Home / Poetry Types Gham

Poetry Types Gham

Donon Jahan Teri Mohabbat Mein Haar Ke

Donon jahan teri mohabbat mein haar ke,
Wo ja raha hai koi shab-e-gham guzar ke.

Viran hai mai-kada khum-o-saghar udas hain,
Tum kya gaye ki ruth gaye din bahaar ke.

Ek fursat-e-gunah mili wo bhi chaar din,
Dekhe hain hum ne hausle parwardigar ke.

Duniya ne teri yaad se begana kar diya,
Tujh se bhi dil-fareb hain gham rozgar ke.

Bhule se muskura to diye the wo aaj “Faiz”,
Mat puchh walwale dil-e-na-karda-kar ke. !!

दोनों जहान तेरी मोहब्बत में हार के,
वो जा रहा है कोई शब-ए-ग़म गुज़ार के !

वीराँ है मय-कदा ख़ुम-ओ-साग़र उदास हैं,
तुम क्या गए कि रूठ गए दिन बहार के !

एक फ़ुर्सत-ए-गुनाह मिली वो भी चार दिन,
देखे हैं हम ने हौसले पर्वरदिगार के !

दुनिया ने तेरी याद से बेगाना कर दिया,
तुझ से भी दिल-फ़रेब हैं ग़म रोज़गार के !

भूले से मुस्कुरा तो दिए थे वो आज “फ़ैज़”,
मत पूछ वलवले दिल-ए-ना-कर्दा-कार के !!

 

Aaye kuchh abr kuchh sharab aaye..

Aaye kuchh abr kuchh sharab aaye,
Is ke baad aaye jo azab aaye

Baam-e-mina se mahtab utre,
Dast-e-saqi mein aaftab aaye.

Har rag-e-khun mein phir charaghan ho,
Samne phir wo be-naqab aaye.

Umar ke har waraq pe dil ki nazar,
Teri mehr-o-wafa ke bab aaye.

Kar raha tha gham-e-jahan ka hisab,
Aaj tum yaad be-hisab aaye.

Na gayi tere gham ki sardari,
Dil mein yun roz inqalab aaye.

Jal uthe bazm-e-ghair ke dar-o-baam,
Jab bhi hum khanuman-kharab aaye.

Is tarah apni khamushi gunji,
Goya har samt se jawab aaye.

“Faiz” thi rah sar-ba-sar manzil,
Hum jahan pahunche kaamyab aaye. !!

आए कुछ अब्र कुछ शराब आए
इस के बाद आए जो अज़ाब आए !

बाम-ए-मीना से माहताब उतरे,
दस्त-ए-साक़ी में आफ़्ताब आए !

हर रग-ए-ख़ूँ में फिर चराग़ाँ हो,
सामने फिर वो बे-नक़ाब आए !

उम्र के हर वरक़ पे दिल की नज़र,
तेरी मेहर-ओ-वफ़ा के बाब आए !

कर रहा था ग़म-ए-जहाँ का हिसाब,
आज तुम याद बे-हिसाब आए !

न गई तेरे ग़म की सरदारी,
दिल में यूँ रोज़ इंक़लाब आए !

जल उठे बज़्म-ए-ग़ैर के दर-ओ-बाम,
जब भी हम ख़ानुमाँ-ख़राब आए !

इस तरह अपनी ख़ामुशी गूँजी,
गोया हर सम्त से जवाब आए !

“फ़ैज़” थी राह सर-ब-सर मंज़िल,
हम जहाँ पहुँचे कामयाब आए !!

 

Rog aise bhi gham-e-yaar se lag jate hain..

Rog aise bhi gham-e-yaar se lag jate hain,
Dar se uthte hain to diwar se lag jate hain.

Ishq aaghaz mein halki si khalish rakhta hai,
Baad mein saikdon aazar se lag jate hain.

Pahle pahle hawas ik-adh dukan kholti hai,
Phir to bazaar ke bazaar se lag jate hain.

Bebasi bhi kabhi qurbat ka sabab banti hai,
Ro na payen to gale yaar se lag jate hain.

Katranen gham ki jo galiyon mein udi phirti hain,
Ghar mein le aao to ambar se lag jate hain.

Dagh daman ke hon dil ke hon ki chehre ke “Faraz”,
Kuchh nishan umar ki raftar se lag jate hain. !!

रोग ऐसे भी ग़म-ए-यार से लग जाते हैं,
दर से उठते हैं तो दीवार से लग जाते हैं !

इश्क़ आग़ाज़ में हल्की सी ख़लिश रखता है,
बाद में सैकड़ों आज़ार से लग जाते हैं !

पहले पहले हवस एक-आध दुकाँ खोलती है,
फिर तो बाज़ार के बाज़ार से लग जाते हैं !

बेबसी भी कभी क़ुर्बत का सबब बनती है,
रो न पाएँ तो गले यार से लग जाते हैं !

कतरनें ग़म की जो गलियों में उड़ी फिरती हैं,
घर में ले आओ तो अम्बार से लग जाते हैं !

दाग़ दामन के हों दिल के हों कि चेहरे के “फ़राज़”,
कुछ निशाँ उम्र की रफ़्तार से लग जाते हैं !!

 

Ab ke tajdid-e-wafa ka nahi imkan jaanan..

Ab ke tajdid-e-wafa ka nahi imkan jaanan,
Yaad kya tujh ko dilayen tera paiman jaanan.

Yunhi mausam ki ada dekh ke yaad aaya hai,
Kis qadar jald badal jate hain insan jaanan.

Zindagi teri ata thi so tere naam ki hai,
Hum ne jaise bhi basar ki tera ehsan jaanan.

Dil ye kahta hai ki shayad hai fasurda tu bhi,
Dil ki kya baat karen dil to hai nadan jaanan.

Awwal awwal ki mohabbat ke nashe yaad to kar,
Be-piye bhi tera chehra tha gulistan jaanan.

Aakhir aakhir to ye aalam hai ki ab hosh nahi,
Rag-e-mina sulag utthi ki rag-e-jaan jaanan.

Muddaton se yahi aalam na tawaqqo na umid,
Dil pukare hi chala jata hai jaanan jaanan.

Hum bhi kya sada the hum ne bhi samajh rakkha tha,
Gham-e-dauran se juda hai gham-e-jaanan jaanan.

Ab ke kuchh aisi saji mehfil-e-yaran jaanan,
Sar-ba-zanu hai koi sar-ba-gareban jaanan.

Har koi apni hi aawaz se kanp uthta hai,
Har koi apne hi saye se hirasan jaanan.

Jis ko dekho wahi zanjir-ba-pa lagta hai,
Shehar ka shahr hua dakhil-e-zindan jaanan.

Ab tera zikr bhi shayad hi ghazal mein aaye,
Aur se aur hue dard ke unwan jaanan.

Hum ki ruthi hui rut ko bhi mana lete the,
Hum ne dekha hi na tha mausam-e-hijran jaanan.

Hosh aaya to sabhi khwab the reza reza,
Jaise udte hue auraq-e-pareshan jaanan. !!

अब के तजदीद-ए-वफ़ा का नहीं इम्काँ जानाँ,
याद क्या तुझ को दिलाएँ तेरा पैमाँ जानाँ !

यूँही मौसम की अदा देख के याद आया है,
किस क़दर जल्द बदल जाते हैं इंसाँ जानाँ !

ज़िंदगी तेरी अता थी सो तेरे नाम की है,
हम ने जैसे भी बसर की तेरा एहसाँ जानाँ !

दिल ये कहता है कि शायद है फ़सुर्दा तू भी,
दिल की क्या बात करें दिल तो है नादाँ जानाँ !

अव्वल अव्वल की मोहब्बत के नशे याद तो कर,
बे-पिए भी तेरा चेहरा था गुलिस्ताँ जानाँ !

आख़िर आख़िर तो ये आलम है कि अब होश नहीं,
रग-ए-मीना सुलग उट्ठी कि रग-ए-जाँ जानाँ !

मुद्दतों से यही आलम न तवक़्क़ो न उमीद,
दिल पुकारे ही चला जाता है जानाँ जानाँ !

हम भी क्या सादा थे हम ने भी समझ रक्खा था,
ग़म-ए-दौराँ से जुदा है ग़म-ए-जानाँ जानाँ !

अब के कुछ ऐसी सजी महफ़िल-ए-याराँ जानाँ,
सर-ब-ज़ानू है कोई सर-ब-गरेबाँ जानाँ !

हर कोई अपनी ही आवाज़ से काँप उठता है,
हर कोई अपने ही साए से हिरासाँ जानाँ !

जिस को देखो वही ज़ंजीर-ब-पा लगता है,
शहर का शहर हुआ दाख़िल-ए-ज़िंदाँ जानाँ !

अब तेरा ज़िक्र भी शायद ही ग़ज़ल में आए,
और से और हुए दर्द के उनवाँ जानाँ !

हम कि रूठी हुई रुत को भी मना लेते थे,
हम ने देखा ही न था मौसम-ए-हिज्राँ जानाँ !

होश आया तो सभी ख़्वाब थे रेज़ा रेज़ा,
जैसे उड़ते हुए औराक़-ए-परेशाँ जानाँ !!

 

Aankh se dur na ho dil se utar jayega..

Aankh se dur na ho dil se utar jayega,
Waqt ka kya hai guzarta hai guzar jayega.

Itna manus na ho khalwat-e-gham se apni,
Tu kabhi khud ko bhi dekhega to dar jayega.

Dubte dubte kashti ko uchhaala de dun,
Main nahi koi to sahil pe utar jayega.

Zindagi teri ata hai to ye jaane wala,
Teri bakhshish teri dahliz pe dhar jayega.

Zabt lazim hai magar dukh hai qayamat ka “Faraz”,
Zalim ab ke bhi na royega to mar jayega. !!

आँख से दूर न हो दिल से उतर जाएगा,
वक़्त का क्या है गुज़रता है गुज़र जाएगा !

इतना मानूस न हो ख़ल्वत-ए-ग़म से अपनी,
तू कभी ख़ुद को भी देखेगा तो डर जाएगा !

डूबते डूबते कश्ती को उछाला दे दूँ,
मैं नहीं कोई तो साहिल पे उतर जाएगा !

ज़िंदगी तेरी अता है तो ये जाने वाला,
तेरी बख़्शिश तेरी दहलीज़ पे धर जाएगा !

ज़ब्त लाज़िम है मगर दुख है क़यामत का “फ़राज़”,
ज़ालिम अब के भी न रोएगा तो मर जाएगा !!

 

Bahut se logon ko gham ne jila ke mar diya..

Bahut se logon ko gham ne jila ke mar diya,
Jo bach rahe the unhen mai pila ke mar diya.

Ye kya ada hai ki jab un ki barhami se hum,
Na mar sake to humein muskura ke mar diya.

Na jate aap to aaghosh kyun tahi hoti,
Gaye to aap ne pahlu se ja ke mar diya.

Mujhe gila to nahi aap ke taghaful se,
Magar huzur ne himmat badha ke mar diya.

Na aap aas bandhate na ye sitam hota,
Humein to aap ne amrit pila ke mar diya.

Kisi ne husn-e-taghaful se jaan talab kar li,
Kisi ne lutf ke dariya baha ke mar diya.

Jise bhi main ne ziyada tapak se dekha,
Usi hasin ne patthar utha ke mar diya.

Wo log mangenge ab zist kis ke aanchal se,
Jinhen huzur ne daman chhuda ke mar diya.

Chale to khanda-mizaji se ja rahe the hum,
Kisi hasin ne raste mein aa ke mar diya.

Rah-e-hayat mein kuchh aise pech-o-kham to na the,
Kisi hasin ne raste mein aa ke mar diya.

Karam ki surat-e-awwal to jaan-gudaz na thi,
Karam ka dusra pahlu dikha ke mar diya.

Ajib ras-bhara rahzan tha jis ne logon ko,
Tarah tarah ki adayen dikha ke mar diya.

Ajib khulq se ek ajnabi musafir ne,
Humein khilaf-e-tawaqqoa bula ke mar diya.

“Adam” bade adab-adab se hasinon ne,
Humein sitam ka nishana bana ke mar diya.

Tayyunat ki had tak to ji raha tha “Adam”,
Tayyunat ke parde utha ke mar diya. !!

बहुत से लोगों को ग़म ने जिला के मार दिया,
जो बच रहे थे उन्हें मय पिला के मार दिया !

ये क्या अदा है कि जब उन की बरहमी से हम,
न मर सके तो हमें मुस्कुरा के मार दिया !

न जाते आप तो आग़ोश क्यूँ तही होती,
गए तो आप ने पहलू से जा के मार दिया !

मुझे गिला तो नहीं आप के तग़ाफ़ुल से,
मगर हुज़ूर ने हिम्मत बढ़ा के मार दिया !

न आप आस बँधाते न ये सितम होता,
हमें तो आप ने अमृत पिला के मार दिया !

किसी ने हुस्न-ए-तग़ाफ़ुल से जाँ तलब कर ली,
किसी ने लुत्फ़ के दरिया बहा के मार दिया !

जिसे भी मैं ने ज़ियादा तपाक से देखा,
उसी हसीन ने पत्थर उठा के मार दिया !

वो लोग माँगेंगे अब ज़ीस्त किस के आँचल से,
जिन्हें हुज़ूर ने दामन छुड़ा के मार दिया !

चले तो ख़ंदा-मिज़ाजी से जा रहे थे हम,
किसी हसीन ने रस्ते में आ के मार दिया !

रह-ए-हयात में कुछ ऐसे पेच-ओ-ख़म तो न थे,
किसी हसीन ने रस्ते में आ के मार दिया !

करम की सूरत-ए-अव्वल तो जाँ-गुदाज़ न थी,
करम का दूसरा पहलू दिखा के मार दिया !

अजीब रस-भरा रहज़न था जिस ने लोगों को,
तरह तरह की अदाएँ दिखा के मार दिया !

अजीब ख़ुल्क़ से एक अजनबी मुसाफ़िर ने,
हमें ख़िलाफ़-ए-तवक़्क़ो बुला के मार दिया !

“अदम” बड़े अदब-आदाब से हसीनों ने,
हमें सितम का निशाना बना के मार दिया !

तअय्युनात की हद तक तो जी रहा था “अदम”,
तअय्युनात के पर्दे उठा के मार दिया !!

 

Aaj phir ruh mein ek barq si lahraati hai..

Aaj phir ruh mein ek barq si lahraati hai,
Dil ki gahrai se rone ki sada aati hai.

Yun chatakti hain kharabaat mein jaise kaliyan,
Tishnagi saghar-e-labrez se takraati hai.

Shola-e-gham ki lapak aur mera nazuk sa mizaj,
Mujh ko fitrat ke rawayye pe hansi aati hai.

Maut ek amr-e-musallam hai to phir aye saqi,
Ruh kyun zist ke aalam se ghabraati hai.

So bhi ja aye dil-e-majruh bahut raat gayi,
Ab to rah rah ke sitaron ko bhi nind aati hai.

Aur to dil ko nahi hai koi taklif “Adam”,
Han zara nabz kisi waqt thahar jati hai. !!

आज फिर रूह में एक बर्क़ सी लहराती है,
दिल की गहराई से रोने की सदा आती है !

यूँ चटकती हैं ख़राबात में जैसे कलियाँ,
तिश्नगी साग़र-ए-लबरेज़ से टकराती है !

शोला-ए-ग़म की लपक और मेरा नाज़ुक सा मिज़ाज,
मुझ को फ़ितरत के रवय्ये पे हँसी आती है !

मौत एक अम्र-ए-मुसल्लम है तो फिर ऐ साक़ी,
रूह क्यूँ ज़ीस्त के आलाम से घबराती है !

सो भी जा ऐ दिल-ए-मजरूह बहुत रात गई,
अब तो रह रह के सितारों को भी नींद आती है !

और तो दिल को नहीं है कोई तकलीफ़ “अदम”,
हाँ ज़रा नब्ज़ किसी वक़्त ठहर जाती है !!