Wednesday , April 8 2020

Poetry Types Yaad

Ye Kya Tilism Hai Duniya Pe Bar Guzri Hai

Ye kya tilism hai duniya pe bar guzri hai,
Wo zindagi jo sar-e-rahguzar guzri hai.

Gulon ki gum-shudagi se suragh milta hai,
Kahin chaman se nasim-e-bahaar guzri hai.

Kahin sahar ka ujala hua hai ham-nafaso,
Ki mauj-e-barq sar-e-shakh-sar guzri hai.

Raha hai ye sar-e-shorida misl-e-shola buland,
Agarche mujh pe qayamat hazar guzri hai.

Ye hadisa bhi hua hai ki ishq-e-yar ki yaad,
Dayar-e-qalb se begana-war guzri hai.

Unhin ko arz-e-wafa ka tha ishtiyaq bahut,
Unhin ko arz-e-wafa na-gawar guzri hai.

Harim-e-shauq mahakta hai aaj tak “Abid“,
Yahan se nikhat-e-gesu-e-yar guzri hai. !!

ये क्या तिलिस्म है दुनिया पे बार गुज़री है,
वो ज़िंदगी जो सर-ए-रहगुज़ार गुज़री है !

गुलों की गुम-शुदगी से सुराग़ मिलता है,
कहीं चमन से नसीम-ए-बहार गुज़री है !

कहीं सहर का उजाला हुआ है हम-नफ़सो,
कि मौज-ए-बर्क़ सर-ए-शाख़-सार गुज़री है !

रहा है ये सर-ए-शोरीदा मिस्ल-ए-शोला बुलंद,
अगरचे मुझ पे क़यामत हज़ार गुज़री है !

ये हादिसा भी हुआ है कि इश्क़-ए-यार की याद,
दयार-ए-क़ल्ब से बेगाना-वार गुज़री है !

उन्हीं को अर्ज़-ए-वफ़ा का था इश्तियाक़ बहुत,
उन्हीं को अर्ज़-ए-वफ़ा ना-गवार गुज़री है !

हरीम-ए-शौक़ महकता है आज तक “आबिद“,
यहाँ से निकहत-ए-गेसू-ए-यार गुज़री है !!

 

Apni Tanhai Mere Naam Pe Aabaad Kare..

Apni tanhai mere naam pe aabaad kare,
Kaun hoga jo mujhe us ki tarah yaad kare.

Dil ajab shahr ki jis par bhi khula dar is ka,
Wo musafir ise har samt se barbaad kare.

Apne qatil ki zehanat se pareshan hun main,
Roz ek maut naye tarz ki ijad kare.

Itna hairan ho meri be-talabi ke aage,
Wa qafas mein koi dar khud mera sayyaad kare.

Salb-e-binai ke ahkaam mile hain jo kabhi,
Raushni chhune ki khwahish koi shab-zad kare.

Soch rakhna bhi jaraem mein hai shamil ab to,
Wahi masum hai har baat pe jo sad kare.

Jab lahu bol pade us ke gawahon ke khilaf,
Qazi-e-shahr kuchh is bab mein irshad kare.

Us ki mutthi mein bahut roz raha mera wajud,
Mere sahir se kaho ab mujhe aazad kare. !!

अपनी तन्हाई मेरे नाम पे आबाद करे,
कौन होगा जो मुझे उस की तरह याद करे !

दिल अजब शहर कि जिस पर भी खुला दर इस का,
वो मुसाफ़िर इसे हर सम्त से बरबाद करे !

अपने क़ातिल की ज़ेहानत से परेशान हूँ मैं,
रोज़ एक मौत नए तर्ज़ की ईजाद करे !

इतना हैराँ हो मेरी बे-तलबी के आगे,
वा क़फ़स में कोई दर ख़ुद मेरा सय्याद करे !

सल्ब-ए-बीनाई के अहकाम मिले हैं जो कभी,
रौशनी छूने की ख़्वाहिश कोई शब-ज़ाद करे !

सोच रखना भी जराएम में है शामिल अब तो,
वही मासूम है हर बात पे जो साद करे !

जब लहू बोल पड़े उस के गवाहों के ख़िलाफ़,
क़ाज़ी-ए-शहर कुछ इस बाब में इरशाद करे !

उस की मुट्ठी में बहुत रोज़ रहा मेरा वजूद,
मेरे साहिर से कहो अब मुझे आज़ाद करे !!

Parveen Shakir Ghazal

 

Gaye Mausam Mein Jo Khilte The Gulabon Ki Tarah..

Gaye mausam mein jo khilte the gulabon ki tarah,
Dil pe utrenge wahi khwab azabon ki tarah.

Rakh ke dher pe ab raat basar karni hai,
Jal chuke hain mere kheme mere khwabon ki tarah.

Saat-e-did ki aariz hain gulabi ab tak,
Awwalin lamhon ke gulnar hijabon ki tarah.

Wo samundar hai to phir ruh ko shadab kare,
Tishnagi kyun mujhe deta hai sharaabon ki tarah.

Ghair-mumkin hai tere ghar ke gulabon ka shumar,
Mere riste hue zakhmon ke hisabon ki tarah.

Yaad to hongi wo baaten tujhe ab bhi lekin,
Shelf mein rakkhi hui band kitabon ki tarah.

Kaun jaane ki naye sal mein tu kis ko padhe,
Tera mear badalta hai nisabon ki tarah.

Shokh ho jati hai ab bhi teri aankhon ki chamak,
Gahe gahe tere dilchasp jawabon ki tarah.

Hijr ki shab meri tanhai pe dastak degi,
Teri khush-bu mere khoye hue khwabon ki tarah. !!

गए मौसम में जो खिलते थे गुलाबों की तरह,
दिल पे उतरेंगे वही ख़्वाब अज़ाबों की तरह !

राख के ढेर पे अब रात बसर करनी है,
जल चुके हैं मेरे ख़ेमे मेरे ख़्वाबों की तरह !

साअत-ए-दीद कि आरिज़ हैं गुलाबी अब तक,
अव्वलीं लम्हों के गुलनार हिजाबों की तरह !

वो समुंदर है तो फिर रूह को शादाब करे,
तिश्नगी क्यूं मुझे देता है शराबों की तरह !

ग़ैर-मुमकिन है तेरे घर के गुलाबों का शुमार,
मेरे रिश्ते हुए ज़ख़्मों के हिसाबों की तरह !

याद तो होंगी वो बातें तुझे अब भी लेकिन,
शेल्फ़ में रक्खी हुई बंद किताबों की तरह !

कौन जाने कि नए साल में तू किस को पढ़े,
तेरा मेआर बदलता है निसाबों की तरह !

शोख़ हो जाती है अब भी तेरी आंखों की चमक,
गाहे गाहे तेरे दिलचस्प जवाबों की तरह !

हिज्र की शब मेरी तन्हाई पे दस्तक देगी,
तेरी ख़ुश-बू मेरे खोए हुए ख़्वाबों की तरह !!

Parveen Shakir Ghazal

 

Apni Ruswai Tere Naam Ka Charcha Dekhun..

Apni ruswai tere naam ka charcha dekhun,
Ek zara sher kahun aur main kya kya dekhun.

Nind aa jaye to kya mahfilen barpa dekhun,
Aankh khul jaye to tanhai ka sahra dekhun.

Sham bhi ho gayi dhundla gain aankhen bhi meri,
Bhulne wale main kab tak tera rasta dekhun.

Ek ek kar ke mujhe chhod gayi sab sakhiyan,
Aaj main khud ko teri yaad mein tanha dekhun.

Kash sandal se meri mang ujale aa kar,
Itne ghairon mein wahi hath jo apna dekhun.

Tu mera kuch nahi lagta hai magar jaan-e-hayat,
Jaane kyun tere liye dil ko dhdakna dekhun.

Band kar ke meri aankhen wo shararat se hanse,
Bujhe jaane ka main har roz tamasha dekhun.

Sab ziden us ki main puri karun har baat sunun,
Ek bachche ki tarah se use hansta dekhun.

Mujh pe chha jaye wo barsat ki khushbu ki tarah,
Ang ang apna isi rut mein mahakta dekhun.

Phool ki tarah mere jism ka har lab khul jaye,
Pankhudi pankhudi un honton ka saya dekhun.

Main ne jis lamhe ko puja hai use bas ek bar,
Khwab ban kar teri aankhon mein utarta dekhun.

Tu meri tarah se yakta hai magar mere habib,
Ji mein aata hai koi aur bhi tujh sa dekhun.

Tut jayen ki pighal jayen mere kachche ghade,
Tujh ko main dekhun ki ye aag ka dariya dekhun. !!

अपनी रुस्वाई तेरे नाम का चर्चा देखूँ,
एक ज़रा शेर कहूँ और मैं क्या क्या देखूँ !

नींद आ जाए तो क्या महफ़िलें बरपा देखूँ,
आँख खुल जाए तो तन्हाई का सहरा देखूँ !

शाम भी हो गई धुँदला गईं आँखें भी मेरी,
भूलने वाले मैं कब तक तेरा रस्ता देखूँ !

एक एक कर के मुझे छोड़ गईं सब सखियाँ,
आज मैं ख़ुद को तेरी याद में तन्हा देखूँ !

काश संदल से मेरी माँग उजाले आ कर,
इतने ग़ैरों में वही हाथ जो अपना देखूँ !

तू मेरा कुछ नहीं लगता है मगर जान-ए-हयात,
जाने क्यूँ तेरे लिए दिल को धड़कना देखूँ !

बंद कर के मेरी आँखें वो शरारत से हँसे,
बूझे जाने का मैं हर रोज़ तमाशा देखूँ !

सब ज़िदें उस की मैं पूरी करूँ हर बात सुनूँ,
एक बच्चे की तरह से उसे हँसता देखूँ !

मुझ पे छा जाए वो बरसात की ख़ुश्बू की तरह,
अंग अंग अपना इसी रुत में महकता देखूँ !

फूल की तरह मेरे जिस्म का हर लब खुल जाए,
पंखुड़ी पंखुड़ी उन होंटों का साया देखूँ !

मैं ने जिस लम्हे को पूजा है उसे बस एक बार,
ख़्वाब बन कर तेरी आँखों में उतरता देखूँ !

तू मेरी तरह से यकता है मगर मेरे हबीब,
जी में आता है कोई और भी तुझ सा देखूँ !

टूट जाएँ कि पिघल जाएँ मेरे कच्चे घड़े,
तुझ को मैं देखूँ कि ये आग का दरिया देखूँ !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Chalne Ka Hausla Nahi Rukna Muhaal Kar Diya..

Chalne ka hausla nahi rukna muhaal kar diya,
Ishq ke is safar ne to mujh ko nidhaal kar diya.

Aye meri gul-zamin tujhe chah thi ek kitab ki,
Ahl-e-kitab ne magar kya tera haal kar diya.

Milte hue dilon ke bich aur tha faisla koi,
Us ne magar bichhadte waqt aur sawal kar diya.

Ab ke hawa ke sath hai daman-e-yar muntazir,
Banu-e-shab ke hath mein rakhna sambhaal kar diya.

Mumkina faislon mein ek hijr ka faisla bhi tha,
Hum ne to ek baat ki us ne kamal kar diya.

Mere labon pe mohr thi par mere shisha-ru ne to,
Shahr ke shahr ko mera waqif-e-haal kar diya.

Chehra o naam ek sath aaj na yaad aa sake,
Waqt ne kis shabih ko khwab o khayal kar diya.

Muddaton baad us ne aaj mujh se koi gila kiya,
Mansab-e-dilbari pe kya mujh ko bahaal kar diya. !!

चलने का हौसला नहीं रुकना मुहाल कर दिया,
इश्क़ के इस सफ़र ने तो मुझ को निढाल कर दिया !

ऐ मेरी गुल-ज़मीं तुझे चाह थी एक किताब की,
अहल-ए-किताब ने मगर क्या तेरा हाल कर दिया !

मिलते हुए दिलों के बीच और था फ़ैसला कोई,
उस ने मगर बिछड़ते वक़्त और सवाल कर दिया !

अब के हवा के साथ है दामन-ए-यार मुंतज़िर,
बानू-ए-शब के हाथ में रखना सँभाल कर दिया !

मुमकिना फ़ैसलों में एक हिज्र का फ़ैसला भी था,
हम ने तो एक बात की उस ने कमाल कर दिया !

मेरे लबों पे मोहर थी पर मेरे शीशा-रू ने तो,
शहर के शहर को मेरा वाक़िफ़-ए-हाल कर दिया !

चेहरा ओ नाम एक साथ आज न याद आ सके,
वक़्त ने किस शबीह को ख़्वाब ओ ख़याल कर दिया !

मुद्दतों बाद उस ने आज मुझ से कोई गिला किया,
मंसब-ए-दिलबरी पे क्या मुझ को बहाल कर दिया !! -Parveen Shakir Ghazal

 

Bahut Roya Wo Humko Yaad Kar Ke..

Bahut roya wo humko yaad kar ke,
Hamari zindagi barbaad kar ke.

Palat kar phir yahin aa jayenge hum,
Wo dekhe to hamein aazad kar ke.

Rihai ki koi surat nahi hai,
Magar han minnat-e-sayyaad kar ke.

Badan mera chhua tha us ne lekin,
Gaya hai ruh ko aabaad kar ke.

Har aamir tul dena chahta hai,
Muqarrar zulm ki miad kar ke. !!

बहुत रोया वो हमको याद कर के,
हमारी ज़िंदगी बरबाद कर के !

पलट कर फिर यहीं आ जाएँगे हम,
वो देखे तो हमें आज़ाद कर के !

रिहाई की कोई सूरत नहीं है,
मगर हाँ मिन्नत-ए-सय्याद कर के !

बदन मेरा छुआ था उस ने लेकिन,
गया है रूह को आबाद कर के !

हर आमिर तूल देना चाहता है,
मुक़र्रर ज़ुल्म की मीआद कर के !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Bewafa Two Lines Shayari In Hindi

Bewafa Two Lines Shayari In Hindi

Ek hi khawab ne sari raat jagaya hai,
Maine har karvat sone ki koshish ki.
एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है,
मैंने हर करवट सोने की कोशिश की !
– गुलज़ार

Raat bajati thi dur shahnai,
Roya pikar bahut sharaab koi.
रात बजती थी दूर शहनाई,
रोया पीकर बहुत शराब कोई !
– जावेद अख़्तर

Aaj us ne hans ke yun pucha mizaj,
Umarbhar ke ranz-o-gham yaad aa gaye.
आज उस ने हंस के यूं पूछा मिज़ाज,
उम्र भर के रंज-ओ-ग़म याद आ गए !
– एहसान दानिश

Ab to kuch bhi yaad nahi hai,
Hum ne tum ko chaha hoga.
अब तो कुछ भी याद नहीं है,
हम ने तुम को चाहा होगा !
– मज़हर इमाम

Ishq mein kon bata skata hai,
Kis ne kis se sach bola hai.
इश्क़ में कौन बता सकता है,
किस ने किस से सच बोला है !
– अहमद मुश्ताक़

Aarzoo wasl ki rakhati hai pareshan kya-kya,
Kya batanun ki mere dil mein hai arman kya-kya.
आरज़ू वस्ल की रखती है परेशां क्या क्या,
क्या बताऊं कि मेरे दिल में है अरमां क्या क्या !
– अख़्तर शीरानी

Jaan-lewa thi khawahishen warna,
Wasl se intezaar achcha tha.
जान-लेवा थीं ख़्वाहिशें वर्ना,
वस्ल से इंतिज़ार अच्छा था !
– जौन एलिया

Aadtan tumne kar liye wade,
Aur aadtan humne aitbaar kar liya.
आदतन तुमने कर लिए वादे,
और आदतन हमनें ऐतबार कर लिया !
– गुलज़ार

Kuch to majburiyan rahi hongi,
Yun koi bewafa nahi hota.
कुछ तो मजबूरियां रही होंगी,
यूं कोई बेवफ़ा नहीं होता !
– बशीर बद्र

Kaam aa saki n apni wafayein to kya karein,
Us bewafa ko bhul n janyein to kya karein.
काम आ सकीं न अपनी वफ़ाएं तो क्या करें,
उस बेवफ़ा को भूल न जाएं तो क्या करें !
– अख़्तर शीरानी

Is kadar musalsal thi shiddtein judai ki,
Aaj pahli bar us se maine bewafai ki.
इस क़द्र मुसलसल थीं शिद्दतें जुदाई की,
आज पहली बार उस से मैंने बेवफ़ाई की !
– अहमद फ़राज़

Ajab chiraagh hun din-raat jalta rahta hun,
Main thak gaya hun hawa se kaho bujhaye mujhe.
अजब चराग़ हूं दिन-रात जलता रहता हूं,
मैं थक गया हूं हवा से कहो बुझाए मुझे !
– बशीर बद्र

Aakhiri bar aah kar li hai,
Maine khud se nibah kar li hai.
आख़िरी बार आह कर ली है,
मैं ने ख़ुद से निबाह कर ली है !
– जौन एलिया