Sunday , March 29 2020
Home / Poetry Types Wafa

Poetry Types Wafa

Apna Dil Pesh Karun Apni Wafa Pesh Karun..

Apna dil pesh karun apni wafa pesh karun,
Kuch samajh mein nahi aata tujhe kya pesh karun.

Tere milne ki khushi mein koi naghma chhedoon,
Ya tere dard-e-judai ka gila pesh karun.

Mere khwabon mein bhi tu mere khayalon mein bhi tu,
Kaun si chiz tujhe tujh se juda pesh karun.

Jo tere dil ko lubhaye wo ada mujh mein nahi,
Kyun na tujh ko koi teri hi ada pesh karun. !!

अपना दिल पेश करूँ अपनी वफ़ा पेश करूँ,
कुछ समझ में नहीं आता तुझे क्या पेश करूँ !

तेरे मिलने की ख़ुशी में कोई नग़्मा छेड़ूँ,
या तेरे दर्द-ए-जुदाई का गिला पेश करूँ !

मेरे ख़्वाबों में भी तू मेरे ख़यालों में भी तू,
कौन सी चीज़ तुझे तुझ से जुदा पेश करूँ !

जो तेरे दिल को लुभाए वो अदा मुझ में नहीं,
क्यूँ न तुझ को कोई तेरी ही अदा पेश करूँ !!

 

Barbaad-E-Mohabbat Ki Dua Sath Liye Ja..

Barbaad-e-mohabbat ki dua sath liye ja,
Tuta hua iqrar-e-wafa sath liye ja.

Ek dil tha jo pahle hi tujhe saunp diya tha,
Ye jaan bhi aye jaan-e-ada sath liye ja.

Tapti hui rahon se tujhe aanch na pahunche,
Diwanon ke ashkon ki ghata sath liye ja.

Shamil hai mera khun-e-jigar teri hina mein,
Ye kam ho to ab khun-e-wafa sath liye ja.

Hum jurm-e-mohabbat ki saza payenge tanha,
Jo tujh se hui ho wo khata sath liye ja. !!

बरबाद-ए-मोहब्बत की दुआ साथ लिए जा,
टूटा हुआ इक़रार-ए-वफ़ा साथ लिए जा !

एक दिल था जो पहले ही तुझे सौंप दिया था,
ये जान भी ऐ जान-ए-अदा साथ लिए जा !

तपती हुई राहों से तुझे आँच न पहुँचे,
दीवानों के अश्कों की घटा साथ लिए जा !

शामिल है मेरा ख़ून-ए-जिगर तेरी हिना में,
ये कम हो तो अब ख़ून-ए-वफ़ा साथ लिए जा !

हम जुर्म-ए-मोहब्बत की सज़ा पाएँगे तन्हा,
जो तुझ से हुई हो वो ख़ता साथ लिए जा !!

 

Aisa Bana Diya Tujhe Qudrat Khuda Ki Hai..

Aisa bana diya tujhe qudrat khuda ki hai,
Kis husan ka hai husan ada kis ada ki hai.

Chashm-e-siyah-e-yaar se sazish haya ki hai,
Laila ke sath mein ye saheli bala ki hai.

Taswir kyun dikhayen tumhein naam kyun batayen,
Laye hain hum kahin se kisi bewafa ki hai.

Andaz mujh se aur hain dushman se aur dhang,
Pahchan mujh ko apni parai qaza ki hai.

Maghrur kyun hain aap jawani par is qadar,
Ye mere naam ki hai ye meri dua ki hai.

Dushman ke ghar se chal ke dikha do juda juda,
Ye bankpan ki chaal ye naz-o-ada ki hai.

Rah rah ke le rahi hai mere dil mein chutkiyan,
Phisli hui girah tere band-e-qaba ki hai.

Gardan mudi nigah ladi baat kuchh na ki,
Shokhi to khair aap ki tamkin bala ki hai.

Hoti hai roz baada-kashon ki dua qubul,
Aye mohtasib ye shan-e-karimi khuda ki hai.

Jitne gile the un ke wo sab dil se dhul gaye,
Jhepi hui nigah talafi jafa ki hai.

Chhupta hai khun bhi kahin mutthi to kholiye,
Rangat yahi hina ki yahi bu hina ki hai.

Kah do ki be-wazu na chhuye us ko mohtasib,
Botal mein band ruh kisi parsa ki hai.

Main imtihan de ke unhen kyun na mar gaya,
Ab ghair se bhi un ko tamanna wafa ki hai.

Dekho to ja ke hazrat-e-‘Bekhud’ na hun kahin,
Dawat sharab-khane mein ek parsa ki hai. !!

ऐसा बना दिया तुझे क़ुदरत ख़ुदा की है,
किस हुस्न का है हुस्न अदा किस अदा की है !

चश्म-ए-सियाह-ए-यार से साज़िश हया की है,
लैला के साथ में ये सहेली बला की है !

तस्वीर क्यूँ दिखाएँ तुम्हें नाम क्यूँ बताएँ,
लाए हैं हम कहीं से किसी बेवफ़ा की है !

अंदाज़ मुझ से और हैं दुश्मन से और ढंग,
पहचान मुझ को अपनी पराई क़ज़ा की है !

मग़रूर क्यूँ हैं आप जवानी पर इस क़दर,
ये मेरे नाम की है ये मेरी दुआ की है !

दुश्मन के घर से चल के दिखा दो जुदा जुदा,
ये बाँकपन की चाल ये नाज़-ओ-अदा की है !

रह रह के ले रही है मिरे दिल में चुटकियाँ,
फिसली हुई गिरह तिरे बंद-ए-क़बा की है !

गर्दन मुड़ी निगाह लड़ी बात कुछ न की,
शोख़ी तो ख़ैर आप की तम्कीं बला की है !

होती है रोज़ बादा-कशों की दुआ क़ुबूल,
ऐ मोहतसिब ये शान-ए-करीमी ख़ुदा की है !

जितने गिले थे उन के वो सब दिल से धुल गए,
झेपी हुई निगाह तलाफ़ी जफ़ा की है !

छुपता है ख़ून भी कहीं मुट्ठी तो खोलिए,
रंगत यही हिना की यही बू हिना की है !

कह दो कि बे-वज़ू न छुए उस को मोहतसिब,
बोतल में बंद रूह किसी पारसा की है !

मैं इम्तिहान दे के उन्हें क्यूँ न मर गया,
अब ग़ैर से भी उन को तमन्ना वफ़ा की है !

देखो तो जा के हज़रत-ए-‘बेख़ुद’ न हूँ कहीं,
दावत शराब-ख़ाने में इक पारसा की है !! -Bekhud Dehlvi Ghazal

 

Aap Hain Be-Gunah Kya Kehna..

Aap hain be-gunah kya kehna,
Kya safai hai wah kya kehna.

Us se haal-e-tabah kya kehna,
Jo kahe sun ke wah kya kehna.

Hashr mein ye unhen nayi sujhi,
Ban gaye dad-khwah kya kehna.

Uzr karna sitam ke baad tumhein,
Khub aata hai wah kya kehna.

Tum na roko nigah ko apni,
Hum karen zabt-e-ah kya kehna.

Tujh se achchhe kahan zamane mein,
Wah aye rashk-e-mah kya kehna.

Ghair par lutf-e-khas ka izhaar,
Mujh se tedhi nigah kya kehna.

Ghair se mang kar subut-e-wafa,
Ban gaye khud gawah kya kehna.

Dil bhi le kar nahin yaqeen-e-wafa,
Hai abhi ishtibah kya kehna.

Balbe chitwan teri maaz-allah,
Uf re tedhi nigah kya kehna.

Un gunon par najat ki ummid,
‘Be-khud’-e-ru-siyah kya kehna. !!

आप हैं बे-गुनाह क्या कहना,
क्या सफ़ाई है वाह क्या कहना !

उस से हाल-ए-तबाह क्या कहना,
जो कहे सुन के वाह क्या कहना !

हश्र में ये उन्हें नई सूझी,
बन गए दाद-ख़्वाह क्या कहना !

उज़्र करना सितम के बाद तुम्हें,
ख़ूब आता है वाह क्या कहना !

तुम न रोको निगाह को अपनी,
हम करें ज़ब्त-ए-आह क्या कहना !

तुझ से अच्छे कहाँ ज़माने में,
वाह ऐ रश्क-ए-माह क्या कहना !

ग़ैर पर लुत्फ़-ए-ख़ास का इज़हार ,
मुझ से टेढ़ी निगाह क्या कहना !

ग़ैर से माँग कर सबूत-ए-वफ़ा,
बन गए ख़ुद गवाह क्या कहना !

दिल भी ले कर नहीं यक़ीन-ए-वफ़ा ,
है अभी इश्तिबाह क्या कहना !

बल्बे चितवन तिरी मआज़-अल्लाह,
उफ़ रे टेढ़ी निगाह क्या कहना !

उन गुनों पर नजात की उम्मीद,
‘बे-ख़ुद’-ए-रू-सियाह क्या कहना !! -Bekhud Dehlvi Ghazal

 

Silsile tod gaya wo sabhi jate jate..

Silsile tod gaya wo sabhi jate jate,
Warna itne to marasim the ki aate jate.

Shikwa-e-zulmat-e-shab se to kahin behtar tha,
Apne hisse ki koi shama jalate jate.

Kitna aasan tha tere hijr mein marna jaanan,
Phir bhi ek umar lagi jaan se jate jate.

Jashn-e-maqtal hi na barpa hua warna hum bhi,
Pa-ba-jaulan hi sahi nachte gate jate.

Is ki wo jaane use pas-e-wafa tha ki na tha,
Tum “Faraz” apni taraf se to nibhate jate. !!

सिलसिले तोड़ गया वो सभी जाते जाते,
वर्ना इतने तो मरासिम थे कि आते जाते !

शिकवा-ए-ज़ुल्मत-ए-शब से तो कहीं बेहतर था,
अपने हिस्से की कोई शमा जलाते जाते !

कितना आसाँ था तेरे हिज्र में मरना जानाँ,
फिर भी एक उम्र लगी जान से जाते जाते !

जश्न-ए-मक़्तल ही न बरपा हुआ वर्ना हम भी,
पा-ब-जौलाँ ही सही नाचते गाते जाते !

इस की वो जाने उसे पास-ए-वफ़ा था कि न था,
तुम “फ़राज़” अपनी तरफ़ से तो निभाते जाते !!

 

Ab ke hum bichhde to shayad kabhi khwabon mein milen..

Ab ke hum bichhde to shayad kabhi khwabon mein milen,
Jis tarah sukhe hue phool kitabon mein milen

Dhundh ujde hue logon mein wafa ke moti,
Ye khazane tujhe mumkin hai kharabon mein milen,

Gham-e-duniya bhi gham-e-yar mein shamil kar lo,
Nashsha badhta hai sharaben jo sharabon mein milen.

Tu khuda hai na mera ishq farishton jaisa,
Donon insan hain to kyun itne hijabon mein milen.

Aaj hum dar pe khinche gaye jin baaton par,
Kya ajab kal wo zamane ko nisabon mein milen.

Ab na wo main na wo tu hai na wo mazi hai “faraz”,
Jaise do shakhs tamanna ke sarabon mein milen. !!

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें,
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें !

ढूँढ उजड़े हुए लोगों में वफ़ा के मोती,
ये ख़ज़ाने तुझे मुमकिन है ख़राबों में मिलें !

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो,
नश्शा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें !

तू ख़ुदा है न मेरा इश्क़ फ़रिश्तों जैसा,
दोनों इंसाँ हैं तो क्यूँ इतने हिजाबों में मिलें !

आज हम दार पे खींचे गए जिन बातों पर,
क्या अजब कल वो ज़माने को निसाबों में मिलें !

अब न वो मैं न वो तू है न वो माज़ी है “फ़राज़”,
जैसे दो शख़्स तमन्ना के सराबों में मिलें !!

 

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai..

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai,
Misal-e-rang wo jhonka nazar bhi aata hai.

Tamam shab jahan jalta hai ek udas diya,
Hawa ki rah mein ek aisa ghar bhi aata hai.

Wo mujh ko tut ke chahega chhod jayega,
Mujhe khabar thi use ye hunar bhi aata hai.

Ujad ban mein utarta hai ek jugnu bhi,
Hawa ke sath koi ham-safar bhi aata hai.

Wafa ki kaun si manzil pe us ne chhoda tha,
Ki wo to yaad hamein bhul kar bhi aata hai.

Jahan lahu ke samundar ki had thaharti hai,
Wahin jazira-e-lal-o-guhar bhi aata hai.

Chale jo zikr farishton ki parsai ka,
To zer-e-bahs maqam-e-bashar bhi aata hai.

Abhi sinan ko sambhaale rahen adu mere,
Ki un safon mein kahin mera sar bhi aata hai.

Kabhi-kabhi mujhe milne bulandiyon se koi,
Shua-e-subh ki surat utar bhi aata hai.

Isi liye main kisi shab na so saka “Mohsin”,
Wo mahtab kabhi baam par bhi aata hai. !!

तेरे बदन से जो छू कर इधर भी आता है,
मिसाल-ए-रंग वो झोंका नज़र भी आता है !

तमाम शब जहाँ जलता है एक उदास दिया,
हवा की राह में एक ऐसा घर भी आता है !

वो मुझ को टूट के चाहेगा छोड़ जाएगा,
मुझे ख़बर थी उसे ये हुनर भी आता है !

उजाड़ बन में उतरता है एक जुगनू भी,
हवा के साथ कोई हम-सफ़र भी आता है !

वफ़ा की कौन सी मंज़िल पे उस ने छोड़ा था,
कि वो तो याद हमें भूल कर भी आता है !

जहाँ लहू के समुंदर की हद ठहरती है,
वहीं जज़ीरा-ए-लाल-ओ-गुहर भी आता है !

चले जो ज़िक्र फ़रिश्तों की पारसाई का,
तो ज़ेर-ए-बहस मक़ाम-ए-बशर भी आता है !

अभी सिनाँ को सँभाले रहें अदू मेरे,
कि उन सफ़ों में कहीं मेरा सर भी आता है !

कभी-कभी मुझे मिलने बुलंदियों से कोई,
शुआ-ए-सुब्ह की सूरत उतर भी आता है !

इसी लिए मैं किसी शब न सो सका “मोहसिन”,
वो माहताब कभी बाम पर भी आता है !