Wednesday , February 26 2020
Home / Poetry Types Baat

Poetry Types Baat

Chamakte Lafz Sitaron Se Chhin Laye Hain..

Chamakte lafz sitaron se chhin laye hain,
Hum aasman se ghazal ki zamin laye hain.

Woh aur honge jo khanjar chhupa ke laate hain,
Hum apne sath phati aastin laye hain.

Hamari baat ki gehrayi khak samjhenge,
Jo parbaton ke liye khurdbin laye hain.

Hanso na hum pe ki hum badnasib banjare,
Saron pe rakh ke watan ki zamin laye hain.

Mere qabile ke bachchon ke khel bhi hain ajib,
Kisi sipahi ki talwar chhin laye hain. !!

चमकते लफ्ज़ सितारों से छीन लाए हैं,
हम आसमाँ से ग़ज़ल की ज़मीन लाए हैं !

वो और होंगे जो खंजर छुपा के लाते हैं,
हम अपने साथ फटी आस्तीन लाए हैं !

हमारी बात की गहराई ख़ाक समझेंगे,
जो पर्बतों के लिए खुर्दबीन लाए हैं !

हँसो न हम पे कि हर बद-नसीब बंजारे,
सरों पे रख के वतन की ज़मीन लाए हैं !

मेरे क़बीले के बच्चों के खेल भी हैं अजीब,
किसी सिपाही की तलवार छीन लाए हैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Kashti Tera Naseeb Chamkdaar kar diya..

Kashti tera naseeb chamkdaar kar diya,
Is paar ke thapedon ne us paar kar diya.

Afwaah thi ki meri tabiyat kharaab hai,
Logon ne punchh punchh ke bimar kar diya.

Raaton ko chandni ke bharose na chhodna,
Sooraj ne jugnuon ko khabardar kar diya.

Ruk ruk ke log dekh rahe hai meri taraf,
Tumne zara si baat ko akhbaar kar diya.

Is bar ek aur bhi deewar gir gayi,
Baarish ne mere ghar ko hawa daar kar diya.

Bola tha sach to zahar pilaya gaya mujhe,
Acchhaiyon ne mujhko gunhgaar kar diya.

Do gaj sahi magar ye meri malkiyat to hain,
Aye mout tune mujhko zamindar kar diya. !!

कश्ती तेरा नसीब चमकदार कर दिया,
इस पार के थपेड़ों ने उस पार कर दिया !

अफवाह थी की मेरी तबियत ख़राब हैं,
लोगो ने पूछ पूछ के बीमार कर दिया !

रातों को चांदनी के भरोसें ना छोड़ना,
सूरज ने जुगनुओं को ख़बरदार कर दिया !

रुक रुक के लोग देख रहे है मेरी तरफ,
तुमने ज़रा सी बात को अखबार कर दिया !

इस बार एक और भी दीवार गिर गयी,
बारिश ने मेरे घर को हवादार कर दिया !

बोला था सच तो ज़हर पिलाया गया मुझे,
अच्छाइयों ने मुझे गुनहगार कर दिया !

दो गज सही ये मेरी मिलकियत तो हैं,
ऐ मौत तूने मुझे ज़मींदार कर दिया !! -Rahat Indori Ghazal

 

Valentine’s Day SMS for Friend Cum Lover

Happy Valentine Day Image Shayari Tumhare saath rahte rahte

 

Tumhare saath rahte rahte
Tumhari chahat si ho gayi hai

Tumse baat karte karte
Tumhari aadat si ho gayi hai

Ek pal na mile to baichani si lagti hai
Dosti nibhate nibhate
Tumse mohabbat si ho gayi hai

तुम्हारे साथ रहते रहते
तुम्हारी चाहत सी हो गयी हैं

तुमसे बात करते करते
तुम्हारी आदत सी हो गयी हैं

एक पल न मिले तो बेचैनी सी लगती हैं
दोस्ती निभाते निभाते
तुमसे मोहब्बत सी हो गयी हैं !

I Love You Baby…Will u be my valentine ?

 

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain..

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain,
So us ke shehar mein kuchh din thahar ke dekhte hain.

Suna hai rabt hai us ko kharab-haalon se,
So apne aap ko barbaad kar ke dekhte hain.

Suna hai dard ki gahak hai chashm-e-naz us ki,
So hum bhi us ki gali se guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ko bhi hai shair-o-shayari se shaghaf,
So hum bhi moajize apne hunar ke dekhte hain.

Suna hai bole to baaton se phool jhadte hain,
Ye baat hai to chalo baat kar ke dekhte hain.

Suna hai raat use chand takta rahta hai,
Sitare baam-e-falak se utar ke dekhte hain.

Suna hai din ko use titliyan satati hain,
Suna hai raat ko jugnu thahar ke dekhte hain.

Suna hai hashr hain us ki ghazal si aankhen,
Suna hai us ko hiran dasht bhar ke dekhte hain.

Suna hai raat se badh kar hain kakulen us ki,
Suna hai sham ko saye guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ki siyah-chashmagi qayamat hai,
So us ko surma-farosh aah bhar ke dekhte hain.

Suna hai us ke labon se gulab jalte hain,
So hum bahaar pe ilzam dhar ke dekhte hain.

Suna hai aaina timsal hai jabin us ki,
Jo sada dil hain use ban-sanwar ke dekhte hain.

Suna hai jab se hamail hain us ki gardan mein,
Mizaj aur hi lal o guhar ke dekhte hain.

Suna hai chashm-e-tasawwur se dasht-e-imkan mein,
Palang zawiye us ki kamar ke dekhte hain.

Suna hai us ke badan ki tarash aisi hai,
Ki phool apni qabayen katar ke dekhte hain.

Wo sarw-qad hai magar be-gul-e-murad nahi,
Ki us shajar pe shagufe samar ke dekhte hain.

Bas ek nigah se lutta hai qafila dil ka,
So rah-rawan-e-tamanna bhi dar ke dekhte hain.

Suna hai us ke shabistan se muttasil hai bahisht,
Makin udhar ke bhi jalwe idhar ke dekhte hain.

Ruke to gardishen us ka tawaf karti hain,
Chale to us ko zamane thahar ke dekhte hain.

Kise nasib ki be-pairahan use dekhe,
Kabhi kabhi dar o diwar ghar ke dekhte hain.

Kahaniyan hi sahi sab mubaalghe hi sahi,
Agar wo khwab hai tabir kar ke dekhte hain.

Ab us ke shehar mein thahren ki kuch kar jayen,
“Faraz” aao sitare safar ke dekhte hain. !!

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं,
सो उस के शहर में कुछ दिन ठहर के देखते हैं !

सुना है रब्त है उस को ख़राब-हालों से,
सो अपने आप को बरबाद कर के देखते हैं !

सुना है दर्द की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उस की,
सो हम भी उस की गली से गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस को भी है शेर-ओ-शायरी से शग़फ़,
सो हम भी मोजिज़े अपने हुनर के देखते हैं !

सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते हैं,
ये बात है तो चलो बात कर के देखते हैं !

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है,
सितारे बाम-ए-फ़लक से उतर के देखते हैं !

सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती हैं,
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते हैं !

सुना है हश्र हैं उस की ग़ज़ाल सी आँखें,
सुना है उस को हिरन दश्त भर के देखते हैं !

सुना है रात से बढ़ कर हैं काकुलें उस की,
सुना है शाम को साए गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस की सियह-चश्मगी क़यामत है,
सो उस को सुरमा-फ़रोश आह भर के देखते हैं !

सुना है उस के लबों से गुलाब जलते हैं,
सो हम बहार पे इल्ज़ाम धर के देखते हैं !

सुना है आइना तिमसाल है जबीं उस की,
जो सादा दिल हैं उसे बन-सँवर के देखते हैं !

सुना है जब से हमाइल हैं उस की गर्दन में,
मिज़ाज और ही लाल ओ गुहर के देखते हैं !

सुना है चश्म-ए-तसव्वुर से दश्त-ए-इम्काँ में,
पलंग ज़ाविए उस की कमर के देखते हैं !

सुना है उस के बदन की तराश ऐसी है,
कि फूल अपनी क़बाएँ कतर के देखते हैं !

वो सर्व-क़द है मगर बे-गुल-ए-मुराद नहीं,
कि उस शजर पे शगूफ़े समर के देखते हैं !

बस एक निगाह से लुटता है क़ाफ़िला दिल का,
सो रह-रवान-ए-तमन्ना भी डर के देखते हैं !

सुना है उस के शबिस्ताँ से मुत्तसिल है बहिश्त,
मकीं उधर के भी जल्वे इधर के देखते हैं !

रुके तो गर्दिशें उस का तवाफ़ करती हैं,
चले तो उस को ज़माने ठहर के देखते हैं !

किसे नसीब कि बे-पैरहन उसे देखे,
कभी कभी दर ओ दीवार घर के देखते हैं !

कहानियाँ ही सही सब मुबालग़े ही सही,
अगर वो ख़्वाब है ताबीर कर के देखते हैं !

अब उस के शहर में ठहरें कि कूच कर जाएँ,
“फ़राज़” आओ सितारे सफ़र के देखते हैं !!

 

Halka halka surur hai saqi..

Halka halka surur hai saqi,
Baat koi zarur hai saqi.

Teri aankhon ko kar diya sajda,
Mera pahla qusur hai saqi,

Tere rukh par hai ye pareshani,
Ek andhere mein nur hai saqi.

Teri aankhen kisi ko kya dengi,
Apna apna surur hai saqi.

Pine walon ko bhi nahi malum,
Mai-kada kitni dur hai saqi. !!

हल्का हल्का सुरूर है साक़ी,
बात कोई ज़रूर है साक़ी !

तेरी आँखों को कर दिया सज्दा,
मेरा पहला क़ुसूर है साक़ी !

तेरे रुख़ पर है ये परेशानी,
एक अँधेरे में नूर है साक़ी !

तेरी आँखें किसी को क्या देंगी,
अपना अपना सुरूर है साक़ी !

पीने वालों को भी नहीं मालूम,
मय-कदा कितनी दूर है साक़ी !!

 

Hans ke bola karo bulaya karo..

Hans ke bola karo bulaya karo,
Aap ka ghar hai aaya jaya karo.

Muskurahat hai husn ka zewar,
Muskurana na bhul jaya karo.

Had se badh kar hasin lagte ho,
Jhuthi kasmein zarur khaya karo.

Hukm karna bhi ek skhawat hai,
Humko khidmat koi bataya karo.

Baat karna bhi badshahat hai,
Baat karna na bhul jaya karo.

Taki duniya ki dil-kashi na ghate,
Nit-nae pairahan mein aaya karo.

Kitne sada-mizaj ho tum “Adam”,
Us gali mein bahut na jaya karo. !!

हंस के बोला करो बुलाया करो,
आप का घर है आया जाया करो !

मुस्कराहट है हुस्न का जेवर,
रूप बढ़ता है मुस्कुराया करो !

हद से बढ़ कर हसीन लगते हो,
झूठी कसमें जरूर खाया करो !

हुक्म करना भी एक सखावत है,
हमको खिदमत कोई बताया करो !

बात करना भी बादशाहत है,
बात करना न भूल जाया करो !

ताकि दुनिया की दिल-कशी न घटे,
नित-नए पैरहन में आया करो !

कितने सदा मिज़ाज हो तुम “अदम”,
उस गली में बहुत न जाया करो !!

 

Khairaat sirf itni mili hai hayat se..

Khairaat sirf itni mili hai hayat se,
Pani ki bund jaise ata ho furaat se.

Shabnam isi junun mein azal se hai sina-kub,
Khurshid kis maqam pe milta hai raat se.

Nagah ishq waqt se aage nikal gaya,
Andaza kar rahi hai khirad waqiyat se.

Su-e-adab na thahre to dein koi mashwara,
Hum mutmain nahi hain teri kayenat se.

Sakit rahein to hum hi thaharte hain ba-qusur,
Bolen to baat badhti hai chhoti si baat se.

Aasan-pasandiyon se ijazat talab karo,
Rasta bhara hua hai “Adam” mushkilat se. !!

खैरात सिर्फ इतनी मिली है हयात से,
पानी की बूँद जैसे अता हो फुरात से !

शबनम इसी जूनून में अज़ल से है सीना-खूब,
खुर्शीद किस मक़ाम पे मिलता है रात से !

नगाह इश्क़ वक़्त से आगे निकल गया,
अंदाजा कर रही है ख़िरद वाक़्यात से !

सू-ए–अदब न ठहरे तो देँ कोई मश्वरा,
हम मुत्मइन नहीं हैं तेरी कायनात से !

साकित रहें तो हम ही ठहरते हैं बा-क़ुसूर,
बोलें तो बात बढ़ती है छोटी सी बात से !

आसान-पसंदियों से इजाज़त तलब करो,
रास्ता भरा हुआ है “अदम” मुश्किलात से !!