Thursday , April 9 2020

Poetry Types Hawa

Ab Itni Sadgi Laen Kahan Se..

Ab itni sadgi laen kahan se,
Zamin ki khair mangen aasman se.

Agar chahen to wo diwar kar den,
Hamein ab kuch nahi kahna zaban se.

Sitara hi nahi jab sath deta,
To kashti kaam le kya baadban se.

Bhatakne se mile fursat to puchhen,
Pata manzil ka mir-e-karwan se.

Tawajjoh barq ki hasil rahi hai,
So hai aazad fikr-e-ashiyan se.

Hawa ko raaz-dan hum ne banaya,
Aur ab naraz khushbu ke bayan se.

Zaruri ho gayi hai dil ki zinat,
Makin pahchane jate hain makan se.

Fana-fil-ishq hona chahte the,
Magar fursat na thi kar-e-jahan se.

Wagarna fasl-e-gul ki qadr kya thi,
Badi hikmat hai wabasta khizan se.

Kisi ne baat ki thi hans ke shayad,
Zamane bhar se hain hum khud guman se.

Main ek ek tir pe khud dhaal banti,
Agar hota wo dushman ki kaman se.

Jo sabza dekh kar kheme lagayen,
Unhen taklif kyun pahunche khizan se.

Jo apne ped jalte chhod jayen,
Unhen kya haq ki ruthen baghban se. !!

अब इतनी सादगी लाएँ कहाँ से,
ज़मीं की ख़ैर माँगें आसमाँ से !

अगर चाहें तो वो दीवार कर दें,
हमें अब कुछ नहीं कहना ज़बाँ से !

सितारा ही नहीं जब साथ देता,
तो कश्ती काम ले क्या बादबाँ से !

भटकने से मिले फ़ुर्सत तो पूछें,
पता मंज़िल का मीर-ए-कारवाँ से !

तवज्जोह बर्क़ की हासिल रही है,
सो है आज़ाद फ़िक्र-ए-आशियाँ से !

हवा को राज़-दाँ हम ने बनाया,
और अब नाराज़ ख़ुशबू के बयाँ से !

ज़रूरी हो गई है दिल की ज़ीनत,
मकीं पहचाने जाते हैं मकाँ से !

फ़ना-फ़िल-इश्क़ होना चाहते थे,
मगर फ़ुर्सत न थी कार-ए-जहाँ से !

वगर्ना फ़स्ल-ए-गुल की क़द्र क्या थी,
बड़ी हिकमत है वाबस्ता ख़िज़ाँ से !

किसी ने बात की थी हँस के शायद,
ज़माने भर से हैं हम ख़ुद गुमाँ से !

मैं इक इक तीर पे ख़ुद ढाल बनती,
अगर होता वो दुश्मन की कमाँ से !

जो सब्ज़ा देख कर ख़ेमे लगाएँ,
उन्हें तकलीफ़ क्यूँ पहुँचे ख़िज़ाँ से !

जो अपने पेड़ जलते छोड़ जाएँ,
उन्हें क्या हक़ कि रूठें बाग़बाँ से !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Chalne Ka Hausla Nahi Rukna Muhaal Kar Diya..

Chalne ka hausla nahi rukna muhaal kar diya,
Ishq ke is safar ne to mujh ko nidhaal kar diya.

Aye meri gul-zamin tujhe chah thi ek kitab ki,
Ahl-e-kitab ne magar kya tera haal kar diya.

Milte hue dilon ke bich aur tha faisla koi,
Us ne magar bichhadte waqt aur sawal kar diya.

Ab ke hawa ke sath hai daman-e-yar muntazir,
Banu-e-shab ke hath mein rakhna sambhaal kar diya.

Mumkina faislon mein ek hijr ka faisla bhi tha,
Hum ne to ek baat ki us ne kamal kar diya.

Mere labon pe mohr thi par mere shisha-ru ne to,
Shahr ke shahr ko mera waqif-e-haal kar diya.

Chehra o naam ek sath aaj na yaad aa sake,
Waqt ne kis shabih ko khwab o khayal kar diya.

Muddaton baad us ne aaj mujh se koi gila kiya,
Mansab-e-dilbari pe kya mujh ko bahaal kar diya. !!

चलने का हौसला नहीं रुकना मुहाल कर दिया,
इश्क़ के इस सफ़र ने तो मुझ को निढाल कर दिया !

ऐ मेरी गुल-ज़मीं तुझे चाह थी एक किताब की,
अहल-ए-किताब ने मगर क्या तेरा हाल कर दिया !

मिलते हुए दिलों के बीच और था फ़ैसला कोई,
उस ने मगर बिछड़ते वक़्त और सवाल कर दिया !

अब के हवा के साथ है दामन-ए-यार मुंतज़िर,
बानू-ए-शब के हाथ में रखना सँभाल कर दिया !

मुमकिना फ़ैसलों में एक हिज्र का फ़ैसला भी था,
हम ने तो एक बात की उस ने कमाल कर दिया !

मेरे लबों पे मोहर थी पर मेरे शीशा-रू ने तो,
शहर के शहर को मेरा वाक़िफ़-ए-हाल कर दिया !

चेहरा ओ नाम एक साथ आज न याद आ सके,
वक़्त ने किस शबीह को ख़्वाब ओ ख़याल कर दिया !

मुद्दतों बाद उस ने आज मुझ से कोई गिला किया,
मंसब-ए-दिलबरी पे क्या मुझ को बहाल कर दिया !! -Parveen Shakir Ghazal

 

Wo to khushbu hai hawaon mein bikhar jayega..

Wo to khushbu hai hawaon mein bikhar jayega,
Masla phool ka hai phool kidhar jayega.

Hum to samjhe the ki ek zakhm hai bhar jayega,
Kya khabar thi ki rag-e-jaan mein utar jayega.

Wo hawaon ki tarah khana-ba-jaan phirta hai,
Ek jhonka hai jo aayega guzar jayega.

Wo jab aayega to phir us ki rifaqat ke liye,
Mausam-e-gul mere aangan mein thahar jayega.

Aakhirash wo bhi kahin ret pe baithi hogi,
Tera ye pyar bhi dariya hai utar jayega.

Mujh ko tahzib ke barzakh ka banaya waris,
Jurm ye bhi mere ajdad ke sar jayega. !!

वो तो ख़ुशबू है हवाओं में बिखर जाएगा,
मसअला फूल का है फूल किधर जाएगा !

हम तो समझे थे कि एक ज़ख़्म है भर जाएगा,
क्या ख़बर थी कि रग-ए-जाँ में उतर जाएगा !

वो हवाओं की तरह ख़ाना-ब-जाँ फिरता है,
एक झोंका है जो आएगा गुज़र जाएगा !

वो जब आएगा तो फिर उस की रिफ़ाक़त के लिए,
मौसम-ए-गुल मेरे आँगन में ठहर जाएगा !

आख़िरश वो भी कहीं रेत पे बैठी होगी,
तेरा ये प्यार भी दरिया है उतर जाएगा !

मुझ को तहज़ीब के बर्ज़ख़ का बनाया वारिस,
जुर्म ये भी मेरे अज्दाद के सर जाएगा !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Kuch To Hawa Bhi Sard Thi Kuch Tha Tera Khayal Bhi..

Kuch to hawa bhi sard thi kuch tha tera khayal bhi,
Dil ko khushi ke sath sath hota raha malal bhi.

Baat wo aadhi raat ki raat wo pure chaand ki,
Chaand bhi ain chait ka us pe tera jamal bhi.

Sab se nazar bacha ke wo mujh ko kuch aise dekhta,
Ek dafa to ruk gai gardish-e-mah-o-sal bhi.

Dil to chamak sakega kya phir bhi tarash ke dekh len,
Shisha-giran-e-shahr ke hath ka ye kamal bhi.

Us ko na pa sake the jab dil ka ajib haal tha,
Ab jo palat ke dekhiye baat thi kuch muhaal bhi.

Meri talab tha ek shakhs wo jo nahin mila to phir,
Hath dua se yun gira bhul gaya sawal bhi.

Us ki sukhan-taraaziyan mere liye bhi dhaal thi,
Us ki hansi mein chhup gaya apne ghamon ka haal bhi.

Gah qarib-e-shah-rag gah baid-e-wahm-o-khwab,
Us ki rafaqaton mein raat hijr bhi tha visal bhi.

Us ke hi bazuon mein aur us ko hi sochte rahe,
Jism ki khwahishon pe the ruh ke aur jal bhi.

Sham ki na-samajh hawa puch rahi hai ek pata,
Mauj-e-hawa-e-ku-e-yar kuch to mera khayal bhi. !!

कुछ तो हवा भी सर्द थी कुछ था तेरा ख़याल भी,
दिल को ख़ुशी के साथ साथ होता रहा मलाल भी !

बात वो आधी रात की रात वो पूरे चाँद की,
चाँद भी ऐन चैत का उस पे तेरा जमाल भी !

सब से नज़र बचा के वो मुझ को कुछ ऐसे देखता,
एक दफ़ा तो रुक गई गर्दिश-ए-माह-ओ-साल भी !

दिल तो चमक सकेगा क्या फिर भी तराश के देख लें,
शीशा-गिरान-ए-शहर के हाथ का ये कमाल भी !

उस को न पा सके थे जब दिल का अजीब हाल था,
अब जो पलट के देखिए बात थी कुछ मुहाल भी !

मेरी तलब था एक शख़्स वो जो नहीं मिला तो फिर,
हाथ दुआ से यूँ गिरा भूल गया सवाल भी !

उस की सुख़न-तराज़ियाँ मेरे लिए भी ढाल थीं,
उस की हँसी में छुप गया अपने ग़मों का हाल भी !

गाह क़रीब-ए-शाह-रग गाह बईद-ए-वहम-ओ-ख़्वाब,
उस की रफ़ाक़तों में रात हिज्र भी था विसाल भी !

उस के ही बाज़ुओं में और उस को ही सोचते रहे,
जिस्म की ख़्वाहिशों पे थे रूह के और जाल भी !

शाम की ना-समझ हवा पूछ रही है एक पता,
मौज-ए-हवा-ए-कू-ए-यार कुछ तो मिरा ख़याल भी !! -Parveen Shakir Ghazal

 

Aaj Ki Raat Bhi Guzri Hai Meri Kal Ki Tarah..

Aaj ki raat bhi guzri hai meri kal ki tarah,
Hath aaye na sitare tere aanchal ki tarah.

Hadsa koi to guzra hai yakinan yaro,
Ek sannata hai mujh mein kisi maqtal ki tarah.

Phir na nikla koi ghar se ki hawa phirti thi,
Sang hathon mein uthaye kisi pagal ki tarah.

Tu ki dariya hai magar meri tarah pyasa hai,
Main tere pas chala aaunga baadal ki tarah.

Raat jalti hui ek aisi chita hai jis par,
Teri yaaden hain sulagte hue sandal ki tarah.

Main hun ek khwab magar jagti aankhon ka “Amir“,
Aaj bhi log ganwa den na mujhe kal ki tarah. !!

आज की रात भी गुज़री है मेरी कल की तरह,
हाथ आए न सितारे तेरे आँचल की तरह !

हादसा कोई तो गुज़रा है यक़ीनन यारो,
एक सन्नाटा है मुझ में किसी मक़्तल की तरह !

फिर न निकला कोई घर से कि हवा फिरती थी,
संग हाथों में उठाए किसी पागल की तरह !

तू कि दरिया है मगर मेरी तरह प्यासा है,
मैं तेरे पास चला आऊँगा बादल की तरह !

रात जलती हुई एक ऐसी चिता है जिस पर,
तेरी यादें हैं सुलगते हुए संदल की तरह !

मैं हूँ एक ख़्वाब मगर जागती आँखों का “अमीर“,
आज भी लोग गँवा दें न मुझे कल की तरह !!

 

Mere Baare Mein Hawaaon Se Wo Kab Puchega..

Mere baare mein hawaaon se wo kab puchega,
Khaaq jab khaaq mein mil jayegi tab puchega.

Ghar basane mein ye khatra hai ki ghar ka malik,
Raat mein der se aane ka sabab puchega.

Apna gham sabko batana hai tamasha karna,
Haal-e-dil usko sunayenge wo jab puchega.

Jab bichadna bhi ho to hanste hue jana warna,
Har koi ruth jaane ka sabab puchega.

Hum ne lafzon ke jahan daam lage bech diya,
Shair puchega hamein ab na adab puchega. !!

मेरे बारे में हवाओं से वो कब पूछेगा,
खाक जब खाक में मिल जाऐगी तब पूछेगा !

घर बसाने में ये खतरा है कि घर का मालिक,
रात में देर से आने का सबब पूछेगा !

अपना गम सबको बताना है तमाशा करना,
हाल-ए-दिल उसको सुनाएँगे वो जब पूछेगा !

जब बिछडना भी तो हँसते हुए जाना वरना,
हर कोई रुठ जाने का सबब पूछेगा !

हमने लफजों के जहाँ दाम लगे बेच दिया,
शेर पूछेगा हमें अब न अदब पूछेगा !! -Bashir Badr Ghazal

 

Khushboo Ki Tarah Aaya Wo Tez Hawaon Mein..

Khushboo ki tarah aaya wo tez hawaon mein

 

Khushboo ki tarah aaya wo tez hawaon mein,
Manga tha jise hum ne din raat duaon mein.

Tum chhat pe nahi aaye main ghar se nahi nikla,
Ye chand bahut bhatka saawan ki ghataon mein.

Is shehar mein ek ladki bilkul hai ghazal jaisi,
Bijli si ghataon mein khushboo si Adaon mein.

Mausam ka ishaara hai khush rahne do bachchon ko,
Masoom mohabbat hai phoolon ki khataon mein.

Hum chand sitaron ki rahon ke musafir hain,
Hum raat chamakte hain tarik khalaon mein.

Bhagwan hi bhejenge chawal se bhari thaali,
Mazloom parindon ki masoom sabhaon mein.

Dada bade bhole the sab se yahi kahte the,
Kuchh zehar bhi hota hai angrezi dawaon mein. !!

खुशबू कि तरह आया वो तेज़ हवाओं में,
मांगा था जिसे हमने दिन रात दुआओं में !

तुम छत पे नहीं आये में घर से नहीं निकला,
ये चाँद बहुत भटका सावन कि घटाओं में !

इस शहर में एक लड़की बिलकुल है ग़ज़ल जैसी,
बिजली सी घटाओं में खुशबू सी अदाओं में !

मौसम का इशारा है खुश रहने दो बच्चों को,
मासूम मोहब्बत है फूलों कि खताओं में !

हम चाँद सितारों की राहों के मुसाफ़िर हैं,
हम रात चमकते हैं तारीक ख़लाओं में !

भगवान् ही भेजेंगे चावल से भरी थाली,
मज़लूम परिंदों कि मासूम सभाओं में !

दादा बड़े भोले थे सब से यही कहते थे
कुछ ज़हर भी होता है अंग्रेजी दवाओं में !! -Bashir Badr Ghazal