Wednesday , April 8 2020

Poetry Types Ghar

Ab Bhala Chhod Ke Ghar Kya Karte..

Ab bhala chhod ke ghar kya karte,
Sham ke waqt safar kya karte.

Teri masrufiyaten jante hain,
Apne aane ki khabar kya karte.

Jab sitare hi nahi mil paye,
Le ke hum shams-o-qamar kya karte.

Wo musafir hi khuli dhup ka tha,
Saye phaila ke shajar kya karte.

Khak hi awwal o aakhir thahri,
Kar ke zarre ko guhar kya karte.

Rae pahle se bana li tu ne,
Dil mein ab hum tere ghar kya karte.

Ishq ne sare saliqe bakhshe,
Husn se kasb-e-hunar kya karte. !!

अब भला छोड़ के घर क्या करते,
शाम के वक़्त सफ़र क्या करते !

तेरी मसरूफ़ियतें जानते हैं,
अपने आने की ख़बर क्या करते !

जब सितारे ही नहीं मिल पाए,
ले के हम शम्स-ओ-क़मर क्या करते !

वो मुसाफ़िर ही खुली धूप का था,
साए फैला के शजर क्या करते !

ख़ाक ही अव्वल ओ आख़िर ठहरी,
कर के ज़र्रे को गुहर क्या करते !

राय पहले से बना ली तू ने,
दिल में अब हम तेरे घर क्या करते !

इश्क़ ने सारे सलीक़े बख़्शे,
हुस्न से कस्ब-ए-हुनर क्या करते !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Aaj Ki Raat Bhi Guzri Hai Meri Kal Ki Tarah..

Aaj ki raat bhi guzri hai meri kal ki tarah,
Hath aaye na sitare tere aanchal ki tarah.

Hadsa koi to guzra hai yakinan yaro,
Ek sannata hai mujh mein kisi maqtal ki tarah.

Phir na nikla koi ghar se ki hawa phirti thi,
Sang hathon mein uthaye kisi pagal ki tarah.

Tu ki dariya hai magar meri tarah pyasa hai,
Main tere pas chala aaunga baadal ki tarah.

Raat jalti hui ek aisi chita hai jis par,
Teri yaaden hain sulagte hue sandal ki tarah.

Main hun ek khwab magar jagti aankhon ka “Amir“,
Aaj bhi log ganwa den na mujhe kal ki tarah. !!

आज की रात भी गुज़री है मेरी कल की तरह,
हाथ आए न सितारे तेरे आँचल की तरह !

हादसा कोई तो गुज़रा है यक़ीनन यारो,
एक सन्नाटा है मुझ में किसी मक़्तल की तरह !

फिर न निकला कोई घर से कि हवा फिरती थी,
संग हाथों में उठाए किसी पागल की तरह !

तू कि दरिया है मगर मेरी तरह प्यासा है,
मैं तेरे पास चला आऊँगा बादल की तरह !

रात जलती हुई एक ऐसी चिता है जिस पर,
तेरी यादें हैं सुलगते हुए संदल की तरह !

मैं हूँ एक ख़्वाब मगर जागती आँखों का “अमीर“,
आज भी लोग गँवा दें न मुझे कल की तरह !!

 

Teri Duniya Mein Jine Se To Behtar Hai Ki Mar Jaayen..

Teri duniya mein jine se to behtar hai ki mar jaayen,
Wahi aansoo wahi aahein wahi gham hai jidhar jaayen.

Koi to aisa ghar hota jahan se pyar mil jata,
Wahi begane chehre hain jahan jaayen jidhar jaayen.

Are o aasman wale bata is mein bura kya hai,
Khushi ke chaar jhonke gar idhar se bhi guzar jaayen. !!

तेरी दुनिया में जीने से तो बेहतर है कि मर जाएँ,
वही आँसू वही आहें वही ग़म है जिधर जाएँ !

कोई तो ऐसा घर होता जहाँ से प्यार मिल जाता,
वही बेगाने चेहरे हैं जहाँ जाएँ जिधर जाएँ !

अरे ओ आसमाँ वाले बता इस में बुरा क्या है,
ख़ुशी के चार झोंके गर इधर से भी गुज़र जाएँ !!

Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Tumhari Raah Mein Mitti Ke Ghar Nahi Aate..

Tumhari raah mein mitti ke ghar nahi aate,
Is liye to tumhein hum nazar nahi aate.

Mohabbaton ke dinon ki yehi kharabi hai,
Ye ruth jayen to laut kar nahi aate.

Jinhen saliqa hai tehzib-e-gham samajhne ka,
Unhin ke rone mein aansoo nazar nahi aate.

Khushi ki aankh mein aansoo ki bhi jagah rakhna,
Bure zamane kabhi puchh kar nahi aate.

Bisat-e-ishq pe badhna kise nahi aata,
Ye aur baat ki bachne ke ghar nahi aate.

“Wasim” zehan banate hain to wahi akhabaar,
Jo le ke ek bhi achchhi khabar nahi aate. !!

तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते,
इसीलिए तुम्हे हम नज़र नहीं आते !

मोहब्बतो के दिनों की यही खराबी है,
ये रूठ जाएँ तो लौट कर नहीं आते !

जिन्हें सलीका है तहजीब-ए-गम समझाने का,
उन्ही के रोने में आंसू नज़र नहीं आते !

खुशी की आँख में आंसू की भी जगह रखना,
बुरे ज़माने कभी पूछ कर नहीं आते !

बिसात-ए-इश्क़ पे बढ़ना किसे नहीं आता,
यह और बात कि बचने के घर नहीं आते !

“वसीम” जहन बनाते हैं तो वही अख़बार,
जो ले के एक भी अच्छी ख़बर नहीं आते !! -Wasim Barelvi Ghazal

 

Mohabbaton mein dikhawe ki dosti na mila..

Mohabbaton mein dikhawe ki dosti na mila

Mohabbaton mein dikhawe ki dosti na mila,
Agar gale nahin milta to haath bhi na mila.

Gharon pe naam the naamon ke saath ohde the,
Bahut talaash kiya koi aadmi na mila.

Tamaam rishton ko main ghar pe chhod aaya tha,
Phir us ke baad mujhe koi ajnabi na mila.

Khuda ki itni badi kayenat mein maine,
Bas ek shakhs ko manga mujhe wohi na mila.

Bahut ajib hai ye qurbaton ki duri bhi,
Wo mere saath raha aur mujhe kabhi na mila. !!

मोहब्बतों में दिखावे की दोस्ती न मिला,
अगर गले नहीं मिलता तो हाथ भी न मिला !

घरों पे नाम थे नामों के साथ ओहदे थे,
बहुत तलाश किया कोई आदमी न मिला !

तमाम रिश्तों को मैं घर में छोड़ आया था,
फिर इसके बाद मुझे कोई अजनबी न मिला !

ख़ुदा की इतनी बड़ी कायनात में मैंने,
बस एक शख़्स को मांगा मुझे वही न मिला !

बहुत अजीब है ये कुरबतों की दूरी भी,
वो मेरे साथ रहा और मुझे कभी न मिला !! -Bashir Badr Ghazal

 

Mere Baare Mein Hawaaon Se Wo Kab Puchega..

Mere baare mein hawaaon se wo kab puchega,
Khaaq jab khaaq mein mil jayegi tab puchega.

Ghar basane mein ye khatra hai ki ghar ka malik,
Raat mein der se aane ka sabab puchega.

Apna gham sabko batana hai tamasha karna,
Haal-e-dil usko sunayenge wo jab puchega.

Jab bichadna bhi ho to hanste hue jana warna,
Har koi ruth jaane ka sabab puchega.

Hum ne lafzon ke jahan daam lage bech diya,
Shair puchega hamein ab na adab puchega. !!

मेरे बारे में हवाओं से वो कब पूछेगा,
खाक जब खाक में मिल जाऐगी तब पूछेगा !

घर बसाने में ये खतरा है कि घर का मालिक,
रात में देर से आने का सबब पूछेगा !

अपना गम सबको बताना है तमाशा करना,
हाल-ए-दिल उसको सुनाएँगे वो जब पूछेगा !

जब बिछडना भी तो हँसते हुए जाना वरना,
हर कोई रुठ जाने का सबब पूछेगा !

हमने लफजों के जहाँ दाम लगे बेच दिया,
शेर पूछेगा हमें अब न अदब पूछेगा !! -Bashir Badr Ghazal

 

Bahar Na Aao Ghar Mein Raho Tum Nashe Mein Ho..

Bahar na aao ghar mein raho tum nashe mein ho,
So jaao din ko raat karo tum nashe mein ho.

Dariya se ikhtelaaf ka anjaam soch lo,
Lehron ke saath saath baho tum nashe mein ho.

Behad shareef logon se kuch faasla rakho,
Pi lo magar kabhi na kaho tum nashe mein ho.

Kaghaz ka ye libas chiraghon ke shehar mein,
Zara sambhal sambhal ke chalo tum nashe mein ho.

Kya dosto ne tum ko pilayi hai raat bhar,
Ab dushmano ke saath raho tum nashe mein ho. !!

बाहर ना आओ घर में रहो तुम नशे में हो,
सो जाओ दिन को रात करो तुम नशे में हो !

दरिया से इख्तेलाफ़ का अंजाम सोच लो,
लहरों के साथ साथ बहो तुम नशे में हो !

बेहद शरीफ लोगो से कुछ फासला रखो,
पी लो मगर कभी ना कहो तुम नशे में हो !

कागज का ये लिबास चिरागों के शहर में,
जरा संभल संभल कर चलो तुम नशे में हो !

क्या दोस्तों ने तुम को पिलाई है रात भर,
अब दुश्मनों के साथ रहो तुम नशे में हो !! -Bashir Badr Ghazal