Wednesday , February 26 2020
Home / Poetry Types Safar

Poetry Types Safar

Sirf Khanjar Hi Nahi Aankhon Mein Pani Chahiye

Sirf khanjar hi nahi aankhon mein pani chahiye,
Aye khuda dushman bhi mujhko khandani chahiye.

Shehar ki sari alif-lailayen budhi ho chukin,
Shahzade ko koi taza kahani chahiye.

Maine aye sooraj tujhe puja nahin samjha to hai,
Mere hisse mein bhi thodi dhup aani chahiye.

Meri qimat kaun de sakta hai is bazaar mein,
Tum zulekha ho tumhein qimat lagani chahiye.

Zindagi hai ek safar aur zindagi ki rah mein,
Zindagi bhi aaye to thokar lagani chahiye.

Maine apni khushk aankhon se lahu chhalka diya,
Ek samundar kah raha tha mujhko pani chahiye. !!

सिर्फ़ ख़ंजर ही नहीं आँखों में पानी चाहिए,
ऐ ख़ुदा दुश्मन भी मुझको ख़ानदानी चाहिए !

शहर की सारी अलिफ़-लैलाएँ बूढ़ी हो चुकीं,
शाहज़ादे को कोई ताज़ा कहानी चाहिए !

मैंने ऐ सूरज तुझे पूजा नहीं समझा तो है,
मेरे हिस्से में भी थोड़ी धूप आनी चाहिए !

मेरी क़ीमत कौन दे सकता है इस बाज़ार में,
तुम ज़ुलेख़ा हो तुम्हें क़ीमत लगानी चाहिए !

ज़िंदगी है एक सफ़र और ज़िंदगी की राह में,
ज़िंदगी भी आए तो ठोकर लगानी चाहिए !

मैंने अपनी ख़ुश्क आँखों से लहू छलका दिया,
एक समुंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए !! -Rahat Indori Ghazal

 

Saans lena bhi kaisi aadat hai.. {Aadat Gulzar Nazm}

Saans lena bhi kaisi aadat hai
Jiye jaana bhi kya riwayat hai
Koi aahat nahin badan mein kahin
Koi saya nahin hai aaankhon mein
Paanv behis hain chalte jate hain
Ek safar hai jo bahta rahta hai
Kitne barson se kitni sadiyon se
Jiye jate hain jiye jate hain

Aadaten bhi ajib hoti hain.. !!

साँस लेना भी कैसी आदत है
जीये जाना भी क्या रवायत है
कोई आहट नहीं बदन में कहीं
कोई साया नहीं है आँखों में
पाँव बेहिस हैं, चलते जाते हैं
इक सफ़र है जो बहता रहता है
कितने बरसों से, कितनी सदियों से
जिये जाते हैं, जिये जाते हैं

आदतें भी अजीब होती हैं..!! – Gulzar

 

Qurbat bhi nahi dil se utar bhi nahi jata..

Qurbat bhi nahi dil se utar bhi nahi jata,
Wo shakhs koi faisla kar bhi nahi jata.

Aankhen hain ki khali nahi rahti hain lahu se,
Aur zakhm-e-judai hai ki bhar bhi nahi jata.

Wo rahat-e-jaan hai magar is dar-badri mein,
Aisa hai ki ab dhyan udhar bhi nahi jata.

Hum dohri aziyyat ke giraftar musafir,
Panw bhi hain shal shauq-e-safar bhi nahi jata.

Dil ko teri chahat pe bharosa bhi bahut hai,
Aur tujh se bichhad jaane ka dar bhi nahi jata.

Pagal hue jate ho “Faraz” us se mile kya,
Itni si khushi se koi mar bhi nahi jata. !!

क़ुर्बत भी नहीं दिल से उतर भी नहीं जाता,
वो शख़्स कोई फ़ैसला कर भी नहीं जाता !

आँखें हैं कि ख़ाली नहीं रहती हैं लहू से,
और ज़ख़्म-ए-जुदाई है कि भर भी नहीं जाता !

वो राहत-ए-जाँ है मगर इस दर-बदरी में,
ऐसा है कि अब ध्यान उधर भी नहीं जाता !

हम दोहरी अज़िय्यत के गिरफ़्तार मुसाफ़िर,
पाँव भी हैं शल शौक़-ए-सफ़र भी नहीं जाता !

दिल को तेरी चाहत पे भरोसा भी बहुत है,
और तुझ से बिछड़ जाने का डर भी नहीं जाता !

पागल हुए जाते हो “फ़राज़” उस से मिले क्या,
इतनी सी ख़ुशी से कोई मर भी नहीं जाता !!

 

Abhi kuchh aur karishme ghazal ke dekhte hain..

Abhi kuchh aur karishme ghazal ke dekhte hain,
“Faraz” ab zara lahja badal ke dekhte hain.

Judaiyan to muqaddar hain phir bhi jaan-e-safar,
Kuchh aur dur zara sath chal ke dekhte hain.

Rah-e-wafa mein harif-e-khiram koi to ho,
So apne aap se aage nikal ke dekhte hain.

Tu samne hai to phir kyun yaqin nahi aata,
Ye bar bar jo aankhon ko mal ke dekhte hain.

Ye kaun log hain maujud teri mehfil mein,
Jo lalachon se tujhe mujh ko jal ke dekhte hain.

Ye qurb kya hai ki yak-jaan hue na dur rahe,
Hazar ek hi qalib mein dhal ke dekhte hain.

Na tujh ko mat hui hai na mujh ko mat hui,
So ab ke donon hi chaalen badal ke dekhte hain.

Ye kaun hai sar-e-sahil ki dubne wale,
Samundaron ki tahon se uchhal ke dekhte hain.

Abhi talak to na kundan hue na rakh hue,
Hum apni aag mein har roz jal ke dekhte hain.

Bahut dinon se nahi hai kuchh us ki khair khabar,
Chalo “Faraz” ku-e-yar chal ke dekhte hain. !!

अभी कुछ और करिश्मे ग़ज़ल के देखते हैं,
“फ़राज़” अब ज़रा लहजा बदल के देखते हैं !

जुदाइयाँ तो मुक़द्दर हैं फिर भी जान-ए-सफ़र,
कुछ और दूर ज़रा साथ चल के देखते हैं !

रह-ए-वफ़ा में हरीफ़-ए-ख़िराम कोई तो हो,
सो अपने आप से आगे निकल के देखते हैं !

तू सामने है तो फिर क्यूँ यक़ीं नहीं आता,
ये बार बार जो आँखों को मल के देखते हैं !

ये कौन लोग हैं मौजूद तेरी महफ़िल में,
जो लालचों से तुझे मुझ को जल के देखते हैं !

ये क़ुर्ब क्या है कि यक-जाँ हुए न दूर रहे,
हज़ार एक ही क़ालिब में ढल के देखते हैं !

न तुझ को मात हुई है न मुझ को मात हुई,
सो अब के दोनों ही चालें बदल के देखते हैं !

ये कौन है सर-ए-साहिल कि डूबने वाले,
समुंदरों की तहों से उछल के देखते हैं !

अभी तलक तो न कुंदन हुए न राख हुए,
हम अपनी आग में हर रोज़ जल के देखते हैं !

बहुत दिनों से नहीं है कुछ उस की ख़ैर ख़बर,
चलो “फ़राज़” कू-ए-यार चल के देखते हैं !!

 

Barson ke baad dekha ek shakhs dilruba sa..

Barson ke baad dekha ek shakhs dilruba sa

Barson ke baad dekha ek shakhs dilruba sa,
Ab zehan mein nahi hai par naam tha bhala sa.

Abro khinche khinche se aankhen jhuki jhuki si,
Baaten ruki ruki si lehja thaka thaka sa.

Alfaaz the ki jugnu aawaz ke safar mein,
Ban jaaye jungalon mein jis tarah rasta sa.

Khwabon mein khwab uske yaadon mein yaad uski,
Nindon mein ghul gaya ho jaise ki rat-jaga sa.

Pahle bhi log aaye kitne hi zindagi mein,
Woh har tarah se lekin auron se tha juda sa.

Kuch ye ki muddaton se hum bhi nahi the roye,
Kuch zahar mein ghula tha ahbaab ka dilasa.

Phir yun hua ki sawan aankhon mein aa base the,
Phir yun hua ki jaise dil bhi tha aablaa sa.

Ab sach kahen to yaaro hum ko khabar nahi thi,
Ban jayega qayaamat ek waaqiya zara sa.

Tewar the be-rukhi ke andaaz dosti ka,
Woh ajnabi tha lekin lagta tha aashna sa.

Hum dasht the ki dariya hum zahar the ki amrit,
Na haq the jaam hum ko jab wo nahi tha pyasa.

Humne bhi usko dekha kal shaam ittefaqan,
Apna bhi haal hai ab logo “Faraz” ka sa .

बरसों के बाद देखा एक शख्स दिलरुबा सा,
अब ज़हन में नहीं है पर नाम था भला सा !

अबरो खिंचे खिंचे से आखें झुकी झुकी सी,
बातें रुकी रुकी सी, लहजा थका थका सा !

अलफ़ाज़ थे की जुगनु आवाज़ के सफ़र में,
बन जाए जंगलों में जिस तरह रास्ता सा !

ख़्वाबों में ख्वाब उसके यादों में याद उसकी,
नींदों में घुल गया हो जैसे की रात-जगा सा !

पहले भी लोग आये कितने ही ज़िन्दगी में,
वह हर तरह से लेकिन औरों से था जुदा सा !

कुछ ये की मुद्दतों से हम भी नहीं थे रोये,
कुछ ज़हर में घुला था अहबाब का दिलासा !

फिर यूँ हुआ कि सावन आँखों में आ बसे थे,
फिर यूँ हुआ कि जैसे दिल भी था अबला सा !

अब सच कहें तो यारो हम को खबर नहीं थी,
बन जायेगा क़यामत एक वाकिया ज़रा सा !

तेवर थे बे-रुखी के अंदाज़ दोस्ती का,
वह अजनबी था लेकिन लगता था आशना सा !

हम दश्त थे की दरिया हम ज़हर थे कि अमृत,
ना हक़ थे ज़ाम हम को जब वो नहीं था प्यासा !

हमने भी उसको देखा कल शाम इत्तेफ़ाक़न,
अपना भी हाल है अब लोगो “फ़राज़” का सा !!

 

Aankhon ke samne koi manzar naya na tha..

Aankhon ke samne koi manzar naya na tha,
Bas wo zara sa fasla baqi raha na tha.

Ab is safar ka silsila shayad hi khatm ho,
Sab apni apni rah len hum ne kaha na tha.

Darwaze aaj band samajhiye suluk ke,
Ye chalne wala dur talak silsila na tha.

Unchi udan ke liye par taulte the hum,
Unchaiyon pe sans ghutegi pata na tha.

Koshish hazar karti rahen tez aandhiyan,
Lekin wo ek patta abhi tak hila na tha.

Sab hi shikar-gah mein the khema-zan magar,
Koi shikar karne ko ab tak utha na tha.

Achchha hua ki gosha-nashini ki ikhtiyar,
“Aashufta” aur is ke siwa rasta na tha. !!

आँखों के सामने कोई मंज़र नया न था,
बस वो ज़रा सा फ़ासला बाक़ी रहा न था !

अब इस सफ़र का सिलसिला शायद ही ख़त्म हो,
सब अपनी अपनी राह लें हम ने कहा न था !

दरवाज़े आज बंद समझिए सुलूक के,
ये चलने वाला दूर तलक सिलसिला न था !

ऊँची उड़ान के लिए पर तौलते थे हम,
ऊँचाइयों पे साँस घुटेगी पता न था !

कोशिश हज़ार करती रहें तेज़ आँधियाँ,
लेकिन वो एक पत्ता अभी तक हिला न था !

सब ही शिकार-गाह में थे ख़ेमा-ज़न मगर,
कोई शिकार करने को अब तक उठा न था !

अच्छा हुआ कि गोशा-नशीनी की इख़्तियार,
“आशुफ़्ता” और इस के सिवा रास्ता न था !!

 

Kis ki talash hai hamein kis ke asar mein hain..

Kis ki talash hai hamein kis ke asar mein hain,
Jab se chale hain ghar se musalsal safar mein hain.

Sare tamashe khatm hue log ja chuke,
Ek hum hi rah gaye jo fareb-e-sahar mein hain.

Aisi to koi khas khata bhi nahi hui,
Han ye samajh liya tha ki hum apne ghar mein hain.

Ab ke bahaar dekhiye kya naqsh chhod jaye,
Aasar baadalon ke na patte shajar mein hain.

Tujh se bichhadna koi naya hadsa nahi,
Aise hazaron kisse hamari khabar mein hain.

“Aashufta” sab guman dhara rah gaya yahan,
Kahte na the ki khamiyan tere hunar mein hain. !!

किस की तलाश है हमें किस के असर में हैं,
जब से चले हैं घर से मुसलसल सफ़र में हैं !

सारे तमाशे ख़त्म हुए लोग जा चुके,
एक हम ही रह गए जो फ़रेब-ए-सहर में हैं !

ऐसी तो कोई ख़ास ख़ता भी नहीं हुई,
हाँ ये समझ लिया था कि हम अपने घर में हैं !

अब के बहार देखिए क्या नक़्श छोड़ जाए,
आसार बादलों के न पत्ते शजर में हैं !

तुझ से बिछड़ना कोई नया हादसा नहीं,
ऐसे हज़ारों क़िस्से हमारी ख़बर में हैं !

“आशुफ़्ता” सब गुमान धरा रह गया यहाँ,
कहते न थे कि ख़ामियाँ तेरे हुनर में हैं !!