Home / Poetry Types Khauf

Poetry Types Khauf

Kitne hi ped khauf-e-khizan se ujad gaye..

Kitne hi ped khauf-e-khizan se ujad gaye,
Kuchh barg-e-sabz waqt se pahle hi jhad gaye.

Kuchh aadhiyan bhi apnī muavin safar mein thi,
Thak kar padav dala to kheme ukhad gaye.

Ab ke meri shikast mein un ka bhi haath hai,
Woh tir jo kaman ke panje mein gad gaye.

Suljhi thi gutthiyan meri danist mein magar,
Hasil ye hai ki zakhmon ke tanke ukhad gaye.

Nirwan kya bas ab to aman ki talash hai,
Tahzib phailne lagi jangal sukad gaye.

Is band ghar mein kaise kahun kya tilism hai,
Khole the jitne qufl woh honthon pe pad gaye.

Be-saltanat hui hain kayi unchi gardanen,
Bahar saron ke dast-e-tasallut se dhad gaye. !!

कितने ही पेड़ ख़ौफ़-ए-ख़िज़ाँ से उजड़ गए,
कुछ बर्ग-ए-सब्ज़ वक़्त से पहले ही झड़ गए !

कुछ आँधियाँ भी अपनी मुआविन सफ़र में थीं,
थक कर पड़ाव डाला तो ख़ेमे उखड़ गए !

अब के मेरी शिकस्त में उन का भी हाथ है,
वो तीर जो कमान के पंजे में गड़ गए !

सुलझी थीं गुत्थियाँ मेरी दानिस्त में मगर,
हासिल ये है कि ज़ख़्मों के टाँके उखड़ गए !

निरवान क्या बस अब तो अमाँ की तलाश है,
तहज़ीब फैलने लगी जंगल सुकड़ गए !

इस बंद घर में कैसे कहूँ क्या तिलिस्म है,
खोले थे जितने क़ुफ़्ल वो होंटों पे पड़ गए !

बे-सल्तनत हुई हैं कई ऊँची गर्दनें,
बाहर सरों के दस्त-ए-तसल्लुत से धड़ गए !!

 

Ajib khauf musallat tha kal haweli par..

Ajib khauf musallat tha kal haweli par,
Lahu charagh jalati rahi hatheli par.

Sunega kaun magar ehtijaj khushbu ka,
Ki sanp zahar chhidakta raha chameli par.

Shab-e-firaq meri aankh ko thakan se bacha,
Ki nind war na kar de teri saheli par.

Wo bewafa tha to phir itna mehrban kyun tha,
Bichhad ke us se main sochun usi paheli par.

Jala na ghar ka andhera charagh se “Mohsin”,
Sitam na kar meri jaan apne yar beli par. !!

अजीब ख़ौफ़ मुसल्लत था कल हवेली पर,
लहु चराग़ जलाती रही हथेली पर !

सुनेगा कौन मगर एहतिजाज ख़ुश्बू का,
कि साँप ज़हर छिड़कता रहा चमेली पर !

शब-ए-फ़िराक़ मेरी आँख को थकन से बचा,
कि नींद वार न कर दे तेरी सहेली पर !

वो बेवफ़ा था तो फिर इतना मेहरबाँ क्यूँ था,
बिछड़ के उस से मैं सोचूँ उसी पहेली पर !

जला न घर का अँधेरा चराग़ से “मोहसिन”,
सितम न कर मेरी जाँ अपने यार बेली पर !!

 

Be-khayali mein yunhi bas ek irada kar liya..

Be-khayali mein yunhi bas ek irada kar liya,
Apne dil ke shauq ko had se ziyada kar liya.

Jante the donon hum us ko nibha sakte nahi,
Usne wada kar liya maine bhi wada kar liya.

Ghair se nafrat jo pa li kharch khud par ho gayi,
Jitne hum the hum ne khud ko us se aadha kar liya.

Sham ke rangon mein rakh kar saf pani ka gilas,
Aab-e-sada ko harif-e-rang-e-baada kar liya.

Hijraton ka khauf tha ya pur-kashish kohna maqam,
Kya tha jis ko hum ne khud diwar-e-jada kar liya.

Ek aisa shakhs banta ja raha hun main “Munir”,
Jis ne khud par band husn-o jam-o-baada kar liya. !!

बे-ख़याली में यूँही बस इक इरादा कर लिया,
अपने दिल के शौक़ को हद से ज़ियादा कर लिया !

जानते थे दोनों हम उस को निभा सकते नहीं,
उसने वादा कर लिया मैंने भी वादा कर लिया !

ग़ैर से नफ़रत जो पा ली ख़र्च ख़ुद पर हो गई,
जितने हम थे हम ने ख़ुद को उस से आधा कर लिया !

शाम के रंगों में रख कर साफ़ पानी का गिलास,
आब-ए-सादा को हरीफ़-ए-रंग-ए-बादा कर लिया !

हिजरतों का ख़ौफ़ था या पुर-कशिश कोहना मक़ाम,
क्या था जिस को हम ने ख़ुद दीवार-ए-जादा कर लिया !

एक ऐसा शख़्स बनता जा रहा हूँ मैं “मुनीर”,
जिस ने ख़ुद पर बंद हुस्न-ओ-जाम-ओ-बादा कर लिया !!

Aa Gayi Yaad Sham Dhalte Hi..

Aa gayi yaad sham dhalte hi,
Bujh gaya dil charagh jalte hi.

Khul gaye shahr-e-gham ke darwaze,
Ek zara si hawa ke chalte hi.

Kaun tha tu ki phir na dekha tujhe,
Mit gaya khwab aankh malte hi.

Khauf aata hai apne hi ghar se,
Mah-e-shab-tab ke nikalte hi.

Tu bhi jaise badal sa jata hai,
Aks-e-diwar ke badalte hi.

Khoon sa lag gaya hai hathon mein,
Chadh gaya zahr gul masalte hi. !!

आ गई याद शाम ढलते ही,
बुझ गया दिल चराग़ जलते ही !

खुल गए शहर-ए-ग़म के दरवाज़े,
इक ज़रा सी हवा के चलते ही !

कौन था तू कि फिर न देखा तुझे,
मिट गया ख़्वाब आँख मलते ही !

ख़ौफ़ आता है अपने ही घर से,
माह-ए-शब-ताब के निकलते ही !

तू भी जैसे बदल सा जाता है,
अक्स-ए-दीवार के बदलते ही !

ख़ून सा लग गया है हाथों में,
चढ़ गया ज़हर गुल मसलते ही !!

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Gurabat गुरबत)

1.
Ghar ki diwar pe kauve nahi achche lagte,
Muflisi mein ye tamashe nahi achche lagte.

घर की दीवार पे कौवे नहीं अच्छे लगते,
मुफ़लिसी में ये तमाशे नहीं अच्छे लगते !

2.
Muflisi ne sare aangan mein andhera kar diya,
Bhai khali hath laute aur Behane bujh gayi.

मुफ़लिसी ने सारे आँगन में अँधेरा कर दिया,
भाई ख़ाली हाथ लौटे और बहनें बुझ गईं !

3.
Amiri resham-o-kamkhwab mein nangi nazar aayi,
Garibi shaan se ek taat ke parde mein rehati hai.

अमीरी रेशम-ओ-कमख़्वाब में नंगी नज़र आई,
ग़रीबी शान से इक टाट के पर्दे में रहती है !

4.
Isi gali mein wo bhukha kisan rahata hai,
Ye wo zameen hai jahan aasman rahata hai.

इसी गली में वो भूखा किसान रहता है,
ये वो ज़मीं है जहाँ आसमान रहता है !

5.
Dehleez pe sar khole khadi hogi jarurat,
Ab ase ghar mein jana munasib nahi hoga.

दहलीज़ पे सर खोले खड़ी होगी ज़रूरत,
अब ऐसे घर में जाना मुनासिब नहीं होगा !

6.
Eid ke khauf ne rozon ka maza chhin liya,
Muflisi mein ye mahina bhi bura lagta hai.

ईद के ख़ौफ़ ने रोज़ों का मज़ा छीन लिया,
मुफ़लिसी में ये महीना भी बुरा लगता है !

7.
Apne ghar mein sar jhukaye is liye aaya hun main,
Itani majduri to bachchon ki dua kha jayegi.

अपने घर में सर झुकाये इस लिए आया हूँ मैं,
इतनी मज़दूरी तो बच्चे की दुआ खा जायेगी !

8.
Allaah gareebon ka madadgar hai “Rana”,
Hum logon ke bachche kabhi sardi nahi khate.

अल्लाह ग़रीबों का मददगार है “राना”,
हम लोगों के बच्चे कभी सर्दी नहीं खाते !

9.
Bojh uthana shauk kahan hai majburi ka suda hai,
Rehate-rehate station par log kuli ho jate hain.

बोझ उठाना शौक़ कहाँ है मजबूरी का सौदा है,
रहते-रहते स्टेशन पर लोग कुली हो जाते हैं !

 

Khushi ka masla kya hai jo mujhse khauf khati hai..

Khushi ka masla kya hai jo mujhse khauf khati hai,
Ise jab bhi bulata hun ghamon ko saath lati hai.

Chiragon kab hawa ki dogli fitrat ko samjhoge,
Jalaati hai yahi tumko yahi tumko bujhaati hai.

Mirashim ke shzar ko badazani ka ghun laga jabse,
Koi patta bhi jab khichein to dali toot jati hai.

ख़ुशी का मसला क्या है जो मुझसे खौफ खाती है,
इसे जब भी बुलाता हूँ ग़मों को साथ लती है !

चिरागों कब हवा की दोगली फितरत को समझोगे,
जलाती है यही तुमको यही तुमको बुझाती है !

मिराशिम के शज़र को बदज़नी का घुन लगा जबसे,
कोई पत्ता भी जब खीचें तो डाली टूट जाती है !!

Sarakti jaye hai rukh se naqab aahista aahista..

Sarakti jaye hai rukh se naqab aahista aahista,
Nikalta aa raha hai aaftaab aahista aahista.

Jawan hone lage jab wo to hum se kar liya pardaa,
Haya yakalakht aayi aur shabaab aahista aahista.

Shab-e-furkat ka jaga hun farishton ab to sone do,
Kabhi fursat mein kar lena hisaab aahista aahista.

Sawal-e-wasl par unko udu ka Khauf hai itna,
Dabe honthon se dete hain jawaab aahista aahista.

Humare aur tumhare pyar mein bas fark hai itna,
Idhar toh jaldi jaldi hai udhar aahista aahista.

Wo bedardi se sar kaate “Ameer” aur main kahun unse,
Huzur aahista aahista, janaab aahista aahista. !!

सरकती जाए है रुख से नकाब आहिस्ता आहिस्ता,
निकलता आ रहा है आफताब आहिस्ता आहिस्ता !

जवान होने लगे जब वो तो हम से कर लिया पर्दा,
हया यकलख्त आई और शबाब आहिस्ता आहिस्ता !

शब्-इ-फुरक़त का जागा हूँ फरिश्तों अब तो सोने दो,
कभी फुर्सत में कर लेना हिसाब आहिस्ता आहिस्ता !

सवाल-ए-वस्ल पर उनको उदू का खौफ है इतना,
दबे होंठों से देते हैं जवाब आहिस्ता आहिस्ता !

हमारे और उम्हारे प्यार में बस फर्क है इतना,
इधर तो जल्दी जल्दी है उधर आहिस्ता आहिस्ता !

वो बेदर्दी से सर काटे “अमीर” और मैं कहूं उन से,
हुज़ूर आहिस्ता, आहिस्ता जनाब, आहिस्ता आहिस्ता !!