Wednesday , February 26 2020
Home / Poetry Types Patthar

Poetry Types Patthar

Charaghon Ko Uchhala Ja Raha Hai..

Charaghon ko uchhala ja raha hai,
Hawa par raub dala ja raha hai.

Na haar apni na apni jeet hogi,
Magar sikka uchhala ja raha hai.

Woh dekho maikade ke raste mein,
Koi allaah wala ja raha hai.

The pehle hi kayi saanp aastin mein,
Ab ek bichchhu bhi pala ja raha hai.

Mere jhute gilason ki chhaka kar,
Behakton ko sambhaala ja raha hai.

Hamin buniyaad ka patthar hain lekin,
Hamein ghar se nikala ja raha hai.

Janaze par mere likh dena yaro,
Mohabbat karne wala ja raha hai. !!

चराग़ों को उछाला जा रहा है,
हवा पर रोब डाला जा रहा है !

न हार अपनी न अपनी जीत होगी,
मगर सिक्का उछाला जा रहा है !

वो देखो मय-कदे के रास्ते में,
कोई अल्लाह-वाला जा रहा है !

थे पहले ही कई साँप आस्तीं में,
अब इक बिच्छू भी पाला जा रहा है !

मेरे झूटे गिलासों की छका कर,
बहकतों को सँभाला जा रहा है !

हमीं बुनियाद का पत्थर हैं लेकिन,
हमें घर से निकाला जा रहा है !

जनाज़े पर मेरे लिख देना यारो
मोहब्बत करने वाला जा रहा है !! -Rahat Indori Ghazal

 

Roz Taaron Ko Numaish Mein Khalal Padta Hai..

Roz taaron ko numaish mein khalal padta hai,
Chand pagal hai andhere mein nikal padta hai.

Ek diwana musafir hai meri aankhon mein,
Waqt-be-waqt thahar jata hai chal padta hai.

Apni tabir ke chakkar mein mera jagta khwab,
Roz sooraj ki tarah ghar se nikal padta hai.

Roz patthar ki himayat mein ghazal likhte hain,
Roz shishon se koi kaam nikal padta hai.

Main samandar hun kulhadi se nahi kat sakta,
Koi fawwara nahi hun jo ubal padta hai.

Kal wahan chand uga karte the har aahat par,
Apne raste mein jo viraan mahal padta hai.

Na ta-aaruf na ta-alluk hai magar dil aksar,
Naam sunta hai tumhara uchhal padta hai.

Us ki yaad aayi hai sanso zara aahista chalo,
Dhadkanon se bhi ibaadat mein khalal padta hai. !!

रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं,
चाँद पागल हैं अंधेरे में निकल पड़ता हैं !

एक दीवाना मुसाफ़िर है मेरी आँखों में,
वक़्त-बे-वक़्त ठहर जाता है चल पड़ता है !

अपनी ताबीर के चक्कर में मेरा जागता ख़्वाब,
रोज़ सूरज की तरह घर से निकल पड़ता है !

रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं,
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है !

मैं समंदर हूँ कुल्हाड़ी से नहीं कट सकता,
कोई फव्वारा नही हूँ जो उबल पड़ता हैं !

कल वहाँ चाँद उगा करते थे हर आहट पर,
अपने रास्ते में जो वीरान महल पड़ता हैं !

ना त-आरूफ़ ना त-अल्लुक हैं मगर दिल अक्सर,
नाम सुनता हैं तुम्हारा तो उछल पड़ता हैं !

उसकी याद आई हैं साँसों ज़रा आहिस्ता चलो,
धड़कनो से भी इबादत में खलल पड़ता हैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Pyar ki aanch se to patthar bhi pighal jata hai

Pyar ki aanch se toh patthar bhi pighal jata hai
Sachche dil se saath de to nasib bhi badl jata hai
Pyaar ki raah par agar mil jaye sachcha humsafar
To pyar wo ehsaas hai jise har inshan sambhal jata hai

प्यार की आंच से तोह पत्थर भी पिघल जाता हैं
सच्चे दिल से साथ दे तो नसीब भी बदल जाता हैं
प्यार की राहों पर अगर मिल जाये सच्चा हमसफ़र,
तो प्यार वो एहसास है जिससे हर इंसान संभल जाता हैं

Happy Valentine’s Day

Is se pahle ki bewafa ho jayen..

Is se pahle ki be-wafa ho jayen,
Kyun na aye dost hum juda ho jayen.

Tu bhi hire se ban gaya patthar,
Hum bhi kal jaane kya se kya ho jayen.

Tu ki yakta tha be-shumar hua,
Hum bhi tuten to ja-ba-ja ho jayen.

Hum bhi majburiyon ka uzr karen,
Phir kahin aur mubtala ho jayen.

Hum agar manzilen na ban paye,
Manzilon tak ka rasta ho jayen.

Der se soch mein hain parwane,
Rakh ho jayen ya hawa ho jayen.

Ishq bhi khel hai nasibon ka,
Khak ho jayen kimiya ho jayen.

Ab ke gar tu mile to hum tujh se,
Aise lipten teri qaba ho jayen.

Bandagi hum ne chhod di hai “Faraz”,
Kya karen log jab khuda ho jayen. !!

इस से पहले कि बे-वफ़ा हो जाएँ,
क्यूँ न ऐ दोस्त हम जुदा हो जाएँ !

तू भी हीरे से बन गया पत्थर,
हम भी कल जाने क्या से क्या हो जाएँ !

तू कि यकता था बे-शुमार हुआ,
हम भी टूटें तो जा-ब-जा हो जाएँ !

हम भी मजबूरियों का उज़्र करें,
फिर कहीं और मुब्तला हो जाएँ !

हम अगर मंज़िलें न बन पाए,
मंज़िलों तक का रास्ता हो जाएँ !

देर से सोच में हैं परवाने,
राख हो जाएँ या हवा हो जाएँ !

इश्क़ भी खेल है नसीबों का,
ख़ाक हो जाएँ कीमिया हो जाएँ !

अब के गर तू मिले तो हम तुझ से,
ऐसे लिपटें तेरी क़बा हो जाएँ !

बंदगी हम ने छोड़ दी है “फ़राज़”,
क्या करें लोग जब ख़ुदा हो जाएँ !!

 

Bahut se logon ko gham ne jila ke mar diya..

Bahut se logon ko gham ne jila ke mar diya,
Jo bach rahe the unhen mai pila ke mar diya.

Ye kya ada hai ki jab un ki barhami se hum,
Na mar sake to humein muskura ke mar diya.

Na jate aap to aaghosh kyun tahi hoti,
Gaye to aap ne pahlu se ja ke mar diya.

Mujhe gila to nahi aap ke taghaful se,
Magar huzur ne himmat badha ke mar diya.

Na aap aas bandhate na ye sitam hota,
Humein to aap ne amrit pila ke mar diya.

Kisi ne husn-e-taghaful se jaan talab kar li,
Kisi ne lutf ke dariya baha ke mar diya.

Jise bhi main ne ziyada tapak se dekha,
Usi hasin ne patthar utha ke mar diya.

Wo log mangenge ab zist kis ke aanchal se,
Jinhen huzur ne daman chhuda ke mar diya.

Chale to khanda-mizaji se ja rahe the hum,
Kisi hasin ne raste mein aa ke mar diya.

Rah-e-hayat mein kuchh aise pech-o-kham to na the,
Kisi hasin ne raste mein aa ke mar diya.

Karam ki surat-e-awwal to jaan-gudaz na thi,
Karam ka dusra pahlu dikha ke mar diya.

Ajib ras-bhara rahzan tha jis ne logon ko,
Tarah tarah ki adayen dikha ke mar diya.

Ajib khulq se ek ajnabi musafir ne,
Humein khilaf-e-tawaqqoa bula ke mar diya.

“Adam” bade adab-adab se hasinon ne,
Humein sitam ka nishana bana ke mar diya.

Tayyunat ki had tak to ji raha tha “Adam”,
Tayyunat ke parde utha ke mar diya. !!

बहुत से लोगों को ग़म ने जिला के मार दिया,
जो बच रहे थे उन्हें मय पिला के मार दिया !

ये क्या अदा है कि जब उन की बरहमी से हम,
न मर सके तो हमें मुस्कुरा के मार दिया !

न जाते आप तो आग़ोश क्यूँ तही होती,
गए तो आप ने पहलू से जा के मार दिया !

मुझे गिला तो नहीं आप के तग़ाफ़ुल से,
मगर हुज़ूर ने हिम्मत बढ़ा के मार दिया !

न आप आस बँधाते न ये सितम होता,
हमें तो आप ने अमृत पिला के मार दिया !

किसी ने हुस्न-ए-तग़ाफ़ुल से जाँ तलब कर ली,
किसी ने लुत्फ़ के दरिया बहा के मार दिया !

जिसे भी मैं ने ज़ियादा तपाक से देखा,
उसी हसीन ने पत्थर उठा के मार दिया !

वो लोग माँगेंगे अब ज़ीस्त किस के आँचल से,
जिन्हें हुज़ूर ने दामन छुड़ा के मार दिया !

चले तो ख़ंदा-मिज़ाजी से जा रहे थे हम,
किसी हसीन ने रस्ते में आ के मार दिया !

रह-ए-हयात में कुछ ऐसे पेच-ओ-ख़म तो न थे,
किसी हसीन ने रस्ते में आ के मार दिया !

करम की सूरत-ए-अव्वल तो जाँ-गुदाज़ न थी,
करम का दूसरा पहलू दिखा के मार दिया !

अजीब रस-भरा रहज़न था जिस ने लोगों को,
तरह तरह की अदाएँ दिखा के मार दिया !

अजीब ख़ुल्क़ से एक अजनबी मुसाफ़िर ने,
हमें ख़िलाफ़-ए-तवक़्क़ो बुला के मार दिया !

“अदम” बड़े अदब-आदाब से हसीनों ने,
हमें सितम का निशाना बना के मार दिया !

तअय्युनात की हद तक तो जी रहा था “अदम”,
तअय्युनात के पर्दे उठा के मार दिया !!

 

Sabhi ko apna samajhta hun kya hua hai mujhe..

Sabhi ko apna samajhta hun kya hua hai mujhe,
Bichhad ke tujh se ajab rog lag gaya hai mujhe.

Jo mud ke dekha to ho jayega badan patthar,
Kahaniyon mein suna tha so bhogna hai mujhe.

Main tujh ko bhul na paya yahi ghanimat hai,
Yahan to is ka bhi imkan lag raha hai mujhe.

Main sard jang ki aadat na dal paunga,
Koi mahaz pe wapas bula raha hai mujhe.

Sadak pe chalte hue aankhen band rakhta hun,
Tere jamal ka aisa maza pada hai mujhe.

Abhi talak to koi wapsi ki rah na thi,
Kal ek rah-guzar ka pata laga hai mujhe. !!

सभी को अपना समझता हूँ क्या हुआ है मुझे,
बिछड़ के तुझ से अजब रोग लग गया है मुझे !

जो मुड़ के देखा तो हो जाएगा बदन पत्थर,
कहानियों में सुना था सो भोगना है मुझे !

मैं तुझ को भूल न पाया यही ग़नीमत है,
यहाँ तो इस का भी इम्कान लग रहा है मुझे !

मैं सर्द जंग की आदत न डाल पाऊँगा,
कोई महाज़ पे वापस बुला रहा है मुझे !

सड़क पे चलते हुए आँखें बंद रखता हूँ,
तेरे जमाल का ऐसा मज़ा पड़ा है मुझे !

अभी तलक तो कोई वापसी की राह न थी,
कल एक राह-गुज़र का पता लगा है मुझे !!

 

Jiwan ko dukh dukh ko aag aur aag ko pani kahte..

Jiwan ko dukh dukh ko aag aur aag ko pani kahte,
Bachche lekin soye hue the kis se kahani kahte.

Sach kahne ka hausla tum ne chhin liya hai warna,
Shehar mein phaili virani ko sab virani kahte.

Waqt guzarta jata aur ye zakhm hare rahte to,
Badi hifazat se rakkhi hai teri nishani kahte.

Wo to shayad donon ka dukh ek jaisa tha warna,
Hum bhi patthar marte tujh ko aur diwani kahte.

Tabdili sachchai hai is ko mante lekin kaise,
Aaine ko dekh ke ek taswir purani kahte.

Tera lahja apnaya ab dil mein hasrat si hai,
Apni koi baat kabhi to apni zabani kahte.

Chup rah kar izhaar kiya hai kah sakte to “Aanis”,
Ek alahida tarz-e-sukhan ka tujh ko bani kahte. !!

जीवन को दुख दुख को आग और आग को पानी कहते,
बच्चे लेकिन सोए हुए थे किस से कहानी कहते !

सच कहने का हौसला तुम ने छीन लिया है वर्ना,
शहर में फैली वीरानी को सब वीरानी कहते !

वक़्त गुज़रता जाता और ये ज़ख़्म हरे रहते तो,
बड़ी हिफ़ाज़त से रक्खी है तेरी निशानी कहते !

वो तो शायद दोनों का दुख एक जैसा था वर्ना,
हम भी पत्थर मारते तुझ को और दीवानी कहते !

तब्दीली सच्चाई है इस को मानते लेकिन कैसे,
आईने को देख के एक तस्वीर पुरानी कहते !

तेरा लहजा अपनाया अब दिल में हसरत सी है,
अपनी कोई बात कभी तो अपनी ज़बानी कहते !

चुप रह कर इज़हार किया है कह सकते तो “अनीस”,
एक अलाहिदा तर्ज़-ए-सुख़न का तुझ को बानी कहते !!