Wednesday , February 26 2020
Home / Poetry Types Mohabbat

Poetry Types Mohabbat

Charaghon Ko Uchhala Ja Raha Hai..

Charaghon ko uchhala ja raha hai,
Hawa par raub dala ja raha hai.

Na haar apni na apni jeet hogi,
Magar sikka uchhala ja raha hai.

Woh dekho maikade ke raste mein,
Koi allaah wala ja raha hai.

The pehle hi kayi saanp aastin mein,
Ab ek bichchhu bhi pala ja raha hai.

Mere jhute gilason ki chhaka kar,
Behakton ko sambhaala ja raha hai.

Hamin buniyaad ka patthar hain lekin,
Hamein ghar se nikala ja raha hai.

Janaze par mere likh dena yaro,
Mohabbat karne wala ja raha hai. !!

चराग़ों को उछाला जा रहा है,
हवा पर रोब डाला जा रहा है !

न हार अपनी न अपनी जीत होगी,
मगर सिक्का उछाला जा रहा है !

वो देखो मय-कदे के रास्ते में,
कोई अल्लाह-वाला जा रहा है !

थे पहले ही कई साँप आस्तीं में,
अब इक बिच्छू भी पाला जा रहा है !

मेरे झूटे गिलासों की छका कर,
बहकतों को सँभाला जा रहा है !

हमीं बुनियाद का पत्थर हैं लेकिन,
हमें घर से निकाला जा रहा है !

जनाज़े पर मेरे लिख देना यारो
मोहब्बत करने वाला जा रहा है !! -Rahat Indori Ghazal

 

Teri Har Baat Mohabbat Mein Gawara Kar Ke..

Teri har baat mohabbat mein gawara kar ke

Teri har baat mohabbat mein gawara kar ke,
Dil ke bazaar mein baithe hain khasara kar ke.

Aate jate hain kai rang mere chehre par,
Log lete hain maza zikr tumhara kar ke.

Ek chingari nazar aai thi basti mein use,
Wo alag hat gaya aandhi ko ishaara kar ke.

Aasmanon ki taraf phenk diya hai maine,
Chand miti ke charaghon ko sitara kar ke.

Main wo dariya hun ki har bund bhanwar hai jis ki,
Tum ne achchha hi kiya mujh se kinara kar ke.

Muntazir hun ki sitaron ki zara aankh lage,
Chand ko chhat pur bula lunga ishaara kar ke. !!

तेरी हर बात मोहब्बत में गवारा कर के,
दिल के बाज़ार में बैठे हैं ख़सारा कर के !

आते जाते हैं कई रंग मेरे चेहरे पर,
लोग लेते हैं मज़ा ज़िक्र तुम्हारा कर के !

एक चिंगारी नज़र आई थी बस्ती में उसे,
वो अलग हट गया आँधी को इशारा कर के !

आसमानों की तरफ़ फेंक दिया है मैंने,
चंद मिट्टी के चराग़ों को सितारा कर के !

मैं वो दरिया हूँ कि हर बूँद भँवर है जिस की,
तुम ने अच्छा ही किया मुझ से किनारा कर के !

मुंतज़िर हूँ कि सितारों की ज़रा आँख लगे,
चाँद को छत पुर बुला लूँगा इशारा कर के !! -Rahat Indori Ghazal

 

Happy Propose Day Shayari in Hindi ! प्रेपोज डे शायरी

यदि आप Happy Propose Day Shayari in Hindi, Propose Day Wishes and Propose Day Quotes in Hindi की तलाश कर रहे हैंं तो आप सही जगह आये हैं. 2nd Day of Valentine’s Week के इस दिन पर आज हम आपके लिए बहुत ही सुन्दर. Propose Shayari in Hindi For Boyfriend, Girlfriend लेकर आये हैं. आप इन प्रपोज डे शायरी को अपने Girlfriend, Love, Boyfriend आदि को Facebook & Whatsapp आदि पर भेजकर Propose Day पर अपने साथी को प्रपोज कर सकते हैं !

Best Propose Shayari in Hindi for Girlfriend & Boyfriend

Happy Propose Day Shayari In Hindi Image

कुछ दूर मेरे साथ चलो,
हम सारी कहानी कह देंगे,
समझे ना तुम जिसे आंखों से,
वो बात मुंह जबानी कह देंगे।
हैपी प्रपोज डे

मेरी सारी हसरतें मचल गयी,
जब तुमने सोचा एक पल के लिए,
अंजाम-ए- दीवानगी क्या होगी,
जब तुम मिलोगी मुझे उम्र भर के लिए।
Wish You A Happy Propose Day

ए-हसीन मेरा गुलाब कबूल कर,
हम तुमसे बेइन्तहा इश्क़ करते हैं,

अब नहीं इस ज़माने की परवाह हमको,
हम अपने इश्क़ का इज़हार करते हैं,

तुम नादानी समझो या शैतानी हमारी,
हम हर घडी तेरा इंतजार करते हैं।
Happy Propose Day 2020

दिल ये मेरा तुमसे प्यार करना चाहता है..
अपनी मोहब्बत का इजहार करना चाहता है,
देखा है जब से तुम्हे मेने मेरे ए-सनम..
सिर्फ तुम्हारा ही दीदार करने को दिल चाहता है।
Happy Propose Day

तेरे नाम को होठों पे सजाया है मैंने,
तेरी रुह को अपने दिल में बसाया है मैंने,
दुनिया तुम्हें ढूंढते-ढूंढते हो जाएगी पागल,
दिल के ऐसे कोने में बसाया है मैंने।
Happy Propose Day

तुम अपनी चाहत का इज़हार जो करो,
हमारी तरह ही हम तुम्हे दीवाना बना देंगे,

तन्हाई में तुम्हारी हम महफ़िल सजा देंगे,
लबों पे तुम्हारी एक मुस्कान जगा देंगे,

तुम अपनी चाहत का इज़हार जो करो,
उस इज़हार के इंतज़ार में हम ज़िन्दगी गुजार देंगे,

तुम अपनी चाहत का इज़हार जो करो,
हमारी तरह ही हम तुम्हे दीवाना बना देंगे।
Happy Propose Day 2020

 

Propose Shayari in Hindi for Boyfriend

काश आपकी सूरत इतनी प्यारी न होती काश आपसे मुलाकात हमारी न होती,
सपनों में ही देख लेते हम आपको तो आज मिलने की बेकरारी न होती।

रब से आपकी खुशी मांगते हैं,
दुआओं में आपकी हंसी मांगते हैं,
सोचते है आप से क्या मांगे,
चलो आप से उम्र भर की मोहब्बत मांगते हैं।

कसूर तो था ही इन निगाहों का जो चुपके से दीदार कर बैठा,
हमने तो खामोश रहने की ठानी थी पर बेवफा ये ज़बान इज़हार कर बैठा।

मुझे खामोश रहने में तेरा साथ चाहिए,
तन्हा है मेरा साथ तेरा साथ चाहिए,
जुनून-ए-इश्क को तेरी ही सौगात चाहिए,
मुझे जीने के लिए तेरी ही याद चाहिए।

जब से देखो है तेरी आंखों में झांक कर कोई भी आईना अच्छा नहीं लगता,
तेरी मोहब्बत में ऐसे हुए है दिवाने कि कोई तुम्हें देखे तो अच्छा नहीं लगता।

यूं तो सपने बहुत संही होते हैं,
पर सपनों से प्यार नहीं करते,
चाहते तो तुम्हे हम आज भी हैं,
बस इज़हार नहीं करते।

बनकर तेरा साया तेरा साथ निभाऊंगी तू जहां जाएगा में वहां-वहां आऊंगी,
साया तो छोड़ जाता है साथ अंधेरे में लेकिन में अंधेरे में तेरा उजाला बन जाऊंगी।

तुझे ऐतवार करना है,
दिलो जां से प्यार करना है,
ख्वाहिश ज्यादा नहीं बस इतनी है मेरी,
कि हर लम्हे में तुझे अपना बना के रखना है।

 

Propose Day Status for in Hindi

यहां हमने बहुत ही अच्छी Propose Day Status in Hindi को आपके साथ शेयर किया है. आप इन Propose Status in Hindi को अपनी Girlfriend, Boyfriend & Love के साथ शेयर कर सकते हैं !

मोहब्बत है कितनी ज्यादा तुमसे,
कहो तो रे जहां को बता दूं,
तु करदे हां एक बार,
तेरे कदमों में में आसमां बिछा दूं।

दिल ही दिल में हम उनसे प्यार करते हैं,
आज इस प्रपोज डे पर अपनी मोहब्बत का इजहार करते हैं।

मोहब्बत की कीमत कभी चुकाई नहीं जाती,
हो जाये अगर मोहब्बत तो छिपाई नहीं जाती,
वक़्त के रहते मोहब्बत का इज़हार कर दो,
वरना वक़्त के बाद मोहबत जताई नहीं जाती।

हम अपने प्यार का इज़हार इसलिए नहीं करते हैं,
क्युकी हम उनकी हां या ना से डरते हैं,
अगर उन्होंने कर दी हाँ, तो हम ख़ुशी से मर जायेंगे,
अगर उन्होंने कर दी ना, तो रो रो के मर जायेंगे।

नज़ारे मिले तो प्यार हो जाता हैं,
पलके उठे तो इज़हार हो जाता हैं,
न जाने क्या कशिश हैं,
चाहत में के कोई अनजान भी हमारी,
ज़िन्दगी का हक़दार हो जाता हैं।

उन्हें चाहना हमारी कमजोरी है,
उन से कह न पाना हमारी मजबूरी है,
वो क्यू नै समझते हमारी खामोशी को,
क्या प्यार का इज़हार करना ज़रूरी है।
Happy Propose Day 2020

 

दोस्तो मुझे उम्मीद है कि आपको Happy Propose Day Shayari in Hindi पसंद आये होंगे. यदि आपको यह Propose Day Status In Hindi पसंद आये हों. तो आप इन्हे अपनी Love, Girlfriend, Boyfriend के साथ Facebook & Whatsapp पर जरूर शेयर करें !

 

Romantic Rose Day Quotes In Hindi

Romantic Rose Day Quotes Shayari in Hindi Image

Gulshan ka har ek gulaab parkha humne
Phir chuna ek gulaab hai
Laye bade pyar se hai jiske liye
Wo khud ek khubsurat gulaab hai

गुलशन का हर एक गुलाब परखा हमने
फिर चुना एक गुलाब है
लाये बड़े प्यार से है जिसके लिए
वो खुद एक खूबसूरत गुलाब है

 

Aaj socha ki aapko jawab mein kya dun
Aap jaise logon ko kitaab kya dun
Koi aur phool ho to mujh ko nahi maalum
Jo khud gulaab ho use gulaab kya dun

आज सोचा के आपको जवाब में क्या दूँ
आप जैसे लोगो को खिताब क्या दूँ
कोई और फूल हो तो मुझ को नहीं मालूम
जो खुद ग़ुलाब हो उसे क्या ग़ुलाब क्या दूँ

 

Gulab ki khubsurati bhi fiki si lagti hain
Jab tere chehare par muskan khil uthti hai
Yunhi muskurate rahna mere pyar tu
Teri khushiyon se meri saanse ji uthti hain

गुलाब की खूबसूरती भी फिकी सी लगती हैं
जब तेरे चेहरे पर मुस्कान खिल उठती हैं
यूँही मुस्कुराते रहना मेरे प्यार तू
तेरी खुशियों से मेरी साँसे जी उठती हैं

 

Aap milte nahi Roz Roz
Aapki yaad aati hai Har Roz
Hamne bheja hai Red Roz
Jo aapko
Hamari Yaad dilayega Har Roz

आप मिलते नही Roz Roz
आपकी याद आती है हर Roz
हमने भेजा है Red Roz
जो आपको
हमारी याद दिलायेगा हर Roz

 

Pgali tu
Gulaab ke phool jaisi hai
Jise mein
Tod bhi nahi sakta aur
Chhod bhi nahi sakta

पगली तू
गुलाब के फूल जैसी है…
जिसे में
तोड़ भी नही सकता और
छोड़ भी नही सकता

 

Khushbu mein dub jayengi yaadon ki daliyan
Honthon pe phool rakh ke kabhi sochna mujhe

खुशबू में डूब जायेंगी यादों की डालियाँ
होंठों पे फूल रख के कभी सोचना मुझे

 

Gulaab khilte rahe zindagi ki raah mein
Hansi chamkti rahe aap ki nigaah mein
Khushi ki lahar mile har kadam par aapko
Deta hain ye dil dua baar baar aapko

गुलाब खिलते रहे ज़िंदगी की राह् में
हँसी चमकती रहे आप कि निगाह में
खुशी कि लहर मिलें हर कदम पर आपको
देता हे ये दिल दुआ बार–बार आपको

 

Chehara aapka khila rahe gulaab ki tarah
Naam aapka roshan rahe aaftab ki tarah
Gham mein bhi aap hanste rahe phoolon ki tarah
Agar hum is duniya mein na rahe aaj ki tarah

चेहरा आपका खिला रहे गुलाब की तरह
नाम आपका रोशन रहे आफताब की तरह
ग़म में भी आप हँसते रहे फूलों की तरह
अगर हम इस दुनिया में न रहें आज की तरह

 

Soch rahe hai tumko apna pyar kese bheje
Dhund ke laya ho jo khushbu wo us paar kese bheje
Sinjo ke rakhi hai jo mohabbat apni is gulaab mein
Soch raha hai wo gulaab Apke paas kese bheje

सोच रहे है तुमको अपना प्यार कैसे भेजे
ढूंढ के लाया हो जो खुशबु वो उस पार कैसे भेजे
सिंजो के रखी है जो मोहब्बत अपनी इस ग़ुलाब में
सोच रहा है वो गुलाब आपके पास कैसे भेजे

 

Laye pyar se bhara gulaab apke liye
Is jahan ka sab se khubsurat gulab apke liye
Pasand aaye to batana humko
Hum aasma se barsa denge aise hi gulaab apke liye

लाये प्यार से भरा गुलाब आपके लिए
इस जहाँ का सब से खूबसूरत गुलाब आपके लिए
पसंद आये तो बताना हमको
हम आस्मा से बरसा देंगे ऐसे ही गुलाब आपके लिए

Mohabbat lafzon ki mohtaaz nahi hoti
Jab tanhai me aapki yaad aati hai
Hontho pe ek hi fariyad aati hai
Khuda aapko har khushi de
Kyonki aaj bhi humari har khushi aapke baad aati hai

मुहब्बत लफ्जों की मोहताज नहीं होती
जब तन्हाई में आपकी याद आती है
होंठों पे एक ही फ़रियाद आती है
खुदा आपको हर ख़ुशी दे
क्यूंकि आज भी हमारी हर ख़ुशी आपके बाद आती है

Happy Rose Day

 

Valentine’s Day SMS for Friend Cum Lover

Happy Valentine Day Image Shayari Tumhare saath rahte rahte

 

Tumhare saath rahte rahte
Tumhari chahat si ho gayi hai

Tumse baat karte karte
Tumhari aadat si ho gayi hai

Ek pal na mile to baichani si lagti hai
Dosti nibhate nibhate
Tumse mohabbat si ho gayi hai

तुम्हारे साथ रहते रहते
तुम्हारी चाहत सी हो गयी हैं

तुमसे बात करते करते
तुम्हारी आदत सी हो गयी हैं

एक पल न मिले तो बेचैनी सी लगती हैं
दोस्ती निभाते निभाते
तुमसे मोहब्बत सी हो गयी हैं !

I Love You Baby…Will u be my valentine ?

 

Donon Jahan Teri Mohabbat Mein Haar Ke

Donon jahan teri mohabbat mein haar ke,
Wo ja raha hai koi shab-e-gham guzar ke.

Viran hai mai-kada khum-o-saghar udas hain,
Tum kya gaye ki ruth gaye din bahaar ke.

Ek fursat-e-gunah mili wo bhi chaar din,
Dekhe hain hum ne hausle parwardigar ke.

Duniya ne teri yaad se begana kar diya,
Tujh se bhi dil-fareb hain gham rozgar ke.

Bhule se muskura to diye the wo aaj “Faiz”,
Mat puchh walwale dil-e-na-karda-kar ke. !!

दोनों जहान तेरी मोहब्बत में हार के,
वो जा रहा है कोई शब-ए-ग़म गुज़ार के !

वीराँ है मय-कदा ख़ुम-ओ-साग़र उदास हैं,
तुम क्या गए कि रूठ गए दिन बहार के !

एक फ़ुर्सत-ए-गुनाह मिली वो भी चार दिन,
देखे हैं हम ने हौसले पर्वरदिगार के !

दुनिया ने तेरी याद से बेगाना कर दिया,
तुझ से भी दिल-फ़रेब हैं ग़म रोज़गार के !

भूले से मुस्कुरा तो दिए थे वो आज “फ़ैज़”,
मत पूछ वलवले दिल-ए-ना-कर्दा-कार के !!

 

Us ko juda hue bhi zamana bahut hua..

Us ko juda hue bhi zamana bahut hua,
Ab kya kahen ye qissa purana bahut hua.

Dhalti na thi kisi bhi jatan se shab-e-firaq,
Aye marg-e-na-gahan tera aana bahut hua.

Hum khuld se nikal to gaye hain par aye khuda,
Itne se waqiye ka fasana bahut hua.

Ab hum hain aur sare zamane ki dushmani,
Us se zara sa rabt badhana bahut hua.

Ab kyun na zindagi pe mohabbat ko war den,
Is aashiqi mein jaan se jaana bahut hua.

Ab tak to dil ka dil se taaruf na ho saka,
Mana ki us se milna milana bahut hua.

Kya kya na hum kharab hue hain magar ye dil,
Aye yaad-e-yar tera thikana bahut hua.

Kahta tha nasehon se mere munh na aaiyo,
Phir kya tha ek hu ka bahana bahut hua.

Lo phir tere labon pe usi bewafa ka zikr,
Ahmad-“Faraz” tujh se kaha na bahut hua. !!

उस को जुदा हुए भी ज़माना बहुत हुआ,
अब क्या कहें ये क़िस्सा पुराना बहुत हुआ !

ढलती न थी किसी भी जतन से शब-ए-फ़िराक़,
ऐ मर्ग-ए-ना-गहाँ तेरा आना बहुत हुआ !

हम ख़ुल्द से निकल तो गए हैं पर ऐ ख़ुदा,
इतने से वाक़िए का फ़साना बहुत हुआ !

अब हम हैं और सारे ज़माने की दुश्मनी,
उस से ज़रा सा रब्त बढ़ाना बहुत हुआ !

अब क्यूँ न ज़िंदगी पे मोहब्बत को वार दें,
इस आशिक़ी में जान से जाना बहुत हुआ !

अब तक तो दिल का दिल से तआरुफ़ न हो सका,
माना कि उस से मिलना मिलाना बहुत हुआ !

क्या क्या न हम ख़राब हुए हैं मगर ये दिल,
ऐ याद-ए-यार तेरा ठिकाना बहुत हुआ !

कहता था नासेहों से मेरे मुँह न आइयो,
फिर क्या था एक हू का बहाना बहुत हुआ !

लो फिर तेरे लबों पे उसी बेवफ़ा का ज़िक्र,
अहमद-“फ़राज़” तुझ से कहा न बहुत हुआ !!