Home / Poetry Types Raat

Poetry Types Raat

Dost ban kar bhi nahi sath nibhane wala..

Dost ban kar bhi nahi sath nibhane wala,
Wahi andaz hai zalim ka zamane wala.

Ab use log samajhte hain giraftar mera,
Sakht nadim hai mujhe dam mein lane wala.

Subh-dam chhod gaya nikhat-e-gul ki surat,
Raat ko ghuncha-e-dil mein simat aane wala.

Kya kahen kitne marasim the humare us se,
Wo jo ek shakhs hai munh pher ke jaane wala.

Tere hote hue aa jati thi sari duniya,
Aaj tanha hun to koi nahi aane wala.

Muntazir kis ka hun tuti hui dahliz pe main,
Kaun aayega yahan kaun hai aane wala.

Kya khabar thi jo meri jaan mein ghula hai itna,
Hai wahi mujh ko sar-e-dar bhi lane wala.

Main ne dekha hai bahaaron mein chaman ko jalte,
Hai koi khwab ki tabir batane wala.

Tum takalluf ko bhi ikhlas samajhte ho “Faraz”,
Dost hota nahi har hath milane wala. !!

दोस्त बन कर भी नहीं साथ निभाने वाला,
वही अंदाज़ है ज़ालिम का ज़माने वाला !

अब उसे लोग समझते हैं गिरफ़्तार मेरा,
सख़्त नादिम है मुझे दाम में लाने वाला !

सुब्ह-दम छोड़ गया निकहत-ए-गुल की सूरत,
रात को ग़ुंचा-ए-दिल में सिमट आने वाला !

क्या कहें कितने मरासिम थे हमारे उस से,
वो जो एक शख़्स है मुँह फेर के जाने वाला !

तेरे होते हुए आ जाती थी सारी दुनिया,
आज तन्हा हूँ तो कोई नहीं आने वाला !

मुंतज़िर किस का हूँ टूटी हुई दहलीज़ पे मैं,
कौन आएगा यहाँ कौन है आने वाला !

क्या ख़बर थी जो मेरी जाँ में घुला है इतना,
है वही मुझ को सर-ए-दार भी लाने वाला !

मैं ने देखा है बहारों में चमन को जलते,
है कोई ख़्वाब की ताबीर बताने वाला !

तुम तकल्लुफ़ को भी इख़्लास समझते हो “फ़राज़”,
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला !!

 

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain..

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain,
So us ke shehar mein kuchh din thahar ke dekhte hain.

Suna hai rabt hai us ko kharab-haalon se,
So apne aap ko barbaad kar ke dekhte hain.

Suna hai dard ki gahak hai chashm-e-naz us ki,
So hum bhi us ki gali se guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ko bhi hai shair-o-shayari se shaghaf,
So hum bhi moajize apne hunar ke dekhte hain.

Suna hai bole to baaton se phool jhadte hain,
Ye baat hai to chalo baat kar ke dekhte hain.

Suna hai raat use chand takta rahta hai,
Sitare baam-e-falak se utar ke dekhte hain.

Suna hai din ko use titliyan satati hain,
Suna hai raat ko jugnu thahar ke dekhte hain.

Suna hai hashr hain us ki ghazal si aankhen,
Suna hai us ko hiran dasht bhar ke dekhte hain.

Suna hai raat se badh kar hain kakulen us ki,
Suna hai sham ko saye guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ki siyah-chashmagi qayamat hai,
So us ko surma-farosh aah bhar ke dekhte hain.

Suna hai us ke labon se gulab jalte hain,
So hum bahaar pe ilzam dhar ke dekhte hain.

Suna hai aaina timsal hai jabin us ki,
Jo sada dil hain use ban-sanwar ke dekhte hain.

Suna hai jab se hamail hain us ki gardan mein,
Mizaj aur hi lal o guhar ke dekhte hain.

Suna hai chashm-e-tasawwur se dasht-e-imkan mein,
Palang zawiye us ki kamar ke dekhte hain.

Suna hai us ke badan ki tarash aisi hai,
Ki phool apni qabayen katar ke dekhte hain.

Wo sarw-qad hai magar be-gul-e-murad nahi,
Ki us shajar pe shagufe samar ke dekhte hain.

Bas ek nigah se lutta hai qafila dil ka,
So rah-rawan-e-tamanna bhi dar ke dekhte hain.

Suna hai us ke shabistan se muttasil hai bahisht,
Makin udhar ke bhi jalwe idhar ke dekhte hain.

Ruke to gardishen us ka tawaf karti hain,
Chale to us ko zamane thahar ke dekhte hain.

Kise nasib ki be-pairahan use dekhe,
Kabhi kabhi dar o diwar ghar ke dekhte hain.

Kahaniyan hi sahi sab mubaalghe hi sahi,
Agar wo khwab hai tabir kar ke dekhte hain.

Ab us ke shehar mein thahren ki kuch kar jayen,
“Faraz” aao sitare safar ke dekhte hain. !!

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं,
सो उस के शहर में कुछ दिन ठहर के देखते हैं !

सुना है रब्त है उस को ख़राब-हालों से,
सो अपने आप को बरबाद कर के देखते हैं !

सुना है दर्द की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उस की,
सो हम भी उस की गली से गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस को भी है शेर-ओ-शायरी से शग़फ़,
सो हम भी मोजिज़े अपने हुनर के देखते हैं !

सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते हैं,
ये बात है तो चलो बात कर के देखते हैं !

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है,
सितारे बाम-ए-फ़लक से उतर के देखते हैं !

सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती हैं,
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते हैं !

सुना है हश्र हैं उस की ग़ज़ाल सी आँखें,
सुना है उस को हिरन दश्त भर के देखते हैं !

सुना है रात से बढ़ कर हैं काकुलें उस की,
सुना है शाम को साए गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस की सियह-चश्मगी क़यामत है,
सो उस को सुरमा-फ़रोश आह भर के देखते हैं !

सुना है उस के लबों से गुलाब जलते हैं,
सो हम बहार पे इल्ज़ाम धर के देखते हैं !

सुना है आइना तिमसाल है जबीं उस की,
जो सादा दिल हैं उसे बन-सँवर के देखते हैं !

सुना है जब से हमाइल हैं उस की गर्दन में,
मिज़ाज और ही लाल ओ गुहर के देखते हैं !

सुना है चश्म-ए-तसव्वुर से दश्त-ए-इम्काँ में,
पलंग ज़ाविए उस की कमर के देखते हैं !

सुना है उस के बदन की तराश ऐसी है,
कि फूल अपनी क़बाएँ कतर के देखते हैं !

वो सर्व-क़द है मगर बे-गुल-ए-मुराद नहीं,
कि उस शजर पे शगूफ़े समर के देखते हैं !

बस एक निगाह से लुटता है क़ाफ़िला दिल का,
सो रह-रवान-ए-तमन्ना भी डर के देखते हैं !

सुना है उस के शबिस्ताँ से मुत्तसिल है बहिश्त,
मकीं उधर के भी जल्वे इधर के देखते हैं !

रुके तो गर्दिशें उस का तवाफ़ करती हैं,
चले तो उस को ज़माने ठहर के देखते हैं !

किसे नसीब कि बे-पैरहन उसे देखे,
कभी कभी दर ओ दीवार घर के देखते हैं !

कहानियाँ ही सही सब मुबालग़े ही सही,
अगर वो ख़्वाब है ताबीर कर के देखते हैं !

अब उस के शहर में ठहरें कि कूच कर जाएँ,
“फ़राज़” आओ सितारे सफ़र के देखते हैं !!

 

Aaj phir ruh mein ek barq si lahraati hai..

Aaj phir ruh mein ek barq si lahraati hai,
Dil ki gahrai se rone ki sada aati hai.

Yun chatakti hain kharabaat mein jaise kaliyan,
Tishnagi saghar-e-labrez se takraati hai.

Shola-e-gham ki lapak aur mera nazuk sa mizaj,
Mujh ko fitrat ke rawayye pe hansi aati hai.

Maut ek amr-e-musallam hai to phir aye saqi,
Ruh kyun zist ke aalam se ghabraati hai.

So bhi ja aye dil-e-majruh bahut raat gayi,
Ab to rah rah ke sitaron ko bhi nind aati hai.

Aur to dil ko nahi hai koi taklif “Adam”,
Han zara nabz kisi waqt thahar jati hai. !!

आज फिर रूह में एक बर्क़ सी लहराती है,
दिल की गहराई से रोने की सदा आती है !

यूँ चटकती हैं ख़राबात में जैसे कलियाँ,
तिश्नगी साग़र-ए-लबरेज़ से टकराती है !

शोला-ए-ग़म की लपक और मेरा नाज़ुक सा मिज़ाज,
मुझ को फ़ितरत के रवय्ये पे हँसी आती है !

मौत एक अम्र-ए-मुसल्लम है तो फिर ऐ साक़ी,
रूह क्यूँ ज़ीस्त के आलाम से घबराती है !

सो भी जा ऐ दिल-ए-मजरूह बहुत रात गई,
अब तो रह रह के सितारों को भी नींद आती है !

और तो दिल को नहीं है कोई तकलीफ़ “अदम”,
हाँ ज़रा नब्ज़ किसी वक़्त ठहर जाती है !!

 

Kashti chala raha hai magar kis ada ke sath..

Kashti chala raha hai magar kis ada ke sath,
Hum bhi na dub jayen kahin na-khuda ke sath.

Dil ki talab padi hai to aaya hai yaad ab,
Wo to chala gaya tha kisi dilruba ke sath.

Jab se chali hai Adam-o-yazdan ki dastan,
Har ba-wafa ka rabt hai ek bewafa ke sath.

Mehman mezban hi ko bahka ke le uda,
Khushbu-e-gul bhi ghum rahi hai saba ke sath.

Pir-e-mughan se hum ko koi bair to nahi,
Thoda sa ikhtilaf hai mard-e-khuda ke sath.

Shaikh aur bahisht kitne tajjub ki baat hai,
Ya-rab ye zulm khuld ki aab-o-hawa ke sath.

Padhta namaz main bhi hun par ittifaq se,
Uthta hun nisf raat ko dil ki sada ke sath.

Mahshar ka khair kuchh bhi natija ho aye “Adam”,
Kuchh guftugu to khul ke karenge khuda ke sath. !!

कश्ती चला रहा है मगर किस अदा के साथ,
हम भी न डूब जाएँ कहीं ना-ख़ुदा के साथ !

दिल की तलब पड़ी है तो आया है याद अब,
वो तो चला गया था किसी दिलरुबा के साथ !

जब से चली है अदम-ओ-यज़्दाँ की दास्ताँ,
हर बा-वफ़ा का रब्त है एक बेवफ़ा के साथ !

मेहमान मेज़बाँ ही को बहका के ले उड़ा,
ख़ुश्बू-ए-गुल भी घूम रही है सबा के साथ !

पीर-ए-मुग़ाँ से हम को कोई बैर तो नहीं,
थोड़ा सा इख़्तिलाफ़ है मर्द-ए-ख़ुदा के साथ !

शैख़ और बहिश्त कितने तअ’ज्जुब की बात है,
या-रब ये ज़ुल्म ख़ुल्द की आब-ओ-हवा के साथ !

पढ़ता नमाज़ मैं भी हूँ पर इत्तिफ़ाक़ से,
उठता हूँ निस्फ़ रात को दिल की सदा के साथ !

महशर का ख़ैर कुछ भी नतीजा हो ऐ “अदम”,
कुछ गुफ़्तुगू तो खुल के करेंगे ख़ुदा के साथ !!

 

Dekh kar dil-kashi zamane ki..

Dekh kar dil-kashi zamane ki,
Aarzoo hai fareb khane ki.

Aye gham-e-zindagi na ho naraaz,
Mujh ko aadat hai muskurane ki.

Zulmaton se na dar ki raste mein,
Roshani hai sharab-khane ki.

Aa tere gesuon ko pyar karun,
Raat hai mishalen jalane ki.

Kis ne saghar “Adam buland kiya,
Tham gayi gardishen zamane ki. !!

देख कर दिल-कशी ज़माने की,
आरज़ू है फरेब खाने की !

ऐ ग़म-ए-ज़िन्दगी न हो नाराज,
मुझ को आदत है मुस्कुराने की !

ज़ुल्मतों से न डर की रास्ते में,
रोशनी है शराब-खाने की !

आ तेरे गेसुओं को प्यार करूँ,
रात है मिशालें जलाने की !

किस ने सागर “अदम बुलंद किया,
थम गयी गर्दिशें ज़माने की !!

 

Ek nazm-danish war kahlane walo..

Danish-war kahlane walo,
Tum kya samjho,
Mubham chizen kya hoti hain,
Thal ke registan mein rahne wale logo..

Tum kya jaano,
Sawan kya hai,
Apne badan ko,
Raat mein andhi tariki se..

Din mein khud apne hathon se,
Dhanpne walo,
Uryan logo,
Tum kya jaano..

Choli kya hai daman kya hai,
Shahr-badar ho jaane walo,
Footpathon par sone walo,
Tum kya samjho..

Chhat kya hai diwaren kya hain,
Aangan kya hai,
Ek ladki ka khizan-rasida bazu thame,
Nabz ke upar hath jamaye..

Ek sada par kan lagaye,
Dhadkan sansen ginne walo,
Tum kya jaano,
Mubham chizen kya hoti hain..

Dhadkan kya hai jiwan kya hai,
Sattarah-number ke bistar par,
Apni qaid ka lamha lamha ginne wali,
Ye ladki jo..

Barson ki bimar nazar aati hai tum ko,
Sola sal ki ek bewa hai,
Hanste hanste ro padti hai,
Andar tak se bhig chuki hai..

Jaan chuki hai,
Sawan kya hai,
Is se puchho,
Kanch ka bartan kya hota hai..

Is se puchho,
Mubham chizen kya hoti hain,
Suna aangan tanha,
Jiwan kya hota hai..

दानिश-वर कहलाने वालो,
तुम क्या समझो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं,
थल के रेगिस्तान में रहने वाले लोगो..

तुम क्या जानो,
सावन क्या है,
अपने बदन को,
रात में अंधी तारीकी से..

दिन में ख़ुद अपने हाथों से,
ढाँपने वालो,
उर्यां लोगो,
तुम क्या जानो..

चोली क्या है दामन क्या है,
शहर-बदर हो जाने वालो,
फ़ुटपाथों पर सोने वालो,
तुम क्या समझो..

छत क्या है दीवारें क्या हैं,
आँगन क्या है,
एक लड़की का ख़िज़ाँ-रसीदा बाज़ू थामे,
नब्ज़ के ऊपर हाथ जमाए..

एक सदा पर कान लगाए,
धड़कन साँसें गिनने वालो,
तुम क्या जानो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं..

धड़कन क्या है जीवन क्या है,
सत्तरह-नंबर के बिस्तर पर,
अपनी क़ैद का लम्हा लम्हा गिनने वाली,
ये लड़की जो..

बरसों की बीमार नज़र आती है तुम को,
सोला साल की एक बेवा है,
हँसते हँसते रो पड़ती है,
अंदर तक से भीग चुकी है..

जान चुकी है,
सावन क्या है,
इस से पूछो,
काँच का बर्तन क्या होता है..

इस से पूछो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं,
सूना आँगन तन्हा,
जीवन क्या होता है.. !!

 

Ye aur baat ki rang-e-bahaar kam hoga..

Ye aur baat ki rang-e-bahaar kam hoga,
Nayi ruton mein darakhton ka bar kam hoga.

Talluqat mein aayi hai bas ye tabdili,
Milenge ab bhi magar intezaar kam hoga.

Main sochta raha kal raat baith kar tanha,
Ki is hujum mein mera shumar kam hoga.

Palat to aayega shayad kabhi yahi mausam,
Tere baghair magar khush-gawar kam hoga.

Bahut tawil hai “Aanis” ye zindagi ka safar,
Bas ek shakhs pe dar-o-madar kam hoga. !!

ये और बात कि रंग-ए-बहार कम होगा,
नई रुतों में दरख़्तों का बार कम होगा !

तअल्लुक़ात में आई है बस ये तब्दीली,
मिलेंगे अब भी मगर इंतिज़ार कम होगा !

मैं सोचता रहा कल रात बैठ कर तन्हा,
कि इस हुजूम में मेरा शुमार कम होगा !

पलट तो आएगा शायद कभी यही मौसम,
तेरे बग़ैर मगर ख़ुश-गवार कम होगा !

बहुत तवील है “अनीस” ये ज़िंदगी का सफ़र,
बस एक शख़्स पे दार-ओ-मदार कम होगा !!