Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa..

Ab wo tufan hai na wo shor hawaon jaisa,
Dil ka aalam hai tere baad khalaon jaisa.

Kash duniya mere ehsas ko wapas kar de,
Khamushi ka wahi andaz sadaon jaisa.

Pas rah kar bhi hamesha wo bahut dur mila,
Us ka andaz-e-taghaful tha khudaon jaisa.

Kitni shiddat se bahaaron ko tha ehsas-e-maal,
Phool khil kar bhi raha zard khizaon jaisa.

Kya qayamat hai ki duniya use sardar kahe,
Jis ka andaz-e-sukhan bhi ho gadaon jaisa.

Phir teri yaad ke mausam ne jagaye mahshar,
Phir mere dil mein utha shor hawaon jaisa.

Barha khwab mein pa kar mujhe pyasa “Mohsin”,
Us ki zulfon ne kiya raqs ghataon jaisa. !!

अब वो तूफ़ाँ है न वो शोर हवाओं जैसा,
दिल का आलम है तेरे बाद ख़लाओं जैसा !

काश दुनिया मेरे एहसास को वापस कर दे,
ख़ामुशी का वही अंदाज़ सदाओं जैसा !

पास रह कर भी हमेशा वो बहुत दूर मिला,
उस का अंदाज़-ए-तग़ाफ़ुल था ख़ुदाओं जैसा !

कितनी शिद्दत से बहारों को था एहसास-ए-मआल,
फूल खिल कर भी रहा ज़र्द ख़िज़ाओं जैसा !

क्या क़यामत है कि दुनिया उसे सरदार कहे,
जिस का अंदाज़-ए-सुख़न भी हो गदाओं जैसा !

फिर तेरी याद के मौसम ने जगाए महशर,
फिर मेरे दिल में उठा शोर हवाओं जैसा !

बारहा ख़्वाब में पा कर मुझे प्यासा “मोहसिन”,
उस की ज़ुल्फ़ों ने किया रक़्स घटाओं जैसा !!

 

Ashk apna ki tumhara nahi dekha jata..

Ashk apna ki tumhara nahi dekha jata,
Abr ki zad mein sitara nahi dekha jata.

Apni shah-e-rag ka lahu tan mein rawan hai jab tak,
Zer-e-khanjar koi pyara nahi dekha jata.

Mauj-dar-mauj ulajhne ki hawas be-mani,
Dubta ho to sahaara nahi dekha jata.

Tere chehre ki kashish thi ki palat kar dekha,
Warna suraj to dobara nahi dekha jata.

Aag ki zid pe na ja phir se bhadak sakti hai,
Rakh ki tah mein sharara nahi dekha jata.

Zakhm aankhon ke bhi sahte the kabhi dil wale,
Ab to abru ka ishaara nahi dekha jata.

Kya qayamat hai ki dil jis ka nagar hai “Mohsin”,
Dil pe us ka bhi ijara nahi dekha jata. !!

अश्क अपना कि तुम्हारा नहीं देखा जाता,
अब्र की ज़द में सितारा नहीं देखा जाता !

अपनी शह-ए-रग का लहू तन में रवाँ है जब तक,
ज़ेर-ए-ख़ंजर कोई प्यारा नहीं देखा जाता !

मौज-दर-मौज उलझने की हवस बे-मानी,
डूबता हो तो सहारा नहीं देखा जाता !

तेरे चेहरे की कशिश थी कि पलट कर देखा,
वर्ना सूरज तो दोबारा नहीं देखा जाता !

आग की ज़िद पे न जा फिर से भड़क सकती है,
राख की तह में शरारा नहीं देखा जाता !

ज़ख़्म आँखों के भी सहते थे कभी दिल वाले,
अब तो अबरू का इशारा नहीं देखा जाता !

क्या क़यामत है कि दिल जिस का नगर है “मोहसिन”,
दिल पे उस का भी इजारा नहीं देखा जाता !!

 

Ab ke barish mein to ye kar-e-ziyan hona hi tha..

Ab ke barish mein to ye kar-e-ziyan hona hi tha,
Apni kachchi bastiyon ko be-nishan hona hi tha.

Kis ke bas mein tha hawa ki wahshaton ko rokna,
Barg-e-gul ko khak shoale ko dhuan hona hi tha.

Jab koi samt-e-safar tai thi na hadd-e-rahguzar,
Aye mere rah-rau safar to raegan hona hi tha.

Mujh ko rukna tha use jaana tha agle mod tak,
Faisla ye us ke mere darmiyan hona hi tha.

Chand ko chalna tha bahti sipiyon ke sath-sath,
Moajiza ye bhi tah-e-ab-e-rawan hona hi tha.

Main naye chehron pe kahta tha nayi ghazlein sada,
Meri is aadat se us ko bad-guman hona hi tha.

Shehar se bahar ki virani basana thi mujhe,
Apni tanhai pe kuchh to mehrban hona hi tha.

Apni aankhen dafn karna thi ghubar-e-khak mein,
Ye sitam bhi hum pe zer-e-asman hona hi tha.

Be-sada basti ki rasmein thi yahi “Mohsin” mere,
Main zaban rakhta tha mujh ko be-zaban hona hi tha. !!

अब के बारिश में तो ये कार-ए-ज़ियाँ होना ही था,
अपनी कच्ची बस्तियों को बे-निशाँ होना ही था !

किस के बस में था हवा की वहशतों को रोकना,
बर्ग-ए-गुल को ख़ाक शोले को धुआँ होना ही था !

जब कोई सम्त-ए-सफ़र तय थी न हद्द-ए-रहगुज़र,
ऐ मेरे रह-रौ सफ़र तो राएगाँ होना ही था !

मुझ को रुकना था उसे जाना था अगले मोड़ तक,
फ़ैसला ये उस के मेरे दरमियाँ होना ही था !

चाँद को चलना था बहती सीपियों के साथ-साथ,
मोजिज़ा ये भी तह-ए-आब-ए-रवाँ होना ही था !

मैं नए चेहरों पे कहता था नई ग़ज़लें सदा,
मेरी इस आदत से उस को बद-गुमाँ होना ही था !

शहर से बाहर की वीरानी बसाना थी मुझे,
अपनी तन्हाई पे कुछ तो मेहरबाँ होना ही था !

अपनी आँखें दफ़्न करना थीं ग़ुबार-ए-ख़ाक में,
ये सितम भी हम पे ज़ेर-ए-आसमाँ होना ही था !

बे-सदा बस्ती की रस्में थीं यही “मोहसिन” मेरे,
मैं ज़बाँ रखता था मुझ को बे-ज़बाँ होना ही था !!

 

Jab se us ne shehar ko chhoda har rasta sunsan hua..

Jab se us ne shehar ko chhoda har rasta sunsan hua,
Apna kya hai sare shehar ka ek jaisa nuqsan hua.

Ye dil ye aaseb ki nagri maskan sochun wahmon ka,
Soch raha hun is nagri mein tu kab se mehman hua.

Sahra ki munh-zor hawayen auron se mansub hui,
Muft mein hum aawara thahre muft mein ghar viran hua.

Mere haal pe hairat kaisi dard ke tanha mausam mein,
Patthar bhi ro padte hain insan to phir insan hua.

Itni der mein ujde dil par kitne mahshar bit gaye,
Jitni der mein tujh ko pa kar khone ka imkan hua.

Kal tak jis ke gird tha raqsan ek amboh sitaron ka,
Aaj usi ko tanha pa kar main to bahut hairan hua.

Us ke zakhm chhupa kar rakhiye khud us shakhs ki nazron se,
Us se kaisa shikwa kije wo to abhi nadan hua.

Jin ashkon ki phiki lau ko hum be-kar samajhte the,
Un ashkon se kitna raushan ek tarik makan hua.

Yun bhi kam-amez tha “Mohsin” wo is shehar ke logon mein,
Lekin mere samne aa kar aur bhi kuchh anjaan hua. !!

जब से उस ने शहर को छोड़ा हर रस्ता सुनसान हुआ,
अपना क्या है सारे शहर का एक जैसा नुक़सान हुआ !

ये दिल ये आसेब की नगरी मस्कन सोचूँ वहमों का,
सोच रहा हूँ इस नगरी में तू कब से मेहमान हुआ !

सहरा की मुँह-ज़ोर हवाएँ औरों से मंसूब हुईं,
मुफ़्त में हम आवारा ठहरे मुफ़्त में घर वीरान हुआ !

मेरे हाल पे हैरत कैसी दर्द के तन्हा मौसम में,
पत्थर भी रो पड़ते हैं इंसान तो फिर इंसान हुआ !

इतनी देर में उजड़े दिल पर कितने महशर बीत गए,
जितनी देर में तुझ को पा कर खोने का इम्कान हुआ !

कल तक जिस के गिर्द था रक़्साँ एक अम्बोह सितारों का,
आज उसी को तन्हा पा कर मैं तो बहुत हैरान हुआ !

उस के ज़ख़्म छुपा कर रखिए ख़ुद उस शख़्स की नज़रों से,
उस से कैसा शिकवा कीजे वो तो अभी नादान हुआ !

जिन अश्कों की फीकी लौ को हम बे-कार समझते थे,
उन अश्कों से कितना रौशन एक तारीक मकान हुआ !

यूँ भी कम-आमेज़ था “मोहसिन” वो इस शहर के लोगों में,
लेकिन मेरे सामने आ कर और भी कुछ अंजान हुआ !!

 

Ujde hue logon se gurezan na hua kar..

Ujde hue logon se gurezan na hua kar,
Haalat ki qabron ke ye katbe bhi padha kar.

Kya jaaniye kyun tez hawa soch mein gum hai,
Khwabida parindon ko darakhton se uda kar.

Us shakhs ke tum se bhi marasim hain to honge,
Wo jhooth na bolega mere samne aa kar.

Har waqt ka hansna tujhe barbaad na kar de,
Tanhai ke lamhon mein kabhi ro bhi liya kar.

Wo aaj bhi sadiyon ki masafat pe khada hai,
Dhunda tha jise waqt ki diwar gira kar.

Aye dil tujhe dushman ki bhi pahchan kahan hai,
Tu halqa-e-yaran mein bhi mohtat raha kar.

Is shab ke muqaddar mein sahar hi nahi “Mohsin”,
Dekha hai kai bar charaghon ko bujha kar. !!

उजड़े हुए लोगों से गुरेज़ाँ न हुआ कर,
हालात की क़ब्रों के ये कतबे भी पढ़ा कर !

क्या जानिए क्यूँ तेज़ हवा सोच में गुम है,
ख़्वाबीदा परिंदों को दरख़्तों से उड़ा कर !

उस शख़्स के तुम से भी मरासिम हैं तो होंगे,
वो झूठ न बोलेगा मेरे सामने आ कर !

हर वक़्त का हँसना तुझे बर्बाद न कर दे,
तन्हाई के लम्हों में कभी रो भी लिया कर !

वो आज भी सदियों की मसाफ़त पे खड़ा है,
ढूँडा था जिसे वक़्त की दीवार गिरा कर !

ऐ दिल तुझे दुश्मन की भी पहचान कहाँ है,
तू हल्क़ा-ए-याराँ में भी मोहतात रहा कर !

इस शब के मुक़द्दर में सहर ही नहीं “मोहसिन”,
देखा है कई बार चराग़ों को बुझा कर !!

 

Aap ki aankh se gahra hai meri ruh ka zakhm..

Aap ki aankh se gahra hai meri ruh ka zakhm,
Aap kya soch sakenge meri tanhai ko.

Main to dam tod raha tha magar afsurda hayat,
Khud chali aai meri hausla-afzai ko.

Lazzat-e-gham ke siwa teri nigahon ke baghair,
Kaun samjha hai mere zakhm ki gahrai ko.

Main badhaunga teri shohrat-e-khush-bu ka nikhaar,
Tu dua de mere afsana-e-ruswai ko.

Wo to yun kahiye ki ek qaus-e-quzah phail gayi,
Warna main bhul gaya tha teri angdai ko. !!

आप की आँख से गहरा है मेरी रूह का ज़ख़्म,
आप क्या सोच सकेंगे मेरी तन्हाई को !

मैं तो दम तोड़ रहा था मगर अफ़्सुर्दा हयात,
ख़ुद चली आई मेरी हौसला-अफ़ज़ाई को !

लज़्ज़त-ए-ग़म के सिवा तेरी निगाहों के बग़ैर,
कौन समझा है मेरे ज़ख़्म की गहराई को !

मैं बढ़ाऊँगा तेरी शोहरत-ए-ख़ुश्बू का निखार,
तू दुआ दे मेरे अफ़्साना-ए-रुसवाई को !

वो तो यूँ कहिए कि एक क़ौस-ए-क़ुज़ह फैल गई,
वर्ना मैं भूल गया था तेरी अंगड़ाई को !!

 

Agarche main ek chatan sa aadmi raha hun..

Agarche main ek chatan sa aadmi raha hun,
Magar tere baad hausla hai ki ji raha hun.

Wo reza-reza mere badan mein utar raha hai,
Main qatra qatra usi ki aankhon ko pi raha hun.

Teri hatheli pe kis ne likkha hai qatl mera,
Mujhe to lagta hai main tera dost bhi raha hun.

Khuli hain aankhen magar badan hai tamam patthar,
Koi bataye main mar chuka hun ki ji raha hun.

Kahan milegi misal meri sitamgari ki,
Ki main gulabon ke zakhm kanton se si raha hun.

Na puchh mujh se ki shehar walon ka haal kya tha,
Ki main to khud apne ghar mein bhi do ghadi raha hun.

Mila to bite dinon ka sach us ki aankh mein tha,
Wo aashna jis se muddaton ajnabi raha hun.

Bhula de mujh ko ki bewafai baja hai lekin,
Ganwa na mujh ko ki main teri zindagi raha hun.

Wo ajnabi ban ke ab mile bhi to kya hai “Mohsin”,
Ye naz kam hai ki main bhi us ka kabhi raha hun. !!

अगरचे मैं एक चटान सा आदमी रहा हूँ,
मगर तेरे बाद हौसला है कि जी रहा हूँ !

वो रेज़ा रेज़ा मेरे बदन में उतर रहा है,
मैं क़तरा क़तरा उसी की आँखों को पी रहा हूँ !

तेरी हथेली पे किस ने लिक्खा है क़त्ल मेरा,
मुझे तो लगता है मैं तेरा दोस्त भी रहा हूँ !

खुली हैं आँखें मगर बदन है तमाम पत्थर,
कोई बताए मैं मर चुका हूँ कि जी रहा हूँ !

कहाँ मिलेगी मिसाल मेरी सितमगरी की,
कि मैं गुलाबों के ज़ख़्म काँटों से सी रहा हूँ !

न पूछ मुझ से कि शहर वालों का हाल क्या था,
कि मैं तो ख़ुद अपने घर में भी दो घड़ी रहा हूँ !

मिला तो बीते दिनों का सच उस की आँख में था,
वो आश्ना जिस से मुद्दतों अजनबी रहा हूँ !

भुला दे मुझ को कि बेवफ़ाई बजा है लेकिन,
गँवा न मुझ को कि मैं तेरी ज़िंदगी रहा हूँ !

वो अजनबी बन के अब मिले भी तो क्या है “मोहसिन”,
ये नाज़ कम है कि मैं भी उस का कभी रहा हूँ !!