Wednesday , February 26 2020
Home / Parinda Shayari

Parinda Shayari

Ajnabi Khwahishen Seene Mein Daba Bhi Na Sakun..

Ajnabi khwahishen seene mein daba bhi na sakun,
Aise ziddi hain parinde ki uda bhi na sakun.

Phunk dalunga kisi roz main dil ki duniya,
Ye tera khat to nahin hai ki jala bhi na sakun.

Meri ghairat bhi koi shai hai ki mehfil mein mujhe,
Us ne is tarah bulaya hai ki ja bhi na sakun.

Phal to sab mere darakhton ke pake hain lekin,
Itni kamzor hain shakhen ki hila bhi na sakun.

Ek na ek roz kahin dhund hi lunga tujh ko,
Thokaren zahar nahi hain ki main kha bhi na sakun. !!

अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ,
ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ !

फूँक डालूँगा किसी रोज़ मैं दिल की दुनिया,
ये तेरा ख़त तो नहीं है कि जला भी न सकूँ !

मेरी ग़ैरत भी कोई शय है कि महफ़िल में मुझे,
उस ने इस तरह बुलाया है कि जा भी न सकूँ !

फल तो सब मेरे दरख़्तों के पके हैं लेकिन,
इतनी कमज़ोर हैं शाख़ें कि हिला भी न सकूँ !

एक न एक रोज़ कहीं ढूँड ही लूँगा तुझ को,
ठोकरें ज़हर नहीं हैं कि मैं खा भी न सकूँ !! -Rahat Indori Ghazal

 

Wo jo tere faqir hote hain..

Wo jo tere faqir hote hain,
Aadmi be-nazir hote hain.

Dekhne wala ek nahi milta,
Aankh wale kasir hote hain.

Jin ko daulat haqir lagti hai,
Uff ! wo kitne amir hote hain.

Jin ko kudrat ne husan bakhsha ho,
Kudratan kuchh sharir hote hain.

Zindagi ke hasin tarkash mein,
Kitne be-rahm tir hote hain.

Wo parinde jo aankh rakhte hain,
Sab se pahle asir hote hain.

Phool daman mein chand rakh lije,
Raste mein faqir hote hain.

Hai khushi bhi ajib shai lekin,
Gham bade dil-pazir hote hain.

Aye “Adam” ehtiyat logon se,
Log munkir-nakir hote hain. !!

वो जो तेरे फ़क़ीर होते हैं,
आदमी बे-नज़ीर होते हैं !

देखने वाला एक नहीं मिलता,
आँख वाले कसीर होते हैं

जिन को दौलत हक़ीर लगती है,
उफ़ ! वो कितने अमीर होते हैं !

जिन को क़ुदरत ने हुस्न बख़्शा हो,
क़ुदरतन कुछ शरीर होते हैं !

ज़िंदगी के हसीन तरकश में,
कितने बे-रहम तीर होते हैं !

वो परिंदे जो आँख रखते हैं,
सब से पहले असीर होते हैं !

फूल दामन में चंद रख लीजे,
रास्ते में फ़क़ीर होते हैं !

है ख़ुशी भी अजीब शय लेकिन,
ग़म बड़े दिल-पज़ीर होते हैं !

ऐ “अदम” एहतियात लोगों से,
लोग मुनकिर-नकीर होते हैं !!