Home / Patthar Shayari

Patthar Shayari

Sabhi ko apna samajhta hun kya hua hai mujhe..

Sabhi ko apna samajhta hun kya hua hai mujhe,
Bichhad ke tujh se ajab rog lag gaya hai mujhe.

Jo mud ke dekha to ho jayega badan patthar,
Kahaniyon mein suna tha so bhogna hai mujhe.

Main tujh ko bhul na paya yahi ghanimat hai,
Yahan to is ka bhi imkan lag raha hai mujhe.

Main sard jang ki aadat na dal paunga,
Koi mahaz pe wapas bula raha hai mujhe.

Sadak pe chalte hue aankhen band rakhta hun,
Tere jamal ka aisa maza pada hai mujhe.

Abhi talak to koi wapsi ki rah na thi,
Kal ek rah-guzar ka pata laga hai mujhe. !!

सभी को अपना समझता हूँ क्या हुआ है मुझे,
बिछड़ के तुझ से अजब रोग लग गया है मुझे !

जो मुड़ के देखा तो हो जाएगा बदन पत्थर,
कहानियों में सुना था सो भोगना है मुझे !

मैं तुझ को भूल न पाया यही ग़नीमत है,
यहाँ तो इस का भी इम्कान लग रहा है मुझे !

मैं सर्द जंग की आदत न डाल पाऊँगा,
कोई महाज़ पे वापस बुला रहा है मुझे !

सड़क पे चलते हुए आँखें बंद रखता हूँ,
तेरे जमाल का ऐसा मज़ा पड़ा है मुझे !

अभी तलक तो कोई वापसी की राह न थी,
कल एक राह-गुज़र का पता लगा है मुझे !!

 

Jiwan ko dukh dukh ko aag aur aag ko pani kahte..

Jiwan ko dukh dukh ko aag aur aag ko pani kahte,
Bachche lekin soye hue the kis se kahani kahte.

Sach kahne ka hausla tum ne chhin liya hai warna,
Shehar mein phaili virani ko sab virani kahte.

Waqt guzarta jata aur ye zakhm hare rahte to,
Badi hifazat se rakkhi hai teri nishani kahte.

Wo to shayad donon ka dukh ek jaisa tha warna,
Hum bhi patthar marte tujh ko aur diwani kahte.

Tabdili sachchai hai is ko mante lekin kaise,
Aaine ko dekh ke ek taswir purani kahte.

Tera lahja apnaya ab dil mein hasrat si hai,
Apni koi baat kabhi to apni zabani kahte.

Chup rah kar izhaar kiya hai kah sakte to “Aanis”,
Ek alahida tarz-e-sukhan ka tujh ko bani kahte. !!

जीवन को दुख दुख को आग और आग को पानी कहते,
बच्चे लेकिन सोए हुए थे किस से कहानी कहते !

सच कहने का हौसला तुम ने छीन लिया है वर्ना,
शहर में फैली वीरानी को सब वीरानी कहते !

वक़्त गुज़रता जाता और ये ज़ख़्म हरे रहते तो,
बड़ी हिफ़ाज़त से रक्खी है तेरी निशानी कहते !

वो तो शायद दोनों का दुख एक जैसा था वर्ना,
हम भी पत्थर मारते तुझ को और दीवानी कहते !

तब्दीली सच्चाई है इस को मानते लेकिन कैसे,
आईने को देख के एक तस्वीर पुरानी कहते !

तेरा लहजा अपनाया अब दिल में हसरत सी है,
अपनी कोई बात कभी तो अपनी ज़बानी कहते !

चुप रह कर इज़हार किया है कह सकते तो “अनीस”,
एक अलाहिदा तर्ज़-ए-सुख़न का तुझ को बानी कहते !!

 

Ek karb-e-musalsal ki saza den to kise den..

Ek karb-e-musalsal ki saza den to kise den,
Maqtal mein hain jine ki dua den to kise den.

Patthar hain sabhi log karen baat to kis se,
Is shahr-e-khamoshan mein sada den to kise den.

Hai kaun ki jo khud ko hi jalta hua dekhe,
Sab hath hain kaghaz ke diya den to kise den.

Sab log sawali hain sabhi jism barahna,
Aur pas hai bas ek rida den to kise den.

Jab hath hi kat jayen to thamega bhala kaun,
Ye soch rahe hain ki asa den to kise den.

Bazar mein khushbu ke kharidar kahan hain,
Ye phool hain be-rang bata den to kise den.

Chup rahne ki har shakhs qasam khaye hue hai,
Hum zahr bhara jam bhala den to kise den. !!

एक कर्ब-ए-मुसलसल की सज़ा दें तो किसे दें,
मक़्तल में हैं जीने की दुआ दें तो किसे दें !

पत्थर हैं सभी लोग करें बात तो किस से,
इस शहर-ए-ख़मोशाँ में सदा दें तो किसे दें !

है कौन कि जो ख़ुद को ही जलता हुआ देखे,
सब हाथ हैं काग़ज़ के दिया दें तो किसे दें !

सब लोग सवाली हैं सभी जिस्म बरहना,
और पास है बस एक रिदा दें तो किसे दें !

जब हाथ ही कट जाएँ तो थामेगा भला कौन,
ये सोच रहे हैं कि असा दें तो किसे दें !

बाज़ार में ख़ुशबू के ख़रीदार कहाँ हैं,
ये फूल हैं बे-रंग बता दें तो किसे दें !

चुप रहने की हर शख़्स क़सम खाए हुए है,
हम ज़हर भरा जाम भला दें तो किसे दें !!

 

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai..

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai,
Tumhari yaadon ke saath tanha safar kiya hai.

Suna hai us rut ko dekh kar tum bhi ro pade the,
Suna hai barish ne pattharon par asar kiya hai.

Salib ka bar bhi uthao tamam jiwan,
Ye lab-kushai ka jurm tum ne agar kiya hai.

Tumhein khabar thi haqiqaten talkh hain jabhi to,
Tumhari aankhon ne khwab ko mo’atabar kiya hai.

Ghutan badhi hai to phir usi ko sadayen di hain,
Ki jis hawa ne har ek shajar be-samar kiya hai.

Hai tere andar basi hui ek aur duniya,
Magar kabhi tu ne itna lamba safar kiya hai.

Mere hi dam se to raunaqen tere shehar mein thin,
Mere hi qadmon ne dasht ko rah-guzar kiya hai.

Tujhe khabar kya mere labon ki khamoshiyon ne,
Tere fasane ko kis qadar mukhtasar kiya hai.

Bahut si aankhon mein tirgi ghar bana chuki hai,
bahut si aankhon ne intezaar-e-sahar kiya hai. !!

मिलन की साअत को इस तरह से अमर किया है,
तुम्हारी यादों के साथ तन्हा सफ़र किया है !

सुना है उस रुत को देख कर तुम भी रो पड़े थे,
सुना है बारिश ने पत्थरों पर असर किया है !

सलीब का बार भी उठाओ तमाम जीवन,
ये लब-कुशाई का जुर्म तुम ने अगर किया है !

तुम्हें ख़बर थी हक़ीक़तें तल्ख़ हैं जभी तो,
तुम्हारी आँखों ने ख़्वाब को मोतबर किया है !

घुटन बढ़ी है तो फिर उसी को सदाएँ दी हैं,
कि जिस हवा ने हर इक शजर बे-समर किया है !

है तेरे अंदर बसी हुई एक और दुनिया,
मगर कभी तूने इतना लम्बा सफ़र किया है !

मेरे ही दम से तो रौनक़ें तेरे शहर में थीं,
मेरे ही क़दमों ने दश्त को रह-गुज़र किया है !

तुझे ख़बर क्या मेरे लबों की ख़मोशियों ने,
तेरे फ़साने को किस क़दर मुख़्तसर किया है !

बहुत सी आँखों में तीरगी घर बना चुकी है,
बहुत सी आँखों ने इंतज़ार-ए-सहर किया है !!

 

Itni muddat baad mile ho..

Itni muddat baad mile ho,
Kin sochon mein gum phirte ho.

Itne khaif kyun rahte ho,
Har aahat se dar jate ho.

Tez hawa ne mujh se puchha,
Ret pe kya likhte rahte ho.

Kash koi hum se bhi puchhe,
Raat gaye tak kyun jage ho.

Main dariya se bhi darta hun,
Tum dariya se bhi gahre ho.

Kaun si baat hai tum mein aisi,
Itne achchhe kyun lagte ho.

Pichhe mud kar kyun dekha tha,
Patthar ban kar kya takte ho.

Jao jit ka jashn manao,
Main jhutha hun tum sachche ho.

Apne shehar ke sab logon se,
Meri khatir kyun uljhe ho.

Kahne ko rahte ho dil mein,
Phir bhi kitne dur khade ho.

Raat hamein kuchh yaad nahi tha,
Raat bahut hi yaad aaye ho.

Hum se na puchho hijr ke kisse,
Apni kaho ab tum kaise ho.

“Mohsin” tum badnam bahut ho,
Jaise ho phir bhi achchhe ho. !!

इतनी मुद्दत बाद मिले हो,
किन सोचों में गुम फिरते हो !

इतने ख़ाइफ़ क्यूँ रहते हो,
हर आहट से डर जाते हो !

तेज़ हवा ने मुझ से पूछा,
रेत पे क्या लिखते रहते हो !

काश कोई हम से भी पूछे,
रात गए तक क्यूँ जागे हो !

में दरिया से भी डरता हूँ,
तुम दरिया से भी गहरे हो !

कौन सी बात है तुम में ऐसी,
इतने अच्छे क्यूँ लगते हो !

पीछे मुड़ कर क्यूँ देखा था,
पत्थर बन कर क्या तकते हो !

जाओ जीत का जश्न मनाओ,
में झूठा हूँ तुम सच्चे हो !

अपने शहर के सब लोगों से,
मेरी ख़ातिर क्यूँ उलझे हो !

कहने को रहते हो दिल में,
फिर भी कितने दूर खड़े हो !

रात हमें कुछ याद नहीं था,
रात बहुत ही याद आए हो !

हम से न पूछो हिज्र के क़िस्से,
अपनी कहो अब तुम कैसे हो !

“मोहसिन” तुम बदनाम बहुत हो,
जैसे हो फिर भी अच्छे हो !!

 

Patthar ke khuda wahan bhi paaye..

Patthar ke khuda wahan bhi paaye,
Hum chaand se aaj laut aaye.

Deewaren to har taraf khadi hain,
Kya ho gaye meharaban saaye.

Jungal ki hawayen aa rahi hain,
Kaghaz ka ye shehar ud na jaye.

Laila ne naya janam liya hai,
Hai qais koi jo dil lagaye.

Hai aaj zameen ka ghusl-e-sehat,
Jis dil mein ho jitna khoon laaye.

Sehra sehra lahoo ke kheme,
Phir pyaase lab-e-furaat aaye. !!

पत्थर के ख़ुदा वहाँ भी पाए,
हम चाँद से आज लौट आए !

दीवारें तो हर तरफ़ खड़ी हैं,
क्या हो गए मेहरबान साए

जंगल की हवाएँ आ रही हैं,
काग़ज़ का ये शहर उड़ न जाए !

लैला ने नया जनम लिया है,
है क़ैस कोई जो दिल लगाए !

है आज ज़मीं का ग़ुस्ल-ए-सेह्हत,
जिस दिल में हो जितना ख़ून लाए !

सहरा-सहरा लहू के खे़मे,
फिर प्यासे लब-ए-फ़ुरात आए !!

 

Zehan mein pani ke badal agar aaye hote..

Zehan mein pani ke badal agar aaye hote,
Maine mitti ke gharaunde na banaye hote.

Dhup ke ek hi mausam ne jinhen tod diya,
Itne nazuk bhi ye rishte na banaye hote.

Dubte shehar mein mitti ka makan girta hi,
Tum ye sab soch ke meri taraf aaye hote.

Dhup ke shehar mein ek umar na jalna padta,
Hum bhi aye kash kisi pedd ke saye hote.

Phal padosi ke darakhton pe na pakte toh “Wasim”,
Mere aangan mein ye patther bhi na aaye hote. !!

ज़हन में पानी के बादल अगर आये होते,
मैंने मिटटी के घरोंदे ना बनाये होते !

धूप के एक ही मौसम ने जिन्हें तोड़ दिया,
इतने नाज़ुक भी ये रिश्ते न बनाये होते !

डूबते शहर मैं मिटटी का मकान गिरता ही,
तुम ये सब सोच के मेरी तरफ आये होते !

धूप के शहर में इक उम्र ना जलना पड़ता,
हम भी ए काश किसी पेड के साये होते !

फल पडोसी के दरख्तों पे ना पकते तो “वसीम”,
मेरे आँगन में ये पत्थर भी ना आये होते !!