hona chahiye.

Aap dariya hain to is waqt hum khatre mein hain,
Aap kashti hain to hum ko paar hona chahiye.

Aire-gaire log bhi padhne lage hain in dino,
Aap ko aurat nahi akhbar hona chahiye.

Zindagi kab talak dar-dar phirayegi hamein,
Tuta phuta hi sahi ghar bar hona chahiye.

Apni yaadon se kaho ek din ki chhutti de mujhe.
Ishq ke hisse mein bhi itwaar hona chahiye. !!

आप को चेहरे से भी बीमार होना चाहिए,
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए !

आप दरिया हैं तो फिर इस वक़्त हम ख़तरे में हैं,
आप कश्ती हैं तो हम को पार होना चाहिए !

ऐरे-ग़ैरे लोग भी पढ़ने लगे हैं इन दिनों,
आप को औरत नहीं अख़बार होना चाहिए !

ज़िंदगी तू कब तलक दर-दर फिराएगी हमें,
टूटा-फूटा ही सही घर-बार होना चाहिए !

अपनी यादों से कहो इक दिन की छुट्टी दे मुझे,
इश्क़ के हिस्से में भी इतवार होना चाहिए !!

Munawwar Rana All Poetry, Ghazal, Ishq Shayari & Nazms Collection

 

Ye Kya Tilism Hai Duniya Pe Bar Guzri Hai

Ye kya tilism hai duniya pe bar guzri hai,
Wo zindagi jo sar-e-rahguzar guzri hai.

Gulon ki gum-shudagi se suragh milta hai,
Kahin chaman se nasim-e-bahaar guzri hai.

Kahin sahar ka ujala hua hai ham-nafaso,
Ki mauj-e-barq sar-e-shakh-sar guzri hai.

Raha hai ye sar-e-shorida misl-e-shola buland,
Agarche mujh pe qayamat hazar guzri hai.

Ye hadisa bhi hua hai ki ishq-e-yar ki yaad,
Dayar-e-qalb se begana-war guzri hai.

Unhin ko arz-e-wafa ka tha ishtiyaq bahut,
Unhin ko arz-e-wafa na-gawar guzri hai.

Harim-e-shauq mahakta hai aaj tak “Abid“,
Yahan se nikhat-e-gesu-e-yar guzri hai. !!

ये क्या तिलिस्म है दुनिया पे बार गुज़री है,
वो ज़िंदगी जो सर-ए-रहगुज़ार गुज़री है !

गुलों की गुम-शुदगी से सुराग़ मिलता है,
कहीं चमन से नसीम-ए-बहार गुज़री है !

कहीं सहर का उजाला हुआ है हम-नफ़सो,
कि मौज-ए-बर्क़ सर-ए-शाख़-सार गुज़री है !

रहा है ये सर-ए-शोरीदा मिस्ल-ए-शोला बुलंद,
अगरचे मुझ पे क़यामत हज़ार गुज़री है !

ये हादिसा भी हुआ है कि इश्क़-ए-यार की याद,
दयार-ए-क़ल्ब से बेगाना-वार गुज़री है !

उन्हीं को अर्ज़-ए-वफ़ा का था इश्तियाक़ बहुत,
उन्हीं को अर्ज़-ए-वफ़ा ना-गवार गुज़री है !

हरीम-ए-शौक़ महकता है आज तक “आबिद“,
यहाँ से निकहत-ए-गेसू-ए-यार गुज़री है !!

 

Bahut Roya Wo Humko Yaad Kar Ke..

Bahut roya wo humko yaad kar ke,
Hamari zindagi barbaad kar ke.

Palat kar phir yahin aa jayenge hum,
Wo dekhe to hamein aazad kar ke.

Rihai ki koi surat nahi hai,
Magar han minnat-e-sayyaad kar ke.

Badan mera chhua tha us ne lekin,
Gaya hai ruh ko aabaad kar ke.

Har aamir tul dena chahta hai,
Muqarrar zulm ki miad kar ke. !!

बहुत रोया वो हमको याद कर के,
हमारी ज़िंदगी बरबाद कर के !

पलट कर फिर यहीं आ जाएँगे हम,
वो देखे तो हमें आज़ाद कर के !

रिहाई की कोई सूरत नहीं है,
मगर हाँ मिन्नत-ए-सय्याद कर के !

बदन मेरा छुआ था उस ने लेकिन,
गया है रूह को आबाद कर के !

हर आमिर तूल देना चाहता है,
मुक़र्रर ज़ुल्म की मीआद कर के !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Apne Hamrah Khud Chala Karna..

Apne hamrah khud chala karna,
Kaun aayega mat ruka karna.

Khud ko pahchanne ki koshish mein,
Der tak aaina taka karna.

Rukh agar bastiyon ki jaanib hai,
Har taraf dekh kar chala karna.

Wo payambar tha bhul jata tha,
Sirf apne liye dua karna.

Yaar kya zindagi hai sooraj ki,
Subh se sham tak jala karna.

Kuch to apni khabar mile mujh ko,
Mere bare mein kuch kaha karna.

Main tumhein aazmaunga ab ke,
Tum mohabbat ki inteha karna.

Us ne sach bol kar bhi dekha hai,
Jis ki aadat hai chup raha karna. !!

अपने हमराह ख़ुद चला करना,
कौन आएगा मत रुका करना !

ख़ुद को पहचानने की कोशिश में,
देर तक आइना तका करना !

रुख़ अगर बस्तियों की जानिब है,
हर तरफ़ देख कर चला करना !

वो पयम्बर था भूल जाता था,
सिर्फ़ अपने लिए दुआ करना !

यार क्या ज़िंदगी है सूरज की,
सुब्ह से शाम तक जला करना !

कुछ तो अपनी ख़बर मिले मुझ को,
मेरे बारे में कुछ कहा करना !

मैं तुम्हें आज़माऊँगा अब के,
तुम मोहब्बत की इंतिहा करना !

उस ने सच बोल कर भी देखा है,
जिस की आदत है चुप रहा करना !!

Amir Qazalbash All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Ek Parinda Abhi Udaan Me Hai..

Ek parinda abhi udaan me hai,
Tir har shakhs ki kaman mein hai.

Jis ko dekho wahi hai chup chup sa,
Jaise har shakhs imtihan mein hai.

Kho chuke hum yakin jaisi shai,
Tu abhi tak kisi guman mein hai.

Zindagi sang-dil sahi lekin,
Aaina bhi isi chatan mein hai.

Sar-bulandi nasib ho kaise,
Sar-nigun hai ki sayeban mein hai.

Khauf hi khauf jagte sote,
Koi aaseb is makan mein hai.

Aasra dil ko ek umid ka hai,
Ye hawa kab se baadban mein hai.

Khud ko paya na umar bhar hum ne,
Kaun hai jo hamare dhyan mein hai. !!

एक परिंदा अभी उड़ान में है,
तीर हर शख़्स की कमान में है !

जिस को देखो वही है चुप चुप सा,
जैसे हर शख़्स इम्तिहान में है !

खो चुके हम यक़ीन जैसी शय,
तू अभी तक किसी गुमान में है !

ज़िंदगी संग-दिल सही लेकिन,
आईना भी इसी चटान में है !

सर-बुलंदी नसीब हो कैसे,
सर-निगूँ है कि साएबान में है !

ख़ौफ़ ही ख़ौफ़ जागते सोते,
कोई आसेब इस मकान में है !

आसरा दिल को एक उमीद का है,
ये हवा कब से बादबान में है !

ख़ुद को पाया न उम्र भर हम ने,
कौन है जो हमारे ध्यान में है !!

Amir Qazalbash All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Lab Pe Pabandi To Hai Ehsas Par Pahra To Hai

Lab pe pabandi to hai ehsas par pahra to hai,
Phir bhi ahl-e-dil ko ahwal-e-bashar kahna to hai.

Khun-e-ada se na ho khun-e-shahidan hi se ho,
Kuch na kuch is daur mein rang-e-chaman nikhra to hai.

Apni ghairat bech dalen apna maslak chhod den,
Rahnumaon mein bhi kuch logon ka ye mansha to hai.

Hai jinhen sab se ziyada dawa-e-hubbul-watan,
Aaj un ki wajh se hubb-e-watan ruswa to hai.

Bujh rahe hain ek ek kar ke aqidon ke diye,
Is andhere ka bhi lekin samna karna to hai.

Jhuth kyun bolen farogh-e-maslahat ke naam par,
Zindagi pyari sahi lekin hamein marna to hai. !!

लब पे पाबंदी तो है एहसास पर पहरा तो है,
फिर भी अहल-ए-दिल को अहवाल-ए-बशर कहना तो है !

ख़ून-ए-आदा से न हो ख़ून-ए-शहीदाँ ही से हो,
कुछ न कुछ इस दौर में रंग-ए-चमन निखरा तो है !

अपनी ग़ैरत बेच डालें अपना मस्लक छोड़ दें,
रहनुमाओं में भी कुछ लोगों का ये मंशा तो है !

है जिन्हें सब से ज़ियादा दावा-ए-हुब्बुल-वतन,
आज उन की वज्ह से हुब्ब-ए-वतन रुस्वा तो है !

बुझ रहे हैं एक एक कर के अक़ीदों के दिए,
इस अँधेरे का भी लेकिन सामना करना तो है !

झूठ क्यूँ बोलें फ़रोग़-ए-मस्लहत के नाम पर,
ज़िंदगी प्यारी सही लेकिन हमें मरना तो है !!

Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Milti Hai Zindagi Mein Mohabbat Kabhi Kabhi..

Milti hai zindagi mein mohabbat kabhi kabhi,
Hoti hai dilbaron ki inayat kabhi kabhi.

Sharma ke munh na pher nazar ke sawal par,
Lati hai aise mod pe kismat kabhi kabhi.

Khulte nahi hain roz dariche bahaar ke,
Aati hai jaan-e-man ye qayamat kabhi kabhi.

Tanha na kat sakenge jawani ke raste,
Pesh aayegi kisi ki zarurat kabhi kabhi.

Phir kho na jayen hum kahin duniya ki bhid mein,
Milti hai pas aane ki mohlat kabhi kabhi. !!

मिलती है ज़िंदगी में मोहब्बत कभी कभी,
होती है दिलबरों की इनायत कभी कभी !

शर्मा के मुँह न फेर नज़र के सवाल पर,
लाती है ऐसे मोड़ पे क़िस्मत कभी कभी !

खुलते नहीं हैं रोज़ दरीचे बहार के,
आती है जान-ए-मन ये क़यामत कभी कभी !

तन्हा न कट सकेंगे जवानी के रास्ते,
पेश आएगी किसी की ज़रूरत कभी कभी !

फिर खो न जाएँ हम कहीं दुनिया की भीड़ में,
मिलती है पास आने की मोहलत कभी कभी !!