Home / Poetry Types Yaad

Poetry Types Yaad

Donon Jahan Teri Mohabbat Mein Haar Ke

Donon jahan teri mohabbat mein haar ke,
Wo ja raha hai koi shab-e-gham guzar ke.

Viran hai mai-kada khum-o-saghar udas hain,
Tum kya gaye ki ruth gaye din bahaar ke.

Ek fursat-e-gunah mili wo bhi chaar din,
Dekhe hain hum ne hausle parwardigar ke.

Duniya ne teri yaad se begana kar diya,
Tujh se bhi dil-fareb hain gham rozgar ke.

Bhule se muskura to diye the wo aaj “Faiz”,
Mat puchh walwale dil-e-na-karda-kar ke. !!

दोनों जहान तेरी मोहब्बत में हार के,
वो जा रहा है कोई शब-ए-ग़म गुज़ार के !

वीराँ है मय-कदा ख़ुम-ओ-साग़र उदास हैं,
तुम क्या गए कि रूठ गए दिन बहार के !

एक फ़ुर्सत-ए-गुनाह मिली वो भी चार दिन,
देखे हैं हम ने हौसले पर्वरदिगार के !

दुनिया ने तेरी याद से बेगाना कर दिया,
तुझ से भी दिल-फ़रेब हैं ग़म रोज़गार के !

भूले से मुस्कुरा तो दिए थे वो आज “फ़ैज़”,
मत पूछ वलवले दिल-ए-ना-कर्दा-कार के !!

 

Ab ke tajdid-e-wafa ka nahi imkan jaanan..

Ab ke tajdid-e-wafa ka nahi imkan jaanan,
Yaad kya tujh ko dilayen tera paiman jaanan.

Yunhi mausam ki ada dekh ke yaad aaya hai,
Kis qadar jald badal jate hain insan jaanan.

Zindagi teri ata thi so tere naam ki hai,
Hum ne jaise bhi basar ki tera ehsan jaanan.

Dil ye kahta hai ki shayad hai fasurda tu bhi,
Dil ki kya baat karen dil to hai nadan jaanan.

Awwal awwal ki mohabbat ke nashe yaad to kar,
Be-piye bhi tera chehra tha gulistan jaanan.

Aakhir aakhir to ye aalam hai ki ab hosh nahi,
Rag-e-mina sulag utthi ki rag-e-jaan jaanan.

Muddaton se yahi aalam na tawaqqo na umid,
Dil pukare hi chala jata hai jaanan jaanan.

Hum bhi kya sada the hum ne bhi samajh rakkha tha,
Gham-e-dauran se juda hai gham-e-jaanan jaanan.

Ab ke kuchh aisi saji mehfil-e-yaran jaanan,
Sar-ba-zanu hai koi sar-ba-gareban jaanan.

Har koi apni hi aawaz se kanp uthta hai,
Har koi apne hi saye se hirasan jaanan.

Jis ko dekho wahi zanjir-ba-pa lagta hai,
Shehar ka shahr hua dakhil-e-zindan jaanan.

Ab tera zikr bhi shayad hi ghazal mein aaye,
Aur se aur hue dard ke unwan jaanan.

Hum ki ruthi hui rut ko bhi mana lete the,
Hum ne dekha hi na tha mausam-e-hijran jaanan.

Hosh aaya to sabhi khwab the reza reza,
Jaise udte hue auraq-e-pareshan jaanan. !!

अब के तजदीद-ए-वफ़ा का नहीं इम्काँ जानाँ,
याद क्या तुझ को दिलाएँ तेरा पैमाँ जानाँ !

यूँही मौसम की अदा देख के याद आया है,
किस क़दर जल्द बदल जाते हैं इंसाँ जानाँ !

ज़िंदगी तेरी अता थी सो तेरे नाम की है,
हम ने जैसे भी बसर की तेरा एहसाँ जानाँ !

दिल ये कहता है कि शायद है फ़सुर्दा तू भी,
दिल की क्या बात करें दिल तो है नादाँ जानाँ !

अव्वल अव्वल की मोहब्बत के नशे याद तो कर,
बे-पिए भी तेरा चेहरा था गुलिस्ताँ जानाँ !

आख़िर आख़िर तो ये आलम है कि अब होश नहीं,
रग-ए-मीना सुलग उट्ठी कि रग-ए-जाँ जानाँ !

मुद्दतों से यही आलम न तवक़्क़ो न उमीद,
दिल पुकारे ही चला जाता है जानाँ जानाँ !

हम भी क्या सादा थे हम ने भी समझ रक्खा था,
ग़म-ए-दौराँ से जुदा है ग़म-ए-जानाँ जानाँ !

अब के कुछ ऐसी सजी महफ़िल-ए-याराँ जानाँ,
सर-ब-ज़ानू है कोई सर-ब-गरेबाँ जानाँ !

हर कोई अपनी ही आवाज़ से काँप उठता है,
हर कोई अपने ही साए से हिरासाँ जानाँ !

जिस को देखो वही ज़ंजीर-ब-पा लगता है,
शहर का शहर हुआ दाख़िल-ए-ज़िंदाँ जानाँ !

अब तेरा ज़िक्र भी शायद ही ग़ज़ल में आए,
और से और हुए दर्द के उनवाँ जानाँ !

हम कि रूठी हुई रुत को भी मना लेते थे,
हम ने देखा ही न था मौसम-ए-हिज्राँ जानाँ !

होश आया तो सभी ख़्वाब थे रेज़ा रेज़ा,
जैसे उड़ते हुए औराक़-ए-परेशाँ जानाँ !!

 

Barson ke baad dekha ek shakhs dilruba sa..

Barson ke baad dekha ek shakhs dilruba sa,
Ab zehan mein nahi hai par naam tha bhala sa.

Abro khinche khinche se aankhen jhuki jhuki si,
Baaten ruki ruki si lehja thaka thaka sa.

Alfaaz the ki jugnu aawaz ke safar mein,
Ban jaaye jungalon mein jis tarah rasta sa.

Khwabon mein khwab uske yaadon mein yaad uski,
Nindon mein ghul gaya ho jaise ki rat-jaga sa.

Pahle bhi log aaye kitne hi zindagi mein,
Woh har tarah se lekin auron se tha juda sa.

Kuch ye ki muddaton se hum bhi nahi the roye,
Kuch zahar mein ghula tha ahbaab ka dilasa.

Phir yun hua ki sawan aankhon mein aa base the,
Phir yun hua ki jaise dil bhi tha aablaa sa.

Ab sach kahen to yaaro hum ko khabar nahi thi,
Ban jayega qayaamat ek waaqiya zara sa.

Tewar the be-rukhi ke andaaz dosti ka,
Woh ajnabi tha lekin lagta tha aashna sa.

Hum dasht the ki dariya hum zahar the ki amrit,
Na haq the jaam hum ko jab wo nahi tha pyasa.

Humne bhi usko dekha kal shaam ittefaqan,
Apna bhi haal hai ab logo “Faraz” ka sa .

बरसों के बाद देखा एक शख्स दिलरुबा सा,
अब ज़हन में नहीं है पर नाम था भला सा !

अबरो खिंचे खिंचे से आखें झुकी झुकी सी,
बातें रुकी रुकी सी, लहजा थका थका सा !

अलफ़ाज़ थे की जुगनु आवाज़ के सफ़र में,
बन जाए जंगलों में जिस तरह रास्ता सा !

ख़्वाबों में ख्वाब उसके यादों में याद उसकी,
नींदों में घुल गया हो जैसे की रात-जगा सा !

पहले भी लोग आये कितने ही ज़िन्दगी में,
वह हर तरह से लेकिन औरों से था जुदा सा !

कुछ ये की मुद्दतों से हम भी नहीं थे रोये,
कुछ ज़हर में घुला था अहबाब का दिलासा !

फिर यूँ हुआ कि सावन आँखों में आ बसे थे,
फिर यूँ हुआ कि जैसे दिल भी था अबला सा !

अब सच कहें तो यारो हम को खबर नहीं थी,
बन जायेगा क़यामत एक वाकिया ज़रा सा !

तेवर थे बे-रुखी के अंदाज़ दोस्ती का,
वह अजनबी था लेकिन लगता था आशना सा !

हम दश्त थे की दरिया हम ज़हर थे कि अमृत,
ना हक़ थे ज़ाम हम को जब वो नहीं था प्यासा !

हमने भी उसको देखा कल शाम इत्तेफ़ाक़न,
अपना भी हाल है अब लोगो “फ़राज़” का सा !!

 

Itna kyun sharmate hain..

Itna kyun sharmate hain,
Wade aakhir wade hain.

Likha likhaya dho dala,
Sare waraq phir sade hain.

Tujh ko bhi kyun yaad rakha,
Soch ke ab pachhtate hain.

Ret mahal do chaar bache,
Ye bhi girne wale hain.

Jayen kahin bhi tujh ko kya,
Shehar se tere jate hain.

Ghar ke andar jaane ke,
Aur kai darwaze hain.

Ungli pakad ke sath chale,
Daud mein hum se aage hain. !!

इतना क्यूँ शरमाते हैं,
वादे आख़िर वादे हैं !

लिखा लिखाया धो डाला,
सारे वरक़ फिर सादे हैं !

तुझ को भी क्यूँ याद रखा,
सोच के अब पछताते हैं !

रेत महल दो चार बचे,
ये भी गिरने वाले हैं !

जाएँ कहीं भी तुझ को क्या,
शहर से तेरे जाते हैं !

घर के अंदर जाने के,
और कई दरवाज़े हैं !

उँगली पकड़ के साथ चले,
दौड़ में हम से आगे हैं !!

 

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai..

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai,
Misal-e-rang wo jhonka nazar bhi aata hai.

Tamam shab jahan jalta hai ek udas diya,
Hawa ki rah mein ek aisa ghar bhi aata hai.

Wo mujh ko tut ke chahega chhod jayega,
Mujhe khabar thi use ye hunar bhi aata hai.

Ujad ban mein utarta hai ek jugnu bhi,
Hawa ke sath koi ham-safar bhi aata hai.

Wafa ki kaun si manzil pe us ne chhoda tha,
Ki wo to yaad hamein bhul kar bhi aata hai.

Jahan lahu ke samundar ki had thaharti hai,
Wahin jazira-e-lal-o-guhar bhi aata hai.

Chale jo zikr farishton ki parsai ka,
To zer-e-bahs maqam-e-bashar bhi aata hai.

Abhi sinan ko sambhaale rahen adu mere,
Ki un safon mein kahin mera sar bhi aata hai.

Kabhi-kabhi mujhe milne bulandiyon se koi,
Shua-e-subh ki surat utar bhi aata hai.

Isi liye main kisi shab na so saka “Mohsin”,
Wo mahtab kabhi baam par bhi aata hai. !!

तेरे बदन से जो छू कर इधर भी आता है,
मिसाल-ए-रंग वो झोंका नज़र भी आता है !

तमाम शब जहाँ जलता है एक उदास दिया,
हवा की राह में एक ऐसा घर भी आता है !

वो मुझ को टूट के चाहेगा छोड़ जाएगा,
मुझे ख़बर थी उसे ये हुनर भी आता है !

उजाड़ बन में उतरता है एक जुगनू भी,
हवा के साथ कोई हम-सफ़र भी आता है !

वफ़ा की कौन सी मंज़िल पे उस ने छोड़ा था,
कि वो तो याद हमें भूल कर भी आता है !

जहाँ लहू के समुंदर की हद ठहरती है,
वहीं जज़ीरा-ए-लाल-ओ-गुहर भी आता है !

चले जो ज़िक्र फ़रिश्तों की पारसाई का,
तो ज़ेर-ए-बहस मक़ाम-ए-बशर भी आता है !

अभी सिनाँ को सँभाले रहें अदू मेरे,
कि उन सफ़ों में कहीं मेरा सर भी आता है !

कभी-कभी मुझे मिलने बुलंदियों से कोई,
शुआ-ए-सुब्ह की सूरत उतर भी आता है !

इसी लिए मैं किसी शब न सो सका “मोहसिन”,
वो माहताब कभी बाम पर भी आता है !

 

Bichhad ke mujh se ye mashghala ikhtiyar karna..

Bichhad ke mujh se ye mashghala ikhtiyar karna,
Hawa se darna bujhe charaghon se pyar karna.

Khuli zaminon mein jab bhi sarson ke phool mahken,
Tum aisi rut mein sada mera intezar karna.

Jo log chahen to phir tumhein yaad bhi na aayen,
Kabhi kabhi tum mujhe bhi un mein shumar karna.

Kisi ko ilzam-e-bewafai kabhi na dena,
Meri tarah apne aap ko sogwar karna.

Tamam wade kahan talak yaad rakh sakoge,
Jo bhul jayen wo ahd bhi ustuwar karna.

Ye kis ki aankhon ne baadalon ko sikha diya hai,
Ki sina-e-sang se rawan aabshaar karna.

Main zindagi se na khul saka is liye bhi “Mohsin”,
Ki bahte pani pe kab talak etibar karna. !!

बिछड़ के मुझ से ये मश्ग़ला इख़्तियार करना,
हवा से डरना बुझे चराग़ों से प्यार करना !

खुली ज़मीनों में जब भी सरसों के फूल महकें,
तुम ऐसी रुत में सदा मेरा इंतिज़ार करना !

जो लोग चाहें तो फिर तुम्हें याद भी न आएँ,
कभी कभी तुम मुझे भी उन में शुमार करना !

किसी को इल्ज़ाम-ए-बेवफ़ाई कभी न देना,
मेरी तरह अपने आप को सोगवार करना !

तमाम वादे कहाँ तलक याद रख सकोगे,
जो भूल जाएँ वो अहद भी उस्तुवार करना !

ये किस की आँखों ने बादलों को सिखा दिया है,
कि सीना-ए-संग से रवाँ आबशार करना !

मैं ज़िंदगी से न खुल सका इस लिए भी “मोहसिन”,
कि बहते पानी पे कब तलक एतिबार करना !!

 

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa..

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa,
Dil ka aalam hai tere baad khalaon jaisa.

Kash duniya mere ehsas ko wapas kar de,
Khamushi ka wahi andaz sadaon jaisa.

Pas rah kar bhi hamesha wo bahut dur mila,
Us ka andaz-e-taghaful tha khudaon jaisa.

Kitni shiddat se bahaaron ko tha ehsas-e-maal,
Phool khil kar bhi raha zard khizaon jaisa.

Kya qayamat hai ki duniya use sardar kahe,
Jis ka andaz-e-sukhan bhi ho gadaon jaisa.

Phir teri yaad ke mausam ne jagaye mahshar,
Phir mere dil mein utha shor hawaon jaisa.

Barha khwab mein pa kar mujhe pyasa “Mohsin”,
Us ki zulfon ne kiya raqs ghataon jaisa. !!

अब वो तूफ़ाँ है न वो शोर हवाओं जैसा,
दिल का आलम है तेरे बाद ख़लाओं जैसा !

काश दुनिया मेरे एहसास को वापस कर दे,
ख़ामुशी का वही अंदाज़ सदाओं जैसा !

पास रह कर भी हमेशा वो बहुत दूर मिला,
उस का अंदाज़-ए-तग़ाफ़ुल था ख़ुदाओं जैसा !

कितनी शिद्दत से बहारों को था एहसास-ए-मआल,
फूल खिल कर भी रहा ज़र्द ख़िज़ाओं जैसा !

क्या क़यामत है कि दुनिया उसे सरदार कहे,
जिस का अंदाज़-ए-सुख़न भी हो गदाओं जैसा !

फिर तेरी याद के मौसम ने जगाए महशर,
फिर मेरे दिल में उठा शोर हवाओं जैसा !

बारहा ख़्वाब में पा कर मुझे प्यासा “मोहसिन”,
उस की ज़ुल्फ़ों ने किया रक़्स घटाओं जैसा !!