Wednesday , April 8 2020

Poetry Types Dil

Apna Dil Pesh Karun Apni Wafa Pesh Karun..

Apna dil pesh karun apni wafa pesh karun,
Kuch samajh mein nahi aata tujhe kya pesh karun.

Tere milne ki khushi mein koi naghma chhedoon,
Ya tere dard-e-judai ka gila pesh karun.

Mere khwabon mein bhi tu mere khayalon mein bhi tu,
Kaun si chiz tujhe tujh se juda pesh karun.

Jo tere dil ko lubhaye wo ada mujh mein nahi,
Kyun na tujh ko koi teri hi ada pesh karun. !!

अपना दिल पेश करूँ अपनी वफ़ा पेश करूँ,
कुछ समझ में नहीं आता तुझे क्या पेश करूँ !

तेरे मिलने की ख़ुशी में कोई नग़्मा छेड़ूँ,
या तेरे दर्द-ए-जुदाई का गिला पेश करूँ !

मेरे ख़्वाबों में भी तू मेरे ख़यालों में भी तू,
कौन सी चीज़ तुझे तुझ से जुदा पेश करूँ !

जो तेरे दिल को लुभाए वो अदा मुझ में नहीं,
क्यूँ न तुझ को कोई तेरी ही अदा पेश करूँ !!

 

Ajnabi Khwahishen Seene Mein Daba Bhi Na Sakun..

Ajnabi khwahishen seene mein daba bhi na sakun,
Aise ziddi hain parinde ki uda bhi na sakun.

Phunk dalunga kisi roz main dil ki duniya,
Ye tera khat to nahin hai ki jala bhi na sakun.

Meri ghairat bhi koi shai hai ki mehfil mein mujhe,
Us ne is tarah bulaya hai ki ja bhi na sakun.

Phal to sab mere darakhton ke pake hain lekin,
Itni kamzor hain shakhen ki hila bhi na sakun.

Ek na ek roz kahin dhund hi lunga tujh ko,
Thokaren zahar nahi hain ki main kha bhi na sakun. !!

अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ,
ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ !

फूँक डालूँगा किसी रोज़ मैं दिल की दुनिया,
ये तेरा ख़त तो नहीं है कि जला भी न सकूँ !

मेरी ग़ैरत भी कोई शय है कि महफ़िल में मुझे,
उस ने इस तरह बुलाया है कि जा भी न सकूँ !

फल तो सब मेरे दरख़्तों के पके हैं लेकिन,
इतनी कमज़ोर हैं शाख़ें कि हिला भी न सकूँ !

एक न एक रोज़ कहीं ढूँड ही लूँगा तुझ को,
ठोकरें ज़हर नहीं हैं कि मैं खा भी न सकूँ !! -Rahat Indori Ghazal

 

Pyar Shabdon Ka Mohtaz Nahi Hota

Pyar shabdon ka mohtaz nahi hota
Dil mein har kisi ke raaz nahi hota
Kyun intezaar karte hai sabhi valentine day ka
Kya saal ka har din pyar ka haqdaar nahi hota ?

प्यार शब्दों का मोहताज नही होता
दिल में हर किसी के राज़ नही होता
क्यों इंतज़ार करते है सभी वैलेंटाइन डे का
क्या साल का हर दिन प्यार का हक़दार नही होता?

Happy Valentine’s Day

 

Qurbat bhi nahi dil se utar bhi nahi jata..

Qurbat bhi nahi dil se utar bhi nahi jata,
Wo shakhs koi faisla kar bhi nahi jata.

Aankhen hain ki khali nahi rahti hain lahu se,
Aur zakhm-e-judai hai ki bhar bhi nahi jata.

Wo rahat-e-jaan hai magar is dar-badri mein,
Aisa hai ki ab dhyan udhar bhi nahi jata.

Hum dohri aziyyat ke giraftar musafir,
Panw bhi hain shal shauq-e-safar bhi nahi jata.

Dil ko teri chahat pe bharosa bhi bahut hai,
Aur tujh se bichhad jaane ka dar bhi nahi jata.

Pagal hue jate ho “Faraz” us se mile kya,
Itni si khushi se koi mar bhi nahi jata. !!

क़ुर्बत भी नहीं दिल से उतर भी नहीं जाता,
वो शख़्स कोई फ़ैसला कर भी नहीं जाता !

आँखें हैं कि ख़ाली नहीं रहती हैं लहू से,
और ज़ख़्म-ए-जुदाई है कि भर भी नहीं जाता !

वो राहत-ए-जाँ है मगर इस दर-बदरी में,
ऐसा है कि अब ध्यान उधर भी नहीं जाता !

हम दोहरी अज़िय्यत के गिरफ़्तार मुसाफ़िर,
पाँव भी हैं शल शौक़-ए-सफ़र भी नहीं जाता !

दिल को तेरी चाहत पे भरोसा भी बहुत है,
और तुझ से बिछड़ जाने का डर भी नहीं जाता !

पागल हुए जाते हो “फ़राज़” उस से मिले क्या,
इतनी सी ख़ुशी से कोई मर भी नहीं जाता !!

 

Aankh se dur na ho dil se utar jayega..

Aankh se dur na ho dil se utar jayega,
Waqt ka kya hai guzarta hai guzar jayega.

Itna manus na ho khalwat-e-gham se apni,
Tu kabhi khud ko bhi dekhega to dar jayega.

Dubte dubte kashti ko uchhaala de dun,
Main nahi koi to sahil pe utar jayega.

Zindagi teri ata hai to ye jaane wala,
Teri bakhshish teri dahliz pe dhar jayega.

Zabt lazim hai magar dukh hai qayamat ka “Faraz”,
Zalim ab ke bhi na royega to mar jayega. !!

आँख से दूर न हो दिल से उतर जाएगा,
वक़्त का क्या है गुज़रता है गुज़र जाएगा !

इतना मानूस न हो ख़ल्वत-ए-ग़म से अपनी,
तू कभी ख़ुद को भी देखेगा तो डर जाएगा !

डूबते डूबते कश्ती को उछाला दे दूँ,
मैं नहीं कोई तो साहिल पे उतर जाएगा !

ज़िंदगी तेरी अता है तो ये जाने वाला,
तेरी बख़्शिश तेरी दहलीज़ पे धर जाएगा !

ज़ब्त लाज़िम है मगर दुख है क़यामत का “फ़राज़”,
ज़ालिम अब के भी न रोएगा तो मर जाएगा !!

 

Ye dil ye pagal dil mera kyun bujh gaya aawargi..

Ye dil ye pagal dil mera kyun bujh gaya aawargi,
Is dasht mein ek shehar tha wo kya hua aawargi.

Kal shab mujhe be-shakl ki aawaz ne chaunka diya,
Main ne kaha tu kaun hai us ne kaha aawargi.

Logo bhala is shehar mein kaise jiyenge hum jahan,
Ho jurm tanha sochna lekin saza aawargi.

Ye dard ki tanhaiyan ye dasht ka viran safar,
Hum log to ukta gaye apni suna aawargi.

Ek ajnabi jhonke ne jab puchha mere gham ka sabab,
Sahra ki bhigi ret par main ne likha aawargi.

Us samt wahshi khwahishon ki zad mein paiman-e-wafa,
Us samt lahron ki dhamak kachcha ghada aawargi.

Kal raat tanha chand ko dekha tha main ne khwab mein,
“Mohsin” mujhe ras aayegi shayad sada aawargi. !!

ये दिल ये पागल दिल मेरा क्यूँ बुझ गया आवारगी,
इस दश्त में एक शहर था वो क्या हुआ आवारगी !

कल शब मुझे बे-शक्ल की आवाज़ ने चौंका दिया,
मैं ने कहा तू कौन है उस ने कहा आवारगी !

लोगो भला इस शहर में कैसे जिएँगे हम जहाँ,
हो जुर्म तन्हा सोचना लेकिन सज़ा आवारगी !

ये दर्द की तन्हाइयाँ ये दश्त का वीराँ सफ़र,
हम लोग तो उक्ता गए अपनी सुना आवारगी !

एक अजनबी झोंके ने जब पूछा मेरे ग़म का सबब,
सहरा की भीगी रेत पर मैं ने लिखा आवारगी !

उस सम्त वहशी ख़्वाहिशों की ज़द में पैमान-ए-वफ़ा,
उस सम्त लहरों की धमक कच्चा घड़ा आवारगी !

कल रात तन्हा चाँद को देखा था मैं ने ख़्वाब में,
“मोहसिन” मुझे रास आएगी शायद सदा आवारगी !!

 

Hum kahan hain ye pata lo tum bhi..

Hum kahan hain ye pata lo tum bhi,
Baat aadhi to sambhaalo tum bhi.

Dil lagaya hi nahi tha tum ne,
Dil-lagi ki thi maza lo tum bhi.

Hum ko aankhon mein na aanjo lekin,
Khud ko khud par to saza lo tum bhi.

Jism ki nind mein sone walon,
Ruh mein khwab to palo tum bhi. !!

हम कहाँ हैं ये पता लो तुम भी,
बात आधी तो सँभालो तुम भी !

दिल लगाया ही नहीं था तुम ने,
दिल-लगी की थी मज़ा लो तुम भी !

हम को आँखों में न आँजो लेकिन,
ख़ुद को ख़ुद पर तो सजा लो तुम भी !

जिस्म की नींद में सोने वालों,
रूह में ख़्वाब तो पालो तुम भी !!