Wednesday , April 8 2020

Poetry Types Khuda

Aisa Bana Diya Tujhe Qudrat Khuda Ki Hai..

Aisa bana diya tujhe qudrat khuda ki hai,
Kis husan ka hai husan ada kis ada ki hai.

Chashm-e-siyah-e-yaar se sazish haya ki hai,
Laila ke sath mein ye saheli bala ki hai.

Taswir kyun dikhayen tumhein naam kyun batayen,
Laye hain hum kahin se kisi bewafa ki hai.

Andaz mujh se aur hain dushman se aur dhang,
Pahchan mujh ko apni parai qaza ki hai.

Maghrur kyun hain aap jawani par is qadar,
Ye mere naam ki hai ye meri dua ki hai.

Dushman ke ghar se chal ke dikha do juda juda,
Ye bankpan ki chaal ye naz-o-ada ki hai.

Rah rah ke le rahi hai mere dil mein chutkiyan,
Phisli hui girah tere band-e-qaba ki hai.

Gardan mudi nigah ladi baat kuchh na ki,
Shokhi to khair aap ki tamkin bala ki hai.

Hoti hai roz baada-kashon ki dua qubul,
Aye mohtasib ye shan-e-karimi khuda ki hai.

Jitne gile the un ke wo sab dil se dhul gaye,
Jhepi hui nigah talafi jafa ki hai.

Chhupta hai khun bhi kahin mutthi to kholiye,
Rangat yahi hina ki yahi bu hina ki hai.

Kah do ki be-wazu na chhuye us ko mohtasib,
Botal mein band ruh kisi parsa ki hai.

Main imtihan de ke unhen kyun na mar gaya,
Ab ghair se bhi un ko tamanna wafa ki hai.

Dekho to ja ke hazrat-e-‘Bekhud’ na hun kahin,
Dawat sharab-khane mein ek parsa ki hai. !!

ऐसा बना दिया तुझे क़ुदरत ख़ुदा की है,
किस हुस्न का है हुस्न अदा किस अदा की है !

चश्म-ए-सियाह-ए-यार से साज़िश हया की है,
लैला के साथ में ये सहेली बला की है !

तस्वीर क्यूँ दिखाएँ तुम्हें नाम क्यूँ बताएँ,
लाए हैं हम कहीं से किसी बेवफ़ा की है !

अंदाज़ मुझ से और हैं दुश्मन से और ढंग,
पहचान मुझ को अपनी पराई क़ज़ा की है !

मग़रूर क्यूँ हैं आप जवानी पर इस क़दर,
ये मेरे नाम की है ये मेरी दुआ की है !

दुश्मन के घर से चल के दिखा दो जुदा जुदा,
ये बाँकपन की चाल ये नाज़-ओ-अदा की है !

रह रह के ले रही है मिरे दिल में चुटकियाँ,
फिसली हुई गिरह तिरे बंद-ए-क़बा की है !

गर्दन मुड़ी निगाह लड़ी बात कुछ न की,
शोख़ी तो ख़ैर आप की तम्कीं बला की है !

होती है रोज़ बादा-कशों की दुआ क़ुबूल,
ऐ मोहतसिब ये शान-ए-करीमी ख़ुदा की है !

जितने गिले थे उन के वो सब दिल से धुल गए,
झेपी हुई निगाह तलाफ़ी जफ़ा की है !

छुपता है ख़ून भी कहीं मुट्ठी तो खोलिए,
रंगत यही हिना की यही बू हिना की है !

कह दो कि बे-वज़ू न छुए उस को मोहतसिब,
बोतल में बंद रूह किसी पारसा की है !

मैं इम्तिहान दे के उन्हें क्यूँ न मर गया,
अब ग़ैर से भी उन को तमन्ना वफ़ा की है !

देखो तो जा के हज़रत-ए-‘बेख़ुद’ न हूँ कहीं,
दावत शराब-ख़ाने में इक पारसा की है !! -Bekhud Dehlvi Ghazal

 

Mohabbaton mein dikhawe ki dosti na mila..

Mohabbaton mein dikhawe ki dosti na mila

Mohabbaton mein dikhawe ki dosti na mila,
Agar gale nahin milta to haath bhi na mila.

Gharon pe naam the naamon ke saath ohde the,
Bahut talaash kiya koi aadmi na mila.

Tamaam rishton ko main ghar pe chhod aaya tha,
Phir us ke baad mujhe koi ajnabi na mila.

Khuda ki itni badi kayenat mein maine,
Bas ek shakhs ko manga mujhe wohi na mila.

Bahut ajib hai ye qurbaton ki duri bhi,
Wo mere saath raha aur mujhe kabhi na mila. !!

मोहब्बतों में दिखावे की दोस्ती न मिला,
अगर गले नहीं मिलता तो हाथ भी न मिला !

घरों पे नाम थे नामों के साथ ओहदे थे,
बहुत तलाश किया कोई आदमी न मिला !

तमाम रिश्तों को मैं घर में छोड़ आया था,
फिर इसके बाद मुझे कोई अजनबी न मिला !

ख़ुदा की इतनी बड़ी कायनात में मैंने,
बस एक शख़्स को मांगा मुझे वही न मिला !

बहुत अजीब है ये कुरबतों की दूरी भी,
वो मेरे साथ रहा और मुझे कभी न मिला !! -Bashir Badr Ghazal

 

Main Kab Kehta Hun Woh Accha Bahut Hai..

Main kab kehta hoon woh accha bahut hai

Main kab kehta hun woh accha bahut hai,
Magar usne mujhe chaha bahut hai.

Khuda is shehar ko mehfuz rakhe,
Ye bachchon ki tarah hansta bahut hai.

Main tujhse roz milna chahta hun,
Magar is raah mein khatra bahut hai.

Mera dil baarishon mein phool jaisa,
Ye bachcha raat mein rota bahut hai.

Isey aansoo ka ek qatra na smjho,
Kuaan hai aur ye gehra bahut hai.

Usey shohrat ne tanha kar diya hai,
Samandar hai magar pyasa bahut hai.

Main ek lamhe mein sadiyan dekhta hun,
Tumhare sath ek lamha bahut hai.

Mera hansna zaruri ho gya hai,
Yahan har shakhs sanjida bahut hai. !!

मै कब कहता हूँ वो अच्छा बहुत है,
मगर उसने मुझे चाहा बहुत है !

खुदा इस शहर को महफूज़ रखे,
ये बच्चों की तरह हँसता बहुत है !

मै तुझसे रोज़ मिलना चाहता हूँ,
मगर इस राह में खतरा बहुत है !

मेरा दिल बारिशों में फूल जैसा,
ये बच्चा रात में रोता बहुत है !

इसे आंसू का एक कतरा न समझो,
कुँआ है और ये गहरा बहुत है !

उसे शोहरत ने तनहा कर दिया है,
समंदर है मगर प्यासा बहुत है !

मै एक लम्हे में सदियाँ देखता हूँ,
तुम्हारे साथ एक लम्हा बहुत है !

मेरा हँसना ज़रूरी हो गया है,
यहाँ हर शख्स संजीदा बहुत है !! -Bashir Badr Ghazal

 

Aansuon Se Dhuli Khushi Ki Tarah..

Aansuon se dhuli khushi ki tarah,
Rishte hote hain shayari ki tarah.

Hum khuda ban ke aayenge warna,
Hum se mil jao aadmi ki tarah.

Barf seene ki jaise jaise gali,
Aankh khulti gayi kali ki tarah.

Jab kabhi badlon mein ghirta hai,
Chaand lagta hai aadmi ki tarah.

Kisi rozan kisi dariche se,
Samne aao roshni ki tarah.

Sab nazar ka fareb hai warna,
Koi hota nahi kisi ki tarah.

Khubsurat udaas Khaufzada,
Woh bhi hai biswin sadi ki tarah.

Janta hun ki ek din mujhko,
Wo badal dega diary ki tarah. !!

आंसुओं से धूलि ख़ुशी कि तरह,
रिश्ते होते है शायरी कि तरह !

हम खुदा बन के आयेंगे वरना,
हम से मिल जाओ आदमी कि तरह !

बर्फ सीने कि जैसे-जैसे गली,
आँख खुलती गयी कली कि तरह !

जब कभी बादलों में घिरता हैं,
चाँद लगता है आदमी कि तरह !

किसी रोज़ किसी दरीचे से,
सामने आओ रोशनी कि तरह !

सब नज़र का फरेब है वरना,
कोई होता नहीं किसी कि तरह !

ख़ूबसूरत उदास ख़ौफ़ज़दा,
वो भी है बीसवीं सदी कि तरह !

जानता हूँ कि एक दिन मुझको
वो बदल देगा डायरी की तरह !! -Bashir Badr Ghazal

 

Sar Jhukaoge To Patthar Devta Ho Jayega..

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega

 

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega,
Itna mat chaho use wo bewafa ho jayega.

Hum bhi dariya hain hamein apna hunar malum hai,
Jis taraf bhi chal padenge rasta ho jayega.

Kitni sachchai se mujh se zindagi ne kah diya,
Tu nahin mera to koi dusra ho jayega.

Main khuda ka naam lekar pi raha hun dosto,
Zahar bhi is mein agar hoga dawa ho jayega.

Sab usi ke hain hawa khushboo zamin-o-aasman,
Main jahan bhi jaunga us ko pata ho jayega. !!

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा,
इतना मत चाहो उसे वो बेवफ़ा हो जाएगा !

हम भी दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है,
जिस तरफ भी चल पड़ेंगे रास्ता हो जाएगा !

कितनी सच्चाई से मुझसे ज़िन्दगी ने कह दिया,
तू नहीं मेरा तो कोई दूसरा हो जाएगा !

मैं खुदा का नाम लेकर पी रहा हूं दोस्तों,
ज़हर भी इसमें अगर होगा दवा हो जाएगा !

सब उसी के हैं हवा ख़ुशबू ज़मीन-ओ-आसमां
मैं जहां भी जाऊंगा, उसको पता हो जाएगा !! -Bashir Badr Ghazal

 

Sirf Khanjar Hi Nahi Aankhon Mein Pani Chahiye

Sirf khanjar hi nahi aankhon mein pani chahiye,
Aye khuda dushman bhi mujhko khandani chahiye.

Shehar ki sari alif-lailayen budhi ho chukin,
Shahzade ko koi taza kahani chahiye.

Maine aye sooraj tujhe puja nahin samjha to hai,
Mere hisse mein bhi thodi dhup aani chahiye.

Meri qimat kaun de sakta hai is bazaar mein,
Tum zulekha ho tumhein qimat lagani chahiye.

Zindagi hai ek safar aur zindagi ki rah mein,
Zindagi bhi aaye to thokar lagani chahiye.

Maine apni khushk aankhon se lahu chhalka diya,
Ek samundar kah raha tha mujhko pani chahiye. !!

सिर्फ़ ख़ंजर ही नहीं आँखों में पानी चाहिए,
ऐ ख़ुदा दुश्मन भी मुझको ख़ानदानी चाहिए !

शहर की सारी अलिफ़-लैलाएँ बूढ़ी हो चुकीं,
शाहज़ादे को कोई ताज़ा कहानी चाहिए !

मैंने ऐ सूरज तुझे पूजा नहीं समझा तो है,
मेरे हिस्से में भी थोड़ी धूप आनी चाहिए !

मेरी क़ीमत कौन दे सकता है इस बाज़ार में,
तुम ज़ुलेख़ा हो तुम्हें क़ीमत लगानी चाहिए !

ज़िंदगी है एक सफ़र और ज़िंदगी की राह में,
ज़िंदगी भी आए तो ठोकर लगानी चाहिए !

मैंने अपनी ख़ुश्क आँखों से लहू छलका दिया,
एक समुंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए !! -Rahat Indori Ghazal

 

Karni Hai Khuda Se Guzarish Itni..

Karni Hai Khuda Se Guzarish Itni

Karni hai khuda se guzarish itni..
Tere pyar ke siva koi bandagi na mile,
Har janam me mile pyar tera..
Ya phir kabhi zindagi na mile.. !!

करनी है खुदा से गुज़ारिश इतनी..
तेरे प्यार के सिवा कोई बंदगी न मिले,
हर जन्म में मिले प्यार तेरा..
या फिर कभी जिंदगी न मिले.. !!