Home / Poetry Types Hath

Poetry Types Hath

Dost ban kar bhi nahi sath nibhane wala..

Dost ban kar bhi nahi sath nibhane wala,
Wahi andaz hai zalim ka zamane wala.

Ab use log samajhte hain giraftar mera,
Sakht nadim hai mujhe dam mein lane wala.

Subh-dam chhod gaya nikhat-e-gul ki surat,
Raat ko ghuncha-e-dil mein simat aane wala.

Kya kahen kitne marasim the humare us se,
Wo jo ek shakhs hai munh pher ke jaane wala.

Tere hote hue aa jati thi sari duniya,
Aaj tanha hun to koi nahi aane wala.

Muntazir kis ka hun tuti hui dahliz pe main,
Kaun aayega yahan kaun hai aane wala.

Kya khabar thi jo meri jaan mein ghula hai itna,
Hai wahi mujh ko sar-e-dar bhi lane wala.

Main ne dekha hai bahaaron mein chaman ko jalte,
Hai koi khwab ki tabir batane wala.

Tum takalluf ko bhi ikhlas samajhte ho “Faraz”,
Dost hota nahi har hath milane wala. !!

दोस्त बन कर भी नहीं साथ निभाने वाला,
वही अंदाज़ है ज़ालिम का ज़माने वाला !

अब उसे लोग समझते हैं गिरफ़्तार मेरा,
सख़्त नादिम है मुझे दाम में लाने वाला !

सुब्ह-दम छोड़ गया निकहत-ए-गुल की सूरत,
रात को ग़ुंचा-ए-दिल में सिमट आने वाला !

क्या कहें कितने मरासिम थे हमारे उस से,
वो जो एक शख़्स है मुँह फेर के जाने वाला !

तेरे होते हुए आ जाती थी सारी दुनिया,
आज तन्हा हूँ तो कोई नहीं आने वाला !

मुंतज़िर किस का हूँ टूटी हुई दहलीज़ पे मैं,
कौन आएगा यहाँ कौन है आने वाला !

क्या ख़बर थी जो मेरी जाँ में घुला है इतना,
है वही मुझ को सर-ए-दार भी लाने वाला !

मैं ने देखा है बहारों में चमन को जलते,
है कोई ख़्वाब की ताबीर बताने वाला !

तुम तकल्लुफ़ को भी इख़्लास समझते हो “फ़राज़”,
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला !!

 

Taklif mit gayi magar ehsas rah gaya..

Taklif mit gayi magar ehsas rah gaya,
Khush hun ki kuchh na kuchh to mere pas rah gaya.

Pal-bhar mein us ki shakl na aayi agar nazar,
Yak-dam ulajh ke rishta-e-anfas rah gaya.

Photo mein dil ki chot na tabdil ho saki,
Naqlen utar utar ke akkas rah gaya.

Wo jhuthe motiyon ki chamak par phisal gayi,
Main hath mein liye hue almas rah gaya.

Ek hum-safar ko kho ke ye haalat hui “Adam”,
Jangal mein jis tarah koi be-as rah gaya. !!

तकलीफ़ मिट गई मगर एहसास रह गया,
ख़ुश हूँ कि कुछ न कुछ तो मेरे पास रह गया !

पल-भर में उस की शक्ल न आई अगर नज़र,
यक-दम उलझ के रिश्ता-ए-अन्फ़ास रह गया !

फोटो में दिल की चोट न तब्दील हो सकी,
नक़लें उतार उतार के अक्कास रह गया !

वो झूठे मोतियों की चमक पर फिसल गई,
मैं हाथ में लिए हुए अल्मास रह गया !

एक हम-सफ़र को खो के ये हालत हुई “अदम”,
जंगल में जिस तरह कोई बे-आस रह गया !!

 

Hath khali hain tere shahr se jate-jate..

Hath khali hain tere shahr se jate jate,
Jaan hoti to meri jaan lutate jate.

Ab to har hath ka patthar hamein pahchanta hai,
Umar guzri hai tere shahr mein aate jate.

Ab ke mayus hua yaron ko rukhsat kar ke,
Ja rahe the to koi zakhm lagate jate.

Rengne ki bhi ijazat nahi hum ko warna,
Hum jidhar jate naye phool khilate jate.

Main to jalte hue sahraon ka ek patthar tha,
Tum to dariya the meri pyas bujhate jate.

Mujh ko rone ka saliqa bhi nahi hai shayad,
Log hanste hain mujhe dekh ke aate jate.

Hum se pahle bhi musafir kayi guzre honge,
Kam se kam rah ke patthar to hatate jate. !!

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते !

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते !

अब के मायूस हुआ यारों को रुख़्सत कर के,
जा रहे थे तो कोई ज़ख़्म लगाते जाते !

रेंगने की भी इजाज़त नहीं हम को वर्ना,
हम जिधर जाते नए फूल खिलाते जाते !

मैं तो जलते हुए सहराओं का एक पत्थर था,
तुम तो दरिया थे मेरी प्यास बुझाते जाते !

मुझ को रोने का सलीक़ा भी नहीं है शायद,
लोग हँसते हैं मुझे देख के आते जाते !

हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे,
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते !!

Aa Gayi Yaad Sham Dhalte Hi..

Aa gayi yaad sham dhalte hi,
Bujh gaya dil charagh jalte hi.

Khul gaye shahr-e-gham ke darwaze,
Ek zara si hawa ke chalte hi.

Kaun tha tu ki phir na dekha tujhe,
Mit gaya khwab aankh malte hi.

Khauf aata hai apne hi ghar se,
Mah-e-shab-tab ke nikalte hi.

Tu bhi jaise badal sa jata hai,
Aks-e-diwar ke badalte hi.

Khoon sa lag gaya hai hathon mein,
Chadh gaya zahr gul masalte hi. !!

आ गई याद शाम ढलते ही,
बुझ गया दिल चराग़ जलते ही !

खुल गए शहर-ए-ग़म के दरवाज़े,
इक ज़रा सी हवा के चलते ही !

कौन था तू कि फिर न देखा तुझे,
मिट गया ख़्वाब आँख मलते ही !

ख़ौफ़ आता है अपने ही घर से,
माह-ए-शब-ताब के निकलते ही !

तू भी जैसे बदल सा जाता है,
अक्स-ए-दीवार के बदलते ही !

ख़ून सा लग गया है हाथों में,
चढ़ गया ज़हर गुल मसलते ही !!

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bahan बहन)

1.
Kis din koi rishta meri Bahano ko milega,
Kab nind ka mausam meri aankhon ko milega.

किस दिन कोई रिश्ता मेरी बहनों को मिलेगा,
कब नींद का मौसम मेरी आँखों को मिलेगा !

2.
Meri gudiya-si Bahan ko khudkushi karni padi,
Kya khabar thi ki dost mera is kadar gir jayega.

मेरी गुड़िया-सी बहन को ख़ुद्कुशी करनी पड़ी,
क्या ख़बर थी दोस्त मेरा इस क़दर गिर जायेगा !

3.
Kisi bachche ki tarah phoot ke royi thi bahut,
Ajnabi hath mein wah apni kalaai dete.

किसी बच्चे की तरह फूट के रोई थी बहुत,
अजनबी हाथ में वह अपनी कलाई देते !

4.
Jab ye suna ki haar ke lauta hun jang se,
Raakhi zameen pe phenk ke Bahanein chali gayi.

जब यह सुना कि हार के लौटा हूँ जंग से,
राखी ज़मीं पे फेंक के बहनें चली गईं !

5.
Chahata hun ki tere hath bhi pile ho jaye,
Kya karun main koi rishta hi nahi aata hai.

चाहता हूँ कि तेरे हाथ भी पीले हो जायें,
क्या करूँ मैं कोई रिश्ता ही नहीं आता है !

6.
Har khushi byaaj pe laya hua dhan lagti hai,
Aur udasi mujhe munh boli Bahan lagti hai.

हर ख़ुशी ब्याज़ पे लाया हुआ धन लगती है,
और उदासी मुझे मुझे मुँह बोली बहन लगती है !

7.
Dhoop rishton ki nikal aayegi ye aas liye,
Ghar ki dehleez pe baithi rahi meri Bahanein.

धूप रिश्तों की निकल आयेगी ये आस लिए,
घर की दहलीज़ पे बैठी रहीं मेरी बहनें !

8.
Is liye baithi hai dehleez pe meri Bahanein,
Phal nahi chahate taaumar shazar mein rehana.

इस लिए बैठी हैं दहलीज़ पे मेरी बहनें,
फल नहीं चाहते ताउम्र शजर में रहना !

9.
Naummidi ne bhare ghar mein andhera kar diya,
Bhai khaali hath laute aur Bahanein bujh gayi.

नाउम्मीदी ने भरे घर में अँधेरा कर दिया,
भाई ख़ाली हाथ लौटे और बहनें बुझ गईं !

 

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye..

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye,
Tera hath hath mein aa gaya ki charagh rah mein jal gaye.

Wo lajaye mere sawal par ki utha sake na jhuka ke sar,
Udi zulf chehre pe is tarah ki shabon ke raaz machal gaye.

Wahi baat jo wo na kah sake mere sher-o-naghma mein aa gayi,
Wahi lab na main jinhen chhu saka qadah-e-sharab mein dhal gaye.

Wahi aastan hai wahi jabin wahi ashk hai wahi aastin,
Dil-e-zar tu bhi badal kahin ki jahan ke taur badal gaye.

Tujhe chashm-e-mast pata bhi hai ki shabab garmi-e-bazm hai,
Tujhe chashm-e-mast khabar bhi hai ki sab aabgine pighal gaye.

Mere kaam aa gayi aakhirash yahi kawishen yahi gardishen,
Badhin is qadar meri manzilen ki qadam ke khar nikal gaye. !!

मुझे सहल हो गईं मंज़िलें वो हवा के रुख़ भी बदल गए,
तेरा हाथ हाथ में आ गया कि चराग़ राह में जल गए !

वो लजाए मेरे सवाल पर कि उठा सके न झुका के सर,
उड़ी ज़ुल्फ़ चेहरे पे इस तरह कि शबों के राज़ मचल गए !

वही बात जो वो न कह सके मेरे शेर-ओ-नग़्मा में आ गई,
वही लब न मैं जिन्हें छू सका क़दह-ए-शराब में ढल गए !

वही आस्ताँ है वही जबीं वही अश्क है वही आस्तीं,
दिल-ए-ज़ार तू भी बदल कहीं कि जहाँ के तौर बदल गए !

तुझे चश्म-ए-मस्त पता भी है कि शबाब गर्मी-ए-बज़्म है,
तुझे चश्म-ए-मस्त ख़बर भी है कि सब आबगीने पिघल गए !

मेरे काम आ गईं आख़िरश यही काविशें यही गर्दिशें,
बढ़ीं इस क़दर मेरी मंज़िलें कि क़दम के ख़ार निकल गए !!

Do-chaar bar hum jo kabhi hans-hansa liye..

Do-chaar bar hum jo kabhi hans-hansa liye,
Sare jahan ne hath mein patthar utha liye.

Rahte hamare pas to ye tutate zarur,
Achchha kiya jo aapne sapne chura liye.

Chaha tha ek phool ne tadpen usi ke pas,
Hum ne khushi se pedon mein kante bichha liye.

Aankhon mein aaye ashk ne aankhon se ye kaha,
Ab roko ya girao hamein hum to aa liye.

Sukh jaise baadalon mein nahati hun bijliyan,
Dukh jaise bijliyon mein ye baadal naha liye.

Jab ho saki na baat to hum ne yahi kiya,
Apni ghazal ke sher kahin gunguna liye.

Ab bhi kisi daraaz mein mil jayenge tumhein,
Wo khat jo tum ko de na sake likh-likha liye. !!

दो-चार बार हम जो कभी हँस-हँसा लिए,
सारे जहाँ ने हाथ में पत्थर उठा लिए !

रहते हमारे पास तो ये टूटते ज़रूर,
अच्छा किया जो आपने सपने चुरा लिए !

चाहा था एक फूल ने तड़पें उसी के पास,
हम ने ख़ुशी से पेड़ों में काँटे बिछा लिए !

आँखों में आए अश्क ने आँखों से ये कहा,
अब रोको या गिराओ हमें हम तो आ लिए !

सुख जैसे बादलों में नहाती हूँ बिजलियाँ,
दुख जैसे बिजलियों में ये बादल नहा लिए !

जब हो सकी न बात तो हम ने यही किया,
अपनी ग़ज़ल के शेर कहीं गुनगुना लिए !

अब भी किसी दराज़ में मिल जाएँगे तुम्हें,
वो ख़त जो तुम को दे न सके लिख-लिखा लिए !!