Wednesday , April 8 2020

Poetry Types Gham

Sadiyon Se Insan Ye Sunta Aaya Hai..

Sadiyon se insan ye sunta aaya hai,
Dukh ki dhup ke aage sukh ka saya hai.

Hum ko in sasti khushiyon ka lobh na do,
Hum ne soch samajh kar gham apnaya hai.

Jhuth to qatil thahra is ka kya rona,
Sach ne bhi insan ka khun bahaya hai.

Paidaish ke din se maut ki zad mein hain,
Is maqtal mein kaun hamein le aaya hai.

Awwal awwal jis dil ne barbaad kiya,
Aakhir aakhir wo dil hi kaam aaya hai.

Itne din ehsan kiya diwanon par,
Jitne din logon ne sath nibhaya hai. !!

सदियों से इंसान ये सुनता आया है,
दुख की धूप के आगे सुख का साया है !

हम को इन सस्ती ख़ुशियों का लोभ न दो,
हम ने सोच समझ कर ग़म अपनाया है !

झूठ तो क़ातिल ठहरा इस का क्या रोना,
सच ने भी इंसाँ का ख़ूँ बहाया है !

पैदाइश के दिन से मौत की ज़द में हैं,
इस मक़्तल में कौन हमें ले आया है !

अव्वल अव्वल जिस दिल ने बर्बाद किया,
आख़िर आख़िर वो दिल ही काम आया है !

इतने दिन एहसान किया दीवानों पर,
जितने दिन लोगों ने साथ निभाया है !!

#Sahir Ludhianvi Ghazal

 

Teri Duniya Mein Jine Se To Behtar Hai Ki Mar Jaayen..

Teri duniya mein jine se to behtar hai ki mar jaayen,
Wahi aansoo wahi aahein wahi gham hai jidhar jaayen.

Koi to aisa ghar hota jahan se pyar mil jata,
Wahi begane chehre hain jahan jaayen jidhar jaayen.

Are o aasman wale bata is mein bura kya hai,
Khushi ke chaar jhonke gar idhar se bhi guzar jaayen. !!

तेरी दुनिया में जीने से तो बेहतर है कि मर जाएँ,
वही आँसू वही आहें वही ग़म है जिधर जाएँ !

कोई तो ऐसा घर होता जहाँ से प्यार मिल जाता,
वही बेगाने चेहरे हैं जहाँ जाएँ जिधर जाएँ !

अरे ओ आसमाँ वाले बता इस में बुरा क्या है,
ख़ुशी के चार झोंके गर इधर से भी गुज़र जाएँ !!

Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Dekha Hai Zindagi Ko Kuch Itne Kareeb Se..

Dekha hai zindagi ko kuch itne kareeb se,
Chehre tamam lagne lage hain ajib se.

Aye ruh-e-asr jag kahan so rahi hai tu,
Aawaz de rahe hain payambar salib se.

Is rengti hayat ka kab tak uthayen bar,
Bimar ab ulajhne lage hain tabib se.

Har gham par hai majma-e-ushshaq muntazir,
Maqtal ki rah milti hai ku-e-habib se.

Is tarah zindagi ne diya hai hamara sath,
Jaise koi nibah raha ho raqib se. !!

देखा है ज़िंदगी को कुछ इतने क़रीब से,
चेहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से !

ऐ रूह-ए-अस्र जाग कहाँ सो रही है तू,
आवाज़ दे रहे हैं पयम्बर सलीब से !

इस रेंगती हयात का कब तक उठाएँ बार,
बीमार अब उलझने लगे हैं तबीब से !

हर गाम पर है मजमा-ए-उश्शाक़ मुंतज़िर,
मक़्तल की राह मिलती है कू-ए-हबीब से !

इस तरह ज़िंदगी ने दिया है हमारा साथ,
जैसे कोई निबाह रहा हो रक़ीब से !!

 

Kabhi Kabhi Mere Dil Mein Khayal Aata Hai..

Kabhi kabhi mere dil mein khayal aata hai…

Ki zindagi teri zulfon ki narm chhanw mein
Guzarne pati to shadab ho bhi sakti thi
Ye tirgi jo meri zist ka muqaddar hai
Teri nazar ki shuaon mein kho bhi sakti thi..

Ajab na tha ki main begana-e-alam ho kar
Tere jamal ki ranaiyon mein kho rahta
Tera gudaz-badan teri nim-baz aankhen
Inhi hasin fasanon mein mahw ho rahta..

Pukartin mujhe jab talkhiyan zamane ki
Tere labon se halawat ke ghunt pi leta
Hayat chikhti phirti barahna sar aur main
Ghaneri zulfon ke saye mein chhup ke ji leta..

Magar ye ho na saka aur ab ye aalam hai
Ki tu nahin tera gham teri justuju bhi nahin
Guzar rahi hai kuchh is tarah zindagi jaise
Ise kisi ke sahaare ki aarzoo bhi nahin..

Zamane bhar ke dukhon ko laga chuka hun gale
Guzar raha hun kuchh an-jaani rahguzaron se
Muhib saye meri samt badhte aate hain
Hayat o maut ke pur-haul kharzaron se..

Na koi jada-e-manzil na raushni ka suragh
Bhatak rahi hai khalaon mein zindagi meri
Inhi khalaon mein rah jaunga kabhi kho kar
Main janta hun meri ham-nafas magar yunhi..

Kabhi kabhi mere dil mein khayal aata hai…

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है…

कि ज़िंदगी तेरी ज़ुल्फ़ों की नर्म छाँव में
गुज़रने पाती तो शादाब हो भी सकती थी
ये तीरगी जो मेरी ज़ीस्त का मुक़द्दर है
तेरी नज़र की शुआ’ओं में खो भी सकती थी..

अजब न था कि मैं बेगाना-ए-अलम हो कर
तेरे जमाल की रानाइयों में खो रहता
तेरा गुदाज़-बदन तेरी नीम-बाज़ आँखें
इन्ही हसीन फ़सानों में महव हो रहता..

पुकारतीं मुझे जब तल्ख़ियाँ ज़माने की
तेरे लबों से हलावत के घूँट पी लेता
हयात चीख़ती फिरती बरहना सर और मैं
घनेरी ज़ुल्फ़ों के साए में छुप के जी लेता..

मगर ये हो न सका और अब ये आलम है
कि तू नहीं तेरा ग़म तेरी जुस्तुजू भी नहीं
गुज़र रही है कुछ इस तरह ज़िंदगी जैसे
इसे किसी के सहारे की आरज़ू भी नहीं..

ज़माने भर के दुखों को लगा चुका हूँ गले
गुज़र रहा हूँ कुछ अन-जानी रहगुज़ारों से
मुहीब साए मेरी सम्त बढ़ते आते हैं
हयात ओ मौत के पुर-हौल ख़ारज़ारों से..

न कोई जादा-ए-मंज़िल न रौशनी का सुराग़
भटक रही है ख़लाओं में ज़िंदगी मेरी
इन्ही ख़लाओं में रह जाऊँगा कभी खो कर
मैं जानता हूँ मेरी हम-नफ़स मगर यूँही..

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है…

Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Main Zindagi Ka Sath Nibhata Chala Gaya..

Main zindagi ka sath nibhata chala gaya,
Har fikr ko dhuyen mein udata chala gaya.

Barbaadiyon ka sog manana fuzul tha,
Barbaadiyon ka jashn manata chala gaya.

Jo mil gaya usi ko muqaddar samajh liya,
Jo kho gaya main us ko bhulata chala gaya.

Gham aur khushi mein farq na mahsus ho jahan,
Main dil ko us maqam pe lata chala gaya. !!

मैं ज़िंदगी का साथ निभाता चला गया,
हर फ़िक्र को धुएँ में उड़ाता चला गया !

बर्बादियों का सोग मनाना फ़ुज़ूल था,
बर्बादियों का जश्न मनाता चला गया !

जो मिल गया उसी को मुक़द्दर समझ लिया,
जो खो गया मैं उस को भुलाता चला गया !

ग़म और ख़ुशी में फ़र्क़ न महसूस हो जहाँ,
मैं दिल को उस मक़ाम पे लाता चला गया !!

Click Here For Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari Collection

 

Tang Aa Chuke Hain Kashmakash-E-Zindagi Se Hum..

Tang aa chuke hain kashmakash-e-zindagi se hum,
Thukra na den jahan ko kahin be-dili se hum.

Mayusi-e-maal-e-mohabbat na puchhiye,
Apnon se pesh aaye hain beganagi se hum.

Lo aaj hum ne tod diya rishta-e-umid,
Lo ab kabhi gila na karenge kisi se hum.

Ubhrenge ek bar abhi dil ke walwale,
Go dab gaye hain bar-e-gham-e-zindagi se hum.

Gar zindagi mein mil gaye phir ittifaq se,
Puchhenge apna haal teri bebasi se hum.

Allah-re fareb-e-mashiyyat ki aaj tak,
Duniya ke zulm sahte rahe khamushi se hum. !!

तंग आ चुके हैं कशमकश-ए-ज़िंदगी से हम,
ठुकरा न दें जहाँ को कहीं बे-दिली से हम !

मायूसी-ए-मआल-ए-मोहब्बत न पूछिए,
अपनों से पेश आए हैं बेगानगी से हम !

लो आज हम ने तोड़ दिया रिश्ता-ए-उमीद,
लो अब कभी गिला न करेंगे किसी से हम !

उभरेंगे एक बार अभी दिल के वलवले,
गो दब गए हैं बार-ए-ग़म-ए-ज़िंदगी से हम !

गर ज़िंदगी में मिल गए फिर इत्तिफ़ाक़ से,
पूछेंगे अपना हाल तिरी बेबसी से हम !

अल्लाह-रे फ़रेब-ए-मशिय्यत कि आज तक,
दुनिया के ज़ुल्म सहते रहे ख़ामुशी से हम !!

Click Here For Sahir Ludhianvi All Poetry Collection

Mere Baare Mein Hawaaon Se Wo Kab Puchega..

Mere baare mein hawaaon se wo kab puchega,
Khaaq jab khaaq mein mil jayegi tab puchega.

Ghar basane mein ye khatra hai ki ghar ka malik,
Raat mein der se aane ka sabab puchega.

Apna gham sabko batana hai tamasha karna,
Haal-e-dil usko sunayenge wo jab puchega.

Jab bichadna bhi ho to hanste hue jana warna,
Har koi ruth jaane ka sabab puchega.

Hum ne lafzon ke jahan daam lage bech diya,
Shair puchega hamein ab na adab puchega. !!

मेरे बारे में हवाओं से वो कब पूछेगा,
खाक जब खाक में मिल जाऐगी तब पूछेगा !

घर बसाने में ये खतरा है कि घर का मालिक,
रात में देर से आने का सबब पूछेगा !

अपना गम सबको बताना है तमाशा करना,
हाल-ए-दिल उसको सुनाएँगे वो जब पूछेगा !

जब बिछडना भी तो हँसते हुए जाना वरना,
हर कोई रुठ जाने का सबब पूछेगा !

हमने लफजों के जहाँ दाम लगे बेच दिया,
शेर पूछेगा हमें अब न अदब पूछेगा !! -Bashir Badr Ghazal