Khairaat sirf itni mili hai hayat se..

Khairaat sirf itni mili hai hayat se,
Pani ki bund jaise ata ho furaat se.

Shabnam isi junun mein azal se hai sina-kub,
Khurshid kis maqam pe milta hai raat se.

Nagah ishq waqt se aage nikal gaya,
Andaza kar rahi hai khirad waqiyat se.

Su-e-adab na thahre to dein koi mashwara,
Hum mutmain nahi hain teri kayenat se.

Sakit rahein to hum hi thaharte hain ba-qusur,
Bolen to baat badhti hai chhoti si baat se.

Aasan-pasandiyon se ijazat talab karo,
Rasta bhara hua hai “Adam” mushkilat se. !!

खैरात सिर्फ इतनी मिली है हयात से,
पानी की बूँद जैसे अता हो फुरात से !

शबनम इसी जूनून में अज़ल से है सीना-खूब,
खुर्शीद किस मक़ाम पे मिलता है रात से !

नगाह इश्क़ वक़्त से आगे निकल गया,
अंदाजा कर रही है ख़िरद वाक़्यात से !

सू-ए–अदब न ठहरे तो देँ कोई मश्वरा,
हम मुत्मइन नहीं हैं तेरी कायनात से !

साकित रहें तो हम ही ठहरते हैं बा-क़ुसूर,
बोलें तो बात बढ़ती है छोटी सी बात से !

आसान-पसंदियों से इजाज़त तलब करो,
रास्ता भरा हुआ है “अदम” मुश्किलात से !!

 

Bas is qadar hai khulasa meri kahani ka..

Bas is qadar hai khulasa meri kahani ka,
Ki ban ke tut gaya ek habab pani ka.

Mila hai saqi to roushan hua hai ye mujh par,
Ki hazf tha koi tukda meri kahani ka.

Mujhe bhi chehre pe raunaq dikhayi deti hai,
Ye moajiza hai tabibon ki khush-bayani ka.

Hai dil mein ek hi khwahish wo dub jaane ki,
Koi shabab koi husn hai rawani ka.

Libas-e hashr mein kuchh ho to aur kya hoga,
Bujha sa ek chhanaka teri jawani ka.

Karam ke rang nihayat ajeeb hote hain,
Sitam bhi ek tariqa hai meharbani ka.

“Adam” bahaar ke mausam ne khud-kushi kar li,
Khula jo rang kisi jism-e arghawani ka. !!

बस इस क़दर है खुलासा मेरी कहानी का,
कि बन के टूट गया एक हबाब पानी का !

मिला है साक़ी तो रोशन हुआ है ये मुझ पर,
की हज़्फ़ था कोई टुकड़ा मेरी कहानी का !

मुझे भी चेहरे पे रौनक दिखाई देती है,
ये मोजिज़ा है तबीबों की खुश-बयानी का !

है दिल में एक ही ख्वाहिश वो डूब जाने की,
कोई शबाब कोई हुस्न है रवानी का !

लिबास-ए-हष्र में कुछ हो तो और क्या होगा,
बुझा सा एक छनाका तेरी जवानी का !

करम के रंग निहायत अजीब होते हैं,
सितम भी एक तरीका है मेहरबानी का !

“अदम” बहार के मौसम ने ख़ुद-कुशी कर ली,
खुला जो रंग किसी जिस्म-ए-आर्गावानी का !!

 

Aagahi mein ek khala maujud hai..

Aagahi mein ek khala maujud hai,
Is ka matlab hai khuda maujud hai.

Hai yaqinan kuch magar wazh nahi,
Aap ki aankhon mein kya maujud hai.

Baankpan mein aur koi shayy nahi,
Sadgi ki inteha maujud hai.

Hai mukammal baadshahi ki dalil,
Ghar mein gar ek boriya maujud hai.

Shauqiya koi nahi hota ghalat,
Is mein kuchh teri raza maujud hai.

Is liye tanha hun main garm-e safar,
Qafile mein rahnuma maujud hai.

Har mohabbat ki bina hai chashni,
Har lagan mein muddaa maujud hai.

Har jagah, har shehar, har iqlim mein
Dhoom hai us ki jo na-maujud hai.

Jis se chhupna chahta hun main “Adam”,
Wo sitamgar ja-ba-ja maujud hai. !!

आगाही में एक खला मौजूद है,
इस का मतलब है खुदा मौजूद है !

है यक़ीनन कुछ मगर वज़ह नहीं,
आप की आँखों में क्या मौजूद है !

बांकपन में और कोई श्रेय नहीं,
सादगी की इन्तहा मौजूद है !

है मुकम्मल बादशाही की दलील,
घर में गर एक बुढ़िया मौजूद है !

शौक़िया कोई नहीं होता ग़लत,
इस में कुछ तेरी रज़ा मौजूद है !

इस लिए तनहा हूँ मैं गर्म-ए सफर,
काफिले में रहनुमा मौजूद है !

हर मोहब्बत की बिना है चाश्नी,
हर लगन में मुद्दा मौजूद है !

हर जगह, हर शहर, हर इक़लीम में,
धूम है उस की जो न-मौजूद है !

जिस से छुपना चाहता हूँ मैं “अदम”,
वो सितमगर जा-बा-जा मौजूद है !!

 

Dekh kar dil-kashi zamane ki..

Dekh kar dil-kashi zamane ki,
Aarzoo hai fareb khane ki.

Aye gham-e-zindagi na ho naraaz,
Mujh ko aadat hai muskurane ki.

Zulmaton se na dar ki raste mein,
Roshani hai sharab-khane ki.

Aa tere gesuon ko pyar karun,
Raat hai mishalen jalane ki.

Kis ne saghar “Adam buland kiya,
Tham gayi gardishen zamane ki. !!

देख कर दिल-कशी ज़माने की,
आरज़ू है फरेब खाने की !

ऐ ग़म-ए-ज़िन्दगी न हो नाराज,
मुझ को आदत है मुस्कुराने की !

ज़ुल्मतों से न डर की रास्ते में,
रोशनी है शराब-खाने की !

आ तेरे गेसुओं को प्यार करूँ,
रात है मिशालें जलाने की !

किस ने सागर “अदम बुलंद किया,
थम गयी गर्दिशें ज़माने की !!

 

Khali hai abhi jaam main kuch soch raha hun..

Khali hai abhi jaam main kuch soch raha hun,
Aye gardish-e-ayyam main kuchh soch raha hun.

Saaki tujhe ek thodi si taklif to hogi,
Saghar ko zara tham main kuchh soch raha hun.

Pahle badi raghbat thi tere naam se mujh ko,
Ab sun ke tera naam main kuchh soch raha hun.

Idrak abhi pura taawun nahi karta,
Dai bada-e-gulfam main kuchh soch raha hun.

Hal kuch to nikal aayega halat ki zid ka,
Aye kasrat-e-aalam main kuchh soch raha hun.

Phir aaj “Adam” sham se ghamgin hai tabiyat,
Phir aaj sar-e-sham main kuchh soch raha hun. !!

खाली है अभी जाम मैं कुछ सोच रहा हूँ,
ऐ गर्दिश-ए-अय्याम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

साक़ी तुझे एक थोड़ी सी तकलीफ तो होगी,
सागर को ज़रा थाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

पहले बड़ी रग़बत थी तेरे नाम से मुझको,
अब सुन के तेरा नाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

इदराक अभी पूरा तआवुन नहीं करता,
दय बादा-ए-गुलफ़ाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

हल कुछ तो निकल आएगा हालात की ज़िद्द का,
ऐ कसरत-ए-आलम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

फिर आज “अदम” शाम से ग़मगीन है तबियत,
फिर आज सर-ए-शाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !!

 

Aankhon ke samne koi manzar naya na tha..

Aankhon ke samne koi manzar naya na tha,
Bas wo zara sa fasla baqi raha na tha.

Ab is safar ka silsila shayad hi khatm ho,
Sab apni apni rah len hum ne kaha na tha.

Darwaze aaj band samajhiye suluk ke,
Ye chalne wala dur talak silsila na tha.

Unchi udan ke liye par taulte the hum,
Unchaiyon pe sans ghutegi pata na tha.

Koshish hazar karti rahen tez aandhiyan,
Lekin wo ek patta abhi tak hila na tha.

Sab hi shikar-gah mein the khema-zan magar,
Koi shikar karne ko ab tak utha na tha.

Achchha hua ki gosha-nashini ki ikhtiyar,
“Aashufta” aur is ke siwa rasta na tha. !!

आँखों के सामने कोई मंज़र नया न था,
बस वो ज़रा सा फ़ासला बाक़ी रहा न था !

अब इस सफ़र का सिलसिला शायद ही ख़त्म हो,
सब अपनी अपनी राह लें हम ने कहा न था !

दरवाज़े आज बंद समझिए सुलूक के,
ये चलने वाला दूर तलक सिलसिला न था !

ऊँची उड़ान के लिए पर तौलते थे हम,
ऊँचाइयों पे साँस घुटेगी पता न था !

कोशिश हज़ार करती रहें तेज़ आँधियाँ,
लेकिन वो एक पत्ता अभी तक हिला न था !

सब ही शिकार-गाह में थे ख़ेमा-ज़न मगर,
कोई शिकार करने को अब तक उठा न था !

अच्छा हुआ कि गोशा-नशीनी की इख़्तियार,
“आशुफ़्ता” और इस के सिवा रास्ता न था !!

 

Sabhi ko apna samajhta hun kya hua hai mujhe..

Sabhi ko apna samajhta hun kya hua hai mujhe,
Bichhad ke tujh se ajab rog lag gaya hai mujhe.

Jo mud ke dekha to ho jayega badan patthar,
Kahaniyon mein suna tha so bhogna hai mujhe.

Main tujh ko bhul na paya yahi ghanimat hai,
Yahan to is ka bhi imkan lag raha hai mujhe.

Main sard jang ki aadat na dal paunga,
Koi mahaz pe wapas bula raha hai mujhe.

Sadak pe chalte hue aankhen band rakhta hun,
Tere jamal ka aisa maza pada hai mujhe.

Abhi talak to koi wapsi ki rah na thi,
Kal ek rah-guzar ka pata laga hai mujhe. !!

सभी को अपना समझता हूँ क्या हुआ है मुझे,
बिछड़ के तुझ से अजब रोग लग गया है मुझे !

जो मुड़ के देखा तो हो जाएगा बदन पत्थर,
कहानियों में सुना था सो भोगना है मुझे !

मैं तुझ को भूल न पाया यही ग़नीमत है,
यहाँ तो इस का भी इम्कान लग रहा है मुझे !

मैं सर्द जंग की आदत न डाल पाऊँगा,
कोई महाज़ पे वापस बुला रहा है मुझे !

सड़क पे चलते हुए आँखें बंद रखता हूँ,
तेरे जमाल का ऐसा मज़ा पड़ा है मुझे !

अभी तलक तो कोई वापसी की राह न थी,
कल एक राह-गुज़र का पता लगा है मुझे !!