Home / Poetry Types Ghar

Poetry Types Ghar

Rog aise bhi gham-e-yaar se lag jate hain..

Rog aise bhi gham-e-yaar se lag jate hain,
Dar se uthte hain to diwar se lag jate hain.

Ishq aaghaz mein halki si khalish rakhta hai,
Baad mein saikdon aazar se lag jate hain.

Pahle pahle hawas ik-adh dukan kholti hai,
Phir to bazaar ke bazaar se lag jate hain.

Bebasi bhi kabhi qurbat ka sabab banti hai,
Ro na payen to gale yaar se lag jate hain.

Katranen gham ki jo galiyon mein udi phirti hain,
Ghar mein le aao to ambar se lag jate hain.

Dagh daman ke hon dil ke hon ki chehre ke “Faraz”,
Kuchh nishan umar ki raftar se lag jate hain. !!

रोग ऐसे भी ग़म-ए-यार से लग जाते हैं,
दर से उठते हैं तो दीवार से लग जाते हैं !

इश्क़ आग़ाज़ में हल्की सी ख़लिश रखता है,
बाद में सैकड़ों आज़ार से लग जाते हैं !

पहले पहले हवस एक-आध दुकाँ खोलती है,
फिर तो बाज़ार के बाज़ार से लग जाते हैं !

बेबसी भी कभी क़ुर्बत का सबब बनती है,
रो न पाएँ तो गले यार से लग जाते हैं !

कतरनें ग़म की जो गलियों में उड़ी फिरती हैं,
घर में ले आओ तो अम्बार से लग जाते हैं !

दाग़ दामन के हों दिल के हों कि चेहरे के “फ़राज़”,
कुछ निशाँ उम्र की रफ़्तार से लग जाते हैं !!

 

Guftugu achchhi lagi zauq-e-nazar achchha laga..

Guftugu achchhi lagi zauq-e-nazar achchha laga,
Muddaton ke baad koi hum-safar achchha laga.

Dil ka dukh jaana to dil ka masala hai par humein,
Us ka hans dena humare haal par achchha laga.

Har tarah ki be-sar-o-samaniyon ke bawajud,
Aaj wo aaya to mujh ko apna ghar achchha laga.

Baghban gulchin ko chahe jo kahe hum ko to phool,
Shakh se badh kar kaf-e-dildar par achchha laga.

Koi maqtal mein na pahuncha kaun zalim tha jise,
Tegh-e-qatil se ziyada apna sar achchha laga.

Hum bhi qael hain wafa mein ustuwari ke magar,
Koi puchhe kaun kis ko umar bhar achchha laga.

Apni apni chahaten hain log ab jo bhi kahen,
Ek pari-paikar ko ek aashufta-sar achchha laga.

“Mir” ke manind aksar zist karta tha “Faraz”,
Tha to wo diwana sa shayaar magar achchha laga. !!

गुफ़्तुगू अच्छी लगी ज़ौक़-ए-नज़र अच्छा लगा,
मुद्दतों के बाद कोई हम-सफ़र अच्छा लगा !

दिल का दुख जाना तो दिल का मसअला है पर हमें,
उस का हँस देना हमारे हाल पर अच्छा लगा !

हर तरह की बे-सर-ओ-सामानियों के बावजूद,
आज वो आया तो मुझ को अपना घर अच्छा लगा !

बाग़बाँ गुलचीं को चाहे जो कहे हम को तो फूल,
शाख़ से बढ़ कर कफ़-ए-दिलदार पर अच्छा लगा !

कोई मक़्तल में न पहुँचा कौन ज़ालिम था जिसे,
तेग़-ए-क़ातिल से ज़ियादा अपना सर अच्छा लगा !

हम भी क़ाएल हैं वफ़ा में उस्तुवारी के मगर,
कोई पूछे कौन किस को उम्र भर अच्छा लगा !

अपनी अपनी चाहतें हैं लोग अब जो भी कहें,
एक परी-पैकर को एक आशुफ़्ता-सर अच्छा लगा !

“मीर” के मानिंद अक्सर ज़ीस्त करता था “फ़राज़”,
था तो वो दीवाना सा शायर मगर अच्छा लगा !!

 

Matlab muamalat ka kuchh pa gaya hun main..

Matlab muamalat ka kuchh pa gaya hun main,
Hans kar fareb-e-chashm-e-karam kha gaya hun main.

Bas inteha hai chhodiye bas rahne dijiye,
Khud apne etimad se sharma gaya hun main.

Saqi zara nigah mila kar to dekhna,
Kambakht hosh mein to nahi aa gaya hun main.

Shayad mujhe nikal ke pachhta rahe hon aap,
Mehfil mein is khayal se phir aa gaya hun main.

Kya ab hisab bhi tu mera lega hashr mein,
Kya ye itab kam hai yahan aa gaya hun main.

Main ishq hun mera bhala kya kaam dar se,
Wo shara thi jise wahan latka gaya hun main.

Nikla tha mai-kade se ki ab ghar chalun “Adam”,
Ghabra ke su-e-mai-kada phir aa gaya hun main. !!

मतलब मुआ’मलात का कुछ पा गया हूँ मैं,
हँस कर फ़रेब-ए-चश्म-ए-करम खा गया हूँ मैं !

बस इंतिहा है छोड़िए बस रहने दीजिए,
ख़ुद अपने एतिमाद से शर्मा गया हूँ मैं

साक़ी ज़रा निगाह मिला कर तो देखना,
कम्बख़्त होश में तो नहीं आ गया हूँ मैं !

शायद मुझे निकाल के पछता रहे हों आप,
महफ़िल में इस ख़याल से फिर आ गया हूँ मैं !

क्या अब हिसाब भी तू मेरा लेगा हश्र में,
क्या ये इताब कम है यहाँ आ गया हूँ मैं !

मैं इश्क़ हूँ मेरा भला क्या काम दार से,
वो शरअ थी जिसे वहाँ लटका गया हूँ मैं !

निकला था मय-कदे से कि अब घर चलूँ “अदम”,
घबरा के सू-ए-मय-कदा फिर आ गया हूँ मैं !!

 

Hans ke bola karo bulaya karo..

Hans ke bola karo bulaya karo,
Aap ka ghar hai aaya jaya karo.

Muskurahat hai husn ka zewar,
Muskurana na bhul jaya karo.

Had se badh kar hasin lagte ho,
Jhuthi kasmein zarur khaya karo.

Hukm karna bhi ek skhawat hai,
Humko khidmat koi bataya karo.

Baat karna bhi badshahat hai,
Baat karna na bhul jaya karo.

Taki duniya ki dil-kashi na ghate,
Nit-nae pairahan mein aaya karo.

Kitne sada-mizaj ho tum “Adam”,
Us gali mein bahut na jaya karo. !!

हंस के बोला करो बुलाया करो,
आप का घर है आया जाया करो !

मुस्कराहट है हुस्न का जेवर,
रूप बढ़ता है मुस्कुराया करो !

हद से बढ़ कर हसीन लगते हो,
झूठी कसमें जरूर खाया करो !

हुक्म करना भी एक सखावत है,
हमको खिदमत कोई बताया करो !

बात करना भी बादशाहत है,
बात करना न भूल जाया करो !

ताकि दुनिया की दिल-कशी न घटे,
नित-नए पैरहन में आया करो !

कितने सदा मिज़ाज हो तुम “अदम”,
उस गली में बहुत न जाया करो !!

 

Itna kyun sharmate hain..

Itna kyun sharmate hain,
Wade aakhir wade hain.

Likha likhaya dho dala,
Sare waraq phir sade hain.

Tujh ko bhi kyun yaad rakha,
Soch ke ab pachhtate hain.

Ret mahal do chaar bache,
Ye bhi girne wale hain.

Jayen kahin bhi tujh ko kya,
Shehar se tere jate hain.

Ghar ke andar jaane ke,
Aur kai darwaze hain.

Ungli pakad ke sath chale,
Daud mein hum se aage hain. !!

इतना क्यूँ शरमाते हैं,
वादे आख़िर वादे हैं !

लिखा लिखाया धो डाला,
सारे वरक़ फिर सादे हैं !

तुझ को भी क्यूँ याद रखा,
सोच के अब पछताते हैं !

रेत महल दो चार बचे,
ये भी गिरने वाले हैं !

जाएँ कहीं भी तुझ को क्या,
शहर से तेरे जाते हैं !

घर के अंदर जाने के,
और कई दरवाज़े हैं !

उँगली पकड़ के साथ चले,
दौड़ में हम से आगे हैं !!

 

Kis ki talash hai hamein kis ke asar mein hain..

Kis ki talash hai hamein kis ke asar mein hain,
Jab se chale hain ghar se musalsal safar mein hain.

Sare tamashe khatm hue log ja chuke,
Ek hum hi rah gaye jo fareb-e-sahar mein hain.

Aisi to koi khas khata bhi nahi hui,
Han ye samajh liya tha ki hum apne ghar mein hain.

Ab ke bahaar dekhiye kya naqsh chhod jaye,
Aasar baadalon ke na patte shajar mein hain.

Tujh se bichhadna koi naya hadsa nahi,
Aise hazaron kisse hamari khabar mein hain.

“Aashufta” sab guman dhara rah gaya yahan,
Kahte na the ki khamiyan tere hunar mein hain. !!

किस की तलाश है हमें किस के असर में हैं,
जब से चले हैं घर से मुसलसल सफ़र में हैं !

सारे तमाशे ख़त्म हुए लोग जा चुके,
एक हम ही रह गए जो फ़रेब-ए-सहर में हैं !

ऐसी तो कोई ख़ास ख़ता भी नहीं हुई,
हाँ ये समझ लिया था कि हम अपने घर में हैं !

अब के बहार देखिए क्या नक़्श छोड़ जाए,
आसार बादलों के न पत्ते शजर में हैं !

तुझ से बिछड़ना कोई नया हादसा नहीं,
ऐसे हज़ारों क़िस्से हमारी ख़बर में हैं !

“आशुफ़्ता” सब गुमान धरा रह गया यहाँ,
कहते न थे कि ख़ामियाँ तेरे हुनर में हैं !!

 

Aangan mein chhod aaye the jo ghaar dekh le..

Aangan mein chhod aaye the jo ghaar dekh le,
Kis haal mein hai in dinon ghar-bar dekh le.

Jab aa gaye hain shehar-e-tilismat ke qarib,
Kya chahti hai nargis-e-bimar dekh le.

Hansna-hansana chhute hue muddaten hui,
Bas thodi dur rah gayi diwar dekh le.

Arse se is dayar ki koi khabar nahi,
Mohlat mile to aaj ka akhbar dekh le.

Mushkil hai tera sath nibhana tamam umar,
Bikna hai na-guzir to bazaar dekh le.

Aashuftagi hamari yahan layi bar-bar,
Hai kya zarur tujh ko bhi har bar dekh le. !!

आँगन में छोड़ आए थे जो ग़ार देख लें,
किस हाल में है इन दिनों घर-बार देख लें !

जब आ गए हैं शहर-ए-तिलिस्मात के क़रीब,
क्या चाहती है नर्गिस-ए-बीमार देख लें !

हँसना-हँसाना छूटे हुए मुद्दतें हुईं,
बस थोड़ी दूर रह गई दीवार देख लें !

अर्से से इस दयार की कोई ख़बर नहीं,
मोहलत मिले तो आज का अख़बार देख लें !

मुश्किल है तेरा साथ निभाना तमाम उम्र,
बिकना है ना-गुज़ीर तो बाज़ार देख लें !

आशुफ़्तगी हमारी यहाँ लाई बार-बार,
है क्या ज़रूर तुझ को भी हर बार देख लें !!