Home / Poetry Types Nazar

Poetry Types Nazar

Aaye kuchh abr kuchh sharab aaye..

Aaye kuchh abr kuchh sharab aaye,
Is ke baad aaye jo azab aaye

Baam-e-mina se mahtab utre,
Dast-e-saqi mein aaftab aaye.

Har rag-e-khun mein phir charaghan ho,
Samne phir wo be-naqab aaye.

Umar ke har waraq pe dil ki nazar,
Teri mehr-o-wafa ke bab aaye.

Kar raha tha gham-e-jahan ka hisab,
Aaj tum yaad be-hisab aaye.

Na gayi tere gham ki sardari,
Dil mein yun roz inqalab aaye.

Jal uthe bazm-e-ghair ke dar-o-baam,
Jab bhi hum khanuman-kharab aaye.

Is tarah apni khamushi gunji,
Goya har samt se jawab aaye.

“Faiz” thi rah sar-ba-sar manzil,
Hum jahan pahunche kaamyab aaye. !!

आए कुछ अब्र कुछ शराब आए
इस के बाद आए जो अज़ाब आए !

बाम-ए-मीना से माहताब उतरे,
दस्त-ए-साक़ी में आफ़्ताब आए !

हर रग-ए-ख़ूँ में फिर चराग़ाँ हो,
सामने फिर वो बे-नक़ाब आए !

उम्र के हर वरक़ पे दिल की नज़र,
तेरी मेहर-ओ-वफ़ा के बाब आए !

कर रहा था ग़म-ए-जहाँ का हिसाब,
आज तुम याद बे-हिसाब आए !

न गई तेरे ग़म की सरदारी,
दिल में यूँ रोज़ इंक़लाब आए !

जल उठे बज़्म-ए-ग़ैर के दर-ओ-बाम,
जब भी हम ख़ानुमाँ-ख़राब आए !

इस तरह अपनी ख़ामुशी गूँजी,
गोया हर सम्त से जवाब आए !

“फ़ैज़” थी राह सर-ब-सर मंज़िल,
हम जहाँ पहुँचे कामयाब आए !!

 

Taklif mit gayi magar ehsas rah gaya..

Taklif mit gayi magar ehsas rah gaya,
Khush hun ki kuchh na kuchh to mere pas rah gaya.

Pal-bhar mein us ki shakl na aayi agar nazar,
Yak-dam ulajh ke rishta-e-anfas rah gaya.

Photo mein dil ki chot na tabdil ho saki,
Naqlen utar utar ke akkas rah gaya.

Wo jhuthe motiyon ki chamak par phisal gayi,
Main hath mein liye hue almas rah gaya.

Ek hum-safar ko kho ke ye haalat hui “Adam”,
Jangal mein jis tarah koi be-as rah gaya. !!

तकलीफ़ मिट गई मगर एहसास रह गया,
ख़ुश हूँ कि कुछ न कुछ तो मेरे पास रह गया !

पल-भर में उस की शक्ल न आई अगर नज़र,
यक-दम उलझ के रिश्ता-ए-अन्फ़ास रह गया !

फोटो में दिल की चोट न तब्दील हो सकी,
नक़लें उतार उतार के अक्कास रह गया !

वो झूठे मोतियों की चमक पर फिसल गई,
मैं हाथ में लिए हुए अल्मास रह गया !

एक हम-सफ़र को खो के ये हालत हुई “अदम”,
जंगल में जिस तरह कोई बे-आस रह गया !!

 

Lahra ke jhum jhum ke la muskura ke la..

Lahra ke jhum jhum ke la muskura ke la,
Phoolon ke ras mein chand ki kirnen mila ke la.

Kahte hain umar-e-rafta kabhi lauti nahi,
Ja mai-kade se meri jawani utha ke la.

Saghar-shikan hai shaikh-e-bala-nosh ki nazar,
Shishe ko zer-e-daman-e-rangin chhupa ke la.

Kyun ja rahi hai ruth ke rangini-e-bahaar,
Ja ek martaba use phir warghala ke la.

Dekhi nahi hai tu ne kabhi zindagi ki lahr,
Achchha to ja “Adam” ki surahi utha ke la. !!

लहरा के झूम झूम के ला मुस्कुरा के ला,
फूलों के रस में चाँद की किरनें मिला के ला !

कहते हैं उम्र-ए-रफ़्ता कभी लौटती नहीं,
जा मय-कदे से मेरी जवानी उठा के ला !

साग़र-शिकन है शैख़-ए-बला-नोश की नज़र,
शीशे को ज़ेर-ए-दामन-ए-रंगीं छुपा के ला !

क्यूँ जा रही है रूठ के रंगीनी-ए-बहार,
जा एक मर्तबा उसे फिर वर्ग़ला के ला !

देखी नहीं है तू ने कभी ज़िंदगी की लहर,
अच्छा तो जा “अदम” की सुराही उठा के ला !!

 

Saqi sharab la ki tabiat udas hai..

Saqi sharab la ki tabiat udas hai,
Mutrib rubab utha ki tabiat udas hai.

Ruk ruk ke saz chhed ki dil mutmain nahi,
Tham tham ke mai pila ki tabiat udas hai.

Chubhti hai qalb o jaan mein sitaron ki raushni,
Aye chand dub ja ki tabiat udas hai.

Mujh se nazar na pher ki barham hai zindagi,
Mujh se nazar mila ki tabiat udas hai.

Shayad tere labon ki chatak se ho ji bahaal,
Aye dost muskura ki tabiat udas hai.

Hai husn ka fusun bhi ilaj-e-fasurdagi,
Rukh se naqab utha ki tabiat udas hai.

Main ne kabhi ye zid to nahi ki par aaj shab,
Aye mah-jabin na ja ki tabiat udas hai.

Imshab gurez-o-ram ka nahi hai koi mahal,
Aaghosh mein dar aa ki tabiat udas hai.

Kaifiyyat-e-sukut se badhta hai aur gham,
Kissa koi suna ki tabiat udas hai.

Yunhi durust hogi tabiat teri “Adam”,
Kam-bakht bhul ja ki tabiat udas hai.

Tauba to kar chuka hun magar phir bhi aye “Adam”,
Thoda sa zahr la ki tabiat udas hai. !!

साक़ी शराब ला कि तबीअत उदास है,
मुतरिब रुबाब उठा कि तबीअत उदास है !

रुक रुक के साज़ छेड़ कि दिल मुतमइन नहीं,
थम थम के मय पिला कि तबीअत उदास है !

चुभती है क़ल्ब ओ जाँ में सितारों की रौशनी,
ऐ चाँद डूब जा कि तबीअत उदास है !

मुझ से नज़र न फेर कि बरहम है ज़िंदगी,
मुझ से नज़र मिला कि तबीअत उदास है !

शायद तेरे लबों की चटक से हो जी बहाल,
ऐ दोस्त मुस्कुरा कि तबीअत उदास है !

है हुस्न का फ़ुसूँ भी इलाज-ए-फ़सुर्दगी,
रुख़ से नक़ाब उठा कि तबीअत उदास है !

मैं ने कभी ये ज़िद तो नहीं की पर आज शब,
ऐ मह-जबीं न जा कि तबीअत उदास है !

इमशब गुरेज़-ओ-रम का नहीं है कोई महल,
आग़ोश में दर आ कि तबीअत उदास है !

कैफ़िय्यत-ए-सुकूत से बढ़ता है और ग़म,
क़िस्सा कोई सुना कि तबीअत उदास है !

यूँही दुरुस्त होगी तबीअत तेरी “अदम”,
कम-बख़्त भूल जा कि तबीअत उदास है !

तौबा तो कर चुका हूँ मगर फिर भी ऐ “अदम”,
थोड़ा सा ज़हर ला कि तबीअत उदास है !!

 

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai..

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai,
Misal-e-rang wo jhonka nazar bhi aata hai.

Tamam shab jahan jalta hai ek udas diya,
Hawa ki rah mein ek aisa ghar bhi aata hai.

Wo mujh ko tut ke chahega chhod jayega,
Mujhe khabar thi use ye hunar bhi aata hai.

Ujad ban mein utarta hai ek jugnu bhi,
Hawa ke sath koi ham-safar bhi aata hai.

Wafa ki kaun si manzil pe us ne chhoda tha,
Ki wo to yaad hamein bhul kar bhi aata hai.

Jahan lahu ke samundar ki had thaharti hai,
Wahin jazira-e-lal-o-guhar bhi aata hai.

Chale jo zikr farishton ki parsai ka,
To zer-e-bahs maqam-e-bashar bhi aata hai.

Abhi sinan ko sambhaale rahen adu mere,
Ki un safon mein kahin mera sar bhi aata hai.

Kabhi-kabhi mujhe milne bulandiyon se koi,
Shua-e-subh ki surat utar bhi aata hai.

Isi liye main kisi shab na so saka “Mohsin”,
Wo mahtab kabhi baam par bhi aata hai. !!

तेरे बदन से जो छू कर इधर भी आता है,
मिसाल-ए-रंग वो झोंका नज़र भी आता है !

तमाम शब जहाँ जलता है एक उदास दिया,
हवा की राह में एक ऐसा घर भी आता है !

वो मुझ को टूट के चाहेगा छोड़ जाएगा,
मुझे ख़बर थी उसे ये हुनर भी आता है !

उजाड़ बन में उतरता है एक जुगनू भी,
हवा के साथ कोई हम-सफ़र भी आता है !

वफ़ा की कौन सी मंज़िल पे उस ने छोड़ा था,
कि वो तो याद हमें भूल कर भी आता है !

जहाँ लहू के समुंदर की हद ठहरती है,
वहीं जज़ीरा-ए-लाल-ओ-गुहर भी आता है !

चले जो ज़िक्र फ़रिश्तों की पारसाई का,
तो ज़ेर-ए-बहस मक़ाम-ए-बशर भी आता है !

अभी सिनाँ को सँभाले रहें अदू मेरे,
कि उन सफ़ों में कहीं मेरा सर भी आता है !

कभी-कभी मुझे मिलने बुलंदियों से कोई,
शुआ-ए-सुब्ह की सूरत उतर भी आता है !

इसी लिए मैं किसी शब न सो सका “मोहसिन”,
वो माहताब कभी बाम पर भी आता है !

 

Bhadkaye meri pyas ko aksar teri aankhen..

Bhadkaye meri pyas ko aksar teri aankhen,
Sahra mera chehra hai samundar teri aankhen.

Phir kaun bhala dad-e-tabassum unhen dega,
Roengi bahut mujh se bichhad kar teri aankhen.

Khali jo hui sham-e-ghariban ki hatheli,
Kya-kya na lutati rahin gauhar teri aankhen.

Bojhal nazar aati hain ba-zahir mujhe lekin,
Khulti hain bahut dil mein utar kar teri aankhen.

Ab tak meri yaadon se mitaye nahi mitta,
Bhigi hui ek sham ka manzar teri aankhen.

Mumkin ho to ek taza ghazal aur bhi kah lun,
Phir odh na len khwab ki chadar teri aankhen.

Main sang-sifat ek hi raste mein khada hun,
Shayad mujhe dekhengi palat kar teri aankhen.

Yun dekhte rahna use achchha nahi “Mohsin”,
Wo kanch ka paikar hai to patthar teri aankhen. !!

भड़काएँ मेरी प्यास को अक्सर तेरी आँखें,
सहरा मेरा चेहरा है समुंदर तेरी आँखें !

फिर कौन भला दाद-ए-तबस्सुम उन्हें देगा,
रोएँगी बहुत मुझ से बिछड़ कर तेरी आँखें !

ख़ाली जो हुई शाम-ए-ग़रीबाँ की हथेली,
क्या-क्या न लुटाती रहीं गौहर तेरी आँखें !

बोझल नज़र आती हैं ब-ज़ाहिर मुझे लेकिन,
खुलती हैं बहुत दिल में उतर कर तेरी आँखें !

अब तक मेरी यादों से मिटाए नहीं मिटता,
भीगी हुई एक शाम का मंज़र तेरी आँखें !

मुमकिन हो तो एक ताज़ा ग़ज़ल और भी कह लूँ,
फिर ओढ़ न लें ख़्वाब की चादर तेरी आँखें !

मैं संग-सिफ़त एक ही रस्ते में खड़ा हूँ,
शायद मुझे देखेंगी पलट कर तेरी आँखें !

यूँ देखते रहना उसे अच्छा नहीं “मोहसिन”,
वो काँच का पैकर है तो पत्थर तेरी आँखें !!

 

Un ki khair-o-khabar nahi milti..

Un ki khair-o-khabar nahi milti,
Hum ko hi khas kar nahi milti.

Shairi ko nazar nahi milti,
Mujh ko tu hi agar nahi milti.

Ruh mein dil mein jism mein duniya,
Dhundhta hun magar nahi milti.

Log kahte hain ruh bikti hai,
Main jidhar hun udhar nahi milti. !!

उनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलती,
हमको ही ख़ासकर नहीं मिलती !

शायरी को नज़र नहीं मिलती,
मुझको तू ही अगर नहीं मिलती !

रूह में दिल में जिस्म में दुनिया,
ढूंढता हूँ मगर नहीं मिलती !!