Saturday , February 29 2020
Home / Poetry Types Kaamyab

Poetry Types Kaamyab

Aaye kuchh abr kuchh sharab aaye..

Aaye kuchh abr kuchh sharab aaye,
Is ke baad aaye jo azab aaye

Baam-e-mina se mahtab utre,
Dast-e-saqi mein aaftab aaye.

Har rag-e-khun mein phir charaghan ho,
Samne phir wo be-naqab aaye.

Umar ke har waraq pe dil ki nazar,
Teri mehr-o-wafa ke bab aaye.

Kar raha tha gham-e-jahan ka hisab,
Aaj tum yaad be-hisab aaye.

Na gayi tere gham ki sardari,
Dil mein yun roz inqalab aaye.

Jal uthe bazm-e-ghair ke dar-o-baam,
Jab bhi hum khanuman-kharab aaye.

Is tarah apni khamushi gunji,
Goya har samt se jawab aaye.

“Faiz” thi rah sar-ba-sar manzil,
Hum jahan pahunche kaamyab aaye. !!

आए कुछ अब्र कुछ शराब आए
इस के बाद आए जो अज़ाब आए !

बाम-ए-मीना से माहताब उतरे,
दस्त-ए-साक़ी में आफ़्ताब आए !

हर रग-ए-ख़ूँ में फिर चराग़ाँ हो,
सामने फिर वो बे-नक़ाब आए !

उम्र के हर वरक़ पे दिल की नज़र,
तेरी मेहर-ओ-वफ़ा के बाब आए !

कर रहा था ग़म-ए-जहाँ का हिसाब,
आज तुम याद बे-हिसाब आए !

न गई तेरे ग़म की सरदारी,
दिल में यूँ रोज़ इंक़लाब आए !

जल उठे बज़्म-ए-ग़ैर के दर-ओ-बाम,
जब भी हम ख़ानुमाँ-ख़राब आए !

इस तरह अपनी ख़ामुशी गूँजी,
गोया हर सम्त से जवाब आए !

“फ़ैज़” थी राह सर-ब-सर मंज़िल,
हम जहाँ पहुँचे कामयाब आए !!

 

Main to jhonka hun hawaon ka uda le jaunga..

Main to jhonka hun hawaon ka uda le jaunga,
Jagti rahna tujhe tujh se chura le jaunga.

Ho ke qadmon pe nichhawar phool ne but se kaha,
Khak mein mil kar bhi main khushbu bacha le jaunga.

Kaun si shai mujh ko pahunchayegi tere shahr tak,
Ye pata to tab chalega jab pata le jaunga.

Koshishen mujh ko mitane ki bhale hon kaamyab,
Mitte mitte bhi main mitne ka maza le jaunga.

Shohraten jin ki wajh se dost dushman ho gaye,
Sab yahin rah jayengi main sath kya le jaunga. !!

मैं तो झोंका हूँ हवाओं का उड़ा ले जाऊँगा,
जागती रहना तुझे तुझ से चुरा ले जाऊँगा !

हो के क़दमों पे निछावर फूल ने बुत से कहा,
ख़ाक में मिल कर भी मैं ख़ुशबू बचा ले जाऊँगा !

कौन सी शय मुझ को पहुँचाएगी तेरे शहर तक,
ये पता तो तब चलेगा जब पता ले जाऊँगा !

कोशिशें मुझ को मिटाने की भले हों कामयाब,
मिटते मिटते भी मैं मिटने का मज़ा ले जाऊँगा !

शोहरतें, जिन की वज्ह से दोस्त दुश्मन हो गए,
सब यहीं रह जाएँगी मैं साथ क्या ले जाऊँगा !!

Ishq ko be-naqab hona tha..

Ishq ko be-naqab hona tha,
Aap apna jawab hona tha.

Mast-e-jam-e-sharab hona tha,
Be-khud-e-iztirab hona tha.

Teri aankhon ka kuch qusur nahi,
Han mujhi ko kharab hona tha.

Aao mil jao muskura ke gale,
Ho chuka jo itab hona tha.

Kucha-e-ishq mein nikal aaya,
Jis ko khana-kharab hona tha.

Mast-e-jam-e-sharab khak hote,
Gharq-e-jam-e-sharab hona tha.

Dil ki jis par hain naqsh-e-ranga-rang,
Us ko sada kitab hona tha.

Hum ne nakaamiyon ko dhund liya,
Aakhirash kaamyab hona tha.

Haye wo lamha-e-sukun ki jise,
Mahshar-e-iztirab hona tha.

Nigah-e-yaar khud tadap uthti,
Shart-e-awwal kharab hona tha.

Kyun na hota sitam bhi be-payan,
Karam-e-be-hisab hona tha.

Kyun nazar hairaton mein dub gayi,
Mauj-e-sad-iztirab hona tha.

Ho chuka roz-e-awwali hi “Jigar”,
Jis ko jitna kharab hona tha. !!

इश्क़ को बे-नक़ाब होना था,
आप अपना जवाब होना था !

मस्त-ए-जाम-ए-शराब होना था,
बे-ख़ुद-ए-इज़्तिराब होना था !

तेरी आँखों का कुछ क़ुसूर नहीं,
हाँ मुझी को ख़राब होना था !

आओ मिल जाओ मुस्कुरा के गले,
हो चुका जो इताब होना था !

कूचा-ए-इश्क़ में निकल आया,
जिस को ख़ाना-ख़राब होना था !

मस्त-ए-जाम-ए-शराब ख़ाक होते,
ग़र्क़-ए-जाम-ए-शराब होना था !

दिल कि जिस पर हैं नक़्श-ए-रंगा-रंग,
उस को सादा किताब होना था !

हम ने नाकामियों को ढूँड लिया,
आख़िरश कामयाब होना था !

हाए वो लम्हा-ए-सुकूँ कि जिसे,
महशर-ए-इज़्तिराब होना था !

निगह-ए-यार ख़ुद तड़प उठती,
शर्त-ए-अव्वल ख़राब होना था !

क्यूँ न होता सितम भी बे-पायाँ,
करम-ए-बे-हिसाब होना था !

क्यूँ नज़र हैरतों में डूब गई,
मौज-ए-सद-इज़्तिराब होना था !

हो चुका रोज़-ए-अव्वली ही “जिगर”,
जिस को जितना ख़राब होना था !!