Saturday , February 29 2020
Home / Poetry Types Dua

Poetry Types Dua

Dosti Jab Kisi Se Ki Jaye.. By Rahat Indori

Dosti jab kisi se ki jaye,
Dushmanon ki bhi raye lee jaye.

Maut ka zahar hai fizaon mein,
Ab kahan ja ke sans lee jaye.

Bas isi soch mein hun duba hua,
Ye nadi kaise par ki jaye.

Mere mazi ke zakhm bharne lage,
Aaj phir koi bhul ki jaye.

Lafz dharti pe sar payakte hain,
Gumbadon mein sada na di jaye.

Kah do is ahd ke buzurgon se,
Zindagi ki dua na di jaye.

Botalen khol ke to pee barason,
Aaj dil khol ke bhi pee jaye. !!

दोस्ती जब किसी से की जाये,
दुश्मनों की भी राय ली जाए !

मौत का ज़हर हैं फिजाओं में,
अब कहा जा के सांस ली जाए !

बस इसी सोच में हु डूबा हुआ,
ये नदी कैसे पार की जाए !

मेरे माजी के ज़ख्म भरने लगे,
आज फिर कोई भूल की जाए !

लफ़्ज़ धरती पे सर पटकते हैं,
गुम्बदों में सदा न दी जाए !

कह दो इस अहद के बुज़ुर्गों से,
ज़िंदगी की दुआ न दी जाए !

बोतलें खोल के तो पी बरसों,
आज दिल खोल के पी जाए !! -Rahat Indori Ghazal

 

Romantic Rose Day Quotes In Hindi

Romantic Rose Day Quotes Shayari in Hindi Image

Gulshan ka har ek gulaab parkha humne
Phir chuna ek gulaab hai
Laye bade pyar se hai jiske liye
Wo khud ek khubsurat gulaab hai

गुलशन का हर एक गुलाब परखा हमने
फिर चुना एक गुलाब है
लाये बड़े प्यार से है जिसके लिए
वो खुद एक खूबसूरत गुलाब है

 

Aaj socha ki aapko jawab mein kya dun
Aap jaise logon ko kitaab kya dun
Koi aur phool ho to mujh ko nahi maalum
Jo khud gulaab ho use gulaab kya dun

आज सोचा के आपको जवाब में क्या दूँ
आप जैसे लोगो को खिताब क्या दूँ
कोई और फूल हो तो मुझ को नहीं मालूम
जो खुद ग़ुलाब हो उसे क्या ग़ुलाब क्या दूँ

 

Gulab ki khubsurati bhi fiki si lagti hain
Jab tere chehare par muskan khil uthti hai
Yunhi muskurate rahna mere pyar tu
Teri khushiyon se meri saanse ji uthti hain

गुलाब की खूबसूरती भी फिकी सी लगती हैं
जब तेरे चेहरे पर मुस्कान खिल उठती हैं
यूँही मुस्कुराते रहना मेरे प्यार तू
तेरी खुशियों से मेरी साँसे जी उठती हैं

 

Aap milte nahi Roz Roz
Aapki yaad aati hai Har Roz
Hamne bheja hai Red Roz
Jo aapko
Hamari Yaad dilayega Har Roz

आप मिलते नही Roz Roz
आपकी याद आती है हर Roz
हमने भेजा है Red Roz
जो आपको
हमारी याद दिलायेगा हर Roz

 

Pgali tu
Gulaab ke phool jaisi hai
Jise mein
Tod bhi nahi sakta aur
Chhod bhi nahi sakta

पगली तू
गुलाब के फूल जैसी है…
जिसे में
तोड़ भी नही सकता और
छोड़ भी नही सकता

 

Khushbu mein dub jayengi yaadon ki daliyan
Honthon pe phool rakh ke kabhi sochna mujhe

खुशबू में डूब जायेंगी यादों की डालियाँ
होंठों पे फूल रख के कभी सोचना मुझे

 

Gulaab khilte rahe zindagi ki raah mein
Hansi chamkti rahe aap ki nigaah mein
Khushi ki lahar mile har kadam par aapko
Deta hain ye dil dua baar baar aapko

गुलाब खिलते रहे ज़िंदगी की राह् में
हँसी चमकती रहे आप कि निगाह में
खुशी कि लहर मिलें हर कदम पर आपको
देता हे ये दिल दुआ बार–बार आपको

 

Chehara aapka khila rahe gulaab ki tarah
Naam aapka roshan rahe aaftab ki tarah
Gham mein bhi aap hanste rahe phoolon ki tarah
Agar hum is duniya mein na rahe aaj ki tarah

चेहरा आपका खिला रहे गुलाब की तरह
नाम आपका रोशन रहे आफताब की तरह
ग़म में भी आप हँसते रहे फूलों की तरह
अगर हम इस दुनिया में न रहें आज की तरह

 

Soch rahe hai tumko apna pyar kese bheje
Dhund ke laya ho jo khushbu wo us paar kese bheje
Sinjo ke rakhi hai jo mohabbat apni is gulaab mein
Soch raha hai wo gulaab Apke paas kese bheje

सोच रहे है तुमको अपना प्यार कैसे भेजे
ढूंढ के लाया हो जो खुशबु वो उस पार कैसे भेजे
सिंजो के रखी है जो मोहब्बत अपनी इस ग़ुलाब में
सोच रहा है वो गुलाब आपके पास कैसे भेजे

 

Laye pyar se bhara gulaab apke liye
Is jahan ka sab se khubsurat gulab apke liye
Pasand aaye to batana humko
Hum aasma se barsa denge aise hi gulaab apke liye

लाये प्यार से भरा गुलाब आपके लिए
इस जहाँ का सब से खूबसूरत गुलाब आपके लिए
पसंद आये तो बताना हमको
हम आस्मा से बरसा देंगे ऐसे ही गुलाब आपके लिए

Mohabbat lafzon ki mohtaaz nahi hoti
Jab tanhai me aapki yaad aati hai
Hontho pe ek hi fariyad aati hai
Khuda aapko har khushi de
Kyonki aaj bhi humari har khushi aapke baad aati hai

मुहब्बत लफ्जों की मोहताज नहीं होती
जब तन्हाई में आपकी याद आती है
होंठों पे एक ही फ़रियाद आती है
खुदा आपको हर ख़ुशी दे
क्यूंकि आज भी हमारी हर ख़ुशी आपके बाद आती है

Happy Rose Day

 

Ek karb-e-musalsal ki saza den to kise den..

Ek karb-e-musalsal ki saza den to kise den,
Maqtal mein hain jine ki dua den to kise den.

Patthar hain sabhi log karen baat to kis se,
Is shahr-e-khamoshan mein sada den to kise den.

Hai kaun ki jo khud ko hi jalta hua dekhe,
Sab hath hain kaghaz ke diya den to kise den.

Sab log sawali hain sabhi jism barahna,
Aur pas hai bas ek rida den to kise den.

Jab hath hi kat jayen to thamega bhala kaun,
Ye soch rahe hain ki asa den to kise den.

Bazar mein khushbu ke kharidar kahan hain,
Ye phool hain be-rang bata den to kise den.

Chup rahne ki har shakhs qasam khaye hue hai,
Hum zahr bhara jam bhala den to kise den. !!

एक कर्ब-ए-मुसलसल की सज़ा दें तो किसे दें,
मक़्तल में हैं जीने की दुआ दें तो किसे दें !

पत्थर हैं सभी लोग करें बात तो किस से,
इस शहर-ए-ख़मोशाँ में सदा दें तो किसे दें !

है कौन कि जो ख़ुद को ही जलता हुआ देखे,
सब हाथ हैं काग़ज़ के दिया दें तो किसे दें !

सब लोग सवाली हैं सभी जिस्म बरहना,
और पास है बस एक रिदा दें तो किसे दें !

जब हाथ ही कट जाएँ तो थामेगा भला कौन,
ये सोच रहे हैं कि असा दें तो किसे दें !

बाज़ार में ख़ुशबू के ख़रीदार कहाँ हैं,
ये फूल हैं बे-रंग बता दें तो किसे दें !

चुप रहने की हर शख़्स क़सम खाए हुए है,
हम ज़हर भरा जाम भला दें तो किसे दें !!

 

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya..

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya,
Wo juda hote hue kuchh phool basi de gaya.

Noch kar shakhon ke tan se khushk patton ka libas,
Zard mausam banjh-rut ko be-libasi de gaya.

Subh ke tare meri pahli dua tere liye,
Tu dil-e-be-sabr ko taskin zara si de gaya.

Log malbon mein dabe saye bhi dafnane lage,
Zalzala ahl-e-zamin ko bad-hawasi de gaya.

Tund jhonke ki ragon mein ghol kar apna dhuan,
Ek diya andhi hawa ko khud-shanasi de gaya.

Le gaya “Mohsin” wo mujh se abr banta aasman,
Us ke badle mein zamin sadiyon ki pyasi de gaya. !!

एक पल में ज़िंदगी भर की उदासी दे गया,
वो जुदा होते हुए कुछ फूल बासी दे गया !

नोच कर शाख़ों के तन से ख़ुश्क पत्तों का लिबास,
ज़र्द मौसम बाँझ-रुत को बे-लिबासी दे गया !

सुब्ह के तारे मेरी पहली दुआ तेरे लिए,
तू दिल-ए-बे-सब्र को तस्कीं ज़रा सी दे गया !

लोग मलबों में दबे साए भी दफ़नाने लगे,
ज़लज़ला अहल-ए-ज़मीं को बद-हवासी दे गया !

तुंद झोंके की रगों में घोल कर अपना धुआँ,
एक दिया अंधी हवा को ख़ुद-शनासी दे गया !

ले गया “मोहसिन” वो मुझ से अब्र बनता आसमाँ,
उस के बदले में ज़मीं सदियों की प्यासी दे गया !!

 

Aap ki aankh se gahra hai meri ruh ka zakhm..

Aap ki aankh se gahra hai meri ruh ka zakhm,
Aap kya soch sakenge meri tanhai ko.

Main to dam tod raha tha magar afsurda hayat,
Khud chali aai meri hausla-afzai ko.

Lazzat-e-gham ke siwa teri nigahon ke baghair,
Kaun samjha hai mere zakhm ki gahrai ko.

Main badhaunga teri shohrat-e-khush-bu ka nikhaar,
Tu dua de mere afsana-e-ruswai ko.

Wo to yun kahiye ki ek qaus-e-quzah phail gayi,
Warna main bhul gaya tha teri angdai ko. !!

आप की आँख से गहरा है मेरी रूह का ज़ख़्म,
आप क्या सोच सकेंगे मेरी तन्हाई को !

मैं तो दम तोड़ रहा था मगर अफ़्सुर्दा हयात,
ख़ुद चली आई मेरी हौसला-अफ़ज़ाई को !

लज़्ज़त-ए-ग़म के सिवा तेरी निगाहों के बग़ैर,
कौन समझा है मेरे ज़ख़्म की गहराई को !

मैं बढ़ाऊँगा तेरी शोहरत-ए-ख़ुश्बू का निखार,
तू दुआ दे मेरे अफ़्साना-ए-रुसवाई को !

वो तो यूँ कहिए कि एक क़ौस-ए-क़ुज़ह फैल गई,
वर्ना मैं भूल गया था तेरी अंगड़ाई को !!

 

Dil to karta hai khair karta hai..

Dil to karta hai khair karta hai,
Aap ka zikr ghair karta hai.

Kyun na main dil se dun dua us ko,
Jabki wo mujh se bair karta hai.

Aap to hu-ba-hu wahi hain jo,
Mere sapnon mein sair karta hai.

Ishq kyun aap se ye dil mera,
Mujh se puchhe baghair karta hai.

Ek zarra duaen maa ki le,
Aasmanon ki sair karta hai. !!

दिल तो करता है ख़ैर करता है,
आप का ज़िक्र ग़ैर करता है !

क्यूँ न मैं दिल से दूँ दुआ उस को,
जबकि वो मुझ से बैर करता है !

आप तो हू-ब-हू वही हैं जो,
मेरे सपनों में सैर करता है !

इश्क़ क्यूँ आप से ये दिल मेरा,
मुझ से पूछे बग़ैर करता है !

एक ज़र्रा दुआएँ माँ की ले,
आसमानों की सैर करता है !!

 

Bimar ko maraz ki dawa deni chahiye..

Bimar ko maraz ki dawa deni chahiye,
Main pina chahta hun pila deni chahiye.

Allah barkaton se nawazega ishq mein,
Hai jitni punji pas laga deni chahiye.

Dil bhi kisi faqir ke hujre se kam nahi,
Duniya yahin pe la ke chhupa deni chahiye.

Main khud bhi karna chahta hun apna samna,
Tujh ko bhi ab naqab utha deni chahiye.

Main phool hun to phool ko gul-dan ho nasib,
Main aag hun to aag bujha deni chahiye.

Main taj hun to taj ko sar par sajayen log,
Main khak hun to khak uda deni chahiye.

Main jabr hun to jabr ki taid band ho,
Main sabr hun to mujh ko dua deni chahiye.

Main khwab hun to khwab se chaunkaiye mujhe,
Main nind hun to nind uda deni chahiye.

Sach baat kaun hai jo sar-e-am kah sake,
Main kah raha hun mujh ko saza deni chahiye. !!

बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए,
मैं पीना चाहता हूँ पिला देनी चाहिए !

अल्लाह बरकतों से नवाज़ेगा इश्क़ में,
है जितनी पूँजी पास लगा देनी चाहिए !

दिल भी किसी फ़क़ीर के हुजरे से कम नहीं,
दुनिया यहीं पे ला के छुपा देनी चाहिए !

मैं ख़ुद भी करना चाहता हूँ अपना सामना,
तुझ को भी अब नक़ाब उठा देनी चाहिए !

मैं फूल हूँ तो फूल को गुल-दान हो नसीब,
मैं आग हूँ तो आग बुझा देनी चाहिए !

मैं ताज हूँ तो ताज को सर पर सजाएँ लोग,
मैं ख़ाक हूँ तो ख़ाक उड़ा देनी चाहिए !

मैं जब्र हूँ तो जब्र की ताईद बंद हो,
मैं सब्र हूँ तो मुझ को दुआ देनी चाहिए !

मैं ख़्वाब हूँ तो ख़्वाब से चौंकाइए मुझे,
मैं नींद हूँ तो नींद उड़ा देनी चाहिए !

सच बात कौन है जो सर-ए-आम कह सके,
मैं कह रहा हूँ मुझ को सज़ा देनी चाहिए !!