Home / Poetry Types Qadam

Poetry Types Qadam

Kahin se laut ke hum ladkhadaye hain kya-kya..

Kahin se laut ke hum ladkhadaye hain kya-kya,
Sitare zer-e-qadam raat aaye hain kya-kya.

Nasheb-e-hasti se afsos hum ubhar na sake,
Faraaz-e-dar se paigham aaye hain kya-kya.

Jab uss ne haar ke khanjar zameen pe phenk diya,
Tamaam zakhm-e-jigar muskuraye hain kya-kya.

Chhata jahan se uss aawaz ka ghana badal,
Wahin se dhoop ne talve jalaye hain kya-kya.

Utha ke sar mujhe itna do dekh lene de,
Ki qatl-gaah mein diwane aaye hain kya-kya.

Kahin andhere se maanus ho na jaye adab,
charagh tez hawa ne bujhaye hain kya-kya. !!

कहीं से लौट के हम लड़खड़ाए हैं क्या-क्या,
सितारे ज़ेर-ए-क़दम रात आए हैं क्या-क्या !

नशेब-ए-हस्ती से अफ़्सोस हम उभर न सके,
फ़राज़-ए-दार से पैग़ाम आए हैं क्या-क्या !

जब उस ने हार के ख़ंजर ज़मीन पे फेंक दिया,
तमाम ज़ख़्म-ए-जिगर मुस्कुराए हैं क्या-क्या !

छटा जहाँ से उस आवाज़ का घना बादल,
वहीं से धूप ने तलवे जलाए हैं क्या-क्या !

उठा के सर मुझे इतना तो देख लेने दे,
कि क़त्ल-गाह में दीवाने आए हैं क्या-क्या !

कहीं अँधेरे से मानूस हो न जाए अदब,
चराग़ तेज़ हवा ने बुझाए हैं क्या-क्या !!

 

Khar-o-khas to uthen rasta to chale

Khar-o-khas to uthen rasta to chale,
Main agar thak gaya qafila to chale.

Chaand suraj buzurgon ke naqsh-e-qadam,
Khair bujhne do un ko hawa to chale.

Hakim-e-shahr ye bhi koi shahr hai,
Masjiden band hain mai-kada to chale.

Us ko mazhab kaho ya siyasat kaho,
Khud-kushi ka hunar tum sikha to chale.

Itni lashein main kaise utha paunga,
Aap inton ki hurmat bacha to chale.

Belche lao kholo zameen ki tahen,
Main kahan dafn hun kuchh pata to chale. !!

ख़ार-ओ-ख़स तो उठें रास्ता तो चले,
मैं अगर थक गया क़ाफ़िला तो चले !

चाँद सूरज बुज़ुर्गों के नक़्श-ए-क़दम,
ख़ैर बुझने दो उन को हवा तो चले !

हाकिम-ए-शहर ये भी कोई शहर है,
मस्जिदें बंद हैं मय-कदा तो चले !

उस को मज़हब कहो या सियासत कहो,
ख़ुद-ख़ुशी का हुनर तुम सिखा तो चले !

इतनी लाशें मैं कैसे उठा पाऊँगा,
आप ईंटों की हुरमत बचा तो चले !

बेलचे लाओ खोलो ज़मीन की तहें,
मैं कहाँ दफ़्न हूँ कुछ पता तो चले !!

 

Jo wo mere na rahe main bhi kab kisi ka raha..

Jo wo mere na rahe main bhi kab kisi ka raha,
Bichhad ke un se saliqa na zindagi ka raha.

Labon se ud gaya jugnu ki tarah naam us ka,
Sahaara ab mere ghar mein na raushni ka raha.

Guzarne ko to hazaron hi qafile guzre,
Zameen pe naqsh-e-qadam bas kisi-kisi ka raha. !!

जो वो मेरे न रहे मैं भी कब किसी का रहा,
बिछड़ के उन से सलीक़ा न ज़िंदगी का रहा !

लबों से उड़ गया जुगनू की तरह नाम उस का,
सहारा अब मेरे घर में न रौशनी का रहा !

गुज़रने को तो हज़ारों ही क़ाफ़िले गुज़रे,
ज़मीन पे नक़्श-ए-क़दम बस किसी-किसी का रहा !!

Aaj socha to aansu bhar aaye..

Aaj socha to aansu bhar aaye,
Muddatein ho gayi muskuraye.

Har qadam par udhar mud ke dekha,
Un ki mehfil se hum uth to aaye.

Rah gayi zindagi dard ban ke,
Dard dil mein chhupaye-chhupaye.

Dil ki nazuk ragein tutti hain,
Yaad itna bhi koi na aaye. !!

आज सोचा तो आँसू भर आए,
मुद्दतें हो गईं मुस्कुराए !

हर क़दम पर उधर मुड़ के देखा,
उन की महफ़िल से हम उठ तो आए !

रह गई ज़िंदगी दर्द बन के,
दर्द दिल में छुपाए-छुपाए !

दिल की नाज़ुक रगें टूटती हैं,
याद इतना भी कोई न आए !!

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Wah वह)

1.
Kisi bhi mod par tumse wafadari nahi hogi,
Humein maalum hai tum ko ye bimari nahi hogi.

किसी भी मोड़ पर तुमसे वफ़ादारी नहीं होगी,
हमें मालूम है तुम को ये बीमारी नहीं होगी !

2.
Neem ka ped tha barsaat thi aur jhula tha,
Gaon mein gujara jamana bhi ghazal jaisa tha.

नीम का पेड़ था बरसात थी और झूला था,
गाँव में गुज़रा ज़माना भी ग़ज़ल जैसा था !

3.
Hum kuch ase tere didar mein kho jate hain,
Jaise bachche bhare bazar mein kho jate hain.

हम कुछ ऐसे तेरे दीदार में खो जाते हैं,
जैसे बच्चे भरे बाज़ार में खो जाते हैं !

4.
Tujhe akele padhoon koi hum sabak na rahe,
Main chahata hun ki tujh par kisi ka haq na rahe.

तुझे अकेले पढ़ूँ कोई हम सबक न रहे,
मैं चाहता हूँ कि तुझ पर किसी का हक़ न रहे !

5.
Wo apne kandhon pe kunbe ka bojh rakhta hai,
Isiliye to qadam soch kar uthata hai.

वो अपने काँधों पे कुन्बे का बोझ रखता है,
इसीलिए तो क़दम सोच कर उठाता है !

6.
Aankhein to usko ghar se nikalne nahi deti,
Aansoo hai ki saamaan-e-safar baandhe hue hain.

आँखें तो उसको घर से निकलने नहीं देतीं,
आँसू हैं कि सामान-ए-सफ़र बाँधे हुए हैं !

7.
Safedi aa gayi baalon mein uske,
Wo baaizzat ghrana chahata tha.

सफ़ेदी आ गई बालों में उसके,
वो बाइज़्ज़त घराना चाहता था !

8.
Na jaane kaun si majburiyan pardes layi thi,
Wah jitni der tak zinda raha ghar yaad karta tha.

न जाने कौन सी मजबूरियाँ परदेस लाई थीं,
वह जितनी देर तक ज़िन्दा रहा घर याद करता था !

9.
Talash karte hain unko jaruraton wale,
Kahan gaye wo purane sharafaton wale.

तलाश करते हैं उनको ज़रूरतों वाले,
कहाँ गये वो पुराने शराफ़तों वाले !

10.
Wo khush hai ki bazar mein gali de di,
Main khush hun ehsan ki kimat nikal aayi.

वो ख़ुश है कि बाज़ार में गाली मुझे दे दी,
मैं ख़ुश हूँ एहसान की क़ीमत निकल आई !

11.
Use jali huyi lashein nazar nahi aati,
Magar wo sui se dhaga gujar deta hai.

उसे जली हुई लाशें नज़र नहीं आतीं,
मगर वो सूई से धागा गुज़ार देता है !

12.
Wo peharon baith kar tote se baatein karta rehta hai,
Chalo achcha hai ab nazarein badalna sikh jayega.

वो पहरों बैठ कर तोते से बातें करता रहता है,
चलो अच्छा है अब नज़रें बदलना सीख जायेगा !

13.
Use halat ne roka mujhe mere masayal ne,
Wafa ki rah mein dushwariyan dono taraf se hain.

उसे हालात ने रोका मुझे मेरे मसायल ने,
वफ़ा की राह में दुश्वारियाँ दोनों तरफ़ से हैं !

14.
Tujh se bichhada to pasand aa gayi betartibi,
Is se pehale mera kamara bhi ghazal jaisa tha.

तुझ से बिछड़ा तो पसंद आ गई बेतरतीबी,
इस से पहले मेरा कमरा भी ग़ज़ल जैसा था !

15.
Kahan ki hizaratein, kaisa safar, kaisa juda hona,
Kisi ki chah pairon mein duppata daal deti hai.

कहाँ की हिजरतें कैसा सफ़र कैसा जुदा होना,
किसी की चाह पैरों में दुपट्टा डाल देती है !

16.
Ghazal wo sinf-e-naajuk hai jise apni rafakat se,
Wo mahabuba bana leta hai main beti banata hun.

ग़ज़ल वो सिन्फ़-ए-नाज़ुक़ है जिसे अपनी रफ़ाक़त से,
वो महबूबा बना लेता है मैं बेटी बनाता हूँ !

17.
Wo ek gudiya jo mele mein kal dukan pe thi,
Dino ki baat hai pehale mere makan pe thi.

वो एक गुड़िया जो मेले में कल दुकान पे थी,
दिनों की बात है पहले मेरे मकान पे थी !

18.
Ladakpan mein kiye wade ki kimat kuch nahi hoti,
Anguthi hath mein rehti hai mangani tut jati hai.

लड़कपन में किए वादे की क़ीमत कुछ नहीं होती,
अँगूठी हाथ में रहती है मंगनी टूट जाती है !

19.
Wo jiske waaste pardesh ja raha hun main,
Bichhadte waqt usi ki taraf nahi dekha.

वो जिसके वास्ते परदेस जा रहा हूँ मैं,
बिछड़ते वक़्त उसी की तरफ़ नहीं देखा !

 

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye..

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye,
Tera hath hath mein aa gaya ki charagh rah mein jal gaye.

Wo lajaye mere sawal par ki utha sake na jhuka ke sar,
Udi zulf chehre pe is tarah ki shabon ke raaz machal gaye.

Wahi baat jo wo na kah sake mere sher-o-naghma mein aa gayi,
Wahi lab na main jinhen chhu saka qadah-e-sharab mein dhal gaye.

Wahi aastan hai wahi jabin wahi ashk hai wahi aastin,
Dil-e-zar tu bhi badal kahin ki jahan ke taur badal gaye.

Tujhe chashm-e-mast pata bhi hai ki shabab garmi-e-bazm hai,
Tujhe chashm-e-mast khabar bhi hai ki sab aabgine pighal gaye.

Mere kaam aa gayi aakhirash yahi kawishen yahi gardishen,
Badhin is qadar meri manzilen ki qadam ke khar nikal gaye. !!

मुझे सहल हो गईं मंज़िलें वो हवा के रुख़ भी बदल गए,
तेरा हाथ हाथ में आ गया कि चराग़ राह में जल गए !

वो लजाए मेरे सवाल पर कि उठा सके न झुका के सर,
उड़ी ज़ुल्फ़ चेहरे पे इस तरह कि शबों के राज़ मचल गए !

वही बात जो वो न कह सके मेरे शेर-ओ-नग़्मा में आ गई,
वही लब न मैं जिन्हें छू सका क़दह-ए-शराब में ढल गए !

वही आस्ताँ है वही जबीं वही अश्क है वही आस्तीं,
दिल-ए-ज़ार तू भी बदल कहीं कि जहाँ के तौर बदल गए !

तुझे चश्म-ए-मस्त पता भी है कि शबाब गर्मी-ए-बज़्म है,
तुझे चश्म-ए-मस्त ख़बर भी है कि सब आबगीने पिघल गए !

मेरे काम आ गईं आख़िरश यही काविशें यही गर्दिशें,
बढ़ीं इस क़दर मेरी मंज़िलें कि क़दम के ख़ार निकल गए !!

Hamare shauq ki ye intiha thi..

Hamare shauq ki ye intiha thi,
Qadam rakkha ki manzil rasta thi.

Bichhad ke Dar se ban ban phira wo,
Hiran ko apni kasturi saza thi.

Kabhi jo khwab tha wo pa liya hai,
Magar jo kho gayi wo chiz kya thi.

Main bachpan mein khilaune todta tha,
Mere anjam ki wo ibtida thi.

Mohabbat mar gayi mujh ko bhi gham hai,
Mere achchhe dinon ki aashna thi.

Jise chhu lun main wo ho jaye sona,
Tujhe dekha to jaana bad-dua thi.

Mariz-e-khwab ko to ab shifa hai,
Magar duniya badi kadwi dawa thi. !!

हमारे शौक़ की ये इंतिहा थी,
क़दम रखा कि मंज़िल रास्ता थी !

बिछड़ के डार से बन बन फिरा वो,
हिरन को अपनी कस्तूरी सज़ा थी !

कभी जो ख़्वाब था वो पा लिया है,
मगर जो खो गई वो चीज़ क्या थी !

मैं बचपन में खिलौने तोड़ता था,
मेरे अंजाम की वो इब्तिदा थी !

मोहब्बत मर गई मुझ को भी ग़म है,
मेरे अच्छे दिनों की आश्ना थी !

जिसे छू लूँ मैं वो हो जाए सोना,
तुझे देखा तो जाना बद-दुआ थी !

मरीज़-ए-ख़्वाब को तो अब शिफ़ा है,
मगर दुनिया बड़ी कड़वी दवा थी !!