Home / Phool Shayari

Phool Shayari

Ab ke hum bichhde to shayad kabhi khwabon mein milen..

Ab ke hum bichhde to shayad kabhi khwabon mein milen,
Jis tarah sukhe hue phool kitabon mein milen

Dhundh ujde hue logon mein wafa ke moti,
Ye khazane tujhe mumkin hai kharabon mein milen,

Gham-e-duniya bhi gham-e-yar mein shamil kar lo,
Nashsha badhta hai sharaben jo sharabon mein milen.

Tu khuda hai na mera ishq farishton jaisa,
Donon insan hain to kyun itne hijabon mein milen.

Aaj hum dar pe khinche gaye jin baaton par,
Kya ajab kal wo zamane ko nisabon mein milen.

Ab na wo main na wo tu hai na wo mazi hai “faraz”,
Jaise do shakhs tamanna ke sarabon mein milen. !!

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें,
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें !

ढूँढ उजड़े हुए लोगों में वफ़ा के मोती,
ये ख़ज़ाने तुझे मुमकिन है ख़राबों में मिलें !

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो,
नश्शा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें !

तू ख़ुदा है न मेरा इश्क़ फ़रिश्तों जैसा,
दोनों इंसाँ हैं तो क्यूँ इतने हिजाबों में मिलें !

आज हम दार पे खींचे गए जिन बातों पर,
क्या अजब कल वो ज़माने को निसाबों में मिलें !

अब न वो मैं न वो तू है न वो माज़ी है “फ़राज़”,
जैसे दो शख़्स तमन्ना के सराबों में मिलें !!

 

Wo jo tere faqir hote hain..

Wo jo tere faqir hote hain,
Aadmi be-nazir hote hain.

Dekhne wala ek nahi milta,
Aankh wale kasir hote hain.

Jin ko daulat haqir lagti hai,
Uff ! wo kitne amir hote hain.

Jin ko kudrat ne husan bakhsha ho,
Kudratan kuchh sharir hote hain.

Zindagi ke hasin tarkash mein,
Kitne be-rahm tir hote hain.

Wo parinde jo aankh rakhte hain,
Sab se pahle asir hote hain.

Phool daman mein chand rakh lije,
Raste mein faqir hote hain.

Hai khushi bhi ajib shai lekin,
Gham bade dil-pazir hote hain.

Aye “Adam” ehtiyat logon se,
Log munkir-nakir hote hain. !!

वो जो तेरे फ़क़ीर होते हैं,
आदमी बे-नज़ीर होते हैं !

देखने वाला एक नहीं मिलता,
आँख वाले कसीर होते हैं

जिन को दौलत हक़ीर लगती है,
उफ़ ! वो कितने अमीर होते हैं !

जिन को क़ुदरत ने हुस्न बख़्शा हो,
क़ुदरतन कुछ शरीर होते हैं !

ज़िंदगी के हसीन तरकश में,
कितने बे-रहम तीर होते हैं !

वो परिंदे जो आँख रखते हैं,
सब से पहले असीर होते हैं !

फूल दामन में चंद रख लीजे,
रास्ते में फ़क़ीर होते हैं !

है ख़ुशी भी अजीब शय लेकिन,
ग़म बड़े दिल-पज़ीर होते हैं !

ऐ “अदम” एहतियात लोगों से,
लोग मुनकिर-नकीर होते हैं !!

 

Mai-khana-e-hasti mein aksar hum apna thikana bhul gaye..

Mai-khana-e-hasti mein aksar hum apna thikana bhul gaye,
Ya hosh mein jaana bhul gaye ya hosh mein aana bhul gaye.

Asbab to ban hi jaate hain taqdir ki zid ko kya kahiye,
Ek jaam lo pahuncha tha hum tak hum jaam uthana bhul gaye.

Aaye the bikhere zulfon ko ek roz humare marqad par,
Do ashk to tapke aankhon se do phool chadhana bhul gaye.

Chaha tha ki un ki aankhon se kuch rang-e-bahaaran le jiye,
Taqrib to achchhi thi lekin do aankh milana bhul gaye.

Malum nahi aaine mein chupke se hansaa tha kaun “Adam”,
Hum jaam uthana bhul gaye wo saaz bajana bhul gaye. !!

मय-खाना-ए-हस्ति में अक्सर हम अपना ठिकाना भूल गए,
या होश में जाना भूल गए या होश में आना भूल गए !

अस्बाब तो बन ही जाते हैं तक़दीर की ज़िद को क्या कहिये,
एक जाम लो पहुंचा था हम तक हम जाम उठाना भूल गए !

आये थे बिखरे ज़ुल्फ़ों को एक रोज़ हमारे मरक़द पर,
दो अश्क तो टपके आँखों से, दो फूल चढ़ाना भूल गए !

चाहा था कि उन की आँखों से कुछ रंग-ए-बहारां ले लीजे,
तक़रीब तो अच्छी थी लेकिन दो आँख मिलाना भूल गए.

मालूम नहीं आईने में चुपके से हँसा था कौन “अदम”,
हम जाम उठाना भूल गए, वो साज़ बजाना भूल गए !!

 

Main to jhonka hun hawaon ka uda le jaunga..

Main to jhonka hun hawaon ka uda le jaunga,
Jagti rahna tujhe tujh se chura le jaunga.

Ho ke qadmon pe nichhawar phool ne but se kaha,
Khak mein mil kar bhi main khushbu bacha le jaunga.

Kaun si shai mujh ko pahunchayegi tere shahr tak,
Ye pata to tab chalega jab pata le jaunga.

Koshishen mujh ko mitane ki bhale hon kaamyab,
Mitte mitte bhi main mitne ka maza le jaunga.

Shohraten jin ki wajh se dost dushman ho gaye,
Sab yahin rah jayengi main sath kya le jaunga. !!

मैं तो झोंका हूँ हवाओं का उड़ा ले जाऊँगा,
जागती रहना तुझे तुझ से चुरा ले जाऊँगा !

हो के क़दमों पे निछावर फूल ने बुत से कहा,
ख़ाक में मिल कर भी मैं ख़ुशबू बचा ले जाऊँगा !

कौन सी शय मुझ को पहुँचाएगी तेरे शहर तक,
ये पता तो तब चलेगा जब पता ले जाऊँगा !

कोशिशें मुझ को मिटाने की भले हों कामयाब,
मिटते मिटते भी मैं मिटने का मज़ा ले जाऊँगा !

शोहरतें, जिन की वज्ह से दोस्त दुश्मन हो गए,
सब यहीं रह जाएँगी मैं साथ क्या ले जाऊँगा !!

Phir dil se aa rahi hai sada us gali mein chal..

Phir dil se aa rahi hai sada us gali mein chal,
Shayad mile ghazal ka pata us gali mein chal.

Kab se nahi hua hai koi sher kaam ka,
Ye sher ki nahi hai faza us gali mein chal.

Woh baam-o-dar wo log wo ruswaiyon ke zakhm,
Hain sab ke sab aziz juda us gali mein chal.

Us phool ke baghair bahut ji udas hai,
Mujh ko bhi sath le ke saba us gali mein chal.

Duniya to chahti hai yunhi fasle rahen,
Duniya ke mashwaron pe na jaa us gali mein chal.

Be-nur o be-asar hai yahan ki sada-e-saz,
Tha us sukut mein bhi maza us gali mein chal.

“Jalib” pukarti hain wo shola-nawaiyan,
Ye sard rut ye sard hawa us gali mein chal. !!

फिर दिल से आ रही है सदा उस गली में चल,
शायद मिले ग़ज़ल का पता उस गली में चल !

कब से नहीं हुआ है कोई शेर काम का,
ये शेर की नहीं है फ़ज़ा उस गली में चल !

वो बाम ओ दर वो लोग वो रुस्वाइयों के ज़ख़्म,
हैं सब के सब अज़ीज़ जुदा उस गली में चल !

उस फूल के बग़ैर बहुत जी उदास है,
मुझ को भी साथ ले के सबा उस गली में चल !

दुनिया तो चाहती है यूँही फ़ासले रहें,
दुनिया के मशवरों पे न जा उस गली में चल !

बे-नूर ओ बे-असर है यहाँ की सदा-ए-साज़,
था उस सुकूत में भी मज़ा उस गली में चल !

“जालिब” पुकारती हैं वो शोला-नवाइयाँ,
ये सर्द रुत ये सर्द हवा उस गली में चल !!

Ghar ka rasta bhi mila tha shayad..

Ghar ka rasta bhi mila tha shayad,
Raah mein sang-e-wafa tha shayad.

Is qadar tez hawa ke jhonke,
Shaakh par phool khila tha shayad.

Jis ki baaton ke fasaane likhe,
Us ne to kuch na kaha tha shayad.

Log be-mehr na hote honge,
Waham sa dil ko hua tha shayad.

Tujh ko bhule to dua tak bhule,
Aur wohi waqt-e-dua tha shayad.

Khoon-e-dil mein to duboya tha qalam,
Aur phir kuch na likha tha shayad.

Dil ka jo rang hai yeh rang-e-ada,
Pehle ankhon mei rachaa tha shayad !!

घर का रास्ता भी मिला था शायद,
राह में संग-ए-वफ़ा था शायद !

इस क़दर तेज़ हवा के झोंके,
शाख पर फूल खिला था शायद !

जिस की बातों के फ़साने लिखे,
उस ने तो कुछ न कहा था शायद !

लोग बे-मैहर न होते होंगे,
वहम सा दिल को हुआ था शायद !

तुझ को भूले तो दुआ तक भूले,
और वही वक़्त-ए-दुआ था शायद !

खून-ए-दिल में तो डुबोया था क़लम,
और फिर कुछ न लिखा था शायद !

दिल का जो रंग है यह रंग-ए-अदा,
पहले आँखों में रचा था शायद !!