Thursday , April 9 2020

Poetry Types Duniya

Ye Kya Tilism Hai Duniya Pe Bar Guzri Hai

Ye kya tilism hai duniya pe bar guzri hai,
Wo zindagi jo sar-e-rahguzar guzri hai.

Gulon ki gum-shudagi se suragh milta hai,
Kahin chaman se nasim-e-bahaar guzri hai.

Kahin sahar ka ujala hua hai ham-nafaso,
Ki mauj-e-barq sar-e-shakh-sar guzri hai.

Raha hai ye sar-e-shorida misl-e-shola buland,
Agarche mujh pe qayamat hazar guzri hai.

Ye hadisa bhi hua hai ki ishq-e-yar ki yaad,
Dayar-e-qalb se begana-war guzri hai.

Unhin ko arz-e-wafa ka tha ishtiyaq bahut,
Unhin ko arz-e-wafa na-gawar guzri hai.

Harim-e-shauq mahakta hai aaj tak “Abid“,
Yahan se nikhat-e-gesu-e-yar guzri hai. !!

ये क्या तिलिस्म है दुनिया पे बार गुज़री है,
वो ज़िंदगी जो सर-ए-रहगुज़ार गुज़री है !

गुलों की गुम-शुदगी से सुराग़ मिलता है,
कहीं चमन से नसीम-ए-बहार गुज़री है !

कहीं सहर का उजाला हुआ है हम-नफ़सो,
कि मौज-ए-बर्क़ सर-ए-शाख़-सार गुज़री है !

रहा है ये सर-ए-शोरीदा मिस्ल-ए-शोला बुलंद,
अगरचे मुझ पे क़यामत हज़ार गुज़री है !

ये हादिसा भी हुआ है कि इश्क़-ए-यार की याद,
दयार-ए-क़ल्ब से बेगाना-वार गुज़री है !

उन्हीं को अर्ज़-ए-वफ़ा का था इश्तियाक़ बहुत,
उन्हीं को अर्ज़-ए-वफ़ा ना-गवार गुज़री है !

हरीम-ए-शौक़ महकता है आज तक “आबिद“,
यहाँ से निकहत-ए-गेसू-ए-यार गुज़री है !!

 

Teri Duniya Mein Jine Se To Behtar Hai Ki Mar Jaayen..

Teri duniya mein jine se to behtar hai ki mar jaayen,
Wahi aansoo wahi aahein wahi gham hai jidhar jaayen.

Koi to aisa ghar hota jahan se pyar mil jata,
Wahi begane chehre hain jahan jaayen jidhar jaayen.

Are o aasman wale bata is mein bura kya hai,
Khushi ke chaar jhonke gar idhar se bhi guzar jaayen. !!

तेरी दुनिया में जीने से तो बेहतर है कि मर जाएँ,
वही आँसू वही आहें वही ग़म है जिधर जाएँ !

कोई तो ऐसा घर होता जहाँ से प्यार मिल जाता,
वही बेगाने चेहरे हैं जहाँ जाएँ जिधर जाएँ !

अरे ओ आसमाँ वाले बता इस में बुरा क्या है,
ख़ुशी के चार झोंके गर इधर से भी गुज़र जाएँ !!

Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Milti Hai Zindagi Mein Mohabbat Kabhi Kabhi..

Milti hai zindagi mein mohabbat kabhi kabhi,
Hoti hai dilbaron ki inayat kabhi kabhi.

Sharma ke munh na pher nazar ke sawal par,
Lati hai aise mod pe kismat kabhi kabhi.

Khulte nahi hain roz dariche bahaar ke,
Aati hai jaan-e-man ye qayamat kabhi kabhi.

Tanha na kat sakenge jawani ke raste,
Pesh aayegi kisi ki zarurat kabhi kabhi.

Phir kho na jayen hum kahin duniya ki bhid mein,
Milti hai pas aane ki mohlat kabhi kabhi. !!

मिलती है ज़िंदगी में मोहब्बत कभी कभी,
होती है दिलबरों की इनायत कभी कभी !

शर्मा के मुँह न फेर नज़र के सवाल पर,
लाती है ऐसे मोड़ पे क़िस्मत कभी कभी !

खुलते नहीं हैं रोज़ दरीचे बहार के,
आती है जान-ए-मन ये क़यामत कभी कभी !

तन्हा न कट सकेंगे जवानी के रास्ते,
पेश आएगी किसी की ज़रूरत कभी कभी !

फिर खो न जाएँ हम कहीं दुनिया की भीड़ में,
मिलती है पास आने की मोहलत कभी कभी !!

 

Ghar Se Ye Soch Ke Nikla Hun Ki Mar Jaana Hai

Ghar se ye soch ke nikla hun ki mar jaana hai,
Ab koi raah dikha de ki kidhar jaana hai.

Jism se saath nibhane ki mat ummid rakho,
Is musafir ko to raste mein thahar jaana hai.

Maut lamhe ki sada zindagi umron ki pukar,
Main yahi soch ke zinda hun ki mar jaana hai.

Nashsha aisa tha ki mai-khane ko duniya samjha,
Hosh aaya to khayal aaya ki ghar jaana hai.

Mere jazbe ki badi qadar hai logon mein magar,
Mere jazbe ko mere sath hi mar jaana hai. !!

घर से ये सोच के निकला हूँ कि मर जाना है,
अब कोई राह दिखा दे कि किधर जाना है !

जिस्म से साथ निभाने की मत उम्मीद रखो,
इस मुसाफिर को तो रास्ते में ठहर जाना है !

मौत लम्हे की सदा ज़िंदगी उम्रों की पुकार,
मैं यही सोच के ज़िंदा हूँ की मर जाना है !

नश्शा ऐसा था की मय-खाने को दुनिया समझा,
होश आया तो ख़याल आया की घर जाना है !

मेरे जज़्बे की बड़ी कद्र हैं लोगों में मगर,
मेरे ज़ज्बें को मेरे साथ ही मर जाना है !! -Rahat Indori Ghazal

 

Ajnabi Khwahishen Seene Mein Daba Bhi Na Sakun..

Ajnabi khwahishen seene mein daba bhi na sakun,
Aise ziddi hain parinde ki uda bhi na sakun.

Phunk dalunga kisi roz main dil ki duniya,
Ye tera khat to nahin hai ki jala bhi na sakun.

Meri ghairat bhi koi shai hai ki mehfil mein mujhe,
Us ne is tarah bulaya hai ki ja bhi na sakun.

Phal to sab mere darakhton ke pake hain lekin,
Itni kamzor hain shakhen ki hila bhi na sakun.

Ek na ek roz kahin dhund hi lunga tujh ko,
Thokaren zahar nahi hain ki main kha bhi na sakun. !!

अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ,
ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ !

फूँक डालूँगा किसी रोज़ मैं दिल की दुनिया,
ये तेरा ख़त तो नहीं है कि जला भी न सकूँ !

मेरी ग़ैरत भी कोई शय है कि महफ़िल में मुझे,
उस ने इस तरह बुलाया है कि जा भी न सकूँ !

फल तो सब मेरे दरख़्तों के पके हैं लेकिन,
इतनी कमज़ोर हैं शाख़ें कि हिला भी न सकूँ !

एक न एक रोज़ कहीं ढूँड ही लूँगा तुझ को,
ठोकरें ज़हर नहीं हैं कि मैं खा भी न सकूँ !! -Rahat Indori Ghazal

 

Kahin Akele Mein Mil Kar Jhinjhod Dunga Use..

Kahin akele mein mil kar jhinjhod dunga use,
Jahan jahan se wo tuta hai jod dunga use.

Mujhe wo chhod gaya ye kamal hai us ka,
Irada maine kiya tha ki chhod dunga use.

Badan chura ke wo chalta hai mujh se shisha-badan,
Use ye dar hai ki main tod phod dunga use.

Pasine banta phirta hai har taraf sooraj,
Kabhi jo hath laga to nichod dunga use.

Maza chakha ke hi mana hun main bhi duniya ko,
Samajh rahi thi ki aise hi chhod dunga use. !!

कहीं अकेले में मिल कर झिंझोड़ दूँगा उसे,
जहाँ जहाँ से वो टूटा है जोड़ दूँगा उसे !

मुझे वो छोड़ गया ये कमाल है उस का,
इरादा मैंने किया था कि छोड़ दूँगा उसे !

बदन चुरा के वो चलता है मुझ से शीशा-बदन,
उसे ये डर है कि मैं तोड़ फोड़ दूँगा उसे !

पसीने बाँटता फिरता है हर तरफ़ सूरज,
कभी जो हाथ लगा तो निचोड़ दूँगा उसे !

मज़ा चखा के ही माना हूँ मैं भी दुनिया को,
समझ रही थी कि ऐसे ही छोड़ दूँगा उसे !!

 

Har koi dil ki hatheli pe hai sahra rakkhe..

Har koi dil ki hatheli pe hai sahra rakkhe,
Kis ko sairab kare wo kise pyasa rakkhe.

Umar bhar kaun nibhata hai talluq itna,
Aye meri jaan ke dushman tujhe allah rakkhe.

Hum ko achchha nahi lagta koi hamnam tera,
Koi tujh sa ho to phir naam bhi tujh sa rakkhe.

Dil bhi pagal hai ki us shakhs se wabasta hai,
Jo kisi aur ka hone de na apna rakkhe.

Kam nahi tama-e-ibaadat bhi to hirs-e-zar se,
Faqr to wo hai ki jo din na duniya rakkhe.

Hans na itna bhi faqiron ke akele-pan par,
Ja khuda meri tarah tujh ko bhi tanha rakkhe.

Ye qanaat hai itaat hai ki chahat hai “Faraz”,
Hum to raazi hain wo jis haal mein jaisa rakkhe. !!

हर कोई दिल की हथेली पे है सहरा रक्खे,
किस को सैराब करे वो किसे प्यासा रक्खे !

उम्र भर कौन निभाता है तअल्लुक़ इतना,
ऐ मेरी जान के दुश्मन तुझे अल्लाह रक्खे !

हम को अच्छा नहीं लगता कोई हमनाम तेरा,
कोई तुझ सा हो तो फिर नाम भी तुझ सा रक्खे !

दिल भी पागल है कि उस शख़्स से वाबस्ता है,
जो किसी और का होने दे न अपना रक्खे !

कम नहीं तम-ए-इबादत भी तो हिर्स-ए-ज़र से,
फ़क़्र तो वो है कि जो दीन न दुनिया रक्खे !

हँस न इतना भी फ़क़ीरों के अकेले-पन पर,
जा ख़ुदा मेरी तरह तुझ को भी तन्हा रक्खे !

ये क़नाअत है इताअत है कि चाहत है “फ़राज़”,
हम तो राज़ी हैं वो जिस हाल में जैसा रक्खे !!