Home / Poetry Types Umar

Poetry Types Umar

Aaye kuchh abr kuchh sharab aaye..

Aaye kuchh abr kuchh sharab aaye,
Is ke baad aaye jo azab aaye

Baam-e-mina se mahtab utre,
Dast-e-saqi mein aaftab aaye.

Har rag-e-khun mein phir charaghan ho,
Samne phir wo be-naqab aaye.

Umar ke har waraq pe dil ki nazar,
Teri mehr-o-wafa ke bab aaye.

Kar raha tha gham-e-jahan ka hisab,
Aaj tum yaad be-hisab aaye.

Na gayi tere gham ki sardari,
Dil mein yun roz inqalab aaye.

Jal uthe bazm-e-ghair ke dar-o-baam,
Jab bhi hum khanuman-kharab aaye.

Is tarah apni khamushi gunji,
Goya har samt se jawab aaye.

“Faiz” thi rah sar-ba-sar manzil,
Hum jahan pahunche kaamyab aaye. !!

आए कुछ अब्र कुछ शराब आए
इस के बाद आए जो अज़ाब आए !

बाम-ए-मीना से माहताब उतरे,
दस्त-ए-साक़ी में आफ़्ताब आए !

हर रग-ए-ख़ूँ में फिर चराग़ाँ हो,
सामने फिर वो बे-नक़ाब आए !

उम्र के हर वरक़ पे दिल की नज़र,
तेरी मेहर-ओ-वफ़ा के बाब आए !

कर रहा था ग़म-ए-जहाँ का हिसाब,
आज तुम याद बे-हिसाब आए !

न गई तेरे ग़म की सरदारी,
दिल में यूँ रोज़ इंक़लाब आए !

जल उठे बज़्म-ए-ग़ैर के दर-ओ-बाम,
जब भी हम ख़ानुमाँ-ख़राब आए !

इस तरह अपनी ख़ामुशी गूँजी,
गोया हर सम्त से जवाब आए !

“फ़ैज़” थी राह सर-ब-सर मंज़िल,
हम जहाँ पहुँचे कामयाब आए !!

 

Rog aise bhi gham-e-yaar se lag jate hain..

Rog aise bhi gham-e-yaar se lag jate hain,
Dar se uthte hain to diwar se lag jate hain.

Ishq aaghaz mein halki si khalish rakhta hai,
Baad mein saikdon aazar se lag jate hain.

Pahle pahle hawas ik-adh dukan kholti hai,
Phir to bazaar ke bazaar se lag jate hain.

Bebasi bhi kabhi qurbat ka sabab banti hai,
Ro na payen to gale yaar se lag jate hain.

Katranen gham ki jo galiyon mein udi phirti hain,
Ghar mein le aao to ambar se lag jate hain.

Dagh daman ke hon dil ke hon ki chehre ke “Faraz”,
Kuchh nishan umar ki raftar se lag jate hain. !!

रोग ऐसे भी ग़म-ए-यार से लग जाते हैं,
दर से उठते हैं तो दीवार से लग जाते हैं !

इश्क़ आग़ाज़ में हल्की सी ख़लिश रखता है,
बाद में सैकड़ों आज़ार से लग जाते हैं !

पहले पहले हवस एक-आध दुकाँ खोलती है,
फिर तो बाज़ार के बाज़ार से लग जाते हैं !

बेबसी भी कभी क़ुर्बत का सबब बनती है,
रो न पाएँ तो गले यार से लग जाते हैं !

कतरनें ग़म की जो गलियों में उड़ी फिरती हैं,
घर में ले आओ तो अम्बार से लग जाते हैं !

दाग़ दामन के हों दिल के हों कि चेहरे के “फ़राज़”,
कुछ निशाँ उम्र की रफ़्तार से लग जाते हैं !!

 

Guftugu achchhi lagi zauq-e-nazar achchha laga..

Guftugu achchhi lagi zauq-e-nazar achchha laga,
Muddaton ke baad koi hum-safar achchha laga.

Dil ka dukh jaana to dil ka masala hai par humein,
Us ka hans dena humare haal par achchha laga.

Har tarah ki be-sar-o-samaniyon ke bawajud,
Aaj wo aaya to mujh ko apna ghar achchha laga.

Baghban gulchin ko chahe jo kahe hum ko to phool,
Shakh se badh kar kaf-e-dildar par achchha laga.

Koi maqtal mein na pahuncha kaun zalim tha jise,
Tegh-e-qatil se ziyada apna sar achchha laga.

Hum bhi qael hain wafa mein ustuwari ke magar,
Koi puchhe kaun kis ko umar bhar achchha laga.

Apni apni chahaten hain log ab jo bhi kahen,
Ek pari-paikar ko ek aashufta-sar achchha laga.

“Mir” ke manind aksar zist karta tha “Faraz”,
Tha to wo diwana sa shayaar magar achchha laga. !!

गुफ़्तुगू अच्छी लगी ज़ौक़-ए-नज़र अच्छा लगा,
मुद्दतों के बाद कोई हम-सफ़र अच्छा लगा !

दिल का दुख जाना तो दिल का मसअला है पर हमें,
उस का हँस देना हमारे हाल पर अच्छा लगा !

हर तरह की बे-सर-ओ-सामानियों के बावजूद,
आज वो आया तो मुझ को अपना घर अच्छा लगा !

बाग़बाँ गुलचीं को चाहे जो कहे हम को तो फूल,
शाख़ से बढ़ कर कफ़-ए-दिलदार पर अच्छा लगा !

कोई मक़्तल में न पहुँचा कौन ज़ालिम था जिसे,
तेग़-ए-क़ातिल से ज़ियादा अपना सर अच्छा लगा !

हम भी क़ाएल हैं वफ़ा में उस्तुवारी के मगर,
कोई पूछे कौन किस को उम्र भर अच्छा लगा !

अपनी अपनी चाहतें हैं लोग अब जो भी कहें,
एक परी-पैकर को एक आशुफ़्ता-सर अच्छा लगा !

“मीर” के मानिंद अक्सर ज़ीस्त करता था “फ़राज़”,
था तो वो दीवाना सा शायर मगर अच्छा लगा !!

 

Har koi dil ki hatheli pe hai sahra rakkhe..

Har koi dil ki hatheli pe hai sahra rakkhe,
Kis ko sairab kare wo kise pyasa rakkhe.

Umar bhar kaun nibhata hai talluq itna,
Aye meri jaan ke dushman tujhe allah rakkhe.

Hum ko achchha nahi lagta koi hamnam tera,
Koi tujh sa ho to phir naam bhi tujh sa rakkhe.

Dil bhi pagal hai ki us shakhs se wabasta hai,
Jo kisi aur ka hone de na apna rakkhe.

Kam nahi tama-e-ibaadat bhi to hirs-e-zar se,
Faqr to wo hai ki jo din na duniya rakkhe.

Hans na itna bhi faqiron ke akele-pan par,
Ja khuda meri tarah tujh ko bhi tanha rakkhe.

Ye qanaat hai itaat hai ki chahat hai “Faraz”,
Hum to raazi hain wo jis haal mein jaisa rakkhe. !!

हर कोई दिल की हथेली पे है सहरा रक्खे,
किस को सैराब करे वो किसे प्यासा रक्खे !

उम्र भर कौन निभाता है तअल्लुक़ इतना,
ऐ मेरी जान के दुश्मन तुझे अल्लाह रक्खे !

हम को अच्छा नहीं लगता कोई हमनाम तेरा,
कोई तुझ सा हो तो फिर नाम भी तुझ सा रक्खे !

दिल भी पागल है कि उस शख़्स से वाबस्ता है,
जो किसी और का होने दे न अपना रक्खे !

कम नहीं तम-ए-इबादत भी तो हिर्स-ए-ज़र से,
फ़क़्र तो वो है कि जो दीन न दुनिया रक्खे !

हँस न इतना भी फ़क़ीरों के अकेले-पन पर,
जा ख़ुदा मेरी तरह तुझ को भी तन्हा रक्खे !

ये क़नाअत है इताअत है कि चाहत है “फ़राज़”,
हम तो राज़ी हैं वो जिस हाल में जैसा रक्खे !!

 

Silsile tod gaya wo sabhi jate jate..

Silsile tod gaya wo sabhi jate jate,
Warna itne to marasim the ki aate jate.

Shikwa-e-zulmat-e-shab se to kahin behtar tha,
Apne hisse ki koi shama jalate jate.

Kitna aasan tha tere hijr mein marna jaanan,
Phir bhi ek umar lagi jaan se jate jate.

Jashn-e-maqtal hi na barpa hua warna hum bhi,
Pa-ba-jaulan hi sahi nachte gate jate.

Is ki wo jaane use pas-e-wafa tha ki na tha,
Tum “Faraz” apni taraf se to nibhate jate. !!

सिलसिले तोड़ गया वो सभी जाते जाते,
वर्ना इतने तो मरासिम थे कि आते जाते !

शिकवा-ए-ज़ुल्मत-ए-शब से तो कहीं बेहतर था,
अपने हिस्से की कोई शमा जलाते जाते !

कितना आसाँ था तेरे हिज्र में मरना जानाँ,
फिर भी एक उम्र लगी जान से जाते जाते !

जश्न-ए-मक़्तल ही न बरपा हुआ वर्ना हम भी,
पा-ब-जौलाँ ही सही नाचते गाते जाते !

इस की वो जाने उसे पास-ए-वफ़ा था कि न था,
तुम “फ़राज़” अपनी तरफ़ से तो निभाते जाते !!

 

Aangan mein chhod aaye the jo ghaar dekh le..

Aangan mein chhod aaye the jo ghaar dekh le,
Kis haal mein hai in dinon ghar-bar dekh le.

Jab aa gaye hain shehar-e-tilismat ke qarib,
Kya chahti hai nargis-e-bimar dekh le.

Hansna-hansana chhute hue muddaten hui,
Bas thodi dur rah gayi diwar dekh le.

Arse se is dayar ki koi khabar nahi,
Mohlat mile to aaj ka akhbar dekh le.

Mushkil hai tera sath nibhana tamam umar,
Bikna hai na-guzir to bazaar dekh le.

Aashuftagi hamari yahan layi bar-bar,
Hai kya zarur tujh ko bhi har bar dekh le. !!

आँगन में छोड़ आए थे जो ग़ार देख लें,
किस हाल में है इन दिनों घर-बार देख लें !

जब आ गए हैं शहर-ए-तिलिस्मात के क़रीब,
क्या चाहती है नर्गिस-ए-बीमार देख लें !

हँसना-हँसाना छूटे हुए मुद्दतें हुईं,
बस थोड़ी दूर रह गई दीवार देख लें !

अर्से से इस दयार की कोई ख़बर नहीं,
मोहलत मिले तो आज का अख़बार देख लें !

मुश्किल है तेरा साथ निभाना तमाम उम्र,
बिकना है ना-गुज़ीर तो बाज़ार देख लें !

आशुफ़्तगी हमारी यहाँ लाई बार-बार,
है क्या ज़रूर तुझ को भी हर बार देख लें !!

 

Ajab talash-e-musalsal ka ikhtitam hua..

Ajab talash-e-musalsal ka ikhtitam hua,
Husul-e-rizq hua bhi to zer-e-dam hua.

Tha intezaar manayenge mil ke diwali,
Na tum hi laut ke aaye na waqt-e-sham hua.

Har ek shahr ka mear mukhtalif dekha,
Kahin pe sar kahin pagdi ka ehtiram hua.

Zara si umar adawat ki lambi fehristen,
Ajib qarz wirasat mein mere naam hua.

Na thi zamin mein wusat meri nazar jaisi,
Badan thaka bhi nahi aur safar tamam hua.

Hum apne sath liye phir rahe hain pachhtawa,
Khayal laut ke jaane ka gam gam hua. !!

अजब तलाश-ए-मुसलसल का इख़्तिताम हुआ,
हुसूल-ए-रिज़्क़ हुआ भी तो ज़ेर-ए-दाम हुआ !

था इंतिज़ार मनाएँगे मिल के दीवाली,
न तुम ही लौट के आए न वक़्त-ए-शाम हुआ !

हर एक शहर का मेआर मुख़्तलिफ़ देखा,
कहीं पे सर कहीं पगड़ी का एहतिराम हुआ !

ज़रा सी उम्र अदावत की लम्बी फ़ेहरिस्तें,
अजीब क़र्ज़ विरासत में मेरे नाम हुआ !

न थी ज़मीन में वुसअत मेरी नज़र जैसी,
बदन थका भी नहीं और सफ़र तमाम हुआ !

हम अपने साथ लिए फिर रहे हैं पछतावा,
ख़याल लौट के जाने का गाम गाम हुआ !!