Home / Dard Bhari Shayari

Dard Bhari Shayari

Jab se us ne shehar ko chhoda har rasta sunsan hua..

Jab se us ne shehar ko chhoda har rasta sunsan hua,
Apna kya hai sare shehar ka ek jaisa nuqsan hua.

Ye dil ye aaseb ki nagri maskan sochun wahmon ka,
Soch raha hun is nagri mein tu kab se mehman hua.

Sahra ki munh-zor hawayen auron se mansub hui,
Muft mein hum aawara thahre muft mein ghar viran hua.

Mere haal pe hairat kaisi dard ke tanha mausam mein,
Patthar bhi ro padte hain insan to phir insan hua.

Itni der mein ujde dil par kitne mahshar bit gaye,
Jitni der mein tujh ko pa kar khone ka imkan hua.

Kal tak jis ke gird tha raqsan ek amboh sitaron ka,
Aaj usi ko tanha pa kar main to bahut hairan hua.

Us ke zakhm chhupa kar rakhiye khud us shakhs ki nazron se,
Us se kaisa shikwa kije wo to abhi nadan hua.

Jin ashkon ki phiki lau ko hum be-kar samajhte the,
Un ashkon se kitna raushan ek tarik makan hua.

Yun bhi kam-amez tha “Mohsin” wo is shehar ke logon mein,
Lekin mere samne aa kar aur bhi kuchh anjaan hua. !!

जब से उस ने शहर को छोड़ा हर रस्ता सुनसान हुआ,
अपना क्या है सारे शहर का एक जैसा नुक़सान हुआ !

ये दिल ये आसेब की नगरी मस्कन सोचूँ वहमों का,
सोच रहा हूँ इस नगरी में तू कब से मेहमान हुआ !

सहरा की मुँह-ज़ोर हवाएँ औरों से मंसूब हुईं,
मुफ़्त में हम आवारा ठहरे मुफ़्त में घर वीरान हुआ !

मेरे हाल पे हैरत कैसी दर्द के तन्हा मौसम में,
पत्थर भी रो पड़ते हैं इंसान तो फिर इंसान हुआ !

इतनी देर में उजड़े दिल पर कितने महशर बीत गए,
जितनी देर में तुझ को पा कर खोने का इम्कान हुआ !

कल तक जिस के गिर्द था रक़्साँ एक अम्बोह सितारों का,
आज उसी को तन्हा पा कर मैं तो बहुत हैरान हुआ !

उस के ज़ख़्म छुपा कर रखिए ख़ुद उस शख़्स की नज़रों से,
उस से कैसा शिकवा कीजे वो तो अभी नादान हुआ !

जिन अश्कों की फीकी लौ को हम बे-कार समझते थे,
उन अश्कों से कितना रौशन एक तारीक मकान हुआ !

यूँ भी कम-आमेज़ था “मोहसिन” वो इस शहर के लोगों में,
लेकिन मेरे सामने आ कर और भी कुछ अंजान हुआ !!

 

Baat karni hai baat kaun kare..

Baat karni hai baat kaun kare,
Dard se do-do hath kaun kare.

Hum sitare tumhein bulate hain,
Chand na ho to raat kaun kare.

Ab tujhe rab kahen ya but samjhein,
Ishq mein zat-pat kaun kare.

Zindagi bhar ki the kamai tum,
Is se zyaada zakat kaun kare. !!

बात करनी है बात कौन करे,
दर्द से दो-दो हाथ कौन करे !

हम सितारे तुम्हें बुलाते हैं,
चाँद न हो तो रात कौन करे !

अब तुझे रब कहें या बुत समझें,
इश्क़ में ज़ात-पात कौन करे !

ज़िंदगी भर की थे कमाई तुम,
इस से ज़्यादा ज़कात कौन करे !!

Ek Pagli Ladki Ke Bin..

Amawas ki kaali raaton mein dil ka darwaja khulta hai,
Jab dard ki kaali raaton mein gham ansoon ke sang ghulta hain,
Jab pichwade ke kamre mein hum nipat akele hote hain,
Jab ghadiyan tik-tik chalti hain, sab sote hain, Hum rote hain,
Jab baar baar dohrane se sari yaadein chuk jati hain,
Jab unch-nich samjhane mein mathe ki nas dukh jati hain
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai..

अमावस की काली रातों में दिल का दरवाजा खुलता है,
जब दर्द की काली रातों में गम आंसू के संग घुलता है,
जब पिछवाड़े के कमरे में हम निपट अकेले होते हैं,
जब घड़ियाँ टिक-टिक चलती हैं, सब सोते हैं, हम रोते हैं,
जब बार-बार दोहराने से सारी यादें चुक जाती हैं,
जब ऊँच-नीच समझाने में माथे की नस दुःख जाती है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Jab pothe khali hote hain, jab harf sawali hote hain,
Jab ghazalein ras nahi aati, afsane gali hote hain
Jab basi fiki dhoop sametein din jaldi dhal jta hai,
Jab sooraj ka laskhar chhat se galiyon mein der se jata hai,
Jab jaldi ghar jane ki ichha man hi man ghut jati hai,
Jab college se ghar lane wali pahli bus chhut jati hai,
Jab be-man se khana khane par maa gussa ho jati hai,
Jab lakh mana karne par bhi paaro padhne aa jati hai,
Jab apna har man-chaha kaam koi lachari lagta hai,
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai..

जब पोथे खाली होते है, जब हर्फ़ सवाली होते हैं,
जब गज़लें रास नही आती, अफ़साने गाली होते हैं,
जब बासी फीकी धूप समेटे दिन जल्दी ढल जता है,
जब सूरज का लश्कर छत से गलियों में देर से जाता है,
जब जल्दी घर जाने की इच्छा मन ही मन घुट जाती है,
जब कालेज से घर लाने वाली पहली बस छुट जाती है,
जब बे-मन से खाना खाने पर माँ गुस्सा हो जाती है,
जब लाख मन करने पर भी पारो पढ़ने आ जाती है,
जब अपना हर मन-चाहा काम कोई लाचारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Jab kamre mein sannate ki aawaz sunai deti hai,
Jab darpan mein aankhon ke niche jhai dikhai deti hai
Jab badki bhabhi kahti hai, kuchh sehat ka bhi dhyan karo,
Kya likhte ho din-bhar, kuchh sapnon ka bhi samman karo,
Jab baba wali baithak mein kuchh rishte wale aate hain,
Jab baba hamein bulate hain, hum jate mein ghabrate hain,
Jab saari pahne ek ladki ka ek photo laya jata hai,
Jab bhabhi hamein manati hai, photo dikhlaya jata hai,
Jab sarein ghar ka samjhana humko fankari lagta hai,
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhaari lagta hai..

जब कमरे में सन्नाटे की आवाज़ सुनाई देती है,
जब दर्पण में आंखों के नीचे झाई दिखाई देती है,
जब बड़की भाभी कहती हैं, कुछ सेहत का भी ध्यान करो,
क्या लिखते हो दिन-भर, कुछ सपनों का भी सम्मान करो,
जब बाबा वाली बैठक में कुछ रिश्ते वाले आते हैं,
जब बाबा हमें बुलाते है, हम जाते में घबराते हैं,
जब साड़ी पहने एक लड़की का फोटो लाया जाता है,
जब भाभी हमें मनाती हैं, फोटो दिखलाया जाता है,
जब सारे घर का समझाना हमको फनकारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Didi kahti hai us pagli ladki ki kuchh aukat nahi,
Uske dil mein bhaiiya tere jaise pyare jazbat nahi,
Woh pagli ladki meri khatir nau din bhukhi rahti hai,
Chup-chup sare warat karti hai, magar mujhse kuchh na kahti hai,
Jo pagli ladki kahti hai, main pyar tumhi se karti hoon,
Lekin main hun majbur bahut, amma-baba se darti hun,
Us pagli ladki par apna kuchh bhi adhikar nahi baba,
Sab katha-kahani kisse hai, kuchh bhi to saar nahi baba
Bas us pagli ladki ke sang jina fulwari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai.. !!

दीदी कहती हैं उस पगली लडकी की कुछ औकात नहीं,
उसके दिल में भैया तेरे जैसे प्यारे जज़्बात नहीं,
वो पगली लड़की मेरी खातिर नौ दिन भूखी रहती है,
चुप चुप सारे व्रत करती है, मगर मुझसे कुछ ना कहती है,
जो पगली लडकी कहती है, मैं प्यार तुम्ही से करती हूँ,
लेकिन मैं हूँ मजबूर बहुत, अम्मा-बाबा से डरती हूँ,
उस पगली लड़की पर अपना कुछ भी अधिकार नहीं बाबा,
सब कथा-कहानी-किस्से हैं, कुछ भी तो सार नहीं बाबा,
बस उस पगली लडकी के संग जीना फुलवारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..!!

 

Aaj socha to aansu bhar aaye..

Aaj socha to aansu bhar aaye,
Muddatein ho gayi muskuraye.

Har qadam par udhar mud ke dekha,
Un ki mehfil se hum uth to aaye.

Rah gayi zindagi dard ban ke,
Dard dil mein chhupaye-chhupaye.

Dil ki nazuk ragein tutti hain,
Yaad itna bhi koi na aaye. !!

आज सोचा तो आँसू भर आए,
मुद्दतें हो गईं मुस्कुराए !

हर क़दम पर उधर मुड़ के देखा,
उन की महफ़िल से हम उठ तो आए !

रह गई ज़िंदगी दर्द बन के,
दर्द दिल में छुपाए-छुपाए !

दिल की नाज़ुक रगें टूटती हैं,
याद इतना भी कोई न आए !!

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Vividh विविध)

1.
Hum sayadar ped zamane ke kaam aaye,
Jab sukhne lage to jalane ke kaam aaye.

हम सायादार पेड़ ज़माने के काम आये,
जब सूखने लगे तो जलाने के काम आये !

2.
Koyal bole ya gaureyya achcha lagta hai,
Apne gaon mein sab kuch bhaiya achcha lagta hai.

कोयल बोले या गौरेय्या अच्छा लगता है,
अपने गाँव में सब कुछ भैया अच्छा लगता है !

3.
Khandani wirasat ke nilam par aap apne ko taiyaar karte hue,
Us haweli ke sare makin ro diye us haweli ko bazaar karte hue.

ख़ानदानी विरासत के नीलाम पर आप अपने को तैयार करते हुए,
उस हवेली के सारे मकीं रो दिये उस हवेली को बाज़ार करते हुए !

4.
Udane se parinde ko shzar rok raha hai,
Ghar wale to khamosh hain ghar rok raha hai.

उड़ने से परिंदे को शजर रोक रहा है,
घर वाले तो ख़ामोश हैं घर रोक रहा है !

5.
Wo chahati hai ki aangan mein maut ho meri,
Kahan ki mitti hai mujhko kahan bulaati hai.

वो चाहती है कि आँगन में मौत हो मेरी,
कहाँ की मिट्टी है मुझको कहाँ बुलाती है !

6.
Numaaish par badan ki yun koi taiyaar kyon hota,
Agar sab ghar ho jate to ye bazar kyon hota.

नुमाइश पर बदन की यूँ कोई तैयार क्यों होता,
अगर सब घर हो जाते तो ये बाज़ार क्यों होता !

7.
Kachcha samajh ke bech na dena makan ko,
Shayad kabhi ye sar ko chhupane ke kaam aaye.

कच्चा समझ के बेच न देना मकान को,
शायद कभी ये सर को छुपाने के काम आये !

8.
Andheri raat mein aksar sunhari mishalein lekar,
Parindo ki musibat ka pata jugnu lagate hain.

अँधेरी रात में अक्सर सुनहरी मिशअलें लेकर,
परिंदों की मुसीबत का पता जुगनू लगाते हैं !

9.
Tune saari bajiyan jiti hain mujhpe baith kar,
Ab main budha ho raha hun astbal bhi chahiye.

तूने सारी बाज़ियाँ जीती हैं मुझपे बैठ कर,
अब मैं बूढ़ा हो रहा हूँ अस्तबल भी चाहिए !

10.
Mohaaziro ! yahi tarikh hai makanon ki,
Banane wala hamesha baramdon mein raha.

मोहाजिरो ! यही तारीख़ है मकानों की,
बनाने वाला हमेशा बरामदों में रहा !

11.
Tumhari aankhon ki tauheen hai zara socho,
Tumhara chahane wala sharab pita hai.

तुम्हारी आँखों की तौहीन है ज़रा सोचो,
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है !

12.
Kisi dukh ka kisi chehare se andaza nahi hota,
Shazar to dekhne se sab hare malum hote hain.

किसी दुख का किसी चेहरे से अंदाज़ा नहीं होता,
शजर तो देखने में सब हरे मालूम होते हैं !

13.
Jarurat se anaa ka bhari patthar tut jata hai,
Magar phir aadami hi andar-andar tut jata hai.

ज़रूरत से अना का भारी पत्थर टूट जात है,
मगर फिर आदमी भी अंदर-अंदर टूट जाता है !

14.
Mohabbat ek aisa khel hai jismein mere bhai,
Hamesha jitane wale pareshani mein rehate hain.

मोहब्बत एक ऐसा खेल है जिसमें मेरे भाई,
हमेशा जीतने वाले परेशानी में रहते हैं !

15.
Phir kabutar ki wafadari pe shaq mat karna,
Wah to ghar ko isi minar se pehachanta hai.

फिर कबूतर की वफ़ादारी पे शक मत करना,
वह तो घर को इसी मीनार से पहचानता है !

16.
Anaa ki mohani surat bigad deti hai,
Bade-badon ki jarurat bigad deti hai.

अना की मोहनी सूरत बिगाड़ देती है,
बड़े-बड़ों को ज़रूरत बिगाड़ देती है !

17.
Banakar ghaunsala rehata tha ek joda kabootar ka,
Agar aandhi nahi aati to ye minar bach jata.

बनाकर घौंसला रहता था इक जोड़ा कबूतर का,
अगर आँधी नहीं आती तो ये मीनार बच जाता !

18.
Un gharon mein jahan mitti ke ghade rahte hain,
Kad mein chhote hon magar log bade rahte hain.

उन घरों में जहाँ मिट्टी के घड़े रहते हैं,
क़द में छोटे हों मगर लोग बड़े रहते हैं !

19.
Pyaas ki shiddat se munh khole parinda gir pada,
Sidhiyon par haanfte akhbar wale ki tarah.

प्यास की शिद्दत से मुँह खोले परिंदा गिर पड़ा,
सीढ़ियों पर हाँफ़ते अख़बार वाले की तरह !

20.
Wo chidiyaan thi duayein padh ke jo mujhko jagati thi,
Main aksar sochta tha ye tilawat kaun karta hai.

वो चिड़ियाँ थीं दुआएँ पढ़ के जो मुझको जगाती थीं,
मैं अक्सर सोचता था ये तिलावत कौन करता है !

21.
Parinde chonch mein tinke dabate jate hain.
Main sochta hun ki ab ghar basa liya jaye.

परिंदे चोंच में तिनके दबाते जाते हैं,
मैं सोचता हूँ कि अब घर बसा लिया जाये !

22.
Aye mere bhai mere khoon ka badla le le,
Hath mein roz ye talwar nahi aayegi.

ऐ मेरे भाई मेरे ख़ून का बदला ले ले,
हाथ में रोज़ ये तलवार नहीं आयेगी !

23.
Naye kamron mein ye chizein purani kaun rakhta hai,
Parindo ke liye sheharon mein paani kaun rakhta hai.

नये कमरों में ये चीज़ें पुरानी कौन रखता है,
परिंदों के लिए शहरों में पानी कौन रखता है !

24.
Jisko bachchon mein pahunchane ki bahut ujalat ho,
Us se kehiye na kabhi Car chalane ke liye.

जिसको बच्चों में पहुँचने की बहुत उजलत हो,
उस से कहिये न कभी कार चलाने के लिए !

25.
So jate hai footpaath pe akhbar bichha kar,
Majdur kabhi nind ki goli nahi khate.

सो जाते हैं फुट्पाथ पे अखबार बिछा कर,
मज़दूर कभी नींद की गोलॊ नहीं खते !

26.
Pet ki khatir phootpaathon pe bech raha hun tasvirein,
Main kya janu roza hai ya mera roza tut gaya.

पेट की ख़ातिर फुटपाथों पे बेच रहा हूँ तस्वीरें,
मैं क्या जानूँ रोज़ा है या मेरा रोज़ा टूट गया !

27.
Jab us se guftgu kar li to phir shazara nahi puncha,
Hunar bakhiyagiri ka ek turpai mein khulta hai.

जब उससे गुफ़्तगू कर ली तो फिर शजरा नहीं पूछा,
हुनर बख़ियागिरी का एक तुरपाई में खुलता है !

 

Dagh duniya ne diye zakhm zamane se mile..

Dagh duniya ne diye zakhm zamane se mile,
Hum ko tohfe ye tumhein dost banane se mile

Hum taraste hi taraste hi taraste hi rahe,
Wo falane se falane se falane se mile.

Khud se mil jate to chahat ka bharam rah jata,
Kya mile aap jo logon ke milane se mile.

Maa ki aaghosh mein kal maut ki aaghosh mein aaj,
Hum ko duniya mein ye do waqt suhane se mile.

Kabhi likhwane gaye khat kabhi padhwane gaye,
Hum hasinon se isi hile bahane se mile.

Ek naya zakhm mila ek nayi umar mili,
Jab kisi shahr mein kuch yar purane se mile.

Ek hum hi nahi phirte hain liye kissa-e-gham,
Un ke khamosh labon par bhi fasane se mile.

Kaise maane ki unhein bhul gaya tu ai “Kaif”,
Un ke khat aaj hamein tere sirhane se mile. !!

दाग़ दुनिया ने दिए ज़ख़्म ज़माने से मिले,
हम को तोहफ़े ये तुम्हें दोस्त बनाने से मिले !

हम तरसते ही तरसते ही तरसते ही रहे,
वो फ़लाने से फ़लाने से फ़लाने से मिले !

ख़ुद से मिल जाते तो चाहत का भरम रह जाता,
क्या मिले आप जो लोगों के मिलाने से मिले !

माँ की आग़ोश में कल मौत की आग़ोश में आज,
हम को दुनिया में ये दो वक़्त सुहाने से मिले !

कभी लिखवाने गए ख़त कभी पढ़वाने गए,
हम हसीनों से इसी हीले बहाने से मिले !

एक नया ज़ख़्म मिला एक नई उम्र मिली,
जब किसी शहर में कुछ यार पुराने से मिले !

एक हम ही नहीं फिरते हैं लिए क़िस्सा-ए-ग़म,
उन के ख़ामोश लबों पर भी फ़साने से मिले !

कैसे मानें कि उन्हें भूल गया तू ऐ “कैफ़”,
उन के ख़त आज हमें तेरे सिरहाने से मिले !!

Nigah-e-naaz ne parde uthaye hain kya kya..

Nigah-e-naaz ne parde uthaye hain kya kya,
Hijab ahl-e-mohabbat ko aaye hain kya kya.

Jahan mein thi bas ek afwah tere jalwon ki,
Charagh-e-dair-o-haram jhilmilaye hain kya kya.

Do-chaar barq-e-tajalli se rahne walon ne,
Fareb narm-nigahi ke khaye hain kya kya.

Dilon pe karte hue aaj aati jati chot,
Teri nigah ne pahlu bachaye hain kya kya.

Nisar nargis-e-mai-gun ki aaj paimane,
Labon tak aaye hue thartharaye hain kya kya.

Wo ek zara si jhalak barq-e-kam-nigahi ki,
Jigar ke zakhm-e-nihan muskuraye hain kya kya.

Charagh-e-tur jale aaina-dar-aina,
Hijab barq-e-ada ne uthaye hain kya kya.

Ba-qadr-e-zauq-e-nazar did-e-husn kya ho magar,
Nigah-e-shauq mein jalwe samaye hain kya kya.

Kahin charagh kahin gul kahin dil-e-barbaad,
Khiram-e-naz ne fitne uthaye hain kya kya.

Taghaful aur badha us ghazal-e-rana ka,
Fusun-e-gham ne bhi jadu jagaye hain kya kya.

Hazar fitna-e-bedar khwab-e-rangin mein,
Chaman mein ghuncha-e-gul-rang laye hain kya kya.

Tere khulus-e-nihan ka to aah kya kahna,
Suluk uchatte bhi dil mein samaye hain kya kya.

Nazar bacha ke tere ishwa-ha-e-pinhan ne,
Dilon mein dard-e-mohabbat uthaye hain kya kya.

Payam-e-husn payam-e-junun payam-e-fana,
Teri nigah ne fasane sunaye hain kya kya.

Tamam husn ke jalwe tamam mahrumi,
Bharam nigah ne apne ganwaye hain kya kya.

“Firaq” rah-e-wafa mein subuk-rawi teri,
Bade-badon ke qadam dagmagaye hain kya kya. !!

निगाह-ए-नाज़ ने पर्दे उठाए हैं क्या क्या,
हिजाब अहल-ए-मोहब्बत को आए हैं क्या क्या !

जहाँ में थी बस इक अफ़्वाह तेरे जल्वों की,
चराग़-ए-दैर-ओ-हरम झिलमिलाए हैं क्या क्या !

दो-चार बर्क़-ए-तजल्ली से रहने वालों ने,
फ़रेब नर्म-निगाही के खाए हैं क्या क्या !

दिलों पे करते हुए आज आती जाती चोट,
तेरी निगाह ने पहलू बचाए हैं क्या क्या !

निसार नर्गिस-ए-मय-गूँ कि आज पैमाने,
लबों तक आए हुए थरथराए हैं क्या क्या !

वो इक ज़रा सी झलक बर्क़-ए-कम-निगाही की,
जिगर के ज़ख़्म-ए-निहाँ मुस्कुराए हैं क्या क्या !

चराग़-ए-तूर जले आइना-दर-आईना,
हिजाब बर्क़-ए-अदा ने उठाए हैं क्या क्या !

ब-क़द्र-ए-ज़ौक़-ए-नज़र दीद-ए-हुस्न क्या हो मगर,
निगाह-ए-शौक़ में जल्वे समाए हैं क्या क्या !

कहीं चराग़ कहीं गुल कहीं दिल-ए-बर्बाद,
ख़िराम-ए-नाज़ ने फ़ित्ने उठाए हैं क्या क्या !

तग़ाफ़ुल और बढ़ा उस ग़ज़ाल-ए-रअना का,
फ़ुसून-ए-ग़म ने भी जादू जगाए हैं क्या क्या !

हज़ार फ़ित्ना-ए-बेदार ख़्वाब-ए-रंगीं में,
चमन में ग़ुंचा-ए-गुल-रंग लाए हैं क्या क्या !

तेरे ख़ुलूस-ए-निहाँ का तो आह क्या कहना,
सुलूक उचटटे भी दिल में समाए हैं क्या क्या !

नज़र बचा के तेरे इश्वा-हा-ए-पिन्हाँ ने,
दिलों में दर्द-ए-मोहब्बत उठाए हैं क्या क्या !

पयाम-ए-हुस्न पयाम-ए-जुनूँ पयाम-ए-फ़ना,
तेरी निगाह ने फ़साने सुनाए हैं क्या क्या !

तमाम हुस्न के जल्वे तमाम महरूमी,
भरम निगाह ने अपने गँवाए हैं क्या क्या !

“फ़िराक़” राह-ए-वफ़ा में सुबुक-रवी तेरी,
बड़े-बड़ों के क़दम डगमगाए हैं क्या क्या !!