Home / Poetry Types Zameen

Poetry Types Zameen

Ajab talash-e-musalsal ka ikhtitam hua..

Ajab talash-e-musalsal ka ikhtitam hua,
Husul-e-rizq hua bhi to zer-e-dam hua.

Tha intezaar manayenge mil ke diwali,
Na tum hi laut ke aaye na waqt-e-sham hua.

Har ek shahr ka mear mukhtalif dekha,
Kahin pe sar kahin pagdi ka ehtiram hua.

Zara si umar adawat ki lambi fehristen,
Ajib qarz wirasat mein mere naam hua.

Na thi zamin mein wusat meri nazar jaisi,
Badan thaka bhi nahi aur safar tamam hua.

Hum apne sath liye phir rahe hain pachhtawa,
Khayal laut ke jaane ka gam gam hua. !!

अजब तलाश-ए-मुसलसल का इख़्तिताम हुआ,
हुसूल-ए-रिज़्क़ हुआ भी तो ज़ेर-ए-दाम हुआ !

था इंतिज़ार मनाएँगे मिल के दीवाली,
न तुम ही लौट के आए न वक़्त-ए-शाम हुआ !

हर एक शहर का मेआर मुख़्तलिफ़ देखा,
कहीं पे सर कहीं पगड़ी का एहतिराम हुआ !

ज़रा सी उम्र अदावत की लम्बी फ़ेहरिस्तें,
अजीब क़र्ज़ विरासत में मेरे नाम हुआ !

न थी ज़मीन में वुसअत मेरी नज़र जैसी,
बदन थका भी नहीं और सफ़र तमाम हुआ !

हम अपने साथ लिए फिर रहे हैं पछतावा,
ख़याल लौट के जाने का गाम गाम हुआ !!

 

Kahin se laut ke hum ladkhadaye hain kya-kya..

Kahin se laut ke hum ladkhadaye hain kya-kya,
Sitare zer-e-qadam raat aaye hain kya-kya.

Nasheb-e-hasti se afsos hum ubhar na sake,
Faraaz-e-dar se paigham aaye hain kya-kya.

Jab uss ne haar ke khanjar zameen pe phenk diya,
Tamaam zakhm-e-jigar muskuraye hain kya-kya.

Chhata jahan se uss aawaz ka ghana badal,
Wahin se dhoop ne talve jalaye hain kya-kya.

Utha ke sar mujhe itna do dekh lene de,
Ki qatl-gaah mein diwane aaye hain kya-kya.

Kahin andhere se maanus ho na jaye adab,
charagh tez hawa ne bujhaye hain kya-kya. !!

कहीं से लौट के हम लड़खड़ाए हैं क्या-क्या,
सितारे ज़ेर-ए-क़दम रात आए हैं क्या-क्या !

नशेब-ए-हस्ती से अफ़्सोस हम उभर न सके,
फ़राज़-ए-दार से पैग़ाम आए हैं क्या-क्या !

जब उस ने हार के ख़ंजर ज़मीन पे फेंक दिया,
तमाम ज़ख़्म-ए-जिगर मुस्कुराए हैं क्या-क्या !

छटा जहाँ से उस आवाज़ का घना बादल,
वहीं से धूप ने तलवे जलाए हैं क्या-क्या !

उठा के सर मुझे इतना तो देख लेने दे,
कि क़त्ल-गाह में दीवाने आए हैं क्या-क्या !

कहीं अँधेरे से मानूस हो न जाए अदब,
चराग़ तेज़ हवा ने बुझाए हैं क्या-क्या !!

 

Khar-o-khas to uthen rasta to chale

Khar-o-khas to uthen rasta to chale,
Main agar thak gaya qafila to chale.

Chaand suraj buzurgon ke naqsh-e-qadam,
Khair bujhne do un ko hawa to chale.

Hakim-e-shahr ye bhi koi shahr hai,
Masjiden band hain mai-kada to chale.

Us ko mazhab kaho ya siyasat kaho,
Khud-kushi ka hunar tum sikha to chale.

Itni lashein main kaise utha paunga,
Aap inton ki hurmat bacha to chale.

Belche lao kholo zameen ki tahen,
Main kahan dafn hun kuchh pata to chale. !!

ख़ार-ओ-ख़स तो उठें रास्ता तो चले,
मैं अगर थक गया क़ाफ़िला तो चले !

चाँद सूरज बुज़ुर्गों के नक़्श-ए-क़दम,
ख़ैर बुझने दो उन को हवा तो चले !

हाकिम-ए-शहर ये भी कोई शहर है,
मस्जिदें बंद हैं मय-कदा तो चले !

उस को मज़हब कहो या सियासत कहो,
ख़ुद-ख़ुशी का हुनर तुम सिखा तो चले !

इतनी लाशें मैं कैसे उठा पाऊँगा,
आप ईंटों की हुरमत बचा तो चले !

बेलचे लाओ खोलो ज़मीन की तहें,
मैं कहाँ दफ़्न हूँ कुछ पता तो चले !!

 

Jo wo mere na rahe main bhi kab kisi ka raha..

Jo wo mere na rahe main bhi kab kisi ka raha,
Bichhad ke un se saliqa na zindagi ka raha.

Labon se ud gaya jugnu ki tarah naam us ka,
Sahaara ab mere ghar mein na raushni ka raha.

Guzarne ko to hazaron hi qafile guzre,
Zameen pe naqsh-e-qadam bas kisi-kisi ka raha. !!

जो वो मेरे न रहे मैं भी कब किसी का रहा,
बिछड़ के उन से सलीक़ा न ज़िंदगी का रहा !

लबों से उड़ गया जुगनू की तरह नाम उस का,
सहारा अब मेरे घर में न रौशनी का रहा !

गुज़रने को तो हज़ारों ही क़ाफ़िले गुज़रे,
ज़मीन पे नक़्श-ए-क़दम बस किसी-किसी का रहा !!

Wo bhi sarahne lage arbab-e-fan ke baad

Wo bhi sarahne lage arbab-e-fan ke baad,
Dad-e-sukhan mili mujhe tark-e-sukhan ke baad.

Diwana-war chaand se aage nikal gaye,
Thahra na dil kahin bhi teri anjuman ke baad.

Honton ko si ke dekhiye pachhtaiyega aap,
Hangame jag uthte hain aksar ghutan ke baad.

Ghurbat ki thandi chhanw mein yaad aayi us ki dhup,
Qadr-e-watan hui hamein tark-e-watan ke baad.

Elan-e-haq mein khatra-e-dar-o-rasan to hai,
Lekin sawal ye hai ki dar-o-rasan ke baad.

Insan ki khwahishon ki koi intiha nahi,
Do gaz zameen bhi chahiye do gaz kafan ke baad. !!

वो भी सराहने लगे अर्बाब-ए-फ़न के बाद,
दाद-ए-सुख़न मिली मुझे तर्क-ए-सुख़न के बाद !

दीवाना-वार चाँद से आगे निकल गए,
ठहरा न दिल कहीं भी तेरी अंजुमन के बाद !

होंटों को सी के देखिए पछ्ताइएगा आप,
हंगामे जाग उठते हैं अक्सर घुटन के बाद !

ग़ुर्बत की ठंडी छाँव में याद आई उस की धूप,
क़द्र-ए-वतन हुई हमें तर्क-ए-वतन के बाद !

एलान-ए-हक़ में ख़तरा-ए-दार-ओ-रसन तो है,
लेकिन सवाल ये है कि दार-ओ-रसन के बाद !

इंसान की ख़्वाहिशों की कोई इंतिहा नहीं,
दो गज़ ज़मीन भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद !!

 

Patthar ke khuda wahan bhi paaye..

Patthar ke khuda wahan bhi paaye,
Hum chaand se aaj laut aaye.

Deewaren to har taraf khadi hain,
Kya ho gaye meharaban saaye.

Jungal ki hawayen aa rahi hain,
Kaghaz ka ye shehar ud na jaye.

Laila ne naya janam liya hai,
Hai qais koi jo dil lagaye.

Hai aaj zameen ka ghusl-e-sehat,
Jis dil mein ho jitna khoon laaye.

Sehra sehra lahoo ke kheme,
Phir pyaase lab-e-furaat aaye. !!

पत्थर के ख़ुदा वहाँ भी पाए,
हम चाँद से आज लौट आए !

दीवारें तो हर तरफ़ खड़ी हैं,
क्या हो गए मेहरबान साए

जंगल की हवाएँ आ रही हैं,
काग़ज़ का ये शहर उड़ न जाए !

लैला ने नया जनम लिया है,
है क़ैस कोई जो दिल लगाए !

है आज ज़मीं का ग़ुस्ल-ए-सेह्हत,
जिस दिल में हो जितना ख़ून लाए !

सहरा-सहरा लहू के खे़मे,
फिर प्यासे लब-ए-फ़ुरात आए !!

 

Zindagi jab bhi teri bazm mein lati hai hamein

Zindagi jab bhi teri bazm mein lati hai hamein,
Ye zameen chand se behtar nazar aati hai hamein.

Surkh phoolon se mahak uthti hain dil ki raahein,
Din dhale yun teri aawaz bulati hai hamein.

Yaad teri kabhi dastak kabhi sargoshi se,
Raat ke pichhle pahar roz jagati hai hamein.

Har mulaqat ka anjam judai kyon hai,
Ab to har waqt yehi baat satati hai hamein. !!

ज़िन्दगी जब भी तेरी बज़्म में लाती है हमें,
ये ज़मीन चाँद से बेहतर नज़र आती है हमें !

सुर्ख फूलों से महक उठती हैं दिल की राहें,
दिन ढले यूँ तेरी आवाज़ बुलाती है हमें !

याद तेरी कभी दस्तक कभी सरगोशी से,
रात के पिछले पहर रोज़ जगाती है हमें !

हर मुलाक़ात का अंजाम जुदाई क्यों है,
अब तो हर वक़्त यही बात सताती है हमें !!