Friday , April 10 2020

Poetry Types Nazar

Kuch To Hawa Bhi Sard Thi Kuch Tha Tera Khayal Bhi..

Kuch to hawa bhi sard thi kuch tha tera khayal bhi,
Dil ko khushi ke sath sath hota raha malal bhi.

Baat wo aadhi raat ki raat wo pure chaand ki,
Chaand bhi ain chait ka us pe tera jamal bhi.

Sab se nazar bacha ke wo mujh ko kuch aise dekhta,
Ek dafa to ruk gai gardish-e-mah-o-sal bhi.

Dil to chamak sakega kya phir bhi tarash ke dekh len,
Shisha-giran-e-shahr ke hath ka ye kamal bhi.

Us ko na pa sake the jab dil ka ajib haal tha,
Ab jo palat ke dekhiye baat thi kuch muhaal bhi.

Meri talab tha ek shakhs wo jo nahin mila to phir,
Hath dua se yun gira bhul gaya sawal bhi.

Us ki sukhan-taraaziyan mere liye bhi dhaal thi,
Us ki hansi mein chhup gaya apne ghamon ka haal bhi.

Gah qarib-e-shah-rag gah baid-e-wahm-o-khwab,
Us ki rafaqaton mein raat hijr bhi tha visal bhi.

Us ke hi bazuon mein aur us ko hi sochte rahe,
Jism ki khwahishon pe the ruh ke aur jal bhi.

Sham ki na-samajh hawa puch rahi hai ek pata,
Mauj-e-hawa-e-ku-e-yar kuch to mera khayal bhi. !!

कुछ तो हवा भी सर्द थी कुछ था तेरा ख़याल भी,
दिल को ख़ुशी के साथ साथ होता रहा मलाल भी !

बात वो आधी रात की रात वो पूरे चाँद की,
चाँद भी ऐन चैत का उस पे तेरा जमाल भी !

सब से नज़र बचा के वो मुझ को कुछ ऐसे देखता,
एक दफ़ा तो रुक गई गर्दिश-ए-माह-ओ-साल भी !

दिल तो चमक सकेगा क्या फिर भी तराश के देख लें,
शीशा-गिरान-ए-शहर के हाथ का ये कमाल भी !

उस को न पा सके थे जब दिल का अजीब हाल था,
अब जो पलट के देखिए बात थी कुछ मुहाल भी !

मेरी तलब था एक शख़्स वो जो नहीं मिला तो फिर,
हाथ दुआ से यूँ गिरा भूल गया सवाल भी !

उस की सुख़न-तराज़ियाँ मेरे लिए भी ढाल थीं,
उस की हँसी में छुप गया अपने ग़मों का हाल भी !

गाह क़रीब-ए-शाह-रग गाह बईद-ए-वहम-ओ-ख़्वाब,
उस की रफ़ाक़तों में रात हिज्र भी था विसाल भी !

उस के ही बाज़ुओं में और उस को ही सोचते रहे,
जिस्म की ख़्वाहिशों पे थे रूह के और जाल भी !

शाम की ना-समझ हवा पूछ रही है एक पता,
मौज-ए-हवा-ए-कू-ए-यार कुछ तो मिरा ख़याल भी !! -Parveen Shakir Ghazal

 

Milti Hai Zindagi Mein Mohabbat Kabhi Kabhi..

Milti hai zindagi mein mohabbat kabhi kabhi,
Hoti hai dilbaron ki inayat kabhi kabhi.

Sharma ke munh na pher nazar ke sawal par,
Lati hai aise mod pe kismat kabhi kabhi.

Khulte nahi hain roz dariche bahaar ke,
Aati hai jaan-e-man ye qayamat kabhi kabhi.

Tanha na kat sakenge jawani ke raste,
Pesh aayegi kisi ki zarurat kabhi kabhi.

Phir kho na jayen hum kahin duniya ki bhid mein,
Milti hai pas aane ki mohlat kabhi kabhi. !!

मिलती है ज़िंदगी में मोहब्बत कभी कभी,
होती है दिलबरों की इनायत कभी कभी !

शर्मा के मुँह न फेर नज़र के सवाल पर,
लाती है ऐसे मोड़ पे क़िस्मत कभी कभी !

खुलते नहीं हैं रोज़ दरीचे बहार के,
आती है जान-ए-मन ये क़यामत कभी कभी !

तन्हा न कट सकेंगे जवानी के रास्ते,
पेश आएगी किसी की ज़रूरत कभी कभी !

फिर खो न जाएँ हम कहीं दुनिया की भीड़ में,
मिलती है पास आने की मोहलत कभी कभी !!

 

Kabhi Kabhi Mere Dil Mein Khayal Aata Hai..

Kabhi kabhi mere dil mein khayal aata hai…

Ki zindagi teri zulfon ki narm chhanw mein
Guzarne pati to shadab ho bhi sakti thi
Ye tirgi jo meri zist ka muqaddar hai
Teri nazar ki shuaon mein kho bhi sakti thi..

Ajab na tha ki main begana-e-alam ho kar
Tere jamal ki ranaiyon mein kho rahta
Tera gudaz-badan teri nim-baz aankhen
Inhi hasin fasanon mein mahw ho rahta..

Pukartin mujhe jab talkhiyan zamane ki
Tere labon se halawat ke ghunt pi leta
Hayat chikhti phirti barahna sar aur main
Ghaneri zulfon ke saye mein chhup ke ji leta..

Magar ye ho na saka aur ab ye aalam hai
Ki tu nahin tera gham teri justuju bhi nahin
Guzar rahi hai kuchh is tarah zindagi jaise
Ise kisi ke sahaare ki aarzoo bhi nahin..

Zamane bhar ke dukhon ko laga chuka hun gale
Guzar raha hun kuchh an-jaani rahguzaron se
Muhib saye meri samt badhte aate hain
Hayat o maut ke pur-haul kharzaron se..

Na koi jada-e-manzil na raushni ka suragh
Bhatak rahi hai khalaon mein zindagi meri
Inhi khalaon mein rah jaunga kabhi kho kar
Main janta hun meri ham-nafas magar yunhi..

Kabhi kabhi mere dil mein khayal aata hai…

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है…

कि ज़िंदगी तेरी ज़ुल्फ़ों की नर्म छाँव में
गुज़रने पाती तो शादाब हो भी सकती थी
ये तीरगी जो मेरी ज़ीस्त का मुक़द्दर है
तेरी नज़र की शुआ’ओं में खो भी सकती थी..

अजब न था कि मैं बेगाना-ए-अलम हो कर
तेरे जमाल की रानाइयों में खो रहता
तेरा गुदाज़-बदन तेरी नीम-बाज़ आँखें
इन्ही हसीन फ़सानों में महव हो रहता..

पुकारतीं मुझे जब तल्ख़ियाँ ज़माने की
तेरे लबों से हलावत के घूँट पी लेता
हयात चीख़ती फिरती बरहना सर और मैं
घनेरी ज़ुल्फ़ों के साए में छुप के जी लेता..

मगर ये हो न सका और अब ये आलम है
कि तू नहीं तेरा ग़म तेरी जुस्तुजू भी नहीं
गुज़र रही है कुछ इस तरह ज़िंदगी जैसे
इसे किसी के सहारे की आरज़ू भी नहीं..

ज़माने भर के दुखों को लगा चुका हूँ गले
गुज़र रहा हूँ कुछ अन-जानी रहगुज़ारों से
मुहीब साए मेरी सम्त बढ़ते आते हैं
हयात ओ मौत के पुर-हौल ख़ारज़ारों से..

न कोई जादा-ए-मंज़िल न रौशनी का सुराग़
भटक रही है ख़लाओं में ज़िंदगी मेरी
इन्ही ख़लाओं में रह जाऊँगा कभी खो कर
मैं जानता हूँ मेरी हम-नफ़स मगर यूँही..

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है…

Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Tumhari Raah Mein Mitti Ke Ghar Nahi Aate..

Tumhari raah mein mitti ke ghar nahi aate,
Is liye to tumhein hum nazar nahi aate.

Mohabbaton ke dinon ki yehi kharabi hai,
Ye ruth jayen to laut kar nahi aate.

Jinhen saliqa hai tehzib-e-gham samajhne ka,
Unhin ke rone mein aansoo nazar nahi aate.

Khushi ki aankh mein aansoo ki bhi jagah rakhna,
Bure zamane kabhi puchh kar nahi aate.

Bisat-e-ishq pe badhna kise nahi aata,
Ye aur baat ki bachne ke ghar nahi aate.

“Wasim” zehan banate hain to wahi akhabaar,
Jo le ke ek bhi achchhi khabar nahi aate. !!

तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते,
इसीलिए तुम्हे हम नज़र नहीं आते !

मोहब्बतो के दिनों की यही खराबी है,
ये रूठ जाएँ तो लौट कर नहीं आते !

जिन्हें सलीका है तहजीब-ए-गम समझाने का,
उन्ही के रोने में आंसू नज़र नहीं आते !

खुशी की आँख में आंसू की भी जगह रखना,
बुरे ज़माने कभी पूछ कर नहीं आते !

बिसात-ए-इश्क़ पे बढ़ना किसे नहीं आता,
यह और बात कि बचने के घर नहीं आते !

“वसीम” जहन बनाते हैं तो वही अख़बार,
जो ले के एक भी अच्छी ख़बर नहीं आते !! -Wasim Barelvi Ghazal

 

De Mohabbat To Mohabbat Mein Asar Paida Kar..

De mohabbat to mohabbat mein asar paida kar,
Jo idhar dil mein hai ya rab wo udhar paida kar.

Dud-e-dil ishq mein itna to asar paida kar,
Sar kate shama ki manind to sar paida kar.

Phir hamara dil-e-gum-gashta bhi mil jayega,
Pahle tu apna dahan apni kamar paida kar.

Kaam lene hain mohabbat mein bahut se ya rab,
Aur dil de hamein ek aur jigar paida kar.

Tham zara aye adam-abaad ke jane wale,
Rah ke duniya mein abhi zad-e-safar paida kar.

Jhut jab bolte hain wo to dua hoti hai,
Ya ilahi meri baaton mein asar paida kar.

Aaina dekhna is husan pe aasan nahin,
Pesh-tar aankh meri meri nazar paida kar.

Subh-e-furqat to qayamat ki sahar hai ya rab,
Apne bandon ke liye aur sahar paida kar.

Mujh ko rota hua dekhen to jhulas jayen raqib,
Aag pani mein bhi aye soz-e-jigar paida kar.

Mit ke bhi duri-e-gulshan nahin bhati ya rab,
Apni qudrat se meri khak mein par paida kar.

Shikwa-e-dard-e-judai pe wo farmate hain,
Ranj sahne ko hamara sa jigar paida kar.

Din nikalne ko hai rahat se guzar jane de,
Ruth kar tu na qayamat ki sahar paida kar.

Hum ne dekha hai ki mil jate hain ladne wale,
Sulh ki khu bhi to aye bani-e-shar paida kar.

Mujh se ghar aane ke wade par bigad kar bole,
Kah diya ghair ke dil mein abhi ghar paida kar.

Mujh se kahti hai kadak kar ye kaman qatil ki,
Tir ban jaye nishana wo jigar paida kar.

Kya qayamat mein bhi parda na uthayega rukh se,
Ab to meri shab-e-yalda ki sahar paida kar.

Dekhna khel nahin jalwa-e-didar tera,
Pahle musa sa koi ahl-e-nazar paida kar.

Dil mein bhi milta hai wo kaba bhi us ka hai maqam,
Rah nazdik ki aye azm-e-safar paida kar.

Zof ka hukm ye hai hont na hilne payen,
Dil ye kahta hai ki nale mein asar paida kar.

Nale ‘Bekhud’ ke qayamat hain tujhe yaad rahe,
Zulm karna hai to patthar ka jigar paida kar. !!

दे मोहब्बत तो मोहब्बत में असर पैदा कर,
जो इधर दिल में है या रब वो उधर पैदा कर !

दूद-ए-दिल इश्क़ में इतना तो असर पैदा कर,
सर कटे शम्अ की मानिंद तो सर पैदा कर !

फिर हमारा दिल-ए-गुम-गश्ता भी मिल जाएगा,
पहले तू अपना दहन अपनी कमर पैदा कर !

काम लेने हैं मोहब्बत में बहुत से या रब,
और दिल दे हमें इक और जिगर पैदा कर !

थम ज़रा ऐ अदम-आबाद के जाने वाले,
रह के दुनिया में अभी ज़ाद-ए-सफ़र पैदा कर !

झूट जब बोलते हैं वो तो दुआ होती है,
या इलाही मिरी बातों में असर पैदा कर !

आईना देखना इस हुस्न पे आसान नहीं,
पेश-तर आँख मिरी मेरी नज़र पैदा कर !

सुब्ह-ए-फ़ुर्क़त तो क़यामत की सहर है या रब,
अपने बंदों के लिए और सहर पैदा कर !

मुझ को रोता हुआ देखें तो झुलस जाएँ रक़ीब,
आग पानी में भी ऐ सोज़-ए-जिगर पैदा कर !

मिट के भी दूरी-ए-गुलशन नहीं भाती या रब,
अपनी क़ुदरत से मिरी ख़ाक में पर पैदा कर !

शिकवा-ए-दर्द-ए-जुदाई पे वो फ़रमाते हैं,
रंज सहने को हमारा सा जिगर पैदा कर !

दिन निकलने को है राहत से गुज़र जाने दे,
रूठ कर तू न क़यामत की सहर पैदा कर !

हम ने देखा है कि मिल जाते हैं लड़ने वाले,
सुल्ह की ख़ू भी तो ऐ बानी-ए-शर पैदा कर !

मुझ से घर आने के वादे पर बिगड़ कर बोले,
कह दिया ग़ैर के दिल में अभी घर पैदा कर !

मुझ से कहती है कड़क कर ये कमाँ क़ातिल की,
तीर बन जाए निशाना वो जिगर पैदा कर !

क्या क़यामत में भी पर्दा न उठेगा रुख़ से,
अब तो मेरी शब-ए-यलदा की सहर पैदा कर !

देखना खेल नहीं जल्वा-ए-दीदार तिरा,
पहले मूसा सा कोई अहल-ए-नज़र पैदा कर !

दिल में भी मिलता है वो काबा भी उस का है मक़ाम,
राह नज़दीक की ऐ अज़्म-ए-सफ़र पैदा कर !

ज़ोफ़ का हुक्म ये है होंट न हिलने पाएँ,
दिल ये कहता है कि नाले में असर पैदा कर !

नाले ‘बेख़ुद’ के क़यामत हैं तुझे याद रहे,
ज़ुल्म करना है तो पत्थर का जिगर पैदा कर !! -Bekhud Dehlvi Ghazal

 

Kise Khabar Thi Tujhe Is Tarah Sajaunga..

Kise khabar thi tujhe is tarah sajaunga,
Zamana dekhega aur main na dekh paunga.

Hayaat-o maut firaaq-o wisaal sab yakjaan,
Main ek raat mein kitne diye jalaunga.

Pala-bada hun abhi tak inhi andheron mein,
Main tez dhoop se kaise nazar milaunga.

Mere mizaaj ki ye maadrana fitrat hai,
Sawere saari azeeyat main bhool jaunga.

Tum ek pedd se wabasta ho magar main to,
Hawa ke saath bahut dur dur jaunga.

Mera ye ehad hai main aaj shaam hone tak,
Jahan se rizq likha hai wahin se launga. !!

किसे खबर थी तुझे इस तरह सजाऊंगा,
ज़माना देखेगा और मैं ना देख पाउँगा !

हयात-ओ मौत फ़िराक़-ओ विसाल सब एकजन,
मैं एक रात में कितने दिये जलाऊँगा !

पला-बड़ा हूँ अभी तक इन्ही अंधेरों में,
मैं तेज़ धुप से कैसे नज़र मिलाऊंगा !

मेरे मिज़ाज कि ये मादराना फितरत है,
सवेरे सारी अज़ीयत मैं भूल जाऊँगा !

तुम एक पेड़ से वाबस्ता हो मगर मैं तो,
हवा के साथ बहुत दूर दूर जाऊँगा !

मेरा ये अहद है मैं आज शाम होने तक,
जहाँ से रिज़क लिखा है वहीँ से लाऊंगा !! -Bashir Badr Ghazal

 

Yun Hi Be-Sabab Na Phira Karo Koi Sham Ghar Mein Raha Karo..

Yun hi be-sabab na phira karo koi sham ghar mein raha karo,
Wo ghazal ki sachchi kitab hai use chupke chupke padha karo.

Koi hath bhi na milayega jo gale miloge tapak se,
Ye naye mizaj ka shehar hai zara fasle se mila karo.

Abhi raah mein kayi mod hain koi ayega koi jayega,
Tumhein jis ne dil se bhula diya use bhulne ki dua karo.

Mujhe ishtihaar si lagti hain ye mohabbaton ki kahaniyan,
Jo kaha nahin wo suna karo jo suna nahin wo kaha karo.

Kabhi husn-e parda-nashin bhi ho zara aashiqana libas mein,
Jo main ban sanwar ke kahin chalun mere sath tum bhi chala karo.

Nahin be-hijab wo chand sa ki nazar ka koi asar na ho,
Use itni garmi-e-shauq se badi der tak na taka karo.

Ye khizan ki zard si shaal mein jo udas ped ke pas hai
Ye tumhaare ghar ki bahaar hai use aansuon se hara karo. !!

यूं ही बे-सबब न फिरा करो कोई शाम घर में रहा करो,
वो ग़ज़ल की सच्ची किताब है उसे चुपके-चुपके पढ़ा करो !

कोई हाथ भी न मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से,
ये नए मिज़ाज का शहर है ज़रा फ़ासले से मिला करो !

अभी राह में कई मोड़ हैं कोई आएगा कोई जाएगा,
तुम्हें जिसने दिल से भुला दिया उसे भूलने की दुआ करो !

मुझे इश्तिहार-सी लगती हैं ये मोहब्बतों की कहानियां,
जो कहा नहीं, वो सुना करो जो सुना नहीं वो कहा करो !

नहीं बे हिजाब वो चाँद सा कि नज़र का कोई असर न हो,
उसे इतनी गर्मी-ए-शौक़ से बड़ी देर तक न तका करो !

ये ख़िज़ां की ज़र्द-सी शाल में जो उदास पेड़ के पास है
ये तुम्हारे घर की बहार है उसे आंसुओं से हरा करो !! -Bashir Badr Ghazal