Wednesday , February 26 2020
Home / Poetry Types Chand

Poetry Types Chand

Roz Taaron Ko Numaish Mein Khalal Padta Hai..

Roz taaron ko numaish mein khalal padta hai,
Chand pagal hai andhere mein nikal padta hai.

Ek diwana musafir hai meri aankhon mein,
Waqt-be-waqt thahar jata hai chal padta hai.

Apni tabir ke chakkar mein mera jagta khwab,
Roz sooraj ki tarah ghar se nikal padta hai.

Roz patthar ki himayat mein ghazal likhte hain,
Roz shishon se koi kaam nikal padta hai.

Main samandar hun kulhadi se nahi kat sakta,
Koi fawwara nahi hun jo ubal padta hai.

Kal wahan chand uga karte the har aahat par,
Apne raste mein jo viraan mahal padta hai.

Na ta-aaruf na ta-alluk hai magar dil aksar,
Naam sunta hai tumhara uchhal padta hai.

Us ki yaad aayi hai sanso zara aahista chalo,
Dhadkanon se bhi ibaadat mein khalal padta hai. !!

रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं,
चाँद पागल हैं अंधेरे में निकल पड़ता हैं !

एक दीवाना मुसाफ़िर है मेरी आँखों में,
वक़्त-बे-वक़्त ठहर जाता है चल पड़ता है !

अपनी ताबीर के चक्कर में मेरा जागता ख़्वाब,
रोज़ सूरज की तरह घर से निकल पड़ता है !

रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं,
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है !

मैं समंदर हूँ कुल्हाड़ी से नहीं कट सकता,
कोई फव्वारा नही हूँ जो उबल पड़ता हैं !

कल वहाँ चाँद उगा करते थे हर आहट पर,
अपने रास्ते में जो वीरान महल पड़ता हैं !

ना त-आरूफ़ ना त-अल्लुक हैं मगर दिल अक्सर,
नाम सुनता हैं तुम्हारा तो उछल पड़ता हैं !

उसकी याद आई हैं साँसों ज़रा आहिस्ता चलो,
धड़कनो से भी इबादत में खलल पड़ता हैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain..

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain,
So us ke shehar mein kuchh din thahar ke dekhte hain.

Suna hai rabt hai us ko kharab-haalon se,
So apne aap ko barbaad kar ke dekhte hain.

Suna hai dard ki gahak hai chashm-e-naz us ki,
So hum bhi us ki gali se guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ko bhi hai shair-o-shayari se shaghaf,
So hum bhi moajize apne hunar ke dekhte hain.

Suna hai bole to baaton se phool jhadte hain,
Ye baat hai to chalo baat kar ke dekhte hain.

Suna hai raat use chand takta rahta hai,
Sitare baam-e-falak se utar ke dekhte hain.

Suna hai din ko use titliyan satati hain,
Suna hai raat ko jugnu thahar ke dekhte hain.

Suna hai hashr hain us ki ghazal si aankhen,
Suna hai us ko hiran dasht bhar ke dekhte hain.

Suna hai raat se badh kar hain kakulen us ki,
Suna hai sham ko saye guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ki siyah-chashmagi qayamat hai,
So us ko surma-farosh aah bhar ke dekhte hain.

Suna hai us ke labon se gulab jalte hain,
So hum bahaar pe ilzam dhar ke dekhte hain.

Suna hai aaina timsal hai jabin us ki,
Jo sada dil hain use ban-sanwar ke dekhte hain.

Suna hai jab se hamail hain us ki gardan mein,
Mizaj aur hi lal o guhar ke dekhte hain.

Suna hai chashm-e-tasawwur se dasht-e-imkan mein,
Palang zawiye us ki kamar ke dekhte hain.

Suna hai us ke badan ki tarash aisi hai,
Ki phool apni qabayen katar ke dekhte hain.

Wo sarw-qad hai magar be-gul-e-murad nahi,
Ki us shajar pe shagufe samar ke dekhte hain.

Bas ek nigah se lutta hai qafila dil ka,
So rah-rawan-e-tamanna bhi dar ke dekhte hain.

Suna hai us ke shabistan se muttasil hai bahisht,
Makin udhar ke bhi jalwe idhar ke dekhte hain.

Ruke to gardishen us ka tawaf karti hain,
Chale to us ko zamane thahar ke dekhte hain.

Kise nasib ki be-pairahan use dekhe,
Kabhi kabhi dar o diwar ghar ke dekhte hain.

Kahaniyan hi sahi sab mubaalghe hi sahi,
Agar wo khwab hai tabir kar ke dekhte hain.

Ab us ke shehar mein thahren ki kuch kar jayen,
“Faraz” aao sitare safar ke dekhte hain. !!

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं,
सो उस के शहर में कुछ दिन ठहर के देखते हैं !

सुना है रब्त है उस को ख़राब-हालों से,
सो अपने आप को बरबाद कर के देखते हैं !

सुना है दर्द की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उस की,
सो हम भी उस की गली से गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस को भी है शेर-ओ-शायरी से शग़फ़,
सो हम भी मोजिज़े अपने हुनर के देखते हैं !

सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते हैं,
ये बात है तो चलो बात कर के देखते हैं !

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है,
सितारे बाम-ए-फ़लक से उतर के देखते हैं !

सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती हैं,
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते हैं !

सुना है हश्र हैं उस की ग़ज़ाल सी आँखें,
सुना है उस को हिरन दश्त भर के देखते हैं !

सुना है रात से बढ़ कर हैं काकुलें उस की,
सुना है शाम को साए गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस की सियह-चश्मगी क़यामत है,
सो उस को सुरमा-फ़रोश आह भर के देखते हैं !

सुना है उस के लबों से गुलाब जलते हैं,
सो हम बहार पे इल्ज़ाम धर के देखते हैं !

सुना है आइना तिमसाल है जबीं उस की,
जो सादा दिल हैं उसे बन-सँवर के देखते हैं !

सुना है जब से हमाइल हैं उस की गर्दन में,
मिज़ाज और ही लाल ओ गुहर के देखते हैं !

सुना है चश्म-ए-तसव्वुर से दश्त-ए-इम्काँ में,
पलंग ज़ाविए उस की कमर के देखते हैं !

सुना है उस के बदन की तराश ऐसी है,
कि फूल अपनी क़बाएँ कतर के देखते हैं !

वो सर्व-क़द है मगर बे-गुल-ए-मुराद नहीं,
कि उस शजर पे शगूफ़े समर के देखते हैं !

बस एक निगाह से लुटता है क़ाफ़िला दिल का,
सो रह-रवान-ए-तमन्ना भी डर के देखते हैं !

सुना है उस के शबिस्ताँ से मुत्तसिल है बहिश्त,
मकीं उधर के भी जल्वे इधर के देखते हैं !

रुके तो गर्दिशें उस का तवाफ़ करती हैं,
चले तो उस को ज़माने ठहर के देखते हैं !

किसे नसीब कि बे-पैरहन उसे देखे,
कभी कभी दर ओ दीवार घर के देखते हैं !

कहानियाँ ही सही सब मुबालग़े ही सही,
अगर वो ख़्वाब है ताबीर कर के देखते हैं !

अब उस के शहर में ठहरें कि कूच कर जाएँ,
“फ़राज़” आओ सितारे सफ़र के देखते हैं !!

 

Lahra ke jhum jhum ke la muskura ke la..

Lahra ke jhum jhum ke la muskura ke la,
Phoolon ke ras mein chand ki kirnen mila ke la.

Kahte hain umar-e-rafta kabhi lauti nahi,
Ja mai-kade se meri jawani utha ke la.

Saghar-shikan hai shaikh-e-bala-nosh ki nazar,
Shishe ko zer-e-daman-e-rangin chhupa ke la.

Kyun ja rahi hai ruth ke rangini-e-bahaar,
Ja ek martaba use phir warghala ke la.

Dekhi nahi hai tu ne kabhi zindagi ki lahr,
Achchha to ja “Adam” ki surahi utha ke la. !!

लहरा के झूम झूम के ला मुस्कुरा के ला,
फूलों के रस में चाँद की किरनें मिला के ला !

कहते हैं उम्र-ए-रफ़्ता कभी लौटती नहीं,
जा मय-कदे से मेरी जवानी उठा के ला !

साग़र-शिकन है शैख़-ए-बला-नोश की नज़र,
शीशे को ज़ेर-ए-दामन-ए-रंगीं छुपा के ला !

क्यूँ जा रही है रूठ के रंगीनी-ए-बहार,
जा एक मर्तबा उसे फिर वर्ग़ला के ला !

देखी नहीं है तू ने कभी ज़िंदगी की लहर,
अच्छा तो जा “अदम” की सुराही उठा के ला !!

 

Saqi sharab la ki tabiat udas hai..

Saqi sharab la ki tabiat udas hai,
Mutrib rubab utha ki tabiat udas hai.

Ruk ruk ke saz chhed ki dil mutmain nahi,
Tham tham ke mai pila ki tabiat udas hai.

Chubhti hai qalb o jaan mein sitaron ki raushni,
Aye chand dub ja ki tabiat udas hai.

Mujh se nazar na pher ki barham hai zindagi,
Mujh se nazar mila ki tabiat udas hai.

Shayad tere labon ki chatak se ho ji bahaal,
Aye dost muskura ki tabiat udas hai.

Hai husn ka fusun bhi ilaj-e-fasurdagi,
Rukh se naqab utha ki tabiat udas hai.

Main ne kabhi ye zid to nahi ki par aaj shab,
Aye mah-jabin na ja ki tabiat udas hai.

Imshab gurez-o-ram ka nahi hai koi mahal,
Aaghosh mein dar aa ki tabiat udas hai.

Kaifiyyat-e-sukut se badhta hai aur gham,
Kissa koi suna ki tabiat udas hai.

Yunhi durust hogi tabiat teri “Adam”,
Kam-bakht bhul ja ki tabiat udas hai.

Tauba to kar chuka hun magar phir bhi aye “Adam”,
Thoda sa zahr la ki tabiat udas hai. !!

साक़ी शराब ला कि तबीअत उदास है,
मुतरिब रुबाब उठा कि तबीअत उदास है !

रुक रुक के साज़ छेड़ कि दिल मुतमइन नहीं,
थम थम के मय पिला कि तबीअत उदास है !

चुभती है क़ल्ब ओ जाँ में सितारों की रौशनी,
ऐ चाँद डूब जा कि तबीअत उदास है !

मुझ से नज़र न फेर कि बरहम है ज़िंदगी,
मुझ से नज़र मिला कि तबीअत उदास है !

शायद तेरे लबों की चटक से हो जी बहाल,
ऐ दोस्त मुस्कुरा कि तबीअत उदास है !

है हुस्न का फ़ुसूँ भी इलाज-ए-फ़सुर्दगी,
रुख़ से नक़ाब उठा कि तबीअत उदास है !

मैं ने कभी ये ज़िद तो नहीं की पर आज शब,
ऐ मह-जबीं न जा कि तबीअत उदास है !

इमशब गुरेज़-ओ-रम का नहीं है कोई महल,
आग़ोश में दर आ कि तबीअत उदास है !

कैफ़िय्यत-ए-सुकूत से बढ़ता है और ग़म,
क़िस्सा कोई सुना कि तबीअत उदास है !

यूँही दुरुस्त होगी तबीअत तेरी “अदम”,
कम-बख़्त भूल जा कि तबीअत उदास है !

तौबा तो कर चुका हूँ मगर फिर भी ऐ “अदम”,
थोड़ा सा ज़हर ला कि तबीअत उदास है !!

 

Ujad ujad ke sanwarti hai tere hijr ki sham..

Ujad ujad ke sanwarti hai tere hijr ki sham,
Na puchh kaise guzarti hai tere hijr ki sham.

Ye barg barg udasi bikhar rahi hai meri,
Ki shakh shakh utarti hai tere hijr ki sham.

Ujad ghar mein koi chand kab utarta hai,
Sawal mujh se ye karti hai tere hijr ki sham.

Mere safar mein ek aisa bhi mod aata hai,
Jab apne aap se darti hai tere hijr ki sham.

Bahut aziz hain dil ko ye zakhm zakhm ruten,
Inhi ruton mein nikharti hai tere hijr ki sham.

Ye mera dil ye sarasar nigar-khana-e-gham,
Sada isi mein utarti hai tere hijr ki sham.

Jahan jahan bhi milen teri qurbaton ke nishan,
Wahan wahan se ubharti hai tere hijr ki sham.

Ye hadisa tujhe shayad udas kar dega,
Ki mere sath hi marti hai tere hijr ki sham. !!

उजड़ उजड़ के सँवरती है तेरे हिज्र की शाम,
न पूछ कैसे गुज़रती है तेरे हिज्र की शाम !

ये बर्ग बर्ग उदासी बिखर रही है मेरी,
कि शाख़ शाख़ उतरती है तेरे हिज्र की शाम !

उजाड़ घर में कोई चाँद कब उतरता है,
सवाल मुझ से ये करती है तेरे हिज्र की शाम !

मेरे सफ़र में एक ऐसा भी मोड़ आता है,
जब अपने आप से डरती है तेरे हिज्र की शाम !

बहुत अज़ीज़ हैं दिल को ये ज़ख़्म ज़ख़्म रुतें,
इन्ही रुतों में निखरती है तेरे हिज्र की शाम !

ये मेरा दिल ये सरासर निगार-खाना-ए-ग़म,
सदा इसी में उतरती है तेरे हिज्र की शाम !

जहाँ जहाँ भी मिलें तेरी क़ुर्बतों के निशाँ,
वहाँ वहाँ से उभरती है तेरे हिज्र की शाम !

ये हादिसा तुझे शायद उदास कर देगा,
कि मेरे साथ ही मरती है तेरे हिज्र की शाम !!

 

Ab ye sochun to bhanwar zehn mein pad jate hain..

Ab ye sochun to bhanwar zehn mein pad jate hain,
Kaise chehre hain jo milte hi bichhad jate hain.

Kyun tere dard ko den tohmat-e-virani-e-dil,
Zalzalon mein to bhare shehar ujad jate hain.

Mausam-e-zard mein ek dil ko bachaun kaise,
Aisi rut mein to ghane ped bhi jhad jate hain.

Ab koi kya mere qadmon ke nishan dhundega,
Tez aandhi mein to kheme bhi ukhad jate hain.

Shaghl-e-arbab-e-hunar puchhte kya ho ki ye log,
Pattharon mein bhi kabhi aaine jad jati hain.

Soch ka aaina dhundla ho to phir waqt ke sath,
Chand chehron ke khad-o-khyal bigad jate hain.

Shiddat-e-gham mein bhi zinda hun to hairat kaisi,
Kuchh diye tund hawaon se bhi lad jate hain.

Wo bhi kya log hain “Mohsin” jo wafa ki khatir,
Khud-tarashida usulon pe bhi ad jate hain. !!

अब ये सोचूँ तो भँवर ज़ेहन में पड़ जाते हैं,
कैसे चेहरे हैं जो मिलते ही बिछड़ जाते हैं !

क्यूँ तेरे दर्द को दें तोहमत-ए-वीरानी-ए-दिल,
ज़लज़लों में तो भरे शहर उजड़ जाते हैं !

मौसम-ए-ज़र्द में एक दिल को बचाऊँ कैसे,
ऐसी रुत में तो घने पेड़ भी झड़ जाते हैं !

अब कोई क्या मेरे क़दमों के निशाँ ढूँडेगा,
तेज़ आँधी में तो ख़ेमे भी उखड़ जाते हैं !

शग़्ल-ए-अर्बाब-ए-हुनर पूछते क्या हो कि ये लोग,
पत्थरों में भी कभी आइने जड़ जाती हैं !

सोच का आइना धुँदला हो तो फिर वक़्त के साथ,
चाँद चेहरों के ख़द-ओ-ख़ाल बिगड़ जाते हैं !

शिद्दत-ए-ग़म में भी ज़िंदा हूँ तो हैरत कैसी,
कुछ दिए तुंद हवाओं से भी लड़ जाते हैं !

वो भी क्या लोग हैं “मोहसिन” जो वफ़ा की ख़ातिर,
ख़ुद-तराशीदा उसूलों पे भी अड़ जाते हैं !!

 

Ab ke barish mein to ye kar-e-ziyan hona hi tha..

Ab ke barish mein to ye kar-e-ziyan hona hi tha,
Apni kachchi bastiyon ko be-nishan hona hi tha.

Kis ke bas mein tha hawa ki wahshaton ko rokna,
Barg-e-gul ko khak shoale ko dhuan hona hi tha.

Jab koi samt-e-safar tai thi na hadd-e-rahguzar,
Aye mere rah-rau safar to raegan hona hi tha.

Mujh ko rukna tha use jaana tha agle mod tak,
Faisla ye us ke mere darmiyan hona hi tha.

Chand ko chalna tha bahti sipiyon ke sath-sath,
Moajiza ye bhi tah-e-ab-e-rawan hona hi tha.

Main naye chehron pe kahta tha nayi ghazlein sada,
Meri is aadat se us ko bad-guman hona hi tha.

Shehar se bahar ki virani basana thi mujhe,
Apni tanhai pe kuchh to mehrban hona hi tha.

Apni aankhen dafn karna thi ghubar-e-khak mein,
Ye sitam bhi hum pe zer-e-asman hona hi tha.

Be-sada basti ki rasmein thi yahi “Mohsin” mere,
Main zaban rakhta tha mujh ko be-zaban hona hi tha. !!

अब के बारिश में तो ये कार-ए-ज़ियाँ होना ही था,
अपनी कच्ची बस्तियों को बे-निशाँ होना ही था !

किस के बस में था हवा की वहशतों को रोकना,
बर्ग-ए-गुल को ख़ाक शोले को धुआँ होना ही था !

जब कोई सम्त-ए-सफ़र तय थी न हद्द-ए-रहगुज़र,
ऐ मेरे रह-रौ सफ़र तो राएगाँ होना ही था !

मुझ को रुकना था उसे जाना था अगले मोड़ तक,
फ़ैसला ये उस के मेरे दरमियाँ होना ही था !

चाँद को चलना था बहती सीपियों के साथ-साथ,
मोजिज़ा ये भी तह-ए-आब-ए-रवाँ होना ही था !

मैं नए चेहरों पे कहता था नई ग़ज़लें सदा,
मेरी इस आदत से उस को बद-गुमाँ होना ही था !

शहर से बाहर की वीरानी बसाना थी मुझे,
अपनी तन्हाई पे कुछ तो मेहरबाँ होना ही था !

अपनी आँखें दफ़्न करना थीं ग़ुबार-ए-ख़ाक में,
ये सितम भी हम पे ज़ेर-ए-आसमाँ होना ही था !

बे-सदा बस्ती की रस्में थीं यही “मोहसिन” मेरे,
मैं ज़बाँ रखता था मुझ को बे-ज़बाँ होना ही था !!