Wednesday , February 26 2020
Home / Poetry Types Ishq

Poetry Types Ishq

Bewafa Two Lines Shayari In Hindi

Bewafa Two Lines Shayari In Hindi

Ek hi khawab ne sari raat jagaya hai,
Maine har karvat sone ki koshish ki.
एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है,
मैंने हर करवट सोने की कोशिश की !
– गुलज़ार

Raat bajati thi dur shahnai,
Roya pikar bahut sharaab koi.
रात बजती थी दूर शहनाई,
रोया पीकर बहुत शराब कोई !
– जावेद अख़्तर

Aaj us ne hans ke yun pucha mizaj,
Umarbhar ke ranz-o-gham yaad aa gaye.
आज उस ने हंस के यूं पूछा मिज़ाज,
उम्र भर के रंज-ओ-ग़म याद आ गए !
– एहसान दानिश

Ab to kuch bhi yaad nahi hai,
Hum ne tum ko chaha hoga.
अब तो कुछ भी याद नहीं है,
हम ने तुम को चाहा होगा !
– मज़हर इमाम

Ishq mein kon bata skata hai,
Kis ne kis se sach bola hai.
इश्क़ में कौन बता सकता है,
किस ने किस से सच बोला है !
– अहमद मुश्ताक़

Aarzoo wasl ki rakhati hai pareshan kya-kya,
Kya batanun ki mere dil mein hai arman kya-kya.
आरज़ू वस्ल की रखती है परेशां क्या क्या,
क्या बताऊं कि मेरे दिल में है अरमां क्या क्या !
– अख़्तर शीरानी

Jaan-lewa thi khawahishen warna,
Wasl se intezaar achcha tha.
जान-लेवा थीं ख़्वाहिशें वर्ना,
वस्ल से इंतिज़ार अच्छा था !
– जौन एलिया

Aadtan tumne kar liye wade,
Aur aadtan humne aitbaar kar liya.
आदतन तुमने कर लिए वादे,
और आदतन हमनें ऐतबार कर लिया !
– गुलज़ार

Kuch to majburiyan rahi hongi,
Yun koi bewafa nahi hota.
कुछ तो मजबूरियां रही होंगी,
यूं कोई बेवफ़ा नहीं होता !
– बशीर बद्र

Kaam aa saki n apni wafayein to kya karein,
Us bewafa ko bhul n janyein to kya karein.
काम आ सकीं न अपनी वफ़ाएं तो क्या करें,
उस बेवफ़ा को भूल न जाएं तो क्या करें !
– अख़्तर शीरानी

Is kadar musalsal thi shiddtein judai ki,
Aaj pahli bar us se maine bewafai ki.
इस क़द्र मुसलसल थीं शिद्दतें जुदाई की,
आज पहली बार उस से मैंने बेवफ़ाई की !
– अहमद फ़राज़

Ajab chiraagh hun din-raat jalta rahta hun,
Main thak gaya hun hawa se kaho bujhaye mujhe.
अजब चराग़ हूं दिन-रात जलता रहता हूं,
मैं थक गया हूं हवा से कहो बुझाए मुझे !
– बशीर बद्र

Aakhiri bar aah kar li hai,
Maine khud se nibah kar li hai.
आख़िरी बार आह कर ली है,
मैं ने ख़ुद से निबाह कर ली है !
– जौन एलिया

 

Rog aise bhi gham-e-yaar se lag jate hain..

Rog aise bhi gham-e-yaar se lag jate hain,
Dar se uthte hain to diwar se lag jate hain.

Ishq aaghaz mein halki si khalish rakhta hai,
Baad mein saikdon aazar se lag jate hain.

Pahle pahle hawas ik-adh dukan kholti hai,
Phir to bazaar ke bazaar se lag jate hain.

Bebasi bhi kabhi qurbat ka sabab banti hai,
Ro na payen to gale yaar se lag jate hain.

Katranen gham ki jo galiyon mein udi phirti hain,
Ghar mein le aao to ambar se lag jate hain.

Dagh daman ke hon dil ke hon ki chehre ke “Faraz”,
Kuchh nishan umar ki raftar se lag jate hain. !!

रोग ऐसे भी ग़म-ए-यार से लग जाते हैं,
दर से उठते हैं तो दीवार से लग जाते हैं !

इश्क़ आग़ाज़ में हल्की सी ख़लिश रखता है,
बाद में सैकड़ों आज़ार से लग जाते हैं !

पहले पहले हवस एक-आध दुकाँ खोलती है,
फिर तो बाज़ार के बाज़ार से लग जाते हैं !

बेबसी भी कभी क़ुर्बत का सबब बनती है,
रो न पाएँ तो गले यार से लग जाते हैं !

कतरनें ग़म की जो गलियों में उड़ी फिरती हैं,
घर में ले आओ तो अम्बार से लग जाते हैं !

दाग़ दामन के हों दिल के हों कि चेहरे के “फ़राज़”,
कुछ निशाँ उम्र की रफ़्तार से लग जाते हैं !!

 

Is se pahle ki bewafa ho jayen..

Is se pahle ki be-wafa ho jayen,
Kyun na aye dost hum juda ho jayen.

Tu bhi hire se ban gaya patthar,
Hum bhi kal jaane kya se kya ho jayen.

Tu ki yakta tha be-shumar hua,
Hum bhi tuten to ja-ba-ja ho jayen.

Hum bhi majburiyon ka uzr karen,
Phir kahin aur mubtala ho jayen.

Hum agar manzilen na ban paye,
Manzilon tak ka rasta ho jayen.

Der se soch mein hain parwane,
Rakh ho jayen ya hawa ho jayen.

Ishq bhi khel hai nasibon ka,
Khak ho jayen kimiya ho jayen.

Ab ke gar tu mile to hum tujh se,
Aise lipten teri qaba ho jayen.

Bandagi hum ne chhod di hai “Faraz”,
Kya karen log jab khuda ho jayen. !!

इस से पहले कि बे-वफ़ा हो जाएँ,
क्यूँ न ऐ दोस्त हम जुदा हो जाएँ !

तू भी हीरे से बन गया पत्थर,
हम भी कल जाने क्या से क्या हो जाएँ !

तू कि यकता था बे-शुमार हुआ,
हम भी टूटें तो जा-ब-जा हो जाएँ !

हम भी मजबूरियों का उज़्र करें,
फिर कहीं और मुब्तला हो जाएँ !

हम अगर मंज़िलें न बन पाए,
मंज़िलों तक का रास्ता हो जाएँ !

देर से सोच में हैं परवाने,
राख हो जाएँ या हवा हो जाएँ !

इश्क़ भी खेल है नसीबों का,
ख़ाक हो जाएँ कीमिया हो जाएँ !

अब के गर तू मिले तो हम तुझ से,
ऐसे लिपटें तेरी क़बा हो जाएँ !

बंदगी हम ने छोड़ दी है “फ़राज़”,
क्या करें लोग जब ख़ुदा हो जाएँ !!

 

Aashiqi mein “Mir” jaise khwab mat dekha karo..

Aashiqi mein “Mir” jaise khwab mat dekha karo,
Bawle ho jaoge mahtab mat dekha karo.

Jasta jasta padh liya karna mazamin-e-wafa,
Par kitab-e-ishq ka har bab mat dekha karo.

Is tamashe mein ulat jati hain aksar kashtiyan,
Dubne walon ko zer-e-ab mat dekha karo.

Mai-kade mein kya takalluf mai-kashi mein kya hijab,
Bazm-e-saqi mein adab aadab mat dekha karo.

Hum se durweshon ke ghar aao to yaron ki tarah,
Har jagah khas-khana o barfab mat dekha karo.

Mange-tange ki qabayen der tak rahti nahi,
Yar logon ke laqab-alqab mat dekha karo.

Tishnagi mein lab bhigo lena bhi kafi hai “Faraz”,
Jaam mein sahba hai ya zahrab mat dekha karo. !!

आशिक़ी में “मीर” जैसे ख़्वाब मत देखा करो,
बावले हो जाओगे महताब मत देखा करो !

जस्ता जस्ता पढ़ लिया करना मज़ामीन-ए-वफ़ा,
पर किताब-ए-इश्क़ का हर बाब मत देखा करो !

इस तमाशे में उलट जाती हैं अक्सर कश्तियाँ,
डूबने वालों को ज़ेर-ए-आब मत देखा करो !

मय-कदे में क्या तकल्लुफ़ मय-कशी में क्या हिजाब,
बज़्म-ए-साक़ी में अदब आदाब मत देखा करो !

हम से दरवेशों के घर आओ तो यारों की तरह,
हर जगह ख़स-ख़ाना ओ बर्फ़ाब मत देखा करो !

माँगे-ताँगे की क़बाएँ देर तक रहती नहीं,
यार लोगों के लक़ब-अलक़ाब मत देखा करो !

तिश्नगी में लब भिगो लेना भी काफ़ी है “फ़राज़”,
जाम में सहबा है या ज़हराब मत देखा करो !!

 

Ab ke hum bichhde to shayad kabhi khwabon mein milen..

Ab ke hum bichhde to shayad kabhi khwabon mein milen,
Jis tarah sukhe hue phool kitabon mein milen

Dhundh ujde hue logon mein wafa ke moti,
Ye khazane tujhe mumkin hai kharabon mein milen,

Gham-e-duniya bhi gham-e-yar mein shamil kar lo,
Nashsha badhta hai sharaben jo sharabon mein milen.

Tu khuda hai na mera ishq farishton jaisa,
Donon insan hain to kyun itne hijabon mein milen.

Aaj hum dar pe khinche gaye jin baaton par,
Kya ajab kal wo zamane ko nisabon mein milen.

Ab na wo main na wo tu hai na wo mazi hai “faraz”,
Jaise do shakhs tamanna ke sarabon mein milen. !!

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें,
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें !

ढूँढ उजड़े हुए लोगों में वफ़ा के मोती,
ये ख़ज़ाने तुझे मुमकिन है ख़राबों में मिलें !

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो,
नश्शा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें !

तू ख़ुदा है न मेरा इश्क़ फ़रिश्तों जैसा,
दोनों इंसाँ हैं तो क्यूँ इतने हिजाबों में मिलें !

आज हम दार पे खींचे गए जिन बातों पर,
क्या अजब कल वो ज़माने को निसाबों में मिलें !

अब न वो मैं न वो तू है न वो माज़ी है “फ़राज़”,
जैसे दो शख़्स तमन्ना के सराबों में मिलें !!

 

Mai-kada tha chandni thi main na tha..

Mai-kada tha chandni thi main na tha,
Ek mujassam be-khudi thi main na tha.

Ishq jab dam todta tha tum na the,
Maut jab sar dhun rahi thi main na tha.

Tur par chheda tha jis ne aap ko,
Wo meri diwangi thi main na tha.

Wo hasin baitha tha jab mere qarib,
Lazzat-e-hum-sayegi thi main na tha.

Mai-kade ke mod par rukti hui,
Muddaton ki tishnagi thi main na tha.

Thi haqiqat kuchh meri to is qadar,
Us hasin ki dil-lagi thi main na tha.

Main aur us ghuncha-dahan ki aarzoo,
Aarzoo ki sadgi thi main na tha.

Jis ne mah-paron ke dil pighla diye,
Wo to meri shayari thi main na tha.

Gesuon ke saye mein aaram-kash,
Sar-barahna zindagi thi main na tha.

Dair o kaba mein “Adam” hairat-farosh,
Do-jahan ki bad-zani thi main na tha. !!

मय-कदा था चाँदनी थी मैं न था
एक मुजस्सम बे-ख़ुदी थी मैं न था !

इश्क़ जब दम तोड़ता था तुम न थे,
मौत जब सर धुन रही थी मैं न था !

तूर पर छेड़ा था जिस ने आप को,
वो मेरी दीवानगी थी मैं न था !

वो हसीं बैठा था जब मेरे क़रीब,
लज़्ज़त-हम-सायगी थी मैं न था !

मय-कदे के मोड़ पर रुकती हुई,
मुद्दतों की तिश्नगी थी मैं न था !

थी हक़ीक़त कुछ मेरी तो इस क़दर,
उस हसीं की दिल-लगी थी मैं न था !

मैं और उस ग़ुंचा-दहन की आरज़ू,
आरज़ू की सादगी थी मैं न था !

जिस ने मह-पारों के दिल पिघला दिए,
वो तो मेरी शाएरी थी मैं न था !

गेसुओं के साए में आराम-कश,
सर-बरहना ज़िंदगी थी मैं न था !

दैर ओ काबा में “अदम” हैरत-फ़रोश,
दो-जहाँ की बद-ज़नी थी मैं न था !!

 

Matlab muamalat ka kuchh pa gaya hun main..

Matlab muamalat ka kuchh pa gaya hun main,
Hans kar fareb-e-chashm-e-karam kha gaya hun main.

Bas inteha hai chhodiye bas rahne dijiye,
Khud apne etimad se sharma gaya hun main.

Saqi zara nigah mila kar to dekhna,
Kambakht hosh mein to nahi aa gaya hun main.

Shayad mujhe nikal ke pachhta rahe hon aap,
Mehfil mein is khayal se phir aa gaya hun main.

Kya ab hisab bhi tu mera lega hashr mein,
Kya ye itab kam hai yahan aa gaya hun main.

Main ishq hun mera bhala kya kaam dar se,
Wo shara thi jise wahan latka gaya hun main.

Nikla tha mai-kade se ki ab ghar chalun “Adam”,
Ghabra ke su-e-mai-kada phir aa gaya hun main. !!

मतलब मुआ’मलात का कुछ पा गया हूँ मैं,
हँस कर फ़रेब-ए-चश्म-ए-करम खा गया हूँ मैं !

बस इंतिहा है छोड़िए बस रहने दीजिए,
ख़ुद अपने एतिमाद से शर्मा गया हूँ मैं

साक़ी ज़रा निगाह मिला कर तो देखना,
कम्बख़्त होश में तो नहीं आ गया हूँ मैं !

शायद मुझे निकाल के पछता रहे हों आप,
महफ़िल में इस ख़याल से फिर आ गया हूँ मैं !

क्या अब हिसाब भी तू मेरा लेगा हश्र में,
क्या ये इताब कम है यहाँ आ गया हूँ मैं !

मैं इश्क़ हूँ मेरा भला क्या काम दार से,
वो शरअ थी जिसे वहाँ लटका गया हूँ मैं !

निकला था मय-कदे से कि अब घर चलूँ “अदम”,
घबरा के सू-ए-मय-कदा फिर आ गया हूँ मैं !!