Ye Zulf Agar Khul Ke Bikhar Jaye To Accha

Ye zulf agar khul ke bikhar jaye to accha,
Is raat ki taqdir sanwar jaye to accha.

Jis tarah se thodi si tere sath kati hai,
Baqi bhi usi tarah guzar jaye to accha.

Duniya ki nigahon mein bhala kya hai bura kya,
Ye bojh agar dil se utar jaye to accha.

Waise to tumhin ne mujhe barbaad kiya hai,
Ilzam kisi aur ke sar jaye to accha. !!

ये ज़ुल्फ़ अगर खुल के बिखर जाए तो अच्छा,
इस रात की तक़दीर सँवर जाए तो अच्छा !

जिस तरह से थोड़ी सी तिरे साथ कटी है,
बाक़ी भी उसी तरह गुज़र जाए तो अच्छा !

दुनिया की निगाहों में भला क्या है बुरा क्या,
ये बोझ अगर दिल से उतर जाए तो अच्छा !

वैसे तो तुम्हीं ने मुझे बरबाद किया है,
इल्ज़ाम किसी और के सर जाए तो अच्छा !!

 

Main Zindagi Ka Sath Nibhata Chala Gaya..

Main zindagi ka sath nibhata chala gaya,
Har fikr ko dhuyen mein udata chala gaya.

Barbaadiyon ka sog manana fuzul tha,
Barbaadiyon ka jashn manata chala gaya.

Jo mil gaya usi ko muqaddar samajh liya,
Jo kho gaya main us ko bhulata chala gaya.

Gham aur khushi mein farq na mahsus ho jahan,
Main dil ko us maqam pe lata chala gaya. !!

मैं ज़िंदगी का साथ निभाता चला गया,
हर फ़िक्र को धुएँ में उड़ाता चला गया !

बर्बादियों का सोग मनाना फ़ुज़ूल था,
बर्बादियों का जश्न मनाता चला गया !

जो मिल गया उसी को मुक़द्दर समझ लिया,
जो खो गया मैं उस को भुलाता चला गया !

ग़म और ख़ुशी में फ़र्क़ न महसूस हो जहाँ,
मैं दिल को उस मक़ाम पे लाता चला गया !!

Click Here For Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari Collection

 

Kabhi Khud Pe Kabhi Halat Pe Rona Aaya..

abhi khud pe kabhi halat pe rona aaya

Kabhi khud pe kabhi halat pe rona aaya,
Baat nikli to har ek baat pe rona aaya.

Hum to samjhe the ki hum bhul gaye hain un ko,
Kya hua aaj ye kis baat pe rona aaya.

Kis liye jite hain hum kis ke liye jite hain,
Barha aise sawalat pe rona aaya.

Kaun rota hai kisi aur ki khatir aye dost,
Sab ko apni hi kisi baat pe rona aaya. !!

कभी ख़ुद पे कभी हालात पे रोना आया,
बात निकली तो हर इक बात पे रोना आया !

हम तो समझे थे कि हम भूल गए हैं उन को,
क्या हुआ आज ये किस बात पे रोना आया !

किस लिए जीते हैं हम किस के लिए जीते हैं,
बारहा ऐसे सवालात पे रोना आया !

कौन रोता है किसी और की ख़ातिर ऐ दोस्त,
सब को अपनी ही किसी बात पे रोना आया !!

Click Here For Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari  Collection

 

Tang Aa Chuke Hain Kashmakash-E-Zindagi Se Hum..

Tang aa chuke hain kashmakash-e-zindagi se hum,
Thukra na den jahan ko kahin be-dili se hum.

Mayusi-e-maal-e-mohabbat na puchhiye,
Apnon se pesh aaye hain beganagi se hum.

Lo aaj hum ne tod diya rishta-e-umid,
Lo ab kabhi gila na karenge kisi se hum.

Ubhrenge ek bar abhi dil ke walwale,
Go dab gaye hain bar-e-gham-e-zindagi se hum.

Gar zindagi mein mil gaye phir ittifaq se,
Puchhenge apna haal teri bebasi se hum.

Allah-re fareb-e-mashiyyat ki aaj tak,
Duniya ke zulm sahte rahe khamushi se hum. !!

तंग आ चुके हैं कशमकश-ए-ज़िंदगी से हम,
ठुकरा न दें जहाँ को कहीं बे-दिली से हम !

मायूसी-ए-मआल-ए-मोहब्बत न पूछिए,
अपनों से पेश आए हैं बेगानगी से हम !

लो आज हम ने तोड़ दिया रिश्ता-ए-उमीद,
लो अब कभी गिला न करेंगे किसी से हम !

उभरेंगे एक बार अभी दिल के वलवले,
गो दब गए हैं बार-ए-ग़म-ए-ज़िंदगी से हम !

गर ज़िंदगी में मिल गए फिर इत्तिफ़ाक़ से,
पूछेंगे अपना हाल तिरी बेबसी से हम !

अल्लाह-रे फ़रेब-ए-मशिय्यत कि आज तक,
दुनिया के ज़ुल्म सहते रहे ख़ामुशी से हम !!

Click Here For Sahir Ludhianvi All Poetry Collection

Sada Hai Fikr-E-Taraqqi Buland-Binon Ko

Sada hai fikr-e-taraqqi buland-binon ko,
Hum aasman se laye hain in zaminon ko.

Padhen durud na kyun dekh kar hasinon ko,
Khayal-e-sanat-e-sane hai pak-binon ko.

Kamal-e-faqr bhi shayan hai pak-binon ko,
Ye khak takht hai hum boriya-nashinon ko.

Lahad mein soye hain chhoda hai shah-nashinon ko,
Qaza kahan se kahan le gayi makinon ko.

Ye jhurriyan nahin hathon pe zoaf-e-piri ne,
Chuna hai jama-e-asli ki aastinon ko.

Laga raha hun mazamin-e-nau ke phir ambar,
Khabar karo mere khirman ke khosha-chinon ko.

Bhala taraddud-e-beja se un mein kya hasil,
Utha chuke hain zamindar jin zaminon ko.

Unhin ko aaj nahin baithne ki ja milti,
Muaf karte the jo log kal zaminon ko.

Ye zairon ko milin sarfaraaziyan warna,
Kahan nasib ki chumen malak jabinon ko.

Sajaya hum ne mazamin ke taza phoolon se,
Basa diya hai in ujdi hui zaminon ko.

Lahad bhi dekhiye in mein nasib ho ki na ho,
Ki khak chhan ke paya hai jin zaminon ko.

Zawal-e-taqat o mu-e-sapid o zof-e-basar,
Inhin se paye bashar maut ke qarinon ko.

Nahin khabar unhen mitti mein apne milne ki,
Zamin mein gaad ke baithe hain jo dafinon ko.

Khabar nahin unhen kya badobast-e-pukhta ki,
Jo ghasb karne lage ghair ki zaminon ko.

Jahan se uth gaye jo log phir nahin milte,
Kahan se dhund ke ab layen ham-nashinon ko.

Nazar mein phirti hai wo tirgi o tanhai,
Lahad ki khak hai surma maal-bainon ko.

Khayal-e-khatir-e-ahbab chahiye har dam,
“Anees” thes na lag jaye aabginon ko. !!

सदा है फ़िक्र-ए-तरक़्क़ी बुलंद-बीनों को,
हम आसमान से लाए हैं इन ज़मीनों को !

पढ़ें दुरूद न क्यूँ देख कर हसीनों को,
ख़याल-ए-सनअत-ए-साने है पाक-बीनों को !

कमाल-ए-फ़क़्र भी शायाँ है पाक-बीनों को,
ये ख़ाक तख़्त है हम बोरिया-नशीनों को !

लहद में सोए हैं छोड़ा है शह-नशीनों को,
क़ज़ा कहाँ से कहाँ ले गई मकीनों को !

ये झुर्रियाँ नहीं हाथों पे ज़ोफ़-ए-पीरी ने,
चुना है जामा-ए-असली की आस्तीनों को !

लगा रहा हूँ मज़ामीन-ए-नौ के फिर अम्बार,
ख़बर करो मिरे ख़िर्मन के ख़ोशा-चीनों को !

भला तरद्दुद-ए-बेजा से उन में क्या हासिल,
उठा चुके हैं ज़मींदार जिन ज़मीनों को !

उन्हीं को आज नहीं बैठने की जा मिलती,
मुआ’फ़ करते थे जो लोग कल ज़मीनों को !

ये ज़ाएरों को मिलीं सरफ़राज़ियाँ वर्ना,
कहाँ नसीब कि चूमें मलक जबीनों को !

सजाया हम ने मज़ामीं के ताज़ा फूलों से,
बसा दिया है इन उजड़ी हुई ज़मीनों को !

लहद भी देखिए इन में नसीब हो कि न हो,
कि ख़ाक छान के पाया है जिन ज़मीनों को !

ज़वाल-ए-ताक़त ओ मू-ए-सपीद ओ ज़ोफ़-ए-बसर,
इन्हीं से पाए बशर मौत के क़रीनों को !

नहीं ख़बर उन्हें मिट्टी में अपने मिलने की,
ज़मीं में गाड़ के बैठे हैं जो दफ़ीनों को !

ख़बर नहीं उन्हें क्या बंदोबस्त-ए-पुख़्ता की,
जो ग़स्ब करने लगे ग़ैर की ज़मीनों को !

जहाँ से उठ गए जो लोग फिर नहीं मिलते,
कहाँ से ढूँड के अब लाएँ हम-नशीनों को !

नज़र में फिरती है वो तीरगी ओ तन्हाई,
लहद की ख़ाक है सुर्मा मआल-बीनों को !

ख़याल-ए-ख़ातिर-ए-अहबाब चाहिए हर दम,
“अनीस” ठेस न लग जाए आबगीनों को !! -Mir Anees Ghazal

 

Aate Aate Mera Naam Sa Rah Gaya..

Aate aate mera naam sa rah gaya,
Us ke honton pe kuchh kanpta rah gaya.

Raat mujrim thi daman bacha le gayi,
Din gawahon ki saf mein khada rah gaya.

Wo mere samne hi gaya aur main,
Raste ki tarah dekhta rah gaya.

Jhuth wale kahin se kahin badh gaye,
Aur main tha ki sach bolta rah gaya.

Aandhiyon ke irade to achchhe na the,
Ye diya kaise jalta hua rah gaya.

Us ko kandhon pe le ja rahe hain ‘Wasim’,
Aur wo jine ka haq mangta rah gaya. !!

आते आते मेरा नाम सा रह गया,
उस के होंटों पे कुछ काँपता रह गया !

रात मुजरिम थी दामन बचा ले गई,
दिन गवाहों की सफ़ में खड़ा रह गया !

वो मेरे सामने ही गया और मैं,
रास्ते की तरह देखता रह गया !

झूठ वाले कहीं से कहीं बढ़ गए,
और मैं था कि सच बोलता रह गया !

आँधियों के इरादे तो अच्छे न थे,
ये दीया कैसे जलता हुआ रह गया !

उस को काँधों पे ले जा रहे हैं ‘वसीम’,
और वो जीने का हक़ माँगता रह गया !! -Wasim Barelvi Ghazal

 

Tumhari Raah Mein Mitti Ke Ghar Nahi Aate..

Tumhari raah mein mitti ke ghar nahi aate,
Is liye to tumhein hum nazar nahi aate.

Mohabbaton ke dinon ki yehi kharabi hai,
Ye ruth jayen to laut kar nahi aate.

Jinhen saliqa hai tehzib-e-gham samajhne ka,
Unhin ke rone mein aansoo nazar nahi aate.

Khushi ki aankh mein aansoo ki bhi jagah rakhna,
Bure zamane kabhi puchh kar nahi aate.

Bisat-e-ishq pe badhna kise nahi aata,
Ye aur baat ki bachne ke ghar nahi aate.

“Wasim” zehan banate hain to wahi akhabaar,
Jo le ke ek bhi achchhi khabar nahi aate. !!

तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते,
इसीलिए तुम्हे हम नज़र नहीं आते !

मोहब्बतो के दिनों की यही खराबी है,
ये रूठ जाएँ तो लौट कर नहीं आते !

जिन्हें सलीका है तहजीब-ए-गम समझाने का,
उन्ही के रोने में आंसू नज़र नहीं आते !

खुशी की आँख में आंसू की भी जगह रखना,
बुरे ज़माने कभी पूछ कर नहीं आते !

बिसात-ए-इश्क़ पे बढ़ना किसे नहीं आता,
यह और बात कि बचने के घर नहीं आते !

“वसीम” जहन बनाते हैं तो वही अख़बार,
जो ले के एक भी अच्छी ख़बर नहीं आते !! -Wasim Barelvi Ghazal