Home / Tag Archives: Duniya

Tag Archives: Duniya

Kathin tanhaiyon se kaun khela main akela..

Kathin tanhaiyon se kaun khela main akela,
Bhara ab bhi mere ganv ka mela main akela.

Bichhad kar tujh se main shab bhar na soya kaun roya,
Ba-juz mere ye dukh bhi kis ne jhela main akela.

Ye be-awaz banjar ban ke basi ye udasi,
Ye dahshat ka safar jangal ye bela main akela.

Main dekhun kab talak manzar suhane sab purane,
Wahi duniya wahi dil ka jhamela main akela.

Wo jis ke khauf se sahra sidhaare log sare,
Guzarne ko hai tufan ka wo rela main akela. !!

कठिन तन्हाइयों से कौन खेला मैं अकेला,
भरा अब भी मेरे गाँव का मेला मैं अकेला !

बिछड़ कर तुझ से मैं शब भर न सोया कौन रोया,
ब-जुज़ मेरे ये दुख भी किस ने झेला मैं अकेला !

ये बे-आवाज़ बंजर बन के बासी ये उदासी,
ये दहशत का सफ़र जंगल ये बेला मैं अकेला !

मैं देखूँ कब तलक मंज़र सुहाने सब पुराने,
वही दुनिया वही दिल का झमेला मैं अकेला !

वो जिस के ख़ौफ़ से सहरा सिधारे लोग सारे,
गुज़रने को है तूफ़ाँ का वो रेला मैं अकेला !!

 

Zaban rakhta hun lekin chup khada hun..

Zaban rakhta hun lekin chup khada hun,
Main aawazon ke ban mein ghir gaya hun.

Mere ghar ka daricha puchhta hai,
Main sara din kahan phirta raha hun.

Mujhe mere siwa sab log samjhen,
Main apne aap se kam bolta hun.

Sitaron se hasad ki intiha hai,
Main qabron par charaghan kar raha hun.

Sambhal kar ab hawaon se ulajhna,
Main tujh se pesh-tar bujhne laga hun.

Meri qurbat se kyun khaif hai duniya,
Samundar hun main khud mein gunjta hun.

Mujhe kab tak sametega wo “Mohsin”,
Main andar se bahut tuta hua hun. !!

ज़बाँ रखता हूँ लेकिन चुप खड़ा हूँ,
मैं आवाज़ों के बन में घिर गया हूँ !

मेरे घर का दरीचा पूछता है,
मैं सारा दिन कहाँ फिरता रहा हूँ !

मुझे मेरे सिवा सब लोग समझें,
मैं अपने आप से कम बोलता हूँ !

सितारों से हसद की इंतिहा है,
मैं क़ब्रों पर चराग़ाँ कर रहा हूँ !

सँभल कर अब हवाओं से उलझना,
मैं तुझ से पेश-तर बुझने लगा हूँ !

मेरी क़ुर्बत से क्यूँ ख़ाइफ़ है दुनिया,
समुंदर हूँ मैं ख़ुद में गूँजता हूँ !

मुझे कब तक समेटेगा वो “मोहसिन”,
मैं अंदर से बहुत टूटा हुआ हूँ !!

 

Main kal tanha tha khilqat so rahi thi..

Main kal tanha tha khilqat so rahi thi,
Mujhe khud se bhi wahshat ho rahi thi.

Use jakda hua tha zindagi ne,
Sirhane maut baithi ro rahi thi.

Khula mujh par ki meri khush-nasibi,
Mere raste mein kante bo rahi thi.

Mujhe bhi na-rasai ka samar de,
Mujhe teri tamanna jo rahi thi.

Mera qatil mere andar chhupa tha,
Magar bad-naam khilqat ho rahi thi.

Baghawat kar ke khud apne lahu se,
Ghulami dagh apne dho rahi thi.

Labon par tha sukut-e-marg lekin,
Mere dil mein qayamat so rahi thi.

Ba-juz mauj-e-fana duniya mein “Mohsin”,
Hamari justuju kis ko rahi thi. !!

मैं कल तन्हा था ख़िल्क़त सो रही थी,
मुझे ख़ुद से भी वहशत हो रही थी !

उसे जकड़ा हुआ था ज़िंदगी ने,
सिरहाने मौत बैठी रो रही थी !

खुला मुझ पर कि मेरी ख़ुश-नसीबी,
मेरे रस्ते में काँटे बो रही थी !

मुझे भी ना-रसाई का समर दे,
मुझे तेरी तमन्ना जो रही थी !

मेरा क़ातिल मेरे अंदर छुपा था,
मगर बद-नाम ख़िल्क़त हो रही थी !

बग़ावत कर के ख़ुद अपने लहू से,
ग़ुलामी दाग़ अपने धो रही थी !

लबों पर था सुकूत-ए-मर्ग लेकिन,
मेरे दिल में क़यामत सो रही थी !

ब-जुज़ मौज-ए-फ़ना दुनिया में “मोहसिन’,
हमारी जुस्तुजू किस को रही थी !!

 

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa..

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa,
Dil ka aalam hai tere baad khalaon jaisa.

Kash duniya mere ehsas ko wapas kar de,
Khamushi ka wahi andaz sadaon jaisa.

Pas rah kar bhi hamesha wo bahut dur mila,
Us ka andaz-e-taghaful tha khudaon jaisa.

Kitni shiddat se bahaaron ko tha ehsas-e-maal,
Phool khil kar bhi raha zard khizaon jaisa.

Kya qayamat hai ki duniya use sardar kahe,
Jis ka andaz-e-sukhan bhi ho gadaon jaisa.

Phir teri yaad ke mausam ne jagaye mahshar,
Phir mere dil mein utha shor hawaon jaisa.

Barha khwab mein pa kar mujhe pyasa “Mohsin”,
Us ki zulfon ne kiya raqs ghataon jaisa. !!

अब वो तूफ़ाँ है न वो शोर हवाओं जैसा,
दिल का आलम है तेरे बाद ख़लाओं जैसा !

काश दुनिया मेरे एहसास को वापस कर दे,
ख़ामुशी का वही अंदाज़ सदाओं जैसा !

पास रह कर भी हमेशा वो बहुत दूर मिला,
उस का अंदाज़-ए-तग़ाफ़ुल था ख़ुदाओं जैसा !

कितनी शिद्दत से बहारों को था एहसास-ए-मआल,
फूल खिल कर भी रहा ज़र्द ख़िज़ाओं जैसा !

क्या क़यामत है कि दुनिया उसे सरदार कहे,
जिस का अंदाज़-ए-सुख़न भी हो गदाओं जैसा !

फिर तेरी याद के मौसम ने जगाए महशर,
फिर मेरे दिल में उठा शोर हवाओं जैसा !

बारहा ख़्वाब में पा कर मुझे प्यासा “मोहसिन”,
उस की ज़ुल्फ़ों ने किया रक़्स घटाओं जैसा !!

 

Un ki khair-o-khabar nahi milti..

Un ki khair-o-khabar nahi milti,
Hum ko hi khas kar nahi milti.

Shairi ko nazar nahi milti,
Mujh ko tu hi agar nahi milti.

Ruh mein dil mein jism mein duniya,
Dhundhta hun magar nahi milti.

Log kahte hain ruh bikti hai,
Main jidhar hun udhar nahi milti. !!

उनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलती,
हमको ही ख़ासकर नहीं मिलती !

शायरी को नज़र नहीं मिलती,
मुझको तू ही अगर नहीं मिलती !

रूह में दिल में जिस्म में दुनिया,
ढूंढता हूँ मगर नहीं मिलती !!

 

Rang duniya ne dikhaya hai nirala dekhun..

Rang duniya ne dikhaya hai nirala dekhun,
Hai andhere mein ujala to ujala dekhun.

Aaina rakh de mere samne aakhir main bhi,
Kaisa lagta hai tera chahne wala dekhun.

Kal talak wo jo mere sar ki qasam khata tha,
Aaj sar us ne mera kaise uchhaala dekhun.

Mujh se mazi mera kal raat simat kar bola,
Kis tarah main ne yahan khud ko sambhala dekhun.

Jis ke aangan se khule the mere sare raste,
Us haweli pe bhala kaise main tala dekhun. !!

रंग दुनिया ने दिखाया है निराला देखूँ,
है अँधेरे में उजाला तो उजाला देखूँ !

आइना रख दे मेरे सामने आख़िर मैं भी,
कैसा लगता है तेरा चाहने वाला देखूँ !

कल तलक वो जो मेरे सर की क़सम खाता था,
आज सर उस ने मेरा कैसे उछाला देखूँ !

मुझ से माज़ी मेरा कल रात सिमट कर बोला,
किस तरह मैं ने यहाँ ख़ुद को सँभाला देखूँ !

जिस के आँगन से खुले थे मेरे सारे रस्ते,
उस हवेली पे भला कैसे मैं ताला देखूँ !!

 

Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

           Aurat

Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe
Qalb-e-maahaul mein larzaan sharar-e-jung hain aaj
Hausle waqt ke aur ziist ke yak-rang hain aaj
Aabginon mein tapan walwala-e- sang hain aaj
Husn aur ishq hum-awaz-o-hum-ahang hain aaj
Jis mein jalta hun usi aag mein jalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे
क़ल्ब-ए-माहौल में लर्ज़ां शरर-ए-जंग हैं आज
हौसले वक़्त के और ज़ीस्त के यक-रंग हैं आज
आबगीनों में तपाँ वलवला-ए-संग हैं आज
हुस्न और इश्क़ हम-आवाज़ ओ हम-आहंग हैं आज
जिस में जलता हूँ उसी आग में जलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tere qadmon mein hai firdaus-e-tamaddun ki bahaar
Teri nazron pe hai tehzib-o-taraqqi ka madar
Teri aaghosh hai gahwara-e-nafs-o-kirdar
Taa-ba-kai gird tere wehm-o-tayyun ka hisar
Kaund kar majlis-e-khalwat se nikalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तेरे क़दमों में है फ़िरदौस-ए-तमद्दुन की बहार
तेरी नज़रों पे है तहज़ीब-ओ-तरक़्क़ी का मदार
तेरी आग़ोश है गहवारा-ए-नफ़्स-ओ-किरदार
ता-ब-कै गिर्द तेरे वहम-ओ-तअय्युन का हिसार
कौंद कर मज्लिस-ए-ख़ल्वत से निकलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tu ki be-jaan khilaunon se bahal jati hai
Tapti sanson ki hararat se pighal jati hai
Panw jis raah mein rakhti hai phisal jati hai
Ban ke simab har ek zarf mein dhal jati hai
Zist ke aahani sanche mein bhi dhalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तू कि बे-जान खिलौनों से बहल जाती है
तपती साँसों की हरारत से पिघल जाती है
पाँव जिस राह में रखती है फिसल जाती है
बन के सीमाब हर एक ज़र्फ़ में ढल जाती है
ज़ीस्त के आहनी साँचे में भी ढलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Zindagi jehd mein hai sabr ke qabu mein nahin
Nabz-e-hasti ka lahu kanpte aansu mein nahin
Udne khulne mein hai nikhat kham-e-gesu mein nahin
Jannat ek aur hai jo mard ke pahlu mein nahin
Us ki aazad rawish par bhi machalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

ज़िंदगी जेहद में है सब्र के क़ाबू में नहीं
नब्ज़-ए-हस्ती का लहू काँपते आँसू में नहीं
उड़ने खुलने में है निकहत ख़म-ए-गेसू में नहीं
जन्नत एक और है जो मर्द के पहलू में नहीं
उस की आज़ाद रविश पर भी मचलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Goshe-goshe mein sulagti hai chita tere liye
Farz ka bhes badalti hai qaza tere liye
Qahar hai teri har ek narm ada tere liye
Zehr hi zehr hai duniya ki hawa tere liye
Rut badal dal agar phulna-phalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

गोशे-गोशे में सुलगती है चिता तेरे लिए
फ़र्ज़ का भेस बदलती है क़ज़ा तेरे लिए
क़हर है तेरी हर एक नर्म अदा तेरे लिए
ज़हर ही ज़हर है दुनिया की हवा तेरे लिए
रुत बदल डाल अगर फूलना-फलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Qadr ab tak teri tarikh ne jaani hi nahin
Tujh mein shoale bhi hain bas ashk-fishani hi nahin
Tu haqiqat bhi hai dilchasp kahani hi nahin
Teri hasti bhi hai ek chiz jawani hi nahin
Apni tarikh ka unwan badalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

क़द्र अब तक तेरी तारीख़ ने जानी ही नहीं
तुझ में शोले भी हैं बस अश्क-फ़िशानी ही नहीं
तू हक़ीक़त भी है दिलचस्प कहानी ही नहीं
तेरी हस्ती भी है एक चीज़ जवानी ही नहीं
अपनी तारीख़ का उन्वान बदलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tod kar rasm ke but band-e-qadamat se nikal
Zof-e-ishrat se nikal wahm-e-nazakat se nikal
Nafs ke khinche hue halqa-e-azmat se nikal
Qaid ban jaye mohabbat to mohabbat se nikal
Raah ka khar hi kya gul bhi kuchalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तोड़ कर रस्म का बुत बंद-ए-क़दामत से निकल
ज़ोफ़-ए-इशरत से निकल वहम-ए-नज़ाकत से निकल
नफ़्स के खींचे हुए हल्क़ा-ए-अज़्मत से निकल
क़ैद बन जाए मोहब्बत तो मोहब्बत से निकल
राह का ख़ार ही क्या गुल भी कुचलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tod ye azm-shikan daghdagha-e-pand bhi tod
Teri khatir hai jo zanjir woh saugand bhi tod
Tauq ye bhi zamurrad ka gulu-band bhi tod
Tod paimana-e-mardan-e-khird-mand bhi tod
Ban ke tufan chhalakna hai ubalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तोड़ ये अज़्म-शिकन दग़दग़ा-ए-पंद भी तोड़
तेरी ख़ातिर है जो ज़ंजीर वो सौगंद भी तोड़
तौक़ ये भी है ज़मुर्रद का गुलू-बंद भी तोड़
तोड़ पैमाना-ए-मर्दान-ए-ख़िरद-मंद भी तोड़
बन के तूफ़ान छलकना है उबलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tu falatun-o-arastu hai tu zehra parwin
Tere qabze mein hai gardun teri thokar mein zamin
Han utha jald utha paa-e-muqqadar se jabin
Main bhi rukne ka nahin waqt bhi rukne ka nahin
Ladkhadayegi kahan tak ki sambhalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe.. !!

तू फ़लातून-ओ-अरस्तू है तू ज़हरा परवीन
तेरे क़ब्ज़े में है गर्दूं तेरी ठोकर में ज़मीन
हाँ उठा जल्द उठा पा-ए-मुक़द्दर से जबीन
मैं भी रुकने का नहीं वक़्त भी रुकने का नहीं
लड़खड़ाएगी कहाँ तक कि सँभलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे.. !!