Home / Poetry Types Phool

Poetry Types Phool

Guftugu achchhi lagi zauq-e-nazar achchha laga..

Guftugu achchhi lagi zauq-e-nazar achchha laga,
Muddaton ke baad koi hum-safar achchha laga.

Dil ka dukh jaana to dil ka masala hai par humein,
Us ka hans dena humare haal par achchha laga.

Har tarah ki be-sar-o-samaniyon ke bawajud,
Aaj wo aaya to mujh ko apna ghar achchha laga.

Baghban gulchin ko chahe jo kahe hum ko to phool,
Shakh se badh kar kaf-e-dildar par achchha laga.

Koi maqtal mein na pahuncha kaun zalim tha jise,
Tegh-e-qatil se ziyada apna sar achchha laga.

Hum bhi qael hain wafa mein ustuwari ke magar,
Koi puchhe kaun kis ko umar bhar achchha laga.

Apni apni chahaten hain log ab jo bhi kahen,
Ek pari-paikar ko ek aashufta-sar achchha laga.

“Mir” ke manind aksar zist karta tha “Faraz”,
Tha to wo diwana sa shayaar magar achchha laga. !!

गुफ़्तुगू अच्छी लगी ज़ौक़-ए-नज़र अच्छा लगा,
मुद्दतों के बाद कोई हम-सफ़र अच्छा लगा !

दिल का दुख जाना तो दिल का मसअला है पर हमें,
उस का हँस देना हमारे हाल पर अच्छा लगा !

हर तरह की बे-सर-ओ-सामानियों के बावजूद,
आज वो आया तो मुझ को अपना घर अच्छा लगा !

बाग़बाँ गुलचीं को चाहे जो कहे हम को तो फूल,
शाख़ से बढ़ कर कफ़-ए-दिलदार पर अच्छा लगा !

कोई मक़्तल में न पहुँचा कौन ज़ालिम था जिसे,
तेग़-ए-क़ातिल से ज़ियादा अपना सर अच्छा लगा !

हम भी क़ाएल हैं वफ़ा में उस्तुवारी के मगर,
कोई पूछे कौन किस को उम्र भर अच्छा लगा !

अपनी अपनी चाहतें हैं लोग अब जो भी कहें,
एक परी-पैकर को एक आशुफ़्ता-सर अच्छा लगा !

“मीर” के मानिंद अक्सर ज़ीस्त करता था “फ़राज़”,
था तो वो दीवाना सा शायर मगर अच्छा लगा !!

 

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain..

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain,
So us ke shehar mein kuchh din thahar ke dekhte hain.

Suna hai rabt hai us ko kharab-haalon se,
So apne aap ko barbaad kar ke dekhte hain.

Suna hai dard ki gahak hai chashm-e-naz us ki,
So hum bhi us ki gali se guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ko bhi hai shair-o-shayari se shaghaf,
So hum bhi moajize apne hunar ke dekhte hain.

Suna hai bole to baaton se phool jhadte hain,
Ye baat hai to chalo baat kar ke dekhte hain.

Suna hai raat use chand takta rahta hai,
Sitare baam-e-falak se utar ke dekhte hain.

Suna hai din ko use titliyan satati hain,
Suna hai raat ko jugnu thahar ke dekhte hain.

Suna hai hashr hain us ki ghazal si aankhen,
Suna hai us ko hiran dasht bhar ke dekhte hain.

Suna hai raat se badh kar hain kakulen us ki,
Suna hai sham ko saye guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ki siyah-chashmagi qayamat hai,
So us ko surma-farosh aah bhar ke dekhte hain.

Suna hai us ke labon se gulab jalte hain,
So hum bahaar pe ilzam dhar ke dekhte hain.

Suna hai aaina timsal hai jabin us ki,
Jo sada dil hain use ban-sanwar ke dekhte hain.

Suna hai jab se hamail hain us ki gardan mein,
Mizaj aur hi lal o guhar ke dekhte hain.

Suna hai chashm-e-tasawwur se dasht-e-imkan mein,
Palang zawiye us ki kamar ke dekhte hain.

Suna hai us ke badan ki tarash aisi hai,
Ki phool apni qabayen katar ke dekhte hain.

Wo sarw-qad hai magar be-gul-e-murad nahi,
Ki us shajar pe shagufe samar ke dekhte hain.

Bas ek nigah se lutta hai qafila dil ka,
So rah-rawan-e-tamanna bhi dar ke dekhte hain.

Suna hai us ke shabistan se muttasil hai bahisht,
Makin udhar ke bhi jalwe idhar ke dekhte hain.

Ruke to gardishen us ka tawaf karti hain,
Chale to us ko zamane thahar ke dekhte hain.

Kise nasib ki be-pairahan use dekhe,
Kabhi kabhi dar o diwar ghar ke dekhte hain.

Kahaniyan hi sahi sab mubaalghe hi sahi,
Agar wo khwab hai tabir kar ke dekhte hain.

Ab us ke shehar mein thahren ki kuch kar jayen,
“Faraz” aao sitare safar ke dekhte hain. !!

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं,
सो उस के शहर में कुछ दिन ठहर के देखते हैं !

सुना है रब्त है उस को ख़राब-हालों से,
सो अपने आप को बरबाद कर के देखते हैं !

सुना है दर्द की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उस की,
सो हम भी उस की गली से गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस को भी है शेर-ओ-शायरी से शग़फ़,
सो हम भी मोजिज़े अपने हुनर के देखते हैं !

सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते हैं,
ये बात है तो चलो बात कर के देखते हैं !

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है,
सितारे बाम-ए-फ़लक से उतर के देखते हैं !

सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती हैं,
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते हैं !

सुना है हश्र हैं उस की ग़ज़ाल सी आँखें,
सुना है उस को हिरन दश्त भर के देखते हैं !

सुना है रात से बढ़ कर हैं काकुलें उस की,
सुना है शाम को साए गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस की सियह-चश्मगी क़यामत है,
सो उस को सुरमा-फ़रोश आह भर के देखते हैं !

सुना है उस के लबों से गुलाब जलते हैं,
सो हम बहार पे इल्ज़ाम धर के देखते हैं !

सुना है आइना तिमसाल है जबीं उस की,
जो सादा दिल हैं उसे बन-सँवर के देखते हैं !

सुना है जब से हमाइल हैं उस की गर्दन में,
मिज़ाज और ही लाल ओ गुहर के देखते हैं !

सुना है चश्म-ए-तसव्वुर से दश्त-ए-इम्काँ में,
पलंग ज़ाविए उस की कमर के देखते हैं !

सुना है उस के बदन की तराश ऐसी है,
कि फूल अपनी क़बाएँ कतर के देखते हैं !

वो सर्व-क़द है मगर बे-गुल-ए-मुराद नहीं,
कि उस शजर पे शगूफ़े समर के देखते हैं !

बस एक निगाह से लुटता है क़ाफ़िला दिल का,
सो रह-रवान-ए-तमन्ना भी डर के देखते हैं !

सुना है उस के शबिस्ताँ से मुत्तसिल है बहिश्त,
मकीं उधर के भी जल्वे इधर के देखते हैं !

रुके तो गर्दिशें उस का तवाफ़ करती हैं,
चले तो उस को ज़माने ठहर के देखते हैं !

किसे नसीब कि बे-पैरहन उसे देखे,
कभी कभी दर ओ दीवार घर के देखते हैं !

कहानियाँ ही सही सब मुबालग़े ही सही,
अगर वो ख़्वाब है ताबीर कर के देखते हैं !

अब उस के शहर में ठहरें कि कूच कर जाएँ,
“फ़राज़” आओ सितारे सफ़र के देखते हैं !!

 

Ab ke hum bichhde to shayad kabhi khwabon mein milen..

Ab ke hum bichhde to shayad kabhi khwabon mein milen,
Jis tarah sukhe hue phool kitabon mein milen

Dhundh ujde hue logon mein wafa ke moti,
Ye khazane tujhe mumkin hai kharabon mein milen,

Gham-e-duniya bhi gham-e-yar mein shamil kar lo,
Nashsha badhta hai sharaben jo sharabon mein milen.

Tu khuda hai na mera ishq farishton jaisa,
Donon insan hain to kyun itne hijabon mein milen.

Aaj hum dar pe khinche gaye jin baaton par,
Kya ajab kal wo zamane ko nisabon mein milen.

Ab na wo main na wo tu hai na wo mazi hai “faraz”,
Jaise do shakhs tamanna ke sarabon mein milen. !!

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें,
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें !

ढूँढ उजड़े हुए लोगों में वफ़ा के मोती,
ये ख़ज़ाने तुझे मुमकिन है ख़राबों में मिलें !

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो,
नश्शा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें !

तू ख़ुदा है न मेरा इश्क़ फ़रिश्तों जैसा,
दोनों इंसाँ हैं तो क्यूँ इतने हिजाबों में मिलें !

आज हम दार पे खींचे गए जिन बातों पर,
क्या अजब कल वो ज़माने को निसाबों में मिलें !

अब न वो मैं न वो तू है न वो माज़ी है “फ़राज़”,
जैसे दो शख़्स तमन्ना के सराबों में मिलें !!

 

Wo jo tere faqir hote hain..

Wo jo tere faqir hote hain,
Aadmi be-nazir hote hain.

Dekhne wala ek nahi milta,
Aankh wale kasir hote hain.

Jin ko daulat haqir lagti hai,
Uff ! wo kitne amir hote hain.

Jin ko kudrat ne husan bakhsha ho,
Kudratan kuchh sharir hote hain.

Zindagi ke hasin tarkash mein,
Kitne be-rahm tir hote hain.

Wo parinde jo aankh rakhte hain,
Sab se pahle asir hote hain.

Phool daman mein chand rakh lije,
Raste mein faqir hote hain.

Hai khushi bhi ajib shai lekin,
Gham bade dil-pazir hote hain.

Aye “Adam” ehtiyat logon se,
Log munkir-nakir hote hain. !!

वो जो तेरे फ़क़ीर होते हैं,
आदमी बे-नज़ीर होते हैं !

देखने वाला एक नहीं मिलता,
आँख वाले कसीर होते हैं

जिन को दौलत हक़ीर लगती है,
उफ़ ! वो कितने अमीर होते हैं !

जिन को क़ुदरत ने हुस्न बख़्शा हो,
क़ुदरतन कुछ शरीर होते हैं !

ज़िंदगी के हसीन तरकश में,
कितने बे-रहम तीर होते हैं !

वो परिंदे जो आँख रखते हैं,
सब से पहले असीर होते हैं !

फूल दामन में चंद रख लीजे,
रास्ते में फ़क़ीर होते हैं !

है ख़ुशी भी अजीब शय लेकिन,
ग़म बड़े दिल-पज़ीर होते हैं !

ऐ “अदम” एहतियात लोगों से,
लोग मुनकिर-नकीर होते हैं !!

 

Mai-khana-e-hasti mein aksar hum apna thikana bhul gaye..

Mai-khana-e-hasti mein aksar hum apna thikana bhul gaye,
Ya hosh mein jaana bhul gaye ya hosh mein aana bhul gaye.

Asbab to ban hi jaate hain taqdir ki zid ko kya kahiye,
Ek jaam lo pahuncha tha hum tak hum jaam uthana bhul gaye.

Aaye the bikhere zulfon ko ek roz humare marqad par,
Do ashk to tapke aankhon se do phool chadhana bhul gaye.

Chaha tha ki un ki aankhon se kuch rang-e-bahaaran le jiye,
Taqrib to achchhi thi lekin do aankh milana bhul gaye.

Malum nahi aaine mein chupke se hansaa tha kaun “Adam”,
Hum jaam uthana bhul gaye wo saaz bajana bhul gaye. !!

मय-खाना-ए-हस्ति में अक्सर हम अपना ठिकाना भूल गए,
या होश में जाना भूल गए या होश में आना भूल गए !

अस्बाब तो बन ही जाते हैं तक़दीर की ज़िद को क्या कहिये,
एक जाम लो पहुंचा था हम तक हम जाम उठाना भूल गए !

आये थे बिखरे ज़ुल्फ़ों को एक रोज़ हमारे मरक़द पर,
दो अश्क तो टपके आँखों से, दो फूल चढ़ाना भूल गए !

चाहा था कि उन की आँखों से कुछ रंग-ए-बहारां ले लीजे,
तक़रीब तो अच्छी थी लेकिन दो आँख मिलाना भूल गए.

मालूम नहीं आईने में चुपके से हँसा था कौन “अदम”,
हम जाम उठाना भूल गए, वो साज़ बजाना भूल गए !!

 

Lahra ke jhum jhum ke la muskura ke la..

Lahra ke jhum jhum ke la muskura ke la,
Phoolon ke ras mein chand ki kirnen mila ke la.

Kahte hain umar-e-rafta kabhi lauti nahi,
Ja mai-kade se meri jawani utha ke la.

Saghar-shikan hai shaikh-e-bala-nosh ki nazar,
Shishe ko zer-e-daman-e-rangin chhupa ke la.

Kyun ja rahi hai ruth ke rangini-e-bahaar,
Ja ek martaba use phir warghala ke la.

Dekhi nahi hai tu ne kabhi zindagi ki lahr,
Achchha to ja “Adam” ki surahi utha ke la. !!

लहरा के झूम झूम के ला मुस्कुरा के ला,
फूलों के रस में चाँद की किरनें मिला के ला !

कहते हैं उम्र-ए-रफ़्ता कभी लौटती नहीं,
जा मय-कदे से मेरी जवानी उठा के ला !

साग़र-शिकन है शैख़-ए-बला-नोश की नज़र,
शीशे को ज़ेर-ए-दामन-ए-रंगीं छुपा के ला !

क्यूँ जा रही है रूठ के रंगीनी-ए-बहार,
जा एक मर्तबा उसे फिर वर्ग़ला के ला !

देखी नहीं है तू ने कभी ज़िंदगी की लहर,
अच्छा तो जा “अदम” की सुराही उठा के ला !!

 

Ek karb-e-musalsal ki saza den to kise den..

Ek karb-e-musalsal ki saza den to kise den,
Maqtal mein hain jine ki dua den to kise den.

Patthar hain sabhi log karen baat to kis se,
Is shahr-e-khamoshan mein sada den to kise den.

Hai kaun ki jo khud ko hi jalta hua dekhe,
Sab hath hain kaghaz ke diya den to kise den.

Sab log sawali hain sabhi jism barahna,
Aur pas hai bas ek rida den to kise den.

Jab hath hi kat jayen to thamega bhala kaun,
Ye soch rahe hain ki asa den to kise den.

Bazar mein khushbu ke kharidar kahan hain,
Ye phool hain be-rang bata den to kise den.

Chup rahne ki har shakhs qasam khaye hue hai,
Hum zahr bhara jam bhala den to kise den. !!

एक कर्ब-ए-मुसलसल की सज़ा दें तो किसे दें,
मक़्तल में हैं जीने की दुआ दें तो किसे दें !

पत्थर हैं सभी लोग करें बात तो किस से,
इस शहर-ए-ख़मोशाँ में सदा दें तो किसे दें !

है कौन कि जो ख़ुद को ही जलता हुआ देखे,
सब हाथ हैं काग़ज़ के दिया दें तो किसे दें !

सब लोग सवाली हैं सभी जिस्म बरहना,
और पास है बस एक रिदा दें तो किसे दें !

जब हाथ ही कट जाएँ तो थामेगा भला कौन,
ये सोच रहे हैं कि असा दें तो किसे दें !

बाज़ार में ख़ुशबू के ख़रीदार कहाँ हैं,
ये फूल हैं बे-रंग बता दें तो किसे दें !

चुप रहने की हर शख़्स क़सम खाए हुए है,
हम ज़हर भरा जाम भला दें तो किसे दें !!