Home / Poetry Types Dil

Poetry Types Dil

Qurbat bhi nahi dil se utar bhi nahi jata..

Qurbat bhi nahi dil se utar bhi nahi jata,
Wo shakhs koi faisla kar bhi nahi jata.

Aankhen hain ki khali nahi rahti hain lahu se,
Aur zakhm-e-judai hai ki bhar bhi nahi jata.

Wo rahat-e-jaan hai magar is dar-badri mein,
Aisa hai ki ab dhyan udhar bhi nahi jata.

Hum dohri aziyyat ke giraftar musafir,
Panw bhi hain shal shauq-e-safar bhi nahi jata.

Dil ko teri chahat pe bharosa bhi bahut hai,
Aur tujh se bichhad jaane ka dar bhi nahi jata.

Pagal hue jate ho “Faraz” us se mile kya,
Itni si khushi se koi mar bhi nahi jata. !!

क़ुर्बत भी नहीं दिल से उतर भी नहीं जाता,
वो शख़्स कोई फ़ैसला कर भी नहीं जाता !

आँखें हैं कि ख़ाली नहीं रहती हैं लहू से,
और ज़ख़्म-ए-जुदाई है कि भर भी नहीं जाता !

वो राहत-ए-जाँ है मगर इस दर-बदरी में,
ऐसा है कि अब ध्यान उधर भी नहीं जाता !

हम दोहरी अज़िय्यत के गिरफ़्तार मुसाफ़िर,
पाँव भी हैं शल शौक़-ए-सफ़र भी नहीं जाता !

दिल को तेरी चाहत पे भरोसा भी बहुत है,
और तुझ से बिछड़ जाने का डर भी नहीं जाता !

पागल हुए जाते हो “फ़राज़” उस से मिले क्या,
इतनी सी ख़ुशी से कोई मर भी नहीं जाता !!

 

Aankh se dur na ho dil se utar jayega..

Aankh se dur na ho dil se utar jayega,
Waqt ka kya hai guzarta hai guzar jayega.

Itna manus na ho khalwat-e-gham se apni,
Tu kabhi khud ko bhi dekhega to dar jayega.

Dubte dubte kashti ko uchhaala de dun,
Main nahi koi to sahil pe utar jayega.

Zindagi teri ata hai to ye jaane wala,
Teri bakhshish teri dahliz pe dhar jayega.

Zabt lazim hai magar dukh hai qayamat ka “Faraz”,
Zalim ab ke bhi na royega to mar jayega. !!

आँख से दूर न हो दिल से उतर जाएगा,
वक़्त का क्या है गुज़रता है गुज़र जाएगा !

इतना मानूस न हो ख़ल्वत-ए-ग़म से अपनी,
तू कभी ख़ुद को भी देखेगा तो डर जाएगा !

डूबते डूबते कश्ती को उछाला दे दूँ,
मैं नहीं कोई तो साहिल पे उतर जाएगा !

ज़िंदगी तेरी अता है तो ये जाने वाला,
तेरी बख़्शिश तेरी दहलीज़ पे धर जाएगा !

ज़ब्त लाज़िम है मगर दुख है क़यामत का “फ़राज़”,
ज़ालिम अब के भी न रोएगा तो मर जाएगा !!

 

Ye dil ye pagal dil mera kyun bujh gaya aawargi..

Ye dil ye pagal dil mera kyun bujh gaya aawargi,
Is dasht mein ek shehar tha wo kya hua aawargi.

Kal shab mujhe be-shakl ki aawaz ne chaunka diya,
Main ne kaha tu kaun hai us ne kaha aawargi.

Logo bhala is shehar mein kaise jiyenge hum jahan,
Ho jurm tanha sochna lekin saza aawargi.

Ye dard ki tanhaiyan ye dasht ka viran safar,
Hum log to ukta gaye apni suna aawargi.

Ek ajnabi jhonke ne jab puchha mere gham ka sabab,
Sahra ki bhigi ret par main ne likha aawargi.

Us samt wahshi khwahishon ki zad mein paiman-e-wafa,
Us samt lahron ki dhamak kachcha ghada aawargi.

Kal raat tanha chand ko dekha tha main ne khwab mein,
“Mohsin” mujhe ras aayegi shayad sada aawargi. !!

ये दिल ये पागल दिल मेरा क्यूँ बुझ गया आवारगी,
इस दश्त में एक शहर था वो क्या हुआ आवारगी !

कल शब मुझे बे-शक्ल की आवाज़ ने चौंका दिया,
मैं ने कहा तू कौन है उस ने कहा आवारगी !

लोगो भला इस शहर में कैसे जिएँगे हम जहाँ,
हो जुर्म तन्हा सोचना लेकिन सज़ा आवारगी !

ये दर्द की तन्हाइयाँ ये दश्त का वीराँ सफ़र,
हम लोग तो उक्ता गए अपनी सुना आवारगी !

एक अजनबी झोंके ने जब पूछा मेरे ग़म का सबब,
सहरा की भीगी रेत पर मैं ने लिखा आवारगी !

उस सम्त वहशी ख़्वाहिशों की ज़द में पैमान-ए-वफ़ा,
उस सम्त लहरों की धमक कच्चा घड़ा आवारगी !

कल रात तन्हा चाँद को देखा था मैं ने ख़्वाब में,
“मोहसिन” मुझे रास आएगी शायद सदा आवारगी !!

 

Hum kahan hain ye pata lo tum bhi..

Hum kahan hain ye pata lo tum bhi,
Baat aadhi to sambhaalo tum bhi.

Dil lagaya hi nahi tha tum ne,
Dil-lagi ki thi maza lo tum bhi.

Hum ko aankhon mein na aanjo lekin,
Khud ko khud par to saza lo tum bhi.

Jism ki nind mein sone walon,
Ruh mein khwab to palo tum bhi. !!

हम कहाँ हैं ये पता लो तुम भी,
बात आधी तो सँभालो तुम भी !

दिल लगाया ही नहीं था तुम ने,
दिल-लगी की थी मज़ा लो तुम भी !

हम को आँखों में न आँजो लेकिन,
ख़ुद को ख़ुद पर तो सजा लो तुम भी !

जिस्म की नींद में सोने वालों,
रूह में ख़्वाब तो पालो तुम भी !!

 

Dil to karta hai khair karta hai..

Dil to karta hai khair karta hai,
Aap ka zikr ghair karta hai.

Kyun na main dil se dun dua us ko,
Jabki wo mujh se bair karta hai.

Aap to hu-ba-hu wahi hain jo,
Mere sapnon mein sair karta hai.

Ishq kyun aap se ye dil mera,
Mujh se puchhe baghair karta hai.

Ek zarra duaen maa ki le,
Aasmanon ki sair karta hai. !!

दिल तो करता है ख़ैर करता है,
आप का ज़िक्र ग़ैर करता है !

क्यूँ न मैं दिल से दूँ दुआ उस को,
जबकि वो मुझ से बैर करता है !

आप तो हू-ब-हू वही हैं जो,
मेरे सपनों में सैर करता है !

इश्क़ क्यूँ आप से ये दिल मेरा,
मुझ से पूछे बग़ैर करता है !

एक ज़र्रा दुआएँ माँ की ले,
आसमानों की सैर करता है !!

 

Tumhein jine mein aasani bahut hai..

Tumhein jine mein aasani bahut hai,
Tumhare khoon mein pani bahut hai.

Kabutar ishq ka utre to kaise,
Tumhari chhat pe nigarani bahut hai.

Irada kar liya gar khud-kushi ka,
To khud ki aankh ka pani bahut hai.

Zahar suli ne gali goliyon ne,
Hamari zat pahchani bahut hai.

Tumhare dil ki man-mani meri jaan,
Hamare dil ne bhi mani bahut hai. !!

तुम्हें जीने में आसानी बहुत है,
तुम्हारे ख़ून में पानी बहुत है !

कबूतर इश्क़ का उतरे तो कैसे,
तुम्हारी छत पे निगरानी बहुत है !

इरादा कर लिया गर ख़ुद-कुशी का,
तो ख़ुद की आँख का पानी बहुत है !

ज़हर सूली ने गाली गोलियों ने,
हमारी ज़ात पहचानी बहुत है !

तुम्हारे दिल की मन-मानी मेरी जान,
हमारे दिल ने भी मानी बहुत है !!

 

Koi deewana kehta hain koi pagal samjhta hai..

Koi deewana kehta hain koi pagal samjhta hai,
Magar dharti ki bechani ko bas badal samjhta hai,
Main tujhse dur kaisa hu, tu mujhse dur kaisi hai,
Yeh tera dil samjhta hain ya mera dil samjhta hai.

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है,
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है,
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर कैसी है,
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है !

Mohobbat ek ehsaason ki paawan si kahani hain,
Kabhi kabira deewana tha kabhi meera deewani hain,
Yahaan sab log kehte hain meri aakho mein aansoo hain,
Jo tu samjhe toh moti hain jo na samjhe toh paani hain.

मोहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है,
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है,
यहाँ सब लोग कहते हैं, मेरी आंखों में आँसू हैं,
जो तू समझे तो मोती है, जो ना समझे तो पानी है !

Badalne ko toh in aankhon ke manzar kam nahi badle,
Tumhari yaad ke mausam humhare gham nahi badle,
Tu agle janm mein humse milogi tab toh manogi,
Jamane aur sadi ki is badal mein hum nahi badle.

बदलने को तो इन आंखों के मंजर कम नहीं बदले,
तुम्हारी याद के मौसम हमारे गम नहीं बदले,
तुम अगले जन्म में हमसे मिलोगी तब तो मानोगी,
जमाने और सदी की इस बदल में हम नहीं बदले !

Humein maloom hai do dil judaai seh nahi sakte,
Magar rasmein-wafa ye hai ki ye bhi kah nahi sakte,
Zara kuchh der tum un sahilon ki chikh sun bhar lo,
Jo lahron mein toh dube hai magar sang bah nahi sakte.

हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते,
मगर रस्मे-वफ़ा ये है कि ये भी कह नहीं सकते,
जरा कुछ देर तुम उन साहिलों कि चीख सुन भर लो,
जो लहरों में तो डूबे हैं, मगर संग बह नहीं सकते !

Samandar peer ka andar hain lekin ro nahi sakta,
Yeh aansu pyaar ka moti hain isko kho nahi sakta,
Meri chahat ko dulhan tu bana lena magar sun le,
Jo mera ho nahi paya woh tera ho nahi sakta.

समंदर पीर का अन्दर है, लेकिन रो नही सकता,
यह आँसू प्यार का मोती है, इसको खो नही सकता,
मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना, मगर सुन ले,
जो मेरा हो नही पाया, वो तेरा हो नही सकता !