Wednesday , February 26 2020
Home / Poetry Types Aaina

Poetry Types Aaina

Main Lakh Kah Dun Ki Aakash Hun Zamin Hun Main..

Main lakh kah dun ki aakash hun zamin hun main,
Magar use to khabar hai ki kuch nahin hun main.

Ajib log hain meri talash mein mujh ko,
Wahan pe dhund rahe hain jahan nahin hun main.

Main aainon se to mayus laut aaya tha,
Magar kisi ne bataya bahut hasin hun main.

Wo zarre zarre mein maujud hai magar main bhi,
Kahin kahin hun kahan hun kahin nahin hun main.

Wo ek kitab jo mansub tere naam se hai,
Usi kitab ke andar kahin kahin hun main.

Sitaro aao meri raah mein bikhar jao,
Ye mera hukm hai haalanki kuch nahi hun main.

Yahin husain bhi guzre yahin yazid bhi tha,
Hazar rang mein dubi hui zamin hun main.

Ye budhi qabren tumhein kuch nahin batayengi,
Mujhe talash karo doston yahin hun main. !!

मैं लाख कह दूँ कि आकाश हूँ ज़मीं हूँ मैं,
मगर उसे तो ख़बर है कि कुछ नहीं हूँ मैं !

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझ को,
वहाँ पे ढूँड रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं !

मैं आइनों से तो मायूस लौट आया था,
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं !

वो ज़र्रे ज़र्रे में मौजूद है मगर मैं भी,
कहीं कहीं हूँ कहाँ हूँ कहीं नहीं हूँ मैं !

वो इक किताब जो मंसूब तेरे नाम से है,
उसी किताब के अंदर कहीं कहीं हूँ मैं !

सितारो आओ मिरी राह में बिखर जाओ,
ये मेरा हुक्म है हालाँकि कुछ नहीं हूँ मैं !

यहीं हुसैन भी गुज़रे यहीं यज़ीद भी था,
हज़ार रंग में डूबी हुई ज़मीं हूँ मैं !

ये बूढ़ी क़ब्रें तुम्हें कुछ नहीं बताएँगी,
मुझे तलाश करो दोस्तो यहीं हूँ मैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Andar Ka Zahar Chum Liya Dhul Ke Aa Gaye..

Andar ka zahar chum liya dhul ke aa gaye,
Kitne sharif log the sab khul ke aa gaye.

Sooraj se jang jitne nikle the bewaquf,
Sare sipahi mom ke the ghul ke aa gaye.

Masjid mein dur dur koi dusra na tha,
Hum aaj apne aap se mil-jul ke aa gaye.

Nindon se jang hoti rahegi tamam umar,
Aankhon mein band khwab agar khul ke aa gaye,

Sooraj ne apni shakl bhi dekhi thi pahli bar,
Aaine ko maze bhi taqabul ke aa gaye,

Anjaane saye phirne lage hain idhar udhar,
Mausam hamare shehar mein kabul ke aa gaye. !!

अंदर का ज़हर चूम लिया धुल के आ गए,
कितने शरीफ़ लोग थे सब खुल के आ गए !

सूरज से जंग जीतने निकले थे बेवक़ूफ़,
सारे सिपाही मोम के थे घुल के आ गए !

मस्जिद में दूर दूर कोई दूसरा न था,
हम आज अपने आप से मिल-जुल के आ गए !

नींदों से जंग होती रहेगी तमाम उम्र,
आँखों में बंद ख़्वाब अगर खुल के आ गए !

सूरज ने अपनी शक्ल भी देखी थी पहली बार,
आईने को मज़े भी तक़ाबुल के आ गए !

अनजाने साए फिरने लगे हैं इधर-उधर,
मौसम हमारे शहर में काबुल के आ गए !! -Rahat Indori Ghazal

 

Din Kuchh Aise Guzarta Hai Koi..

Din kuchh aise guzarta hai koi,
Jaise ehsan utarta hai koi.

Dil mein kuchh yun sambhaalta hun gham,
Jaise zewar sambhaalta hai koi.

Aaina dekh kar tasalli hui,
Hum ko is ghar mein jaanta hai koi.

Ped par pak gaya hai phal shayad,
Phir se patthar uchhaalta hai koi.

Der se gunjte hain sannate,
Jaise hum ko pukarta hai koi. !!

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई,
जैसे एहसाँ उतारता है कोई !

दिल में कुछ यूँ सँभालता हूँ ग़म,
जैसे ज़ेवर सँभालता है कोई !

आइना देख कर तसल्ली हुई,
हम को इस घर में जानता है कोई !

पेड़ पर पक गया है फल शायद,
फिर से पत्थर उछालता है कोई !

देर से गूँजते हैं सन्नाटे,
जैसे हम को पुकारता है कोई !!

 

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain..

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain,
So us ke shehar mein kuchh din thahar ke dekhte hain.

Suna hai rabt hai us ko kharab-haalon se,
So apne aap ko barbaad kar ke dekhte hain.

Suna hai dard ki gahak hai chashm-e-naz us ki,
So hum bhi us ki gali se guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ko bhi hai shair-o-shayari se shaghaf,
So hum bhi moajize apne hunar ke dekhte hain.

Suna hai bole to baaton se phool jhadte hain,
Ye baat hai to chalo baat kar ke dekhte hain.

Suna hai raat use chand takta rahta hai,
Sitare baam-e-falak se utar ke dekhte hain.

Suna hai din ko use titliyan satati hain,
Suna hai raat ko jugnu thahar ke dekhte hain.

Suna hai hashr hain us ki ghazal si aankhen,
Suna hai us ko hiran dasht bhar ke dekhte hain.

Suna hai raat se badh kar hain kakulen us ki,
Suna hai sham ko saye guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ki siyah-chashmagi qayamat hai,
So us ko surma-farosh aah bhar ke dekhte hain.

Suna hai us ke labon se gulab jalte hain,
So hum bahaar pe ilzam dhar ke dekhte hain.

Suna hai aaina timsal hai jabin us ki,
Jo sada dil hain use ban-sanwar ke dekhte hain.

Suna hai jab se hamail hain us ki gardan mein,
Mizaj aur hi lal o guhar ke dekhte hain.

Suna hai chashm-e-tasawwur se dasht-e-imkan mein,
Palang zawiye us ki kamar ke dekhte hain.

Suna hai us ke badan ki tarash aisi hai,
Ki phool apni qabayen katar ke dekhte hain.

Wo sarw-qad hai magar be-gul-e-murad nahi,
Ki us shajar pe shagufe samar ke dekhte hain.

Bas ek nigah se lutta hai qafila dil ka,
So rah-rawan-e-tamanna bhi dar ke dekhte hain.

Suna hai us ke shabistan se muttasil hai bahisht,
Makin udhar ke bhi jalwe idhar ke dekhte hain.

Ruke to gardishen us ka tawaf karti hain,
Chale to us ko zamane thahar ke dekhte hain.

Kise nasib ki be-pairahan use dekhe,
Kabhi kabhi dar o diwar ghar ke dekhte hain.

Kahaniyan hi sahi sab mubaalghe hi sahi,
Agar wo khwab hai tabir kar ke dekhte hain.

Ab us ke shehar mein thahren ki kuch kar jayen,
“Faraz” aao sitare safar ke dekhte hain. !!

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं,
सो उस के शहर में कुछ दिन ठहर के देखते हैं !

सुना है रब्त है उस को ख़राब-हालों से,
सो अपने आप को बरबाद कर के देखते हैं !

सुना है दर्द की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उस की,
सो हम भी उस की गली से गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस को भी है शेर-ओ-शायरी से शग़फ़,
सो हम भी मोजिज़े अपने हुनर के देखते हैं !

सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते हैं,
ये बात है तो चलो बात कर के देखते हैं !

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है,
सितारे बाम-ए-फ़लक से उतर के देखते हैं !

सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती हैं,
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते हैं !

सुना है हश्र हैं उस की ग़ज़ाल सी आँखें,
सुना है उस को हिरन दश्त भर के देखते हैं !

सुना है रात से बढ़ कर हैं काकुलें उस की,
सुना है शाम को साए गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस की सियह-चश्मगी क़यामत है,
सो उस को सुरमा-फ़रोश आह भर के देखते हैं !

सुना है उस के लबों से गुलाब जलते हैं,
सो हम बहार पे इल्ज़ाम धर के देखते हैं !

सुना है आइना तिमसाल है जबीं उस की,
जो सादा दिल हैं उसे बन-सँवर के देखते हैं !

सुना है जब से हमाइल हैं उस की गर्दन में,
मिज़ाज और ही लाल ओ गुहर के देखते हैं !

सुना है चश्म-ए-तसव्वुर से दश्त-ए-इम्काँ में,
पलंग ज़ाविए उस की कमर के देखते हैं !

सुना है उस के बदन की तराश ऐसी है,
कि फूल अपनी क़बाएँ कतर के देखते हैं !

वो सर्व-क़द है मगर बे-गुल-ए-मुराद नहीं,
कि उस शजर पे शगूफ़े समर के देखते हैं !

बस एक निगाह से लुटता है क़ाफ़िला दिल का,
सो रह-रवान-ए-तमन्ना भी डर के देखते हैं !

सुना है उस के शबिस्ताँ से मुत्तसिल है बहिश्त,
मकीं उधर के भी जल्वे इधर के देखते हैं !

रुके तो गर्दिशें उस का तवाफ़ करती हैं,
चले तो उस को ज़माने ठहर के देखते हैं !

किसे नसीब कि बे-पैरहन उसे देखे,
कभी कभी दर ओ दीवार घर के देखते हैं !

कहानियाँ ही सही सब मुबालग़े ही सही,
अगर वो ख़्वाब है ताबीर कर के देखते हैं !

अब उस के शहर में ठहरें कि कूच कर जाएँ,
“फ़राज़” आओ सितारे सफ़र के देखते हैं !!

 

Muskura kar khitab karte ho..

Muskura kar khitab karte ho,
Aadaten kyun kharab karte ho.

Mar do mujh ko rahm-dil ho kar,
Kya ye kar-e-sawab karte ho.

Muflisi aur kis ko kahte hain,
Daulaton ka hisab karte ho.

Sirf ek iltija hai chhoti si,
Kya use baryab karte ho.

Hum to tum ko pasand kar baithe,
Tum kise intikhab karte ho.

Khar ki nok ko lahu de kar,
Intizar-e-gulab karte ho.

Ye nai ehtiyat dekhi hai,
Aaine se hijab karte ho.

Kya zarurat hai bahs karne ki,
Kyun kaleja kabab karte ho.

Ho chuka jo hisab hona tha,
Aur ab kya hisab karte ho.

Ek din aye “Adam” na pi to kya,
Roz shaghl-e-sharab karte ho.

Kitne be-rahm ho “Adam” tum bhi,
Zikr-e-ahd-e-shabab karte ho.

Ho kisi ki khushi gar is mein “Adam”,
Jurm ka irtikab karte ho. !!

मुस्कुरा कर ख़िताब करते हो,
आदतें क्यूँ ख़राब करते हो !

मार दो मुझ को रहम-दिल हो कर,
क्या ये कार-ए-सवाब करते हो !

मुफ़्लिसी और किस को कहते हैं,
दौलतों का हिसाब करते हो !

सिर्फ़ एक इल्तिजा है छोटी सी,
क्या उसे बारयाब करते हो !

हम तो तुम को पसंद कर बैठे,
तुम किसे इंतिख़ाब करते हो !

ख़ार की नोक को लहू दे कर,
इंतिज़ार-ए-गुलाब करते हो !

ये नई एहतियात देखी है,
आइने से हिजाब करते हो !

क्या ज़रूरत है बहस करने की,
क्यूँ कलेजा कबाब करते हो !

हो चुका जो हिसाब होना था,
और अब क्या हिसाब करते हो !

एक दिन ऐ “अदम” न पी तो क्या,
रोज़ शग़्ल-ए-शराब करते हो !

कितने बे-रहम हो “अदम” तुम भी,
ज़िक्र-ए-अहद-ए-शबाब करते हो !

हो किसी की ख़ुशी गर इस में “अदम”,
जुर्म का इर्तिकाब करते हो !!

 

Mai-khana-e-hasti mein aksar hum apna thikana bhul gaye..

Mai-khana-e-hasti mein aksar hum apna thikana bhul gaye,
Ya hosh mein jaana bhul gaye ya hosh mein aana bhul gaye.

Asbab to ban hi jaate hain taqdir ki zid ko kya kahiye,
Ek jaam lo pahuncha tha hum tak hum jaam uthana bhul gaye.

Aaye the bikhere zulfon ko ek roz humare marqad par,
Do ashk to tapke aankhon se do phool chadhana bhul gaye.

Chaha tha ki un ki aankhon se kuch rang-e-bahaaran le jiye,
Taqrib to achchhi thi lekin do aankh milana bhul gaye.

Malum nahi aaine mein chupke se hansaa tha kaun “Adam”,
Hum jaam uthana bhul gaye wo saaz bajana bhul gaye. !!

मय-खाना-ए-हस्ति में अक्सर हम अपना ठिकाना भूल गए,
या होश में जाना भूल गए या होश में आना भूल गए !

अस्बाब तो बन ही जाते हैं तक़दीर की ज़िद को क्या कहिये,
एक जाम लो पहुंचा था हम तक हम जाम उठाना भूल गए !

आये थे बिखरे ज़ुल्फ़ों को एक रोज़ हमारे मरक़द पर,
दो अश्क तो टपके आँखों से, दो फूल चढ़ाना भूल गए !

चाहा था कि उन की आँखों से कुछ रंग-ए-बहारां ले लीजे,
तक़रीब तो अच्छी थी लेकिन दो आँख मिलाना भूल गए.

मालूम नहीं आईने में चुपके से हँसा था कौन “अदम”,
हम जाम उठाना भूल गए, वो साज़ बजाना भूल गए !!

 

Ab ye sochun to bhanwar zehn mein pad jate hain..

Ab ye sochun to bhanwar zehn mein pad jate hain,
Kaise chehre hain jo milte hi bichhad jate hain.

Kyun tere dard ko den tohmat-e-virani-e-dil,
Zalzalon mein to bhare shehar ujad jate hain.

Mausam-e-zard mein ek dil ko bachaun kaise,
Aisi rut mein to ghane ped bhi jhad jate hain.

Ab koi kya mere qadmon ke nishan dhundega,
Tez aandhi mein to kheme bhi ukhad jate hain.

Shaghl-e-arbab-e-hunar puchhte kya ho ki ye log,
Pattharon mein bhi kabhi aaine jad jati hain.

Soch ka aaina dhundla ho to phir waqt ke sath,
Chand chehron ke khad-o-khyal bigad jate hain.

Shiddat-e-gham mein bhi zinda hun to hairat kaisi,
Kuchh diye tund hawaon se bhi lad jate hain.

Wo bhi kya log hain “Mohsin” jo wafa ki khatir,
Khud-tarashida usulon pe bhi ad jate hain. !!

अब ये सोचूँ तो भँवर ज़ेहन में पड़ जाते हैं,
कैसे चेहरे हैं जो मिलते ही बिछड़ जाते हैं !

क्यूँ तेरे दर्द को दें तोहमत-ए-वीरानी-ए-दिल,
ज़लज़लों में तो भरे शहर उजड़ जाते हैं !

मौसम-ए-ज़र्द में एक दिल को बचाऊँ कैसे,
ऐसी रुत में तो घने पेड़ भी झड़ जाते हैं !

अब कोई क्या मेरे क़दमों के निशाँ ढूँडेगा,
तेज़ आँधी में तो ख़ेमे भी उखड़ जाते हैं !

शग़्ल-ए-अर्बाब-ए-हुनर पूछते क्या हो कि ये लोग,
पत्थरों में भी कभी आइने जड़ जाती हैं !

सोच का आइना धुँदला हो तो फिर वक़्त के साथ,
चाँद चेहरों के ख़द-ओ-ख़ाल बिगड़ जाते हैं !

शिद्दत-ए-ग़म में भी ज़िंदा हूँ तो हैरत कैसी,
कुछ दिए तुंद हवाओं से भी लड़ जाते हैं !

वो भी क्या लोग हैं “मोहसिन” जो वफ़ा की ख़ातिर,
ख़ुद-तराशीदा उसूलों पे भी अड़ जाते हैं !!