Sunday , March 29 2020
Home / Poetry Types Dariya

Poetry Types Dariya

Wo to khushbu hai hawaon mein bikhar jayega..

Wo to khushbu hai hawaon mein bikhar jayega,
Masla phool ka hai phool kidhar jayega.

Hum to samjhe the ki ek zakhm hai bhar jayega,
Kya khabar thi ki rag-e-jaan mein utar jayega.

Wo hawaon ki tarah khana-ba-jaan phirta hai,
Ek jhonka hai jo aayega guzar jayega.

Wo jab aayega to phir us ki rifaqat ke liye,
Mausam-e-gul mere aangan mein thahar jayega.

Aakhirash wo bhi kahin ret pe baithi hogi,
Tera ye pyar bhi dariya hai utar jayega.

Mujh ko tahzib ke barzakh ka banaya waris,
Jurm ye bhi mere ajdad ke sar jayega. !!

वो तो ख़ुशबू है हवाओं में बिखर जाएगा,
मसअला फूल का है फूल किधर जाएगा !

हम तो समझे थे कि एक ज़ख़्म है भर जाएगा,
क्या ख़बर थी कि रग-ए-जाँ में उतर जाएगा !

वो हवाओं की तरह ख़ाना-ब-जाँ फिरता है,
एक झोंका है जो आएगा गुज़र जाएगा !

वो जब आएगा तो फिर उस की रिफ़ाक़त के लिए,
मौसम-ए-गुल मेरे आँगन में ठहर जाएगा !

आख़िरश वो भी कहीं रेत पे बैठी होगी,
तेरा ये प्यार भी दरिया है उतर जाएगा !

मुझ को तहज़ीब के बर्ज़ख़ का बनाया वारिस,
जुर्म ये भी मेरे अज्दाद के सर जाएगा !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Aaj Ki Raat Bhi Guzri Hai Meri Kal Ki Tarah..

Aaj ki raat bhi guzri hai meri kal ki tarah,
Hath aaye na sitare tere aanchal ki tarah.

Hadsa koi to guzra hai yakinan yaro,
Ek sannata hai mujh mein kisi maqtal ki tarah.

Phir na nikla koi ghar se ki hawa phirti thi,
Sang hathon mein uthaye kisi pagal ki tarah.

Tu ki dariya hai magar meri tarah pyasa hai,
Main tere pas chala aaunga baadal ki tarah.

Raat jalti hui ek aisi chita hai jis par,
Teri yaaden hain sulagte hue sandal ki tarah.

Main hun ek khwab magar jagti aankhon ka “Amir“,
Aaj bhi log ganwa den na mujhe kal ki tarah. !!

आज की रात भी गुज़री है मेरी कल की तरह,
हाथ आए न सितारे तेरे आँचल की तरह !

हादसा कोई तो गुज़रा है यक़ीनन यारो,
एक सन्नाटा है मुझ में किसी मक़्तल की तरह !

फिर न निकला कोई घर से कि हवा फिरती थी,
संग हाथों में उठाए किसी पागल की तरह !

तू कि दरिया है मगर मेरी तरह प्यासा है,
मैं तेरे पास चला आऊँगा बादल की तरह !

रात जलती हुई एक ऐसी चिता है जिस पर,
तेरी यादें हैं सुलगते हुए संदल की तरह !

मैं हूँ एक ख़्वाब मगर जागती आँखों का “अमीर“,
आज भी लोग गँवा दें न मुझे कल की तरह !!

 

Parakhna Mat Parakhne Mein Koi Apna Nahi Rahta

Parakhna mat parakhne mein koi apna nahi rahta,
Kisi bhi aaine mein der tak chehra nahi rahta.

Bade logon se milne mein hamesha fasla rakhna,
Jahan dariya samandar me mile dariya nahi rahta.

Hazaron sher mere so gaye kaghaz ki qabron mein,
Ajab maa hun koi baccha mera zinda nahi rahta.

Tumhara shehar to bilkul naye andaz wala hai,
Humare shehar mein bhi koi hum sa nahi rahta.

Mohabbat ek khushbu hai hamesha sath chalti hai,
Koi insan tanhai mein bhi tanha nahi rahta.

Koi badal hare mausam ka phir elaan karta hai,
Khizan ke baagh mein jab ek bhi patta nahi rahta. !!

परखना मत परखने में कोई अपना नहीं रहता,
किसी भी आईने में देर तक चेहरा नहीं रहता !

बडे लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना,
जहां दरिया समन्दर में मिले दरिया नहीं रहता !

हजारों शेर मेरे सो गये कागज की कब्रों में,
अजब मां हूं कोई बच्चा मेरा ज़िन्दा नहीं रहता !

तुम्हारा शहर तो बिल्कुल नये अन्दाज वाला है,
हमारे शहर में भी अब कोई हम सा नहीं रहता !

मोहब्बत एक खुशबू है हमेशा साथ रहती है,
कोई इन्सान तन्हाई में भी कभी तन्हा नहीं रहता !

कोई बादल हरे मौसम का फ़िर ऐलान करता है,
ख़िज़ा के बाग में जब एक भी पत्ता नहीं रहता !! -Bashir Badr Ghazal

 

Ghazlon Ka Hunar Apni Aankhon Ko Sikhayenge..

Ghazlon ka hunar apni aankhon ko sikhayenge,
Royenge bahut lekin aansoo nahi aayenge.

Keh dena samundar se hum os ke moti hain,
Dariya ki tarah tujh se milne nahi aayenge.

Wo dhup ke chhappar hon ya chhanw ki diwarein,
Ab jo bhi uthayenge mil jul ke uthayenge.

Jab sath na de koi aawaz hamein dena,
Hum phool sahi lekin patthar bhi uthayenge. !!

ग़ज़लों का हुनर अपनी आँखों को सिखाएंगे,
रोयेंगे बहुत लेकिन आंसू नहीं आयेंगे !

कह देना समंदर से हम ओस के मोती है,
दरिया कि तरह तुझ से मिलने नहीं आयेंगे !

वो धुप के छप्पर हों या छाँव कि दीवारें,
अब जो भी उठाएंगे मिल जुल के उठाएंगे !

जब साथ न दे कोई आवाज़ हमे देना,
हम फूल सही लेकिन पत्थर भी उठाएंगे !! -Bashir Badr Ghazal

 

Bahar Na Aao Ghar Mein Raho Tum Nashe Mein Ho..

Bahar na aao ghar mein raho tum nashe mein ho,
So jaao din ko raat karo tum nashe mein ho.

Dariya se ikhtelaaf ka anjaam soch lo,
Lehron ke saath saath baho tum nashe mein ho.

Behad shareef logon se kuch faasla rakho,
Pi lo magar kabhi na kaho tum nashe mein ho.

Kaghaz ka ye libas chiraghon ke shehar mein,
Zara sambhal sambhal ke chalo tum nashe mein ho.

Kya dosto ne tum ko pilayi hai raat bhar,
Ab dushmano ke saath raho tum nashe mein ho. !!

बाहर ना आओ घर में रहो तुम नशे में हो,
सो जाओ दिन को रात करो तुम नशे में हो !

दरिया से इख्तेलाफ़ का अंजाम सोच लो,
लहरों के साथ साथ बहो तुम नशे में हो !

बेहद शरीफ लोगो से कुछ फासला रखो,
पी लो मगर कभी ना कहो तुम नशे में हो !

कागज का ये लिबास चिरागों के शहर में,
जरा संभल संभल कर चलो तुम नशे में हो !

क्या दोस्तों ने तुम को पिलाई है रात भर,
अब दुश्मनों के साथ रहो तुम नशे में हो !! -Bashir Badr Ghazal

 

Sar Jhukaoge To Patthar Devta Ho Jayega..

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega

 

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega,
Itna mat chaho use wo bewafa ho jayega.

Hum bhi dariya hain hamein apna hunar malum hai,
Jis taraf bhi chal padenge rasta ho jayega.

Kitni sachchai se mujh se zindagi ne kah diya,
Tu nahin mera to koi dusra ho jayega.

Main khuda ka naam lekar pi raha hun dosto,
Zahar bhi is mein agar hoga dawa ho jayega.

Sab usi ke hain hawa khushboo zamin-o-aasman,
Main jahan bhi jaunga us ko pata ho jayega. !!

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा,
इतना मत चाहो उसे वो बेवफ़ा हो जाएगा !

हम भी दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है,
जिस तरफ भी चल पड़ेंगे रास्ता हो जाएगा !

कितनी सच्चाई से मुझसे ज़िन्दगी ने कह दिया,
तू नहीं मेरा तो कोई दूसरा हो जाएगा !

मैं खुदा का नाम लेकर पी रहा हूं दोस्तों,
ज़हर भी इसमें अगर होगा दवा हो जाएगा !

सब उसी के हैं हवा ख़ुशबू ज़मीन-ओ-आसमां
मैं जहां भी जाऊंगा, उसको पता हो जाएगा !! -Bashir Badr Ghazal

 

Teri Har Baat Mohabbat Mein Gawara Kar Ke..

Teri har baat mohabbat mein gawara kar ke

Teri har baat mohabbat mein gawara kar ke,
Dil ke bazaar mein baithe hain khasara kar ke.

Aate jate hain kai rang mere chehre par,
Log lete hain maza zikr tumhara kar ke.

Ek chingari nazar aai thi basti mein use,
Wo alag hat gaya aandhi ko ishaara kar ke.

Aasmanon ki taraf phenk diya hai maine,
Chand miti ke charaghon ko sitara kar ke.

Main wo dariya hun ki har bund bhanwar hai jis ki,
Tum ne achchha hi kiya mujh se kinara kar ke.

Muntazir hun ki sitaron ki zara aankh lage,
Chand ko chhat pur bula lunga ishaara kar ke. !!

तेरी हर बात मोहब्बत में गवारा कर के,
दिल के बाज़ार में बैठे हैं ख़सारा कर के !

आते जाते हैं कई रंग मेरे चेहरे पर,
लोग लेते हैं मज़ा ज़िक्र तुम्हारा कर के !

एक चिंगारी नज़र आई थी बस्ती में उसे,
वो अलग हट गया आँधी को इशारा कर के !

आसमानों की तरफ़ फेंक दिया है मैंने,
चंद मिट्टी के चराग़ों को सितारा कर के !

मैं वो दरिया हूँ कि हर बूँद भँवर है जिस की,
तुम ने अच्छा ही किया मुझ से किनारा कर के !

मुंतज़िर हूँ कि सितारों की ज़रा आँख लगे,
चाँद को छत पुर बुला लूँगा इशारा कर के !! -Rahat Indori Ghazal