Wednesday , April 8 2020

Poetry Types Waqt

Ishq Hai To Ishq Ka Izhaar Hona Chahiye..

Ishq hai to ishq ka izhaar hona chahiye

Ishq hai to ishq ka izhaar hona chahiye,
Aap ko chehre se bhi bimar hona chahiye.

Aap dariya hain to is waqt hum khatre mein hain,
Aap kashti hain to hum ko paar hona chahiye.

Aire-gaire log bhi padhne lage hain in dino,
Aap ko aurat nahi akhbar hona chahiye.

Zindagi kab talak dar-dar phirayegi hamein,
Tuta phuta hi sahi ghar bar hona chahiye.

Apni yaadon se kaho ek din ki chhutti de mujhe.
Ishq ke hisse mein bhi itwaar hona chahiye. !!

आप को चेहरे से भी बीमार होना चाहिए,
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए !

आप दरिया हैं तो फिर इस वक़्त हम ख़तरे में हैं,
आप कश्ती हैं तो हम को पार होना चाहिए !

ऐरे-ग़ैरे लोग भी पढ़ने लगे हैं इन दिनों,
आप को औरत नहीं अख़बार होना चाहिए !

ज़िंदगी तू कब तलक दर-दर फिराएगी हमें,
टूटा-फूटा ही सही घर-बार होना चाहिए !

अपनी यादों से कहो इक दिन की छुट्टी दे मुझे,
इश्क़ के हिस्से में भी इतवार होना चाहिए !!

Munawwar Rana All Poetry, Ghazal, Ishq Shayari & Nazms Collection

 

Aai Sahar Qarib To Main Ne Padhi Ghazal..

Aai sahar qarib to main ne padhi ghazal,
Jaane lage sitaron ke bajte hue kanwal.

Be-tab hai junun ki ghazal-khwaniyan karun,
Khamosh hai khirad ki nahin baat ka mahal.

Kaise diye jalaye gham-e-rozgar ne,
Kuch aur jagmagaye gham-e-yar ke mahal.

Ab tark-e-dosti hi taqaza hai waqt ka,
Ai yar-e-chaara-saz meri aag mein na jal.

Ai iltifat-e-yar mujhe sochne to de,
Marne ka hai maqam ya jine ka hai mahal.

Hum rind khak-o-khun mein ate hath bhi kate,
Nikle na ai bahaar tere gesuon ke bal.

Rahon mein ju-e-khun hai rawan misl mauj hai,
Saqi yaqin na ho to zara mere sath chal.

Kuch bijliyon ka shor hai kuch aandhiyon ka zor,
Dil hai maqam par to zara baam par nikal.

Farman-e-shahryar ki parwa nahi mujhe,
Iman-e-ashiqan ho to “Abid” padhe ghazal. !!

आई सहर क़रीब तो मैं ने पढ़ी ग़ज़ल,
जाने लगे सितारों के बजते हुए कँवल !

बे-ताब है जुनूँ कि ग़ज़ल-ख़्वानियाँ करूँ,
ख़ामोश है ख़िरद कि नहीं बात का महल !

कैसे दिये जलाए ग़म-ए-रोज़गार ने,
कुछ और जगमगाए ग़म-ए-यार के महल !

अब तर्क-ए-दोस्ती ही तक़ाज़ा है वक़्त का,
ऐ यार-ए-चारा-साज़ मेरी आग में न जल !

ऐ इल्तिफ़ात-ए-यार मुझे सोचने तो दे,
मरने का है मक़ाम या जीने का है महल !

हम रिंद ख़ाक-ओ-ख़ूँ में अटे हाथ भी कटे,
निकले न ऐ बहार तेरे गेसुओं के बल !

राहों में जू-ए-ख़ूँ है रवाँ मिस्ल मौज है,
साक़ी यक़ीं न हो तो ज़रा मेरे साथ चल !

कुछ बिजलियों का शोर है कुछ आँधियों का ज़ोर,
दिल है मक़ाम पर तो ज़रा बाम पर निकल !

फ़रमान-ए-शहरयार की पर्वा नहीं मुझे,
ईमान-ए-आशिक़ाँ हो तो “आबिद” पढ़े ग़ज़ल !!

 

Chalne Ka Hausla Nahi Rukna Muhaal Kar Diya..

Chalne ka hausla nahi rukna muhaal kar diya,
Ishq ke is safar ne to mujh ko nidhaal kar diya.

Aye meri gul-zamin tujhe chah thi ek kitab ki,
Ahl-e-kitab ne magar kya tera haal kar diya.

Milte hue dilon ke bich aur tha faisla koi,
Us ne magar bichhadte waqt aur sawal kar diya.

Ab ke hawa ke sath hai daman-e-yar muntazir,
Banu-e-shab ke hath mein rakhna sambhaal kar diya.

Mumkina faislon mein ek hijr ka faisla bhi tha,
Hum ne to ek baat ki us ne kamal kar diya.

Mere labon pe mohr thi par mere shisha-ru ne to,
Shahr ke shahr ko mera waqif-e-haal kar diya.

Chehra o naam ek sath aaj na yaad aa sake,
Waqt ne kis shabih ko khwab o khayal kar diya.

Muddaton baad us ne aaj mujh se koi gila kiya,
Mansab-e-dilbari pe kya mujh ko bahaal kar diya. !!

चलने का हौसला नहीं रुकना मुहाल कर दिया,
इश्क़ के इस सफ़र ने तो मुझ को निढाल कर दिया !

ऐ मेरी गुल-ज़मीं तुझे चाह थी एक किताब की,
अहल-ए-किताब ने मगर क्या तेरा हाल कर दिया !

मिलते हुए दिलों के बीच और था फ़ैसला कोई,
उस ने मगर बिछड़ते वक़्त और सवाल कर दिया !

अब के हवा के साथ है दामन-ए-यार मुंतज़िर,
बानू-ए-शब के हाथ में रखना सँभाल कर दिया !

मुमकिना फ़ैसलों में एक हिज्र का फ़ैसला भी था,
हम ने तो एक बात की उस ने कमाल कर दिया !

मेरे लबों पे मोहर थी पर मेरे शीशा-रू ने तो,
शहर के शहर को मेरा वाक़िफ़-ए-हाल कर दिया !

चेहरा ओ नाम एक साथ आज न याद आ सके,
वक़्त ने किस शबीह को ख़्वाब ओ ख़याल कर दिया !

मुद्दतों बाद उस ने आज मुझ से कोई गिला किया,
मंसब-ए-दिलबरी पे क्या मुझ को बहाल कर दिया !! -Parveen Shakir Ghazal

 

Ab Bhala Chhod Ke Ghar Kya Karte..

Ab bhala chhod ke ghar kya karte,
Sham ke waqt safar kya karte.

Teri masrufiyaten jante hain,
Apne aane ki khabar kya karte.

Jab sitare hi nahi mil paye,
Le ke hum shams-o-qamar kya karte.

Wo musafir hi khuli dhup ka tha,
Saye phaila ke shajar kya karte.

Khak hi awwal o aakhir thahri,
Kar ke zarre ko guhar kya karte.

Rae pahle se bana li tu ne,
Dil mein ab hum tere ghar kya karte.

Ishq ne sare saliqe bakhshe,
Husn se kasb-e-hunar kya karte. !!

अब भला छोड़ के घर क्या करते,
शाम के वक़्त सफ़र क्या करते !

तेरी मसरूफ़ियतें जानते हैं,
अपने आने की ख़बर क्या करते !

जब सितारे ही नहीं मिल पाए,
ले के हम शम्स-ओ-क़मर क्या करते !

वो मुसाफ़िर ही खुली धूप का था,
साए फैला के शजर क्या करते !

ख़ाक ही अव्वल ओ आख़िर ठहरी,
कर के ज़र्रे को गुहर क्या करते !

राय पहले से बना ली तू ने,
दिल में अब हम तेरे घर क्या करते !

इश्क़ ने सारे सलीक़े बख़्शे,
हुस्न से कस्ब-ए-हुनर क्या करते !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Sham-E-Mazar Thi Na Koi Sogwar Tha..

Sham-e-mazar thi na koi sogwar tha,
Tum jis pe ro rahe the ye kis ka mazar tha.

Tadpunga umar-bhar dil-e-marhum ke liye,
Kam-bakht na-murad ladakpan ka yaar tha.

Sauda-e-ishq aur hai wahshat kuchh aur shai,
Majnun ka koi dost fasana-nigar tha.

Jadu hai ya tilism tumhari zaban mein,
Tum jhuth kah rahe the mujhe aitbar tha.

Kya kya hamare sajde ki ruswaiyan hui,
Naqsh-e-qadam kisi ka sar-e-rahguzar tha.

Is waqt tak to waza mein aaya nahin hai farq,
Tera karam sharik jo parwardigar tha. !!

शम-ए-मज़ार थी न कोई सोगवार था,
तुम जिस पे रो रहे थे ये किस का मज़ार था !

तड़पूँगा उम्र-भर दिल-ए-मरहूम के लिए,
कम-बख़्त ना-मुराद लड़कपन का यार था !

सौदा-ए-इश्क़ और है वहशत कुछ और शय,
मजनूँ का कोई दोस्त फ़साना-निगार था !

जादू है या तिलिस्म तुम्हारी ज़बान में,
तुम झूठ कह रहे थे मुझे ऐतबार था !

क्या क्या हमारे सज्दे की रुस्वाइयाँ हुईं,
नक़्श-ए-क़दम किसी का सर-ए-रहगुज़ार था !

इस वक़्त तक तो वज़्अ’ में आया नहीं है फ़र्क़,
तेरा करम शरीक जो पर्वरदिगार था !! -Bekhud Dehlvi Ghazal

 

Na Humsafar Na Kisi Humnasheen Se Niklega..

Na humsafar na kisi humnasheen se niklega,
Hamare panw ka kanta hameen se niklega.

Main janta tha ki zahrila saanp ban ban kar,
Tera khulus meri aastin se niklega.

Isi gali mein wo bhukha faqir rahta tha,
Talash kije khazana yahin se niklega.

Buzurg kahte the ek waqt aayega jis din,
Jahan pe dubega sooraj wahin se niklega.

Guzishta sal ke zakhmon hare-bhare rahna,
Julus ab ke baras bhi yahin se niklega. !!

न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा,
हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा !

मैं जानता था कि ज़हरीला साँप बन बन कर,
तिरा ख़ुलूस मिरी आस्तीं से निकलेगा !

इसी गली में वो भूखा फ़क़ीर रहता था,
तलाश कीजे ख़ज़ाना यहीं से निकलेगा !

बुज़ुर्ग कहते थे इक वक़्त आएगा जिस दिन,
जहाँ पे डूबेगा सूरज वहीं से निकलेगा !

गुज़िश्ता साल के ज़ख़्मों हरे-भरे रहना,
जुलूस अब के बरस भी यहीं से निकलेगा !! -Rahat Indori Ghazal

 

Aadmi Bulbula Hai Paani Ka..

Aadmi bulbula hai paani ka
Aur paani ki behti satah par
Toot’ta bhi hai dubta bhi hai
Phir ubharta hai phir se behta hai
Na samundar nigal saka iss ko
Na tawarikh tod paayi hai
Waqt ki hatheli par behta
Aadmi bulbula hai paani ka.. !!

आदमी बुलबुला है पानी का
और पानी की बहती सतहा पर
टूटता भी है डूबता भी है
फिर उभरता है, फिर से बहता है
न समुंदर निगल सका इस को
न तवारीख़ तोड़ पाई है
वक़्त की हथेली पर बहता
आदमी बुलबुला है पानी का.. !! – Gulzar