Home / Poetry Types Dhoop

Poetry Types Dhoop

Zikr-e-shab-e-firaq se wahshat use bhi thi..

Zikr-e-shab-e-firaq se wahshat use bhi thi,
Meri tarah kisi se mohabbat use bhi thi.

Mujh ko bhi shauq tha naye chehron ki did ka,
Rasta badal ke chalne ki aadat use bhi thi.

Is raat der tak wo raha mahw-e-guftugu,
Masruf main bhi kam tha faraghat use bhi thi.

Mujh se bichhad ke shehar mein ghul-mil gaya wo shakhs,
Haalanki shehar-bhar se adawat use bhi thi.

Wo mujh se badh ke zabt ka aadi tha ji gaya,
Warna har ek sans qayamat use bhi thi.

Sunta tha wo bhi sab se purani kahaniyan,
Shayad rafaqaton ki zarurat use bhi thi.

Tanha hua safar mein to mujh pe khula ye bhed,
Saye se pyar dhup se nafrat use bhi thi.

“Mohsin” main us se kah na saka yun bhi haal dil,
Darpesh ek taza musibat use bhi thi. !!

ज़िक्र-ए-शब-ए-फ़िराक़ से वहशत उसे भी थी,
मेरी तरह किसी से मोहब्बत उसे भी थी !

मुझ को भी शौक़ था नए चेहरों की दीद का,
रस्ता बदल के चलने की आदत उसे भी थी !

इस रात देर तक वो रहा महव-ए-गुफ़्तुगू,
मसरूफ़ मैं भी कम था फ़राग़त उसे भी थी !

मुझ से बिछड़ के शहर में घुल-मिल गया वो शख़्स,
हालाँकि शहर-भर से अदावत उसे भी थी !

वो मुझ से बढ़ के ज़ब्त का आदी था जी गया,
वर्ना हर एक साँस क़यामत उसे भी थी !

सुनता था वो भी सब से पुरानी कहानियाँ,
शायद रफ़ाक़तों की ज़रूरत उसे भी थी !

तन्हा हुआ सफ़र में तो मुझ पे खुला ये भेद,
साए से प्यार धूप से नफ़रत उसे भी थी !

“मोहसिन” मैं उस से कह न सका यूँ भी हाल दिल,
दरपेश एक ताज़ा मुसीबत उसे भी थी !!

 

Kahin se laut ke hum ladkhadaye hain kya-kya..

Kahin se laut ke hum ladkhadaye hain kya-kya,
Sitare zer-e-qadam raat aaye hain kya-kya.

Nasheb-e-hasti se afsos hum ubhar na sake,
Faraaz-e-dar se paigham aaye hain kya-kya.

Jab uss ne haar ke khanjar zameen pe phenk diya,
Tamaam zakhm-e-jigar muskuraye hain kya-kya.

Chhata jahan se uss aawaz ka ghana badal,
Wahin se dhoop ne talve jalaye hain kya-kya.

Utha ke sar mujhe itna do dekh lene de,
Ki qatl-gaah mein diwane aaye hain kya-kya.

Kahin andhere se maanus ho na jaye adab,
charagh tez hawa ne bujhaye hain kya-kya. !!

कहीं से लौट के हम लड़खड़ाए हैं क्या-क्या,
सितारे ज़ेर-ए-क़दम रात आए हैं क्या-क्या !

नशेब-ए-हस्ती से अफ़्सोस हम उभर न सके,
फ़राज़-ए-दार से पैग़ाम आए हैं क्या-क्या !

जब उस ने हार के ख़ंजर ज़मीन पे फेंक दिया,
तमाम ज़ख़्म-ए-जिगर मुस्कुराए हैं क्या-क्या !

छटा जहाँ से उस आवाज़ का घना बादल,
वहीं से धूप ने तलवे जलाए हैं क्या-क्या !

उठा के सर मुझे इतना तो देख लेने दे,
कि क़त्ल-गाह में दीवाने आए हैं क्या-क्या !

कहीं अँधेरे से मानूस हो न जाए अदब,
चराग़ तेज़ हवा ने बुझाए हैं क्या-क्या !!

 

Hath aa kar laga gaya koi..

Haath aa kar laga gaya koi,
Mera chhappar utha gaya koi.

Lag gaya ek masheen mein main bhi,
Shehar mein le ke aa gaya koi.

Main khada tha ki peeth par meri,
Ishtihaar ek laga gaya koi.

Ye sadi dhoop ko tarasti hai,
Jaise sooraj ko kha gaya koi.

Aisi mehangaai hai ki chehra bhi,
Bech ke apna kha gaya koi.

Ab woh armaan hain na woh sapne,
Sab kabootar uda gaya koi.

Woh gaye jab se aisa lagta hai,
Chhota mota khuda gaya koi.

Mera bachpan bhi saath le gaya,
Gaaon se jab bhi aa gaya koi. !!

हाथ आ कर लगा गया कोई,
मेरा छप्पर उठा गया कोई !

लग गया एक मशीन में मैं भी,
शहर में ले के आ गया कोई !

मैं खड़ा था कि पीठ पर मेरी,
इश्तिहार एक लगा गया कोई !

ये सदी धूप को तरसती है,
जैसे सूरज को खा गया कोई !

ऐसी महँगाई है कि चेहरा भी,
बेच के अपना खा गया कोई !

अब वो अरमान हैं न वो सपने,
सब कबूतर उड़ा गया कोई !

वो गए जब से ऐसा लगता है,
छोटा मोटा ख़ुदा गया कोई !

मेरा बचपन भी साथ ले आया,
गाँव से जब भी आ गया कोई !!

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bahan बहन)

1.
Kis din koi rishta meri Bahano ko milega,
Kab nind ka mausam meri aankhon ko milega.

किस दिन कोई रिश्ता मेरी बहनों को मिलेगा,
कब नींद का मौसम मेरी आँखों को मिलेगा !

2.
Meri gudiya-si Bahan ko khudkushi karni padi,
Kya khabar thi ki dost mera is kadar gir jayega.

मेरी गुड़िया-सी बहन को ख़ुद्कुशी करनी पड़ी,
क्या ख़बर थी दोस्त मेरा इस क़दर गिर जायेगा !

3.
Kisi bachche ki tarah phoot ke royi thi bahut,
Ajnabi hath mein wah apni kalaai dete.

किसी बच्चे की तरह फूट के रोई थी बहुत,
अजनबी हाथ में वह अपनी कलाई देते !

4.
Jab ye suna ki haar ke lauta hun jang se,
Raakhi zameen pe phenk ke Bahanein chali gayi.

जब यह सुना कि हार के लौटा हूँ जंग से,
राखी ज़मीं पे फेंक के बहनें चली गईं !

5.
Chahata hun ki tere hath bhi pile ho jaye,
Kya karun main koi rishta hi nahi aata hai.

चाहता हूँ कि तेरे हाथ भी पीले हो जायें,
क्या करूँ मैं कोई रिश्ता ही नहीं आता है !

6.
Har khushi byaaj pe laya hua dhan lagti hai,
Aur udasi mujhe munh boli Bahan lagti hai.

हर ख़ुशी ब्याज़ पे लाया हुआ धन लगती है,
और उदासी मुझे मुझे मुँह बोली बहन लगती है !

7.
Dhoop rishton ki nikal aayegi ye aas liye,
Ghar ki dehleez pe baithi rahi meri Bahanein.

धूप रिश्तों की निकल आयेगी ये आस लिए,
घर की दहलीज़ पे बैठी रहीं मेरी बहनें !

8.
Is liye baithi hai dehleez pe meri Bahanein,
Phal nahi chahate taaumar shazar mein rehana.

इस लिए बैठी हैं दहलीज़ पे मेरी बहनें,
फल नहीं चाहते ताउम्र शजर में रहना !

9.
Naummidi ne bhare ghar mein andhera kar diya,
Bhai khaali hath laute aur Bahanein bujh gayi.

नाउम्मीदी ने भरे घर में अँधेरा कर दिया,
भाई ख़ाली हाथ लौटे और बहनें बुझ गईं !

 

Abhi Maujood Hai Is Gaon Ki Mitti Mein Khuddari

1.
Abhi maujood hai is gaon ki mitti mein khuddari,
Abhi bewa ki gairat se mahajan haar jata hai.

अभी मौजूद है इस गाँव की मिट्टी में ख़ुद्दारी,
अभी बेवा की ग़ैरत से महाजन हार जाता है !

2.
Maa ki mamta ghane badalon ki tarah sar pe saya kiye sath chalti rahi,
Ek bachcha kitaabein liye hath mein khamoshi se sadak paar karte hue.

माँ की ममता घने बादलों की तरह सर पे साया किए साथ चलती रही,
एक बच्चा किताबें लिए हाथ में ख़ामुशी से सड़क पार करते हुए !

3.
Dukh bugurgon ne kaafi uthaye magar mera bachpan bahut hi suhana raha,
Umar bhar dhoop mein ped jalte rahe apni shaakhe samardaar karte hue.

दुख बुज़ुर्गों ने काफ़ी उठाए मगर मेरा बचपन बहुत ही सुहाना रहा,
उम्र भर धूप में पेड़ जलते रहे अपनी शाख़ें-समरदार करते हुए !

4.
Chalo mana ki shahnaai masarat ki nishani hai,
Magar wo shakhs jiski aa ke beti baith jati hai.

चलो माना कि शहनाई मसर्रत की निशानी है,
मगर वो शख़्स जिसकी आ के बेटी बैठ जाती है !

5.
Maloom nahi kaise jaroorat nikal aayi,
Sar kholte hue ghar se sharafat nikal aayi.

मालूम नहीं कैसे ज़रूरत निकल आई,
सर खोले हुए घर से शराफ़त निकल आई !

6.
Ismein bachchon ki jali laashon ki tasvirein hain,
Dekhna hath se akhbaar na girne paye.

इसमें बच्चों की जली लाशों की तस्वीरें हैं,
देखना हाथ से अख़बार न गिरने पाये !

7.
Odhe hue badan pe gareebi chale gaye,
Bahano ko rota chhod ke bhai chale gaye.

ओढ़े हुए बदन पे ग़रीबी चले गये,
बहनों को रोता छोड़ के भाई चले गये !

8.
Kisi budhe ki laathi chhin gayi hai,
Wo dekho ik janaja jaa raha hai.

किसी बूढ़े की लाठी छिन गई है,
वो देखो एक जनाज़ा जा रहा है !

9.
Aangan ki taksim ka kissa,
Mein jaanu ya baba jane.

आँगन की तक़सीम का क़िस्सा,
मैं जानूँ या बाबा जानें !

10.
Humari cheekhti aankhon ne jalte shehar dekhe hain.
Bure lagte hain ab kisse humein Bhai-Bahan wale.

हमारी चीखती आँखों ने जलते शहर देखे हैं,
बुरे लगते हैं अब क़िस्से हमें भाई-बहन वाले !

11.
Isliye maine bujurgon ki zameene chhod di,
Mera ghar jis din basega tera ghar gir jayega.

इसलिए मैंने बुज़ुर्गों की ज़मीनें छोड़ दीं,
मेरा घर जिस दिन बसेगा तेरा घर गिर जाएगा !

12.
Bachpan mein kisi baat pe hum ruth gaye the,
Us din se isi shehar mein hain ghar nahi jate.

बचपन में किसी बात पे हम रूठ गये थे,
उस दिन से इसी शहर में हैं घर नहीं जाते !

13.
Bichhad ke tujh se teri yaad bhi nahi aayi,
Humare kaam ye aulaad bhi nahi aayi.

बिछड़ के तुझ से तेरी याद भी नहीं आई,
हमारे काम ये औलाद भी नहीं आई !

14.
Mujhko har haal mein bkhshega ujala apna,
Chand rishte mein nahi lagta hai mama apna.

मुझको हर हाल में बख़्शेगा उजाला अपना,
चाँद रिश्ते में नहीं लगता है मामा अपना !

15.
Main narm mitti hun tum raund kar gujar jaao,
Ki mere naaz to bas kujagar uthata hai.

मैं नर्म मिट्टी हूँ तुम रौंद कर गुज़र जाओ,
कि मेरे नाज़ तो बस क़ूज़ागर उठाता है !

16.
Masaayal ne humein budha kya hai waqt se pahale,
Gharelu uljhane aksar jawani chhin leti hain.

मसायल नें हमें बूढ़ा किया है वक़्त से पहले,
घरेलू उलझनें अक्सर जवानी छीन लेती हैं !

17.
Uchhale-khelte bachpan mein beta dhundti hogi,
Tabhi to dekh kar pote ko dadi muskurati hai.

उछलते-खेलते बचपन में बेटा ढूँढती होगी,
तभी तो देख कर पोते को दादी मुस्कुराती है !

18.
Kuch khilaune kabhi aangan mein dikhaai dete,
Kash hum bhi kisi bachche ko mithaai dete.

कुछ खिलौने कभी आँगन में दिखाई देते,
काश हम भी किसी बच्चे को मिठाई देते !

19.
Daulat se mohabbat to nahi thi mujhe lekin,
Bachchon ne khilaunon ki taraf dekh liya tha.

दौलत से मुहब्बत तो नहीं थी मुझे लेकिन,
बच्चों ने खिलौनों की तरफ़ देख लिया था !

20.
Jism par mere bahut shffaaf kapde the magar,
Dhul mitti mein aata beta bahut achcha laga.

जिस्म पर मेरे बहुत शफ़्फ़ाफ़ कपड़े थे मगर,
धूल मिट्टी में आता बेटा बहुत अच्छा लगा !

Munawwar Rana “Maa” Part 5

1.
Wo ja raha hai ghar se janaza bujurg ka,
Aangan mein ek darkhat purana nahi raha.

वो जा रहा है घर से जनाज़ा बुज़ुर्ग का,
आँगन में एक दरख़्त पुराना नहीं रहा !

2.
Wo to likha ke layi hai kismat mein jagana,
Maa kaise so sakegi ki beta safar mein hai.

वो तो लिखा के लाई है क़िस्मत में जागना,
माँ कैसे सो सकेगी कि बेटा सफ़र में है !

3.
Shahzaade ko ye maloom nahi hai shayad,
Maa nahi janti dastaar ka bosa lena.

शाहज़ादे को ये मालूम नहीं है शायद,
माँ नहीं जानती दस्तार का बोसा लेना !

4.
Aankhon se mangane lage paani wajoo ka hum,
Kagaz pe jab bhi dekh liya Maa likha hua.

आँखों से माँगने लगे पानी वज़ू का हम,
काग़ज़ पे जब भी देख लिया माँ लिखा हुआ !

5.
Abhi to meri jaroorat hai mere bachchon ko,
Bade hue to ye khud intezaam kar lenge.

अभी तो मेरी ज़रूरत है मेरे बच्चों को,
बड़े हुए तो ये ख़ुद इन्त्ज़ाम कर लेंगे !

6.
Main hun mera bachcha hai khilauno ki dukaan hai,
Ab koi mere paas bahana bhi nahi hai.

मैं हूँ मेरा बच्चा है खिलौनों की दुकाँ है,
अब कोई मेरे पास बहाना भी नहीं है !

7.
Aye khuda ! tu fees ke paise ataa kar de mujhe,
Mere bachchon ko bhi University achchi lagi.

ऐ ख़ुदा ! तू फ़ीस के पैसे अता कर दे मुझे,
मेरे बच्चों को भी यूनिवर्सिटी अच्छी लगी !

8.
Bhikh se to bhukh achchi gaon ko waapas chalo,
Shehar mein rehane se ye bachcha bura ho jayega.

भीख से तो भूख अच्छी गाँव को वापस चलो,
शहर में रहने से ये बच्चा बुरा हो जाएगा !

9.
Khilaunon ke liye bachche abhi tak jagte honge,
Tujhe aye muflisi koi bahana dhund lena hai.

खिलौनों के लिए बच्चे अभी तक जागते होंगे,
तुझे ऐ मुफ़्लिसी कोई बहाना ढूँढ लेना है !

10.
Mamata ki aabroo ko bachaaya hai neend ne,
Bachcha Zameen pe so bhi gaya khelte hue.

ममता की आबरू को बचाया है नींद ने,
बच्चा ज़मीं पे सो भी गया खेलते हुए !

11.
Mere bachche naamuraadi mein jawaan bhi ho gaye,
Meri khwaahish sirf baazaaron ki taaqat rah gayi.

मेरे बच्चे नामुरादी में जवाँ भी हो गये,
मेरी ख़्वाहिश सिर्फ़ बाज़ारों को तकती रह गई !

12.
Bachchon ki fees unki kitaabein kalam dawaat,
Meri gareeb aankhon mein school chubh gaya.

बच्चों की फ़ीस उनकी किताबें क़लम दवात,
मेरी ग़रीब आँखों में स्कूल चुभ गया !

13.
Wo samjhate hi nahi hain meri majboori ko,
Isliye bachchon pe gussa bhi nahi aata hai.

वो समझते ही नहीं हैं मेरी मजबूरी को,
इसलिए बच्चों पे ग़ुस्सा भी नहीं आता है !

14.
Kisi bhi rang ko pehchanana mushqil nahi hota,
Mere bachche ki soorat dekh isko jard kehate hain.

किसी भी रंग को पहचानना मुश्किल नहीं होता,
मेरे बच्चे की सूरत देख इसको ज़र्द कहते हैं !

15.
Dhoop se mil gaye hain ped humare ghar ke,
Main samjhati thi ki kaam aayega beta apna.

धूप से मिल गये हैं पेड़ हमारे घर के,
मैं समझती थी कि काम आएगा बेटा अपना !

16.
Phir usko mar ke bhi khud se juda hone nahi deti,
Ye mitti jab kisi ko apna beta maan leti hai.

फिर उसको मर के भी ख़ुद से जुदा होने नहीं देती,
यह मिट्टी जब किसी को अपना बेटा मान लेती है !

17.
Tamaam umar salaamat rahein dua hai meri,
Humare sar pe hain jo haath barkaton wale.

तमाम उम्र सलामत रहें दुआ है मेरी,
हमारे सर पे हैं जो हाथ बरकतों वाले !

18.
Humari muflisi humko izaazat to nahi deti,
Magar hum teri khaatir koi shahzaada bhi dekhenge.

हमारी मुफ़्लिसी हमको इजाज़त तो नहीं देती,
मगर हम तेरी ख़ातिर कोई शहज़ादा भी देखेंगे !

19.
Maa-Baap ki budhi aankhon mein ek fikr-si chaai rehati hai,
Jis kambal mein sab sote the ab wo bhi chhota padta hai.

माँ-बाप की बूढ़ी आँखों में एक फ़िक़्र-सी छाई रहती है,
जिस कम्बल में सब सोते थे अब वो भी छोटा पड़ता है !

20.
Dosti dushmani dono shaamil rahin doston ki nawaazish thi kuch is tarah,
Kaat le shookh bachcha koi jis tarah Maa ke rukhsaar par pyar karte hue.

दोस्ती दुश्मनी दोनों शामिल रहीं दोस्तों की नवाज़िश थी कुछ इस तरह,
काट ले शोख़ बच्चा कोई जिस तरह माँ के रुख़सार पर प्यार करते हुए !

Munawwar Rana “Maa” Part 1

1.
Hanste hue Maa-Baap ki gaali nahi khaate,
Bachche hain to kyon shauq se mitti nahi khaate.

हँसते हुए माँ-बाप की गाली नहीं खाते,
बच्चे हैं तो क्यों शौक़ से मिट्टी नहीं खाते !

2.
Ho chaahe jis ilaaqe ki zaban bachche samajhte hain,
Sagi hai ya ki sauteli hai Maa bachche samajhte hain.

हो चाहे जिस इलाक़े की ज़बाँ बच्चे समझते हैं,
सगी है या कि सौतेली है माँ बच्चे समझते हैं !

3.
Hawa dukhon ki jab aayi kabhi khizaan ki tarah,
Mujhe chhupa liya mitti ne meri Maa ki tarah.

हवा दुखों की जब आई कभी ख़िज़ाँ की तरह,
मुझे छुपा लिया मिट्टी ने मेरी माँ की तरह !

4.
Sisakiyaan uski na dekhi gayi mujhse “Rana”,
Ro pada main bhi use pehli kamaayi dete.

सिसकियाँ उसकी न देखी गईं मुझसे “राना”,
रो पड़ा मैं भी उसे पहली कमाई देते !

5.
Sar-phire log humein dushman-e-jaan kehte hain,
Hum jo is mulk ki mitti ko bhi Maa kehte hain.

सर फिरे लोग हमें दुश्मन-ए-जाँ कहते हैं,
हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी माँ कहते हैं !

6.
Mujhe bas is liye achchhi bahaar lagati hai,
Ki ye bhi Maa ki tarah khush-gawaar lagati hai.

मुझे बस इस लिए अच्छी बहार लगती है,
कि ये भी माँ की तरह ख़ुशगवार लगती है !

7.
Maine rote hue ponchhe the kisi din aansoo,
Muddaton Maa ne nahi dhoya dupatta apna.

मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आँसू,
मुद्दतों माँ ने नहीं धोया दुपट्टा अपना !

8.
Bheje gaye farishte humaare bachaav ko,
Jab haadsaat Maa ki dua se ulajh pade.

भेजे गए फ़रिश्ते हमारे बचाव को,
जब हादसात माँ की दुआ से उलझ पड़े !

9.
Labon pe us ke kabhi bad-dua nahi hoti,
Bas ek Maa hai jo mujh se khafa nahi hoti.

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती,
बस एक माँ है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती !

10.
Taar par bathi hui chidiyon ko sota dekh kar,
Farsh par sota hua beta bahut achchha laga.

तार पर बैठी हुई चिड़ियों को सोता देख कर,
फ़र्श पर सोता हुआ बेटा बहुत अच्छा लगा !!

11.
Is chehre mein poshida hai ek kaum ka chehra,
Chehre ka utar jana munasib nahi hoga.

इस चेहरे में पोशीदा है इक क़ौम का चेहरा,
चेहरे का उतर जाना मुनासिब नहीं होगा !

12.
Ab bhi chalti hai jab aandhi kabhi gham ki “Rana”,
Maa ki mamta mujhe baahon mein chhupa leti hai.

अब भी चलती है जब आँधी कभी ग़म की “राना”,
माँ की ममता मुझे बाहों में छुपा लेती है !

13.
Musibat ke dinon mein humesha sath rahti hai,
Payambar kya pareshaani mein ummat chhod sakta hai ?

मुसीबत के दिनों में हमेशा साथ रहती है,
पयम्बर क्या परेशानी में उम्मत छोड़ सकता है ?

14.
Puraana ped buzurgon ki tarah hota hai,
Yahi bahut hai ki taaza hawayen deta hai.

पुराना पेड़ बुज़ुर्गों की तरह होता है,
यही बहुत है कि ताज़ा हवाएँ देता है !

15.
Kisi ke paas aate hain to dariya sukh jate hain,
Kisi ke ediyon se ret ka chashma nikalta hai.

किसी के पास आते हैं तो दरिया सूख जाते हैं,
किसी के एड़ियों से रेत का चश्मा निकलता है !

16.
Jab tak raha hun dhoop mein chadar bana raha,
Main apni Maa ka aakhiri jevar bana raha.

जब तक रहा हूँ धूप में चादर बना रहा,
मैं अपनी माँ का आखिरी ज़ेवर बना रहा !

17.
Dekh le zalim shikaari ! Maa ki mamata dekh le,
Dekh le chidiya tere daane talak to aa gayi.

देख ले ज़ालिम शिकारी ! माँ की ममता देख ले,
देख ले चिड़िया तेरे दाने तलक तो आ गई !

18.
Mujhe bhi us ki judai satate rehti hai,
Use bhi khwaab mein beta dikhaayi deta hai.

मुझे भी उसकी जुदाई सताती रहती है,
उसे भी ख़्वाब में बेटा दिखाई देता है !

19.
Muflisi ghar mein theharne nahi deti usko,
Aur pardesh mein beta nahi rahne deta.

मुफ़लिसी घर में ठहरने नहीं देती उसको,
और परदेस में बेटा नहीं रहने देता !

20.
Agar school mein bachche hon ghar achchha nahi lagta,
Parindon ke na hone par shajar achchha nahi lagta.

अगर स्कूल में बच्चे हों घर अच्छा नहीं लगता,
परिन्दों के न होने पर शजर अच्छा नहीं लगता !