Saturday , February 29 2020
Home / Poetry Types Mausam

Poetry Types Mausam

Andar Ka Zahar Chum Liya Dhul Ke Aa Gaye..

Andar ka zahar chum liya dhul ke aa gaye,
Kitne sharif log the sab khul ke aa gaye.

Sooraj se jang jitne nikle the bewaquf,
Sare sipahi mom ke the ghul ke aa gaye.

Masjid mein dur dur koi dusra na tha,
Hum aaj apne aap se mil-jul ke aa gaye.

Nindon se jang hoti rahegi tamam umar,
Aankhon mein band khwab agar khul ke aa gaye,

Sooraj ne apni shakl bhi dekhi thi pahli bar,
Aaine ko maze bhi taqabul ke aa gaye,

Anjaane saye phirne lage hain idhar udhar,
Mausam hamare shehar mein kabul ke aa gaye. !!

अंदर का ज़हर चूम लिया धुल के आ गए,
कितने शरीफ़ लोग थे सब खुल के आ गए !

सूरज से जंग जीतने निकले थे बेवक़ूफ़,
सारे सिपाही मोम के थे घुल के आ गए !

मस्जिद में दूर दूर कोई दूसरा न था,
हम आज अपने आप से मिल-जुल के आ गए !

नींदों से जंग होती रहेगी तमाम उम्र,
आँखों में बंद ख़्वाब अगर खुल के आ गए !

सूरज ने अपनी शक्ल भी देखी थी पहली बार,
आईने को मज़े भी तक़ाबुल के आ गए !

अनजाने साए फिरने लगे हैं इधर-उधर,
मौसम हमारे शहर में काबुल के आ गए !! -Rahat Indori Ghazal

 

Ab ke tajdid-e-wafa ka nahi imkan jaanan..

Ab ke tajdid-e-wafa ka nahi imkan jaanan,
Yaad kya tujh ko dilayen tera paiman jaanan.

Yunhi mausam ki ada dekh ke yaad aaya hai,
Kis qadar jald badal jate hain insan jaanan.

Zindagi teri ata thi so tere naam ki hai,
Hum ne jaise bhi basar ki tera ehsan jaanan.

Dil ye kahta hai ki shayad hai fasurda tu bhi,
Dil ki kya baat karen dil to hai nadan jaanan.

Awwal awwal ki mohabbat ke nashe yaad to kar,
Be-piye bhi tera chehra tha gulistan jaanan.

Aakhir aakhir to ye aalam hai ki ab hosh nahi,
Rag-e-mina sulag utthi ki rag-e-jaan jaanan.

Muddaton se yahi aalam na tawaqqo na umid,
Dil pukare hi chala jata hai jaanan jaanan.

Hum bhi kya sada the hum ne bhi samajh rakkha tha,
Gham-e-dauran se juda hai gham-e-jaanan jaanan.

Ab ke kuchh aisi saji mehfil-e-yaran jaanan,
Sar-ba-zanu hai koi sar-ba-gareban jaanan.

Har koi apni hi aawaz se kanp uthta hai,
Har koi apne hi saye se hirasan jaanan.

Jis ko dekho wahi zanjir-ba-pa lagta hai,
Shehar ka shahr hua dakhil-e-zindan jaanan.

Ab tera zikr bhi shayad hi ghazal mein aaye,
Aur se aur hue dard ke unwan jaanan.

Hum ki ruthi hui rut ko bhi mana lete the,
Hum ne dekha hi na tha mausam-e-hijran jaanan.

Hosh aaya to sabhi khwab the reza reza,
Jaise udte hue auraq-e-pareshan jaanan. !!

अब के तजदीद-ए-वफ़ा का नहीं इम्काँ जानाँ,
याद क्या तुझ को दिलाएँ तेरा पैमाँ जानाँ !

यूँही मौसम की अदा देख के याद आया है,
किस क़दर जल्द बदल जाते हैं इंसाँ जानाँ !

ज़िंदगी तेरी अता थी सो तेरे नाम की है,
हम ने जैसे भी बसर की तेरा एहसाँ जानाँ !

दिल ये कहता है कि शायद है फ़सुर्दा तू भी,
दिल की क्या बात करें दिल तो है नादाँ जानाँ !

अव्वल अव्वल की मोहब्बत के नशे याद तो कर,
बे-पिए भी तेरा चेहरा था गुलिस्ताँ जानाँ !

आख़िर आख़िर तो ये आलम है कि अब होश नहीं,
रग-ए-मीना सुलग उट्ठी कि रग-ए-जाँ जानाँ !

मुद्दतों से यही आलम न तवक़्क़ो न उमीद,
दिल पुकारे ही चला जाता है जानाँ जानाँ !

हम भी क्या सादा थे हम ने भी समझ रक्खा था,
ग़म-ए-दौराँ से जुदा है ग़म-ए-जानाँ जानाँ !

अब के कुछ ऐसी सजी महफ़िल-ए-याराँ जानाँ,
सर-ब-ज़ानू है कोई सर-ब-गरेबाँ जानाँ !

हर कोई अपनी ही आवाज़ से काँप उठता है,
हर कोई अपने ही साए से हिरासाँ जानाँ !

जिस को देखो वही ज़ंजीर-ब-पा लगता है,
शहर का शहर हुआ दाख़िल-ए-ज़िंदाँ जानाँ !

अब तेरा ज़िक्र भी शायद ही ग़ज़ल में आए,
और से और हुए दर्द के उनवाँ जानाँ !

हम कि रूठी हुई रुत को भी मना लेते थे,
हम ने देखा ही न था मौसम-ए-हिज्राँ जानाँ !

होश आया तो सभी ख़्वाब थे रेज़ा रेज़ा,
जैसे उड़ते हुए औराक़-ए-परेशाँ जानाँ !!

 

Zulf-e-barham sambhaal kar chaliye..

Zulf-e-barham sambhaal kar chaliye,
Rasta dekh-bhaal kar chaliye.

Mausam-e-gul hai apni banhon ko,
Meri banhon mein dal kar chaliye.

Mai-kade mein na baithiye taham,
Kuchh tabiat bahaal kar chaliye.

Kuchh na denge to kya ziyan hoga,
Harj kya hai sawal kar chaliye.

Hai agar qatl-e-am ki niyyat,
Jism ki chhab nikal kar chaliye.

Kisi nazuk-badan se takra kar,
Koi kasb-e-kamal kar chaliye.

Ya dupatta na lijiye sar par,
Ya dupatta sambhaal kar chaliye.

Yar dozakh mein hain muqim “Adam”,
Khuld se intiqal kar chaliye. !!

ज़ुल्फ़-ए-बरहम सँभाल कर चलिए,
रास्ता देख-भाल कर चलिए !

मौसम-ए-गुल है अपनी बाँहों को,
मेरी बाँहों में डाल कर चलिए !

मय-कदे में न बैठिए ताहम,
कुछ तबीअत बहाल कर चलिए !

कुछ न देंगे तो क्या ज़ियाँ होगा,
हर्ज क्या है सवाल कर चलिए !

है अगर क़त्ल-ए-आम की निय्यत,
जिस्म की छब निकाल कर चलिए !

किसी नाज़ुक-बदन से टकरा कर,
कोई कस्ब-ए-कमाल कर चलिए !

या दुपट्टा न लीजिए सर पर,
या दुपट्टा सँभाल कर चलिए !

यार दोज़ख़ में हैं मुक़ीम “अदम”,
ख़ुल्द से इंतिक़ाल कर चलिए !!

 

Ye aur baat ki rang-e-bahaar kam hoga..

Ye aur baat ki rang-e-bahaar kam hoga,
Nayi ruton mein darakhton ka bar kam hoga.

Talluqat mein aayi hai bas ye tabdili,
Milenge ab bhi magar intezaar kam hoga.

Main sochta raha kal raat baith kar tanha,
Ki is hujum mein mera shumar kam hoga.

Palat to aayega shayad kabhi yahi mausam,
Tere baghair magar khush-gawar kam hoga.

Bahut tawil hai “Aanis” ye zindagi ka safar,
Bas ek shakhs pe dar-o-madar kam hoga. !!

ये और बात कि रंग-ए-बहार कम होगा,
नई रुतों में दरख़्तों का बार कम होगा !

तअल्लुक़ात में आई है बस ये तब्दीली,
मिलेंगे अब भी मगर इंतिज़ार कम होगा !

मैं सोचता रहा कल रात बैठ कर तन्हा,
कि इस हुजूम में मेरा शुमार कम होगा !

पलट तो आएगा शायद कभी यही मौसम,
तेरे बग़ैर मगर ख़ुश-गवार कम होगा !

बहुत तवील है “अनीस” ये ज़िंदगी का सफ़र,
बस एक शख़्स पे दार-ओ-मदार कम होगा !!

 

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya..

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya,
Wo juda hote hue kuchh phool basi de gaya.

Noch kar shakhon ke tan se khushk patton ka libas,
Zard mausam banjh-rut ko be-libasi de gaya.

Subh ke tare meri pahli dua tere liye,
Tu dil-e-be-sabr ko taskin zara si de gaya.

Log malbon mein dabe saye bhi dafnane lage,
Zalzala ahl-e-zamin ko bad-hawasi de gaya.

Tund jhonke ki ragon mein ghol kar apna dhuan,
Ek diya andhi hawa ko khud-shanasi de gaya.

Le gaya “Mohsin” wo mujh se abr banta aasman,
Us ke badle mein zamin sadiyon ki pyasi de gaya. !!

एक पल में ज़िंदगी भर की उदासी दे गया,
वो जुदा होते हुए कुछ फूल बासी दे गया !

नोच कर शाख़ों के तन से ख़ुश्क पत्तों का लिबास,
ज़र्द मौसम बाँझ-रुत को बे-लिबासी दे गया !

सुब्ह के तारे मेरी पहली दुआ तेरे लिए,
तू दिल-ए-बे-सब्र को तस्कीं ज़रा सी दे गया !

लोग मलबों में दबे साए भी दफ़नाने लगे,
ज़लज़ला अहल-ए-ज़मीं को बद-हवासी दे गया !

तुंद झोंके की रगों में घोल कर अपना धुआँ,
एक दिया अंधी हवा को ख़ुद-शनासी दे गया !

ले गया “मोहसिन” वो मुझ से अब्र बनता आसमाँ,
उस के बदले में ज़मीं सदियों की प्यासी दे गया !!

 

Ab ye sochun to bhanwar zehn mein pad jate hain..

Ab ye sochun to bhanwar zehn mein pad jate hain,
Kaise chehre hain jo milte hi bichhad jate hain.

Kyun tere dard ko den tohmat-e-virani-e-dil,
Zalzalon mein to bhare shehar ujad jate hain.

Mausam-e-zard mein ek dil ko bachaun kaise,
Aisi rut mein to ghane ped bhi jhad jate hain.

Ab koi kya mere qadmon ke nishan dhundega,
Tez aandhi mein to kheme bhi ukhad jate hain.

Shaghl-e-arbab-e-hunar puchhte kya ho ki ye log,
Pattharon mein bhi kabhi aaine jad jati hain.

Soch ka aaina dhundla ho to phir waqt ke sath,
Chand chehron ke khad-o-khyal bigad jate hain.

Shiddat-e-gham mein bhi zinda hun to hairat kaisi,
Kuchh diye tund hawaon se bhi lad jate hain.

Wo bhi kya log hain “Mohsin” jo wafa ki khatir,
Khud-tarashida usulon pe bhi ad jate hain. !!

अब ये सोचूँ तो भँवर ज़ेहन में पड़ जाते हैं,
कैसे चेहरे हैं जो मिलते ही बिछड़ जाते हैं !

क्यूँ तेरे दर्द को दें तोहमत-ए-वीरानी-ए-दिल,
ज़लज़लों में तो भरे शहर उजड़ जाते हैं !

मौसम-ए-ज़र्द में एक दिल को बचाऊँ कैसे,
ऐसी रुत में तो घने पेड़ भी झड़ जाते हैं !

अब कोई क्या मेरे क़दमों के निशाँ ढूँडेगा,
तेज़ आँधी में तो ख़ेमे भी उखड़ जाते हैं !

शग़्ल-ए-अर्बाब-ए-हुनर पूछते क्या हो कि ये लोग,
पत्थरों में भी कभी आइने जड़ जाती हैं !

सोच का आइना धुँदला हो तो फिर वक़्त के साथ,
चाँद चेहरों के ख़द-ओ-ख़ाल बिगड़ जाते हैं !

शिद्दत-ए-ग़म में भी ज़िंदा हूँ तो हैरत कैसी,
कुछ दिए तुंद हवाओं से भी लड़ जाते हैं !

वो भी क्या लोग हैं “मोहसिन” जो वफ़ा की ख़ातिर,
ख़ुद-तराशीदा उसूलों पे भी अड़ जाते हैं !!

 

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa..

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa,
Dil ka aalam hai tere baad khalaon jaisa.

Kash duniya mere ehsas ko wapas kar de,
Khamushi ka wahi andaz sadaon jaisa.

Pas rah kar bhi hamesha wo bahut dur mila,
Us ka andaz-e-taghaful tha khudaon jaisa.

Kitni shiddat se bahaaron ko tha ehsas-e-maal,
Phool khil kar bhi raha zard khizaon jaisa.

Kya qayamat hai ki duniya use sardar kahe,
Jis ka andaz-e-sukhan bhi ho gadaon jaisa.

Phir teri yaad ke mausam ne jagaye mahshar,
Phir mere dil mein utha shor hawaon jaisa.

Barha khwab mein pa kar mujhe pyasa “Mohsin”,
Us ki zulfon ne kiya raqs ghataon jaisa. !!

अब वो तूफ़ाँ है न वो शोर हवाओं जैसा,
दिल का आलम है तेरे बाद ख़लाओं जैसा !

काश दुनिया मेरे एहसास को वापस कर दे,
ख़ामुशी का वही अंदाज़ सदाओं जैसा !

पास रह कर भी हमेशा वो बहुत दूर मिला,
उस का अंदाज़-ए-तग़ाफ़ुल था ख़ुदाओं जैसा !

कितनी शिद्दत से बहारों को था एहसास-ए-मआल,
फूल खिल कर भी रहा ज़र्द ख़िज़ाओं जैसा !

क्या क़यामत है कि दुनिया उसे सरदार कहे,
जिस का अंदाज़-ए-सुख़न भी हो गदाओं जैसा !

फिर तेरी याद के मौसम ने जगाए महशर,
फिर मेरे दिल में उठा शोर हवाओं जैसा !

बारहा ख़्वाब में पा कर मुझे प्यासा “मोहसिन”,
उस की ज़ुल्फ़ों ने किया रक़्स घटाओं जैसा !!