Home / Poetry Types Zakhm

Poetry Types Zakhm

Zakhm dil ke agar siye hote..

Zakhm dil ke agar siye hote,
Ahl-e-dil kis tarah jiye hote.

Wo mile bhi to ek jhijhak si rahi,
Kash thodi si hum piye hote.

Aarzoo mutmain to ho jati,
Aur bhi kuchh sitam kiye hote.

Lazzat-e-gham to bakhsh di us ne,
Hausle bhi “Adam” diye hote. !!

ज़ख़्म दिल के अगर सिए होते,
अहल-ए-दिल किस तरह जिए होते !

वो मिले भी तो इक झिझक सी रही,
काश थोड़ी सी हम पिए होते !

आरज़ू मुतमइन तो हो जाती,
और भी कुछ सितम किए होते !

लज़्ज़त-ए-ग़म तो बख़्श दी उस ने,
हौसले भी “अदम” दिए होते !!

 

Kitne hi ped khauf-e-khizan se ujad gaye..

Kitne hi ped khauf-e-khizan se ujad gaye,
Kuchh barg-e-sabz waqt se pahle hi jhad gaye.

Kuchh aadhiyan bhi apnī muavin safar mein thi,
Thak kar padav dala to kheme ukhad gaye.

Ab ke meri shikast mein un ka bhi haath hai,
Woh tir jo kaman ke panje mein gad gaye.

Suljhi thi gutthiyan meri danist mein magar,
Hasil ye hai ki zakhmon ke tanke ukhad gaye.

Nirwan kya bas ab to aman ki talash hai,
Tahzib phailne lagi jangal sukad gaye.

Is band ghar mein kaise kahun kya tilism hai,
Khole the jitne qufl woh honthon pe pad gaye.

Be-saltanat hui hain kayi unchi gardanen,
Bahar saron ke dast-e-tasallut se dhad gaye. !!

कितने ही पेड़ ख़ौफ़-ए-ख़िज़ाँ से उजड़ गए,
कुछ बर्ग-ए-सब्ज़ वक़्त से पहले ही झड़ गए !

कुछ आँधियाँ भी अपनी मुआविन सफ़र में थीं,
थक कर पड़ाव डाला तो ख़ेमे उखड़ गए !

अब के मेरी शिकस्त में उन का भी हाथ है,
वो तीर जो कमान के पंजे में गड़ गए !

सुलझी थीं गुत्थियाँ मेरी दानिस्त में मगर,
हासिल ये है कि ज़ख़्मों के टाँके उखड़ गए !

निरवान क्या बस अब तो अमाँ की तलाश है,
तहज़ीब फैलने लगी जंगल सुकड़ गए !

इस बंद घर में कैसे कहूँ क्या तिलिस्म है,
खोले थे जितने क़ुफ़्ल वो होंटों पे पड़ गए !

बे-सल्तनत हुई हैं कई ऊँची गर्दनें,
बाहर सरों के दस्त-ए-तसल्लुत से धड़ गए !!

 

Ye qarz to mera hai chukayega koi aur..

Ye qarz to mera hai chukayega koi aur,
Dukh mujh ko hai aur nir bahayega koi aur.

Kya phir yunhi di jayegi ujrat pe gawahi,
Kya teri saza ab ke bhi payega koi aur.

Anjam ko pahunchunga main anjam se pahle,
Khud meri kahani bhi sunayega koi aur.

Tab hogi khabar kitni hai raftar-e-taghayyur,
Jab sham dhale laut ke aayega koi aur.

Ummid-e-sahar bhi to wirasat mein hai shamil,
Shayad ki deeya ab ke jalayega koi aur.

Kab bar-e-tabassum mere honton se uthega,
Ye bojh bhi lagta hai uthayega koi aur.

Is bar hun dushman ki rasai se bahut dur,
Is bar magar zakhm lagayega koi aur.

Shamil pas-e-parda bhi hain is khel mein kuchh log,
Bolega koi hont hilayega koi aur. !!

ये क़र्ज़ तो मेरा है चुकाएगा कोई और,
दुख मुझ को है और नीर बहाएगा कोई और !

क्या फिर यूँही दी जाएगी उजरत पे गवाही,
क्या तेरी सज़ा अब के भी पाएगा कोई और !

अंजाम को पहुँचूँगा मैं अंजाम से पहले,
ख़ुद मेरी कहानी भी सुनाएगा कोई और !

तब होगी ख़बर कितनी है रफ़्तार-ए-तग़य्युर,
जब शाम ढले लौट के आएगा कोई और !

उम्मीद-ए-सहर भी तो विरासत में है शामिल,
शायद कि दीया अब के जलाएगा कोई और !

कब बार-ए-तबस्सुम मेरे होंटों से उठेगा,
ये बोझ भी लगता है उठाएगा कोई और !

इस बार हूँ दुश्मन की रसाई से बहुत दूर,
इस बार मगर ज़ख़्म लगाएगा कोई और !

शामिल पस-ए-पर्दा भी हैं इस खेल में कुछ लोग,
बोलेगा कोई होंट हिलाएगा कोई और !!

 

Jiwan ko dukh dukh ko aag aur aag ko pani kahte..

Jiwan ko dukh dukh ko aag aur aag ko pani kahte,
Bachche lekin soye hue the kis se kahani kahte.

Sach kahne ka hausla tum ne chhin liya hai warna,
Shehar mein phaili virani ko sab virani kahte.

Waqt guzarta jata aur ye zakhm hare rahte to,
Badi hifazat se rakkhi hai teri nishani kahte.

Wo to shayad donon ka dukh ek jaisa tha warna,
Hum bhi patthar marte tujh ko aur diwani kahte.

Tabdili sachchai hai is ko mante lekin kaise,
Aaine ko dekh ke ek taswir purani kahte.

Tera lahja apnaya ab dil mein hasrat si hai,
Apni koi baat kabhi to apni zabani kahte.

Chup rah kar izhaar kiya hai kah sakte to “Aanis”,
Ek alahida tarz-e-sukhan ka tujh ko bani kahte. !!

जीवन को दुख दुख को आग और आग को पानी कहते,
बच्चे लेकिन सोए हुए थे किस से कहानी कहते !

सच कहने का हौसला तुम ने छीन लिया है वर्ना,
शहर में फैली वीरानी को सब वीरानी कहते !

वक़्त गुज़रता जाता और ये ज़ख़्म हरे रहते तो,
बड़ी हिफ़ाज़त से रक्खी है तेरी निशानी कहते !

वो तो शायद दोनों का दुख एक जैसा था वर्ना,
हम भी पत्थर मारते तुझ को और दीवानी कहते !

तब्दीली सच्चाई है इस को मानते लेकिन कैसे,
आईने को देख के एक तस्वीर पुरानी कहते !

तेरा लहजा अपनाया अब दिल में हसरत सी है,
अपनी कोई बात कभी तो अपनी ज़बानी कहते !

चुप रह कर इज़हार किया है कह सकते तो “अनीस”,
एक अलाहिदा तर्ज़-ए-सुख़न का तुझ को बानी कहते !!

 

Ujad ujad ke sanwarti hai tere hijr ki sham..

Ujad ujad ke sanwarti hai tere hijr ki sham,
Na puchh kaise guzarti hai tere hijr ki sham.

Ye barg barg udasi bikhar rahi hai meri,
Ki shakh shakh utarti hai tere hijr ki sham.

Ujad ghar mein koi chand kab utarta hai,
Sawal mujh se ye karti hai tere hijr ki sham.

Mere safar mein ek aisa bhi mod aata hai,
Jab apne aap se darti hai tere hijr ki sham.

Bahut aziz hain dil ko ye zakhm zakhm ruten,
Inhi ruton mein nikharti hai tere hijr ki sham.

Ye mera dil ye sarasar nigar-khana-e-gham,
Sada isi mein utarti hai tere hijr ki sham.

Jahan jahan bhi milen teri qurbaton ke nishan,
Wahan wahan se ubharti hai tere hijr ki sham.

Ye hadisa tujhe shayad udas kar dega,
Ki mere sath hi marti hai tere hijr ki sham. !!

उजड़ उजड़ के सँवरती है तेरे हिज्र की शाम,
न पूछ कैसे गुज़रती है तेरे हिज्र की शाम !

ये बर्ग बर्ग उदासी बिखर रही है मेरी,
कि शाख़ शाख़ उतरती है तेरे हिज्र की शाम !

उजाड़ घर में कोई चाँद कब उतरता है,
सवाल मुझ से ये करती है तेरे हिज्र की शाम !

मेरे सफ़र में एक ऐसा भी मोड़ आता है,
जब अपने आप से डरती है तेरे हिज्र की शाम !

बहुत अज़ीज़ हैं दिल को ये ज़ख़्म ज़ख़्म रुतें,
इन्ही रुतों में निखरती है तेरे हिज्र की शाम !

ये मेरा दिल ये सरासर निगार-खाना-ए-ग़म,
सदा इसी में उतरती है तेरे हिज्र की शाम !

जहाँ जहाँ भी मिलें तेरी क़ुर्बतों के निशाँ,
वहाँ वहाँ से उभरती है तेरे हिज्र की शाम !

ये हादिसा तुझे शायद उदास कर देगा,
कि मेरे साथ ही मरती है तेरे हिज्र की शाम !!

 

Ashk apna ki tumhara nahi dekha jata..

Ashk apna ki tumhara nahi dekha jata,
Abr ki zad mein sitara nahi dekha jata.

Apni shah-e-rag ka lahu tan mein rawan hai jab tak,
Zer-e-khanjar koi pyara nahi dekha jata.

Mauj-dar-mauj ulajhne ki hawas be-mani,
Dubta ho to sahaara nahi dekha jata.

Tere chehre ki kashish thi ki palat kar dekha,
Warna suraj to dobara nahi dekha jata.

Aag ki zid pe na ja phir se bhadak sakti hai,
Rakh ki tah mein sharara nahi dekha jata.

Zakhm aankhon ke bhi sahte the kabhi dil wale,
Ab to abru ka ishaara nahi dekha jata.

Kya qayamat hai ki dil jis ka nagar hai “Mohsin”,
Dil pe us ka bhi ijara nahi dekha jata. !!

अश्क अपना कि तुम्हारा नहीं देखा जाता,
अब्र की ज़द में सितारा नहीं देखा जाता !

अपनी शह-ए-रग का लहू तन में रवाँ है जब तक,
ज़ेर-ए-ख़ंजर कोई प्यारा नहीं देखा जाता !

मौज-दर-मौज उलझने की हवस बे-मानी,
डूबता हो तो सहारा नहीं देखा जाता !

तेरे चेहरे की कशिश थी कि पलट कर देखा,
वर्ना सूरज तो दोबारा नहीं देखा जाता !

आग की ज़िद पे न जा फिर से भड़क सकती है,
राख की तह में शरारा नहीं देखा जाता !

ज़ख़्म आँखों के भी सहते थे कभी दिल वाले,
अब तो अबरू का इशारा नहीं देखा जाता !

क्या क़यामत है कि दिल जिस का नगर है “मोहसिन”,
दिल पे उस का भी इजारा नहीं देखा जाता !!

 

Jab se us ne shehar ko chhoda har rasta sunsan hua..

Jab se us ne shehar ko chhoda har rasta sunsan hua,
Apna kya hai sare shehar ka ek jaisa nuqsan hua.

Ye dil ye aaseb ki nagri maskan sochun wahmon ka,
Soch raha hun is nagri mein tu kab se mehman hua.

Sahra ki munh-zor hawayen auron se mansub hui,
Muft mein hum aawara thahre muft mein ghar viran hua.

Mere haal pe hairat kaisi dard ke tanha mausam mein,
Patthar bhi ro padte hain insan to phir insan hua.

Itni der mein ujde dil par kitne mahshar bit gaye,
Jitni der mein tujh ko pa kar khone ka imkan hua.

Kal tak jis ke gird tha raqsan ek amboh sitaron ka,
Aaj usi ko tanha pa kar main to bahut hairan hua.

Us ke zakhm chhupa kar rakhiye khud us shakhs ki nazron se,
Us se kaisa shikwa kije wo to abhi nadan hua.

Jin ashkon ki phiki lau ko hum be-kar samajhte the,
Un ashkon se kitna raushan ek tarik makan hua.

Yun bhi kam-amez tha “Mohsin” wo is shehar ke logon mein,
Lekin mere samne aa kar aur bhi kuchh anjaan hua. !!

जब से उस ने शहर को छोड़ा हर रस्ता सुनसान हुआ,
अपना क्या है सारे शहर का एक जैसा नुक़सान हुआ !

ये दिल ये आसेब की नगरी मस्कन सोचूँ वहमों का,
सोच रहा हूँ इस नगरी में तू कब से मेहमान हुआ !

सहरा की मुँह-ज़ोर हवाएँ औरों से मंसूब हुईं,
मुफ़्त में हम आवारा ठहरे मुफ़्त में घर वीरान हुआ !

मेरे हाल पे हैरत कैसी दर्द के तन्हा मौसम में,
पत्थर भी रो पड़ते हैं इंसान तो फिर इंसान हुआ !

इतनी देर में उजड़े दिल पर कितने महशर बीत गए,
जितनी देर में तुझ को पा कर खोने का इम्कान हुआ !

कल तक जिस के गिर्द था रक़्साँ एक अम्बोह सितारों का,
आज उसी को तन्हा पा कर मैं तो बहुत हैरान हुआ !

उस के ज़ख़्म छुपा कर रखिए ख़ुद उस शख़्स की नज़रों से,
उस से कैसा शिकवा कीजे वो तो अभी नादान हुआ !

जिन अश्कों की फीकी लौ को हम बे-कार समझते थे,
उन अश्कों से कितना रौशन एक तारीक मकान हुआ !

यूँ भी कम-आमेज़ था “मोहसिन” वो इस शहर के लोगों में,
लेकिन मेरे सामने आ कर और भी कुछ अंजान हुआ !!