Home / Poetry Types Qanaat

Poetry Types Qanaat

Har koi dil ki hatheli pe hai sahra rakkhe..

Har koi dil ki hatheli pe hai sahra rakkhe,
Kis ko sairab kare wo kise pyasa rakkhe.

Umar bhar kaun nibhata hai talluq itna,
Aye meri jaan ke dushman tujhe allah rakkhe.

Hum ko achchha nahi lagta koi hamnam tera,
Koi tujh sa ho to phir naam bhi tujh sa rakkhe.

Dil bhi pagal hai ki us shakhs se wabasta hai,
Jo kisi aur ka hone de na apna rakkhe.

Kam nahi tama-e-ibaadat bhi to hirs-e-zar se,
Faqr to wo hai ki jo din na duniya rakkhe.

Hans na itna bhi faqiron ke akele-pan par,
Ja khuda meri tarah tujh ko bhi tanha rakkhe.

Ye qanaat hai itaat hai ki chahat hai “Faraz”,
Hum to raazi hain wo jis haal mein jaisa rakkhe. !!

हर कोई दिल की हथेली पे है सहरा रक्खे,
किस को सैराब करे वो किसे प्यासा रक्खे !

उम्र भर कौन निभाता है तअल्लुक़ इतना,
ऐ मेरी जान के दुश्मन तुझे अल्लाह रक्खे !

हम को अच्छा नहीं लगता कोई हमनाम तेरा,
कोई तुझ सा हो तो फिर नाम भी तुझ सा रक्खे !

दिल भी पागल है कि उस शख़्स से वाबस्ता है,
जो किसी और का होने दे न अपना रक्खे !

कम नहीं तम-ए-इबादत भी तो हिर्स-ए-ज़र से,
फ़क़्र तो वो है कि जो दीन न दुनिया रक्खे !

हँस न इतना भी फ़क़ीरों के अकेले-पन पर,
जा ख़ुदा मेरी तरह तुझ को भी तन्हा रक्खे !

ये क़नाअत है इताअत है कि चाहत है “फ़राज़”,
हम तो राज़ी हैं वो जिस हाल में जैसा रक्खे !!