Friday , April 10 2020

Poetry Types Raat

Gaye Mausam Mein Jo Khilte The Gulabon Ki Tarah..

Gaye mausam mein jo khilte the gulabon ki tarah,
Dil pe utrenge wahi khwab azabon ki tarah.

Rakh ke dher pe ab raat basar karni hai,
Jal chuke hain mere kheme mere khwabon ki tarah.

Saat-e-did ki aariz hain gulabi ab tak,
Awwalin lamhon ke gulnar hijabon ki tarah.

Wo samundar hai to phir ruh ko shadab kare,
Tishnagi kyun mujhe deta hai sharaabon ki tarah.

Ghair-mumkin hai tere ghar ke gulabon ka shumar,
Mere riste hue zakhmon ke hisabon ki tarah.

Yaad to hongi wo baaten tujhe ab bhi lekin,
Shelf mein rakkhi hui band kitabon ki tarah.

Kaun jaane ki naye sal mein tu kis ko padhe,
Tera mear badalta hai nisabon ki tarah.

Shokh ho jati hai ab bhi teri aankhon ki chamak,
Gahe gahe tere dilchasp jawabon ki tarah.

Hijr ki shab meri tanhai pe dastak degi,
Teri khush-bu mere khoye hue khwabon ki tarah. !!

गए मौसम में जो खिलते थे गुलाबों की तरह,
दिल पे उतरेंगे वही ख़्वाब अज़ाबों की तरह !

राख के ढेर पे अब रात बसर करनी है,
जल चुके हैं मेरे ख़ेमे मेरे ख़्वाबों की तरह !

साअत-ए-दीद कि आरिज़ हैं गुलाबी अब तक,
अव्वलीं लम्हों के गुलनार हिजाबों की तरह !

वो समुंदर है तो फिर रूह को शादाब करे,
तिश्नगी क्यूं मुझे देता है शराबों की तरह !

ग़ैर-मुमकिन है तेरे घर के गुलाबों का शुमार,
मेरे रिश्ते हुए ज़ख़्मों के हिसाबों की तरह !

याद तो होंगी वो बातें तुझे अब भी लेकिन,
शेल्फ़ में रक्खी हुई बंद किताबों की तरह !

कौन जाने कि नए साल में तू किस को पढ़े,
तेरा मेआर बदलता है निसाबों की तरह !

शोख़ हो जाती है अब भी तेरी आंखों की चमक,
गाहे गाहे तेरे दिलचस्प जवाबों की तरह !

हिज्र की शब मेरी तन्हाई पे दस्तक देगी,
तेरी ख़ुश-बू मेरे खोए हुए ख़्वाबों की तरह !!

Parveen Shakir Ghazal

 

Pura Dukh Aur Aadha Chand..

Pura dukh aur aadha chand

 

Pura dukh aur aadha chand,
Hijr ki shab aur aisa chand.

Din mein wahshat bahal gayi,
Raat hui aur nikla chand.

Kis maqtal se guzra hoga,
Itna sahma sahma chand.

Yaadon ki aabaad gali mein,
Ghum raha hai tanha chand.

Meri karwat par jag utthe,
Nind ka kitna kachcha chand.

Mere munh ko kis hairat se,
Dekh raha hai bhola chand.

Itne ghane baadal ke pichhe,
Kitna tanha hoga chand.

Aansoo roke nur nahaye,
Dil dariya tan sahra chand.

Itne raushan chehre par bhi,
Sooraj ka hai saya chand.

Jab pani mein chehra dekha,
Tu ne kis ko socha chand ?

Bargad ki ek shakh hata kar,
Jaane kis ko jhanka chand.

Baadal ke resham jhule mein,
Bhor samay tak soya chand.

Raat ke shane par sar rakkhe,
Dekh raha hai sapna chand.

Sukhe patton ke jhurmut par,
Shabnam thi ya nanha chand.

Hath hila kar rukhsat hoga,
Us ki surat hijr ka chand.

Sahra sahra bhatak raha hai,
Apne ishq mein sachcha chand.

Raat ke shayad ek baje hain,
Sota hoga mera chand. !!

पूरा दुख और आधा चाँद,
हिज्र की शब और ऐसा चाँद !

दिन में वहशत बहल गई,
रात हुई और निकला चाँद !

किस मक़्तल से गुज़रा होगा,
इतना सहमा सहमा चाँद !

यादों की आबाद गली में,
घूम रहा है तन्हा चाँद !

मेरी करवट पर जाग उठ्ठे,
नींद का कितना कच्चा चाँद !

मेरे मुँह को किस हैरत से,
देख रहा है भोला चाँद !

इतने घने बादल के पीछे,
कितना तन्हा होगा चाँद !

आँसू रोके नूर नहाए,
दिल दरिया तन सहरा चाँद !

इतने रौशन चेहरे पर भी,
सूरज का है साया चाँद !

जब पानी में चेहरा देखा,
तू ने किस को सोचा चाँद ?

बरगद की एक शाख़ हटा कर,
जाने किस को झाँका चाँद !

बादल के रेशम झूले में,
भोर समय तक सोया चाँद !

रात के शाने पर सर रक्खे,
देख रहा है सपना चाँद !

सूखे पत्तों के झुरमुट पर,
शबनम थी या नन्हा चाँद !

हाथ हिला कर रुख़्सत होगा,
उस की सूरत हिज्र का चाँद !

सहरा सहरा भटक रहा है,
अपने इश्क़ में सच्चा चाँद !

रात के शायद एक बजे हैं,
सोता होगा मेरा चाँद !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Kuch To Hawa Bhi Sard Thi Kuch Tha Tera Khayal Bhi..

Kuch to hawa bhi sard thi kuch tha tera khayal bhi,
Dil ko khushi ke sath sath hota raha malal bhi.

Baat wo aadhi raat ki raat wo pure chaand ki,
Chaand bhi ain chait ka us pe tera jamal bhi.

Sab se nazar bacha ke wo mujh ko kuch aise dekhta,
Ek dafa to ruk gai gardish-e-mah-o-sal bhi.

Dil to chamak sakega kya phir bhi tarash ke dekh len,
Shisha-giran-e-shahr ke hath ka ye kamal bhi.

Us ko na pa sake the jab dil ka ajib haal tha,
Ab jo palat ke dekhiye baat thi kuch muhaal bhi.

Meri talab tha ek shakhs wo jo nahin mila to phir,
Hath dua se yun gira bhul gaya sawal bhi.

Us ki sukhan-taraaziyan mere liye bhi dhaal thi,
Us ki hansi mein chhup gaya apne ghamon ka haal bhi.

Gah qarib-e-shah-rag gah baid-e-wahm-o-khwab,
Us ki rafaqaton mein raat hijr bhi tha visal bhi.

Us ke hi bazuon mein aur us ko hi sochte rahe,
Jism ki khwahishon pe the ruh ke aur jal bhi.

Sham ki na-samajh hawa puch rahi hai ek pata,
Mauj-e-hawa-e-ku-e-yar kuch to mera khayal bhi. !!

कुछ तो हवा भी सर्द थी कुछ था तेरा ख़याल भी,
दिल को ख़ुशी के साथ साथ होता रहा मलाल भी !

बात वो आधी रात की रात वो पूरे चाँद की,
चाँद भी ऐन चैत का उस पे तेरा जमाल भी !

सब से नज़र बचा के वो मुझ को कुछ ऐसे देखता,
एक दफ़ा तो रुक गई गर्दिश-ए-माह-ओ-साल भी !

दिल तो चमक सकेगा क्या फिर भी तराश के देख लें,
शीशा-गिरान-ए-शहर के हाथ का ये कमाल भी !

उस को न पा सके थे जब दिल का अजीब हाल था,
अब जो पलट के देखिए बात थी कुछ मुहाल भी !

मेरी तलब था एक शख़्स वो जो नहीं मिला तो फिर,
हाथ दुआ से यूँ गिरा भूल गया सवाल भी !

उस की सुख़न-तराज़ियाँ मेरे लिए भी ढाल थीं,
उस की हँसी में छुप गया अपने ग़मों का हाल भी !

गाह क़रीब-ए-शाह-रग गाह बईद-ए-वहम-ओ-ख़्वाब,
उस की रफ़ाक़तों में रात हिज्र भी था विसाल भी !

उस के ही बाज़ुओं में और उस को ही सोचते रहे,
जिस्म की ख़्वाहिशों पे थे रूह के और जाल भी !

शाम की ना-समझ हवा पूछ रही है एक पता,
मौज-ए-हवा-ए-कू-ए-यार कुछ तो मिरा ख़याल भी !! -Parveen Shakir Ghazal

 

Aaj Ki Raat Bhi Guzri Hai Meri Kal Ki Tarah..

Aaj ki raat bhi guzri hai meri kal ki tarah,
Hath aaye na sitare tere aanchal ki tarah.

Hadsa koi to guzra hai yakinan yaro,
Ek sannata hai mujh mein kisi maqtal ki tarah.

Phir na nikla koi ghar se ki hawa phirti thi,
Sang hathon mein uthaye kisi pagal ki tarah.

Tu ki dariya hai magar meri tarah pyasa hai,
Main tere pas chala aaunga baadal ki tarah.

Raat jalti hui ek aisi chita hai jis par,
Teri yaaden hain sulagte hue sandal ki tarah.

Main hun ek khwab magar jagti aankhon ka “Amir“,
Aaj bhi log ganwa den na mujhe kal ki tarah. !!

आज की रात भी गुज़री है मेरी कल की तरह,
हाथ आए न सितारे तेरे आँचल की तरह !

हादसा कोई तो गुज़रा है यक़ीनन यारो,
एक सन्नाटा है मुझ में किसी मक़्तल की तरह !

फिर न निकला कोई घर से कि हवा फिरती थी,
संग हाथों में उठाए किसी पागल की तरह !

तू कि दरिया है मगर मेरी तरह प्यासा है,
मैं तेरे पास चला आऊँगा बादल की तरह !

रात जलती हुई एक ऐसी चिता है जिस पर,
तेरी यादें हैं सुलगते हुए संदल की तरह !

मैं हूँ एक ख़्वाब मगर जागती आँखों का “अमीर“,
आज भी लोग गँवा दें न मुझे कल की तरह !!

 

Ye Zulf Agar Khul Ke Bikhar Jaye To Accha

Ye zulf agar khul ke bikhar jaye to accha,
Is raat ki taqdir sanwar jaye to accha.

Jis tarah se thodi si tere sath kati hai,
Baqi bhi usi tarah guzar jaye to accha.

Duniya ki nigahon mein bhala kya hai bura kya,
Ye bojh agar dil se utar jaye to accha.

Waise to tumhin ne mujhe barbaad kiya hai,
Ilzam kisi aur ke sar jaye to accha. !!

ये ज़ुल्फ़ अगर खुल के बिखर जाए तो अच्छा,
इस रात की तक़दीर सँवर जाए तो अच्छा !

जिस तरह से थोड़ी सी तिरे साथ कटी है,
बाक़ी भी उसी तरह गुज़र जाए तो अच्छा !

दुनिया की निगाहों में भला क्या है बुरा क्या,
ये बोझ अगर दिल से उतर जाए तो अच्छा !

वैसे तो तुम्हीं ने मुझे बरबाद किया है,
इल्ज़ाम किसी और के सर जाए तो अच्छा !!

 

Aate Aate Mera Naam Sa Rah Gaya..

Aate aate mera naam sa rah gaya,
Us ke honton pe kuchh kanpta rah gaya.

Raat mujrim thi daman bacha le gayi,
Din gawahon ki saf mein khada rah gaya.

Wo mere samne hi gaya aur main,
Raste ki tarah dekhta rah gaya.

Jhuth wale kahin se kahin badh gaye,
Aur main tha ki sach bolta rah gaya.

Aandhiyon ke irade to achchhe na the,
Ye diya kaise jalta hua rah gaya.

Us ko kandhon pe le ja rahe hain ‘Wasim’,
Aur wo jine ka haq mangta rah gaya. !!

आते आते मेरा नाम सा रह गया,
उस के होंटों पे कुछ काँपता रह गया !

रात मुजरिम थी दामन बचा ले गई,
दिन गवाहों की सफ़ में खड़ा रह गया !

वो मेरे सामने ही गया और मैं,
रास्ते की तरह देखता रह गया !

झूठ वाले कहीं से कहीं बढ़ गए,
और मैं था कि सच बोलता रह गया !

आँधियों के इरादे तो अच्छे न थे,
ये दीया कैसे जलता हुआ रह गया !

उस को काँधों पे ले जा रहे हैं ‘वसीम’,
और वो जीने का हक़ माँगता रह गया !! -Wasim Barelvi Ghazal

 

Main Kab Kehta Hun Woh Accha Bahut Hai..

Main kab kehta hoon woh accha bahut hai

Main kab kehta hun woh accha bahut hai,
Magar usne mujhe chaha bahut hai.

Khuda is shehar ko mehfuz rakhe,
Ye bachchon ki tarah hansta bahut hai.

Main tujhse roz milna chahta hun,
Magar is raah mein khatra bahut hai.

Mera dil baarishon mein phool jaisa,
Ye bachcha raat mein rota bahut hai.

Isey aansoo ka ek qatra na smjho,
Kuaan hai aur ye gehra bahut hai.

Usey shohrat ne tanha kar diya hai,
Samandar hai magar pyasa bahut hai.

Main ek lamhe mein sadiyan dekhta hun,
Tumhare sath ek lamha bahut hai.

Mera hansna zaruri ho gya hai,
Yahan har shakhs sanjida bahut hai. !!

मै कब कहता हूँ वो अच्छा बहुत है,
मगर उसने मुझे चाहा बहुत है !

खुदा इस शहर को महफूज़ रखे,
ये बच्चों की तरह हँसता बहुत है !

मै तुझसे रोज़ मिलना चाहता हूँ,
मगर इस राह में खतरा बहुत है !

मेरा दिल बारिशों में फूल जैसा,
ये बच्चा रात में रोता बहुत है !

इसे आंसू का एक कतरा न समझो,
कुँआ है और ये गहरा बहुत है !

उसे शोहरत ने तनहा कर दिया है,
समंदर है मगर प्यासा बहुत है !

मै एक लम्हे में सदियाँ देखता हूँ,
तुम्हारे साथ एक लम्हा बहुत है !

मेरा हँसना ज़रूरी हो गया है,
यहाँ हर शख्स संजीदा बहुत है !! -Bashir Badr Ghazal