Home / Tag Archives: Hawa

Tag Archives: Hawa

Bura mat man itna hausla achchha nahi lagta..

Bura mat man itna hausla achchha nahi lagta,
Ye uthte baithte zikr-e-wafa achchha nahi lagta.

Jahan le jaana hai le jaye aa kar ek phere mein,
Ki har dam ka taqaza-e-hawa achchha nahi lagta.

Samajh mein kuchh nahi aata samundar jab bulata hai,
Kisi sahil ka koi mashwara achchha nahi lagta.

Jo hona hai so donon jaante hain phir shikayat kya,
Ye be-masraf khaton ka silsila achchha nahi lagta.

Ab aise hone ko baaten to aisi roz hoti hain,
Koi jo dusra bole zara achchha nahi lagta.

Hamesha hans nahi sakte ye to hum bhi samajhte hain,
Har ek mahfil mein munh latka hua achchha nahi lagta. !!

बुरा मत मान इतना हौसला अच्छा नहीं लगता,
ये उठते बैठते ज़िक्र-ए-वफ़ा अच्छा नहीं लगता !

जहाँ ले जाना है ले जाए आ कर एक फेरे में,
कि हर दम का तक़ाज़ा-ए-हवा अच्छा नहीं लगता !

समझ में कुछ नहीं आता समुंदर जब बुलाता है,
किसी साहिल का कोई मशवरा अच्छा नहीं लगता !

जो होना है सो दोनों जानते हैं फिर शिकायत क्या,
ये बे-मसरफ़ ख़तों का सिलसिला अच्छा नहीं लगता !

अब ऐसे होने को बातें तो ऐसी रोज़ होती हैं,
कोई जो दूसरा बोले ज़रा अच्छा नहीं लगता !

हमेशा हँस नहीं सकते ये तो हम भी समझते हैं,
हर एक महफ़िल में मुँह लटका हुआ अच्छा नहीं लगता !!

 

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the..

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the,
Safine yun bhi kinare pe kab lagane the.

Khayal aata hai rah-rah ke laut jaane ka,
Safar se pahle humein apne ghar jalane the.

Guman tha ki samajh lenge mausamon ka mizaj,
Khuli jo aankh to zad pe sabhi thikane the.

Humein bhi aaj hi karna tha intezaar us ka,
Use bhi aaj hi sab wade bhul jaane the.

Talash jin ko hamesha buzurg karte rahe,
Na jaane kaun si duniya mein wo khazane the.

Chalan tha sab ke ghamon mein sharik rahne ka,
Ajib din the ajab sar-phire zamane the. !!

हवाएँ तेज़ थीं ये तो फ़क़त बहाने थे,
सफ़ीने यूँ भी किनारे पे कब लगाने थे !

ख़याल आता है रह-रह के लौट जाने का,
सफ़र से पहले हमें अपने घर जलाने थे !

गुमान था कि समझ लेंगे मौसमों का मिज़ाज,
खुली जो आँख तो ज़द पे सभी ठिकाने थे !

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का,
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे !

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे !

चलन था सब के ग़मों में शरीक रहने का,
अजीब दिन थे अजब सर-फिरे ज़माने थे !!

 

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai..

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai,
Tumhari yaadon ke saath tanha safar kiya hai.

Suna hai us rut ko dekh kar tum bhi ro pade the,
Suna hai barish ne pattharon par asar kiya hai.

Salib ka bar bhi uthao tamam jiwan,
Ye lab-kushai ka jurm tum ne agar kiya hai.

Tumhein khabar thi haqiqaten talkh hain jabhi to,
Tumhari aankhon ne khwab ko mo’atabar kiya hai.

Ghutan badhi hai to phir usi ko sadayen di hain,
Ki jis hawa ne har ek shajar be-samar kiya hai.

Hai tere andar basi hui ek aur duniya,
Magar kabhi tu ne itna lamba safar kiya hai.

Mere hi dam se to raunaqen tere shehar mein thin,
Mere hi qadmon ne dasht ko rah-guzar kiya hai.

Tujhe khabar kya mere labon ki khamoshiyon ne,
Tere fasane ko kis qadar mukhtasar kiya hai.

Bahut si aankhon mein tirgi ghar bana chuki hai,
bahut si aankhon ne intezaar-e-sahar kiya hai. !!

मिलन की साअत को इस तरह से अमर किया है,
तुम्हारी यादों के साथ तन्हा सफ़र किया है !

सुना है उस रुत को देख कर तुम भी रो पड़े थे,
सुना है बारिश ने पत्थरों पर असर किया है !

सलीब का बार भी उठाओ तमाम जीवन,
ये लब-कुशाई का जुर्म तुम ने अगर किया है !

तुम्हें ख़बर थी हक़ीक़तें तल्ख़ हैं जभी तो,
तुम्हारी आँखों ने ख़्वाब को मोतबर किया है !

घुटन बढ़ी है तो फिर उसी को सदाएँ दी हैं,
कि जिस हवा ने हर इक शजर बे-समर किया है !

है तेरे अंदर बसी हुई एक और दुनिया,
मगर कभी तूने इतना लम्बा सफ़र किया है !

मेरे ही दम से तो रौनक़ें तेरे शहर में थीं,
मेरे ही क़दमों ने दश्त को रह-गुज़र किया है !

तुझे ख़बर क्या मेरे लबों की ख़मोशियों ने,
तेरे फ़साने को किस क़दर मुख़्तसर किया है !

बहुत सी आँखों में तीरगी घर बना चुकी है,
बहुत सी आँखों ने इंतज़ार-ए-सहर किया है !!

 

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai..

Tere badan se jo chhu kar idhar bhi aata hai,
Misal-e-rang wo jhonka nazar bhi aata hai.

Tamam shab jahan jalta hai ek udas diya,
Hawa ki rah mein ek aisa ghar bhi aata hai.

Wo mujh ko tut ke chahega chhod jayega,
Mujhe khabar thi use ye hunar bhi aata hai.

Ujad ban mein utarta hai ek jugnu bhi,
Hawa ke sath koi ham-safar bhi aata hai.

Wafa ki kaun si manzil pe us ne chhoda tha,
Ki wo to yaad hamein bhul kar bhi aata hai.

Jahan lahu ke samundar ki had thaharti hai,
Wahin jazira-e-lal-o-guhar bhi aata hai.

Chale jo zikr farishton ki parsai ka,
To zer-e-bahs maqam-e-bashar bhi aata hai.

Abhi sinan ko sambhaale rahen adu mere,
Ki un safon mein kahin mera sar bhi aata hai.

Kabhi-kabhi mujhe milne bulandiyon se koi,
Shua-e-subh ki surat utar bhi aata hai.

Isi liye main kisi shab na so saka “Mohsin”,
Wo mahtab kabhi baam par bhi aata hai. !!

तेरे बदन से जो छू कर इधर भी आता है,
मिसाल-ए-रंग वो झोंका नज़र भी आता है !

तमाम शब जहाँ जलता है एक उदास दिया,
हवा की राह में एक ऐसा घर भी आता है !

वो मुझ को टूट के चाहेगा छोड़ जाएगा,
मुझे ख़बर थी उसे ये हुनर भी आता है !

उजाड़ बन में उतरता है एक जुगनू भी,
हवा के साथ कोई हम-सफ़र भी आता है !

वफ़ा की कौन सी मंज़िल पे उस ने छोड़ा था,
कि वो तो याद हमें भूल कर भी आता है !

जहाँ लहू के समुंदर की हद ठहरती है,
वहीं जज़ीरा-ए-लाल-ओ-गुहर भी आता है !

चले जो ज़िक्र फ़रिश्तों की पारसाई का,
तो ज़ेर-ए-बहस मक़ाम-ए-बशर भी आता है !

अभी सिनाँ को सँभाले रहें अदू मेरे,
कि उन सफ़ों में कहीं मेरा सर भी आता है !

कभी-कभी मुझे मिलने बुलंदियों से कोई,
शुआ-ए-सुब्ह की सूरत उतर भी आता है !

इसी लिए मैं किसी शब न सो सका “मोहसिन”,
वो माहताब कभी बाम पर भी आता है !

 

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya..

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya,
Wo juda hote hue kuchh phool basi de gaya.

Noch kar shakhon ke tan se khushk patton ka libas,
Zard mausam banjh-rut ko be-libasi de gaya.

Subh ke tare meri pahli dua tere liye,
Tu dil-e-be-sabr ko taskin zara si de gaya.

Log malbon mein dabe saye bhi dafnane lage,
Zalzala ahl-e-zamin ko bad-hawasi de gaya.

Tund jhonke ki ragon mein ghol kar apna dhuan,
Ek diya andhi hawa ko khud-shanasi de gaya.

Le gaya “Mohsin” wo mujh se abr banta aasman,
Us ke badle mein zamin sadiyon ki pyasi de gaya. !!

एक पल में ज़िंदगी भर की उदासी दे गया,
वो जुदा होते हुए कुछ फूल बासी दे गया !

नोच कर शाख़ों के तन से ख़ुश्क पत्तों का लिबास,
ज़र्द मौसम बाँझ-रुत को बे-लिबासी दे गया !

सुब्ह के तारे मेरी पहली दुआ तेरे लिए,
तू दिल-ए-बे-सब्र को तस्कीं ज़रा सी दे गया !

लोग मलबों में दबे साए भी दफ़नाने लगे,
ज़लज़ला अहल-ए-ज़मीं को बद-हवासी दे गया !

तुंद झोंके की रगों में घोल कर अपना धुआँ,
एक दिया अंधी हवा को ख़ुद-शनासी दे गया !

ले गया “मोहसिन” वो मुझ से अब्र बनता आसमाँ,
उस के बदले में ज़मीं सदियों की प्यासी दे गया !!

 

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa..

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa,
Dil ka aalam hai tere baad khalaon jaisa.

Kash duniya mere ehsas ko wapas kar de,
Khamushi ka wahi andaz sadaon jaisa.

Pas rah kar bhi hamesha wo bahut dur mila,
Us ka andaz-e-taghaful tha khudaon jaisa.

Kitni shiddat se bahaaron ko tha ehsas-e-maal,
Phool khil kar bhi raha zard khizaon jaisa.

Kya qayamat hai ki duniya use sardar kahe,
Jis ka andaz-e-sukhan bhi ho gadaon jaisa.

Phir teri yaad ke mausam ne jagaye mahshar,
Phir mere dil mein utha shor hawaon jaisa.

Barha khwab mein pa kar mujhe pyasa “Mohsin”,
Us ki zulfon ne kiya raqs ghataon jaisa. !!

अब वो तूफ़ाँ है न वो शोर हवाओं जैसा,
दिल का आलम है तेरे बाद ख़लाओं जैसा !

काश दुनिया मेरे एहसास को वापस कर दे,
ख़ामुशी का वही अंदाज़ सदाओं जैसा !

पास रह कर भी हमेशा वो बहुत दूर मिला,
उस का अंदाज़-ए-तग़ाफ़ुल था ख़ुदाओं जैसा !

कितनी शिद्दत से बहारों को था एहसास-ए-मआल,
फूल खिल कर भी रहा ज़र्द ख़िज़ाओं जैसा !

क्या क़यामत है कि दुनिया उसे सरदार कहे,
जिस का अंदाज़-ए-सुख़न भी हो गदाओं जैसा !

फिर तेरी याद के मौसम ने जगाए महशर,
फिर मेरे दिल में उठा शोर हवाओं जैसा !

बारहा ख़्वाब में पा कर मुझे प्यासा “मोहसिन”,
उस की ज़ुल्फ़ों ने किया रक़्स घटाओं जैसा !!

 

Ujde hue logon se gurezan na hua kar..

Ujde hue logon se gurezan na hua kar,
Haalat ki qabron ke ye katbe bhi padha kar.

Kya jaaniye kyun tez hawa soch mein gum hai,
Khwabida parindon ko darakhton se uda kar.

Us shakhs ke tum se bhi marasim hain to honge,
Wo jhooth na bolega mere samne aa kar.

Har waqt ka hansna tujhe barbaad na kar de,
Tanhai ke lamhon mein kabhi ro bhi liya kar.

Wo aaj bhi sadiyon ki masafat pe khada hai,
Dhunda tha jise waqt ki diwar gira kar.

Aye dil tujhe dushman ki bhi pahchan kahan hai,
Tu halqa-e-yaran mein bhi mohtat raha kar.

Is shab ke muqaddar mein sahar hi nahi “Mohsin”,
Dekha hai kai bar charaghon ko bujha kar. !!

उजड़े हुए लोगों से गुरेज़ाँ न हुआ कर,
हालात की क़ब्रों के ये कतबे भी पढ़ा कर !

क्या जानिए क्यूँ तेज़ हवा सोच में गुम है,
ख़्वाबीदा परिंदों को दरख़्तों से उड़ा कर !

उस शख़्स के तुम से भी मरासिम हैं तो होंगे,
वो झूठ न बोलेगा मेरे सामने आ कर !

हर वक़्त का हँसना तुझे बर्बाद न कर दे,
तन्हाई के लम्हों में कभी रो भी लिया कर !

वो आज भी सदियों की मसाफ़त पे खड़ा है,
ढूँडा था जिसे वक़्त की दीवार गिरा कर !

ऐ दिल तुझे दुश्मन की भी पहचान कहाँ है,
तू हल्क़ा-ए-याराँ में भी मोहतात रहा कर !

इस शब के मुक़द्दर में सहर ही नहीं “मोहसिन”,
देखा है कई बार चराग़ों को बुझा कर !!