Home / Tag Archives: Raah

Tag Archives: Raah

Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

           Aurat

Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe
Qalb-e-maahaul mein larzaan sharar-e-jung hain aaj
Hausle waqt ke aur ziist ke yak-rang hain aaj
Aabginon mein tapan walwala-e- sang hain aaj
Husn aur ishq hum-awaz-o-hum-ahang hain aaj
Jis mein jalta hun usi aag mein jalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे
क़ल्ब-ए-माहौल में लर्ज़ां शरर-ए-जंग हैं आज
हौसले वक़्त के और ज़ीस्त के यक-रंग हैं आज
आबगीनों में तपाँ वलवला-ए-संग हैं आज
हुस्न और इश्क़ हम-आवाज़ ओ हम-आहंग हैं आज
जिस में जलता हूँ उसी आग में जलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tere qadmon mein hai firdaus-e-tamaddun ki bahaar
Teri nazron pe hai tehzib-o-taraqqi ka madar
Teri aaghosh hai gahwara-e-nafs-o-kirdar
Taa-ba-kai gird tere wehm-o-tayyun ka hisar
Kaund kar majlis-e-khalwat se nikalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तेरे क़दमों में है फ़िरदौस-ए-तमद्दुन की बहार
तेरी नज़रों पे है तहज़ीब-ओ-तरक़्क़ी का मदार
तेरी आग़ोश है गहवारा-ए-नफ़्स-ओ-किरदार
ता-ब-कै गिर्द तेरे वहम-ओ-तअय्युन का हिसार
कौंद कर मज्लिस-ए-ख़ल्वत से निकलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tu ki be-jaan khilaunon se bahal jati hai
Tapti sanson ki hararat se pighal jati hai
Panw jis raah mein rakhti hai phisal jati hai
Ban ke simab har ek zarf mein dhal jati hai
Zist ke aahani sanche mein bhi dhalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तू कि बे-जान खिलौनों से बहल जाती है
तपती साँसों की हरारत से पिघल जाती है
पाँव जिस राह में रखती है फिसल जाती है
बन के सीमाब हर एक ज़र्फ़ में ढल जाती है
ज़ीस्त के आहनी साँचे में भी ढलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Zindagi jehd mein hai sabr ke qabu mein nahin
Nabz-e-hasti ka lahu kanpte aansu mein nahin
Udne khulne mein hai nikhat kham-e-gesu mein nahin
Jannat ek aur hai jo mard ke pahlu mein nahin
Us ki aazad rawish par bhi machalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

ज़िंदगी जेहद में है सब्र के क़ाबू में नहीं
नब्ज़-ए-हस्ती का लहू काँपते आँसू में नहीं
उड़ने खुलने में है निकहत ख़म-ए-गेसू में नहीं
जन्नत एक और है जो मर्द के पहलू में नहीं
उस की आज़ाद रविश पर भी मचलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Goshe-goshe mein sulagti hai chita tere liye
Farz ka bhes badalti hai qaza tere liye
Qahar hai teri har ek narm ada tere liye
Zehr hi zehr hai duniya ki hawa tere liye
Rut badal dal agar phulna-phalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

गोशे-गोशे में सुलगती है चिता तेरे लिए
फ़र्ज़ का भेस बदलती है क़ज़ा तेरे लिए
क़हर है तेरी हर एक नर्म अदा तेरे लिए
ज़हर ही ज़हर है दुनिया की हवा तेरे लिए
रुत बदल डाल अगर फूलना-फलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Qadr ab tak teri tarikh ne jaani hi nahin
Tujh mein shoale bhi hain bas ashk-fishani hi nahin
Tu haqiqat bhi hai dilchasp kahani hi nahin
Teri hasti bhi hai ek chiz jawani hi nahin
Apni tarikh ka unwan badalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

क़द्र अब तक तेरी तारीख़ ने जानी ही नहीं
तुझ में शोले भी हैं बस अश्क-फ़िशानी ही नहीं
तू हक़ीक़त भी है दिलचस्प कहानी ही नहीं
तेरी हस्ती भी है एक चीज़ जवानी ही नहीं
अपनी तारीख़ का उन्वान बदलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tod kar rasm ke but band-e-qadamat se nikal
Zof-e-ishrat se nikal wahm-e-nazakat se nikal
Nafs ke khinche hue halqa-e-azmat se nikal
Qaid ban jaye mohabbat to mohabbat se nikal
Raah ka khar hi kya gul bhi kuchalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तोड़ कर रस्म का बुत बंद-ए-क़दामत से निकल
ज़ोफ़-ए-इशरत से निकल वहम-ए-नज़ाकत से निकल
नफ़्स के खींचे हुए हल्क़ा-ए-अज़्मत से निकल
क़ैद बन जाए मोहब्बत तो मोहब्बत से निकल
राह का ख़ार ही क्या गुल भी कुचलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tod ye azm-shikan daghdagha-e-pand bhi tod
Teri khatir hai jo zanjir woh saugand bhi tod
Tauq ye bhi zamurrad ka gulu-band bhi tod
Tod paimana-e-mardan-e-khird-mand bhi tod
Ban ke tufan chhalakna hai ubalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तोड़ ये अज़्म-शिकन दग़दग़ा-ए-पंद भी तोड़
तेरी ख़ातिर है जो ज़ंजीर वो सौगंद भी तोड़
तौक़ ये भी है ज़मुर्रद का गुलू-बंद भी तोड़
तोड़ पैमाना-ए-मर्दान-ए-ख़िरद-मंद भी तोड़
बन के तूफ़ान छलकना है उबलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tu falatun-o-arastu hai tu zehra parwin
Tere qabze mein hai gardun teri thokar mein zamin
Han utha jald utha paa-e-muqqadar se jabin
Main bhi rukne ka nahin waqt bhi rukne ka nahin
Ladkhadayegi kahan tak ki sambhalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe.. !!

तू फ़लातून-ओ-अरस्तू है तू ज़हरा परवीन
तेरे क़ब्ज़े में है गर्दूं तेरी ठोकर में ज़मीन
हाँ उठा जल्द उठा पा-ए-मुक़द्दर से जबीन
मैं भी रुकने का नहीं वक़्त भी रुकने का नहीं
लड़खड़ाएगी कहाँ तक कि सँभलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे.. !!

 

Nazar hairaan dil veeran mera jee nahi lagta..

Nazar hairaan dil veeran mera jee nahi lagta,
Bichar ke tum se meri jaan mera jee nahi lagta.

Koi bhi to nahi hai jo pukaare raah mein mujh ko,
Hoon main be-naam ek insaan mera jee nahi lagta.

Hai ek inbwa qadmon ka rawaan in shahraahon per,
Nahi meri koi pehchaan mera jee nahi lagta.

Jahan milte the hum tum aur jahan mil kar bicharte the,
Na woh dar hai na woh dhalaan mera jee nahi lagta.

Hon pehchane huye chehre to jee ko aas rehti hai,
Hon chehre hijar ke anjaan mera jee nahi lagta.

Yeh sara shehar ek dasht-e-hajoom-e-be-niyazi hai,
Yahan ka shor hai veeraan mera jee nahi lagta.

Woh aalam hai ke jaise main koi hum-naam hoon apna,
Na hirmaan hai na woh darman mera jee nahi lagta.

Kahin sar hai kahin sauda kahin wehshat kahin sehra,
Kahin main hun kahin samaan mera jee nahi lagta.

Mere hi shehar mein mere muhalle mein mere ghar mein,
Bula lo tum koi mehmaan mera jee nahi lagta.

Main tum ko bhool jaaun bhoolne ka dukh na bhulunga,
Nahi hai khel yeh aasaan mera jee nahi lagta.

Koi paimaan poora ho nahi sakta magar phir bhi,
Karo taaza koi paimaan mera jee nahi lagta.

Kuch aisa hai ke jaise main yahan hun ek zindgani,
Hain saare log zindaan baan mera jee nahi Lagta. !!

नज़र हैरान दिल वीरान मेरा जी नहीं लगता,
बिछड़ के तुम से मेरी जान मेरा जी नहीं लगता !

कोई भी तो नहीं है जो पुकारे राह में मुझ को,
हूँ मैं बे-नाम एक इंसान मेरा जी नहीं लगता !

है एक िंबवा क़दमों का रवां इन शाहराहों पर,
नहीं मेरी कोई पहचान मेरा जी नहीं लगता !

जहाँ मिलते थे हम तुम और जहाँ मिल कर बिछड़ते थे,
न वह दर है न वह ढलान मेरा जी नहीं लगता !

हों पहचाने हुए चेहरे तो जी को आस रहती है,
हों चेहरे हिजर के अन्जान मेरा जी नहीं लगता !

यह सारा शहर एक दश्त-इ-हजूम-इ-बे-नियाज़ी है,
यहाँ का शोर है वीरान मेरा जी नहीं लगता !

वह आलम है के जैसे मैं कोई हम-नाम हूँ अपना,
न हिरमान है न वह दरम्यान मेरा जी नहीं लगता !

कहीं सार है कहीं सौदा कहीं वेह्शत कहीं सेहरा,
कहीं मैं हूँ कहीं सामान मेरा जी नहीं लगता !

मेरे ही शहर में मेरे मोहल्ले में मेरे घर में,
बुला लो तुम कोई मेहमान मेरा जी नहीं लगता !

मैं तुम को भूल जाऊं भूलने का दुःख न भूलूंगा,
नहीं है खेल यह आसान मेरा जी नहीं लगता !

कोई पैमान पूरा हो नहीं सकता मगर फिर भी,
करो ताज़ा कोई पैमान मेरा जी नहीं लगता !

कुछ ऐसा है कि जैसे मैं यहाँ हूँ एक ज़िंदगानी,
हैं सारे लोग ज़िन्दाँ बण मेरा जी नहीं लगता !!

 

Waqt ki umar kya badi hogi..

Waqt ki umar kya badi hogi,
Ek tere wasl ki ghadi hogi.

Dastaken de rahi hai palkon par,
Koi barsat ki jhadi hogi.

Kya khabar thi ki nok-e-khanjar bhi,
Phool ki ek pankhudi hogi.

Zulf bal kha rahi hai mathe par,
Chandni se saba ladi hogi.

Aye adam ke musafiro hushyar,
Raah mein zindagi khadi hogi

Kyun girah gesuon mein dali hai,
Jaan kisi phool ki adi hogi.

Iltija ka malal kya kije,
Un ke dar par kahin padi hogi.

Maut kahte hain jis ko aye “Saghar”,
Zindagi ki koi kadi hogi. !!

वक़्त की उम्र क्या बड़ी होगी,
एक तेरे वस्ल की घड़ी होगी !

दस्तकें दे रही है पलकों पर,
कोई बरसात की झड़ी होगी !

क्या ख़बर थी कि नोक-ए-ख़ंजर भी,
फूल की एक पंखुड़ी होगी !

ज़ुल्फ़ बल खा रही है माथे पर,
चाँदनी से सबा लड़ी होगी !

ऐ अदम के मुसाफ़िरो हुश्यार,
राह में ज़िंदगी खड़ी होगी !

क्यूँ गिरह गेसुओं में डाली है,
जाँ किसी फूल की अड़ी होगी !

इल्तिजा का मलाल क्या कीजे,
उन के दर पर कहीं पड़ी होगी !

मौत कहते हैं जिस को ऐ “साग़र”,
ज़िंदगी की कोई कड़ी होगी !!

 

Hairat se tak raha hai jahan-e-wafa mujhe..

Hairat se tak raha hai jahan-e-wafa mujhe,
Tum ne bana diya hai mohabbat mein kya mujhe.

Har manzil-e-hayat se gum kar gaya mujhe,
Mud mud ke raah mein wo tera dekhna mujhe.

Kaif-e-Khudi ne mauj ko kashti bana diya,
Hosh-e-khuda hai ab na gham-e-nakhuda mujhe.

Saqi bane huye hain wo “Saghar” shab-e-visal,
Is waqt koi meri kasam dekh ja mujhe. !!

हैरत से तक रहा है जहाँ-ए-वफ़ा मुझे,
तुम ने बना दिया है मोहब्बत में क्या मुझे !

हर मंजिल-ए-हयात से गुम कर गया मुझे,
मुड़ मुड़ के राह में वो तेरा देखना मुझे !

कैफ-ए-खुदी ने मौज को कश्ती बना दिया,
होश-ए-खुदा है अब न ग़म-ए-नाखुदा मुझे !

साक़ी बने हुए हैं वो “सागर” शब-ए-विसाल,
इस वक़्त कोई मेरी कसम देख जा मुझे !!

 

Aankh mein pani rakho honton pe chingari rakho..

Aankh mein paani rakho honton pe chingari rakho,
Zinda rahna hai to tarkiben bahut sari rakho.

Raah ke patthar se badh kar kuch nahi hain manzilen,
Raste aawaz dete hain safar jari rakho.

Ek hi nadi ke hain ye do kinare dosto,
Dostana zindagi se maut se yaari rakho.

Aate jate pal ye kehte hain humare kaan mein,
Kuch ka ailan hone ko hai tayyari rakho.

Ye zaruri hai ki aankhon ka bharam qayam rahe,
Nind rakho ya na rakho khwab mein yaari rakho.

Ye hawayen udd na jayen le ke kaghaz ka badan,
Dosto mujh par koi patthar zara bhaari rakho.

Le to aaye shayari bazaar mein “Rahat” Miyan,
Kya zaruri hai ki lehje ko bazari rakho. !!

आँख में पानी रखो होंठों पे चिंगारी रखो,
जिंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो !

राह के पत्थर से बढ़ कर कुछ नहीं हैं मंज़िलें,
रास्ते आवाज़ देते हैं सफर जारी रखो !

एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तों,
दोस्ताना ज़िन्दगी से मौत से यारी रखो !

आते जाते पल ये कहते हैं हमारे कान में,
कुछ का ऐलान होने को है तैयारी रखो !

ये ज़रूरी है की आँखों का भरम कायम रहे,
नींद रखो या न रखो ख्वाब मे यारी रखो !

ये हवाएं उड़ न जाएँ ले के काग़ज़ का बदन,
दोस्तों मुझ पर कोई पत्थर ज़रा भारी रखो !

ले तो आये शायरी बाजार में “राहत” मियाँ,
क्या जरूरी है कि लहजे को बाज़ारी रखो !!

Agar talash karun koi mil hi jayega..

Agar talash karun koi mil hi jayega,
Magar tumhari tarah kaun mujh ko chahega.

Tumhein zarur koi chahaton se dekhega,
Magar wo aankhen hamari kahan se layega.

Na jaane kab tere dil par nayi si dastak ho,
Makan khali hua hai to koi aayega.

Main apni rah mein diwar ban ke baitha hun,
Agar wo aaya to kis raste se aayega.

Tumhare sath ye mausam farishton jaisa hai,
Tumhare baad ye mausam bahut satayega. !!

अगर तलाश करूँ कोई मिल ही जाएगा,
मगर तुम्हारी तरह कौन मुझ को चाहेगा !

तुम्हें ज़रूर कोई चाहतों से देखेगा,
मगर वो आँखें हमारी कहाँ से लाएगा !

न जाने कब तिरे दिल पर नई सी दस्तक हो,
मकान ख़ाली हुआ है तो कोई आएगा !

मैं अपनी राह में दीवार बन के बैठा हूँ,
अगर वो आया तो किस रास्ते से आएगा !

तुम्हारे साथ ये मौसम फ़रिश्तों जैसा है,
तुम्हारे बाद ये मौसम बहुत सताएगा !!

Guzar gaye hain jo mausam kabhi na aayenge..

Guzar gaye hain jo mausam kabhi na aayenge,
Tamam dariya kisi roz dub jayenge.

Safar to pahle bhi kitne kiye magar is baar,
Ye lag raha hai ke tujh ko bhi bhul jayenge.

Alaw thande hai logon ne jagna chhoda,
Kahani saath hai lekin kise sunayenge.

Suna hai aage kahi samten banti jati hai,
Tum apni raah chuno saath chal na payenge.

Duayen loriyan maon ke paas chhod aaye,
Bas ek nind bachi hai kharid layenge.

Zarur tujh sa bhi hoga koi Zamane mein,
Kahan talak teri yaadon se ji lagayege.

गुजर गए है जो मौसम कभी न आएंगे,
तमाम दरिया किसी रोज़ डूब जायेंगे !

सफर तो पहले भी कितने किये मगर इस बार,
ये लग रहा है के तुझ को भी भूल जायेंगे !

अलाव ठन्डे है लोगो ने जागना छोड़ा,
कहानी साथ है लेकिन किसे सुनाएंगे !

सुना है आगे कही सम्तें बाँटी जाती है,
तुम अपनी राह चुनों साथ चल न पाएंगे !

दुआएं लोरियाँ माँओं के पास छोड़ आये,
बस एक नींद बची है खरीद लाएंगे !

जरूर तुझ सा भी होगा कोई ज़माने में,
कहाँ तलक तेरी यादों से जी लगाएँगे !!