Home / Poetry Types Khak

Poetry Types Khak

Ab ke barish mein to ye kar-e-ziyan hona hi tha..

Ab ke barish mein to ye kar-e-ziyan hona hi tha,
Apni kachchi bastiyon ko be-nishan hona hi tha.

Kis ke bas mein tha hawa ki wahshaton ko rokna,
Barg-e-gul ko khak shoale ko dhuan hona hi tha.

Jab koi samt-e-safar tai thi na hadd-e-rahguzar,
Aye mere rah-rau safar to raegan hona hi tha.

Mujh ko rukna tha use jaana tha agle mod tak,
Faisla ye us ke mere darmiyan hona hi tha.

Chand ko chalna tha bahti sipiyon ke sath-sath,
Moajiza ye bhi tah-e-ab-e-rawan hona hi tha.

Main naye chehron pe kahta tha nayi ghazlein sada,
Meri is aadat se us ko bad-guman hona hi tha.

Shehar se bahar ki virani basana thi mujhe,
Apni tanhai pe kuchh to mehrban hona hi tha.

Apni aankhen dafn karna thi ghubar-e-khak mein,
Ye sitam bhi hum pe zer-e-asman hona hi tha.

Be-sada basti ki rasmein thi yahi “Mohsin” mere,
Main zaban rakhta tha mujh ko be-zaban hona hi tha. !!

अब के बारिश में तो ये कार-ए-ज़ियाँ होना ही था,
अपनी कच्ची बस्तियों को बे-निशाँ होना ही था !

किस के बस में था हवा की वहशतों को रोकना,
बर्ग-ए-गुल को ख़ाक शोले को धुआँ होना ही था !

जब कोई सम्त-ए-सफ़र तय थी न हद्द-ए-रहगुज़र,
ऐ मेरे रह-रौ सफ़र तो राएगाँ होना ही था !

मुझ को रुकना था उसे जाना था अगले मोड़ तक,
फ़ैसला ये उस के मेरे दरमियाँ होना ही था !

चाँद को चलना था बहती सीपियों के साथ-साथ,
मोजिज़ा ये भी तह-ए-आब-ए-रवाँ होना ही था !

मैं नए चेहरों पे कहता था नई ग़ज़लें सदा,
मेरी इस आदत से उस को बद-गुमाँ होना ही था !

शहर से बाहर की वीरानी बसाना थी मुझे,
अपनी तन्हाई पे कुछ तो मेहरबाँ होना ही था !

अपनी आँखें दफ़्न करना थीं ग़ुबार-ए-ख़ाक में,
ये सितम भी हम पे ज़ेर-ए-आसमाँ होना ही था !

बे-सदा बस्ती की रस्में थीं यही “मोहसिन” मेरे,
मैं ज़बाँ रखता था मुझ को बे-ज़बाँ होना ही था !!

 

Umar guzregi imtihan mein kya..

Umar guzregi imtihan mein kya,
Dagh hi denge mujhko dan mein kya.

Meri har baat be-asar hi rahi,
Naqs hai kuchh mere bayan mein kya.

Mujhko to koi tokta bhi nahi,
Yahi hota hai khandan mein kya.

Apni mahrumiyan chhupate hain,
Hum gharibon ki aan-ban mein kya.

Khud ko jana juda zamane se,
Aa gaya tha mere guman mein kya.

Sham hi se dukan-e-did hai band,
Nahi nuqsan tak dukaan mein kya.

Aye mere subh-o-sham-e-dil ki shafaq,
Tu nahati hai ab bhi ban mein kya.

Bolte kyun nahi mere haq mein,
Aable pad gaye zaban mein kya.

Khamoshi kah rahi hai kan mein kya,
Aa raha hai mere guman mein kya.

Dil ki aate hain jis ko dhyan bahut,
Khud bhi aata hai apne dhyan mein kya.

Wo mile to ye puchhna hai mujhe,
Ab bhi hun main teri aman mein kya.

Yun jo takta hai aasman ko tu,
Koi rahta hai aasman mein kya.

Hai nasim-e-bahaar gard-alud,
Khak udti hai us makan mein kya.

Ye mujhe chain kyun nahi padta,
Ek hi shakhs tha jahan mein kya. !!

उम्र गुज़रेगी इम्तिहान में क्या,
दाग़ ही देंगे मुझको दान में क्या !

मेरी हर बात बे-असर ही रही,
नक़्स है कुछ मेरे बयान में क्या !

मुझको तो कोई टोकता भी नहीं,
यही होता है ख़ानदान में क्या !

अपनी महरूमियाँ छुपाते हैं,
हम ग़रीबों की आन-बान में क्या !

ख़ुद को जाना जुदा ज़माने से,
आ गया था मेरे गुमान में क्या !

शाम ही से दुकान-ए-दीद है बंद,
नहीं नुक़सान तक दुकान में क्या !

ऐ मेरे सुब्ह-ओ-शाम-ए-दिल की शफ़क़,
तू नहाती है अब भी बान में क्या !

बोलते क्यूँ नहीं मेरे हक़ में,
आबले पड़ गए ज़बान में क्या !

ख़ामुशी कह रही है कान में क्या,
आ रहा है मेरे गुमान में क्या !

दिल कि आते हैं जिस को ध्यान बहुत,
ख़ुद भी आता है अपने ध्यान में क्या !

वो मिले तो ये पूछना है मुझे,
अब भी हूँ मैं तेरी अमान में क्या !

यूँ जो तकता है आसमान को तू,
कोई रहता है आसमान में क्या !

है नसीम-ए-बहार गर्द-आलूद,
ख़ाक उड़ती है उस मकान में क्या !

ये मुझे चैन क्यूँ नहीं पड़ता,
एक ही शख़्स था जहान में क्या !!

 

Intezamat naye sire se sambhale jayen..

Intezamat naye sire se sambhale jayen,
Jitane kamzarf hain mehfil se nikale jayen.

Mera ghar aag ki lapaton mein chupa hai lekin,
Jab maza hai tere angan mein ujale jayen.

Gham salamat hai to pite hi rahenge lekin,
Pehale maikhane ki halat sambhali jayen.

Khaali waqton mein kahin baith ke rolen yaron,
Fursaten hain to samandar hi khangale jayen.

Khak mein yun na mila zabt ki tauhin na kar,
Ye wo aansoo hain jo duniya ko baha le jayen.

Hum bhi pyase hain ye ehasas to ho saaqi ko,
Khaali shishe hi hawaon mein uchale jayen.

Aao shahr mein naye dost banayen “Rahat”,
Astinon mein chalo saanp hi paale jayen. !!

इन्तेज़ामात नए सिरे से संभाले जाएँ,
जितने कमजर्फ हैं महफ़िल से निकाले जाएँ !

मेरा घर आग की लपटों में छुपा हैं लेकिन,
जब मज़ा हैं तेरे आँगन में उजाला जाएँ !

गम सलामत हैं तो पीते ही रहेंगे लेकिन,
पहले मयखाने की हालात तो संभाली जाए !

खाली वक्तों में कहीं बैठ के रोलें यारों,
फुरसतें हैं तो समंदर ही खंगाले जाए !

खाक में यु ना मिला ज़ब्त की तौहीन ना कर,
ये वो आसूं हैं जो दुनिया को बहा ले जाएँ !

हम भी प्यासे हैं ये अहसास तो हो साकी को,
खाली शीशे ही हवाओं में उछाले जाए !

आओ शहर में नए दोस्त बनाएं “राहत”,
आस्तीनों में चलो साँप ही पाले जाए !!

 

Bimar ko maraz ki dawa deni chahiye..

Bimar ko maraz ki dawa deni chahiye,
Main pina chahta hun pila deni chahiye.

Allah barkaton se nawazega ishq mein,
Hai jitni punji pas laga deni chahiye.

Dil bhi kisi faqir ke hujre se kam nahi,
Duniya yahin pe la ke chhupa deni chahiye.

Main khud bhi karna chahta hun apna samna,
Tujh ko bhi ab naqab utha deni chahiye.

Main phool hun to phool ko gul-dan ho nasib,
Main aag hun to aag bujha deni chahiye.

Main taj hun to taj ko sar par sajayen log,
Main khak hun to khak uda deni chahiye.

Main jabr hun to jabr ki taid band ho,
Main sabr hun to mujh ko dua deni chahiye.

Main khwab hun to khwab se chaunkaiye mujhe,
Main nind hun to nind uda deni chahiye.

Sach baat kaun hai jo sar-e-am kah sake,
Main kah raha hun mujh ko saza deni chahiye. !!

बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए,
मैं पीना चाहता हूँ पिला देनी चाहिए !

अल्लाह बरकतों से नवाज़ेगा इश्क़ में,
है जितनी पूँजी पास लगा देनी चाहिए !

दिल भी किसी फ़क़ीर के हुजरे से कम नहीं,
दुनिया यहीं पे ला के छुपा देनी चाहिए !

मैं ख़ुद भी करना चाहता हूँ अपना सामना,
तुझ को भी अब नक़ाब उठा देनी चाहिए !

मैं फूल हूँ तो फूल को गुल-दान हो नसीब,
मैं आग हूँ तो आग बुझा देनी चाहिए !

मैं ताज हूँ तो ताज को सर पर सजाएँ लोग,
मैं ख़ाक हूँ तो ख़ाक उड़ा देनी चाहिए !

मैं जब्र हूँ तो जब्र की ताईद बंद हो,
मैं सब्र हूँ तो मुझ को दुआ देनी चाहिए !

मैं ख़्वाब हूँ तो ख़्वाब से चौंकाइए मुझे,
मैं नींद हूँ तो नींद उड़ा देनी चाहिए !

सच बात कौन है जो सर-ए-आम कह सके,
मैं कह रहा हूँ मुझ को सज़ा देनी चाहिए !!

 

Main to jhonka hun hawaon ka uda le jaunga..

Main to jhonka hun hawaon ka uda le jaunga,
Jagti rahna tujhe tujh se chura le jaunga.

Ho ke qadmon pe nichhawar phool ne but se kaha,
Khak mein mil kar bhi main khushbu bacha le jaunga.

Kaun si shai mujh ko pahunchayegi tere shahr tak,
Ye pata to tab chalega jab pata le jaunga.

Koshishen mujh ko mitane ki bhale hon kaamyab,
Mitte mitte bhi main mitne ka maza le jaunga.

Shohraten jin ki wajh se dost dushman ho gaye,
Sab yahin rah jayengi main sath kya le jaunga. !!

मैं तो झोंका हूँ हवाओं का उड़ा ले जाऊँगा,
जागती रहना तुझे तुझ से चुरा ले जाऊँगा !

हो के क़दमों पे निछावर फूल ने बुत से कहा,
ख़ाक में मिल कर भी मैं ख़ुशबू बचा ले जाऊँगा !

कौन सी शय मुझ को पहुँचाएगी तेरे शहर तक,
ये पता तो तब चलेगा जब पता ले जाऊँगा !

कोशिशें मुझ को मिटाने की भले हों कामयाब,
मिटते मिटते भी मैं मिटने का मज़ा ले जाऊँगा !

शोहरतें, जिन की वज्ह से दोस्त दुश्मन हो गए,
सब यहीं रह जाएँगी मैं साथ क्या ले जाऊँगा !!

Ishq ko be-naqab hona tha..

Ishq ko be-naqab hona tha,
Aap apna jawab hona tha.

Mast-e-jam-e-sharab hona tha,
Be-khud-e-iztirab hona tha.

Teri aankhon ka kuch qusur nahi,
Han mujhi ko kharab hona tha.

Aao mil jao muskura ke gale,
Ho chuka jo itab hona tha.

Kucha-e-ishq mein nikal aaya,
Jis ko khana-kharab hona tha.

Mast-e-jam-e-sharab khak hote,
Gharq-e-jam-e-sharab hona tha.

Dil ki jis par hain naqsh-e-ranga-rang,
Us ko sada kitab hona tha.

Hum ne nakaamiyon ko dhund liya,
Aakhirash kaamyab hona tha.

Haye wo lamha-e-sukun ki jise,
Mahshar-e-iztirab hona tha.

Nigah-e-yaar khud tadap uthti,
Shart-e-awwal kharab hona tha.

Kyun na hota sitam bhi be-payan,
Karam-e-be-hisab hona tha.

Kyun nazar hairaton mein dub gayi,
Mauj-e-sad-iztirab hona tha.

Ho chuka roz-e-awwali hi “Jigar”,
Jis ko jitna kharab hona tha. !!

इश्क़ को बे-नक़ाब होना था,
आप अपना जवाब होना था !

मस्त-ए-जाम-ए-शराब होना था,
बे-ख़ुद-ए-इज़्तिराब होना था !

तेरी आँखों का कुछ क़ुसूर नहीं,
हाँ मुझी को ख़राब होना था !

आओ मिल जाओ मुस्कुरा के गले,
हो चुका जो इताब होना था !

कूचा-ए-इश्क़ में निकल आया,
जिस को ख़ाना-ख़राब होना था !

मस्त-ए-जाम-ए-शराब ख़ाक होते,
ग़र्क़-ए-जाम-ए-शराब होना था !

दिल कि जिस पर हैं नक़्श-ए-रंगा-रंग,
उस को सादा किताब होना था !

हम ने नाकामियों को ढूँड लिया,
आख़िरश कामयाब होना था !

हाए वो लम्हा-ए-सुकूँ कि जिसे,
महशर-ए-इज़्तिराब होना था !

निगह-ए-यार ख़ुद तड़प उठती,
शर्त-ए-अव्वल ख़राब होना था !

क्यूँ न होता सितम भी बे-पायाँ,
करम-ए-बे-हिसाब होना था !

क्यूँ नज़र हैरतों में डूब गई,
मौज-ए-सद-इज़्तिराब होना था !

हो चुका रोज़-ए-अव्वली ही “जिगर”,
जिस को जितना ख़राब होना था !!

Ab to kuch aur bhi andhera hai..

Ab to kuch aur bhi andhera hai,
Ye meri raat ka sawera hai.

Rahzanon se to bhag nikla tha,
Ab mujhe rahbaron ne ghera hai.

Aage aage chalo tabar walo,
Abhi jangal bahut ghanera hai.

Qafila kis ki pairwi mein chale,
Kaun sab se bada lutera hai.

Sar pe rahi ke sarbarahi ne,
Kya safai ka hath phera hai.

Surma-alud khushk aansuon ne,
Nur-e-jaan khak par bikhera hai.

Rakh rakh ustukhwan safed safed,
Yahi manzil yahi basera hai.

Aye meri jaan apne ji ke siwa,
Kaun tera hai kaun mera hai.

So raho ab “Hafeez” ji tum bhi,
Ye nayi zindagi ka dera hai. !!

अब तो कुछ और भी अंधेरा है,
ये मेरी रात का सवेरा है !

रहज़नों से तो भाग निकला था,
अब मुझे रहबरों ने घेरा है !

आगे आगे चलो तबर वालो,
अभी जंगल बहुत घनेरा है !

क़ाफ़िला किस की पैरवी में चले,
कौन सब से बड़ा लुटेरा है !

सर पे राही के सरबराही ने,
क्या सफ़ाई का हाथ फेरा है !

सुरमा-आलूद ख़ुश्क आँसुओं ने,
नूर-ए-जाँ ख़ाक पर बिखेरा है !

राख राख उस्तुख़्वाँ सफ़ेद सफ़ेद,
यही मंज़िल यही बसेरा है !

ऐ मेरी जान अपने जी के सिवा,
कौन तेरा है कौन मेरा है !

सो रहो अब “हफ़ीज़” जी तुम भी,
ये नई ज़िंदगी का डेरा है !!