Home / Poetry Types Manzil

Poetry Types Manzil

Aaye kuchh abr kuchh sharab aaye..

Aaye kuchh abr kuchh sharab aaye,
Is ke baad aaye jo azab aaye

Baam-e-mina se mahtab utre,
Dast-e-saqi mein aaftab aaye.

Har rag-e-khun mein phir charaghan ho,
Samne phir wo be-naqab aaye.

Umar ke har waraq pe dil ki nazar,
Teri mehr-o-wafa ke bab aaye.

Kar raha tha gham-e-jahan ka hisab,
Aaj tum yaad be-hisab aaye.

Na gayi tere gham ki sardari,
Dil mein yun roz inqalab aaye.

Jal uthe bazm-e-ghair ke dar-o-baam,
Jab bhi hum khanuman-kharab aaye.

Is tarah apni khamushi gunji,
Goya har samt se jawab aaye.

“Faiz” thi rah sar-ba-sar manzil,
Hum jahan pahunche kaamyab aaye. !!

आए कुछ अब्र कुछ शराब आए
इस के बाद आए जो अज़ाब आए !

बाम-ए-मीना से माहताब उतरे,
दस्त-ए-साक़ी में आफ़्ताब आए !

हर रग-ए-ख़ूँ में फिर चराग़ाँ हो,
सामने फिर वो बे-नक़ाब आए !

उम्र के हर वरक़ पे दिल की नज़र,
तेरी मेहर-ओ-वफ़ा के बाब आए !

कर रहा था ग़म-ए-जहाँ का हिसाब,
आज तुम याद बे-हिसाब आए !

न गई तेरे ग़म की सरदारी,
दिल में यूँ रोज़ इंक़लाब आए !

जल उठे बज़्म-ए-ग़ैर के दर-ओ-बाम,
जब भी हम ख़ानुमाँ-ख़राब आए !

इस तरह अपनी ख़ामुशी गूँजी,
गोया हर सम्त से जवाब आए !

“फ़ैज़” थी राह सर-ब-सर मंज़िल,
हम जहाँ पहुँचे कामयाब आए !!

 

Is se pahle ki bewafa ho jayen..

Is se pahle ki be-wafa ho jayen,
Kyun na aye dost hum juda ho jayen.

Tu bhi hire se ban gaya patthar,
Hum bhi kal jaane kya se kya ho jayen.

Tu ki yakta tha be-shumar hua,
Hum bhi tuten to ja-ba-ja ho jayen.

Hum bhi majburiyon ka uzr karen,
Phir kahin aur mubtala ho jayen.

Hum agar manzilen na ban paye,
Manzilon tak ka rasta ho jayen.

Der se soch mein hain parwane,
Rakh ho jayen ya hawa ho jayen.

Ishq bhi khel hai nasibon ka,
Khak ho jayen kimiya ho jayen.

Ab ke gar tu mile to hum tujh se,
Aise lipten teri qaba ho jayen.

Bandagi hum ne chhod di hai “Faraz”,
Kya karen log jab khuda ho jayen. !!

इस से पहले कि बे-वफ़ा हो जाएँ,
क्यूँ न ऐ दोस्त हम जुदा हो जाएँ !

तू भी हीरे से बन गया पत्थर,
हम भी कल जाने क्या से क्या हो जाएँ !

तू कि यकता था बे-शुमार हुआ,
हम भी टूटें तो जा-ब-जा हो जाएँ !

हम भी मजबूरियों का उज़्र करें,
फिर कहीं और मुब्तला हो जाएँ !

हम अगर मंज़िलें न बन पाए,
मंज़िलों तक का रास्ता हो जाएँ !

देर से सोच में हैं परवाने,
राख हो जाएँ या हवा हो जाएँ !

इश्क़ भी खेल है नसीबों का,
ख़ाक हो जाएँ कीमिया हो जाएँ !

अब के गर तू मिले तो हम तुझ से,
ऐसे लिपटें तेरी क़बा हो जाएँ !

बंदगी हम ने छोड़ दी है “फ़राज़”,
क्या करें लोग जब ख़ुदा हो जाएँ !!

 

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai..

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai,
Misal-e-rang wo jhonka nazar bhi aata hai.

Tamam shab jahan jalta hai ek udas diya,
Hawa ki rah mein ek aisa ghar bhi aata hai.

Wo mujh ko tut ke chahega chhod jayega,
Mujhe khabar thi use ye hunar bhi aata hai.

Ujad ban mein utarta hai ek jugnu bhi,
Hawa ke sath koi ham-safar bhi aata hai.

Wafa ki kaun si manzil pe us ne chhoda tha,
Ki wo to yaad hamein bhul kar bhi aata hai.

Jahan lahu ke samundar ki had thaharti hai,
Wahin jazira-e-lal-o-guhar bhi aata hai.

Chale jo zikr farishton ki parsai ka,
To zer-e-bahs maqam-e-bashar bhi aata hai.

Abhi sinan ko sambhaale rahen adu mere,
Ki un safon mein kahin mera sar bhi aata hai.

Kabhi-kabhi mujhe milne bulandiyon se koi,
Shua-e-subh ki surat utar bhi aata hai.

Isi liye main kisi shab na so saka “Mohsin”,
Wo mahtab kabhi baam par bhi aata hai. !!

तेरे बदन से जो छू कर इधर भी आता है,
मिसाल-ए-रंग वो झोंका नज़र भी आता है !

तमाम शब जहाँ जलता है एक उदास दिया,
हवा की राह में एक ऐसा घर भी आता है !

वो मुझ को टूट के चाहेगा छोड़ जाएगा,
मुझे ख़बर थी उसे ये हुनर भी आता है !

उजाड़ बन में उतरता है एक जुगनू भी,
हवा के साथ कोई हम-सफ़र भी आता है !

वफ़ा की कौन सी मंज़िल पे उस ने छोड़ा था,
कि वो तो याद हमें भूल कर भी आता है !

जहाँ लहू के समुंदर की हद ठहरती है,
वहीं जज़ीरा-ए-लाल-ओ-गुहर भी आता है !

चले जो ज़िक्र फ़रिश्तों की पारसाई का,
तो ज़ेर-ए-बहस मक़ाम-ए-बशर भी आता है !

अभी सिनाँ को सँभाले रहें अदू मेरे,
कि उन सफ़ों में कहीं मेरा सर भी आता है !

कभी-कभी मुझे मिलने बुलंदियों से कोई,
शुआ-ए-सुब्ह की सूरत उतर भी आता है !

इसी लिए मैं किसी शब न सो सका “मोहसिन”,
वो माहताब कभी बाम पर भी आता है !

 

Ki hai koi hasin khata har khata ke sath..

Ki hai koi hasin khata har khata ke sath,
Thoda sa pyar bhi mujhe de do saza ke sath.

Gar dubna hi apna muqaddar hai to suno,
Dubenge hum zaroor magar na-khuda ke sath.

Lau de uthe hawa ko bhi daaman to kya ghazab,
Yun hi chiraagh uljhate rahe gar hawa ke sath.

Manzil se woh bhi door tha aur hum bhi door the,
Hum ne bhi dhool udaayi bahut rahnuma ke sath.

Raqs-e-saba ke jashn mein hum tum bhi naachte,
Aye kash tum bhi aa gaye hote saba ke sath.

Ikkiswin sadi ki taraf hum chale to hain,
Fitne bhi jaag uthe hain aawaz-e-paa ke sath.

Aisa laga ghareebi ki rekha se hun buland,
Puchha kisi ne haal kuchh aisi adaa ke sath. !!

की है कोई हसीन ख़ता हर ख़ता के साथ,
थोड़ा सा प्यार भी मुझे दे दो सज़ा के साथ !

गर डूबना ही अपना मुक़द्दर है तो सुनो,
डूबेंगे हम ज़रूर मगर नाख़ुदा के साथ !

लौ दे उठे हवा को भी दामन तो क्या ग़ज़ब,
यूँ ही चिराग़ उलझते रहे गर हवा के साथ !

मंज़िल से वो भी दूर था और हम भी दूर थे,
हम ने भी धूल उड़ाई बहुत रहनुमा के साथ !

रक़्स-ए-सबा के जश्न में हम तुम भी नाचते,
ऐ काश तुम भी आ गए होते सबा के साथ !

इक्कीसवीं सदी की तरफ़ हम चले तो हैं,
फ़ित्ने भी जाग उट्ठे हैं आवाज़-ए-पा के साथ !

ऐसा लगा ग़रीबी की रेखा से हूँ बुलंद,
पूछा किसी ने हाल कुछ ऐसी अदा के साथ !!

 

Hairat se tak raha hai jahan-e-wafa mujhe..

Hairat se tak raha hai jahan-e-wafa mujhe,
Tum ne bana diya hai mohabbat mein kya mujhe.

Har manzil-e-hayat se gum kar gaya mujhe,
Mud mud ke raah mein wo tera dekhna mujhe.

Kaif-e-Khudi ne mauj ko kashti bana diya,
Hosh-e-khuda hai ab na gham-e-nakhuda mujhe.

Saqi bane huye hain wo “Saghar” shab-e-visal,
Is waqt koi meri kasam dekh ja mujhe. !!

हैरत से तक रहा है जहाँ-ए-वफ़ा मुझे,
तुम ने बना दिया है मोहब्बत में क्या मुझे !

हर मंजिल-ए-हयात से गुम कर गया मुझे,
मुड़ मुड़ के राह में वो तेरा देखना मुझे !

कैफ-ए-खुदी ने मौज को कश्ती बना दिया,
होश-ए-खुदा है अब न ग़म-ए-नाखुदा मुझे !

साक़ी बने हुए हैं वो “सागर” शब-ए-विसाल,
इस वक़्त कोई मेरी कसम देख जा मुझे !!

 

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye..

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye,
Tera hath hath mein aa gaya ki charagh rah mein jal gaye.

Wo lajaye mere sawal par ki utha sake na jhuka ke sar,
Udi zulf chehre pe is tarah ki shabon ke raaz machal gaye.

Wahi baat jo wo na kah sake mere sher-o-naghma mein aa gayi,
Wahi lab na main jinhen chhu saka qadah-e-sharab mein dhal gaye.

Wahi aastan hai wahi jabin wahi ashk hai wahi aastin,
Dil-e-zar tu bhi badal kahin ki jahan ke taur badal gaye.

Tujhe chashm-e-mast pata bhi hai ki shabab garmi-e-bazm hai,
Tujhe chashm-e-mast khabar bhi hai ki sab aabgine pighal gaye.

Mere kaam aa gayi aakhirash yahi kawishen yahi gardishen,
Badhin is qadar meri manzilen ki qadam ke khar nikal gaye. !!

मुझे सहल हो गईं मंज़िलें वो हवा के रुख़ भी बदल गए,
तेरा हाथ हाथ में आ गया कि चराग़ राह में जल गए !

वो लजाए मेरे सवाल पर कि उठा सके न झुका के सर,
उड़ी ज़ुल्फ़ चेहरे पे इस तरह कि शबों के राज़ मचल गए !

वही बात जो वो न कह सके मेरे शेर-ओ-नग़्मा में आ गई,
वही लब न मैं जिन्हें छू सका क़दह-ए-शराब में ढल गए !

वही आस्ताँ है वही जबीं वही अश्क है वही आस्तीं,
दिल-ए-ज़ार तू भी बदल कहीं कि जहाँ के तौर बदल गए !

तुझे चश्म-ए-मस्त पता भी है कि शबाब गर्मी-ए-बज़्म है,
तुझे चश्म-ए-मस्त ख़बर भी है कि सब आबगीने पिघल गए !

मेरे काम आ गईं आख़िरश यही काविशें यही गर्दिशें,
बढ़ीं इस क़दर मेरी मंज़िलें कि क़दम के ख़ार निकल गए !!

Hamare shauq ki ye intiha thi..

Hamare shauq ki ye intiha thi,
Qadam rakkha ki manzil rasta thi.

Bichhad ke Dar se ban ban phira wo,
Hiran ko apni kasturi saza thi.

Kabhi jo khwab tha wo pa liya hai,
Magar jo kho gayi wo chiz kya thi.

Main bachpan mein khilaune todta tha,
Mere anjam ki wo ibtida thi.

Mohabbat mar gayi mujh ko bhi gham hai,
Mere achchhe dinon ki aashna thi.

Jise chhu lun main wo ho jaye sona,
Tujhe dekha to jaana bad-dua thi.

Mariz-e-khwab ko to ab shifa hai,
Magar duniya badi kadwi dawa thi. !!

हमारे शौक़ की ये इंतिहा थी,
क़दम रखा कि मंज़िल रास्ता थी !

बिछड़ के डार से बन बन फिरा वो,
हिरन को अपनी कस्तूरी सज़ा थी !

कभी जो ख़्वाब था वो पा लिया है,
मगर जो खो गई वो चीज़ क्या थी !

मैं बचपन में खिलौने तोड़ता था,
मेरे अंजाम की वो इब्तिदा थी !

मोहब्बत मर गई मुझ को भी ग़म है,
मेरे अच्छे दिनों की आश्ना थी !

जिसे छू लूँ मैं वो हो जाए सोना,
तुझे देखा तो जाना बद-दुआ थी !

मरीज़-ए-ख़्वाब को तो अब शिफ़ा है,
मगर दुनिया बड़ी कड़वी दवा थी !!